वकील कैसे बने?

1 minute read
3.6K views
10 shares
Leverage Edu Default Blog Cover

इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि हाई कोर्ट कावकील बनने के लिए योग्यता क्या होती है और इसके लिए कौन सा कोर्स करना होगा। कोर्स के लिये बेस्ट कॉलेज कौन से हैं । कोर्स की फीस क्या होती है और कोर्स करने के बाद वकील बनने का प्रोसेस क्या होता है, तो इन सभी के बारे में हम आपको कंप्लीट इन्फॉर्मेशन देंगे। जिसकी मदद से आप स्टूडेंट से लेकर हाई कोर्ट का वकील बनने का सफर आसानी से तय कर सकेंगे। Vakil Kaise Bane के बारे में विस्तार से जानने के लिए यह ब्लॉग पूरा पढ़ें।

वकील कौन होते हैं?

वकील का काम होता है लोगों को लीगल एडवाइज देना और लोगों की बात को प्रभावी ढंग से प्रस्तुत करना। आमतौर पर अधिकांश लोगों के पास अपनी बात को प्रभावी ढंग से कहने की क्षमता, ज्ञान, कौशल, या भाषा-शक्ति नहीं होती, ऐसे में एक वकील आपकी दलील प्रस्तुत करता है।

वकील कौन बन सकता है?

कोई भी ऐसा व्यक्ति जिसने अपने 12th पूरी कर ली है वो वकालत की पढ़ाई शुरू कर सकता है, वकालत की पढ़ाई को हम LLB कोर्स कहते है । इस कोर्स में उत्तीर्ण होने के बाद आप वकील बन सकते है और अनुभवी वकीलों के साथ ट्रेनिंग ले सकते है जो कि बेहद जरूरी है । वैसे इस क्षेत्र में सफलता पाने के लिए आपकी सोच दुसरो से थोड़ी बहुत अलग होनी चाहिए, इसके साथ भाषा पर पकड़ और टीम भावना, तर्क वितर्क करना, किसी भी मुद्दे पर बात करना, निर्णय लेने की क्षमता जैसी चीजे आपके अंदर मौजूद होनी चाहिए, तभी आप इस क्षेत्र में सफल हो पाएंगे ।

वकील का काम क्या होता है?

एक वकील अपने क्लाइंट को कायदे कानून के अनुसार मार्ग दिखाते है, कानूनी पेपर तैयार करने से लेकर कोर्ट में अपने क्लाइंट के लिए बहस भी करते है। वकील को भारत के संविधान के अनुसार ही चलना होता है और संविधान में बताए गए नियमो के अनुसार ही अपने क्लाइंट को न्याय दिलाना होता है। इसमें आप सिविल लॉ, क्रिमिनल लॉ, इनकम टैक्स लॉ, फैमिली लॉ, कोंस्टीटूशनल लॉ, कॉमन लॉ, एडमिनिस्ट्रेटिव लॉ इत्यादि स्पेशलाइजेशन में से एक चुन सकते हैं।

आवश्यक स्किल

वकील बनने के लिए आवश्यक स्किल नीचे दी गई है:

  • एक सक्षम लॉयर बनने के लिए, उसे कड़ी मेहनत और डेडिकेशन की आवश्यकता होती है। क्योंकि एक वकील का काम देश के कानूनी ढांचे और और लोगों का इन्साफ दिलाना है
  • कैंडिडेट को अनुशासन, जिम्मेदारी की भावना और आत्मविश्वास के अलावा प्रशिक्षण और अपने हित के क्षेत्र के बारे में ज्ञान होना चाहिए।
  • नौकरी के लिए कड़ी मेहनत, सहनशक्ति, मन की सतर्कता, मानव व्यवहार और मनोविज्ञान का ज्ञान और समाज के प्रति सभी ईमानदार लोगों की आवश्यकता होती है।

वकील कितने प्रकार के होते हैं?

  • सरकारी वकील
  • प्राइवेट वकील
  • जूनियर वकील
  • सीनियर वकील
  • वरिष्ठ वकील
  • फैमिली वकील
  • लोअर, जिला एवं हाई कोर्ट का वकील
  • सुप्रीम कोर्ट का वकील

वकील बनने या लॉ करने के लिए योग्यता

लॉ के पांच वर्षीय कोर्स के लिए आपको 12 वीं पास होना अनिवार्य है। 12 वीं के बाद CLAT परीक्षा होती है इसको पास करने के बाद ही आपको प्रवेश मिलता है। इस परीक्षा के लिए 12 वीं में 50 फीसदी अंकों के साथ पास होना अनिवार्य होता है।

  • 5 साल की बैचलर डिग्री के लिए छात्रों के पास बारहवीं कक्षा में किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड में (किसी भी स्ट्रीम) में कम से कम 45% अंक प्राप्त होने चाहिए।
  • अगर छात्र एलएलबी की तीन साल का पढाई करना चाहते हैं तो उनके पास ग्रेजुएट की डिग्री होनी जरुरी है।
  • विदेश में पढ़ने के लिए इंग्लिश लैंग्वेज टेस्ट जैसे IELTS/TOEFL/PTE के अंक।
  • लॉ प्रोग्राम में एडमिशन लेने के लिए CLAT, लॉ नेशनल एप्टीट्यूड टेस्ट (LNAT) जैसे एग्जाम पास करने की जरुरत होती है।
  • विदेशी यूनिवर्सिटी में पढ़ने के लिए SOP, LOR, सीवी/रिज्यूमे और पोर्टफोलियो भी जमा करने की जरूरत होती है।

वकालत कोर्स

वकील बनने के लिए किये जाने वाले कोर्सेज नीचे दिए गए हैं:

  • Bachelor of Laws (LL.B.) – 3 साल
  • Integrated undergraduate degrees – B.A. LL.B., B.Sc. LL.B., BBA LLB, B.Com LL.B – 5 साल
  • Master of Laws (LL.M.) – 1-2 साल
  • Master of Business Law
  • Doctor of Philosophy (PhD)
  • Integrated MBL-LLM/ MBA-LLM – 3 साल

इसे पढ़ें: सबसे ज़्यादा तनख्वाह वाली सरकारी नौकरियाँ

लॉ के अंतर्गत स्पेशलाइजेशन

लॉ के अंतर्गत कई स्पेशलाइजेशन आते हैं जैसे कि :-

  • क्रिमिनल लॉ
  • कॉरपोरेट लॉ
  • पेटेंट अटॉर्नी
  • साइबर लॉ
  • फैमिली लॉ
  • बैंकिंग लॉ
  • टैक्स लॉ

Check Out : Singer Kaise Bane (सिंगर कैसे बने)

 वकील बनने के लिए प्रवेश परीक्षा

वकील बनने के लिए आवश्यक प्रवेश परीक्षाएं नीचे दी गई है:

  • NLSIU – Bangalore
  • Nalasar – Hyderabad
  • WBNUJs – Kolkata
  • NLU – Jodhpur
  • HNLU – Raipur
  • GNLU – Gandhinagar
  • RMLNLU – Lucknow
  • RGnUl – Patiala
  • CNLU – Patna
  • NLUO – Cuttack
  • NLUJAA – Guwahati
  • DSNLU – Visakhapatnam
  • TN.NLS-Tiruchirappalli
  • MNLU – Mumbai

CLAT क्या है ?

अगर देश के अच्छे और टॉप कॉलेज से LLB की पढ़ाई करना चाहते है तो आपको CLAT ( Common Law Admission Test) परीक्षा पास करनी होगी। देश की टॉप लॉ यूनिवर्सिटी में एडमिशन पाने के लिए ये टेस्ट होता है।

CLAT के लिए क्या क्वालिफिकेशन चाहिए ?

CLAT परीक्षा का फॉर्म भरने के लिए आपको किसी भी स्ट्रीम के साथ 12th कम से कम जनरल और ओबीसी कैटेगरी विद्यार्थियों के लिए 45 प्रतिशत अंको के साथ पास करना अनिवार्य है और वही एससी/एसटी विद्यार्थियों के लिए 40 प्रतिशत के 12th पास होना अनिवार्य है ।

CLAT का सिलेबस क्या है?

CLAT एग्जाम दो घंटे का होता है और 200 प्रश्न होते है, प्रत्येक प्रश्न के लिए एक अंक मिलता है वही गलत उत्तर देने पर 1/4 के नेगेटिव मार्किंग होती है यानी 4 गलत उत्तर देने पर आपका 1 नंबर काट दिया जाएगा ।

5 विषयों से इसमें सवाल पूछा जाते हैं, जिसमें अंग्रेजी, सामान्य ज्ञान, करंट अफेयर्स, मैथ्स, लीगल एप्टीट्यूड और लॉजिकल रीजनिंग इत्यादि शामिल है ।

हाई कोर्ट में वकील कैसे बने?

LLB करने के बाद आपको स्टेट बार काउंसिल से लाइसेंस लेना होता है, बिना लाइंसेंस के आप किसी भी क्लाइंट का मुकद्दमा नही लड़ सकते है। लाइसेंस लेने के बाद आपको कम से कम 5 साल का अनुभव होना चाहिए लोअर कोर्ट में वकालत करने का इसके बाद ही आप हाई कोर्ट में वकालत कर सकते है। वही अगर आप चाहते है सीधा हाई कोर्ट में वकालत करना तो आप सीधा हाई कोर्ट के किसी वकील के अंडर इनट्रंशिप कर सकते है।

वकील बनने के फायदे

वकील बनने के बाद जहां आप कोर्ट रूम में आप अपने क्लाइंट के लिए उसका पक्ष रखने के साथ न्याय के लिए क़ानूनी तौर पर लड़ते है वही आप आम समाज में भी अधिकारों व नियमो की जानकारी होने से अपने व दुसरो के साथ गलत होने पर अपनी आवाज उठा पाते हैं अर्थात अपने अधिकारों की रक्षा करते हैं जिससे आपका मान सम्मान बढ़ता है।

Check Out : CLAT की परीक्षा

विदेश की टॉप यूनिवर्सिटीज

विदेश की टॉप यूनिवर्सिटीज नीचे दी गई हैं-

यूनिवर्सिटीज सालाना ट्यूशन फीस
स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी, यूएस USD 60,000 (INR 45 लाख)
कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय, ब्रिटेन GBP 33,000 (INR 33 लाख)
ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय, ब्रिटेन GBP 37,850 (INR 37.85 लाख)
शिकागो विश्वविद्यालय, यू.एस USD 58,266 (INR 43.70 लाख)
येल विश्वविद्यालय, यू.एस. USD 45,330 (INR 34 लाख)
ड्यूक यूनिवर्सिटी, यूएस USD 41,000 (INR 30.75 लाख)
न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय, यूएस USD 47,000 (INR 35.25 लाख)
यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन, यूके GBP 42,000 (INR 42 लाख)
हार्वर्ड विश्वविद्यालय, यूएस USD 67,720 (INR 50.79 लाख)
लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स एंड पॉलिटिकल साइंस GBP 22,690 (22.69 लाख)

आप UniConnect के जरिए विश्व के पहले और सबसे बड़े ऑनलाइन विश्वविद्यालय मेले का हिस्सा बनने का मौका पा सकते हैं, जहाँ आप अपनी पसंद के विश्वविद्यालय के प्रतिनिधि से सीधा संपर्क कर सकेंगे।

भारतीय लॉ यूनिवर्सिटीज

भारत की लॉ यूनिवर्सिटीज के नाम इस प्रकार हैं:

यूनिवर्सिटीज सालाना फीस (INR)
नेशनल लॉ स्कूल ऑफ इंडिया यूनिवर्सिटी 2.13 लाख
नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी 1.63 लाख
चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी 1.20 लाख
नालसर यूनिवर्सिटी आफ लॉ 2.42 लाख
कलिंंगा यूनिवर्सिटी 1.30 लाख

आवेदन प्रक्रिया 

विदेश के विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए आवेदन प्रक्रिया इस प्रकार है–

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप AI Course Finder की सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • एक्सपर्ट्स से कॉन्टैक्ट के पश्चात वे कॉमन डैशबोर्ड प्लेटफॉर्म के माध्यम से कई विश्वविद्यालयों की आपकी आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेजों जैसे SOP, निबंध (essay), सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टेस्ट स्कोर जैसे IELTS, TOEFL, SAT, ACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTS, TOEFL, PTE, GMAT, GRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप Leverage Live कक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीजा और छात्रवृत्ति / छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लेटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। 

भारत के विश्वविद्यालयों में आवेदन प्रक्रिया, इस प्रकार है–

  1. सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  2. यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  3. फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  4. अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  5. इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  6. यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

आवश्यक दस्तावेज 

कुछ जरूरी दस्तावेजों की लिस्ट नीचे दी गई हैं–

वकील कैसे बनें गाइड?

Vakil Kaise Bane यह जानने के लिए स्टेप बाय स्टेप गाइड नीचे दी गई है:

  • वकील बनने के लिए सबसे पहले अपनी 12वीं तक की पढ़ाई किसी मान्यता प्राप्त स्कूल से पूरी करें।
  • 12वीं के बाद CLAT एग्जाम पास करके आप LLB कोर्स में एडमिशन ले और अपनी लॉ की पढ़ाई पूरी करें।
  • बारहवीं के बाद लॉ कोर्स 5 वर्ष का होता है।
  • यदि आप 12वीं के बाद एडमिशन नहीं लेते हैं तो आप ग्रेजुएशन के बाद 3 साल के LLB बैचलर कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं।
  • अपनी लॉ की पढ़ाई पूरी करने के बाद आप इंटर्न के रूप में काम कर सकते हैं।
  • या किसी सीनियर वकील के असिस्टेंट के पद पर कार्य कर सकते हैं।
  • इंटर्नशिप पूरा करने के बाद आप वकील बन जाते हैं।
  • इसके बाद आप खुद वकालत कर सकते हैं।

Check Out : NEET के बिना मेडिकल कोर्स (Courses Without NEET)

वकील बनने के बाद जॉब प्रोफाइल

वकील बनने के बाद लोकप्रिय जॉब प्रोफाइल नीचे दी गई है:

  • ट्रस्टी
  • नोटरी
  • वकील
  • सॉलिसिटर
  • मजिस्ट्रेट
  • कानून विशेषज्ञ
  • लॉ रिपोर्टर
  • क़ानूनी सलाहकार
  • महान्यायवादी
  • सार्वजानिक अभियोक्ता
  • मुंसिफ (उप-मजिस्ट्रेट)\
  • शिक्षक और व्याख्याता
  • जिला एवं सत्र न्यायाधीश

वकील की सैलरी

निजी प्रैक्टिस में शामिल एक वकील की वित्तीय सफलता उसके अनुभव और व्यक्तिगत ज्ञान पर निर्भर करती है। जहां तक कॉरपोरेट सेक्टर के कानूनी सलाहकारों का सवाल है कि उन्हें हर महीने 50,000 रुपये तक सैलरी मिल सकती हैं और वे जिस कंपनी के लिए काम कर रहे हैं उसके सीईओ के बराबर पहुंच सकते हैं। सरकारी वकील की सैलरी भी प्रथम श्रेणी के अधिकारी के बराबर होती हैं।

FAQ

12 के बाद वकील कैसे बने ?

12 पास करने के बाद आपको लॉ यूनिवर्सिटी में एड्मिसन लेना होगा, जिसके लिए एंट्रेंस परीक्षा पास करनी होती है, अगर आप सरकारी कॉलेज में एडमिशन चाहते हैं, तो आपको क्लेट एग्जाम देना होगा, अगर आप प्राइवेट कॉलेज में एडमिशन चाहते हैं, तो फिर LSAT एंट्रेंस पास करना होगा।

ग्रेजुएशन के बाद वकील कैसे बने ?

अगर आपने ग्रेजुएशन कर लिया है, तो भी चिंता करने की जरुरत नहीं है, अब भी आपके पास काफी टाइम बचा है, इसके बाद आपको कलेट एग्जामिनेशन देना होगा, अगर आप इस परीक्षा में अच्छा रैंक लाते हैं, तो फिर आपका एड्मिसन तीन साल LLB के लिए होगा ।

वकील बनने के लिए कितनी उम्र होनी चाहिए?

बीसीआई के नियमों के मुताबिक पांच वर्षीय पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए अधिकतम आयु 20 वर्ष और तीन वर्षीय एलएलबी पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए अधिकतम आयु सीमा 30 वर्ष निर्धारित की गई है।

उम्मीद है, इस ब्लॉग के माध्यम से आपको vakil kaise bane के बारे में सभी महत्वपूर्ण जानकारियां मिल गई होंगी। यदि आप विदेश में LLB करना चाहते हैं तो आज ही 1800 572 000 पर कॉल करके Leverage Edu एक्सपर्ट के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें। 

Loading comments...
15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert