BA LLB के बाद कौन से कोर्स किए जा सकते हैं?

2 minute read
745 views
BA LLB ke baad courses

Consortium of National Law Universities की एक ताज़ा प्रेस कांफ्रेंस के अनुसार भारत में हर वर्ष 62,000 से ज्यादा कैंडिडेट्स Common Law Admission Test (CLAT) परीक्षा देते हैं। BA LLB के बाद छात्रों के पास कई कोर्सेज के विकल्प होते हैं, जिनमें LLM, MBA जैसे लोकप्रिय कोर्सेज शामिल हैं। इस ब्लॉग में BA LLB ke baad courses के बारे में बताया गया है।

ज़रूर पढ़ें: Corporate Lawyer Kaise Bane?

BA LLB क्या है?

यह एक बैचलर डिग्री कोर्स है जिसका पूरा नाम Bachelor of Arts और Bachelor of Laws है जो कि पूरे 5 साल का होता है। BA LLB में आर्ट्स और लॉ संबंधी दो विषयों के बारे में विस्तृत अध्ययन कराया जाता है। BA LLB कोर्स में आपको 3 साल तक BA से संबंधित विषय पढ़ाया जाता है और 2 साल में LLB से संबंधित विषय का अध्ययन करना होता है।

BA LLB के बाद शॉर्ट टर्म कोर्सेज

BA LLB ke baad courses जो छात्र चुन सकते हैं उनमें शॉर्ट टर्म कोर्सेज भी हैं, नीचे इनके नाम दिए गए हैं-

  • Certificate Course in Cyber Laws
  • Certificate Course in InfoTech Law
  • Diploma in Administrative Laws
  • Diploma in Alternative Dispute Resolution System
  • Diploma in Co-operative Law
  • Diploma in Corporate Laws and Management
  • Diploma in Environmental Laws
  • Diploma in Human Rights
  • Diploma in Intellectual Property Rights
  • Diploma in International Laws
  • Diploma in Labor Law and Personnel Management
  • Diploma in Labor Laws (D.L.L)
  • Diploma in Labor Laws and Industrial Relations
  • Diploma in Labor Laws and Labor Welfare
  • Diploma in Taxation Laws

BA LLB के बाद कोर्सेज की लिस्ट

BA LLB के बाद अपनी पढ़ाई आगे जारी रखने के लिए नीचे कुछ कोर्सेज की लिस्ट दी गई है जिनमें छात्र एडमिशन ले सकते हैं। BA LLB ke baad courses की लिस्ट इस प्रकार हैं:

Company Secretary (CS)

कंपनी सचिव (CS) को कंपनी चलाने के लिए कानूनी मामलों की भी अच्छी समझ होनी चाहिए। इसलिए BA LLB करने के बाद छात्रों के पास कंपनी सचिव बनने का बेहतरीन विकल्प होता है। उम्मीदवारों को CS में एक सर्टिफिकेट कोर्स करना होता है जिसकी पढ़ाई केवल इंस्टिट्यूट ऑफ़ कंपनी सेक्रेटरीज ऑफ़ इंडिया (ICSI) करवाता है। CS 3 साल का कोर्स होता है।

CS कैसे करें?

कंपनी सचिव company के कंपनी मैनेजमेंट को देखते हैं। CS का मुख्य रोल यह होता है कि आर्गेनाइजेशन कंपनी लॉ का पालन करते हुए तरक्की करे। भारत में कम्पनीज़ एक्ट के अनुसार न्यूनतम 5 करोड़ की लागत वाली कंपनी को कंपनी सचिव रखना जरूरी है। कंपनी सचिव का कोर्स तीन साल का होता है। 12वीं के बाद CS के फाउंडेशन प्रोग्राम में रजिस्ट्रेशन करना होगा। यह परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद आप इसके अगले चरण एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम के लिए योग्य हो जाएंगे, ग्रेजुएशन के बाद सीधे एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम के लिए भी आवेदन कर सकते हैं। सबसे अंत में आपको प्रोफेशनल प्रोग्राम इसके तीसरे चरण को उत्तीर्ण करना होगा।

LLM

BA LLB करने के बाद छात्रों के पास उच्च शिक्षा लेने के लिए LLM करने का बेहतर विकल्प होता है, जिसे लॉ के छात्र आमतौर पर चुनते हैं। LLM 2 साल का कोर्स होता है जिसमें छात्र लॉ में स्पेशलाइजेशन कर सकते हैं। शिक्षा क्षेत्र में करियर बनाने के लिए छात्रों को लॉ मे पोस्ट ग्रेजुएशन करना होता है। जिसके बाद, उम्मीदवार उसी के लिए UGC-NET या किसी भी राज्य में CET परीक्षा में शामिल हो सकते हैं।

LLM करने के लिए टॉप यूनिवर्सिटीज

राष्ट्रीय विधि संस्थान विश्वविद्यालय अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, अलीगढ़
गुजरात नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, कोच्चि
दिल्ली विश्वविद्यालय बनारस हिंदू विश्वविद्यालय
डॉ. राम मनोहर लोहिया राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, लखनऊ जामिया मिलिया इस्लामिया, नई दिल्ली
राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, जोधपुर चंडीगढ़ विश्वविद्यालय
बैंगलोर विश्वविद्यालय इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय, दिल्ली
NALSAR यूनिवर्सिटी ऑफ़ लॉ राष्ट्रीय विधि संस्थान विश्वविद्यालय, भोपाल

MA पोलिटिकल साइंस

BA LLB की डिग्री हासिल करने के बाद,छात्र पोलिटिकल साइंस में MA कर सकते हैं जो 2 साल का पोस्ट-ग्रेजुएट प्रोग्राम है। यह कोर्स छात्रों को राजनीतिक विश्लेषण, नीति-निर्माण और चुनाव विश्लेषण में करियर के लिए तैयार करता है। पॉलिटिक्स में करियर बनाने की इच्छा रखने वाले छात्रों के लिए यह एक बेहतरीन कोर्स है।

MA पोलिटिकल साइंस के लिए यूनिवर्सिटीज

यूनिवर्सिटीज शहर
जामिया मिलिया इस्लामिया नई दिल्ली
लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी फगवाड़ा, पंजाब
सावित्रीबाई फुले पुणे विश्वविद्यालय पुणे, महाराष्ट्र
जादवपुर विश्वविद्यालय, कोलकाता कोलकाता, पश्चिम बंगाल
बनारस हिंदू विश्वविद्यालय वाराणसी, उत्तर प्रदेश
हैदराबाद विश्वविद्यालय, हैदराबाद हैदराबाद, तेलंगाना
अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, अलीगढ़ अलीगढ़, उत्तर प्रदेश

MBA

MBA बिज़नेस लॉ एडमिनिस्ट्रेशन में मास्टर डिग्री है जो 2 साल की होती है। MBA लॉ प्रोग्राम में कॉर्पोरेट फाइनेंस, ओर्गनइजेशनल बिहेवियर, स्ट्रेटेजिक मैनेजमेंट, टैक्सेशन और कोंस्टीटूशनल लॉ जैसे विषय को पढ़ा जाता है। कॉर्पोरेट क्षेत्र में उन लोगों की मांग ज्यादा होती है जिन्होंने लॉ की डिग्री के साथ MBA की डिग्री की होती है। 

MBA के लिए यूनिवर्सिटीज

यूनिवर्सिटीज शहर
IIM बैंगलोर बैंगलोर
IIM कोलकाता कोलकाता
IIT खड़गपुर खड़गपुर
SIBM पुणे पुणे
VIT वेल्लोर वेल्लोर
भारतीय प्रबंधन संस्थान उदयपुर उदयपुर

लॉ में PhD

लॉ में बैचलर्स और मास्टर्स डिग्री करने के बाद छात्र लॉ में PhD भी कर सकते हैं। PhD लॉ के विषयों पर की जाने वाली रिसर्च है, यह 3 साल का कोर्स होता है। इसमें केस स्टडी की जाती है। रिसर्च के लिए अंतरराष्ट्रीय कानून, तुलनात्मक कानून, मानवाधिकार कानून, समुद्री कानून, अंतरराष्ट्रीय पर्यावरण कानून जैसे क्षेत्र उपलब्ध हैं, जिनमें छात्र PhD कर सकते हैं।  

PhD के लिए यूनिवर्सिटीज

  • नेशनल लॉ स्कूल ऑफ इंडिया यूनिवर्सिटी
  • नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी
  • NALSAR यूनिवर्सिटी ऑफ़ लॉ
  • जामिया मिलिया इस्लामिया
  • राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, जोधपुर
  • राष्ट्रीय विधि संस्थान विश्वविद्यालय, भोपाल
  • जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय
  • अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय

सिविल सर्विसेज

सिविल सर्विसेज समाज को परिवर्तन के एक प्रभावी एजेंट के रूप में सेवा करने का अवसर प्रदान करती हैं। पॉलिसी एग्जीक्यूशन की जिम्मेदारी के साथ, सिविल सेवक को मौजूदा कमियों को दूर करने और उन्हें आबादी के कल्याण और बेहतरी को बढ़ावा देने वाली प्रभावी नीतियों के साथ बदलने का मौका दिया जाता है। इसलिए BA LLB के बाद छात्र UPSC की परीक्षा दे सकते हैं। BA LLB में ज्यादातर संविधान और इतिहास जैसे विषय शामिल होते हैं जो UPSC के लिए आपके मुख्य विषय कवर करेंगे।

Also Read: जानिए एल.एल.बी (LLB) क्या है

सिविल सर्विसेज कैसे करें?

सिविल सर्विसेज करने के लिए आपके पास किसी भी मान्यता प्राप्त कॉलेज या यूनिवर्सिटी से बैचलर्स डिग्री होनी जरुरी है। इसके बाद सिविल सर्विसेज के लिए आवेदन कर सकते हैं। सिविल सर्विसेज की परीक्षा तीन चरणों में पूरा होती है-

  • प्रीलिम्स-यह परीक्षा मुख्य रुप से स्क्रीनिंग के उद्देश्य से और मेन्स परीक्षा की योग्यता में होती है। इस परीक्षा में दो पेपर होते हैं – सामान्य अध्ययन- I और सामान्य अध्ययन- II। यह 200 अंकों का पेपर होता है। 
  • मेन्स-मेन्स का पेपर 1,750 अंकों का होता है। इसमें कुल 9 पेपर होते हैं। जिनमें से हिंदी और अंग्रेजी क्वालीफाइंग पेपर है। 
  • इंटरव्यू-कैंडिडेट्स जब प्रीलिम्स और मेन्स परीक्षा उत्तीर्ण कर लेते हैं, उन्हें अंतिम चरण यानि इंटरव्यू के लिए शामिल किया जाता है। यह परीक्षा मुख्य रूप से सेवाओं के लिए उम्मीदवार की व्यक्तिगत उपयुक्तता निर्धारित करने के लिए आयोजित की जाती है।

आप AI Course Finder की सहायता से विदेश में पढ़ाई करने के लिए विभिन्न कोर्स और यूनिवर्सिटी का चयन कर सकते हैं।

विदेश में BA LLB के लिए टॉप यूनिवर्सिटीज

BA LLB ke baad courses जानने के साथ-साथ यह जानना भी आवश्यक है कि विदेश में BA LLB के लिए टॉप यूनिवर्सिटीज कौन सी हैं, जो इस प्रकार हैं:

  1. टोरोन्टो विश्वविद्यालय
  2. अल्बर्टा विश्वविद्यालय
  3. ग्रीनविच विश्वविद्यालय
  4. न्यूफ़ाउंडलैंड के मेमोरियल विश्वविद्यालय
  5. वाटरलू विश्वविद्यालय
  6. नॉर्थईस्टर्न विश्वविद्यालय
  7. एरिजोना राज्य विश्वविद्यालय
  8. यॉर्क विश्वविद्यालय
  9. ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय
  10. पूर्वी लंदन विश्वविद्यालय

आप UniConnect के जरिए विश्व के पहले और सबसे बड़े ऑनलाइन विश्वविद्यालय मेले का हिस्सा बनने का मौका पा सकते हैं, जहाँ आप अपनी पसंद के विश्वविद्यालय के प्रतिनिधि से सीधा संपर्क कर सक सकते हैं।

BA LLB के बाद करियर स्कोप

BA LLB के बाद करियर की कई बेहतर संभावनाएं है। BA LLB की डिग्री करने के बाद आप सरकारी और प्राइवेट दोनों सेक्टर्स में जॉब कर सकते हैं। नीचे कुछ जॉब रोल्स इस प्रकार हैं:

  • वकालत: BA LLB करने  के बाद छात्रों के पास सबसे पहला विकल्प होता है लॉ की प्रैक्टिस करना। वकालत के प्रोफेशन के रुप में काम करने के लिए आपको भारत में किसी भी बार काउंसिल में रजिस्ट्रेशन करना होता है। इसके बाद आप अखिल भारतीय बार परीक्षा (AIBE) में शामिल हो सकते हैं। इसके बाद आप भारत में कहीं भी वकालत की प्रैक्टिस कर सकते है।
  • कॉर्पोरेट नौकरी: BA LLB करने के बाद कॉर्पोरेट जॉब के लिए दरवाजे खुल जाते हैं। एक कॉर्पोरेट लॉयर को कंपनी लॉज़ और बिज़नेस लॉज़ का पूरा ज्ञान होता है। एक कॉर्पोरेट लॉयर कंपनी को क़ानूनी तरीके से आसमान की बुलंदियों तक पहुँचाने में मदद करता है। कॉर्पोरेट जॉब में आप वित्तीय संस्थान, वित्तीय प्रबंधन विभाग, वित्त विभाग, मानव संसाधन विभाग (एससीएम), पर्यटन उद्यम, निवेश पोर्टल, ई-संस्थान में जॉब कर सकते हैं। 
  • जज: न्यायधीश (जज) होना भारत की सबसे ज्यादा सम्मानित नौकरियों में से एक है। इसके लिए उम्मीदवारों को न्यायपालिका परीक्षा में शामिल होना होता है। परीक्षा पास करने के साथ ही हाई कोर्ट में बतौर लॉयर 7 से 10 साल के अनुभव के बाद आप जज की पोस्ट के लिए आवेदन कर सकते हैं। ध्यान रहे, उम्मीदवार की उम्र 45 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए। अलग-अलग न्यायपालिका परीक्षाओं में आप तभी शामिल हो सकेंगे जब आप उस राज्य के मूल निवासी हों या वो परीक्षा राष्ट्रीय लेवल पर आयोजित की जाए।
  • कानूनी सलाहकार: लीगल एडवाइजर का काम होता है कि वह अपनी कम्पनी में कानूनों से जुड़े कार्यों का काम करे। एक कानूनी सलाहकार का काम एक बड़े कॉर्पोरेशन या एक आर्गेनाइजेशन के साथ ही एक क्लाइंट को लीगल एडवाइस देना है। एक कानूनी सलाहकार बनने के लिए, उम्मीदवार को बार काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा जारी ‘अभ्यास का सर्टिफिकेट’ के साथ एक योग्य वकील होना चाहिए। और उस क्षेत्र विषय में कुछ अनुभव भी जरुरी होता है, जिसमें वह कानूनी सलाह देता है।

FAQs

क्या BA के बाद LLM कर सकते हैं?

जी नहीं, BA के बाद आपको LLB करनी होगी, उसके बाद ही आप LLM के लिए क्वालीफाई हो सकते हैं।

लॉ में PhD करने के लिए भी एंट्रेंस एग्जाम देना होगा क्या?

जी हाँ, चाहे आप किसी भी विषय में PhD करे आपको एंट्रेंस एग्जाम देना ही होगा।

BA LLB करने के बाद MBA करना सही है?

MBA देश में सबसे अधिक मांग वाले पोस्ट ग्रेजुएट प्रोग्राम्स में से एक है और छात्र bachelor’s in law की पढ़ाई पूरी करने के बाद भारत के टॉप MBA कॉलेजों में एडमिशन ले सकते हैं।

Ba एलएलबी की फीस कितनी है?

भारत में बीए एलएलबी की फीस 5 साल की INR 3.85 लाख है।

Also Read: ये है भारत के बेस्ट लॉ कॉलेज

आशा करते हैं कि आपको BA LLB ke baad courses से जुड़े सभी प्रश्नों के जवाब मिल गए होंगे। यदि आप विदेश में लॉ की पढ़ाई करना चाहते हैं तो आज ही Leverage Edu एक्सपर्ट्स से 1800 572 000 पर कॉल करके 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert