क्या आप जानते हैं Grand Old Man of India के बारे में

Rating:
1.5
(2)
दादा भाई नौरोजी

दादा भाई नौरोजी भारतीय राजनीति के जनक थे और इन्हें भारतीय राजनीति का ‘पितामह’ कहा जाता है। दादा भाई उच्च राष्ट्रवादी, राजनेता, उद्योगपति, शिक्षाविद और विचारक भी थे। एक अंग्रेज़ी प्राध्यापक ने इन्हें ‘भारत की आशा’ की संज्ञा दी। अनेक संगठनों का निर्माण दादाभाई ने किया था। 1851 में गुजराती भाषा में ‘रस्त गफ्तार’ साप्ताहिक निकालना प्रारम्भ किया। 1867 में ‘ईस्ट इंडिया एसोसियेशन’ बनाई। अन्यत्र लन्दन के विश्वविद्यालय में गुजराती के प्रोफेसर बने। चलिए जानते है दादा भाई नौरोजी के बारे में Leverage Edu के साथ।

Check out: Motivational Stories in Hindi

दादा भाई नौरोजी का जीवन परिचय  (Dadabhai Naoroji Biography In Hindi)

दादा भाई नौरोजी
Source – CultureIndia
पूरा नाम दादा भाई नौरोजी
जन्म 4 सितम्बर, 1825
जन्म भूमि मुम्बई, महाराष्ट्र
मृत्यु 30 जून, 1917
मृत्यु स्थान मुम्बई, महाराष्ट्र
नागरिकता भारतीय
पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
विद्यालय एलफिंस्टन इंस्टीटयूट(Elphinstone College)
भाषा गुजराती भाषा, अंग्रेज़ी और हिन्दी
व्यवसाय बौद्धिक, शिक्षक, व्यापारी कपास, और एक प्रारंभिक भारतीय राजनीतिक नेता
प्रसिद्ध नाम भारत के ग्रैंड ओल्ड मैन

दादाभाई का जन्म 4 सितम्बर, 1825 को बॉम्बे में एक गरीब पारसी परिवार में हुआ था। जब दादाभाई 4 साल के थे, तब इनके पिता नौरोजी पलंजी दोर्दी की मृत्यु हो गई थी। इनकी माता मानेक्बाई ने इनकी परवरिश की थी। पिता के देहांत के बाद इनके परिवार को बहुत सी आर्थिक परेशानियों का भी सामना करना पड़ा था। इनकी माता अनपढ़ थी, लेकिन उन्होंने अपने बेटे को अच्छी अंग्रेजी शिक्षा देने का वादा किया था। दादाभाई को अच्छी शिक्षा देने में उनकी माता का विशेष योगदान था। दादाभाई की शादी 11 साल की उम्र में, 7 साल की गुलबाई से हो गई थी, उस समय भारत में बाल विवाह का चलन था। दादाभाई के 3 बच्चे थे जिनमें 1 बेटा और 2 बेटियां थी। दादाभाई की शुरुआती शिक्षा Native Education Society school से हुई थी। इसके बाद दादाभाई ने  Elphinstone College बॉम्बे से पढ़ाई की जहाँ उन्होने दुनिया के साहित्य के बारे में पढ़ाई की। दादाभाई गणित एवं अंग्रेजी में बहुत अच्छे थे और इसी कारण 15 साल की उम्र में ही दादाभाई को क्लेयर’स के द्वारा Scholarship मिली थी। 

Check out: Success Stories in Hindi

दादा भाई नौरोजी संगठनों की स्थापना

दादा भाई नौरोजी
Source – Global Social Theory

दादाभाई नौरोजी दिनेश एडुल्जी वाचा और ए ओ ह्यूम जैसे अन्य नेताओं के साथ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के गठन में शामिल थे। उन्होंने अन्य महत्वपूर्ण संगठनों जैसे Royal Asiatic Society of Bombay और लंदन में East Indian Association जैसे कई अन्य संगठनो की स्थापना के लिए भी जिम्मेदार थे।

उनकी योग्यता ने उन्हें ब्रिटिश के संसद सदस्य बनने वाले पहले भारतीय बनने के लिए प्रेरित किया, जहां उन्होंने United Kingdom House of Commons में लिबरल पार्टी के सदस्य के रूप में संसद सदस्य की जिम्मेदारी निभाई गयी। वहीं दादाभाई नौरोजी ने भारतीय राष्ट्रवादी आंदोलन (1905-1918) की नींव भी रखी थी।

स्वतंत्रता सेनानी के रूप सें दादाभाई

दादाभाई नौरोजी ने भारत की आजादी के लिए लड़ाई भी लड़ी थी और अपनी जिंदगी के आखिरी दिनों तक अंग्रेजो द्वारा भारत के बेकसूर लोगों पर अत्याचार करने और उनके शोषण पर लेख लिखा करते थे। इसके अलावा दादाभाई नौरोजी इस विषय पर भाषण दिया करते थे।

दादा भाई नौरोजी सिद्धांत

दादा भाई नौरोजी
Source – Hans India

दादाभाई नौरोजी ने जीवन के प्रति दृष्टिकोण को प्रगतिशील विचारों के सिद्धांतों से उजागर किया गया है, जिन पर वह विश्वास करते थे। अपने पूरे जीवन में उन्होंने पुरुषों और महिलाओं के समान व्यवहार में विश्वास किया और हमेशा महिलाओं को शिक्षा प्रदान करने के महत्व को उठाया। दादाभाई नौरोजी समानता और बंधुत्व के सिद्धांतों के कट्टर विश्वासी भी थे। यह जाति आधारित भेदभाव के कई रूपों के खिलाफ उनकी नाराजगी में परिलक्षित होता है, जिसके खिलाफ उन्होंने बात की थी और London Natural History Society द्वारा वैधता प्राप्त अंग्रेजों के नस्लीय वर्चस्व के सिद्धांत के प्रचार का भी खंडन किया था।

Check out:  बिल गेट्स की सफलता की कहानी

दादा भाई नौरोजी की थ्योरी “Drain of Wealth”

दादा भाई नौरोजी
Source – India Today

दादाभाई नौरोजी के भीतर बैठे अर्थशास्त्री ने उन्हें ब्रिटिश प्रशासन द्वारा भारत के धन के निकास, लूट की बारीकी से विश्लेषण करने की अनुमति दी। दादाभाई नौरोजी के इस विश्लेषण का मुख्य कारण औपनिवेशिक सरकार के विभिन्न रास्तों के कारण उस पर पड़ने वाले प्रभावों के साथ-साथ भारत के फायदे को समझने और उसके नक्शे बनाने के अपने प्रयास का आधार था। विनिमय की गतिशीलता के एक करीबी अध्ययन के बाद,दादाभाई नौरोजी ने छह प्रमुख सूत्रधार तैयार किए, जिसमें बताया गया कि कैसे भारत में ब्रिटिश प्रशासन अपने आप को सही बताने के लिए पूर्व द्वारा किसी भी उपाय के बिना हमारे धन को लूट रहा था।

पहला कारक जिसने इस तरह के शोषण को सक्षम किया, वह भारत के प्रशासन की प्रकृति के कारण था जहां देश को अपने चुने हुए लोगों द्वारा नहीं बल्कि एक विदेशी सरकार द्वारा शासित किया जा रहा था।

भारत में अप्रवासियों की आमद के अभाव में दूसरी बात यह है कि इसने श्रम और पूंजी की आमद को सीधे प्रभावित किया; दो चर जो एक अर्थव्यवस्था के फलने-फूलने के लिए एक परम आवश्यक हैं।

तीसरा, विभिन्न नागरिक निकायों के प्रशासन कर्मियों के साथ अंग्रेजों की सेना का बड़ा खर्च भारत के ख़ज़ाने से किया गया।

इसके अतिरिक्त, चौथे कारक में इंग्लैंड के निर्माण के साथ-साथ भारत के द्वारा वहन किए गए विविध खर्चों के बारे में बताया, जो भारत द्वारा वहन किए गए थे।

पाँचवें बिंदु ने दर्शाया कि किस प्रकार मुफ्त व्यापार के नाम पर भारत के संसाधनों से बिना किसी प्रकार के समझौता किए लूटा जा रहा था, जहाँ विदेशी लोगों के लिए अच्छे पैकेज वाली नौकरियां दी जाती थीं।

इस धन लूट के अंतिम औचित्य की बात की गई कि कैसे भारत के धन की लूट की जा रही थी क्योंकि अधिकांश आय कमाने वाले स्वयं विदेशी थे और उनके द्वारा अपनी भूमि पर लौटने के कारण पूँजी की जबरदस्त हानि हुई।

1901 में उनके प्रसिद्ध लेख ‘Poverty and Un-British Rule in India’ शीर्षक से प्रकाशित हुए थे, जिसमें लिखा गया था कि औपनिवेशिक प्रशासन भारत के राजस्व की जबरदस्त हानि का प्रमुख कारण था जो दो सौ से तीन सौ मिलियन पाउंड जो कभी प्रतिपूर्ति नहीं किए गए थे।

राजनीतिक जीवन में भी पाया मुकाम

दादा भाई नौरोजी
Source – Jagran

दादा भाई नौरोजी ने 1852 में भारतीय राजनीति में कदम रखा और दृढ़ता से 1853 में ईस्ट इंडिया कंपनी के लीज नवीकरण का विरोध किया था। इस संबंध में दादाभाई ने ब्रिटिश सरकार को याचिकाएं भी भेजी थी लेकिन ब्रिटिश सरकार ने उनकी इस बात को नजरंदाज करते हुए लीज को रिन्यू कर दिया था। दादाभाई नौरोजी का मानना था कि भारत में ब्रिटिश शासन भारतीय लोगों की अज्ञानता की वजह से था। दादाभाई ने वयस्कों की शिक्षा के लिए ‘ज्ञान प्रसारक मंडली’ की स्थापना की थी।

Check out: हरिवंश राय बच्चन: जीवन शैली, साहित्यिक योगदान, प्रमुख रचनाएँ

क्या थी दादा भाई नौरोजी की पैशाचिकी

दादाभाई नौरोजी ने अपनी पुस्तक में अंग्रेजों द्वारा लूट की इस पूरी प्रक्रिया को “पैशाचिकी” के रूप में वर्णित किया है जहाँ पूँजी के साथ भौतिक संसाधनों का इस्तेमाल अंग्रेज़ों ने अपने लिए किया था।

  • राष्ट्रवादी आंदोलन के लिए यह लेख बहुत महत्वपूर्ण था क्योंकि यह मुक्त व्यापार के नाम पर औपनिवेशिक प्रशासन द्वारा की गई प्रक्रियाओं की वास्तविक तस्वीर के प्रकाश में लाया था।
  •  उन्होंने अंग्रेजों के निवेश को नहीं देखा, जैसे कि भारत में रेलवे की स्थापना के रूप में पर्याप्त रूप से भारत से लुटा हुआ धन वापस देने के समान था ।
  • क्यूंकि उनका मन नहीं था कि इन निवेशों से अप्रत्यक्ष रूप से ब्रिटिशों को भारतीय उपमहाद्वीप से संसाधनों को जुटाने में मदद मिलेगी, जिससे देश को और नुकसान होगा।

Check out: Indira Gandhi Biography in Hindi

दादा भाई नौरोजी :Dadabhai Naoroji books

अपने जीवन के दौरान, उन्होंने कई ग्रंथ लिखे जो ज्यादातर ब्रिटिश राज के तहत भारत और उसकी सामाजिक-आर्थिक और राजनीतिक स्थिति को दर्शाते थे। दादाभाई नौरोजी के साहित्यिक कार्यों में से कुछ निम्नलिखित हैं:

Check out: साहस और शौर्य की मिसाल छत्रपति शिवाजी महाराज

करियर (Dadabhai Naoroji career)

दादा भाई नौरोजी
Source – Wikipedia
  • 1845 में Elphinstone College में गणित के प्राध्यापक हुए।
  • यहाँ से पढाई पूरी करने के बाद दादाभाई को यही पर हेड मास्टर बना दिया गया था.
  • दादाभाई एक पारसी पुरोहित परिवार से थे, इन्होने 1 अगस्त 1851 को ‘रहनुमाई मज्दायास्नी सभा’ का गठन किया था जिसका उद्देश्य यह था कि पारसी धर्म को एक साथ इकठ्ठा किया जा सके. यह society आज भी मुंबई में चलाई जा रही है |
  • इन्होने 1853 में फोर्थनाईट पब्लिकेशन के तहत ‘Rast Goftar’ बनाया था जो आम आदमी की पारसी अवधारणाओं को स्पष्ट करने में सहायक था |
  • 1855 में 30 साल की उम्र में दादाभाई को Elphinstone Institution में गणित एवं फिलोसोफी का प्रोफेसर बना दिया गया था | यह पहले भारतीय थे जिन्हें किसी कॉलेज में प्रोफेसर बनाया गया था.
  • 1855 में ही दादाभाई ‘Cama and Co.’ कंपनी के पार्टनर बन गए | यह पहली भारतीय कंपनी थी जो ब्रिटेन में स्थापित हुई थी | इसके काम के लिए दादाभाई London गए और लगन से वहाँ काम किया करते थे लेकिन कंपनी के अनैतिक तरीके उन्हें पसंद नहीं आये और उन्होंने इस कंपनी में इस्तीफा दे दिया था |
  • 1859 में खुद की कपास (Cotton) ट्रेडिंग फर्म बनाया, जिसका नाम रखा ‘Naoroji and Co.’ |
  • 1860 के दशक की शुरूआत में दादाभाई ने सक्रिय रूप से भारतीयों के उत्थान के लिए काम करना शुरू किया था |वे भारत में ब्रिटिशों की प्रवासीय शासनविधि के सख्त खिलाफ थे |
  • इन्होनें ब्रिटिशो के सामने ‘Drain Theory’ प्रस्तुत की जिसमें बताया गया था कि ब्रिटिश कैसे भारत का शोषण करते है, कैसे वो योजनाबद्ध तरीके से भारत के धन और संसाधनों में कमी ला रहे है और देश को गरीब बना रहे है |
  • इंग्लैंड में ईस्ट इंडिया कंपनी की स्थापना के बाद दादाभाई भारत वापस आ गए |
  • 1874 में बड़ौदा के महाराजा सयाजीराव गायकवाड तृतीय के सरंक्षण में दादाभाई काम करने लगे | यहाँ से उनका सामाजिक जीवन शुरू हुआ और वे महाराजा के दीवान बना दिए गए |
  • इन्होने 1885 – 1888 के बीच में मुंबई की विधान परिषद के सदस्य के रूप में भी कार्य किया था |
  • 1886 में दादाभाई नौरोजी को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का अध्यक्ष बना दिया गया | इसके अलावा दादाभाई 1893 एवं 1906 में भी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए थे | तीसरी बार 1906 में जब दादाभाई अध्यक्ष बने थे तब उन्होंने पार्टी में उदारवादियों और चरमपंथियों के बीच एक विभाजन को रोका था |
  • 1906 में दादाभाई ने ही सबके सामने कांग्रेस पार्टी के साथ स्वराज की मांग की थी |
  • दादाभाई विरोध के लिए अहिंसावादी और संवैधानिक तरीकों पर विश्वास रखते थे |

Check out: Indian Freedom Fighters (महान भारतीय स्वतंत्रता सेनानी)

दादा भाई नौरोजी की मृत्यु और विरासत

दादाभाई नौरोजी ने 30 जून 1917 को अंतिम सांस ली। उनके देश और देशवासियों के प्रति उनका योगदान भुलाया नहीं जा सकता। दादाभाई नौरोजी ने न केवल अपने भारत की आजादी की लड़ाई लड़ी बल्कि ब्रिटिश अधिकारियों के बीच विशेष रूप से ब्रिटिश संसद में संसद के एक आधिकारिक सदस्य के रूप में हस्तक्षेप की महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। मुंबई में दादाभाई नौरोजी रोड, कराची पाकिस्तान में दादाभाई नौरोजी रोड, केंद्र सरकार के सेवकों की आवासीय कॉलोनी, नौरोजी नगर, दक्षिणी दिल्ली और लंदन के फिन्सबरी सेक्शन में नौरोजी स्ट्रीट सहित कई स्थलों और स्थानों का नाम उनके सम्मान में रखा गया है।

दादाभाई नौरोजी के सम्मान में लंदन के Rosebery Avenue में Finsbury Town Hall के प्रवेश द्वार पर एक पट्टिका भी मिल सकती है। वर्ष 2014 में, United Kingdom के उप प्रधानमंत्री, निक क्लेग ने दादाभाई नौरोजी पुरस्कार का उद्घाटन किया। अहमदाबाद में इंडिया पोस्ट ने भी 29 दिसंबर, 2017 को उनकी मृत्यु की शताब्दी वर्ष को याद करते हुए “भारत के ग्रैंड ओल्ड मैन” को समर्पित एक डाक टिकट जारी किया।

Source: Go4Prep

आशा करते हैं कि आपको दादा भाई नौरोजी का ब्लॉग अच्छा लगा होगा। जितना हो सके अपने दोस्तों और बाकी सब को शेयर करें ताकि वह भी दादा भाई नौरोजी पाठ का  लाभ उठा सकें और  उसकी जानकारी प्राप्त कर सके । हमारे Leverage Edu में आपको ऐसे कई प्रकार के ब्लॉग मिलेंगे जहां आप अलग-अलग विषय की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं ।अगर आपको किसी भी प्रकार के सवाल में दिक्कत हो रही हो तो हमारी विशेषज्ञ आपकी सहायता भी करेंगे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.

+91
Talk to an expert for FREE

You May Also Like

Harivansh Rai Bachchan
Read More

हरिवंश राय बच्चन: जीवन शैली, साहित्यिक योगदान, प्रमुख रचनाएँ

हरिवंश राय बच्चन भारतीय कवि थे जो 20 वी सदी में भारत के सर्वाधिक प्रशिक्षित हिंदी भाषी कवियों…
Success Story in Hindi
Read More

Success Stories in Hindi

जीवन में सफलता पाना हर एक व्यक्ति की प्राथमिकता होती है, मनुष्य का सपना होता है कि वह…