डेंटल हाइजीनिस्ट कैसे बनें?

1 minute read
246 views
10 shares
डेंटल हाइजीनिस्ट

जिस तरह शरीर के हाइजिन का ख्याल रखना महत्त्वपूर्ण है, उसी तरह हमारे दांतों की हाइजिन को संतुलित रखना बेहद जरूरी है। वर्तमान के इस युग में मिलावटी खान–पान की चीजें और मॉर्डन लाइफस्टाइल के चलते अधिकतर फ़ास्ट फ़ूड के सेवन ने शरीर के साथ-साथ हमारे दांतों पर भी बुरा प्रभाव डाला है। इसके चलते डेंटल हाइजीनिस्ट की मांग बढ़ी है, जो हमारे अस्वस्थ दांतों को स्वस्थ बनाने में अहम भूमिका निभाते हैं। इन बढ़ती मांगों के कारण युवाओं में यह एक ग्रोइंग करियर विकल्प बनता जा रहा है। यदि आप भी डेंटल हाइजीनिस्ट के रूप में अपना करियर बनाना चाहते हैं, तो कोर्सेज, फीस और करियर स्कोप तक की सारी जानकारी के लिए यह ब्लॉग पूरा जरूर पढ़ें।

कोर्स का नाम डेंटल हाइजीनिस्ट
फुल फॉर्म Dental Hygienist Course
डिग्री बेचलर
कोर्स का स्तर अंडरग्रेजुएट
कोर्स की अवधि 3 वर्ष
पात्रता मापदंड भौतिकी रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान के साथ 12 वीं कक्षा में न्यूनतम 50%
आयु आवश्यकता 17 वर्ष
प्रवेश का मानदंड प्रवेश परीक्षा
प्रासंगिक फ़ील्ड  चिकित्सा/चिकित्सा विज्ञान 
सेक्टर/उद्योग अनुसंधान प्रयोगशालाएं, अस्पताल, दंत चिकित्सालय, अंतर्राष्ट्रीय कल्याण संगठन, फोरेंसिक विभाग
औसत वार्षिक वेतन INR 2-12 लाख लगभग

डेंटल हाइजीनिस्ट कौन होते हैं?

डेंटल हाइजीनिस्ट मसूड़ों, दांतों और मुंह को साफ और स्वस्थ स्थिति में रखने में मदद करता है। एक डेंटल हाइजीनिस्ट या ओरल हाइजीनिस्ट एक अधिकृत डेंटल विशेषज्ञ होता है, जो अपने देश के प्रशिक्षण के अंदर डेंटल संबद्धता या प्रशासनिक निकाय के साथ नामांकित (नॉमिनेटेड) होता है। डेंटल हाइजीनिस्ट स्वायत्त (ऑटोनोमस), निजी या विशेषज्ञ प्रथाओं से लेकर सार्वजनिक क्षेत्र तक, डेंटल सेटिंग्स के दायरे में काम करते हैं। डेंटल हाइजीनिस्ट अन्य दंत विशेषज्ञों की तरह ही दंत विशेषज्ञों, दंत सलाहकारों, मौखिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों के साथ सहयोग करते हैं।  वे अपने क्षेत्र में अतिरिक्त स्किल्स भी अर्जित करते हैं और दंत सफाई दे सकते हैं, जो अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने में एक अनिवार्य भूमिका निभाता है।

डेंटल हाइजीनिस्ट के लिए स्किल्स

डेंटल हाइजीनिस्ट की कुछ स्किल्स नीचे दी गई हैं:

  • समस्या को सुलझाना : हर मरीज अलग होता है, आप प्रत्येक रोगी के साथ अलग-अलग चुनौतियों का सामना करेंगे, और इन चुनौतियों से निपटने के लिए आपको एक अच्छा समस्या समाधानकर्ता बनना होगा। उदाहरण के लिए, यदि किसी रोगी को घबराहट हो रही है, तो आपको यह पता लगाने की आवश्यकता होगी कि उसे कैसे कम किया जाए और उनका उपचार कैसे पूरा किया जाए।
  • ऑरल कम्युनिकेशन : मरीजों के इलाज के लिए आपको उनसे बात करनी होगी। आपको रोगी की जानकारी लेनी होगी, उनके साथ उनकी मौखिक स्वच्छता की आदतों और दिनचर्या के बारे में बात करनी होगी, और यह बताना होगा कि आप इलाज के दौरान क्या कर रहे हैं? इसलिए आपको अपनी कम्युनिकेशन स्किल्स पर भी कार्य करना पड़ेगा।
  • मैनुअल निपुणता : डेंटल हाइजीनिस्ट के रूप में, आप मरीजों के मुंह के अंदर नुकीले औजारों से काम करेंगे। उसके लिए, उपचारों को सुरक्षित रूप से पूरा करने के लिए आपको अपने हाथों पर अच्छा नियंत्रण रखने की आवश्यकता होगी।

डेंटल हाइजीनिस्ट के कार्य

डेंटल हाइजीनिस्ट द्वारा प्रदान की जाने वाली कुछ सेवाओं में शामिल हो सकते हैं:

  • रोगी स्क्रीनिंग प्रक्रियाएं: जैसे कि मौखिक स्वास्थ्य की स्थिति का आकलन, मुंह के कैंसर की जांच, सिर और गर्दन का निरीक्षण, दंत चार्टिंग और रक्तचाप की जाँच करना।
  • दांत का एक्स-रे लेना और विकसित करना।
  • दांतों की सभी सतहों से कैलकुलस और प्लाक (हार्ड और सॉफ्ट डिपॉजिट) को हटाना।
  • दांतों पर निवारक सामग्री लगाना (जैसे, सीलेंट और फ्लोराइड्स)।
  • मौखिक स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए रोगियों को उचित मौखिक स्वच्छता रणनीतियाँ सिखाना।
  • रोगियों को अच्छे पोषण और मौखिक स्वास्थ्य पर इसके प्रभाव के बारे में परामर्श देना।
  • स्टडी कास्ट के लिए मरीजों के दांतों का इम्प्रेशन बनाना (दंतों के मॉडल जो मरीज के इलाज की जरूरतों का मूल्यांकन करने के लिए दंत चिकित्सकों द्वारा उपयोग किए जाते हैं) ।
  • दस्तावेज़ीकरण और कार्यालय प्रबंधन गतिविधियों का प्रदर्शन।

डेंटल हाइजीनिस्ट व डेंटिस्ट में अंतर 

मूल रूप से, एक डेंटिस्ट एक डॉक्टर है, हाइजीनिस्ट नहीं है। एक डेंटिस्ट आपके दांतों की जांच करता है और उनका इलाज करता है। डेंटल हाइजीनिस्ट आपके दांतों को साफ करता है और आपको बीमारी से बचाने में मदद करता है और दंत चिकित्सा सहायक डेंटिस्ट (और कभी-कभी डेंटल हाइजीनिस्ट) की मदद करता है।

डेंटल हाइजीनिस्ट बनने के लिए सिलेबस

डेंटल हाइजीनिस्ट सिलेबस में सभी मुख्य विषयों को कवर करने वाले कई मुख्य और वैकल्पिक विषय शामिल हैं। चूंकि वास्तविक सिलेबस विश्वविद्यालय के अनुसार अलग हो सकता है, इसलिए हमने डेंटल हाइजीनिस्ट कोर्सेस के तहत सभी प्रमुख विषयों को नीचे दिया है:

एनाटॉमी, जनरल और डेंटल फिजियोलॉजी और ऊतक विज्ञान, सामान्य और दंत चिकित्सा दंत स्वच्छता और मौखिक प्रोफिलैक्सिस
फिजियोलॉजी और ऊतक विज्ञान, सामान्य और दंत चिकित्सा फूड एंड न्यूट्रिशन -दंत स्वास्थ्य शिक्षा 
-सामुदायिक सार्वजनिक स्वास्थ्य दंत चिकित्सा 
-निवारक दंत चिकित्सा
पैथोलॉजी और माइक्रोबायोलॉजी दंत चिकित्सा सामग्री -चिकित्सकीय नैतिकता और न्यायशास्त्र
-दंत चिकित्सा में उन्मुखीकरण

डेंटल हाइजीनिस्ट के लिए ऑनलाइन कोर्सेज 

नीचे ऑनलाइन कोर्सेज के लिए टेबल इस प्रकार है:

कोर्स का नाम प्रोवाइडर समय-सीमा फीस
प्रत्यारोपण दंत चिकित्सा Coursera (हांगकांग विश्वविद्यालय) 5 सप्ताह फ्री
दंत विज्ञान का परिचय Coursera (पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय) 7 सप्ताह फ्री
आधुनिक डेंटल एक्सट्रैक्शन Udemy 2 घण्टे 2,500 ₹
दंत चिकित्सा सहायता Udemy 1 घण्टा 1,500 ₹

आप AI Course Finder की मदद से अपने पसंद के कोर्सेस और यूनिवर्सिटी का चुनाव सकते हैं।

डेंटल हाइजीनिस्ट के लिए विदेशी विश्वविद्यालय

दुनिया भर में करोड़ों प्रसिद्ध विश्वविद्यालय डेंटल हाइजीनिस्ट के कोर्स को पेश करते हैं। नीचे दी गई टेबल पर एक नज़र डालें,जो डेंटल हाइजीनिस्ट और इसके वेरिएंट की पेशकश करने वाले शीर्ष विश्वविद्यालयों को स्पष्ट करती है।

आप UniConnect के जरिए विश्व के पहले और सबसे बड़े ऑनलाइन विश्वविद्यालय मेले का हिस्सा बनने का मौका पा सकते हैं, जहाँ आप अपनी पसंद के विश्वविद्यालय के प्रतिनिधि से सीधा संपर्क कर सकेंगे।

डेंटल हाइजीनिस्ट के लिए भारतीय यूनिवर्सिटी

नीचे उन शीर्ष भारतीय विश्वविद्यालय की सूची दी गई है जो अपने छात्रों को डेंटल हाइजीनिस्ट कोर्स प्रदान करने के लिए प्रसिद्ध हैं:

  • अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, अलीगढ़
  • बापूजी डेंटल कॉलेज और अस्पताल, कर्नाटक
  • बुद्ध इंस्टीट्यूट ऑफ डेंटल साइंसेज एंड हॉस्पिटल, पटना
  • हिमाचल इंस्टीट्यूट ऑफ डेंटल साइंसेज, सिमौर
  • मौलाना आजाद इंस्टीट्यूट ऑफ डेंटल साइंसेज दिल्ली
  • मणिपाल कॉलेज ऑफ डेंटल साइंसेज कर्नाटक
  • डॉ डी वाई पाटिल विद्यापीठ पुणे
  • सविता इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एंड टेक्निकल साइंसेज चेन्नई
  • ए बी एस एम इंस्टीट्यूट ऑफ डेंटल साइंसेज मंगलुरु (कर्नाटक)
  • श्री रामचंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ हायर एजुकेशन एंड रिसर्च चेन्नई
  • नायर हॉस्पिटल डेंटल कॉलेज मुंबई
  • एसआरएम डेंटल कॉलेज चेन्नई

डेंटल हाइजीनिस्ट बनने के लिए योग्यता

यदि आप डेंटल हाइजीनिस्ट कोर्स को आगे बढ़ाने की योजना बना रहे हैं, तो आपको अपने चुने हुए विश्वविद्यालयों द्वारा निर्धारित सभी पात्रता आवश्यकताओं के लिए अर्हता (क्वालिफिकेशन) प्राप्त करने की आवश्यकता है। वास्तविक कोर्स की पूर्वापेक्षाएँ कार्यक्रम और विश्वविद्यालय के अनुसार अलग हो सकती हैं, यहाँ बुनियादी पात्रता आवश्यकताएं हैं जिन्हें आपको डेंटल हाइजीनिस्ट के लिए आवेदन करने से पहले ध्यान में रखना होगा:

  • उम्मीदवार को किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 10+2 PCB (भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान) से बेसिक स्कूली शिक्षा पूरी करनी होगी। 
  • आवेदक का इंटरमीडिट में परिणाम 50% से अधिक होना अनिवार्य हैं।
  • इस कोर्स के लिए आवेदन करते समय उम्मीदवारों की आयु न्यूनतम 17 वर्ष और अधिकतम 25 वर्ष होनी चाहिए।
  • यदि आप विदेशी विश्वविद्यालय में सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट की पढ़ाई करने की योजना बना रहे हैं, तो विश्वविद्यालय को आपको SAT स्कोर के साथ-साथ IELTS/TOEFL इत्यादि जैसे अंग्रेजी भाषा प्रवीणता के अंक जमा करने की भी आवश्यकता होगी। 
  • इसके साथ, आपको प्रदान करना होगा एक SOP और ऑप्शनल LOR

क्या आप IELTS/TOEFL/SAT/GRE में अच्छे अंक प्राप्त करना चाहते हैं? आज ही इन टेस्ट्स की बेहतरीन तैयारी के लिए Leverage Live पर रजिस्टर कर अच्छे स्कोर प्राप्त करें।

आवेदन प्रक्रिया

भारतीय यूनिवर्सिटीज द्वारा आवेदन प्रक्रिया नीचे मौजूद है-

  • सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  • यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  • फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  • अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  • इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  • यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

विदेशी विश्वविद्यालय के लिए आवेदन प्रक्रिया

कैंडिडेट को आवदेन करने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया को पूरा करना होगा:

  • इसके लिए आप यूसीएएस वेबसाइट (UCAS) पर जाकर रजिस्ट्रेशन करें। यहाँ से आपको यूजर आईडी और पासवर्ड प्राप्त होंगे। आवदेन प्रक्रिया को सरल बनाने के लिए Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800 572 000 पर संपर्क करें।
  • यूजर आईडी से साइन इन करें और कोर्स चुनें जिसे आप चुनना चाहते हैं। 
  • अगली स्टेप में अपनी शैक्षणिक जानकारी भरें।  
  • शैक्षणिक योग्यता के साथ IELTS, TOEFL, प्रवेश परीक्षा स्कोर, SOP, LOR की जानकारी भरें। 
  • अंग्रेजी दक्षता और GRE या समकक्ष जैसे आवश्यक परीक्षा स्कोर प्रदान करें।
  • पिछले सालों की नौकरी की जानकरी भरें। 
  • रजिस्ट्रेशन फीस का भुगतान करें।
  • अंत में आवेदन पत्र जमा करें।
  • कुछ यूनिवर्सिटीज, सिलेक्शन के बाद वर्चुअल इंटरव्यू के लिए आमंत्रित करतीं हैं।
  • उम्मीदवार विश्वविद्यालय में कई कार्यक्रमों में भाग ले सकते हैं, हालांकि, प्रत्येक कार्यक्रम के लिए आवेदन पत्र और कार्यक्रम शुल्क अलग-अलग होंगे। 

आवश्यक दस्तावेज 

विदेशी विश्वविद्यालय में एडमिशन लेने के लिए नीचे दिए गए डॉक्यूमेंट होने आवश्यक हैं:

छात्र वीजा पाने के लिए भी Leverage Edu  विशेषज्ञ आपकी हर सम्भव मदद करेंगे।

डेंटल हाइजीनिस्ट के लिए एंट्रेंस एग्जाम

डेंटल हाइजीनिस्ट बनने के लिए किसी डेंटल कॉलेज में प्रवेश लेना होता हैं, इन कॉलेज में प्रवेश लेने के विभिन्न तरीके हैं। जिनमें कुछ विश्वविद्यालय एंट्रेंस एग्जाम की प्रक्रिया रखते हैं। नीचे कुछ प्रसिद्ध विश्वविद्यालयों के एंट्रेंस एग्जाम के नाम दिए गए हैं 

  • NEET
  • Aligarh Muslim University Entrance Exam
  • Jammu and Kashmir CET
  • Himachal Institute of Dental Sciences Entrance Exam
  • Buddha Institute of Dental Sciences and Hospital Entrance Exam
  • Bapuji Dental College and Hospital Entrance Exam

NEET के द्वारा

डेंटल हाइजीनिस्ट बनने के लिए हमें विभिन्न प्रकार के डेंटल से संबंधित कोर्स करने पड़ते हैं जिनमें से सबसे प्रमुख कोर्स बीडीएस (BDS) होता है। इस कोर्स को करने के लिए एक एग्जाम देना होता है। जिसका नाम NEET है, यह एग्जाम हर साल कराया जाता है जिसको पास करने के बाद आपको भारत के टॉप डेंटल कॉलेज में प्रवेश आसानी से मिलता है।

सीधे एडमिशन

डेंटल कॉलेज से BDS कोर्स करने के लिए दूसरा तरीका सीधे एडमिशन है। भारत में बहुत ऐसे कॉलेज हैं जो सीधे एडमिशन देते हैं। अगर आपका रैंक NEET इंट्रेस एग्जाम में कम हैं तो फिर भी आप एडमिशन ले सकते हैं सीधे एडमिशन के द्वारा। इसके अलावा कई ऐसे कॉलेज हैं जो बिना प्रवेश परीक्षा के आधार पर एडमिशन देते हैं।

करियर स्कोप

डेंटल हाइजीनिस्ट का कोर्स आप चाहे भारत में रहकर करें या विदेश की टॉप यूनिवर्सिटीज में जाकर करें। लेकिन आपको विदेश में ज़ॉब करने के लिए यानी इंग्लैंड, अमेरिका और फिर यूरोपीय देशों में नौकरी करने के लिए NBDE (National Board dental Examination) पास होना काफी ज्यादा जरूरी है। इसके बाद आपको अमेरिका के एक फॉर्म से DDS (डॉक्टर ऑफ डेटल सर्जरी) का कोर्स करना होगा जिसके बाद आपके जॉब मिलने के आसार बढ़ जाएंगे। अगर आप खाड़ी (गल्फ) देशों में यानी सऊदी अरब, यूएई, कुवैत, कतर, बहरीन और ओमान में जॉब करना चाहते हैं तो आपको स्वास्थ्य परीक्षा को उत्तीण करने के बाद ही इन देशों में जॉब कर सकते हैं।

जॉब प्रोफाइल्स व सैलरी

डेंटल हाइजीनिस्ट के पास रोजगार के बेहतरीन अवसर होते हैं। यूके में डेंटल हाइजीनिस्ट की सालाना औसत सैलरी GBP 67,620 (INR 67.62 लाख) और अमेरिका में USD 77,060 (INR 57.89 लाख) होती है। Payscale के अनुसार भारत में डेंटल हाइजीनिस्ट औसत वार्षिक वेतन नीचे दिया गया है:

रोजगार के अवसर INR में वार्षिक वेतन
रेजिस्ट्रेड नर्स 1-3 लाख
फिजिशियन अस्सिटेंट 3-5 लाख
मेडिकल अस्सिटेंट 2-3 लाख
डेंटिस्ट 3-4 लाख
डेंटल अस्सिटेंट 2-3 लाख

आप Leverage Finance की मदद से विदेश में पढ़ाई करने के लिए अपने कोर्स और विश्वविद्यालय के अनुसार एजुकेशन लोन भी पा सकते हैं।

FAQs

क्या डेंटल हाइजीनिस्ट बनना मुश्किल है?

डेंटल हाइजीनिस्ट बनना इतना कठिन नहीं है, हालांकि यह केवल ज्ञान और स्किल्स प्राप्त करने वाले छात्र पर निर्भर करता है।

विदेशी विश्वविद्यालय की आवदेन प्रक्रिया क्या है?

इसके लिए आप यूसीएएस वेबसाइट (UCAS) पर जाकर रजिस्ट्रेशन करें। यहाँ से आपको यूजर आईडी और पासवर्ड प्राप्त होंगे। आवदेन प्रक्रिया को सरल बनाने के लिए Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800 572 000 पर संपर्क करें।

कौन सा रोजगार अधिक बेहतर है, डेंटल हाइजीनिस्ट या रजिस्टर्ड नर्स?

दोनों ही शानदार प्रोफेशन हैं। एक हाइजीनिस्ट के लिए प्रशिक्षण की अवधि आम तौर पर कम होती है लेकिन एक पंजीकृत नर्स के रूप में आपके पास काम के बहुत सारे विकल्प होते हैं।

डेंटल हाइजीनिस्ट बनने में कितने साल लगते हैं?

डेंटल हाइजीनिस्ट बनने में आमतौर पर दो से चार साल लगते हैं। इस लेख में, हम इस सवाल का जवाब देते हैं कि ‘डेंटल हाइजीनिस्ट प्रोग्राम कितने समय का होता है? ‘ और प्रवेश आवश्यकताओं, उपलब्ध विभिन्न कार्यक्रमों, डेंटल हाइजीनिस्ट की प्राथमिक जिम्मेदारियों और वे कितना वेतन कमा सकते हैं।

हम आशा करते हैं कि अब आप जान गए होंगे कि डेंटल हाइजीनिस्ट कोर्स क्या है और इससे संबंधी सारी जानकारी आपको इस ब्लॉग में मिल गई होंगी। अगर आप विदेश में डेंटल हाइजीनिस्ट कोर्स करना चाहते हैं और साथ ही एक उचित मार्गदर्शन चाहते हैं तो आज ही 1800 572 000 पर कॉल करके हमारे Leverage Edu के एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन बुक कीजिए।

प्रातिक्रिया दे

Required fields are marked *

*

*

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert