एप्लिकेशन डेवलपर कैसे बनें?

1 minute read
application developer

एक एप्लिकेशन डेवलपर बनना उन लोगों के लिए एक रिवार्डिंग करियर ऑप्शन हो सकता है, जो टेक्नोलॉजी और प्रोग्रामिंग के बारे में पैशनेट हैं। मोबाइल और वेब एप्लिकेशन की लगातार बढ़ती मांग के साथ, एप्लिकेशन डेवलपर्स के लिए जॉब मार्केट लगातार बढ़ रहा है। इस ब्लॉग में application developer बनने के बारे में जानकारी दी गई है। जिसमें आवश्यक एजुकेशन और स्किल्स, साथ ही इस क्षेत्र में उपलब्ध विभिन्न प्रकार के एप्लिकेशन डेवलपमेंट और करियर के अवसर शामिल हैं। यदि आप इस बारे में सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इस ब्लॉग को अंत तक पढ़ें। 

This Blog Includes:
  1. एप्लिकेशन डेवलपर कौन होते हैं?
  2. एप्लिकेशन डेवलपर क्यों बनें?
  3. एप्लिकेशन डेवलपर बनने के लिए आवश्यक स्किल्स
  4. एप्लिकेशन डेवलपर बनने के लिए स्टेप बाय स्टेप गाइड
  5. एप्लिकेशन डेवलपर बनने के लिए टॉप कोर्सेज
  6. एप्लिकेशन डेवलपर बनने के लिए टॉप विदेशी यूनिवर्सिटीज
  7. एप्लिकेशन डेवलपर बनने के लिए टॉप भारतीय यूनिवर्सिटीज
  8. एप्लिकेशन डेवलपर बनने के लिए योग्यता कितनी चाहिए?
  9. विदेशी यूनिवर्सिटी के लिए आवेदन प्रक्रिया 
    1. भारतीय यूनिवर्सिटी के लिए आवेदन प्रक्रिया 
  10. एप्लिकेशन डेवलपर बनने के लिए आवश्यक दस्तावेजों की लिस्ट
  11. एप्लिकेशन डेवलपर बनने के लिए कौन-कौन सी प्रवेश परीक्षाएं होती हैं?
  12. एप्लिकेशन डेवलपर बनने के बाद करियर विकल्प
    1. टॉप रिक्रूटर्स
  13. एप्लिकेशन डेवलपर की जॉब प्रोफाइल्स और सैलरी पैकेज
  14. FAQs

एप्लिकेशन डेवलपर कौन होते हैं?

एक एप्लिकेशन डेवलपर एक प्रोफेशनल है जो डेस्कटॉप कंप्यूटर, मोबाइल डिवाइस और वेब जैसे विभिन्न प्लेटफॉर्म्स के लिए सॉफ़्टवेयर एप्लिकेशन को डिज़ाइन करने, बनाने और टेस्टिंग करने के लिए ज़िम्मेदार है। वे यूजर्सऔर कस्टमर्स की जरूरतों को पूरा करने वाले एप्लिकेशन बनाने के लिए प्रोग्रामिंग लैंग्वेज और डेवलपमेंट टूल का उपयोग करते हैं। एप्लिकेशन डेवलपर स्वतंत्र रूप से या विभिन्न इंडस्ट्रीज में एक टीम के हिस्से के रूप में काम कर सकते हैं, जैसे सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट, गेमिंग, हेल्थकेयर और फाइनेंस। वे अपनी फंक्शनालिटी और सिक्योरिटी सुनिश्चित करने के लिए मौजूदा एप्लिकेशन को मेंटेन रखने और अपडेट करने के लिए भी जिम्मेदार हैं।

एप्लिकेशन डेवलपर क्यों बनें?

Application developer क्यों बनें इसके कुछ प्रमुख कारण नीचे दिए गए हैं-

  • ग्रोइंग डिमांड: हमारे जीवन के सभी एरियाज में टेक्नोलॉजी पर बढ़ती निर्भरता के साथ स्किल्ड एप्लिकेशन डेवलपर्स की मांग लगातार बढ़ रही है। इसका मतलब यह है कि इस फील्ड में रोजगार के ढेरों अवसर उपलब्ध हैं।
  • क्रिएटिविटी: एप्लीकेशन डेवलपमेंट एक अत्यधिक क्रिएटिव फील्ड हो सकता है, क्योंकि डेवलपर्स को अक्सर कॉम्प्लेक्स प्रॉब्लम्स के लेटेस्ट सॉल्यूशंस खोजने का काम सौंपा जाता है।
  • फ्लेक्सिबिलिटी: कई एप्लिकेशन डेवलपर्स के पास वर्क फ्रॉम होम रिमॉटली या फ्लेक्सिबल शेड्यूल पर काम करने का विकल्प होता है, जो वर्क-लाइफ बैलेंस और ऑटोनोमी का एक बड़ा सौदा प्रदान कर सकता है।
  • कांस्टेंट लर्निंग: टेक्नोलॉजी लगातार डेवलप हो रही है, इसलिए एप्लिकेशन डेवलपर्स को लेटेस्ट टूल और प्रोग्रामिंग लैंग्वेजेस के साथ अपडेट रहना चाहिए। इसका मतलब यह है कि लर्निंग के लिए हमेशा कुछ नया होता है, जो लगातार सीखने का आनंद लेने वालों के लिए इंट्रेस्टिंग हो सकता है।
  • गुड अर्निंग पोटेंशियल: एप्लिकेशन डेवलपर्स कॉम्पिटीटीव सैलरी अर्जित कर सकते हैं, खासकर जब वे अधिक एक्सपीरियंस प्राप्त करते हैं और डेवलपमेंट के स्पेसिफिक फील्ड में स्पेशलाइज होते हैं।

एप्लिकेशन डेवलपर बनने के लिए आवश्यक स्किल्स

Application developer बनने के लिए टॉप स्किल्स नीचे दी गई है-

  • प्रोग्रामिंग लैंग्वेजेस जैसे जावा पाइथन c++
  • सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट
  • डाटाबेस मैनेजमेंट SQL, नो SQL
  • यूज़र इंटरफेस 
  • वेब डेवलपमेंट HTML, CSS, JavaScript
  • ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग
  • मोबाइल एप्लीकेशन डेवलपमेंट
  • वर्जन कंट्रोल
  • प्रॉब्लम सॉल्विंग स्किल्स
  • अटेंशन टू डिटेल्स 

एप्लिकेशन डेवलपर बनने के लिए स्टेप बाय स्टेप गाइड

Application developer बनने के लिए स्टेप बाय स्टेप गाइड नीचे दी गई है-

  • स्टेप 1: स्कूल स्तर से शुरू करें: एप्लीकेशन डेवलपर बनने की शुरुआत स्कूली स्तर से ही की जाती है। 10वीं बोर्ड के बाद साइंस स्ट्रीम को चुनना होता है। आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि विज्ञान विषयों में पढ़ाए जाने वाले सभी बुनियादी विषयों पर आपकी अच्छी पकड़ हो, क्योंकि स्कूल के बाद इस क्षेत्र में हायर एजुकेशन की डिग्री हासिल करने के योग्य होने के लिए यह आवश्यक है। साथ ही, आपको विज्ञान विषयों में अच्छे अंकों की आवश्यकता होगी ताकि आप अपनी आगे की पढ़ाई के लिए सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालयों में से एक में अध्ययन करने की न्यूनतम आवश्यकताओं को पूरा कर सकें।
  • स्टेप 2: बैचलर्स डिग्री प्राप्त करें: एप्लीकेशन डेवलपर बनने की दिशा में सबसे महत्वपूर्ण कदम इस क्षेत्र या संबंधित क्षेत्र में बैचलर्स की डिग्री प्राप्त करना है। चूंकि सभी विश्वविद्यालय एप्लीकेशन डेवलपमेंट में बैचलर्स डिग्री प्रदान नहीं करते हैं, इसलिए कंप्यूटर साइंस में बैचलर्स डिग्री के लिए जाना एक अच्छा विचार है, क्योंकि यह कंप्यूटर साइंस के तहत एक विशेष क्षेत्र है। कंप्यूटर साइंस में बैचलर्स डिग्री 4 साल की अवधि का होता है और इसमें उन सभी आवश्यक विषयों को शामिल किया जाएगा जो आपको एक एप्लीकेशन डेवलपर बनने के लिए मास्टर करने की आवश्यकता है। आप संबंधित क्षेत्र में डिप्लोमा करके भी एक एप्लीकेशन डेवलपर बन सकते हैं, बैचलर्स डिग्री प्राप्त करना एक अच्छा विचार है क्योंकि शीर्ष कंपनियां अक्सर कम से कम स्नातक की डिग्री रखने वाले उम्मीदवारों को काम पर रखना पसंद करती हैं।
  • स्टेप 3: इंटर्नशिप करें: इंटर्नशिप में अपनी स्किल्स को प्रैक्टिस में लाने में मदद कर सकती है। जब आप अपनी अंडर ग्रेजुएट डिग्री प्राप्त कर रहे हों या इसे पूरा करने के बाद भी इंटर्नशिप के अधिक से अधिक अवसरों का लाभ उठाना सुनिश्चित करें। ये इंटर्नशिप आपको एक एप्लीकेशन डेवलपर द्वारा किए जाने वाले विभिन्न कार्यों की बहुत आवश्यक समझ प्रदान करेगी और आपके भविष्य के प्रयासों में सफलता प्राप्त करने में आपकी सहायता करेगी।
  • स्टेप 4: स्किल को अपडेट करें: कंप्यूटर साइंस में बैचलर्स डिग्री आपको एक एप्लीकेशन डेवलपर बनने के योग्य बनाती है, आपको न केवल अन्य उम्मीदवारों पर लाभ प्राप्त करने के लिए, बल्कि विभिन्न जॉब प्रोफ़ाइल के लिए खुद को तैयार करने के लिए अपनी स्किल्स को उन्नत करने की आवश्यकता है। विभिन्न प्रोग्रामिंग भाषाओं जैसे कि Python, C++, Java आदि को सीखना आपको दूसरों पर प्रतिस्पर्धा में बढ़त दिला सकता है। अपनी स्किल्स को विकसित करने का एक और तरीका है कि आप नए एप बनाने में अपना हाथ आजमाएं – इससे आप अपने ज्ञान को व्यावहारिक उपयोग में ला सकेंगे। इसके अलावा, आप आगे नौकरी के अवसरों को खोलने के लिए एप्लीकेशन डेवलपमेंट में मास्टर्स का विकल्प भी चुन सकते हैं।
  • स्टेप 5: जॉब के लिए आवेदन करें: एप्लीकेशन डेवलपर बनने की दिशा में अंतिम और सबसे महत्वपूर्ण कदम नौकरियों के लिए आवेदन शुरू करना है। एप्लीकेशन डेवलपर नौकरी के लिए आदर्श उम्मीदवार के रूप में माने जाने के लिए आपको अपने सभी स्किल्स और एक्सपीरियंस को उजागर करते हुए एक आदर्श फिर से शुरू करना होगा। शुरू में आपको एक छोटी कंपनी में नौकरी करनी पड़ सकती है, लेकिन जैसे-जैसे आप एक्सपीरियंस और अपनी स्किल्स का निर्माण करते रहेंगे, आप जल्द ही अपनी सपनों की कंपनी में एक पद पाने के लिए उठ सकते हैं।

एप्लिकेशन डेवलपर बनने के लिए टॉप कोर्सेज

Application developer बनने के लिए आप नीचे दिए गए निम्न कोर्सेज में से किसी कोर्स को कर सकते हैं-

  1. CS Diploma
  2. IT  
  3. BCA
  4. B.Tech  
  5. M.Tech  
  6. ME 
  7. B.Sc 
  8. MSc
  9. PhD 

एप्लिकेशन डेवलपर बनने के लिए टॉप विदेशी यूनिवर्सिटीज

Application developer बनने के लिए टॉप विदेशी यूनिवर्सिटीज के नाम निम्न प्रकार से हैं:

एप्लिकेशन डेवलपर बनने के लिए टॉप भारतीय यूनिवर्सिटीज

Application developer बनने के लिए टॉप भारतीय यूनिवर्सिटीज के नाम निम्न प्रकार से हैं:

  • सभी IIT 
  • आंध्र यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, विशाखापट्टनम
  • एनआईटी सुरथकल – नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी कर्नाटक
  • इंस्टीट्यूशंस ऑफ इंजीनियर्स इंडिया, कोलकाता
  • सीवी रमन ग्लोबल यूनिवर्सिटी, भुवनेश्वर
  • वेल्स विश्वविद्यालय – वेल इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस टेक्नोलॉजी एंड एडवांस्ड स्टडीज
  • श्रीनिवास इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, मैंगलोर
  • शिवाजी विश्वविद्यालय, कोल्हापुरी
  • इंडियन मैरीटाइम यूनिवर्सिटी, चेन्नई
  • पार्क कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, कोयंबटूर
  • समुंद्रा इंस्टिट्यूट ऑफ मैरीटाइम स्टडीज, पुणे
  • जीकेएम कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, चेन्नई

एप्लिकेशन डेवलपर बनने के लिए योग्यता कितनी चाहिए?

विदेश के शीर्ष विश्वविद्यालयों से application developer बनने के लिए किसी कोर्स करने के लिए, आपको कुछ पात्रता शर्तों को पूरा करना होगा। हालांकि योग्यता एक विश्वविद्यालय से दूसरे विश्वविद्यालय में भिन्न हो सकते हैं, यहां कुछ सामान्य शर्तें दी हैं-

  • आवेदक के बारहवीं में अंक कम से कम 50% से अधिक होने अनिवार्य हैं।
  • आवेदक के बारहवीं कक्षा में विषय फिजिक्स, केमेस्ट्री, मैथ्स होने चाहिए।
  • किसी भी यूनिवर्सिटी में बैचलर डिग्री कोर्स के लिए SAT/ACT की मांग भी की जा सकती है।
  • मास्टर्स डिग्री कोर्स के लिए जरूरी है कि उम्मीदवार ने किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय या कॉलेज से इंजीनियरिंग में  बैचलर्स डिग्री प्राप्त की हो।
  • मास्टर्स कोर्स में एडमिशन के लिए कुछ विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा आयोजित करते हैं इसके बाद ही आप इन कोर्सेजके लिए एलिजिबल हो सकते हैं। विदेश की कुछ यूनिवर्सिटीज़ में मास्टर्स के लिए GRE और GMAT स्कोर की आवश्यकता होती है।
  • साथ ही विदेश के लिए आपको ऊपर दी गई आवश्यकताओं के साथ IELTS या TOEFL स्कोर की भी आवश्यकता होती है।

क्या आप IELTS/TOEFL/SAT/GRE में अच्छे अंक प्राप्त करना चाहते हैं? आज ही इन टेस्ट की बेहतरीन तैयारी के लिए Leverage Live पर रजिस्टर करें और अच्छे अंक प्राप्त करें।

विदेशी यूनिवर्सिटी के लिए आवेदन प्रक्रिया 

कैंडिडेट को आवदेन करने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया को पूरा करना होगा-

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप हमारे AI Course Finder की सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेजों जैसे SOP, निबंध (essay), सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टेस्ट स्कोर जैसे IELTS, TOEFL, SAT, ACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTS, TOEFL, PTE, GMAT, GRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप हमारी Leverage Live कक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीज़ा और छात्रवृत्ति / छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लेटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। 

आवदेन प्रक्रिया से सम्बन्धित जानकारी और मदद के लिए Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800 572 000 पर संपर्क करें।

भारतीय यूनिवर्सिटी के लिए आवेदन प्रक्रिया 

भारतीय यूनिवर्सिटीज़ द्वारा आवेदन प्रक्रिया नीचे मौजूद है-

  • सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  • यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  • फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  • अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  • इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  • यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

एप्लिकेशन डेवलपर बनने के लिए आवश्यक दस्तावेजों की लिस्ट

आपको निम्न आवश्यक दस्तावेज़ों की आवश्यकता होगी-

छात्र वीज़ा पाने के लिए भी हमारे Leverage Edu विशेषज्ञ आपकी हर सम्भव मदद करेंगे।

एप्लिकेशन डेवलपर बनने के लिए कौन-कौन सी प्रवेश परीक्षाएं होती हैं?

अलग-अलग कॉलेजों में एडमिशन प्राप्त करने के लिए प्रवेश परीक्षाएं अलग प्रकार की होती है लेकिन कुछ ऐसी सामान्य परीक्षाएं है जो अधिकतर सभी कॉलेज या यूनिवर्सिटीज़ के द्वारा मान्य होती हैं उनमें से कुछ इस प्रकार हैं: 

विदेशी प्रवेश परीक्षाएं

भारतीय प्रवेश परीक्षाएं 

  • MCAER CET
  • OUAT ET
  • ICAR AIEEA (PG)
  • CUCET  
  • IPU CET 
  • KIITEE BCA
  • LUCSAT BCA
  • BU MAT
  • RUET
  • NMU UG CET
  • GSAT
  • LUCSAT
  • AIMA UGAT

लैंग्वेज रिक्वायरमेंट

एप्लिकेशन डेवलपर बनने के बाद करियर विकल्प

एप्लिकेशन डेवलपर बनने के बाद में आप निम्न करियर विकल्पों की ओर देख सकते हैं-

  • मोबाइल ऐप डेवलपर: एंड्रॉइड या आईओएस प्लेटफॉर्म के लिए मोबाइल एप्लिकेशन डिजाइन और डेवलप करें।
  • वेब डेवलपर: HTML, CSS और JavaScript जैसी प्रोग्रामिंग भाषाओं का उपयोग करके वेब एप्लिकेशन डेवलप करें।
  • फुल स्टैक डेवलपर: एप्लीकेशन के फ्रंट-एंड और बैक-एंड दोनों को डेवलप करें, अक्सर विभिन्न प्रोग्रामिंग लैंग्वेजेस और रूपरेखाओं का उपयोग करते हुए।
  • गेम डेवलपर: गेम इंजन और प्रोग्रामिंग लैंग्वेज जैसे C++ और यूनिटी का उपयोग करके वीडियो गेम डेवलप करें।
  • सॉफ्टवेयर इंजीनियर: फाइनेंस, हेल्थकेयर और शिक्षा सहित विभिन्न इंडस्ट्रीज के लिए सॉफ्टवेयर एप्लिकेशंस का डेवलपमेंट और रखरखाव।
  • यूएक्स/यूआई डिजाइनर: उपयोगिता और यूजर्स संतुष्टि सुनिश्चित करने के लिए एप्लीकेशन के लिए यूजर इंटरफेस डिजाइन और डेवलप करें।
  • DevOps Engineer: सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन की तैनाती और परीक्षण को प्रबंधित और स्वचालित करें।
  • टेक्निकल प्रोजेक्ट मैनेजर: सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट्स प्रोजेक्ट्स को मैनेज करें और डेवलपर्स की टीमों की निगरानी करें।

टॉप रिक्रूटर्स

Application developer के लिए टॉप रिक्रूटर्स की लिस्ट नीचे दी गई है-

  • Google
  • Microsoft
  • Meta
  • Amazon
  • Snapchat
  • TCS
  • Infosys
  • Wipro
  • Deloitte
  • Capgemini 

एप्लिकेशन डेवलपर की जॉब प्रोफाइल्स और सैलरी पैकेज

Glassdoor.in के अनुसार इंडिया में एप्लिकेशन डेवलपर की जॉब प्रोफाइल्स और सैलरी पैकेज निम्न प्रकार से हो सकता है-

जॉब प्रोफाइल्स औसत सालाना सैलरी (INR) 
सॉफ्टवेयर इंजीनियर 10-50 लाख
गेम डेवलपर 8-30 लाख
फुल स्टैक डेवलपर 15-45 लाख 
वेब डेवलपर 6-10 लाख
मोबाइल ऐप डेवलपर 20-80 लाख
टेक्निकल प्रोजेक्ट मैनेजर 15-50 लाख 
DevOps Engineer 20-40 लाख
UX/UI डिजाइनर 10-30 लाख 

FAQs

एप्लिकेशन डेवलपर्स को कौन सी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज जानने की जरूरत है?

Java, Python और C ++ जैसी प्रोग्रामिंग भाषाएं आमतौर पर एप्लिकेशन डेवलपर्स द्वारा उपयोग की जाती हैं।

फ्रंट-एंड और बैक-एंड डेवलपमेंट में क्या अंतर है?

फ्रंट-एंड डेवलपमेंट में यूजर इंटरफेस डिजाइन करना शामिल है, जबकि बैक-एंड डेवलपमेंट सर्वर-साइड प्रोग्रामिंग पर केंद्रित है।

मैं एक एप्लिकेशन डेवलपर के रूप में अपने कौशल को कैसे सुधार सकता हूं?

कौशल में सुधार में नई प्रोग्रामिंग भाषाएं सीखना, उद्योग के रुझानों के साथ अप-टू-डेट रहना और परियोजनाओं का पोर्टफोलियो बनाना शामिल हो सकता है।

एप्लिकेशन डेवलपर्स के लिए जॉब आउटलुक क्या है?

विभिन्न उद्योगों में कुशल डेवलपर्स की बढ़ती मांग के साथ एप्लिकेशन डेवलपर्स के लिए नौकरी का दृष्टिकोण सकारात्मक है।

उम्मीद है आपको  application developer  के संदर्भ में हमारा यह ब्लॉग पसंद आया होगा। यदि आप भी किसी विदेशी यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग की पढ़ाई करना चाहते हैं तो आज ही 1800 572 000 पर कॉल करके हमारे Leverage Edu  के एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें। वे एक उचित मार्गदर्शन के साथ आवेदन प्रक्रिया में भी आपकी मदद करेंगे।

प्रातिक्रिया दे

Required fields are marked *

*

*