फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर कैसे बनें?

2 minute read
45 views
Leverage-Edu-Default-Blog

अधिकतर सभी भारतीय छात्रों के बीच इंजीनियरिंग सबसे लोकप्रिय फील्ड है। हर साल, बड़ी संख्या में भारतीय छात्र कई तरह के कोर्सेज और डिग्रियों के लिए इंजीनियरिंग कॉलेजों के लिए आवेदन करते हैं। आम तौर पर छात्र सिविल इंजीनियरिंग और मैकेनिकल इंजीनियरिंग की ब्रांचेज को पसंद करते हैं। इन ब्रांचेज की स्पेशलाइजेशन अभी भी कम ज्ञात हैं और जिनकी अभी तक और खोज की जानी बाकी हैं। ऐसी ही एक स्पेशल ब्रांच है फायर एंड सेफ्टी इंजीनियरिंग है जो एक इंटरडिसिप्लिनरी है। यह ब्रांच आग और धुएं के खतरों से लोगों और महत्वपूर्ण स्थानों की सुरक्षित रखने और सुरक्षा सुनिश्चित करने से संबंधित है। इस ब्लॉग में हम आपको फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर कैसे बनें इस बारे में बताने जा रहे हैं।

विषय का नाम ऑटोमेशन इंजिनियरिंग 
उपलब्ध कोर्सेज डिप्लोमा, B.Tech, M.Tech
टॉप विदेशी यूनिवर्सिटीज़  ओटावा यूनिवर्सिटीसैंट लुइस यूनिवर्सिटीवेस्टर्न सिडनी यूनिवर्सिटी आदि। 
टॉप भारतीय यूनिवर्सिटीज़  निम्स यूनिवर्सिटी, एमजीए यूनिवर्सिटी, गोरुगोविंद सिंग इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी आदि। 
जॉब प्रोफाइल  सेफ्टी ऑफिसर, सेफ्टी इंजीनियर, फायर एंड सेफ्टी मैनेजर आदि। 
टॉप रिक्रूटर्स  L&T, ONGC आदि। 

फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर कौन होते हैं?

फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर आग से उत्पन्न होने वाले जोखिम को कम करने के लिए स्ट्रक्चर के आर्किटेक्चर और डिजाइन को प्रभावित करते हैं। इस प्रकार वे किसी भी दुर्घटना से जीवन बचाने के लिए काम करते हैं। डिजाइन पूरा होने की प्रक्रिया के बाद फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर यह निर्धारित करता है कि एक संरचना को आग लगने की स्थिति में प्रभावी ढंग से आग को दबाने के लिए किस प्रकार के फायर एंड सेफ्टी उपकारणों की आवश्यकता होती है। विभिन्न प्रकार के स्ट्रक्चर्स विभिन्न प्रकार के जोखिम उठाते हैं। यह फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर की जिम्मेदारी है कि वह यह निर्धारित करे कि किसी विशेष स्ट्रक्चर की फिजिकल स्पेशलाइजेशन इसकी फायर फाइटिंग आवश्यकताओं को कैसे प्रभावित करती हैं। फायर एंड सेफ्टी इंजीनियरों को आम तौर पर विभिन्न प्रकार की व्यवस्थाओं की मजबूत वर्किंग नॉलेज होती है। फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर कि फायर सिक्योरिटी सिस्टम को इस तरह से डिजाइन करते हैं जिससे किसी भी प्रकार की दुर्घटना की संभावना पूरी तरह से खत्म हो जाती है। 

फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर क्यों बनें?

फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर बनने के कुछ मुख्य कारण नीचे दिए गए हैं:

  • फायर सेफ्टी इंजीनियर बनने के कोर्सेज आवेदकों को प्रभावी सुरक्षा कर्मी बनने में सहायता करता है। खतरनाक कारकों में वृद्धि के साथ-साथ अधिक फायर सेफ्टी इंजीनियर्स की मांग में वृद्धि हुई है।
  • फायर एंड  सेफ्टी इंजीनियर के कोर्स इंडस्ट्री में संकट प्रबंधन और सुरक्षा से जुड़ा हुआ है, समय के साथ अवसरों में काफी वृद्धि होगी। इसका कारण यह है कि जैसे-जैसे सेक्टर बढ़ेगा, सेफ्टी उपायों की आवश्यकता भी बढ़ती जायेगी।
  • उदाहरण के लिए ऑयल एंड नेचुरल गैस कॉर्पोरेशन (ओएनजीसी), सेंट्रल इंडस्ट्रियल सिक्योरिटी फोर्स (सीएनएससी) के साथ माइनिंग इंडस्ट्री जैसे उद्योगों में मानवीय गलतियों या खराब मशीनरी के कारण इस प्रकार की दुर्घटना का उच्च जोखिम होता है। आपके पास इन क्षेत्रों में काम करने के अवसर होते हैं क्योंकि इन क्षेत्रों में आम तौर पर बड़ी संख्या में कर्मचारी और कर्मचारी होते हैं, यहां तक ​​कि एक छोटी सी घटना से भी कई लोगों की जान जा सकती है।  नतीजतन, अग्निशामक को आवश्यक सुरक्षा सावधानी बरतनी चाहिए।
  • आप करियर विकल्प के तौर पर स्कूल्स, कॉलेजेज, शॉपिंग सेंटर्स और हाई राइज में भी काम कर सकते हैं। इन जगहों पर इस फील्ड के एक्सपर्ट्स की मांग होती है। 
  • फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर वेल पैड भी होते हैं फायर सेफ्टी के क्षेत्र में इंजीनियर्स का सैलरी पैकेज काफी अच्छा होता है।    

स्किल्स

फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर का काम बहुत ही जिम्मेदारी भरा रहता है अतः आपके पास कुछ इंपोर्टेंट स्किल होनी चाहिए जो इस जॉब में आपकी सहायता करेगी। वे स्किल्स निम्न प्रकार से हैं:

फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर कैसे बनें?

फायर एंड सेफ्टी कैसे बनें इसके लिए स्टेप बाय स्टेप गाइड नीचे दी गई है। आप इस गाइड की सहायता से अपने निर्णय ले सकते हैं:

  • स्टेप 1: स्कूलिंग कंप्लीट करें: आप अपने स्कूल की पढ़ाई पूरी करें और खासकर इस चीज़ का ध्यान रखें कि आपके मुख्य विषय फिजिक्स, केमेस्ट्री, मैथ्स और बायोलॉजी जैसे विषयों से होने चाहिए।
  • स्टेप 2: एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी करें: आप अपनी स्कूली शिक्षा पूर्ण होने के बाद फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर बनने के लिए एंट्रेस एग्जाम की तैयारी कर सकते हैं इंडिया में मुख्य तौर पर JEE तथा विदेशों के एंट्रेंस एग्जाम भी हैं जैसे SATACT आदि। इन एग्जाम्स की सहायता से आप BE या B.Sc जैसे कोर्सेज के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • स्टेप 3: ग्रेजुएट डिग्री प्राप्त करें: आप B.Tech फायर एंड सेफ्टी इंजीनियरिंग या फिर B.Sc. फायर एंड इंडस्ट्रियल सेफ्टी जैसे कोर्सेज में बैचलर डिग्री प्राप्त कर सकते हैं। ये कोर्सेज सामान्यत: 3 से 4 वर्ष के होते हैं। इसके अलावा आप 2 वर्ष का डिप्लोमा कोर्स भी कर सकते हैं।
  • स्टेप 4: जॉब प्राप्त करें: इस स्टेप तक आने के बाद आप एक अंततः आप एक फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर बन चुके हैं। आप अपनी डिग्री और स्किल्स के आधार पर जॉब के लिए आवेदन कर सकते हैं। एक जॉब के लिए कोशिश करें और जॉब प्राप्त करें जो आपको इस क्षेत्र में काम सीखने में अत्यधिक मदद करेगी क्योंकि जितना आप एक्सपीरियंस से सीखते हैं उतना आपको कोई नहीं सीखा सकता है।
  • स्टेप 5: पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री प्राप्त करें: आप अपनी जॉब में बेहतर अवसरों के लिए एक पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री भी प्राप्त कर सकते हैं। आप सेफ्टी मैनेजमेंट में MBA या फिर MBA इन फायर एंड सेफ्टी मैनेजमैंट जैसी पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री प्राप्त कर सकते हैं। इन कोर्सेज की अवधि सामान्यत: 2 वर्षों की होती है। इसके अलावा आप 1 वर्ष का पीजी डिप्लोमा भी प्राप्त कर सकते हैं या फिर इंडस्ट्रियल सेफ्टी में किसी एडवांस डिप्लोमा को भी प्राप्त कर सकते हैं।

टॉप कोर्सेज 

फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर बनने के लिए टॉप कोर्सेज निम्न प्रकार से हैं:

सर्टिफिकेट कोर्सेज

  • Certificate in Fireman Training
  • Certificate in Disaster Management
  • Certificate in Security and Fire Prevention

ITI कोर्सेज

  • ITI Fireman Course
  • ITI Fire Technology and Safety Management

डिप्लोमा कोर्सेज

  • Diploma in Fire and Safety Technology
  • Diploma in Fire and Safety Engineering
  • Diploma in Fire and Safety Management

बैचलर्स कोर्सेज

  • B.Sc. Fire and Safety
  • B.Sc. Fire Safety and Hazard Management
  • B.Sc. Fire and Industrial Safety
  • B.Tech Fire and Safety Engineering
  • B.E in Fire and Safety Management.

पीजी कोर्सेज

  • PG Diploma in Fire and Safety Management
  • PG Diploma in Fire Safety and Hazard Management 

टॉप विदेशी यूनिवर्सिटीज़

फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर बनने के लिए दुनिया की बेस्ट यूनिवर्सिटीज की लिस्ट दी गई है, जहाँ से आप इस कोर्स को कर सकते हैं। लिस्ट इस प्रकार है:

यूनिवर्सिटी  देश
सेंट लुइस यूनिवर्सिटी  अमेरिका
सफ़ोक यूनिवर्सिटी  अमेरिका
नॉर्थइस्टर्न यूनिवर्सिटी  अमेरिका
फेडरेशन यूनिवर्सिटी ऑस्ट्रेलिया ऑस्ट्रेलिया
नॉटिंघम यूनिवर्सिटी  यूनाइटेड किंगडम
विस्कॉन्सिन यूनिवर्सिटी -मिल्वौकी अमेरिका
आयरलैंड नैशनल यूनिवर्सिटी , गॉलवे आयरलैंड
सेंचुरी यूनिवर्सिटी  कनाडा
वेस्टर्न सिडनी यूनिवर्सिटी  ऑस्ट्रेलिया
ओटावा यूनिवर्सिटी  कनाडा

टॉप भारतीय यूनिवर्सिटीज़

निम्नलिखित आपको फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर से का कोर्स पढ़ने के लिए टॉप भारतीय संस्थानों की सूची नीचे दी हुई है, जहाँ से आप इस कोर्स को कर सकते हैं। लिस्ट इस प्रकार है:

संस्थान  जगह
इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट स्टडीज, निम्स यूनिवर्सिटी  जयपुर
इंस्टिट्यूट ऑफ़ फायर इंजीनियरिंग, एमजीएम यूनिवर्सिटी औरंगाबाद
नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ इंडस्ट्रियल टेक्नोलॉजी  मुंबई
जीजीएसआईपीयू – गुरु गोबिंद सिंह इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी  दिल्ली
दूरस्थ शिक्षा स्कूल, भारथिअर यूनिवर्सिटी  कोयंबटूर
इंजीनियरिंग कॉलेज गिंडी, अन्ना यूनिवर्सिटी  चेन्नई
चितकारा कॉलेज ऑफ एप्लाइड इंजीनियरिंग, चंडीगढ़ चंडीगढ़
इंजीनियरिंग स्कूल, यूपीईएस देहरादून
सिल्वर ओक यूनिवर्सिटी अहमदाबाद
पीपी सवानी यूनिवर्सिटी  सूरत

योग्यता

विदेश के शीर्ष यूनिवर्सिटी से फायर एंड सेफ्टी में कोई कोर्स करने के लिए, आपको कुछ पात्रता शर्तों को पूरा करना होगा। हालांकि योग्यता मानदंड एक यूनिवर्सिटी  से दूसरे यूनिवर्सिटी  में भिन्न हो सकते हैं, यहां कुछ सामान्य शर्तें दी हैं:

  • आवेदक के बारहवीं में अंक कम से कम 50% से अधिक होने अनिवार्य हैं।
  • मास्टर्स डिग्री कोर्स के लिए जरूरी है कि उम्मीदवार ने किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी  या कॉलेज से  बैचलर्स डिग्री प्राप्त की हो।
  • मास्टर्स कोर्स में एडमिशन के लिए कुछ यूनिवर्सिटी  प्रवेश परीक्षा आयोजित करते हैं इसके बाद ही आप इन कोर्सेज के लिए एलिजिबल हो सकते हैं।
  • किसी भी यूनिवर्सिटी में बैचलर डिग्री कोर्स कर लिए SAT/ACT की मांग भी की जा सकती है। 
  • मास्टर्स के लिए GRE और मेनेजमेंट कोर्स के लोग GMAT की भी मांग की जा सकती है। 
  • साथ ही विदेश के लिए आपको ऊपर दी गई आवश्यकताओं के साथ IELTS या TOEFL स्कोर की भी आवश्यकता होती है।

क्या आप IELTS/TOEFL/SAT/GRE में अच्छे अंक प्राप्त करना चाहते हैं? आज ही इन टेस्ट की बेहतरीन तैयारी के लिए Leverage Live पर रजिस्टर करें और अच्छे अंक प्राप्त करें।

आवेदन प्रक्रिया विदेशी यूनिवर्सिटीज़ के लिए

कैंडिडेट को आवदेन करने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया को पूरा करना होगा:

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप हमारे AI Course Finder की सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेजों जैसे SOP, निबंध (essay), सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टेस्ट स्कोर जैसे IELTS, TOEFL, SAT, ACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTS, TOEFL, PTE, GMAT, GRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप हमारी Leverage Live कक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीज़ा और छात्रवृत्ति / छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लेटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। 

आवदेन प्रक्रिया से सम्बन्धित जानकारी और मदद के लिए Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800 572 000 पर संपर्क करें।

भारतीय यूनिवर्सिटी के लिए आवेदन प्रक्रिया 

भारतीय यूनिवर्सिटीज़ द्वारा आवेदन प्रक्रिया नीचे मौजूद है-

  • सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  • यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  • फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  • अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  • इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  • यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

आवश्यक दस्तावेज़

आपको निम्न आवश्यक दस्तावेज़ों की आवश्यकता होगी:

छात्र वीज़ा पाने के लिए भी हमारे Leverage Edu  विशेषज्ञ आपकी हर सम्भव मदद करेंगे।

प्रवेश परीक्षाएं

अलग-अलग कॉलेजों में एडमिशन प्राप्त करने के लिए प्रवेश परीक्षाएं अलग प्रकार की होती है लेकिन कुछ ऐसी सामान्य परीक्षाएं है जो अधिकतर सभी कॉलेज या यूनिवर्सिटीज़ के द्वारा मान्य होती हैं उनमें से कुछ इस प्रकार हैं: 

विदेशी प्रवेश परीक्षाएं

भारतीय प्रवेश परीक्षाएं 

  • MCAER CET
  • OUAT ET
  • ICAR AIEEA (PG)
  • CUCET
  • IPU CET 
  • KIITEE BCA
  • LUCSAT BCA
  • BU MAT
  • RUET
  • NMU UG CET
  • GSAT
  • LUCSAT
  • AIMA UGAT

लैंग्वेज रिक्वायरमेंट

आवश्यक पुस्तकें 

फायर एंड सेफ्टी इंजीनियरिंग के लिए आवश्यक पुस्तकें निम्न प्रकार से हैं:

आवश्यक पुस्तकें  लेखक का नाम यहां से खरीदें
प्रिंसिपल्स ऑफ फायर सेफ्टी इंजीनियरिंग: अंडरस्टैंडिंग फायर एंड फायर प्रोटेक्शन दास अखिल कुमार यहां से खरीदें
एडवांसेज इन फायर सेफ्टी इंजीनियरिंग  पाउलो एजी पिलोटो, जोआओ पाउलो रोड्रिग्स यहां से खरीदें
फायर सेफ्टी इंजीनियरिंग: डिजाइन ऑफ़ स्ट्रक्चर्स जे ए पुरकिस यहां से खरीदें
मैनुअल ऑफ फायर सेफ्टी  प्रेकाश सेशा  यहां से खरीदें
टेंपरेचर कैलकुलेशन इन फायर सेफ्टी इंजीनियरिंग उल्फ विकस्ट्रॉम यहां से खरीदें

करियर स्कोप

नीचे कुछ टॉप कंपनीज तथा इंडस्ट्रीज के नाम दिए गए हैं जहाँ आप काम कर सकते हैं इसकी लिस्ट इस प्रकार दी गई है:

  • फायर सफेटरी ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट
  • कंस्ट्रक्शन फर्म
  • आर्म्ड फाॅर्स
  • सरकारी फायर फाइटर विभाग
  • तेल की कंपनियाँ
  • रिफाइनरीज
  • केमिकल प्लांट
  • इंडस्ट्रीज
  • सरकारी विभाग
  • बिजली बोर्ड

टॉप रिक्रूटर्स

  • PVR Limited
  • Larsen & Turbo Limited
  • CB Richard Ellis
  • ONGC
  • HAL 

जॉब प्रोफाइल और सैलरी पैकेज 

Glassdoor.in के अनुसार इंडिया में फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर की एवरेज सैलरी पैकेज तथा जॉब प्रोफाइल निम्न प्रकार से है:

जॉब प्रोफाइल  सैलरी पैकेज 
सेफ्टी ऑफिसर INR 3 से 5 लाख
सेफ्टी इंजीनियर  INR 4 से 8 लाख
फायर एंड सेफ्टी ऑफिसर INR 3.5 से 5.5 लाख
सीनियर फायर एंड सेफ्टी ऑफिसर INR 5.5 से 8 लाख
फायर एंड सेफ्टी मैनेजर INR 11 से 15 लाख
असिटेंट मैनेजर फायर एंड सेफ्टी  INR 6 से 8 लाख

FAQs

फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर बनने के लिए क्या करना चाहिए?

सामान्य परिस्थिति में फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर बनने के लिए आप एक बैचलर डिग्री प्राप्त कर सकते हैं। जिससे की आपको किसी जॉब को प्राप्त करने में सहायता मिलेगी। 

फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर कैसे बनें तथा किस कोर्स को करें?

फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर बनने के लिए डिप्लोमा, बैचलर तथा मास्टर स्तर के कोर्स कर सकते हैं।

फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर बनने के लिए बैचलर डिग्री के कोर्स में कितना समय लगता है?

फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर बनने के लिए बैचलर में आपको 3 से 4 वर्ष का समय लग सकता है। कोर्स की समयावधि उसके प्रकार के ऊपर भी निर्भर करती है। 

उम्मीद है आपको फायर एंड सेफ्टी इंजीनियर कैसे बनें इस संदर्भ में हमारा यह ब्लॉग पसंद आया होगा। यदि आप भी विदेश की किसी यूनिवर्सिटी से  फायर एंड सेफ्टी इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करना चाहते हैं तो आज ही 1800 572 000 पर कॉल करके हमारे Leverage Edu  के एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें। वे एक उचित मार्गदर्शन के साथ आवेदन प्रक्रिया में भी आपकी मदद करेंगे।

प्रातिक्रिया दे

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today. How-To guides
Talk to an expert