ये है भारत के बेस्ट लॉ कॉलेज

1 minute read
769 views
10 shares
Best Law Colleges in India

“Injustice anywhere is a threat to justice everywhere” महान क्रांतिकारी मार्टिन लूथर किंग, जूनियर की यह लाइन आज के समय के लिए भी सटीक है। नेशनल इंस्टीटूशनल रैंकिंग फ्रेमवर्क (NIRF) के मुताबिक भारत में 1,100 से ज्यादा लॉ कॉलेज हैं। भारत के बेस्ट लॉ कॉलेज से हर साल हज़ारों की संख्या में छात्र पास आउट करके वकालत (law) की प्रैक्टिस करते हैं। आइए जानते हैं best law colleges in India के बारे में विस्तार से।

एलएलबी क्या है?

एलएलबी की फुल फॉर्म बैचलर ऑफ़ लॉस (Bachelor of Laws) होती है। एलएलबी एक अंडरग्रेजुएट डिग्री है जिसे कानून नियमों और विनियमों का एक समूह है जिसके अंदर कोई भी समाज या देश चलता है यानि कि संचालित होता है। बैचलर ऑफ लॉ एक अंडरग्रेजुएट डिग्री है जिसे कानून में पाठ्यक्रम या कार्यक्रम के लिए सम्मानित किया जाता है।

भारत के बेस्ट लॉ कॉलेज की लिस्ट

इस फील्ड में अपना करियर बनाने के इंटरेस्टेड छात्र के लिए भारत में अनेकों अकादमिक यूनिवर्सिटीज हैं जो विभिन्न प्रकार की लॉ डिग्री ऑफर करती हैं। NIRF के अनुसार भारत की यूनिवर्सिटीज के नाम इस प्रकार हैं:

लॉ कॉलेज इंडिया जगह NIRF Rankings 2021
नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी बैंगलोर 1
नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी दिल्ली 2
विधि के नलसर विश्वविद्यालय हैदराबाद 3
पश्चिम बंगाल राष्ट्रीय न्यायिक विज्ञान विश्वविद्यालय पश्चिम बंगाल 4
IIT Kharagpur पश्चिम बंगाल 5
गुजरात नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी Gandhinagar 6
जामिया मिलिया इस्लामिया दिल्ली 7
राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, जोधपुर जोधपुर 8
सिम्बायोसिस लॉ स्कूल पुणे 9
कलिंग औद्योगिक प्रौद्योगिकी संस्थान भुवनेश्वर 10

नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, बैंगलोर

1987 में स्थापित NLSIU की स्थापना कर्नाटक विधानसभा के द्वारा LLB, LLM और MPhil जैसे अंडरग्रेजुएट और ग्रेजुएट कोर्स उपलब्ध करवाने के लिए की गई थी। ये भारत के सबसे लोकप्रिय कॉलेज में से एक है, यहाँ पर दाखिला लेने वालों के लिए प्रतियोगिता बहुत ज्यादा होता है। NLSIU में एडमिशन लेने के लिए आवेदक को Common Law Admission Test (CLAT) पास करना पड़ता है।

नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी (दिल्ली )

साल 2008 में दिल्ली सरकार द्वारा स्थापित नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी भारत की बेस्ट लॉ कॉलेज की सूची में शामिल है। NLU एक पब्लिक यूनिवर्सिटी है जो अंडरग्रेजुएट, पोस्टग्रेजुएट और डाक्टरल स्तर के कोर्स के साथ कुछ प्रमुख ब्रिज कोर्स, जैसे BA LLB, LLM, (PGDUEML) आदि करवाती है। इस यूनिवर्सिटी के किसी कोर्स में दाखिला लेने के लिए All India Law Entrance Exam (AILET) पास करना पड़ता है।

NALSAR यूनिवर्सिटी ऑफ़ लॉ

आंध्रा प्रदेश के लॉ के अंतर्गत शंकर अकादमी ऑफ़ लीगल स्टडीज एंड रिसर्च यूनिवर्सिटी ऑफ़ लॉ की स्थापना 1998 में की गई थी। पूरे विश्व भर के छात्रों को अपनी तरफ आकर्षित करने वाली NALSAR हमेशा भारत के बेस्ट लॉ कॉलेज की सूची में शामिल रही है। तेलंगाना स्थित ये इंस्टिट्यूट लीगल एजुकेशन देने के लिए जाना जाता है। NALSAR में पढ़ाये जाने वाले कोर्स विभिन्न स्ट्रीम जैसे लॉ, सोशल साइंस, मैनेजमेंट और मानविकी आदि मौजूद हैं और इस विश्वविद्यालय में एडमिशन लेने के लिए CLAT की परीक्षा में पास होना जरूरी है।

आईआईटी खड़गपुर

साल 1951 में राष्ट्रीय महत्व के लीडिंग इंस्टिट्यूट, आईआईटी खड़गपुर की स्थापना एक पब्लिक इंस्टीटूशन के रूप में हुई थी। इंस्टीटूशन के ‘राजीव गाँधी स्कूल ऑफ़ इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी लॉ ’ लोकप्रिय लीगल डिग्री जैसे- LLB, LLM और इंटीग्रेटेड प्रोग्राम करवाते हैं। आईआईटी की लिस्ट में लीडिंग इंस्टीटूशन में से एक के रूप में, ये ज्योग्राफिकल इंडिकेशन, लेबर एंड इंडस्ट्रियल लॉ, एनवायर्नमेंटल गवर्नेंस, इंटरनेशनल ह्यूमन राइट्स लॉ में रिसर्च ऑफर करते हैं। आईआईटी खड़गपुर के लॉ कोर्सेज में एप्लीकेशन प्रोसेस हर साल जनवरी के महीने में शुरू होता है।

नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी (राजस्थान)

1999 में जोधपुर शहर में स्थापित NLU में B.Sc LLB की डिग्री और अंडरग्रेजुएट और पोस्टग्रेजुएट स्तर के विभिन्न कोर्सेज जैसे BA LLB, LLM, LLD, bachelor of law (hons) में MBA, PhD, आदि के लिए प्रसिद्ध है। भारत के बेस्ट लॉ कॉलेज में शामिल, इस इंस्टिट्यूट में ट्रेड लॉ, इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट लॉ, कोंस्टीटूशनल लॉ, इंटरनेशनल लॉ जैसे लॉ स्पेशलाइजेशन करवाया जाता है।

वेस्ट बंगाल नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ़ जुरिडिकल साइंस

वेस्ट बंगाल नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ़ जुरिडिकल साइंस (NUJS) को ऑटोनोमस यूनिवर्सिटी के रूप में 1999 स्थापित किया गया था। लॉ स्टडीज ऑफर करने वाले कोर्सेज, उभरते कानून पेशेवर को फ्यूचर लीडर्स में बदलने का लक्ष्य रखते हैं। ये भारत के बेस्ट लॉ कॉलेज की लिस्ट में एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है और लॉ में कई डिप्लोमा और डिग्री करवाते हैं, इनमें से किसी भी प्रोग्राम में एडमिशन लेने के लिए CLAT की परीक्षा में पास होना ज़रूरी है।

सिम्बायोसिस लॉ स्कूल, पुणे

सिम्बायोसिस लॉ स्कूल, पुणे की स्थापना शांताराम बलवंत मुजुमदार के द्वारा साल 1977 में हुई थी। ये महाराष्ट्र के पुणे शहर में स्थित है और LLB, BA LLB, LLM इत्यादि जैसे अपने डिप्लोमा, अंडरग्रेजुएट और पोस्टग्रेजुएट कोर्स के लिए भारत के बेस्ट लॉ कॉलेज में शामिल हैं। इन कोर्सेज में जो एडमिशन लेना चाहते हैं उन्हें सिम्बायोसिस लॉ एडमिशन टेस्ट (SLAT Exam) या CLAT की परीक्षा पास करनी पड़ती है।

जामिया मिलिया इस्लामिया

जामिया मिलिया इस्लामिया की स्थापना अलीगढ़ के जॉइंट स्टेट में हुई थी और वर्ष 1920 में ये सेंट्रल यूनिवर्सिटी बन गई। उर्दू में जामिया का अर्थ ‘University’ और मिलिया का मतलब ‘National’ होता है। भारत में ये एक प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय है जो LLB, BA LLB, LLM, PG डिप्लोमा,एमफिल,पीएचडी इत्यादि जैसे विभिन्न कोर्सेज ऑफर करती है। इसमें एडमिशन लेने के लिए जामिया लॉ एंट्रेंस एग्जाम में पास करना जरुरी है।

नैशनल लॉ स्कूल ऑफ़ इंडिया यूनिवर्सिटी, बैंगलोर

1986 में स्थापित नैशनल लॉ स्कूल ऑफ़ इंडिया यूनिवर्सिटी, बैंगलोर (NLSIU), भारत के बेस्ट लॉ कॉलेज में शामिल है। ये यूनिवर्सिटी सभी तरह के लॉ कोर्सेज ऑफर करती है, जैसे – पब्लिक पालिसी, सिविल लॉ, कॉर्पोरेट लॉ, क्रिमिनल लॉ, बिज़नेस लॉ इत्यादि। NLSIU छात्रों को विभिन्न इंटर्नशिप प्रोग्राम, स्टूडेंट एक्सचेंज प्रोग्राम, मूट कोर्ट प्रतियोगिता भी ऑफर करती है, जो उन्हें एक कुशल लॉयर बनने में और उनकी पर्सनॅलिटी डेवलपमेंट में भी मदद करती है।

नेशनल लॉ इंस्टिट्यूट यूनिवर्सिटी, भोपाल

नेशनल लॉ इंस्टिट्यूट यूनिवर्सिटी की स्थापना मध्य प्रदेश गवर्नमेंट के द्वारा 1997 में हुई थी। ये यूनिवर्सिटी थ्योरेटिकल नॉलेज को बिहेवियर में लाने और सभी मॉडर्न अकादमिक तरीकों और टेक्निक्स का इस्तेमाल करने में विश्वास करती है। इसमें पहले केवल लॉ में अंडरग्रेजुएट कोर्सेज करवाये जाते थे लेकिन अब लॉ में पोस्टग्रेजुएट कोर्सेज के साथ-साथ रिसर्च के भी अवसर उपलब्ध करवाये जाने लगे हैं। NLU की ही तरह ये भी पढ़ाने के मिक्स्ड मेथड्स का इस्तेमाल करती है, जिसमें थ्योरेटिकल नॉलेज और इंटर्नशिप, मूट कोर्ट, ऑडियो और विज़ुअल इक्विपमेंट के इस्तेमाल के माध्यम से नॉलेज देने का काम किया जाता है, और इस तरीके से ये इंटरनेशनल लेवल की एजुकेशन ऑफर करती है।

नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, हैदराबाद

NLU हैदराबाद, NALSAR हैदराबाद के नाम से भी जानी जाती है। इसकी स्थापना साल 1998 में हुई थी। साल 2019 में बेस्ट लॉ कॉलेज की सूची में द वीक के द्वारा इसे 2 नंबर की रैंकिंग दी गई थी। ये अपने छात्रों को अंडरग्रेजुएट और पोस्टग्रेजुएट दोनों ही डिग्री ऑफर करती है, जिसमें एडमिशन लेने के लिए CLAT एग्जाम में पास होना जरूरी है। ये लॉ स्कूल शुरुआती नेशनल लॉ यूनिवर्सिटीज में से एक था, जिसने पाँच साल के इंटीग्रेटेड लॉ की डिग्री देने की शुरुआत की थी। हाल ही में इसने पीएचडी और एमबीए कोर्स की भी शुरुआत की है।

नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, जोधपुर

नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी की स्थापना साल 1999 में हुई थी। NLU विभिन्न ग्रुप में विशेषता वाले पाँच साल के इंटीग्रेटेड अंडरग्रेजुएट लॉ कोर्सेज ऑफर करती है। जिनमें कॉर्पोरेट लॉ, कोंस्टीटूशनस्ल लॉ, बिज़नेस लॉ, लेबर लॉ, क्रिमिनल लॉ, इंटरनेशनल लॉ इत्यादि जैसे लॉ विषय शामिल हैं। इस यूनिवर्सिटी को सिलेक्टेड एमिनेंट लॉयर्स के द्वारा फंडिंग मिलती है और इसके कैंपस में सारी सुविधाएँ मौजूद हैं।

गुजरात नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, गांधीनगर

गांधीनगर में स्थित गुजरात नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी की स्थापना साल 2003 में हुई थी। ये यूनिवर्सिटी, लॉ के विभिन्न विषयों में अंडरग्रेजुएट और पोस्टग्रेजुएट दोनों लेवल के कोर्सेज ऑफर करती है। इस कैंपस में 13 रिसर्च सेंटर्स मौजूद हैं, इसलिए जिन छात्रों की रूचि रिसर्च में है उनके लिए यहाँ बहुत अच्छे अवसर उपलब्ध हैं। यहाँ के छात्र कम्युनिटी में भी बहुत एक्टिव हैं और ये बहुत सारे आयोजन करवाती हैं, जो छात्रों को पढ़ाई से ध्यान हटाकर उनकी पर्सनॅलिटी डेवलपमेंट में भी मदद करती हैं।

नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, पटियाला

नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, पटियाला को राजीव गाँधी नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी के नाम से भी जाना जाता है, जिसकी स्थापना साल 2006 में हुई थी। ये कॉर्पोरेट लॉ, इंटरनेशनल लॉ, इत्यादि जैसे स्पेशलाइजेशन में अंडरग्रेजुएट और पोस्टग्रेजुएट स्तर के कोर्स ऑफर करती है। यूनिवर्सिटी का प्लेसमेंट सेल काफी एक्टिव है, जो इंटर्नशिप और प्लेसमेंट के अवसर उपलब्ध करवाती है। यहाँ की स्टूडेंट कम्युनिटी बहुत मजबूत हैं, जो समय-समय पर मूट कोर्ट प्रतियोगिता आयोजित करवाती हैं।

योग्यता

लॉ कॉलेज में एडमिशन लेने के लिए नीचे योग्यता दी गई है:

  • LLB कोर्स को आगे बढ़ाने के इच्छुक बारहवीं कक्षा में किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड में (किसी भी स्ट्रीम) में कम से कम 45% अंक प्राप्त करने चाहिए। एलएलबी छात्रों को पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए आवश्यक प्रवेश परीक्षा भी उत्तीर्ण करने की आवश्यकता है।
  • एलएलबी करने के लिए छात्रों के पास 12वीं उत्तीण करने का सर्टिफिकेट होना चाहिए। अगर आप 12वीं के बाद LLB की पढ़ाई करना चाहते हैं जो 5 पांच साल के लिए होता है।
  • अगर छात्र एलएलबी की तीन साल का पढाई करना चाहते हैं तो उनके पास ग्रेजुएट की डिग्री होनी जरुरी है
  • भारत में LLB करने के लिए कोई उम्र सीमा तय नहीं है।
  • लॉ प्रोग्राम में एडमिशन लेने के लिए लॉ नेशनल एप्टीट्यूड टेस्ट (LNAT) या CLAT एग्जाम के अंकों की ज़रूरी होती है।

आवेदन प्रक्रिया

भारतीय यूनिवर्सिटीज द्वारा आवेदन प्रक्रिया नीचे मौजूद है-

  • सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  • यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजरनेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  • फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  • अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  • इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  • यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

प्रवेश परीक्षाएं

लॉ कोर्स के लिए आयोजित होने वाली प्रवेश परीक्षाओं के नाम क्या हैं, जो इस प्रकार हैं:

  • CLAT
  • AILET
  • LSAT
  • DU इंट्रेंस 
  • AIBE
  • ILSAT
  • ILI CAT

FAQ

एलएलबी कितने साल का होता है?

LLB कोर्स दो तरह के होते है : एक होता है 5 साल का कोर्स और दूसरा होता है 3 साल का कोर्स अगर आप 12वीं पास करने के बाद सीधा लॉ की पढाई करना चाहते है तो इसके लिए आपको 5 साल पढना होगा।

एलएलबी कब की जाती है?

12वीं के बाद एलएलबी करने और ग्रेजुएशन के बाद एलएलबी करने में बस इतना ही फर्क है कि 12वीं के बाद 5 साल का कोर्स होता है और ग्रेजुएशन के बाद 3 साल का कोर्स करना होता है।

वकील बनने के लिए कितनी उम्र होनी चाहिए?

बीसीआई के नियमों के मुताबिक पांच वर्षीय पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए अधिकतम आयु 20 वर्ष और तीन वर्षीय एलएलबी पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए अधिकतम आयु सीमा 30 वर्ष निर्धारित की गई है।

LLB की फीस कितनी होती है?

सरकारी कॉलेज में इस कोर्स की फीस ₹1लाख-₹2लाख तक होती है जबकि प्राइवेट कॉलेज में एलएलबी कोर्स की फीस ₹3लाख- ₹6लाख तक हो सकती है।

आशा करते हैं कि इस ब्लॉग से आपको best law colleges in India के बारे में विस्तार से जानकारी मिली होगी। यदि आप विदेश में पढ़ना चाहते हैं तो हमारे Leverage Edu के एक्सपर्ट से 1800 572 000 पर कॉल करके आज ही 30 मिनट का फ्री सेशन बुक कीजिए।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert