एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग कैसे करें?

1 minute read
304 views
10 shares
एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग

एग्रीकल्चर इंजीनियर कृषि, पारिस्थितिकी और खाद्य प्रौद्योगिकी के मुख्य क्षेत्रों से संबंधित मुद्दों को हल करने के साथ-साथ आर्द्रभूमि संरक्षण, टिकाऊ कृषि, हरित बुनियादी ढांचे और प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन प्रणाली जैसे उभरते क्षेत्रों पर काम करते हैं। एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग में कृषि मशीनरी, उपकरणों के डिजाइन, विकास और सुधार से संबंधित चीज़ों के बारे में पढ़ाया जाता है। यदि आप भी एग्रीकल्चर इंजीनियर के रूप में अपना करियर बनाना चाहते हैं, तो हमारा यह ब्लॉग पूरा पढ़ें, इसमें आपको इससे सम्बंधित सभी आवश्यक जानकरी मिलेगी। 

कोर्स एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग
कृषि इंजीनियरिंग नौकरियां सीनियर एग्रीकल्चर सुपरवाइजर, फार्मलैंड डिजाइनर, कृषि विज्ञानी, रिसर्चर, बीज विशेषज्ञ, मृदा निरीक्षक, फसल निरीक्षक आदि। 
अवधि -बी.टेक – 4 साल 
-एम.टेक / एमएस – 2 साल 
-पीएचडी – 3 से 5 साल
This Blog Includes:
  1. एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग क्या है?
  2. एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग कोर्सेज और सिलेबस 
    1. एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग में बीटेक
    2. एम.टेक एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग
  3. एग्रीकल्चर इंजीनियर कैसे बनें? 
  4. एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के लिए विदेश में टॉप विश्वविद्यालय
  5. एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के लिए भारत में टॉप कॉलेज
  6. एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग कोर्स फीस
  7. एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के लिए योग्यता
  8. एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के लिए एंट्रेंस एग्जाम 
  9. आवेदन प्रक्रिया 
    1. विदेश में एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के लिए आवेदन प्रक्रिया 
  10. आवश्यक दस्तावेज
  11. एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के बाद नौकरी प्रोफाइल और वेतन 
  12. टॉप रिक्रूटर्स
  13. FAQ

एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग क्या है?

एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग, जिसे कृषि और बायोसिस्टम इंजीनियरिंग के रूप में भी जाना जाता है। कृषि उद्देश्यों को पूरा करने के लिए एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग, विज्ञान और डिजाइन सिद्धांतों के अध्ययन और अनुप्रयोग का क्षेत्र है। कृषि इंजीनियर कृषि तकनीकों में सुधार करने या कृषि से संबंधित व्यवसायों की सहायता के लिए विभिन्न विषयों जैसे मैकेनिकल इंजीनियरिंग, सिविल इंजीनियरिंग, खाद्य विज्ञान इंजीनियरिंग, केमिकल इंजीनियरिंग, सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग आदि का उपयोग करते हैं। एग्रीकल्चर इंजीनियर खेतों और कृषि व्यवसाय उद्योग की दक्षता में सुधार के साथ-साथ प्राकृतिक और नवीकरणीय संसाधनों की स्थिरता सुनिश्चित करने के का काम करते हैं।

एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग कोर्सेज और सिलेबस 

एग्रीकल्चर इंजीनियर बनने के लिए आप इस क्षेत्र में B.Tech और M.Tech की डिग्री प्राप्त कर सकते हैं। सिलेबस आपके द्वारा चुने गए कोर्स और आपके कॉलेज पर भी निर्भर करेगा। नीचे सेमेस्टर के अनुसार सामान्य सिलेबस की जानकारी दी गई है:

एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग में बीटेक

सेमेस्टर 1 सेमेस्टर 2
इंजीनियरिंग रसायन विज्ञान यंत्र विज्ञान अभियांत्रिकी
इंजीनियरिंग ड्राइंग गणित 
भौतिक रसायन मृदा विज्ञान
सेमेस्टर 3 सेमेस्टर 4
बेसिक ऑफ एग्रीकल्चरल इंजीनियरिंग इंजीनियरिंग भौतिकी 2
इंजीनियरिंग भौतिकी 1 बागवानी और कृषि फसलें
उद्योगों में कृषि प्रक्रिया कृषि उपकरण
सर्वेक्षण और लेबलिंग के तरीके सोइल मकैनिक्स
सेमेस्टर 5 सेमेस्टर 6
जैव प्रौद्योगिकी मृदा भौतिकी
सांख्यिकी पद्धतियाँ खाद्य प्रौद्योगिकी में इकाई संचालन
एयर कंडीशनिंग और रेफ्रिजरेटिंग गतिविधि अनुसंधान
पर्यावरण अध्ययन ट्रैक्टर और बिजली इकाइयां
सेमेस्टर 7 सेमेस्टर 8
मशीनों के उपकरण और नियंत्रण जैविक खेती
वैकल्पिक खोलें फसल प्रसंस्करण इंजीनियरिंग
नवीकरणीय ऊर्जा कृषि प्रसंस्करण प्रौद्योगिकी

एम.टेक एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग

सेमेस्टर 1 सेमेस्टर II
खाद्य रसायन विज्ञान और सूक्ष्म जीव विज्ञान प्रक्रिया उपकरण और नियंत्रण
नर्सरी तकनीक खाद्य इंजीनियरिंग -I
विश्लेषणात्मक रसायन विज्ञान के सिद्धांत प्रशीतन इंजीनियरिंग
व्यावहारिक गणित फसल शरीर क्रिया विज्ञान
सूचना प्रौद्योगिकी की मूल बातें कृषि सूक्ष्म जीव विज्ञान
कृषि मौसम विज्ञान की मूल बातें कृषि अर्थशास्त्र के सिद्धांत
प्रभावी संचार के लिए अंग्रेजी जैविक सामग्री के इंजीनियरिंग गुण
सेमेस्टर III सेमेस्टर IV
बायोमास उपयोग और नवीकरणीय ऊर्जा प्रबंधन पशुधन और जलीय कृषि खाद्य उत्पाद प्रसंस्करण
मसालों और वृक्षारोपण फसलों का वाणिज्यिक उत्पादन मृदा विज्ञान की मूल बातें
कीट विज्ञान की मूल बातें औद्योगिक यात्रा I (फल, सब्जी और फूलों की खेती उद्योग)
खाद्य संरक्षण प्रौद्योगिकी जैव प्रौद्योगिकी के सिद्धांत
कृषि फसलों में बीज उत्पादन और गुणवत्ता नियंत्रण के सिद्धांत कृषि फसलों की बीज उत्पादन तकनीक
पशुधन और कुक्कुट उत्पादन प्रबंधन कृषि व्यवसाय प्रबंधन की मूल बातें
कृषि शक्ति और मशीनरी एप्लाइड स्टैटिस्टिक्स

आप AI Course Finder की मदद से अपनी प्रोफाइल के अनुसार सही यूनिवर्सिटी और अपनी पसंद का कोर्स चुन सकते हैं।

एग्रीकल्चर इंजीनियर कैसे बनें? 

एग्रीकल्चर इंजीनियर कैसे बनें इसके लिए चरण-दर-चरण गाइड नीचे दी गई है:

  1. एग्रीकल्चर इंजीनियर बनने के लिए आपको सर्वप्रथम 12वीं साइंस स्ट्रीम में अच्छे अंको के साथ उर्त्तीण करनी होगी। 
  2. 12वीं के बाद आपको कॉलेज में एडमिशन लेने के लिए एंट्रेंस एग्जाम पास करना होगा। हालांकि कुछ कॉलेज 12वीं के अंकों के आधार पर पर भी एडमिशन देते हैं। 
  3. एंट्रेंस एग्जाम के अंकों के आधार पर आपको कॉलेज में एडमिशन मिलेगा। 
  4. डिग्री पूरी करने के बाद एक कृषि इंजीनियर के रूप में अपना करियर बना सकते हैं। 
  5. B.Tech के बाद आप M.Tech करने का भी विकल्प चुन सकते हैं। 
  6. M.Tech के बाद आपके पास पीएचडी करके रिसर्च के क्षेत्र में अपना करियर बनाने के बहुत विकल्प हैं। 

एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के लिए विदेश में टॉप विश्वविद्यालय

दुनिया भर में कई विश्वविद्यालय और कॉलेज हैं, जो एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग में उच्च डिग्री और डिप्लोमा कोर्सेज प्रदान करते हैं, जिसका उद्देश्य कृषि क्षेत्र को बढ़ावा देना और कृषि के लिए नई तकनीक का विकास करना है। एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के लिए दुनिया की टॉप यूनिवर्सिटीज की सूची नीचे दी गई है:

आप UniConnect के जरिए विश्व के पहले और सबसे बड़े ऑनलाइन विश्वविद्यालय मेले का हिस्सा बनने का मौका पा सकते हैं, जहाँ आप अपनी पसंद के विश्वविद्यालय के प्रतिनिधि से सीधा संपर्क कर सकेंगे।

एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के लिए भारत में टॉप कॉलेज

एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के लिए भारत के टॉप कॉलेजों की सूची नीचे दी गई है:

  • आईआईटी: भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, दिल्ली
  • कॉलेज ऑफ टेक्सटाइल टेक्नोलॉजी, पश्चिम बंगाल
  • मुंबई विश्वविद्यालय, महाराष्ट्र
  • एमिटी यूनिवर्सिटी, उत्तर प्रदेश
  • वेल्लोर प्रौद्योगिकी संस्थान (वीआईटी) वेल्लोर, तमिलनाडु
  • भारतीय इंजीनियरिंग विज्ञान और प्रौद्योगिकी संस्थान हावड़ा, पश्चिम बंगाल
  • मणिपाल उच्च शिक्षा अकादमी मणिपाल, कर्नाटक
  • कपड़ा विभाग, आईआईटी, दिल्ली
  • एसएसएम इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्सटाइल टेक्नोलॉजी एंड पॉलिटेक्निक कॉलेज, तमिलनाडु
  • सूचना प्रौद्योगिकी और प्रबंधन संस्थान, नई दिल्ली
  • एलडी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, गुजरात

एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग कोर्स फीस

एग्रीकल्चरल इंजीनियरिंग में करियर बनाने के लिए इसमें डिप्लोमा और बीटेक या बीई एग्रीकल्चरल इंजीनियरिंग जैसे कोर्स किये जा सकते हैं। BTech या BE in Agricultural Engineering की अवधि 4 वर्ष होती है। वहीं डिप्लोमा कोर्स 3 साल का होता है। इन कोर्स की फीस 4 से 6 लाख के आस-पास होती है।

एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग कोर्स के लिए औसत फीस नीचे दी गई है:

विशेष अंडर ग्रेजुएट  स्नातकोत्तर डॉक्टरेट
न्यूनतम शुल्क रु. 40,000  रु. 1,00,000 रु. 50,000
अधिकतम शुल्क रु. 1,20,000 रु. 3,20,000 रु. 4,00,000

एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के लिए योग्यता

एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के लिए योग्यता नीचे दी गई है: 

  • एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग में बैचलर्स कोर्स करने के लिए आपको 10+2 न्यूनतम 50% के साथ साइंस स्ट्रीम से पास करना होगा।
  • एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के लिए छात्रों को  JEE Main,JEE Advanced, MHT CET, OJEE, BCECE जैसे एंट्रेंस एग्जाम पास करने होंगे । विदेश में बैचलर्स कोर्स के लिए SAT or ACT एग्जाम पास करना होगा। 
  • यदि आप एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग में मास्टर डिग्री करना चाहते हैं, तो बैचलर्स डिग्री का होना आवश्यक है।
  • विदेश में एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के मास्टर डिग्री प्रोग्राम में एडमिशन लेने के लिए छात्रों के पास एक अच्छा GRE स्कोर होना चाहिए। 
  • अगर आप पीएचडी के लिए आवेदन करना चाहते हैं, तो आपको संबंधित कोर्स में मास्टर डिग्री को पास  करना जरूरी है।
  • भारत में पीएचडी कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आपको UGC-NET, TIFR,JRF-GATE या राज्य स्तर के एंट्रेंस एग्जाम पास करने होंगे। 
  • एक अच्छा IELTS/ TOEFL स्कोर अंग्रेजी भाषा की दक्षता के रूप में में होना आवश्यक है। 
  • विदेश में कुछ यूनिवर्सिटीज कुछ स्पेसिफिक कोर्सेज के लिए के लिए 2 वर्ष के अनुभव की भी मांग करती है, जिसका समय यूनिवर्सिटी के लिए अलग-अलग भी हो सकता है ।

आप Leverage Live की मदद से IELTS/ TOEFL/ GMAT/ GRE/ SAT/ ACT जैसे एग्जाम की तैयारी कर सकते हैं। लाइव डेमो के लिए अभी Leverage Live पर अपना फ्री डेमो बुक करें। 

एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के लिए एंट्रेंस एग्जाम 

एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग कोर्स में एडमिशन लेने के लिए एंट्रेंस एग्जाम की लिस्ट नीचे दी गई है: 

आवेदन प्रक्रिया 

भारत और विदेश में एग्रीकल्चर इंजीनियर बनने के लिए आपको नीचे बताई गई प्रक्रिया को चरण दर चरण फॉलो करना होगा।

  • चरण 1: सबसे पहले आवेदक को 12 साल की बेसिक शिक्षा पूरी करनी होगी और 12वीं में साइंस स्ट्रीम होनी आवश्यक है।
  • चरण 2: एग्रीकल्चर इंजीनियर बनने के लिए आपको सबसे पहले एंट्रेंस एग्जाम के लिए आवेदन करना होगा। छात्र को राष्ट्रीय स्तर की एग्जाम जैसे JEE Main या राज्य स्तर के एग्जाम जैसे KCET या यूनिवर्सिटी स्तर के एग्जाम जैसे SRMJEEE, VITEEE आदि के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • चरण 3: आपको अपने एग्जाम के तरीके ऑनलाइन या ऑफलाइन के आधार पर एग्जाम देना होगा। 
  • चरण 4: एंट्रेंस एग्जाम प्राप्त अंकों के आधार पर छात्रों का आंकलन किया जाएगा। शॉर्टलिस्ट किए गए छात्रों की एक मेरिट लिस्ट जारी की जाएगी।
  • चरण 5: शॉर्टलिस्ट किए गए छात्रों को यूनिवर्सिटी द्वारा काउंसलिंग के लिए बुलाया जाता है, जिसके बाद छात्रों का एडमिशन सुनिश्चित होता है। 

विदेश में एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के लिए आवेदन प्रक्रिया 

  • हमारे AI Course Finder की सहायता से अपने कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कीजिए और एक्सपर्ट्स से सलाह लीजिए। इसके बाद एक्सपर्ट्स हमारे कॉमन डैशबोर्ड प्लेटफॉर्म के माध्यम से कील विश्वविद्यालय में आपकी आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे जहां आप स्वयं अपनी आवेदन प्रक्रिया की स्थिति भी देख सकते हैं।
  • विश्वविद्यालय की ऑफिशियल वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करें। यूके में एडमिशन के लिए आप यूसीएएस वेबसाइट (UCAS) पर जाकर रजिस्ट्रेशन करें। यहाँ से आपको यूजर आईडी और पासवर्ड प्राप्त होंगे।
  • यूजर आईडी से साइन इन करें और कोर्स चुनें जिसे आप चुनना चाहते हैं। 
  • अगली स्टेप में अपनी शैक्षणिक जानकारी भरें।  
  • शैक्षणिक योग्यता के साथ  IELTS, TOEFL, प्रवेश परीक्षा स्कोर, SOP, LOR की जानकारी भरें। 
  • पिछले सालों की नौकरी की जानकारी भरें। 
  • रजिस्ट्रेशन फीस का भुगतान करें।
  • अंत में आवेदन पत्र जमा करें।
  • कुछ यूनिवर्सिटी, सिलेक्शन के बाद वर्चुअल इंटरव्यू के लिए इनवाइट करती हैं।

आवश्यक दस्तावेज

एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग में एडमिशन लेने के लिए नीचे दिए गए डॉक्यूमेंट होने आवश्यक है:

आकर्षक SOP और LOR बनाने में भी आप Leverage Edu विशेषज्ञ की मदद ले सकते हैं, ताकि आपकी एप्लीकेशन बिना किसी परेशानी के जल्दी सेलेक्ट कर ली जाए।

एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के बाद नौकरी प्रोफाइल और वेतन 

कृषि इंजीनियरिंग की पढ़ाई के बाद आप कृषि इंजीनियर, कृषि निरीक्षक, फार्म शॉप मैनेजर, खाद्य और पेय पर्यवेक्षक के रूप में अपना करियर बना सकते हैं। इस क्षेत्र में एक ठोस करियर बनाने के इच्छुक व्यक्तियों के लिए विभिन्न जॉब प्रोफाइल और सैलरी की सूची glassdoor.co.in के अनुसार  यहां दी गई है:

जॉब प्रोफाइल प्रारंभिक वेतन प्रति वर्ष  मध्य स्तरीय वेतन प्रति वर्ष  वरिष्ठ स्तर का वेतन प्रति वर्ष 
एग्रीकल्चर इंजीनियर  ₹ 2.39 लाख ₹ 5.50 लाख ₹ 11.40 लाख
एग्रीकल्चर इंस्पेक्टर ₹ 2.94 लाख ₹ 5.81 लाख ₹ 12.20 लाख
फार्म शॉप मैनेजर ₹ 1.01 लाख ₹ 4.71 लाख ₹ 8.28 लाख
खाद्य और पेय सुपरवाइजर  ₹ 1.74 लाख ₹ 2.40 लाख ₹ 4.15 लाख
सर्वे रिसर्च एग्रीकल्चर इंजीनियर ₹ 2.44 लाख ₹ 6.64 लाख ₹ 15.34 लाख

टॉप रिक्रूटर्स

कई कंपनियां एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग ग्रेजुएट्स को जॉब पाने का अवसर देती हैं। कुछ मुख्य संस्थाएं निम्नलिखित हैं:

  • डेयरी कम्पनीज (जैसे मदर डेयरी, अमूल)
  • नेस्ले इंडिया
  • आईटीसी
  • नाबार्ड
  • भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद
  • पीआरएडीएएन
  • भारतीय खाद्य निगम
  • वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद
  • राष्ट्रीय बीज निगम
  • राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड
  • विभिन्न कॉलेज

FAQ

क्या एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग एक अच्छा पेशा है?

एक एग्रीकल्चर इंजीनियर के रूप में करियर फायदेमंद हो सकता है। कृषि इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के बाद आप एग्रीकल्चर इंजीनियर, कृषि निरीक्षक, फार्म शॉप मैनेजर के रूप में अपना करियर बना सकते हैं। 

क्या एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के लिए गणित जरूरी है?

नहीं, 10+2 स्तर पर एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के लिए गणित अनिवार्य विषय नहीं है। गणित होना अच्छा है, लेकिन यह अनिवार्य नहीं है। भारतीय कॉलेजों में 10+2 स्तर पर गणित एक अनिवार्य विषय है।

एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के लिए कौनसे एंट्रेंस एग्जाम देने होते हैं?

एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के लिए आपको JEE Main/ JEE Advanced/ MHT CET/ OJEE/ BCECE जैसे एंट्रेंस एग्जाम देने होते हैं। 

एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग फील्ड में करियर कैसे बनाएं?

कृषि इंजीनियरिंग में बी.टेक कोर्स में एडमिशन प्राप्त करके आप एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग फील्ड में अपना करियर बना सकते हैं।

एग्रीकल्चर इंजीनियर की सैलरी कितनी होती है?

एग्रीकल्चर इंजीनियर की सैलरी शुरुआत में 2 लाख से 5 लाख तक प्रतिवर्ष हो सकती है जो कि अनुभव के साथ बढ़कर 15 लाख तक हो सकती है। 

उम्मीद है, कि इस ब्लॉग ने आपको एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के बारे में पूरी जानकारी प्रदान की है। यदि आप भी विदेश में एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग की पढ़ाई करना चाहते हैं तो हमारे Leverage Edu विशेषज्ञ के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन 1800 57 2000 पर कॉल कर बुक करें।

प्रातिक्रिया दे

Required fields are marked *

*

*

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert