एयरोनॉटिकल इंजीनियर कैसे बनें?

2 minute read
490 views
10 shares
Leverage Edu Default Blog Cover

आज के इस युग में हर एक फील्ड में हमें इंजीनियर की ज़रूरत होती है क्योंकि किसी भी टेक्निकल चीज की खामियों को ठीक कर देते हैं। जैसे किसी इमारत बनाने के लिए सिविल इंजीनियर की जरूरत होती है। गाड़ियों को बनाने और ठीक करने के लिए मैकेनिकल इंजीनियर की ज़रूरत होती है। वैसे ही हवाई जहाज के किसी पार्ट्स में आई कमी को एयरोनॉटिकल इंजीनियर ठीक करता है। Aeronautical engineer kaise bane और इसके लिए क्या योग्यता होनी चाहिए, कहाँ से इसकी पढ़ाई करनी चाहिए इन सभी बातों की चर्चा आज हम अपने ब्लॉग में करेंगे। चलिए विस्तार से जानते हैं कि aeronautical engineer kaise bane।

कोर्स का नाम Aeronautical engineering
कोर्स लेवल अंडरग्रेजुएट
कोर्स अवधि 4 वर्ष 
योग्यता साइंस स्ट्रीम से न्यूनतम 60%-70% अंकों के साथ 10+2 और 3 साल के इंजीनियरिंग डिप्लोमा करने के बाद टॉप एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग कॉलेज/यूनिवर्सिटीज में एडमिशन लेने के लिए AME CET परीक्षा देनी होगी। 
परीक्षा के प्रकार सेमेस्टर के हिसाब से
कोर्स फीस INR 8-15 लाख
एडमिशन प्रक्रिया प्रवेश परीक्षा के आधार पर 
टॉप रिक्रूटर्स -DRDO
-ISRO
-Boeing
-Lockheed Martin
-Airbus
-Hindustan Aeronautical Ltd (HAL)
-National Aeronautical Lab (NAL)
औसत शुरूआती सैलरी INR 5-6 लाख
जॉब प्रोफाइल्स -एयरोस्पेस इंजीनियर
-डिज़ाइन इंजीनियर
-सिस्टम सेफ्टी मैनेजमेंट इंजीनियर

एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग क्या है?

एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग, इंजीनियरिंग में ऐसी फील्ड है, जिसमें एयरक्राफ्ट को ऑपरेट करना, उसकी डिजाइनिंग औरडेवलपमेंट शामिल हैं। यह कोर्स नए प्रोफेशनल्स को कमर्शियल या मिलिट्री एयरक्राफ्ट, मिसाइल्स और स्पेसक्राफ्ट के कंस्ट्रक्शन, डिजाइनिंग, टेस्टिंग और एनालिसिस में ट्रेनिंग देता है। इसके अलावा एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में कमर्शियल एविएशन, डिफेंस सिस्टम्स और स्पेस एक्सप्लोरेशन में रिसर्च करना भी शामिल है।

एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग और एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में अंतर

एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग और एयरोस्पेस इंजीनियरिंग दोनों ही अलग अलग फील्ड है लेकिन इन दोनों ही फील्ड का काम लगभग मिलता जुलता है। एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग उन वायुयानों के डिजाइन और विकास के लिए है जो पृथ्वी के वायुमंडल के भीतर उड़ान भरते हैं, जबकि एयरोस्पेस इंजीनियरिंग उड़ान भरने वाले सभी हवाई जहाजों के साथ-साथ पृथ्वी के बाहर के वातावरण का भी अध्ययन कराती है। इस प्रकार इसमें मिसाइल्स, रॉकेट्स, सैटेलाइट्स, स्पेसक्राफ्ट, स्पेस स्टेशन आदि का अध्ययन शामिल है।

एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग क्यों करें? 

एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग व्यक्तियों के लिए लगातार बढ़ते उद्योग में काम कर एक्सपीरियंस प्राप्त करने का मौका देता है। Boeing और Airbus जैसी विमान बनाने वाली कंपनियों से लेकर ऑटोमोबाइल, रक्षा और परामर्श क्षेत्रों में भी विकल्प तलाशे जा सकते हैं। इस प्रकार यह एक बहुमुखी लेकिन युवाओं के लिए आकर्षक कैरियर मार्ग बना रहा है। नीचे कुछ कारण बताये गए हैं, जो आपको यह जानने में मदद करेंगे की एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग क्यों करनी चाहिए-

  • एरोनॉटिक्स और एयरोस्पेस आपको रिसर्च, डिज़ाइन और एयरक्राफ्ट के रख-रखाव से जुड़े रोजगार के बड़े अवसर प्रदान करते हैं।
  • एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग का चयन करना देश के एरोनॉटिक्स और एयरोस्पेस के विकास में योगदान दे सकता है।
  • एरोनॉटिक्स एक चैलेंजिंग और क्रिटिकल प्रोफेशन है, जिसमें हाई-लेवल कमिटमेंट और कड़ी मेहनत की आवश्यकता होती है। प्रतिष्ठित और बड़े संगठन आपको आकर्षित सैलरी पैकेज प्रदान करते हैं। एयरोनॉटिकल इंजीनियर की औसत सालाना आय INR 5 लाख से शुरू होकर INR 10-12 लाख तक होती है।
  • एयरोनॉटिकल इंजीनियर के द्वारा आपको दुनिया भर में यात्रा करने का अवसर मिल सकता है। 

एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग के फायदे

एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग आज सिर्फ विमान डिज़ाइन करने, उनके रखरखाव के तकनीकी विषयों तक ही सीमित नहीं है, बल्कि वर्तमान में एविएशन लॉ और रेगुलेशन, सप्लाई चैन, ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट, बिहेवियरल साइकोलॉजी जैसे क्षेत्रों से भी जुड़ा हुआ है। यह व्यक्तियों को इस इंडस्ट्री में बढ़ते रोजगार में काम करके अनुभव प्राप्त करने का अवसर प्रदान करता है।

Credits – Zach Star

एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग के लिए स्किल्स

aeronautical engineer kaise bane जानने के साथ-साथ यह जानना भी आवश्यक है कि इसके लिए किन-किन स्किल्स का होना आवश्यक है-

  • समस्या को सुलझाना
  • त्वरित निर्णय लेना
  • जटिल अन्वेषण
  • विशेषज्ञ गणितीय योग्यता
  • समय प्रबंधन
  • कंप्यूटर टूल्स
  • मौखिक और लिखित संचार कौशल
  • एकाधिक भाषाएँ [पसंदीदा]
  • नेतृत्व
  • टीम वर्क
  • सहयोग

एयरोनॉटिकल इंजीनियर के कार्य

एयरोनॉटिकल इंजीनियर, एयरक्राफ्ट के साथ काम करते हैं। एयरोनॉटिकल इंजीनियर का मुख्य काम होता है एयरक्राफ्ट और प्रोपल्शन सिस्टम्स को डिज़ाइन करना और एयरक्राफ्ट व कंस्ट्रक्शन मटीरियल के एयरोडायनामिक प्रदर्शन की पढ़ाई करना। वे धरती के वातावरण के अंदर फ्लाइट की थ्योरी, टेक्नोलॉजी का काम करते हैं।

एयरोनॉटिकल इंजीनियर बनने के लिए स्टेप बाय स्टेप गाइड

एयरोनॉटिकल इंजीनियर बनने के लिए स्टेप बाय स्टेप गाइड नीचे दी गई है-

  • स्टेप 1: आवश्यक शिक्षा पूरी करें: आपको किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से एयरोनॉटिकल या एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में चार साल की डिग्री हासिल करनी चाहिए। इन डिग्रियों में गणित, विज्ञान और भौतिकी के कोर्सेज शामिल हैं। आप प्रैक्टिकल लैब्स में भी भाग लेंगे जो वायुगतिकीय सिद्धांतों का परीक्षण करते हैं और इंजीनियरिंग के यांत्रिक पक्ष को समझने के लिए आवश्यक तकनीकी विशेषज्ञता प्रदान करते हैं। यदि आप एक निश्चित प्रकार की इंजीनियरिंग में विशेषज्ञता हासिल करना चाहते हैं, तो अपनी मास्टर डिग्री हासिल करने पर विचार करें।
  • स्टेप 2: FE उत्तीर्ण करें: ग्रेजुएशन के बाद, आपको इंजीनियर बनने के लिए फंडामेंटल इंजीनियरिंग परीक्षा देनी होगी और पास करनी होगी। FE आपको तब तक एक इंजीनियर के रूप में काम करने की अनुमति देता है जब तक कि आप PE लेने के लिए पर्याप्त अनुभव अर्जित नहीं कर लेते।
  • स्टेप 3: अनुभव प्राप्त करें: PE के लिए क्वालीफाई करने के लिए, आपको इंजीनियरिंग सेटिंग में अनुभव की आवश्यकता होगी। एक नियोक्ता खोजें जो आपको प्रशिक्षित करने और निर्देश देने के लिए तैयार है जब तक कि आप पूरी तरह से लाइसेंस प्राप्त नहीं कर लेते।
  • स्टेप 4: PE हासिल करें: क्षेत्र में कम से कम चार वर्षों तक काम करने के बाद, आप एक लाइसेंस प्राप्त इंजीनियर बनने के लिए प्रोफेशनल इंजीनियरिंग परीक्षा दे सकते हैं।

एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग का सिलेबस

एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में पढ़ाए जाने वाले विषय इस प्रकार हैं:

सेमेस्टर I सेमेस्टर II
कम्युनिकेटिव इंग्लिश बेसिक्स ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग 
गणित I मटीरियल साइंस
फिजिक्स I फिजिक्स 2
केमिस्ट्री थर्मोडायनामिक्स
सिविल इंजीनियरिंग बेसिक्स एनवायर्नमेंटल इंजीनियरिंग 
बेसिक्स ऑफ मैकेनिक्स  प्रैक्टिकल लैब
प्रैक्टिकल लैब
सेमेस्टर III सेमेस्टर IV
गणित III प्रोपल्शन सिस्टम 
एयरक्राफ्ट परफॉरमेंस फंडामेंटल्स ऑफ गैस टरबाइन इंजन 
एयरक्राफ्ट स्ट्रक्चर I  एयरक्राफ्ट स्ट्रक्चर 2
बॉडी डिज़ाइन 1 बॉडी डिज़ाइन 2
प्रिंसिपल्स ऑफ एरोडायनामिक्स ड्राफ्ट तकनीकें 
बीम्स एंड ट्रस टर्निंग परफॉरमेंस स्टडी
प्रैक्टिकल लैब प्रैक्टिकल लैब
सेमेस्टर सेमेस्टर VI
एक्सपेरिमेंटल स्ट्रेस एनालिसिस  प्रोफेशनल एथिक्स 
एयरक्राफ्ट स्टेबिलिटी एंड कण्ट्रोल प्रिंसिपल्स ऑफ एनवायर्नमेंटल साइंस और इंजीनियरिंग 
कण्ट्रोल ऑफ एयरक्राफ्ट मैनेजमेंट साइंस
मेंटेनेंस ऑफ एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस ऑफ एयरक्राफ्ट 2
मिसाइल प्रोपल्शन टोटल क्वालिटी मैनेजमेंट 
एडवांस्ड प्रोपल्शन तकनीकें  प्रैक्टिकल लैब
इलेक्टिव 1 इलेक्टिव 2
प्रैक्टिकल लैब
सेमेस्टर VII सेमेस्टर VIII
इमरजेंसी ऑपरेशन्स एयर ट्रैफिक कंट्रोल
सेफ्टी ऑफ ऑपरेशन्स GPS टेक्नोलॉजी
इलेक्टिव विषय 3 इलेक्टिव 4 
ग्लोबल एविएशन सेक्टर  पर्सनेल मैनेजमेंट
प्रोजेक्ट प्रोजेक्ट
प्रैक्टिकल लैब प्रैक्टिकल लैब

एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग के लिए कोर्सेज

एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में अंडरग्रेजुएट और डिप्लोमा लेवल के सभी कोर्स इसमें करियर बनाने वाले युवाओं की पसंद होते हैं। एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग कोर्सेज की लिस्ट नीचे दी गई है-

  • Bachelor’s in Aeronautical Engineering
  • BEng Aerospace Engineering
  • BSc Aeronautics
  • BTech in Avionics
  • BE/BTech in Aeronautical Engineering
  • BE in Aircraft Engineering
  • Diploma in Aeronautical Engineering
  • MEng in Aeronautical Management
  • Master’s in Aerospace Engineering
  • Master’s in Aeronautical and Aerospace Engineering
  • MTech in Space Engineering and Rocketry
  • PhD in Aeronautical and Automobile Engineering

आप AI Course Finder की मदद से अपनी प्रोफाइल के अनुसार सही यूनिवर्सिटी और अपनी पसंद का कोर्स चुन सकते हैं।

विदेशों में एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग के लिए टॉप यूनिवर्सिटीज

अमेरिका में एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग कॉलेजों ने न केवल कैरियर की संभावनाओं के मामले में बल्कि कोर्सेज, प्रसिद्ध फैकल्टीज के मामले में भी खुद को पहले स्थान पर पहुंचा दिया है। लेकिन यूके, ऑस्ट्रेलिया और कनाडा जैसे स्थानों में यह उभरती हुई इंडस्ट्री के रूप में है, जिसे टाइम्स हायर एजुकेशन ने भी मान्यता दी है। नीचे दी गई लिस्ट में कुछ विदेशों के कुछ टॉप एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग की यूनिवर्सिटीज शामिल हैं-

यूनिवर्सिटी का नाम देश कोर्सेज
कैलिफोर्निया प्रौद्योगिकी संस्थान [कैलटेक] यूएसए 1. PhD in Aeronautics
2. MSc in Aeronautics
स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय यूएसए 1. BSc in Aeronautics & Astronautics
2. MSc in Aeronautics & Astronautics
3. PhD in Aeronautics & Astronautics
मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी [एमआईटी] यूएसए 1. BSc in Aerospace Engineering
2. Doctor of Science in Aeronautics & Astronautics
3. PhD in Aeronautics & Astronautics
प्रिंसटन विश्वविद्यालय यूएसए 1. Bachelor of Science in Engineering in Mechanical & Aerospace Engineering
2. Master of Science in Mechanical & Aerospace Engineering
3. PhD in Mechanical & Aerospace Engineering
इंपीरियल कॉलेज लंदन यूके 1. MSc Advanced Aeronautical Engineering
2. MSc Advanced Computational Methods for Aeronautics, Flow Management & Fluid-Structure Interaction
3. MEng Aeronautical Engineering (Hons)
यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन यूके 1. PG Certificate Defence Systems Engineering
2. MSc Space Science & Technology: Space Technology
टोरोन्टो विश्वविद्यालय कनाडा 1. Master of Applied Science in Aerospace Science & Engineering
2. MEng in Aerospace Science & Engineering
3. PhD in Aerospace Science & Engineering
मिशिगन यूनिवर्सिटी यूएसए 1. BSE in Aerospace Engineering
2. MSE in Aerospace Engineering
3. PhD in Aerospace Engineering
मेलबर्न विश्वविद्यालय ऑस्ट्रेलिया Master of Engineering [MEchanical with Aerospace]
जॉर्जिया इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी यूएसए 1. BSc in Aerospace Engineering
2. MSc in Aerospace Engineering
3. PhD in Aerospace Engineering
सिडनी विश्वविद्यालय ऑस्ट्रेलिया 1. Bachelor of Engineering  [Aeronautical]-Hons
2. Master of Professional Engineering [Aerospace]
डेल्ट यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी नीदरलैंड 1. BSc in Aerospace Engineering
2. MSc in Aerospace Engineering

आप UniConnect के ज़रिए विश्व के पहले और सबसे बड़े ऑनलाइन विश्वविद्यालय मेले का हिस्सा बनने का मौका पा सकते हैं, जहाँ आप अपनी पसंद के विश्वविद्यालय के प्रतिनिधि से सीधा संपर्क कर सकेंगे।

भारत में एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग के लिए टॉप यूनिवर्सिटीज

भारत में एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई कराने वाले टॉप कॉलेजों की लिस्ट इस प्रकार है-

इंस्टीट्यूट का नाम स्थान औसत सालाना फीस (INR)
PEC यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी चंडीगढ़ INR 1.02 लाख
SRM यूनिवर्सिटी चेन्नई INR 2 लाख
NIT नई दिल्ली INR 1.04 लाख
जवाहरलाल नेहरू टेक्नोलॉजिकल विश्वविद्यालय काकीनाडा INR 1.20 लाख
IIT  खड़गपुर INR 2.20 लाख
सत्यबामा विश्वविद्यालय चेन्नई INR 1.85 लाख

करियर स्कोप

एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग करने के बाद नीचे करियर स्कोप दिया गया है-

  • रिसर्च असिस्टेंट
  • लेक्चरर/प्रोफेसर
  • एयरक्राफ्ट तकनीशियन
  • एयरोस्पेस मेडिसिन एक्सपर्ट
  • ऐरक्रैश इन्वेस्टीगेशन एक्सपर्ट
  • एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस इंजीनियर
  • टेक्निकल अफसर
  • एयरक्राफ्ट डिज़ाइन इंजीनियर
  • QA इंजीनियर
  • एयरवर्दीनेस इंजीनियर
  • एरोडायनमिस्ट
  • स्ट्रक्चर एंड मटीरियल इंजीनियर
  • एकॉस्टिक एक्सपर्ट्स
  • स्ट्रेस एनालिस्ट

टॉप रिक्रूटर्स

एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग करने के बाद टॉप रिक्रूटर्स के नाम इस प्रकार हैं:

  • Hindustan Aeronautical Ltd (HAL)
  • National Aeronautical Lab (NAL)
  • Hindustan Aeronautics
  • Government of India, Department of Space, Indian Space Research Organisation
  • Brahmos Aerospace 
  • Indian Air Force
  • Defense Research and Development Laboratory
  • Aeronautical Development Establishment
  • DRDO
  • ISRO
  • Boeing
  • Lockheed Martin
  • Airbus
  • General Dynamics
  • Northrop Grumman
  • SpaceX
  • Blue Origin
  • Reaction engines
  • Flight clubs
  • TATA Advanced Systems
  • Mahindra Aerospace
  • Taneja Aerospace

सैलरी

Aeronautical engineer kaise bane जानने के बाद नीचे सैलरी की टेबल नीचे दी गई है-   

लेवल औसत सालाना सैलरी (INR)
एंट्री लेवल 30,000–35,000
मिड लेवल 60,000–70,000
टॉप लेवल 5–6 लाख

FAQs

मैं एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में एडमिशन कैसे ले सकता हूं?

साइंस स्ट्रीम से 10+2 और 3 साल के इंजीनियरिंग डिप्लोमा करने के बाद टॉप एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग कॉलेज/यूनिवर्सिटीज में एडमिशन लेने के लिए AME CET परीक्षा देनी होगी। 

क्या मुझे बिना JEE के एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में एडमिशन मिल सकता है?

जी हाँ, आप बिना JEE के भी एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में एडमिशन ले सकते हैं।  

एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग के लिए कौन सी प्रवेश परीक्षा आवश्यक है?

अगर कोई एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग करना चाहता है तो उसे AME CET 2022 परीक्षा देनी होगी। 

क्या एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग आसान है?

एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग को कठिन माना जाता है, लेकिन लगातार कड़े परिश्रम के साथ कोई भी इस क्षेत्र में महारत हासिल कर सकता है।

उम्मीद है कि आपको Aeronautical engineer kaise bane इसके लिए सही जानकारी मिल गई होगी। अगर आप विदेश में जाकर एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग का कोर्स करना चाहते हैं, तो आज ही Leverage Edu एक्सपर्ट्स के साथ 1800 572 000 पर कॉल करके 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert