एलओआर क्या होता है?

2 minute read
11.2K views
LOR kya hota hai

विदेश में पढ़ाई करने के लिए अक्सर स्टूड़ेट्स को TOEFL और IELTS जैसे टेस्ट देने पढ़ते हैं जिससे कि यूनिवर्सिटी में स्टूड़ेट्स को किसी प्रकार की परेशानी ना हो। ठीक ऐसे ही विदेशों की यूनिवर्सिटीज में पढ़ने के लिए यूनिवर्सिटीज स्टूड़ेट्स को एलओआर जमा करवाने के लिए बोलती है। आज के इस ब्लॉग में हम एलओआर के बारे में चर्चा करेंगे। LOR kya hota hai, इसको कौन देता है इन सब के बारे में आइए विस्तार से जानते हैं।

एलओआर क्या है?

एलओआर यानी लेटर्स ऑफ़ रेकमेंडेशन की सबसे ज्यादा जरूरत विदेश में पढ़ने जाने वाले स्टूड़ेट्स को होती है। एलओआर की ही मदद से स्टूड़ेट्स को एडमिशन देने वाली कमेटी समझ पाती है कि स्टूड़ेट कोर्स करने की सभी योग्यताओं को पूरा करता है। एलओआर मुख्य रूप से प्रोफेसर द्वारा लिखा जाता है जो आपके बारे में सब कुछ जानता है और इसके अलावा वे यूनिवर्सिटीज के लिए स्टूड़ेट्स को शॉर्टलिस्ट करने में भी हेल्प करता है। एलओआर स्टूड़ेट्स के लिए यूनिवर्सिटीज में एक रैफरी की भूमिका निभाता है।   

एलओआर के प्रकार

एलओआर दो प्रकार के होते हैं इसके बारे में बहुत ही कम लोगों को पता होता है। इस दोनों एलओआर के बीच अंतर प्रोवाइडर और रेकमेन्डर के द्वारा किया जाता है। LOR kya hota hai तो चलिए इन दोनों ही एलओआर को समझने की कोशिश करते हैं।

अकादमिक एलओआर

अकादमिक एलओआर मुख्य रूप से अकादमिक इंस्टीटूशन के सद्स्यों के द्वारा स्टूड़ेट्स को दिया जाता है। विदेश में पढ़ाई के लिए गए स्टूड़ेट्स को वहाँ कि यूनिवर्सिटीज कम से कम एक अकादमिक एलओआर की मांग करती है। ऐसे में स्टूड़ेट्स अपने पुरानी अकादमिक इंस्टीटूशन से हेल्प ले सकते हैं। इस तरह का एलओआर स्टूड़ेट्स की योग्यता को दिखाता है कि वे इस कोर्स को शुरू करने के लायक है।

प्रोफेशनल एलओआर

विदेशों में ज्यादात्तर यूनिवर्सिटीज मुख्य रूप से मास्टर्स एडमिशन के लिए कार्य अनुभव की मांग करती है। वहीं प्रोफेशनल एलओआर आपको आपके सीनियर द्वारा या फिर आपकी पुरानी कंपनी के सहकर्मीयों द्वारा दिया जा सकता है। इसके अलावा स्टूड़ेट्स को यह पता होना चाहिए कि प्रोफेशनल एलओआर लेटरहेड पर लिखा होना जरूरी है। प्रोफेशनल एलओआर काम करने की योग्यता के साथ वहाँ के वातावरण, टीमवर्क और शहर पर फोकस करता है।

एलओआर किसके लिए और क्यों जरूरी

वे सभी जो उच्च शिक्षा प्राप्त करना चाहते हैं, उन्हें अनिवार्य रूप से एलओआर की आवश्यकता होगी, विशेष रूप से वे जो विदेश में पढ़ाई करने की योजना बना रहे हैं। पढ़ाई के स्तर और कोर्स की फील्ड की परवाह किए बिना; छात्रों को आमतौर पर अकादमिक और पेशेवर पृष्ठभूमि से संबंधित 2 एलओआर की आवश्यकता होती है। कई बार, यूजी लेवल के कोर्स में दाखिला लेने वाले स्टूड़ेट्स के पास कार्य अनुभव नहीं होता है; इस प्रकार, वे स्कूल के टीचर, इंस्टिट्यूट टीचर, प्रोफेसर,काउंसलर इनसे एलओआर के लिए अनुरोध कर सकते हैं। जबकि मास्टर्स करने वाले स्टूड़ेट्स एलओआर के लिए अपने लास्ट नियोक्ता, इंटर्नशिप प्रबंधक, कॉलेज के प्रोफेसर से लैटर प्राप्त कर सकते हैं।

एलओआर का प्रारूप

आमतौर पर  एलओआर का प्रारूप में 4 से 5 पैराग्राफ में लिखे जाते हैं जिनमें आवेदक की योग्यता के बारे में अच्छी तरह से बताया गया होता है। हर एक पैराग्राफ में एक मुख्य सेक्शन होता है जो कैंडिडेट के बारे में जानकारी देता है। चलिए नीचे दिए गए पाइंट्स से समझते हैं एलओआर के प्रारूप के बारे में।

फर्स्ट पैराग्राफ

फर्स्ट पैराग्राफ में स्टूड़ेट्स और रेकमेंडेर के बीच अच्छे रिलेशन को बनाना होता है। यह आमतौर पर व्यक्ति की ऐजुकेशन के साथ-साथ प्रोफेशनल डेजिग्नेशन को बताते हुए शुरू किया जाता है और अंत में यह निष्कर्ष निकाला जाता है कि रेकमेंडेर ऐसा करने में क्यों खुशी जाहिर कर रहा है।

सेकंड पैराग्राफ

एलओआर के दूसरे पैराग्राफ में उम्मीदवार की संभावित ताकत के साथ-साथ उन गुणों के बारे में बात करनी चाहिए जो उसे आगामी कोर्स के साथ और अधिक मदद करेंगे।

थर्ड पैराग्राफ

थर्ड पैराग्राफ में आपको उम्मीदवार की क्षमताओं के साथ-साथ निर्धारित लक्ष्य को पूरा करने के प्रति समर्पण को बताते हुए वास्तविक परिदृश्य के बारे में बताना होगा।

फोर्थ पैराग्राफ

आखरी पैराग्राफ में लिखेंगे कि कैसे आपकी क्षमताएं आपको उस कोर्स के लिए एक आदर्श उम्मीदवार बनाती हैं जिसमें आप नामांकन करने वाले हैं ये लिख कर अपने एलओआर को खत्म करेंगे।

एलओआर टेम्पलेट

एलओआर कैसे लिखना है इसके लिए हमने आपके लिए एक टेम्पलेट तैयार किया है जिसके बारे में नीचे दिया गया है।

To Whom This May Concern

My name is ——- (Recommender Name) and I am obliged to offer my recommendation of —– (Candidate’s full name) to whom I have personally known for —— (number of years or months) at ——- (location). 

During the course of my relationship with —- (candidate’s name), I have observed that she/he shows up earlier than asked, is a team player, works hard and carries her/his work in a humble and polite manner. Being a diligent employee, —- (Candidate’s name) best quality is to get the most out of others while maintaining the decorum of the workplace. Hence, without any reservation, I recommend ——- (Candidate’s full name) for this program at ——- (University’s name). 

For any queries, you can contact me at- 
Best, 

Signature—–
Date—- 
Mobile Number——-
E-mail—–

एलओआर में उल्लेखित गुण

एलओआर कितने प्रकार के होते हैं कैसे इसको लिखा जाता है इसके बारे में हमने अभी तक चर्चा की है। लेकिन ऐसे कौन से कुछ बेस्ट क्वालिटीज है जिनको किसी भी स्टूड़ेट्स को अपने एलओआर में लिखना चाहिए। LOR kya hota hai इसके बारे में हमने नीचे दिया गया है जिनको देखकर आप भी इन्हें अपने एलओआर में शामिल कर सकते हैं।

पेशेवर एलओआर के लिए गुण

  • नेतृत्व कौशल
  • निर्णय लेने की क्षमता
  • टीम वर्क
  • मैनेजमेंट के संबंध में कौशल
  • भूमिका के लिए समर्पण
  • विश्वसनीयता और ईमानदारी
  • टाइम मैनेजमेंट
  • मल्टीटास्किंग
  • रचनात्मकता
  • मेहनती

शैक्षणिक एलओआर के लिए गुण

  • टीमवर्क कौशल
  • जुनून और रचनात्मकता
  • नेतृत्व क्षमता
  • रिसर्च स्किल
  • मेहनती
  • अकादमिक प्रदर्शन
  • पुरस्कार, मान्यताएं और हाइलाइट्स

जरुरी विशेषताएं

एलओआर उन उम्मीदवारों के लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्णँ होता है जो विदेश में कोर्स करने के लिए या फिर जॉब प्रोफाइल के लिए आवेदन करते हैं। LOR kya hota hai इसके लिए किसी उम्मीदवार की योग्यता निर्धारित करने के लिए आवंटित मूल्यांकन समिति ने उनसे व्यक्तिगत रूप से मुलाकात नहीं की है या उन्हें व्यक्तिगत स्तर पर नहीं जाना है और उन्हें यह नहीं पता होगा कि उम्मीदवार कितना प्रतिभाशाली और सक्षम है जब तक कि उनके मौजूद दस्तावेज उनके व्यक्तित्व और लक्षणों को उजागर नहीं करते। एलओआर का मसौदा तैयार करते समय आपको कुछ प्रमुख पॉइंट्स पर ध्यान देना है।

  • एलओआर को सटीक रूप से स्पष्ट करने की आवश्यकता है। यह अनिवार्य रूप से पूरी जानकारी के साथ होना चहिए ताकि पाठक को आवेदक और उनके व्यक्तित्व के बारे में पता लगाया जा सकें।
  • इसको ज्यादा आकर्षित करने की जरूरत नहीं है क्योंकि तब ऐसा लगेगा कि लिखने वाला व्यक्ति उम्मीदवार की अतिरंजित छवि पेश करने की कोशिश कर रहा है।
  • एक एलओआर को होलिस्टिक एप्रोच के साथ लिखा जाना चाहिए ताकि एक उम्मीदवार की ताकत और उपलब्धियों पर जितना प्रकाश डाला जाए, उसके कमजोर बिंदुओं पर भी चर्चा की जानी चाहिए जिससे दोनों के बीच संतुलन बना रहे।
  • इसमें मौलिकता की भावना के साथ-साथ पर्सनल टच भी होना चाहिए क्योंकि यह कहीं और से कॉपी किया हुआ नहीं दिखना चाहिए।

एलओआर पीडीएफ

कॉमन मिस्टेक

एलओआर तैयार करना कोई आसान काम नहीं है। वास्तव में, यह आपके एमएस एप्लिकेशन में एक प्रमुख मील का पत्थर है जिसके लिए बहुत समय और योजना की आवश्यकता होती है। लेकिन एलओआर लिखते समय कुछ सामान्य गलतियां होती है। यहां सबसे आम और बार-बार होने वाली भूलों की सूची दी गई है।

  • सबसे पहली भूल है इंटरनेट से एक सामान्य एलओआर को कॉपी-पेस्ट करना
  • आपके रेफरी को आपको अच्छी तरह से जानना चाहिए और आपका संदर्भ लिखने के लिए उचित रूप से योग्य होना चाहिए।। गलत रेफरी को चुनना आपकी भूल हो सकती है।
  • आपका एलओआर केवल आपके एसओपी और सीवी का पुनरावलोकन नहीं होना चाहिए।
  • आपका एलओआर विश्वविद्यालय के लेटरहेड पर टाइप (हस्तलिखित नहीं) होना चाहिए और एक सीलबंद लिफाफे के अंदर रखा जाना चाहिए। अन्यथा, आपके एलओआर की प्रामाणिकता संदिग्ध है।
  • आपके एलओआर में प्रासंगिक जानकारी का अभाव होना आपकी गलती हो सकती है।
  • वर्तनी की गलतियाँ एक बड़ी गलती हैं। यह उस व्यक्ति की विश्वसनीयता के बारे में संदेह पैदा कर सकता है जो आपकी सिफारिश कर रहा है।
  • एलओआर में राजनीतिक रूप से गलत भाषा का प्रयोग नहीं होना चाहिए।
  • आपका एलओआर लगभग एक पृष्ठ लंबा होना चाहिए – जिसका अर्थ है कि A4 पृष्ठ पर लिखे जाने पर लगभग 500 से 600 शब्द होने चाहिए।

एलओआर सैंपल

Dear Admission Committee, 

I Priyanka Bahuguna had the pleasure of teaching Ansh Srivastava English during classes 11th and 12th at Ryan International School. From the start of the session, Ansh impressed me with his creativity towards the topics of literature as well as skills to articulate difficult concepts. His sensitivity towards the social and cultural topics along with the constant zeal to perform better in reading and writing seems one of his best qualities. 

I fondly remember that during the summer holidays home he prepared an extraordinary thesis on the novel prescribed in the syllabus. His meticulousness with respect to the topic conveyed his deep interest into the domain. During the group presentation of the thesis, he showcased special skills of public speaking and leadership at an early age. His insights in the conclusion stated his command over the language. Analysing all this about Ansh Srivastava, my star student, I without any reservation recommend him for BA English Honours at the University of Essex. 

For any queries, you may contact me at-

Best 
Priyanka Bahuguna
Head of English Department
Ryan International School

priyanka123@gmail.com
21/ 01/ 2021

FAQ

आवेदक के साथ आपका क्या संबंध है?

एलओआर लिखने वाले व्यक्ति को मुख्य रूप से यह विस्तार से बताने की आवश्यकता है कि वे उम्मीदवार को अपनी साख और विश्वसनीयता स्थापित करने के लिए कैसे जानते हैं।

आपको क्या लगता है कि आवेदक की महान उपलब्धियां क्या हैं जो उनकी प्रतिभा और विशेषताओं को उजागर करती हैं?

इस प्रश्न का उत्तर देते समय, रेफरी को विशिष्ट उदाहरणों के साथ अपने कारणों का समर्थन करने की आवश्यकता होती है जब उम्मीदवार ने अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया और कठिनाइयों का सामना करने के बावजूद खुद को योग्य साबित किया। फिर, उम्मीदवार की ताकत इस बात से संबंधित हो सकती है कि वे चुने हुए कार्यक्रम या करियर प्रोफाइल के लिए कैसे उपयुक्त हैं।

आवेदक की प्रमुख कमजोरियां क्या हैं?

कमजोरियों को कम करना एक मुश्किल काम हो सकता है क्योंकि आपको एक अनुशंसाकर्ता के रूप में एक संतुलित दृष्टिकोण को लागू करने की आवश्यकता होती है। एलओआर के इस पहलू के लिए, आप उम्मीदवार के नकारात्मक लक्षणों का उल्लेख नहीं कर सकते हैं, लेकिन उन चीजों का उल्लेख कर सकते हैं जो अभी भी सुधार कर सकते हैं। यह कहते हुए कि कोई बहुत कठिन काम करता है, वह कपटी लग सकता है, आप एक मध्यस्थता शैली का विकल्प चुन सकते हैं और कह सकते हैं कि उनके पास एक मजबूत कार्य नीति है।

आवेदक मौलिकता और स्वतंत्रता को किस हद तक स्पष्ट करता है?

किसी फर्म या व्यवसाय प्रशासन पाठ्यक्रम में प्रबंधकीय पद के लिए आवेदन करने वाले किसी व्यक्ति के लिए अनुशंसा पत्र लिखना, अनुशंसाकर्ता को यह सुनिश्चित करना आवश्यक है कि उम्मीदवार के पास उनके चुने हुए प्रोफ़ाइल या कार्यक्रम के लिए संभावित गुण और कौशल हैं। साथ ही, आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि आप उनके विचारों की मौलिकता को उजागर करें और वे अपने कार्यों में स्वतंत्रता की एक झलक कैसे प्रदर्शित करते हैं। यह उदाहरणों का हवाला देकर या उनके कुछ व्यक्तित्व लक्षणों के माध्यम से हो सकता है।

कार्यक्रम/कैरियर प्रोफाइल आवेदक को उनके लक्ष्यों को प्राप्त करने में कैसे मदद करेगा?

एलओआर को समाप्त करते हुए, आपको एक समग्र रूपरेखा जोड़ने की आवश्यकता है कि कैसे पाठ्यक्रम या नौकरी प्रोफ़ाइल आवेदक के लिए पेशेवर और साथ ही व्यक्तिगत रूप से विकसित होने का अवसर है। उम्मीदवार के लक्षणों को उनके चुने हुए कार्यक्रम या काम के अवसर से जोड़ें और मुख्य बिंदुओं पर प्रकाश डालें, यह उल्लेख करते हुए कि यह उनके करियर के लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए उनके लिए एक उपयुक्त विकल्प कैसे है।

उम्मीद है कि आपको हमारा LOR kya hota hai ब्लॉग पसंद आया होगा। अगर आप भी विदेश में जाकर पढ़ाई करना चाहते हैं, तो हमारे Leverage Edu एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन 1800 572 000 पर कॉल कर बुक करें।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert