कॉर्पोरेट लॉयर कैसे बनें?

2 minute read
420 views
Leverage-Edu-Default-Blog

लीगल सेक्टर में इंटरेस्ट रखने वाले छात्र बड़ी संख्या में कॉर्पोरेट लॉ में अपना करियर बना रहे हैं। नौकरी और कमाई के अच्छे मौके होने की वजह से हजारों छात्र इस फील्ड में अपना करियर बनाते हैं। यह ब्लॉग Corporate Lawyer Kaise Bane के बारे में आपको पूरी जानकारी देगा। इस ब्लॉग को पढ़ने के बाद आपके Corporate Lawyer Kaise Bane से जुड़े सभी Doubt दूर हो जायेंगे।

यह भी पढ़ें : वकील कैसे बनें?

किसे कहते हैं कॉर्पोरेट लॉयर? 

कॉर्पोरेट शब्द को साधारण भाषा में समझा जाए तो इसका अर्थ होता है बिज़नेस, इसे इसलिए बिज़नेस लॉयर भी कहते हैं। एक कॉर्पोरेट लॉयर को कंपनी लॉ और बिज़नेस की पूरी जानकारी होनी चाहिए। एक कॉर्पोरेट लॉयर कंपनी को क़ानूनी तरीके से आसमान की बुलंदियों तक पहुँचाने में मदद करता है। Corporate Lawyer Kaise Bane ये हम इस ब्लॉग में आपको आगे बताएंगे।  

Check out: अपना करियर कैसे चुने? (How to Choose a Career Path?)

कॉर्पोरेट लॉयर कैसे बनें? ( चरण दर चरण प्रक्रिया )

कॉर्पोरेट लॉयर की संविधान और कानूनों की जानकारी पर मजबूत पकड़ होनी चाहिए। कॉरपोरेट लॉयर बनने के लिए विद्यार्थी बारहवीं के बाद बीए एलएलबी कोर्स में दाखिला ले सकते है। इस कोर्स की अवधि पांच वर्ष की होती है, लेकिन अगर आप ग्रेजुएशन करने के बाद एलएलबी कोर्स में दाखिला लेते है , तो फिर इस कोर्स की अवधि तीन वर्ष की हो जाती है। एलएलबी पूरी करने के बाद आप इस क्षेत्र में मास्टर्स कोर्स भी कर सकते है। Corporate Lawyer Kaise Bane इसके लिए चरण दर चरण प्रक्रिया नीचे दी गई है।

  • स्टेप 1: हाई स्कूल

12वीं क्लास में न्यूनतम 50% अंक होना अनिवार्य है। इसके बाद ही आप LLB का कोर्स कर सकते है। इसके साथ अगर आपने 12वीं में कॉमर्स सब्जेक्ट लिया हुआ है तो इससे आपको कॉर्पोरेट लॉ को समझना आसान हो जायेगा।

  • स्टेप 2: एंट्रेंस एग्ज़ाम क्लियर करें? (अनिवार्य)

भारत में किसी भी बेहतरीन लॉ कॉलेज में एडमिशन लेने के लिए एंट्रेंस एग्ज़ाम देना होता है। CLAT और AILET  यह दोनों एंट्रेंस एग्ज़ाम लॉ कॉलेज में एडमिशन लेने के लिए देने जरुरी है। 

  • स्टेप 3: LLB (Bachelor of Legislative Law) (अनिवार्य) 

Corporate Lawyer Kaise Bane में इसके लिए आपको अनिवार्य रूप से 5 साल की इंटीग्रेटेड LLB करनी होगी।  लेकिन आपने  B.Com LLB और BBA LLB किया है, तो आप कॉर्पोरेट फील्ड में बेहतर भविष्य पा सकेंगे। 

  • स्टेप 4: PGDCL (Post Graduate Diploma in Corporate Law)

यह स्टेप उन उम्मीदवारों के लिए है, जिन्होंने इन में से किसी एक में B.Com +LLB or BBA +LLB अपनी बैचलर डिग्री पूरी की है।

यह भी पढ़ें: जानिए एल.एल.बी (LLB) क्या है

कॉर्पोरेट लॉयर की जिम्मेदारियां

Corporate Lawyer Kaise Bane इस सवाल के बाद अहम सवाल आता है, कॉर्पोरेट लॉयर का काम क्या होता है, उसकी क्या जिम्मेदारियाँ है। कॉर्पोरेट लॉयर की कुछ महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां नीचे दी गई है:

  • कॉर्पोरेट लॉयर कंपनी को कानूनी तरीके से आगे बढ़ने  या बिजनेस चलाने में सलाह देते हैं।
  • कंपनी से संबंधित ज़रुरी डॉक्यूमेंट तैयार करते हैं।
  • कॉर्पोरेट लॉयर लेजिस्लेटिव मामलों की देख रेख करते हैं।
  • बिज़नेस रिस्क को कम करने और रोकने के लिए सभी एग्रीमेंट को ध्यान से समझना और उनकी जाँच करना।
  • एक कॉर्पोरेट लॉयर इन सभी एग्रीमेंट के साथ डील करता है: सर्विस एग्रीमेंट, नॉन डिस्क्लोजर एग्रीमेंट, लीज एंड लाइसेंस एग्रीमेंट, कंसल्टेंसी एग्रीमेंट, सप्लाई एंड परचेस एग्रीमेंट, डिस्ट्रीब्यूशन एग्रीमेंट, मेंटेनेंस एग्रीमेंट, सोर्सिंग एग्रीमेंट, इन्डेम्निटी बॉन्ड, पावर ऑफ़ अटॉर्नी, मेमोरेंडम ऑफ़ अंडरस्टैंडिंग (MOU) आदि।
  • भारत में और विदेशों में स्थित क्लाइंट के प्रस्तावित टर्म्स एंड कंडीशन को रिव्यु करना। 
  • गवर्नमेंट लॉ और रेगुलेशन का पालन करके कंपनी की नीतियों के अनुसार टैक्स एक्सेम्पशन, परमिट, ट्रेडमार्क, रजिस्ट्रेशन, कॉपीराइट इत्यादि जैसे कानूनी दस्तावेज तैयार करना।

यह भी पढ़ें: ये है भारत के बेस्ट लॉ कॉलेज

कॉर्पोरेट लॉयर बनने के लिए स्किल

कॉर्पोरेट लॉयर बनने के लिए आपके पास कुछ ज़रूरी स्किल होनी आवश्यक है, जिनके बारे में नीचे बताया गया है।

  • कानून की समझ होनी चाहिए।
  • एनालिटिकल स्किल होनी आवश्यक है।
  • दबाव में काम करने में सक्षम होने चाहिए।
  • अपनी बात मजबूती से रखनी आनी चाहिए।
  • अच्छी कम्युनिकेशन स्किल होनी चाहिए।

कॉर्पोरेट लॉयर बनने के लिए विषय

आपको कॉर्पोरेट लॉयर बनने के लिए ज़रूरी विषयों के बारे में जान लेना चाहिए। कॉर्पोरेट लॉ के कुछ विषय नीचे दिए गए हैं:

  • बिज़नेस आर्गेनाइजेशन एंड मैनेजमेंट
  • मैनेजरियल इकोनॉमिक्स एंड एकाउंटिंग
  • इनकम टैक्स: थ्योरी, प्रैक्टिस एंड मैनेजमेंट
  • बिज़नेस एंड टैक्सेशन लॉ
  • कॉर्पोरेट एकाउंटिंग
  • कॉर्पोरेट गवर्नेंस
  • फाइनेंसियल मैनेजमेंट
  • फाइनेंसियल इंस्टीट्यूशन एंड मार्केट
  • इंश्योरेंस लॉ
  • इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट
  • लॉ ऑफ़ टैक्सेशन
  • लेबर लॉ

यह भी पढ़ें: लॉ करने की सोच रहे हैं तो जान ले LLB का पूरा सिलेबस

दुनिया की टॉप यूनिवर्सिटीज़

कॉर्पोरेट लॉयर बनने के लिए दुनिया की टॉप यूनिवर्सिटीज़ की लिस्ट कोर्सेज के साथ नीचे दी गई है:

यूनिवर्सिटी देश QS वर्ल्ड रैंकिंग 2022 कोर्सेज
यूनिवर्सिटी ऑफ़ एडिनबर्घ यूके #17 LLM-Commercial Law
यूनिवर्सिटी ऑफ़ मेलबोर्न ऑस्ट्रेलिया #12 Master of Banking & Finance LawMaster of Commercial Law
यूनिवर्सिटी ऑफ़ मेनचेस्टर यूके #58 LLM International Business &Commercial Law
द यूनिवर्सिटी ऑफ़ सिडनी ऑस्ट्रेलिया #16 Bachelor of Commerce &Bachelor of Laws – Business Law
द यूनिवर्सिटी ऑफ़ क्वींसलैंड ऑस्ट्रेलिया #55 PhD – Business and Commercial LawMPhil-Business and Commercial LawMaster of International Commercial Law
यूनिवर्सिटी ऑफ़ ब्रिस्टल यूके #66 LLM Law -Banking & Finance Law
यूनिवर्सिटी ऑफ़ ग्लासगो यूके #66 LLM Intellectual Property & DigitalEconomy
यूनिवर्सिटी ऑफ़ शेफ़ील्ड यूके #151-200 LLM Corporate & Commercial Law
ब्रुनेल यूनिवर्सिटी यूके Master of Law in InternationalCommercial Law

कॉर्पोरेट लॉयर बनने के लिए भारत के टॉप कॉलेज

कॉर्पोरेट लॉयर बनने के लिए भारत के टॉप कॉलेजेस की सूची नीचे दी गई है:

  • नेशनल लॉ स्कूल ऑफ इंडिया यूनिवर्सिटी, बैंगलोर
  • नालसर यूनिवर्सिटी ऑफ़ लॉ हैदराबाद
  • नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी नई दिल्ली, जोधपुर, भोपाल, गुजरात
  • नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी गांधीनगर
  • पश्चिम बंगाल राष्ट्रीय न्यायिक विज्ञान विश्वविद्यालय, कोलकाता
  • बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, वाराणसी
  • अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, अलीगढ़
  • गुरु गोबिंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
  • सिम्बायोसिस सोसाइटीज लॉ कॉलेज पुणे

कॉर्पोरेट लॉयर बनने के लिए योग्यता

लॉ के पांच वर्षीय कोर्स के लिए आपको 12 वीं पास होना अनिवार्य है। 12 वीं के बाद CLAT परीक्षा होती है इसको पास करने के बाद ही आपको प्रवेश मिलता है। इस परीक्षा के लिए 12 वीं में 50 फीसदी अंकों के साथ पास होना अनिवार्य होता है।

  • 5 साल की बैचलर डिग्री के लिए छात्रों के पास बारहवीं कक्षा में किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड में (किसी भी स्ट्रीम) में कम से कम 45% अंक प्राप्त होने चाहिए।
  • अगर छात्र एलएलबी की तीन साल का पढाई करना चाहते हैं तो उनके पास ग्रेजुएट की डिग्री होनी जरुरी है।
  • आपको स्पेशलाइजेशन में कॉर्पोरटे लॉ को चुनना होगा।
  • विदेश में पढ़ने के लिए इंग्लिश लैंग्वेज टेस्ट जैसे IELTS/TOEFL/PTE के अंक।
  • लॉ प्रोग्राम में एडमिशन लेने के लिए CLAT, लॉ नेशनल एप्टीट्यूड टेस्ट (LNAT) जैसे एग्जाम पास करने की जरुरत होती है।
  • विदेशी यूनिवर्सिटी में पढ़ने के लिए SOPLORसीवी/रिज्यूमे और पोर्टफोलियो भी जमा करने की जरूरत होती है।

आवेदन प्रक्रिया 

विदेश के विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए आवेदन प्रक्रिया इस प्रकार है–

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप AI Course Finderकी सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • एक्सपर्ट्स से कॉन्टैक्ट के पश्चात वे कॉमन डैशबोर्ड प्लेटफॉर्म के माध्यम से कई विश्वविद्यालयों की आपकी आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेजों जैसेSOP, निबंध (essay), सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टेस्ट स्कोर जैसेIELTSTOEFLSATACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTSTOEFLPTEGMATGRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप Leverage Liveकक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीजाऔर छात्रवृत्ति / छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लेटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। 

भारत के विश्वविद्यालयों में आवेदन प्रक्रिया, इस प्रकार है–

  1. सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  2. यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  3. फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  4. अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  5. इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  6. यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

आवश्यक दस्तावेज 

कुछ जरूरी दस्तावेजों की लिस्ट नीचे दी गई हैं–

प्रवेश परीक्षा

कॉर्पोरेट लॉयर बनने के लिए आवश्यक प्रवेश परीक्षाएं नीचे दी गई है:

  • NLSIU – Bangalore
  • Nalasar – Hyderabad
  • WBNUJs – Kolkata
  • NLU – Jodhpur
  • HNLU – Raipur
  • GNLU – Gandhinagar
  • RMLNLU – Lucknow
  • RGnUl – Patiala
  • CNLU – Patna
  • NLUO – Cuttack
  • NLUJAA – Guwahati
  • DSNLU – Visakhapatnam
  • TN.NLS-Tiruchirappalli
  • MNLU – Mumbai

भारत में कॉर्पोरेट लॉयर का भविष्य

एक कॉर्पोरेट लॉयर का काम होता है कंपनी को क़ानूनी राय देना। ऐसे में हर कंपनी को ऐसे व्यक्ति की आवश्यकता होती है, जो कॉर्पोरेट और बिज़नेस लेनदेन पर एक विशेषज्ञ है, और व्यवसाय को बढ़ाने के लिए कानूनी सलाह दे सकता हो। विदेशी कम्पनियाँ जो अपना कार्यालय भारत में खोलती है उन्हें कॉर्पोरेट लॉयर की आवश्यकता होती है, तो यह भी एक बेहतर अवसर है। कॉर्पोरेट लॉयर की बड़ी मांग है, इसलिए अगर आप को भी कॉर्पोरेट लॉयर बनना है तो अवश्य आपको बनना चाहिए, इसकी डिमांड हमेशा रहेगी।

भारत में कॉर्पोरेट लॉ का करियर एंड सैलरी

एक कॉर्पोरेट लॉयर का काम होता है कम्पनी को क़ानूनी राय देना। ऐसे में हर कम्पनी को ऐसे व्यक्ति की आवश्यकता होती है जो कॉर्पोरेट एंड बिज़नेस लेनदेन पर एक विशेषज्ञ है, और व्यवसाय को बढ़ाने के लिए कानूनी सलाह दे सकता हो। विदेशी कम्पनियाँ जो अपना कार्यालय भारत में खोलती है उन्हें कॉर्पोरेट लॉयर की आवश्यकता होती है, तो यह भी एक बेहतर अवसर है। आप कॉर्पोरेट लॉयर बन कर लगभग INR 6.9 लाख तक कमा सकते हैं। यदि आप इस फील्ड में नए है तो भी आप INR 1.47 लाख साल के कमा सकते है। कॉर्पोरेट लॉयर की बड़ी मांग है, इसलिए अगर आप को भी कॉर्पोरेट लॉयर बनना है तो अवश्य आपको बनना चाहिए, इसकी डिमांड हमेशा रहेगी।

यह भी पढ़ें: CLAT की परीक्षा

टॉप रिक्रूटर्स

निम्नलिखित आपको कॉर्पोरेट लॉयर के लिए ज़रूरी टॉप रिक्रूटर्स के नाम दिए जा रहे हैं। नीचे कुछ टॉप कम्पनीज के नाम दिए गए हैं, जहाँ आप जॉइन कर सकते हैं:

  • Anand and Anand
  • Khaitan and Company 
  • Shardul Amarchand Mangaldas and Company 
  • Sagar Associates
  • Trilegal India
  • Vaish Associates
  • Desai and Dewanji 
  • Lakshmikumaran and Sridharan 
  • S&R Associates

FAQ

प्रश्न 1: कॉरपोरेट लॉ कोर्स गवर्नमेंट कॉलेज से करना बेहतर होगा या प्राइवेट?

उत्तर: गवर्नमेंट और प्राइवेट दोनो ही कॉलेज कॉर्पोरेट लॉ कोर्स के लिए मान्य है और दोनों ही बेहतर हैं। लेकिन प्राइवेट कॉलेज में भी आप रेपुटेटेड कॉलेज में एडमिशन ले। ये आपके कैरियर के लिए अच्छा रहेगा। जंहा पर अच्छी टीचिंग फैकिलटी होनी चाहिए और कैम्पस प्लेसमेंट भी उस कॉलेज का अच्छा होना चाहिए।

प्रश्न 2: मैंने 12वीं कामर्स स्ट्रीम से की है क्या मैं कॉरपोरेट लॉ में कैरियर बना सकता हूं?

उत्तर: जी हां बिल्कुल कॉर्पोरेट लॉ किसी भी स्ट्रीम चाहे कॉमर्स हो या साइंस या आर्ट्स से कर सकते हैं।

वकील बनने के लिए कितनी उम्र होनी चाहिए?

BCI के नियमों के मुताबिक पांच वर्षीय पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए अधिकतम आयु 20 वर्ष और तीन वर्षीय एलएलबी पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए अधिकतम आयु सीमा 30 वर्ष निर्धारित की गई है।

हमें उम्मीद है कि इस ब्लॉग से आपको Corporate Lawyer Kaise Bane के बारे में सभी जानकारी मिल गई होगी। यदि आप भी विदेश में कॉर्पोरेट लॉ की पढ़ाई करना चाहते हैं, तो आज ही 1800 572 000 पर कॉल करके हमारे Leverage Edu के विशेषज्ञों के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें। वे आपको उचित मार्गदर्शन के साथ ऊपर दी गई सभी सुविधाएं प्रदान करने में मदद करेंगे।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today. Law
Talk to an expert