Ph.D. कैसे करें?

3 minute read
1.6K views
Leverage Edu Default Blog Cover

Ph.D. रीसर्च के आधार पर की जाने वाली डिग्री है। जिसमे विद्यार्थी अपनी पसंद के मुताबिक़ विषय चुनकर उसपर विस्तार से ज्ञान हासिल कर सारी जानकारी को एक जगह एकत्रित करता है जिसे थीसिस कहा जाता है। इसका मकसद यह रहता की आगे उस विषय पर जान्ने के लिए उस थीसिस का इस्तमाल किया जा सकता है और विषय पर जानकारी ली जा सकती है। एक Ph.D. होल्डर ज़्यादातर प्रोफेसर , असिस्टेंट प्रोफेसर , लेखक आदि के रूप में अपने भविष्य को आकार देते है । लेकिन स्कोप बेहद है।
PhD kaise kare ? क्या है योग्यता का माप दंड ? कौन से टॉप कॉलेजेस कराते है पीएचडी ये सब विस्तार से जान्ने के लिए पढ़िए आगे का ब्लॉग।

Ph.D. की फुल फॉर्म in Hindi डॉक्टर ऑफ फिलॉसफी 
Ph.D. की फुल फॉर्म Doctor of Philosophy
Ph.D. का कुल समय 4-6 साल
Ph.D. के लिए आवश्यकता कोर्सवर्क, प्रेज़ेंटेशन, प्रगति रिपोर्ट जमा, डिफेन्स ऑफ़ द थीसिस
Ph.D. में एडमिशन डायरेक्ट एडमिशन / एंट्रेंस परीक्षा
Ph.D. कोर्सेज़ -Ph.D. in Physics
-Ph.D. computer science
-Ph.D. in Psychology
-Ph.D. in History
-Ph.D. in Business Administration
-Ph.D. in engineering
-Ph.D. in Economics
-Ph.D. in Nursing, etc.
ऑनलाइन Ph.D. प्रोग्राम -Online Doctor of Business Administration (DBA)
-Doctor of Nursing Practice 
-Doctorate in Business Administration 
-Doctor of Philosophy in Computer Science and Information Science 
-Doctor of Occupational Therapy degree 
Ph.D. भारत में IITs, IISc, जादवपुर यूनिवर्सिटी, दिल्ली यूनिवर्सिटी, JNU
Ph.D. विदेश में Massachusetts Institute of Technology (MIT)
University of Oxford
Stanford University 
Harvard University 

PhD क्या है?

PhD की फुल फॉर्म Doctor of Philosophy है। PhD विश्वविद्यालयों द्वारा प्रदान की जाने वाली विद्या-संबंधी डिग्री में सबसे ऊंची डिग्री मानी जाती हैं । PhD साथ-साथ एक पोस्ट ग्रेजुएट कि डॉक्टरेट डिग्री हैं जिसकी पूर्ती के बाद PhD करने वाले के नाम से पहले डॉ लग जाता हैं। वो विद्यार्थी जो अपने पसंद के विषय में महारथ हासिल करना चाहतें हैं। पीएचडी को चुनते हैं जिसमें उन्हें उस विषय पर रीसर्च कर उसकी बेहतर जानकारी होना और उस पर लिखना शामिल होता हैं। एक पीएचडी होल्डर अपना करियर किसी भी तरह से शुरू कर सकता हैं। मूलतः विद्यार्थीओ का पीएचडी करने का उद्देश्य प्रोफेसर बनना या रिसर्चर बनना होता हैं। 

PhD क्यों करें?

PhD शिक्षा प्रणाली का एक महत्पूर्व अंग हैं। PhD का मूल उद्देश्य ही नई खोज को जन्म देना और अलग अलग विषयो के बारे में गहरायी से ज्ञान अर्जित कर उसे सब तक पहुँचाना हैं। नई स्किल्स को उभारना और विकसित करना , नई चीज़ो को जान पाना और समझ पाना इसकी असल परिभाषा हैं। तो अगर आप वे व्यक्ति हैं जो किसी विषय कि गहराई में जाने में दिलचस्पी रखता हैं तो पीएचडी आपके लिए हैं।

PhD के प्रकार

एक समय था जब PhD कि महत्वता को कम बढ़ावा दिया जाता था या कह लीजिये कि PhD कम प्रचलित हुआ करती थी। लेकिन समय के साथ PhD होल्डर्स के लिए कई द्वार खुले और PhD कि महत्वता बढ़गयी। अब PhD सिर्फ ज्ञान अर्जित करने स्त्रोत नहीं हैं। कई नौकरिया और प्रोफेशंस PhD होल्डर्स को ही प्राथमिकता देते हैं जोकि PhD होल्डर्स के करियर को बेहतरी कि और ले जाता हैं और नए विकल्प प्रदान करता हैं। Ph.D. कैसे करें, के इस ब्लॉग में PhD के कुछ प्रकार विस्तार में दिए गए हैं: 

प्रोफेशनल डॉक्टरेटस

एक प्रोफेशनल डॉक्टरेट का मूल उद्देश्य वास्तविक समस्याओं पर रिसर्च कर उसे लागू करना हैं। जटिल परिस्तिथ्यो का उपाय निकालना और उसको डिज़ाइन करना ताकि प्रोफेशनल कार्यो में विपदा आने पर उसका निवारण हो सके। वो प्रोफेशन कोई भी हो सकता हैं। लेकिन किन कार्यो से उस समस्या का उपाय निकलेगा ये रिसर्च करके ही मालूम चल सकता हैं। इस प्रकार के PhD कोर्स को इंजीनियरिंग , मेडिसिन जैसे विषयों पर रिसर्च करने के लिए विद्यार्थियों द्वारा चुना जाता है। PhD के इस प्रकार को उन विद्यार्थियों द्वारा चुना जाता है, जो डिग्री पूरी करने के बाद एक विशेष प्रोफेशनल करियर विकल्प को चुनना चाहते हैं।

उच्च डॉक्टरेटस

उच्च डॉक्टरेट एक प्रकार हैं जिसमे स्कॉलर्स को औपचारिक रूप से सार्वजनिक मान्यता दी जाती हैं।
वो PhD होल्डर्स जिन्होंने अपने विषय में सामाजिक तौर पर एक अलग छाप छोड़ी हैं उन्हें ये डिग्री देकर सम्मानित किया जाता हैं। इस प्रकार की डिग्री के लिए कैंडिडेट को इंटरनल और एक्सटर्नल एग्ज़ामीनर कमिटी की सिफ़ारिश पर विशेष ग्रांट्स की आवश्यकता होती है। Ph.D. के इस प्रकार में Doctor of Divinity (DD), Doctor of Literature/ Letters (DLit/D’Litt/LitD/LittD), Doctor of Science (DS/SD/DSc/ScD), Doctor of Civil Law (DCL), Doctor of Music (DMus/MusD) और Doctor of Law (LLD) जैसे कई पुरस्कार शामिल हैं।

न्यू रूट PhD

PhD के इस प्रकार में एडमिशन लेने के लिए विद्यार्थियों को PhD शुरू करने से एक वर्ष पहले MRes यानी एक साल रिसर्च में मास्टर डिग्री लेना अनिवार्य है। इस कोर्स में पढ़ाए गए सभी आयामों को प्रैक्टिकल अनुभव और इंडिपेंडेंट रिसर्च के साथ मिलाकर परिणाम पर आया जाता हैं।। विद्यार्थियों के पास एजुकेशन, मीडिया, एडवांस IT, भाषाओ और बिज़नेस जैसे क्षेत्र में रिसर्च करने के लिए विस्तृत तरीके और बेहतर स्किल्स कि ज़रूरत होती है।

ऑनलाइन PhD

कई बार कुछ कारण वर्श ऑफलाइन PhD करना और क्लास लेना मुमकिन नहीं हो पाता हैं। ऐसे विद्यार्थियों के लिए ऑनलाइन PhD एक अच्छा विकल्प हैं। जैसा कि आप नाम से समझ पा रहे होंगे इस कोर्स में आपको यूनिवर्सिटी जाकर अपनी डिग्री पूरी करना अनिवार्य नहीं हैं। दुनिया कि वो आबादी जो काम करती हैं और डॉक्टरेट डिग्री चाहती हैं वो इस विकल्प के माध्यम से डिग्री पा सकते हैं। नीचे कुछ PhD कोर्सेज़ की लिस्ट दी गई है:

कोर्सेज़ यूनिवर्सिटी 
Online Doctor of Business Administration(DBA) ग्लोबल हुमनिस्टिक यूनिवर्सिटी 
Doctor of Nursing Practice  बेथल यूनिवर्सिटी
Doctorate in Business Administration  क्रेगटन यूनिवर्सिटी
Doctor of Philosophy in Computer Science and Information Science  डेपॉल यूनिवर्सिटी
Doctor of Occupational Therapy degree  रेगिस यूनिवर्सिटी
Ph.D. in Educational Leadership and Management  ड्रेक्सेल यूनिवर्सिटी 
Family Nurse Practitioner  यूनिवर्सिटी ऑफ़ सैन फ्रांसिस्को

PhD होल्डर की ज़िम्मेदारीयां

PhD होल्डर की ज़िम्मेदारीयां विस्तार से नीचे दिए टेबल में दी गयीं हैं:

वर्ग ज़िम्मेदारीयां
एक 75000 शब्द का थीसिस लिखना आपको रिसर्च के लिए अपने विषय से जुड़ी जानकारी और आंकड़ों को बारीकी से जांचना परखना आना चाहिए।
विषय को लेकर सम्पूर्ण योजना बनाना आना चाहिए। जानकारी इखट्टा करना आना चाहिए ।
डेटा एनालाइज़ आपके विषय की पूरी जानकारी को अच्छे से जांचना परखना एव उसे सबके समक्ष प्रस्तुत करना आना चाहिए ।
इंटरव्यूज़ आयोजित करना  कुशल दृष्टिकोण के साथ रिसर्च करना और इंटरव्यूज़ आयोजित करना आना चाहिए ।
परीक्षण और प्रयोग करना आप समस्या समाधान करने में अच्छे होने चाहिए और सकारात्मक दृष्टिकोण होना चाहिए । 
विभिन्न रिपोर्ट्स पब्लिश और प्रस्तुतिकरण जटिल प्रोजेक्ट्स को आसान तरीके से प्रस्तुत करने की क्षमता और कम्युनिकेशन स्किल्स अच्छी होनी चाहिए । 
समय पर PhD पूरी करना दिए गए समय में कठिन परियोजनाओं को संभालने और पूरा करने की क्षमता ।
रिसर्च सेमिनार्स आयोजन आपमें पुरे आत्मविश्वास के साथ नेतृत्व करने की क्षमता होनी चाहिए ।

PhD kaise kare? 

PhD kaise kare के लिए step-by-step guide नीचे दिया गया है:

  • Step 1: कैंडिडेट को 12 साल की बुनियादी शिक्षा ( कक्षा 1st -12th ) पूरी होना अनिवार्य हैं।
  • Step 2: PhD करने के लिए किसी भी विषय से बैचलर डिग्री में पास होना अनिवार्य हैं।
  • Step 3: आपको कम से कम 50%-55% के साथ मास्टर डिग्री में पास होना ज़रूरी है। मास्टर डिग्री में पास होने के बाद ही आप PhD के लिए योग्य साबित होते हैं। 
  • Step 4:  मास्टर डिग्री के बाद PhD में एडमिशन लेने के लिए आपको UGC-NET, TIFR,JRF-GATE या स्टेट लेवल के एंट्रेंस एग्ज़ाम पास करने होंगे।
  • Step 4: एंट्रेंस एग्ज़ाम पास करने के बाद आप अपनी पसंद और कोर्स के अनुसार PhD के लिए अप्लाई कर सकते हैं।
  • Step 5: अधिकतर PhD कॉलेजेस में एडमिशन लेने के लिए व्यक्तिगत इंटरव्यू आयोजित किया जाता है। वह क्लियर करने के बाद ही आपको PhD में एडमिशन मिलता है।

PhD के लिए दुनिया की टॉप यूनिवर्सिटीज़

PhD के लिए दुनिया की टॉप यूनिवर्सिटीज़ की लिस्ट नीचे दी गई है:

यूनिवर्सिटी QS World Ranking 2022
University of Oxford  2
Stanford University  3
Harvard University  5
California Institute of Technology  6
Massachusetts Institute of Technology (MIT) 1
University of Cambridge  3
University of California, Berkeley  7
Yale University 14
Princeton University 20
University of Chicago 10
Imperial College London 7
Johns Hopkins University 25
University of Pennsylvania  13
ETH Zurich  14
University of California 30
University College of London  16
Columbia University  19
University of Toronto  26
Cornell University  19
Duke University  52

टॉप भारतीय यूनिवर्सिटीज़ 

PhD के लिए टॉप भारतीय यूनिवर्सिटीज़ की लिस्ट नीचे दी गई है:

  • दिल्ली विश्वविद्यालय
  • JNU, दिल्ली
  • बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी
  • महाऋषि दयानन्द यूनिवर्सिटी
  • अन्नामलाई यूनिवर्सिटी
  • एडम्स यूनिवर्सिटी
  • अलाहबाद स्टेट यूनिवर्सिटी
  • बनस्थली विद्यापीठ
  • डॉ बी.आर.आंबेडकर यूनिवर्सिटी ऑफ़ सोशल साइंस
  • जैन यूनिवर्सिटी
  • गुरु घासीदास विश्वविद्यालय
  • अरुणाचल यूनिवर्सिटी ऑफ़ स्टडीज़

PhD के लिए योग्यता 

योग्यताओ से अर्थ है , वो बातें जो PhD करने से पहले आपको रखनी होंगी ध्यान में। जिनकी पूर्ती ना होने पर आप PhD में एडमिशन नहीं ले पाएंगे। विश्विद्यालयों की बात करें तो सभी विश्विद्यालयों का माप दंड एक सा नहीं होता। सामान्य तौर पर हर यूनिवर्सिटी में निम्नलिखित योग्यताओ का होना आवश्यक है।

  • PhD कोर्स में अप्लाई करने के लिए विद्यार्थीयों को 10+2 में कम से कम 50% अंकों के साथ पास होना आवश्यक है।
  • PhD के लिए आपको संबंधित कोर्स में मास्टर डिग्री कम से कम 50%-55% अंकों के साथ पास करनी ज़रूरी है।
  • भारत में PhD कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आपको UGC-NET, TIFR, JRF-GATE या स्टेट लेवल के एंट्रेंस परीक्षा पास करने होंगे।
  • विदेश में PhD करने के लिए कोई विशेष एंट्रेंस परीक्षा नहीं है, हालाँकि कुछ यूनिवर्सिटीज़ द्वारा एंट्रेंस परीक्षा संचालित करवाई भी जाती है।
  • इंटरनेशनल विद्यार्थियों को भी PhD में एडमिशन लेने के लिए एक रिसर्च प्रपोज़ल,  रिसर्च इंटरेस्ट एंड मेथोडोलॉजी की आवश्यकता होती है।  जिससे आपके रिसर्च में आपकी दिलचस्पी और कार्य की गंभीरता का माप दंड लगाया जाएगा।
  • आपकी अंग्रेजी में कुशलता को मापने के लिए एक अच्छा IELTS/ TOEFL स्कोर महत्व रखता है।
  • स्टेटमेंट ऑफ़ पर्पस यह एक लिखित स्टेटमेंट होती है जो आपके व्यक्तित्व को दर्शाती है।
  • अंग्रेजी में निबंध
  • लेटर ऑफ़ रिकमेन्डेशन या LORs
  • अपडेटेड प्रोफेशनल रज़ूमे

आवेदन प्रक्रिया

किसी भी कोर्स में प्रवेश के लिए हर यूनिवर्सिटी की एक निर्धारित आवेदन प्रक्रिया होती है। सभी छात्रों का एडमिशन इसी प्रक्रिया के आधार पर होता हैं और जो इस प्रक्रिया को सफलता से पूर्ण कर लेते हैं उनका एडमिशन हो जाता हैं। भारत में आने वाली यूनिवर्सिटीज़ की आवेदन प्रक्रिया और विदेश में आने वाली यूनिवर्सिटीज़ की आवेदन प्रक्रिया में अंतर हैं। आइए इन्हे विस्तार से समझते हैं।

भारत में Ph.D. के लिए आवेदन प्रक्रिया

  • सबसे पहले National Eligibility Test (NET) की ऑफिशियल वेबसाइट पर रजिस्टर करें। यहाँ से आपको आपका यूज़र आयी.डी. और पासवर्ड मिलेंगे । 
  • यूज़र आयी.डी. से अकाउंट साईं इन करें।  
  • व्यक्तिगत विवरण भरें। 
  • शैक्षणिक योग्यता भरें। 
  • रजिस्ट्रेशन फीस का भुगतान करें। 
  • अंत में आवेदन पत्र जमा करें।
  • आपका UGC-NET/ JRF टेस्ट का रिज़ल्ट आने पर ही ये पक्का होगा की आपका एडमिशन हुआ या नही।  

UK में Ph.D. के लिए आवेदन प्रक्रिया

  • बैचलर डिग्री में एडमिशन लेने के लिए आपको UCAS पोर्टल पर जाकर रजिस्ट्रेशन करना होगा। यहाँ से आपको यूज़र आयी. डी. और पासवर्ड प्राप्त होंगे। मास्टर डिग्री में एडमिशन लेने के लिए आपको यूनिवर्सिटीज़ की ऑफिशियल वेबसाइट पर रजिस्टर करना होगा। यहाँ से आपको यूज़र आयी. डी. और पासवर्ड मिलेंगे । 
  • यूज़र आयी. डी. से अकाउंट साईं इन करें और जानकारी भरें।
  • कोर्स करिकुलम और योग्यता की आवश्यकता को जाँच लें। 
  • अपनी यूनिवर्सिटी के एप्लिकेशन फॉर्म पर क्लिक करें। 
  • सबसे पहले आपको email या फ़ोन नंबर के द्वारा नया रजिस्ट्रेशन करना होगा। 
  • अकाउंट की जाँच के बाद अकाउंट लॉग-इन करके व्यक्तिगत विवरण (नाम , लिंग , पिता का नाम आदि) भरें। 
  • शैक्षणिक विवरण भरें और आवश्यक दस्तावेज़ों को अपलोड करें। 
  • अंत में एप्लिकेशन फीस का भुगतान करें। 
  • फिर अपना एप्लिकेशन फॉर्म जमा करें।
  • कुछ यूनिवर्सिटी चुनाव के बाद भी वर्चुअल इंटरव्यू के लिए आमंत्रण देती हैं।

अन्य देश में एडमिशन लेने के लिए आवेदन प्रक्रिया

  • University की ऑफिशियल वेबसाइट पर रजिस्टर करें। यहाँ से आपको यूज़र आयी. डी. और पासवर्ड मिलेंगे । 
  • यूज़र आयी. डी से अकाउंट साईं इन करें और विवरण भरें।  
  • अपना कोर्स चुनें। 
  • शैक्षणिक योग्यता भरें। 
  • पिछली नौकरी से जुड़ी जानकारी भरें। 
  • रजिस्ट्रेशन फीस का भुगतान करें। 
  • अंत में एप्लिकेशन फॉर्म जमा करें। 

PhD के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • आपका शैक्षणिक रिकॉर्ड (12th,बैचलर डिग्री,मास्टर डिग्री)
  • अंग्रेजी में कुशलता का प्रमाण पत्र ( मुख्य रूप से IELTS/ TOEFL स्कोर )
  • लेटर ऑफ़ रिकमेन्डेशन या LORs
  • स्टेटमेंट ऑफ़ पर्पस यह एक लिखित स्टेटमेंट होती है जो आपके व्यक्तित्व को दर्शाती है।
  • अंग्रेजी में निबंध
  • अपडेटेड प्रोफेशनल रज़ूमे

PhD के लिए छात्रवृत्तियां

PhD करने के लिए आप नीचे दी गई टॉप स्कॉलरशिप के लिए अप्लाई कर सकते हैं :

Scholarship Name Institution
Prime Minister’s Research Fellowship (PMRF) MHRD, Government of India
CSIR-UGC JRF Fellowship Government of India
DBT-JRF Fellowship Government of India
FITM – AYUSH Research Fellowships Scheme Forum on Indian Traditional Medicine (FITM) and Ministry of Ayush
SAARC Agricultural Ph.D. Scholarships SAAR Agricultural Center
Swami Vivekananda Single Child Scholarship for Research in Social Science UGC
ESSO-NCESS Junior Research Fellowship ESSO- National Center for Earth Science Studies
Vision India Foundation (VIF) Fellowship Vision India Foundation (VIF)
Burning Questions Fellowship Awards Tiny Beam Fund
Google Ph.D. Scholarships Google
Jawaharlal Nehru Memorial Fund Scholarships Jawaharlal Nehru Memorial Fund
ICHR Junior Research Fellowships (JRF) Indian Council of Historical Research (ICHR)
Eiffel Scholarships in France for International Students French Government
Oxford-Weidenfeld and Hoffmann Scholarship and Leadership Programme University of Oxford
Gates Cambridge Scholarships for International Students Gates Cambridge Trust
Rosa Luxemburg Stiftung Scholarships for International Students Rosa Luxemburg Stiftung
AAUW International Fellowships in the USA for Women AAUW
Swiss Government Excellence Scholarships for Foreign Students Swiss Government

PhD के बाद करियर और सैलरी

PhD के बाद आप प्रोफेस्सर के अलावा राइटर, रिसर्चर, बैंक इन्वेस्टर आदि क्षेत्रों में भी अपना करियर बना सकते हैं। आपकी सैलरी में आपके स्किल्स और एक्सपीरियंस के अनुसार उतार-चढ़ाव आते हैं। PhD के बाद कुछ प्रसिद्ध जॉब प्रोफाइल और उनकी सैलरी glassdoor.co.in के अनुसार नीचे दी गई है:

पद सालाना सैलरी GBP सालाना सैलरी
प्रोफेस्सर £75115 INR 10,00,000 – 14,00,000 
राइटर £27,971 INR 2,00,000 – 13,00,000
रिसर्चर £40,432 INR 3,00,000 – 12,00,000
बैंक इन्वेस्टर £48,817 INR 2,00,000 – 8,00,000
मैनेजर £54,488 INR 4,00,000 – 12,00,000
असिस्टेंट प्रोफेस्सर £59,199 INR 4,00,000 – 11,00,000
इंजीनियर £40,583 INR 3,00,000 – 15,00,000
लॉयर £70,321 INR 2,00,000 – 13,00,000

FAQ 

क्या UK और India में PhD करने के लिए कोई age limit है?

जी नहीं, PhD करने के लिए कोई age limit नहीं होती।

विदेश में PhD के लिए किन डॉक्यूमेंट्स की आवश्यकता है?

-आपका शैक्षणिक रिकॉर्ड (12th,बैचलर डिग्री,मास्टर डिग्री)
-अंग्रेजी में कुशलता का प्रमाण पत्र ( मुख्य रूप से IELTS/ TOEFL स्कोर )
-लेटर ऑफ़ रिकमेन्डेशन या LORs
स्टेटमेंट ऑफ़ पर्पस यह एक लिखित स्टेटमेंट होती है जो आपके व्यक्तित्व को दर्शाती है।
-अंग्रेजी में निबंध
-अपडेटेड प्रोफेशनल रज़ूमे

क्या भारत में PhD के लिए एंट्रेंस एग्ज़ाम देना आवश्यक है?

जी, हाँ भारत में PhD के लिए UGC-NET, स्टेट लेवल या यूनिवर्सिटी लेवल के एंट्रेंस एग्ज़ाम पास करना आवश्यक है। 

क्या PhD के लिए नेट जरूरी है?

PhD Admission 2021: नई शिक्षा नीति के तहत फैसला किया गया है कि PhD कोर्स में एडमिशन के लिए अभ्यर्थियों का NET क्वालीफाई करना जरूरी है.

PhD के बाद क्या करे?

-केमिस्ट्री में PhD- केमिकल रिसर्च सेंटर्स एंड लेबोरेटरीज में एनालिस्ट
-जियोलॉजी में phd- जियोलॉजिकल सेंटर्स में हेड ऑफ़ सर्विस
-न्यूट्रीशन में phd- साइंटिफिक एडवाइजर
-बायोकेमिस्ट्री में phd- पेटेंट लॉयर
-लॉ में phd- गवर्नमेंट सेक्टर्स में एडवाइजरी पोजीशन्स
-इंग्लिश लिटरेचर में phd- कॉलेज प्रोफेसर आदि।

पीएचडी में कौन कौन से विषय होते हैं?

Phd में आप अपनी मर्ज़ी से विषय का चुनाव कर सकते है। यह आप पर निर्भर करता है। कुछ प्रमुख phd के विषय निम्नलिखित हैं।
हिंदी , अंग्रेजी , होम साइंस , एग्रीकल्चर , इतिहास , फाइन आर्ट्स , सर्जरी , जियोलॉजी , जियोग्राफी , अकॉउंटिंग , बायोमिस्ट्री , फार्मेसी आदि।

हमें उम्मीद है कि इस ब्लॉग में आपको PhD kaise kare के बारे में सभी जानकारी मिल गई होगी। यदि आप भी विदेश में पढ़ना चाहते है तो हमारे Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800572000 पर कांटेक्ट कर आज ही 30 मिनट्स का फ्री सेशन बुक कीजिय।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert