मटेरियल इंजीनियर कैसे बनें?

1 minute read
materials engineer

मटेरियल इंजीनियरिंग एक इंट्रेस्टिंग और तेजी से डेवलप होने वाला फील्ड है जो आज हम जिस दुनिया में रहते हैं उसे आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। मटेरियल इंजीनियर एयरोस्पेस, ऑटोमोटिव, इलेक्ट्रॉनिक्स और हेल्थ सर्विसेज सहित इंडस्ट्री की एक वाइड रेंज में उपयोग के लिए नए मटेरियल को डिजाइन और डेवलप करते हैं, साथ ही साथ मौजूदा सामग्रियों के प्रदर्शन में सुधार करते हैं। इस ब्लॉग में materials engineer बनने के बारे में जानकारी दी गई है यदि आप इस बारे में जानना चाहते हैं तो इस ब्लॉग को अंत तक पढ़ें। 

This Blog Includes:
  1. मटेरियल इंजीनियर कौन होते हैं?
  2. मटेरियल इंजीनियर क्यों बनें?
  3. मटेरियल इंजीनियर कैसे बनें? स्टेप बाय स्टेप गाइड
  4. मटेरियल इंजीनियर के लिए स्किल्स
  5. मटेरियल इंजीनियर बनने के लिए टॉप कोर्सेज 
  6. मटेरियल इंजीनियर कोर्सेज की पेशकश करने वाली टॉप विदेशी यूनिवर्सिटीज
  7. मटेरियल इंजीनियर कोर्सेज की पेशकश करने वाली टॉप भारतीय यूनिवर्सिटीज
  8. मटेरियल इंजीनियर कोर्सेज के लिए योग्यता
  9. मटेरियल इंजीनियर कोर्सेज के लिए विदेशी यूनिवर्सिटी की आवेदन प्रक्रिया 
  10. मटेरियल इंजीनियर कोर्सेज के लिए भारतीय यूनिवर्सिटी की आवेदन प्रक्रिया 
  11. आवश्यक दस्तावेज़
  12. मटेरियल इंजीनियर कोर्सेज के लिए प्रवेश परीक्षाएं
    1. विदेशी प्रवेश परीक्षाएं
    2. भारतीय प्रवेश परीक्षाएं 
    3. लैंग्वेज रिक्वायरमेंट
  13. मटेरियल इंजीनियर के लिए करियर स्कोप
  14. मटेरियल इंजीनियरिंग की टॉप जॉब प्रोफाइल और सैलरी पैकेज 
  15. FAQs

मटेरियल इंजीनियर कौन होते हैं?

एक मटेरियल इंजीनियर एक प्रोफेशनल है जो एप्लीकेशंस की एक वाइड रेंज के लिए मटेरियल के डिज़ाइन, डेवलपमेंट और टेस्ट के लिए मैटेरियल साइंस और इंजीनियरिंग के अपने ज्ञान का उपयोग करता है।  वे अपनी परफॉर्मेंस को बेहतर बनाने के लिए मेटल्स, सेरेमिक्स, प्लास्टिक, कंपोजिट और सेमीकंडक्टर्स सहित विभिन्न सामग्रियों के साथ काम करते हैं। मटेरियल इंजीनियर, मटेरियल डेवलपमेंट प्रोसेस के विभिन्न चरणों में शामिल हो सकते हैं, जिसमें नए मैटेरियल के बारे में रिसर्च करना, स्पेसिफिक एप्लिकेशंस के लिए मैटेरियल्स टेस्टिंग करना, नए मैटेरियल्स को डिज़ाइन करना और इन मैटेरियल्स के डेवेलपमेंट के लिए नई मैन्युफैक्चरिंग प्रोसेसेज का विकास करना शामिल है।

मटेरियल इंजीनियर क्यों बनें?

Materials engineer क्यों बनें इसके लिए स्टेप बाय स्टेप गाइड नीचे दी गई है:

  • डाइवर्स करियर के अवसर: मटेरियल्स इंजीनियरिंग एक ऐसा फील्ड है जिसमें करियर के व्यापक अवसर हैं, क्योंकि यह कई इंडस्ट्रीज जैसे एयरोस्पेस, ऑटोमोटिव, मेडिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स, ऊर्जा, और बहुत कुछ में शामिल है।  इसका मतलब यह है कि मैटेरियल इंजीनियर रिसर्च और डेवलपमेंट से लेकर मैन्युफैक्चरिंग और प्रोडक्शन तक कई अलग-अलग इंडस्ट्रीज और रोल्स में काम करना चुन सकते हैं।
  • इंपैक्टफुल वर्क: मटेरियल्स इंजीनियर के रूप में, आपके पास उन प्रोजेक्ट्स पर काम करने का अवसर है जो लोगों के जीवन पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकते हैं। अधिक एफिशिएंट और सस्टेनेबल एनर्जी सोर्स डेवलप करने से लेकर मेडिकल इंप्लांट्स के लिए नए मटेरियल्स बनाने तक।
  • इनोवेटिव फील्ड: मटेरियल्स इंजीनियरिंग एक रेगुलरली डेवलप होने वाला फील्ड है, जिसमें हर समय नए मटेरियल्स और टेक्नोलॉजीज डेवलप की जा रही हैं।  इसका मतलब है कि मटेरियल्स इंजीनियरों के पास इनोवेशन में सबसे आगे रहने और अत्याधुनिक टेक्नोलॉजी पर काम करने का अवसर है।
  • रिवार्डिंग करियर: मटेरियल्स इंजीनियरिंग एक चैलेंजिंग फील्ड हो सकता है, लेकिन यह रिवार्डिग भी हो सकता है।  रियल वर्ल्ड एप्लिकेशंस में आपके द्वारा डेवलप की जा रहे मटेरियल्स को देखना अविश्वसनीय रूप से संतोषजनक हो सकता है।
  • हाई डिमांड: विभिन्न इंडस्ट्रीज में नई और इंप्रूव्ड मैटेरियल्स की बढ़ती डिमांड के साथ, मटेरियल्स इंजीनियरों की डिमांड भी बढ़ रही है।  इसका मतलब है कि मटेरियल्स इंजीनियरों के लिए अभी और भविष्य में नौकरी के कई अवसर हैं।

मटेरियल इंजीनियर कैसे बनें? स्टेप बाय स्टेप गाइड

Materials engineer कैसे बनें इसके लिए स्टेप बाय स्टेप गाइड नीचे दी गई है:

  1. हाई स्कूल डिप्लोमा या इक्विलेंट डिग्री प्राप्त करें: मैटेरियल्स इंजीनियरिंग में करियर बनाने के लिए, आपको हाई स्कूल डिप्लोमा या इक्विलेंट की आवश्यकता होगी।
  2. बैचलर डिग्री अर्जित करें: अगला कदम मटेरियल्स इंजीनियरिंग या संबंधित क्षेत्र, जैसे केमिकल इंजीनियरिंग, मैकेनिकल इंजीनियरिंग, या मेटलर्जिकल इंजीनियरिंग में बैचलर की डिग्री अर्जित करना है।  
  3. वर्क एक्सपीरियंस प्राप्त करें: कई मटेरियल इंजीनियरिंग पदों के लिए कुछ वर्क एक्सपीरियंस की आवश्यकता होती है।  आप इंटर्नशिप, सहकारी प्रोग्राम्स या एंट्री लेवल के पदों के माध्यम से एक्सपीरियंस प्राप्त कर सकते हैं।
  4. एक मास्टर डिग्री प्राप्त करने पर विचार करें: एक बैचलर की डिग्री आमतौर पर कई मटेरियल्स इंजीनियरिंग पदों के लिए पर्याप्त होती है। लेकिन एक मास्टर डिग्री प्राप्त करने से अधिक कैरियर के अवसर खुल सकते हैं और आपकी कमाई की क्षमता बढ़ सकती है।
  5. प्रोफेशनल सर्टिफिकेट प्राप्त करें: प्रोफेशनल सर्टिफिकेट, जैसे कि प्रोफेशनल इंजीनियर लाइसेंस, आपके करियर के अवसरों और कमाई की क्षमता को भी बढ़ा सकता है।  लाइसेंस के लिए आवश्यकताएँ राज्य द्वारा भिन्न होती हैं, लेकिन आम तौर पर एक एग्जाम क्लियर करना और शिक्षा और अनुभव की आवश्यकताओं को पूरा करना शामिल होता है।
  6. सीखना जारी रखें: मटेरियल इंजीनियरिंग एक निरंतर डेवलप होने वाला फील्ड है, इसलिए नए डेवलपमेंट्स और टेक्नोलॉजीज के साथ अपडेट रहना इंपोर्टेंट है।  रेगुलर एजुकेशन, जैसे कांफ्रेंसेज में भाग लेना या कोर्सेज लेना, आपको अपने क्षेत्र में वर्तमान बने रहने में मदद कर सकता है।

मटेरियल इंजीनियर के लिए स्किल्स

Materials engineer के लिए टॉप स्किल्स नीचे दी गई है:

  • कम्युनिकेशन स्किल्स
  • स्ट्रॉन्ग टेक्निकल स्किल्स
  • एनालिटिकल स्किल्स
  • अटेंशन टू डिटेल्स
  • क्रिएटिविटी
  • टीमवर्क
  • प्रोजेक्ट मैनेजमेंट स्किल्स

मटेरियल इंजीनियर बनने के लिए टॉप कोर्सेज 

Materials engineer के लिए टॉप कोर्सेज नीचे दिए गए हैं:

  • Bachelor of Science in Materials Science and Engineering
  • Bachelor of Science in Chemical Engineering with Materials Science and Engineering concentration
  • Bachelor of Science in Mechanical Engineering with Materials Science and Engineering concentration
  • Bachelor of Science in Metallurgical Engineering
  • Master of Science in Materials Science and Engineering
  • Master of Science in Materials Engineering
  • Master of Engineering in Materials Science and Engineering
  • Master of Science in Mechanical Engineering with Materials Science and Engineering concentration
  • Master of Science in Chemical Engineering with Materials Science and Engineering concentration

मटेरियल इंजीनियर कोर्सेज की पेशकश करने वाली टॉप विदेशी यूनिवर्सिटीज

Materials engineer बनने के लिए टॉप विदेशी यूनिवर्सिटीज के नाम नीचे दिए गए हैं:

मटेरियल इंजीनियर कोर्सेज की पेशकश करने वाली टॉप भारतीय यूनिवर्सिटीज

Materials engineer बनने के लिए टॉप भारतीय यूनिवर्सिटीज निम्न प्रकार से है:

  • आईआईटी मद्रास
  • आईआईटी बॉम्बे
  • आईआईटी दिल्ली
  • आईआईएससी बैंगलोर
  • एनआईटी वारंगल
  • अन्ना यूनिवर्सिटी
  • आईआईटी कानपुर
  • आईआईटी खड़गपुर
  • बिट्स पिलानी
  • वीआईटी वेल्लोर
  • एनआईटी त्रिची
  • बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी

मटेरियल इंजीनियर कोर्सेज के लिए योग्यता

विदेश के शीर्ष यूनिवर्सिटीों से materials engineer का कोर्स करने के लिए, आपको कुछ पात्रता शर्तों को पूरा करना होगा। हालांकि योग्यता मानदंड एक यूनिवर्सिटी से दूसरे यूनिवर्सिटी में भिन्न हो सकते हैं, यहां कुछ सामान्य शर्तें दी हैं:

  • आवेदक के बारहवीं में अंक कम से कम 50% से अधिक होने अनिवार्य हैं।
  • आवेदक के बारहवीं कक्षा में विषय फिजिक्स, केमेस्ट्री, मैथ्स होने चाहिए।
  • किसी भी यूनिवर्सिटी में बैचलर डिग्री कोर्स के लिए SAT/ACT की मांग भी की जा सकती है।
  • मास्टर्स डिग्री कोर्स के लिए जरूरी है कि उम्मीदवार ने किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी या कॉलेज से मैटेरियल इंजीनियरिंग में  बैचलर्स डिग्री प्राप्त की हो।
  • मास्टर्स कोर्स में एडमिशन के लिए कुछ यूनिवर्सिटी प्रवेश परीक्षा आयोजित करते हैं इसके बाद ही आप इन कोर्सेजके लिए एलिजिबल हो सकते हैं। विदेश की कुछ यूनिवर्सिटीज़ में मास्टर्स के लिए GRE और GMAT स्कोर की आवश्यकता होती है।
  • साथ ही विदेश के लिए आपको ऊपर दी गई आवश्यकताओं के साथ IELTS या TOEFL स्कोर की भी आवश्यकता होती है।

क्या आप IELTS/TOEFL/SAT/GRE में अच्छे अंक प्राप्त करना चाहते हैं? आज ही इन टेस्ट की बेहतरीन तैयारी के लिए Leverage Live पर रजिस्टर करें और अच्छे अंक प्राप्त करें।

मटेरियल इंजीनियर कोर्सेज के लिए विदेशी यूनिवर्सिटी की आवेदन प्रक्रिया 

कैंडिडेट को आवदेन करने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया को पूरा करना होगा:

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप हमारे AI Course Finder की सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेजों जैसे SOP, निबंध (essay), सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टेस्ट स्कोर जैसे IELTS, TOEFL, SAT, ACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTS, TOEFL, PTE, GMAT, GRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप हमारी Leverage Live कक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीज़ा और छात्रवृत्ति / छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लेटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। 

आवदेन प्रक्रिया से सम्बन्धित जानकारी और मदद के लिए Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800 572 000 पर संपर्क करें।

मटेरियल इंजीनियर कोर्सेज के लिए भारतीय यूनिवर्सिटी की आवेदन प्रक्रिया 

भारतीय यूनिवर्सिटीज़ द्वारा आवेदन प्रक्रिया नीचे मौजूद है-

  • सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  • यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  • फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  • अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  • इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  • यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

आवश्यक दस्तावेज़

आपको निम्न आवश्यक दस्तावेज़ों की आवश्यकता होगी:

छात्र वीज़ा पाने के लिए भी हमारे Leverage Edu  विशेषज्ञ आपकी हर सम्भव मदद करेंगे।

मटेरियल इंजीनियर कोर्सेज के लिए प्रवेश परीक्षाएं

अलग-अलग कॉलेजों में एडमिशन प्राप्त करने के लिए प्रवेश परीक्षाएं अलग प्रकार की होती है लेकिन कुछ ऐसी सामान्य परीक्षाएं है जो अधिकतर सभी कॉलेज या यूनिवर्सिटीज़ के द्वारा मान्य होती हैं उनमें से कुछ इस प्रकार हैं: 

विदेशी प्रवेश परीक्षाएं

भारतीय प्रवेश परीक्षाएं 

  • MCAER CET
  • OUAT ET
  • ICAR AIEEA (PG)
  • CUCET  
  • IPU CET 
  • KIITEE BCA
  • LUCSAT BCA
  • BU MAT
  • RUET
  • NMU UG CET
  • GSAT
  • LUCSAT
  • AIMA UGAT

लैंग्वेज रिक्वायरमेंट

मटेरियल इंजीनियर के लिए करियर स्कोप

Materials engineer में डिग्री हांसिल करने के बाद कई टॉप इंडस्ट्रीज में काम कर सकते हैं। कुछ टॉप इंडस्ट्रीज और टॉप रिक्रूटर्स की लिस्ट नीचे दी गई है:

टॉप इंडस्ट्रीज

  • एयरोस्पेस एंड डिफेंस
  • ऑटोमोटिव
  • इलेक्ट्रॉनिक्स
  • मेडिकल डिवाइसेज एंड बायोटेक्नोलॉजी
  • एनर्जी
  • कंस्ट्रक्शन
  • कंज्यूमर

टॉप रिक्रूटर्स

  • Reliance Industries
  • Indian Oil Corporation limited
  • ONGC
  • Bharat petroleum
  • L&T
  • Tata power
  • Tata steel
  • Adani power
  • Coal India 
  • SAIL

मटेरियल इंजीनियरिंग की टॉप जॉब प्रोफाइल और सैलरी पैकेज 

Materials engineer का कोर्स करने के बाद में जॉब प्रोफाइल तथा अनुमानित सालाना वेतन निम्न प्रकार से हो सकता है:

जॉब प्रोफाइल  एवरेज सैलरी पैकेज 
मटेरियल्स इंजीनियर INR 6 लाख से 8 लाख 
रिसर्च एंड डेवलपमेंट इंजीनियर INR 9 लाख से 10 लाख
क्वालिटी कंट्रोल इंजीनियर INR 5.5 लाख से 6 लाख
प्रोसेस इंजीनियर INR 3.5 लाख से 4.5 लाख
डिजाइन इंजीनियर INR 4.5 लाख से 5.5 लाख
सेल्स इंजीनियर INR 3 लाख से 4 लाख

FAQs

मटेरियल्स इंजीनियरिंग क्या है?

मटेरियल्स इंजीनियरिंग, इंजीनियरिंग का एक फील्ड है जो मटेरियल्स के डेवलपमेंट, प्रोसेसिंग, टेस्टिंग और एप्लिकेशंस पर केंद्रित है।

मटेरियल्स इंजीनियरिंग में करियर के लिए कौन से कौशल आवश्यक हैं?

मटेरियल्स इंजीनियरों को टेक्निकल, एनालिटिकल और प्रोब्लम सॉल्विंग स्किल्स के संयोजन की आवश्यकता होती है।  आवश्यक कुछ प्रमुख स्किल्स में मटेरियल्स के गुणों और व्यवहार की समझ, स्ट्रॉन्ग मैथ्स और साइंटिफिक स्किल्स, विस्तार पर ध्यान, प्रोब्लम को सॉल्व करने की स्किल्स और एक टीम में अच्छी तरह से काम करने की क्षमता शामिल है।

इंडिया में एक मटेरियल इंजीनियर की एवरेज सैलरी कितनी होती है?

इंडिया में एक मटेरियल इंजीनियर की एवरेज 4 से 5 लाख तक होती है। 

उम्मीद है आपको  materials engineer  के संदर्भ में हमारा यह ब्लॉग पसंद आया होगा। यदि आप भी किसी विदेशी यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग की पढ़ाई करना चाहते हैं तो आज ही 1800 572 000 पर कॉल करके हमारे Leverage Edu  के एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें। वे एक उचित मार्गदर्शन के साथ आवेदन प्रक्रिया में भी आपकी मदद करेंगे।

प्रातिक्रिया दे

Required fields are marked *

*

*