SOP क्या है और इसका महत्व?

1 minute read
22.2K views
SOP kya hota hai

SOP विदेश में पढ़ाई करने के लिए आवेदन फॉर्म का सबसे महत्वपूर्ण भाग होता है जो आपके पसंदीदा यूनिवर्सिटी में आपका एडमिशन तय करता है। SOP का विवरण कैसे लिखना है, इसे स्पष्ट रूप से समझने के लिए, आइए इस ब्लॉग में विस्तार से जानते हैं कि SOP kya hota hai, इसका कितना महत्त्व है और कैसे लिखते हैं।

Credits – Leverage Edu

SOP kya hota hai?

Sop Kya Hota Hai

Statement of purpose (SOP) यह एक रिटन स्टेटमेंट होता है जो आपके व्यक्तित्व को रिफ्लेक्ट करता है। जो अंतरराष्ट्रीय यूनिवर्सिटीज के सामने आपको लिखित रूप में रिप्रेजेंट करता है और आपके द्वारा चुने गए कोर्स में आवेदन का उद्देश्य दर्शाता है। SOP आपके करियर, रुचियों, पेशेवर योगदान, लक्ष्यों और किसी विशेष कोर्स में आगे बढ़ाने के पीछे की प्रेरणा शक्ति के बारे में बात करता है जो आपके एजुकेशनल दस्तावेज में शामिल नहीं हैं।

SOP का महत्व

SOP आपके आवेदन का एकमात्र दस्तावेज होता है जो आपको यह साबित करने का अवसर देता है कि आपके अंदर कुछ ऐसी अनोखी बात है जो आपको भीड़ से अलग करता है। एक अच्छी तरह से लिखा गया SOP यह भी दर्शाता है कि आप अपने राइटिंग स्किल्स का उपयोग करके अपने विचारों को कितनी अच्छी तरह व्यक्त कर सकते हैं। SOP kya hota hai इसके साथ आपको SOP का महत्व भी जानना आवश्यक है-

  • स्टूडेंट वीज़ा के लिए अप्लाई करने वाले आवेदकों की मानसिकता और आकांक्षाओं को समझने के लिए एक SOP ज़रूरी है।
  • आपकी एजुकेशनल उपलब्धियां, फैमिली बैकग्राउंड, फाइनेंशियल स्टेबिलिटी और संभावनाओं को दर्शाता है। 
  • SOP के रूप में निजी स्टेटमेंट्स या उस कड़ी मेहनत और दृढ़ता को दर्शाता है जिस कोर्स लिए छात्र अप्लाई कर रहा है। 
  • SOP आपके वीज़ा अप्रूवल में भी एक क्रिटिकल भूमिका अदा करता है। 
  • SOP केवल उद्देश्य का विवरण ही आपके व्यक्तित्व को प्रदर्शित करेगा।  जिनके पास स्पष्ट कैरियर लक्ष्य और महत्वाकांक्षाएं हैं।

एसओपी में क्या शामिल नहीं करना चाहिए?

अक्सर विश्वविद्यालयों को उद्देश्य का एक लंबा विवरण मिलता है और फिर भी वे इसे अस्वीकार करते हैं। यहां तक ​​​​कि जब आप एक व्याकरणिक त्रुटि नहीं ढूंढ पाते हैं, तो उत्कृष्ट प्रतीत होने वाली एसओपी को अस्वीकार कर दिया जाएगा। और प्राथमिक कारण है – बहुत अधिक अनावश्यक जानकारी। उदाहरण के लिए, सिर्फ इसलिए कि आप अपने परिवार के बारे में बात करना चाहते हैं, इसका मतलब यह नहीं है कि आप केवल अपने परिवार के बारे में ही बात करते रहें। जबकि आपका एसओपी एक डींग शीट होना चाहिए, यह एक पदार्थ के साथ एक डींग शीट होना चाहिए। आपको चुनने और चुनने की आवश्यकता है कि क्या शामिल करना है। एक विषय चुनें और उन उपलब्धियों का उल्लेख करें जो आपकी उम्मीदवारी के लिए सबसे अधिक मायने रखती हैं।

SOP फॉर्मेट

SOP Format

एसओपी कई प्रकार के होते हैं। अंडरग्रेजुएट कोर्सेज के लिए, पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स के और भी अन्य कोर्स के लिए जैसे डिप्लोमा, सर्टिफिकेशन कोर्स आदि। आइए जानते हैं SOP किस फॉर्मेट या स्ट्रक्चर में होता है और क्या क्या लिखना चाहिए। SOP kya hota hai में जानते हैं इसके बारे में।

परिचय आपको सबसे पहले जनरल इंट्रोडक्शन देना होगा। याद रखे इस पैराग्राफ में आपको अपना निजी इंट्रोडक्शन नहीं लिखना है।
जिस क्षेत्र में प्रवेश लेना चाहते हैं, उसमें आपका क्या इंटरेस्ट है, आपको क्यों प्रवेश लेना है, आपकी क्या एस्पिरशंस है।
बैकग्राउंड आपको अपनी अकादमिक जानकारी, ट्रेनिंग एक्सपीरियंस, प्रोफेशनल अनुभव अगर आपके पास हो तो। और आपकी ग्रेजुएशन के समय किसी भी एक्स्ट्रा को-करीकुलर एक्टिविटी में शामिल होने का अनुभव आदि व्यक्त करना होगा। 
कोर्स के बारे में आपको स्पष्ट करना होगा की आप यह कोर्स क्यों करना चाहते है। यह कोर्स आपको किस रूप में सहायक होगा। 
करियर गोल्स आपको अपने करियर के बारे में विस्तृत रूप से जानकारी देनी होगी, आपके लॉन्ग टर्म प्लान्स क्या हैं। इस पैराग्राफ में आपको विदेश में रहने की इच्छा को व्यक्त नहीं करना है। 
इस यूनिवर्सिटी में क्यों पढ़ें? आपको बताना होगा जिस यूनिवर्सिटी में आप प्रवेश के लिए आवेदन कर रहे हैं की आप वहां से ही क्यों पढ़ना चाहते हैं और वह आपको किस तरह से आपकी मदद करेंगे। 
निष्कर्ष अंत में आपको एक निष्कर्ष देना होगा जो भी आपने अपने SOP में लिखा है।

SOP कैसे लिखते हैं?

अपना एसओपी तैयार करने के लिए अद्भुत तरीके से लिखना महत्वपूर्ण है। यदि आप चाहते हैं कि आपका एसओपी शानदार और ओरिजिनल लगे, तो आपको इसे बनाने के लिए कुछ रणनीतियों की जरूरत होगी।

  1. एक छोटा एसओपी लिखें लेकिन अपने शब्दों में व्याख्या करें कि आपने इस कोर्स और विश्वविद्यालय का चयन क्यों किया है। ठोस कारण बताएं कि आप इस क्षेत्र को क्यों आगे बढ़ाना चाहते हैं और अपनी क्रिएटिव स्टोरी से एडमिशन पैनल को प्रभावित करें। 
  2. आप जो कुछ भी लिखते हैं, आपको वास्तव में विवरण में देना होगा, न कि केवल लिखने के लिए। इंट्रोस्पेक्शन करें और कारणों का पता लगाएं। 
  3. आपके उद्देश्य के बयान को एक उपन्यास की तरह पढ़ा जाना चाहिए जिसका अर्थ थोड़ा फॉर्मल हो। 
  4. आपको कुछ क्राइटेरिया का पालन करना होगा जो विश्वविद्यालय के अधिकारियों को बताएंगे कि आपको पढ़ाई के लिए विदेश जाने के बारे में क्या जुनून है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि यह एक अप्रत्यक्ष तरीके से होना चाहिए। 
  5. हर विश्वविद्यालय दूसरों से काफी अलग होता है। उनके मूल्यों, दृष्टिकोण, आदर्श वाक्य, ताकत और कमजोरियों आदि के बारे में जानें। सब कुछ बिल्कुल कॉपी न करें और अपना विवरण विश्वविद्यालय के आधर पर बदलें।
  6. आपको उन सभी विश्वविद्यालयों के बारे में विस्तार से जानकारी होनी चाहिए, जिन पर आप आवेदन कर रहे हैं और प्रत्येक विश्वविद्यालय के बारे में अपनी पसंद की सभी चीजों को सूचीबद्ध करें। 

यूनिवर्सिटीज SOP में क्या देखते हैं?

यूनिवर्सिटीज आपके एसओपी में कुछ पॉइंट्स देखना चाहते हैं जो नीचे दिए गए हैं। SOP kya hota hai में जानते हैं इसके बारे में।

  1. आपकी राइटिंग क्षमताएं कितनी अच्छी हैं। 
  2. क्या चीज आपको सबसे अलग बनाती है। 
  3. आप कम्युनिटी में क्या बदलाव लाएंगे।
  4. विश्वविद्यालय या विभाग से कितने परिचित हैं। 
  5. एक शक्तिशाली स्टेटमेंट पर आपका निष्कर्ष होता है।

Check out: SOP for PhD

7 गलतियां जो SOP में नहीं होनी चाहिए

कई बार हम SOP लिखते वक़्त कुछ गलतियां कर देते हैं जो हमें नहीं करनी चाहिए। SOP kya hota hai में हम जानेंगे कुछ ऐसी गलतियां जो हमें SOP लिखते समय नहीं करनी चाहिए-

  • आपको अपना SOP कुछ सप्ताह पहले ही तैयार कर लेना चाहिए। अंतिम समय में SOP तैयार करना एक बहुत बड़ी गलती साबित हो सकती है। 
  • शब्द सीमा का पालन न करना। यूनिवर्सिटी द्वारा निर्धारित शब्दों में ही आपको अपना SOP पेश करना होगा। 
  • अपने बारे में आवश्यकता से ज्यादा लिखने से बचें। 
  • अपनी प्रसंशा के साथ – साथ विश्वविद्यालय की भी अधिक प्रशंसा करने से बचें और वास्तविकता को बनाए रखने का प्रयास करें। 
  • अपने SOP की असाधारण प्रेजेंटेशन न करें। SOP जितना सिंपल हो उतना ही अच्छा लगता है। 
  • असाधारण राइटिंग या अनौपचारिक शब्दों को लिखने से बचें। 
  • जब आप लिखना समाप्त कर लें, तो यह सुनिश्चित करने के लिए समय निकालें कि आपने SOP में कोई साधारण गलती नहीं की है।

कितना बड़ा होना चाहिए SOP?

यदि आप अंतरराष्ट्रीय मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी पर विचार करते हैं, तो SOP कम से कम 1-2 पेज लंबा होना चाहिए। शब्द काउंट के हिसाब से एसओपी लगभग 1,000 शब्दों का होना चाहिए। शब्द सीमा और लम्बाई कभी-कभी उस विश्वविद्यालय पर भी निर्भर हो सकती है जिसे कैंडिडेट टारगेट कर रहा है और डिग्री के स्तर पर भी। 

उदाहरण के लिए एक उम्मीदवार जो एक अंडरग्रेजुएट प्रोग्राम के लिए एक SOP लिख रहा है, वह 800 से 1,000 शब्दों से अधिक नहीं हो सकता है, जबकि एक उम्मीदवार जो PhD या M Phil डिग्री कोर्स के लिए SOP लिख रहा है, उसे इसे लगभग 1,200 शब्दों में लिखना होगा।

डिग्री लेवल शब्द काउंट पेज सीमा
बैचलर्स और मास्टर्स 800-1,000 1-2 पेज
डॉक्टरल (Ph.D)/रिसर्च 1,000-1,200 2-3 पेज 
Credits: ChetChat

बिज़नेस एनालिटिक्स के लिए SOP सैंपल

SOP Kya Hota Hai

ऑस्ट्रेलिआई छात्र वीज़ा के लिए सैंपल SOP

SOP kya hota hai

कनाडाई यूनिवर्सिटीज के लिए सैंपल SOP

यूके के लिए सैंपल एसओपी

Credits – Leverage Edu

MBA के लिए सैंपल SOP

डेटा साइंस में MS के लिए सैंपल SOP

FAQs

एक अच्छा एसओपी कैसे लिखें?

बैकग्राउंड 1. अपने लॉन्ग-टर्म गोल पर चर्चा करें और इसे उस कोर्स को आगे बढ़ाने के अपने विचार से जोड़ें जिसमें आप आवेदन कर रहे हैं।
2. चुने हुए क्षेत्र के बारे में अपनी समझ प्रेजेंट करें और लिखें कि आप उस क्षेत्र में कैसे योगदान देना चाहते हैं।
3. अपने बैकग्राउंड को 2-3 लाइनों में एक्सप्लेन करें और इसे अपने भविष्य के गोल्स से जोड़ें।

SOP kya hota hai?

Statement of purpose (SOP) आपके आवेदन का डिसिशन मेकर है। यह एडमिशन समिति को आपके जीवन, आपके करियर के करियर गोल्स, मान्यताओं, विषय का ज्ञान और आपके विज़न को अस्सेस्स करने में मदद करता है।

SOP में क्या-क्या शामिल किया जाना चाहिए?

एसओपी वह होता है जहां आप यह एडमिशन समिति को बताते हैं कि आप किसी विशेष graduate program में क्यों रुचि रखते हैं, जब आप वहां होते हैं तो आप किस तरह का काम करने की योजना बनाते हैं, और आपको विशेष रूप से वह काम क्यों करना चाहिए।

SOP कितना बड़ा होता है?

याद रखें कि एसओपी 500 और 1,000 शब्दों के बीच होना चाहिए। यदि आपने इससे कहीं अधिक लिखा है, तो अपने कथन को दोबारा पढ़ें और स्पष्टता और संक्षिप्तता के लिए संपादित करें।

एसओपी और स्टैंडर्ड ऑपेरेटिंग सिस्टम में क्या अंतर है?

SOP: एसओपी एक रिटन स्टेटमेंट होता है जो आपके व्यक्तित्व को रिफ्लेक्ट करता है। जो अंतरराष्ट्रीय यूनिवर्सिटीज के सामने आपको लिखित रूप में रिप्रेजेंट करता है और आपके द्वारा चुने गए कोर्स में एप्लीकेशन का पर्पस
दर्शाता है।
स्टैंडर्ड ऑपेरेटिंग सिस्टम: स्टैंडर्ड ऑपेरेटिंग सिस्टम एक आर्गेनाइजेशन द्वारा कमप्लीड स्टेप-बाय-स्टेप इंस्ट्रक्शंस का एक सेट होता है जो कर्मचारियों को रूटीन ऑपरेशन्स करने में मदद करता है।

हमें उम्मीद है आपको SOP kya hota hai अच्छे से समझ आ गया होगा। यदि आप विदेश में पढ़ाई करने के लिए एक आकर्षक SOP और LOR तैयार करना चाहते हैं तो आज ही Leverage Edu एक्सपर्ट से 1800 572 000 पर कॉल करके 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें।

प्रातिक्रिया दे

Required fields are marked *

*

*

3 comments
15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today. Study Abroad
Talk to an expert