BSc क्या है?

2 minute read
1.9K views
BSc kya hai

12वीं साइंस के बाद जब प्रोफेशनल कोर्सेस की बात आती है तो छात्रों के बीच सबसे लोकप्रिय विकल्प BSc है। यदि आप विज्ञान के क्षेत्र में करियर बनाने की इच्छा रखते हैं तो BSc आपको एक उमदा एजुकेशनल बैकग्राउंड प्रदान करता है। इसके ज़रिये आप रिसर्च, प्रयोगशाला तकनीक, फार्मास्यूटिकल्स, बायोटेक्नोलॉजी, खाद्य विज्ञान जैसे विभिन्न क्षेत्रों में नौकरी के अवसरों में से कुछ का चयन कर सकते हैं। आइए ब्लॉग के माध्यम से BSc kya hai, BSc Hindi और BSc से जुड़ी नौकरियों आदि के बारे में विस्तार से जानते हैं।

कोर्स BSc
फुल फॉर्म बैचलर ऑफ़ साइंस
अवधि 3 – 4 साल
कोर्स स्तर अंडरग्रेजुएट/बैचलर्स
योग्यता उम्मीदवार ने साइंस स्ट्रीम से 10+2 उत्तीर्ण की हो।
एडमिशन का तरीका मेरिट और प्रवेश परीक्षा द्वारा आधारित
BSc विशेषज्ञता –BSc Physics 
–BSc Chemistry
–BSc Biology
–BSc Mathematics
–BSc IT (Information  Technology)
–BSc Computer Science
–BSc Microbiology
 –BSc Biotechnology
–BSc Biochemistry
–BSc Botany
टॉप विदेशी यूनिवर्सिटीज 1. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी
2.कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी
3.मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी
4.स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी
5.हार्वर्ड यूनिवर्सिटी
BSc के बाद रोजगार के अवसर 1. रिसर्च विज्ञानी
2. फोरेंसिक विज्ञानी
3. एनालिटिकल केमिस्ट
4. विज्ञान लेखक
5. विष विज्ञानी
6. नैदानिक ​​वैज्ञानिक

बीएससी क्या होती है?

12वीं उत्तीर्ण करने के बाद छात्र के मन में बीएससी शब्द सुनने के बाद सबसे पहला सवाल यही होता है कि BSc kya hai। तो जवाब है कि BSc 3 साल की अवधि का एक बैचलर्स डिग्री प्रोग्राम है। यह 12th के बाद विज्ञान के छात्रों के बीच सबसे लोकप्रिय विकल्पों में से एक है। BSc का फुल फॉर्म बैचलर ऑफ़ साइंस है। इन कोर्सेस को उन छात्रों के लिए एक फाउंडेशन कोर्स माना जाता है, जो विज्ञान के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं। यह विश्व की अधिकांश यूनिवर्सिटीज में विभिन्न विशेषज्ञताओं जैसे– BSc IT, BSc Microbiology, BSc Computer Science, BSc Physics आदि के अंतर्गत पेश किया जाता है। BSc kya hai कोर्सेस का अध्ययन सिद्धांत और व्यावहारिक पाठ का एक मिश्रण है। BSc Hindi की डिग्री पूरी करने के बाद, छात्र मास्टर्स ऑफ़ साइंस (MSc) का विकल्प चुन सकते हैं या फिर एक अच्छी जॉब के लिए भी आवेदन कर सकते हैं।

लोकप्रिय बीएससी कोर्स

BSc kya hai जानने के साथ-साथ यह भी जानिए कि बीएससी में कितनी स्पेशलाइजेशन होती हैं, जो इस प्रकार हैं:

आप AI Course Finder की मदद से अपने पसंद के कोर्सेज और उससे सम्बंधित टॉप यूनिवर्सिटी का चयन कर सकते हैं।

बीएससी फिज़िक्स

BSc Physics तीन साल का अंडरग्रेजुएट कोर्स है, जिसका उद्देश्य फिज़िक्स के मौलिक सिद्धांतों जैसे बल, विद्युत चुंबकत्व, तरंगें, प्रकाशिकी आदि के बारे में गहन ज्ञान प्रदान करना है। इस कोर्स के लिए आपको उच्च तर्क और समस्या सुलझाने की क्षमता की आवश्यकता होती है।

कोर्स BSc फिज़िक्स
फुल फॉर्म बैचलर ऑफ़ साइंस इन फिज़िक्स
अवधि 3 साल
कोर्स स्तर अंडरग्रेजुएट
योग्यता PCM/PCB के साथ 10+2
प्रवेश प्रक्रिया मेरिट/ प्रवेश परीक्षा द्वारा आधारित
प्रवेश परीक्षा JET, NPAT etc (भारत) ACT, SAT, IELTS/TOEFL (विदेश)
सिलेबस BSc Physics Syllabus
कोर्स के बाद रोजगार के अवसर 1.परामर्श भौतिक विज्ञानीसहायक वैज्ञानिक
2. विकिरण ऑन्कोलॉजिस्ट शोधकर्ता
3. वरिष्ठ भौतिक विज्ञानी
4. तकनीशियन
5. शिक्षक
6. वैज्ञानिक

BSc केमिस्ट्री

BSc Chemistry एक 3 साल का अंडरग्रेजुएट कोर्स है जो पदार्थो के अध्ययन से संबंधित है। इसमें अकार्बनिक और कार्बनिक रसायन, गुण और पदार्थों की संरचना आदि शामिल हैं। 

कोर्स BSc केमिस्ट्री
फुल फॉर्म बैचलर ऑफ़ साइंस इन केमिस्ट्री
अवधि 3 साल
स्तर अंडरग्रेजुएट
योग्यता पीसीएम/पीसीबी के साथ 10+2
प्रवेश प्रक्रिया प्रवेश परीक्षा / योग्यता-आधारित
प्रवेश परीक्षा JET, NPAT etc (भारत) ACT, SAT, IELTS/TOEFL(विदेश)
सिलेबस BSc Chemistry Syllabus
कोर्स के बाद रोजगार के अवसर -प्रयोगशाला सहायक
-उत्पादन केमिस्ट
-वैज्ञानिक डाटा एंट्री
-विशेषज्ञ
टॉक्सिकोलॉजिस्ट
वैज्ञानिक

BSc ज़ूलॉजी

BSc Zoology एक 3 साल का अंडरग्रेजुएट डिग्री कोर्स है। यह कोर्स जैविक समुद्र विज्ञान, प्रतिस्पर्धी शरीर विज्ञान, पारिस्थितिकी, विकासात्मक और कोशिका जीव विज्ञान, कशेरुक और अकशेरुकी प्राणी विज्ञान, परजीवी विज्ञान (biological oceanography, competitive physiology, ecology, developmental और cell biology, vertebrate और invertebrate zoology, parasitology) आदि के उन्नत अध्ययन और रिसर्च पर केंद्रित है। इस कोर्स में नियमित व्यावहारिक सत्र, सिद्धांत-आधारित पेपर और नियमित बाहरी दौरे शामिल होते हैं। बीएससी ज़ूलॉजी के बाद करियर के विभिन्न अवसरों में पारिस्थिति की विज्ञानी, प्रकृति संरक्षण अधिकारी, पर्यावरण प्रबंधक आदि शामिल हैं।

कोर्स BSc ज़ूलॉजी
फुल फॉर्म बैचलर ऑफ़ साइंस इन ज़ूलॉजी
अवधि 3 साल
स्तर अंडरग्रेजुएट
योग्यता PCM/PCB के साथ 10+2
प्रवेश परीक्षा BHU UET, MCRAE CET, NEST, JEST (भारत) IELTS/TOEFL (विदेश)
प्रवेश प्रक्रिया प्रवेश परीक्षा / योग्यता-आधारित
सिलेबस BSc Zoology Syllabus
कोर्स के बाद रोजगार के अवसर 1.इकोलॉजिस्ट
2.नेचर कंजर्वेशन अधिकारी
3.एनवायरनमेंट मैनेजर
4.मेडिकल रिप्रेजेन्टेटिव
5.पशु चिकित्सक

BSc IT 

BSc IT (Information Technology) एक 3 साल की अवधि का बैचलर्स डिग्री कोर्स है, जो छात्रों को स्टोरेज, सिक्योरिटी, प्रोसेसिंग, डाटा मैनेजमेंट और सूचना प्रौद्योगिकी का जटिल ज्ञान प्रदान करता है। इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी से संबंधित बीएससी (बैचलर ऑफ़ साइंस) in IT मूल रूप से सॉफ्टवेयर, डाटाबेस, नेटवर्किंग जैसे विषयों पर केंद्रित है। 

कोर्स BSc IT
फुल फॉर्म बैचलर ऑफ़ साइंस इन इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी
अवधि 3 साल
स्तर अंडरग्रेजुएट
योग्यता पीसीएम/पीसीबी के साथ 10+2
प्रवेश परीक्षा SAT, IELTS/TOEFL (विदेश) JET, NPAT etc (भारत)
प्रवेश प्रक्रिया प्रवेश परीक्षा / योग्यता-आधारित
सिलेबस BSc IT Syllabus
कोर्स के बाद रोजगार के अवसर 1.प्रोग्रामर
2.सॉफ्टवेयर डेवलपर
3.गुणवत्ता विश्लेषक
4.आईटी विशेषज्ञ
5.टेक्नोलॉजी इंजीनियर

BSc कंप्यूटर साइंस

BSc in Computer Science तीन साल का अंडरग्रेजुएट डिग्री कोर्स है जो कंप्यूटर सिद्धांतो और अनुप्रयोगों से संबंधित है। इस डिग्री कोर्स का मुख्य एजेंडा कंप्यूटर और कंप्यूटर सिस्टम की प्रौद्योगिकियों का कार्यान्वयन करना है। इस कोर्स के दौरान छात्र ऑपरेटिंग सिस्टम, नंबर सिस्टम और कोड, नियंत्रण संरचनाएं, सरणियाँ और फंक्शन जैसे विषयों की विस्तृत श्रृंखला का अध्ययन करते हैं।

कोर्स BSc Computer Science
फुल फॉर्म बैचलर ऑफ़ साइंस इन कंप्यूटर साइंस
अवधि 3 साल
स्तर अंडरग्रेजुएट
योग्यता पीसीएम/पीसीबी के साथ 10+2
प्रवेश परीक्षा SAT, IELTS/TOEFL(विदेश) JEE Mains, JEE Advanced, SRMJEEE,BITSAT, VITEEE etc (भारत)
प्रवेश प्रक्रिया प्रवेश परीक्षा / योग्यता-आधारित
सिलेबस BSc Computer Science Syllabus
कोर्स के बाद रोजगार के अवसर -सूचना प्रौद्योगिकी विशेषज्ञ
-खेल डिजाइनर
-गुणवत्ता विश्लेषक
ग्राफिक डिजाइनर
-सॉफ्टवेयर डेवलपर
-परीक्षण अभियंता
-डेटाबेस डिजाइनर
-प्रोजेक्ट मैनेजर

BSc बायोटेक्नोलॉजी

BSc Biotechnology, बायोलॉजी की प्रमुख शाखाओं में से एक है। यह एक 3 साल का अंडरग्रेजुएट डिग्री कोर्स है। यह कोर्स जैव प्रौद्योगिकी, जैव रसायन, आनुवंशिकी, आणविक (बायोटेक्नोलॉजी, बायोकेमिस्ट्री, जेनेटिक्स, मॉलिक्यूलर) आदि जैसे विभिन्न विषयों पर केंद्रित है। 

कोर्स BSc Biotechnology
फुल फॉर्म बैचलर ऑफ़ साइंस इन बायोटेक्नोलॉजी
अवधि 3 साल
स्तर अंडरग्रेजुएट
योग्यता पीसीएम/पीसीबी के साथ 10+2
प्रवेश परीक्षा JET, NPAT etc (भारत) ACT, SAT, IELTS/TOEFL (विदेश)
प्रवेश प्रक्रिया प्रवेश परीक्षा / योग्यता-आधारित
सिलेबस BSc Biotechnology Syllabus
कोर्स के बाद रोजगार के अवसर -जैव प्रौद्योगिकी विशेषज्ञ
-प्रयोगशाला प्रशिक्षक
-वरिष्ठ अनुसंधान सहयोगी
-जैव प्रौद्योगिकीविद्

BSc माइक्रोबॉयोलॉजी

BSc Microbiology तीन साल का डिग्री कोर्स है जिसमें सूक्ष्मजीवों का अध्ययन शामिल है। इसमें एककोशिकीय, सूक्ष्म पशु समूह, वायरस, बैक्टीरिया और कवक (यूनीसेल्युलर, माइक्रोस्कोपिक एनिमल ग्रुप्स, वायरसीज़, बैक्टीरिया और फंगी जैसे विभिन्न जीव शामिल हैं। इसके कई उप क्षेत्र हैं जैसे विरोलॉजी, मैकॉलॉजी, पैरासायटोलॉजी आदि। इसके अलावा, माइक्रोबायोलॉजी पैथोलॉजी का एक अनिवार्य हिस्सा है जहां इसका उपयोग सूक्ष्मजीवों के कारण होने वाली विभिन्न बीमारियों से निपटने के लिए किया जाता है। 

कोर्स BSc Microbiology
फुल फॉर्म बैचलर ऑफ़ साइंस इन माइक्रोबॉयोलॉजी
अवधि 3 साल
स्तर अंडरग्रेजुएट
योग्यता पीसीएम/पीसीबी के साथ 10+2
प्रवेश परीक्षा JET, SRMJEEE,BITSAT, VITEEE, NPAT etc (भारत) ACT, SAT, IELTS/TOEFL (विदेश)
प्रवेश प्रक्रिया प्रवेश परीक्षा / योग्यता-आधारित
सिलेबस BSc Microbiology Syllabus
कोर्स के बाद रोजगार के अवसर -औद्योगिक सूक्ष्म जीवविज्ञानी
-बैक्टीरियोलॉजिस्ट
-माइकोलॉजिस्ट
-बायोकेमिस्ट
-इम्यूनोलॉजिस्ट
-वायरोलॉजिस्ट

बीएससी नर्सिंग

BSc Nursing  एक अंडरग्रेजुएट कोर्स है, जिसकी अवधि 4 वर्ष की होती है। अधिकृत निकाय से उपयुक्त मान्यता के साथ, किसी भी मान्यता प्राप्त संस्थान और विश्वविद्यालय में आप इस कोर्स को कर सकते हैं। इस कोर्स के बाद छात्र आसानी से nurse के रूप में अपने करियर की शुरुआत कर सकते हैं। इसमें छात्रों को स्वास्थ्य, रोग प्रबंधन, स्वास्थ्य संवर्धन आदि प्रक्रियाओं के बारे में शिक्षा और ट्रेनिंग दी जाती है। यह कोर्स नर्सिंग क्षेत्र की विभिन्न दक्षताओं में महारत हासिल करने पर केंद्रित है।

कोर्स BSc Nursing
फुल फॉर्म बैचलर ऑफ़ साइंस इन नर्सिंग
अवधि 4 साल
स्तर अंडरग्रेजुएट
योग्यता पीसीएम/पीसीबी के साथ 10+2
प्रवेश परीक्षा JIPMER, BHU UET, AJEE etc (भारत)ACT, SAT, IELTS/TOEFL (विदेश)
प्रवेश प्रक्रिया प्रवेश परीक्षा / योग्यता-आधारित
सिलेबस BSc Nursing Syllabus 
कोर्स के बाद रोजगार के अवसर -डिप्टी नर्सिंग
-अधीक्षक
-नर्सिंग के शिक्षक
-स्टाफ नर्स
-नर्सिंग सेवा प्रशासक
-नर्सिंग निदेशक
-सैन्य नर्स
-सहायक नर्स

बीएससी एग्रीकल्चर

BSc Agriculture 4 साल का अंडरग्रेजुएट डिग्री कोर्स है जिसमें एग्रीकल्चर और इसके अनुप्रयोगों से संबंधित विषय शामिल हैं। इस कोर्स में कृषि विज्ञान, बागवानी, पादप विकृति विज्ञान, कीट विज्ञान, मृदा विज्ञान, खाद्य प्रौद्योगिकी, कृषि अर्थशास्त्र, गृह विज्ञान, मत्स्य पालन, वानिकी और पशु चिकित्सा विज्ञान (एग्रीकल्चरल साइंस, हॉर्टिकल्चर, प्लांट पैथोलॉजी, एंटोमोलोजी, सॉइल साइंस, फ़ूड टेक्नोलॉजी, एग्रीकल्चरल इकोनॉमिक्स, होम साइंस, फिशरीज़, फॉरेस्ट्री और वेटरनरी साइंस) जैसे विषय हैं। इसके अंतर्गत जल संसाधन प्रबंधन, मृदा निर्माण, कुक्कुट प्रबंधन, भूमि सर्वेक्षण (वाटर रिसोर्स मैनेजमेंट, साइल फॉर्म्युलेशन, पोल्ट्री मैनेजमेंट, लैंड सर्वे) आदि की शिक्षा दी जाती है। इस कोर्स का मुख्य उद्देश्य भविष्य की पीढ़ी को कृषि उत्पादकता और उपज को बढ़ाने के साथ-साथ कृषि उत्पादकता में सुधार के तरीकों में सहायता करना है। 

कोर्स BSc Agriculture
फुल फॉर्म बैचलर ऑफ़ साइंस इन एग्रीकल्चर
अवधि 4 साल
स्तर अंडरग्रेजुएट
योग्यता पीसीएम/पीसीबी के साथ 10+2
प्रवेश परीक्षा SAT, IELTS/TOEFL (Abroad)BHU UET, AP EAMCET, SAAT, CGPATOUAT (India)
प्रवेश प्रक्रिया प्रवेश परीक्षा / योग्यता-आधारित
सिलेबस BSc Agriculture Syllabus
कोर्स के बाद रोजगार के अवसर -बागवानी-एग्रोनॉमिस्ट
-अनुसंधान वैज्ञानिक
-मृदा अभियंता
-फार्म मैनेजर
-फूड माइक्रोबायोलॉजिस्ट
-जल संरक्षणवादी
-व्यवसाय विकास प्रबंधक
-पौधे आनुवंशिकीविद्

BSc के लिए विश्व की टॉप यूनिवर्सिटीज

बीएससी के लिए विदेश के टॉप यूनिवर्सिटीज की लिस्ट नीचे दी गई है–

आप UniConnect के जरिए विश्व के पहले और सबसे बड़े ऑनलाइन विश्वविद्यालय मेले का हिस्सा बनने का मौका पा सकते हैं, जहाँ आप अपनी पसंद के विश्वविद्यालय के प्रतिनिधि से सीधा संपर्क कर सकेंगे।

BSc के लिए भारत की टॉप यूनिवर्सिटीज

भारत में बीएससी के लिए कुछ टॉप यूनिवर्सिटीज की लिस्ट नीचे दी गई है–

  • बनारस हिंदू विश्वविद्यालय
  • इलाहाबाद विश्वविद्यालय
  • दिल्ली विश्वविद्यालय
  • गुरु गोबिंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय
  • अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय
  • अन्ना विश्वविद्यालय
  • लखनऊ विश्वविद्यालय
  • मुंबई विश्वविद्यालय
  • पुणे विश्वविद्यालय
  • लोयोला कॉलेज चेन्नई
  • मिरांडा हाउस (दिल्ली)
  • मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज
  • हिंदू कॉलेज (दिल्ली विश्वविद्यालय)
  • श्री वेंकटेश्वर कॉलेज (दिल्ली विश्वविद्यालय)

BSc के लिए महत्वपूर्ण योग्यताएं

बीएससी के लिए कुछ सामान्य योग्यताओं के बारे में नीचे बताया गया है–

  • बीएससी के लिए ज़रूरी है कि उम्मीदवार ने किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से सांइस स्ट्रीम PCM (फिज़िक्स, केमिस्ट्री, मैथमेटिक्स) या PCB (फिज़िक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी) से 10+2 अच्छे अंकों से पास किया हो।
  • भारत में BSc के लिए कुछ कॉलेज अपनी प्रवेश परीक्षाएं आयोजित करते हैं। (जैसे JET, NPATऔर NATA आदि) जिसके आधार पर छात्रों का चयन किया जाता है। विदेश के कुछ यूनिवर्सिटीों के लिए ACT, SAT आदि के स्कोर ज़रूर होते हैं।
  • विदेश में ऊपर दी गई रिक्वायरमेंट्स के साथ IELTS या TOEFL टेस्ट अंक आवश्यक होते हैं।
  • साथ ही विदेशी यूनिवर्सिटीों में आवेदन के लिए SOP, LOR और CV/रेज़्युम तथा पोर्टफोलियो की भी ज़रूरत होती है।

क्या आप IELTS/TOEFL/SAT/GRE में अच्छे अंक प्राप्त करना चाहते हैं? आज ही इन एक्साम्स की बेहतरीन तैयारी के लिए Leverage Live पर रजिस्टर करें और अच्छे अंक प्राप्त करें।

आवेदन प्रक्रिया

बीएससी के लिए विदेशी यूनिवर्सिटी में प्रवेश प्रक्रिया इस प्रकार है:

  1. सबसे पहले अपना चुनी हुई यूनिवर्सिटी के आधिकारिक वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें। (UK में BSc के लिए आवदेन करने के लिए UCAS पर जाएं।)
  2. यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन करने के बाद आपको एक यूजरनेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  3. फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद उस BSc कोर्स का चयन करें, जिसे आप करना चाहते हैं।
  4. अब अपने चुने हुए कोर्स, एकेडमिक ट्रांसक्रिप्ट, व्यक्तिगत बयान और LOR, IELTS/ TOEFL/ GMAT/ GRE (जो भी आवश्यक हो) के साथ एप्लीकेशन फॉर्म भरें।
  5. इसके बाद एप्लीकेशन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। आवदेन शुल्क हर यूनिवर्सिटी के लिए अलग–अलग हो सकती है। यूके के लिए आवेदन शुल्क लगभग GBP 25 -50 (₹2,515-5,031) तक हो सकती है।

आवदेन प्रक्रिया से सम्बन्धित जानकारी और मदद के लिए Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800572000 पर संपर्क करें।

आवश्यक दस्तावेज़

BSc kya hai जानने के साथ-साथ यह भी जानना आवश्यक है कि इस कोर्स के लिए ज़रूरी दस्तावेज़ कौन से हैं, जो इस प्रकार हैं:

छात्र वीजा पाने के लिए भी Leverage Edu विशेषज्ञ आपकी हर सम्भव मदद करेंगे।

BSc प्रवेश प्रक्रिया

BSc kya hai जानने के साथ-साथ प्रवेश प्रक्रिया के बारे में जानना भी बेहद ज़रूरी है। BSc Hindi के लिए एडमिशन आमतौर पर दो तरीकों से हो सकता है – मेरिट और प्रवेश परीक्षा के आधार पर। हर यूनिवर्सिटी में प्रवेश प्रक्रिया अलग-अलग हो सकती है।

  • मेरिट के आधार पर: कुछ यूनिवर्सिटीज में BSc के लिए एडमिशन मेरिट पर आधारित होता है। इसमें यूनिवर्सिटी या कॉलेज में योग्यता और कट ऑफ को पूरा करने वाले आवेदकों को प्रोविजनल प्रवेश की पेशकश की जाती है। 
  • प्रवेश परीक्षा के आधार पर: BSc कोर्स में छात्रों को प्रवेश देने के लिए कई कॉलेज और विश्विद्यालयों द्वारा प्रवेश परीक्षा आयोजित की जाती हैं। प्रवेश प्रक्रिया के लिए उम्मीदवारों को शॉर्टलिस्ट किया जाता है, जिसमें इन प्रवेश परीक्षाओं को पास करने के बाद काउंसलिंग राउंड शामिल हैं।

BSc के बाद जॉब प्रोफाइल्स और सैलरी

आइए अब BSc Kya hai जानने के बाद बीएससी के बाद रोज़गार की संभावनाओं के बारे में जानते हैं। BSc Hindi ग्रेजुएट्स के पास रोजगार के बेहतरीन अवसर हैं। उनके लिए नौकरियां केवल विज्ञान क्षेत्र में ही सीमित नहीं हैं बल्कि वे मैनेजमेंट, इंजीनियरिंग, लॉ आदि जैसे अन्य क्षेत्रों में भी जा सकते हैं। छात्रों के लिए उपलब्ध नौकरी के अवसर,  वेतन पैकेज के मामले में बहुत अच्छे होते हैं। नीचे BSc Hindi के बाद कुछ टॉप नौकरी के अवसर और Payscale के अनुसार उनका औसत वार्षिक वेतन नीचे दिया गया हैं-

रोजगार के अवसर INR में वार्षिक वेतन
रिसर्च साइंटिस्ट 2-4 लाख
फोरेंसिक वैज्ञानिक 3-5 लाख
विश्लेषणात्मक रसायनज्ञ 3-6 लाख
विज्ञान लेखक 2-5 लाख
टॉक्सिकोलॉजिस्ट 3-6 लाख
क्लिनिकल ​​वैज्ञानिक 2-5 लाख
वैज्ञानिक प्रयोगशाला-तकनीशियन 3-5 लाख
नर्स 2-5 लाख
भौतिक विज्ञानी 3-6 लाख
वनस्पति-विज्ञानिक 3.5-7 लाख
माइक्रोबायोलॉजिस्ट 4.5-8 लाख
मनोविज्ञानी 2-4 लाख
गणितज्ञ 3-6 लाख
आईटी प्रोफेशनल 6-10 लाख
कृषि वैज्ञानिक 2-7 लाख

FAQs

BSc Hindi का फुल फॉर्म क्या होता है?

BSc का फुल फॉर्म Bachelor of Science है।

BSc kya hai?

BSc Hindi 3 साल की अवधि का एक बैचलर्स डिग्री कोर्स है। यह 12वीं के बाद विज्ञान के छात्रों के बीच सबसे लोकप्रिय विकल्पों में से एक है।

बीएससी कोर्स की अवधि कितनी होती है?

आमतौर पर बीएससी कोर्स की अवधि 3 साल की होती है।

बीएससी के लिए क्या योग्यता है?

BSc के लिए जरूरी है कि आवेदक ने साइंस स्ट्रीम (पीसीबी या पीसीएम) से 10+2 पास किया हो।

BSc Hindi के बाद क्या करें?

BSc Hindi के बाद आपके लिए ढेरों विकल्प मौजूद हैं। आप स्पेशलाइजेशन के लिए MSc कोर्सेस को चुन सकते हैं वहीं विभिन्न प्रकार के नौकरी के अवसर भी उपलब्ध होते हैं।

बीएससी के अंतर्गत लोकप्रिय कोर्स कौन कौन से होते हैं?

टॉप बीएससी कोर्स–
–BSc Physics 
–BSc Chemistry
–BSc Biology
–BSc Mathematics 
–BSc IT (Information
  Technology)
–BSc Computer Science
–BSc Microbiology 
–BSc Biotechnology 
–BSc Biochemistry
–BSc Botany

BSc Hindi के बाद करियर के क्या विकल्प हैं?

BSc Hindi के बाद करियर विकल्प –
-अनुसंधान वैज्ञानिक
-फोरेंसिक वैज्ञानिक
-विश्लेषणात्मक रसायनज्ञ
-विज्ञान लेखक
-विषविज्ञानी
-क्लिनिकल साइंटिस्ट
-वैज्ञानिक प्रयोगशाला-तकनीशियन
नर्स

हम आशा करते हैं कि अब आप जान गए होंगे कि BSc kya hai, BSc Hindi और इससे संबंधी सारी जानकारी आपको इस ब्लॉग में मिल गई होंगी। अगर आप विदेश में बीएससी करना चाहते हैं और साथ ही एक उचित मार्गदर्शन चाहते हैं तो आज ही 1800572000 पर कॉल करके हमारे Leverage Edu के एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन बुक कीजिए।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert