माइनिंग इंजीनियर कैसे बनें?

1 minute read
492 views
Leverage-Edu-Default-Blog

खनिज जमीन के निचली और ऊपरी सतह पर प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले पदार्थ हैं। आमतौर पर खनिज ठोस होते हैं और इसका एक क्रिस्टल स्ट्रक्चर होता है। इस स्ट्रक्चर को पहचानना और नए खनिज की खोज करने का काम माइनिंग इंजीनियर का होता है। इसमें रुचि रखने वाले छात्र, माइनिंग इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर अपना बेहतरीन करियर बना सकते हैं। आइए हमारे आज के ब्लॉग की मदद से जानते हैं, भारत और विदेश में Mining Engineer kaise bane के बारे में।

माइनिंग इंजीनियरिंग क्या है?

माइनिंग इंजीनियरिंग जमीन के नीचे और ऊपर पाए जाने वाले खनिजों से जुड़ी हुई है। माइनिंग इंजीनियरिंग कई अन्य विषयों से भी जुड़ी हुई है, जैसे- खनिज प्रोसेसिंग, एक्सप्लोरेशन, एक्सकैवेशन, जियोलॉजी और मेटलर्जी, जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग और सर्वे। एक माइनिंग इंजीनियर मिनरल रिसोर्सेज की खोज, माइन डिजाइन, योजना को विकसित करने तक के सब काम करता है। साधारण भाषा में समझा जाए तो माइनिंग इंजीनियरिंग खनिजों की खोज और देखरेख से जुड़ी हुई है। 

माइनिंग इंजीनियर की जिम्मेदारियां

माइनिंग इंजीनियर की कुछ महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां के बारे में नीचे बताया गया है-

  • माइनिंग इंजीनियर, माइनिंग में नए प्रोपोसड वेंचर्स की कमर्शियल प्रक्टिकलिटी को रिव्यु करते हैं।
  • माइनिंग इंजीनियर, संभावित माइनिंग स्थलों की डिज़ाइन और कंस्ट्रक्शन प्रोजेक्ट्स के सुपरविजन के लिए जिम्मेदार होता है।
  • माइनिंग सेफ्टी इंजीनियर सभी सुरक्षा उपायों, ट्रेनिंग, मॉनिटरिंग और दस्तावेजों के लिए जिम्मेदार है।
  • माइनिंग और माइन टूल्स सप्लाई का असेसमेंट का ध्यान रखना।
  • मासिक बजट और विस्तृत रिकॉर्ड को प्रबंधित करना।

माइनिंग इंजीनियर बनने के लिए स्टेप बाय स्टेप गाइड

माइनिंग इंजीनियर बनने के लिए निम्नलिखित स्टेप्स को फॉलो करें-

  • एक इंजीनियरिंग प्रोग्राम के लिए एनरोल करें : अपने माइनिंग इंजिनियर बनने की प्रक्रिया को अपनी ग्रेजुएशन के ज़रिये शुरू करें। जहाँ पर आप माइनिंग के फंडामेंटल्स और स्ट्रक्चर डिज़ाइन की नॉलेज ले पाएंगे।
  • जियोलॉजी, माइनिंग एंड एक्सट्रैक्शन में कोर्स चुनें : जब आप माइनिंग इंजीनियरिंग के बेसिक्स जान जाएँ तो एडवांस कोर्सिज़ के लिए अप्लाई करें। एडवांस क्लासिज़ मुख्यतः आपके माइनिंग और जियोलाजिकल डेवेलपमेंट पर फोकस्ड होती है। स्पेशल कोर्सिज़ में आप अपनी पसंद अनुसार नॉलेज ले सकते हैं। आप भिन्न भिन्न मिनरल्स की प्रॉपर्टीज़ के बारे में जान सकते हैं, माइनिंग का प्रोसेस जान सकते हैं और साथ ही साथ माइनिंग इंडस्ट्री में इंजीनियरिंग का कांसेप्ट भी जान सकते हैं।
  • फील्ड वर्क एक्स्प्लोर करें : माइनिंग जैसे फील्ड में सिर्फ थ्योरी के बलबूते आप इसमें बेहतर करियर नहीं बना पाएंगे। अपनी पढ़ाई के साथ साथ फीलड वर्क में भी भी पार्टिसिपेट करें और बेहतर तरीके से एक्स्प्लोर करें।
  • इंजीनियरिंग एसोसिएशन ज्वाइन करें : अपने काम में फूर्ति और सटीकता लाने के लिए अपने तजुर्बे अनुसार नौकरी ढूंढें जहाँ आप प्रैक्टिकल फील्ड में जाकर अपने पढ़ें गए ज्ञान को इम्प्लीमेंट कर सकें। माइनिंग इंडस्ट्री में जॉब आपको प्रोफ़ेशनलिज़्म साथ नए अवसर प्रदान करता है।
  • मास्टर डिग्री का विकल्प चुनिए : अपने करियर के विकल्प में आप मास्टर डिग्री को भी हिस्सा बना सकते हैं। बेहतर और उच्च डिग्री आपको एक्सपीरियंस और ज्ञान के साथ जॉब के ज़्यादा बेहतर विकल्प भी प्रदान करती है।

माइनिंग इंजीनियरिंग के विषय

एक माइनिंग इंजीनियरिंग को खनिजों के पहचान करने से लेकर उसकी उपयोगिता और प्रोसेसिंग के बारे में भी पढ़ाया जाता है। माइनिंग इंजीनियरिंग में पढ़ाये जाने वाले विषय की लिस्ट नीचे दी गई है-

  • माइन प्लानिंग
  • वेंटिलेशन
  • इंजीनियरिंग स्ट्रक्चर का डिजाइन
  • मिनरल रिसोर्सेज
  • ड्रिलिंग और ब्लास्टिंग
  • माइन कॉस्ट इंजीनियरिंग
  • माइन हेल्थ और सुरक्षा
  • ओर रिजर्व एनालिसिस
  • एनवायर्नमेंटल आस्पेक्ट्स ऑफ माइनिंग
  • रॉक मैकेनिक्स
  • इंडस्ट्रियल माइनिंग

माइनिंग इंजीनियरिंग के कोर्स 

माइनिंग इंजीनियरिंग में छात्र के पास डिप्लोमा कोर्स, बैचलर डिग्री कोर्स से लेकर पीएचडी कोर्स करने तक का विकल्प होता है। माइनिंग इंजीनियरिंग के कोर्स की लिस्ट नीचे दी गई है-

  • Diploma in Mining Engineering
  • BE Mechanical Engineering 
  • BE Hons Science Major in Mining Engineering  
  • BE Hons Information Technology- Mining Engineering 
  • BSc Mining Engineering
  • ME/MS Mining Engineering 
  • ME Mining, Geological and Geophysical Engineering
  • MSc Mining and Minerals Engineering 
  • PGDip Mining Engineering 
  • MPhil Mining and Minerals Engineering

आप AI Course Finder की मदद से अपने पसंद के कोर्सेज और उससे सम्बंधित टॉप यूनिवर्सिटी का चयन कर सकते हैं।

विदेश के टॉप विश्वविद्यालय

माइनिंग इंजीनियरिंग के लिए दुनिया के टॉप विश्वविद्यालय की लिस्ट नीचे दी गई है:  

आप UniConnect के जरिए विश्व के पहले और सबसे बड़े ऑनलाइन विश्वविद्यालय मेले का हिस्सा बनने का मौका पा सकते हैं, जहाँ आप अपनी पसंद के विश्वविद्यालय के प्रतिनिधि से सीधा संपर्क कर सकेंगे।

भारत के टॉप विश्वविद्यालय

माइनिंग इंजीनियरिंग के लिए भारत के टॉप विश्वविद्यालय की लिस्ट नीचे दी गई है-

  • सभी आईआईटी
  • लखनऊ प्रौद्योगिकी संस्थान, लखनऊ
  • इंडस इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी, ऊना
  • रूंगटा कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, भिलाई
  • मेडी-कैप्स विश्वविद्यालय, इंदौर
  • विवेकानंद ग्लोबल यूनिवर्सिटी, जयपुर
  • दिल्ली प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
  • राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, सुरथकाली
  • एपीजी शिमला विश्वविद्यालय, शिमला
  • भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, भुवनेश्वर
  • प्रौद्योगिकी संस्थान, निरमा विश्वविद्यालय, अहमदाबाद
  • अखिल भारतीय श्री शिवाजी मेमोरियल सोसाइटी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, पुणे
  • विग्नन विश्वविद्यालय, गुंटुरी
  • सविता स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग, चेन्नई

योग्यता

माइनिंग इंजीनियरिंग में एडमिशन लेने के लिए अलग-अलग कोर्स के अनुसार योग्यता नीचे दी गई है-

  • माइनिंग इंजीनियरिंग में बैचलर डिग्री कोर्स करने के लिए आपको 10+2 न्यूनतम 50% के साथ पास करना होगा।
  • माइनिंग इंजीनियरिंग के लिए छात्र को  JEE Main, JEE Advanced, MHT CET , OJEE, BCECE जैसे एंट्रेंस एग्जाम पास करने होंगे । विदेश में बैचलर डिग्री कोर्स के लिए SAT या ACT एग्जाम क्लियर करने होंगे।  
  • यदि आप माइनिंग इंजीनियरिंग में मास्टर डिग्री कोर्स करना चाहते हैं, तो बैचलर डिग्री का होना आवश्यक है।
  • विदेश में माइनिंग इंजीनियरिंग के मास्टर डिग्री प्रोग्राम में एडमिशन लेने के लिए छात्र के पास एक अच्छा GMAT/GRE स्कोर होना चाहिए। 
  • अगर आप पीएचडी में एडमिशन लेना चाहते हैं,, तो आपको संबंधित कोर्स में मास्टर डिग्री को पास करना जरूरी है।
  • भारत में पीएचडी कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आपको UGC-NET, TIFR, JRF-GATE या राज्य स्तर के एंट्रेंस एग्जाम पास करने होंगे। 
  • एक अच्छा IELTS/ TOEFL स्कोर अंग्रेजी भाषा दक्षता के रूप में होना आवश्यक है। 
  • विदेश में कुछ यूनिवर्सिटी मास्टर डिग्री के लिए 2 वर्ष के कार्य अनुभव की भी मांग करती है, जिसका समय यूनिवर्सिटी के लिए अलग-अलग भी हो सकता है।

क्या आप IELTS/TOEFL/SAT/GRE में अच्छे अंक प्राप्त करना चाहते हैं? आज ही इन एक्साम्स की बेहतरीन तैयारी के लिए Leverage Live पर रजिस्टर करें और अच्छे अंक प्राप्त करें।

माइनिंग इंजीनियर कैसे बने के लिए आवेदन प्रक्रिया

किसी भी कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आपको उसकी प्रक्रिया पता होनी चाहिए। भारत और विदेश में टेक्सटाइल इंजीनियर बनने के लिए आपको नीचे बतायी गई प्रक्रिया को चरण दर चरण फॉलो करना होगा-

विदेश में माइनिंग इंजीनियरिंग के लिए आवेदन प्रक्रिया 

  • विश्वविद्यालय की ऑफिसियल वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करें। यूके में एडमिशन के लिए आप यूसीएएस वेबसाइट (UCAS) पर जाकर रजिस्ट्रेशन करें। यहाँ से आपको यूजर आईडी और पासवर्ड प्राप्त होंगे।
  • यूजर आईडी से साइन इन करें और कोर्स चुनें जिसे आप चुनना चाहते हैं। 
  • अगली स्टेप में अपनी शैक्षणिक जानकारी भरें।  
  • शैक्षणिक योग्यता के साथ  IELTS, TOEFL, प्रवेश परीक्षा स्कोर, SOP, LOR की जानकारी भरें। 
  • पिछले सालों की नौकरी की जानकरी भरें। 
  • रजिस्ट्रेशन फीस का भुगतान करें।
  • अंत में आवेदन पत्र जमा करें।
  • कुछ यूनिवर्सिटीज, सिलेक्शन के बाद वर्चुअल इंटरव्यू के लिए इन्वाइट करती हैं।

भारत में माइनिंग इंजीनियरिंग के लिए आवेदन प्रक्रिया

  • चरण 1: सबसे पहले आवेदक को 12 साल की बेसिक शिक्षा पूरी करनी होगी और 12वीं में साइंस स्ट्रीम होनी आवश्यक है।
  • चरण 2: माइनिंग इंजीनियर बनने के लिए आपको सबसे पहले एंट्रेंस एग्जाम के लिए आवेदन करना होगा। छात्र को राष्ट्रीय स्तर की एग्जाम जैसे JEE Main या राज्य स्तर के एग्जाम जैसे KCET या यूनिवर्सिटी स्तर के एग्जाम जैसे SRMJEEE, VITEEE आदि के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • चरण 3: आपको अपने एग्जाम के तरीके ऑनलाइन या ऑफलाइन के आधार पर एग्जाम देना होगा। 
  • चरण 4: एंट्रेंस एग्जाम प्राप्त अंकों के आधार पर छात्रों का आंकलन किया जाएगा। शॉर्टलिस्ट किए गए छात्रों की एक मेरिट लिस्ट जारी की जाएगी।
  • चरण 5: शॉर्टलिस्ट किए गए छात्रों को यूनिवर्सिटी द्वारा काउन्सलिंग के लिए बुलाया जाता है, जिसके बाद छात्रों का एडमिशन सुनिश्चित होता है।

आवदेन प्रक्रिया से सम्बन्धित जानकारी और मदद के लिए Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800572000 पर संपर्क करें

आवश्यक दस्तावेज

माइनिंग इंजीनियरिंग में एडमिशन लेने के लिए निम्नलिखित दस्तावेज़ हैं ज़रूरी-

छात्र वीजा पाने के लिए भी हमारे Leverage Edu विशेषज्ञ आपकी हर सम्भव मदद करेंगे।

माइनिंग इंजीनियरिंग के लिए एंट्रेंस एग्जाम 

भारत में माइनिंग इंजीनियरिंग कोर्स में एडमिशन लेने के लिए एंट्रेंस एग्जाम की लिस्ट नीचे दी गई है: 

विदेश के लिए एंट्रेंस एग्जाम

  • JRE
  • SAT
  • ACT

भारत के लिए एंट्रेंस एग्जाम

माइनिंग इंजीनियरिंग टॉप रिक्रूटर्स

माइनिंग इंजीनियरिंग के क्षेत्र में नौकरी देने वाले टॉप रिक्रूटर्स की सूची नीचे दी गई है-

  • Tata Steels
  • Kudremukh Iron Ore Company Limited
  • Accenture Solutions
  • Aditya Birla Hindalco
  • Vedanta Limited
  • Bharat Aluminum Company
  • Larsen & Turbo
  • Adani Mining Pvt. Ltd.
  • ArcelorMittal
  • Hindustan Zinc Limited
  • Essel Mining & Industries Limited
  • Bharat Forge Limited
  • Rajasthan State Mines and Minerals Limited
  • NALCO
  • Coal India Limited
  • Gujarat Mineral Development Corporation
  • NMDC
  • Neyveli Lignite Corporation
  • Geological Survey of India
  • Indian Bureau of Mines
  • Steel Authority of India Limited
  • Uranium Corporation of India Limited
  • Central Institute of Mine Planning and Design Ranchi
  • DRDO

माइनिंग इंजीनियरिंग के बाद जॉब प्रोफाइल और सैलरी 

माइनिंग इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के बाद आप कई क्षेत्रों में जॉब कर सकते हैं। माइनिंग इंजीनियरिंग के क्षेत्र में कुछ लोकप्रिय जॉब प्रोफाइल की जानकारी नीचे दी गई है-

  1. माइनिंग इंजीनियर: एक माइनिंग इंजीनियर, मामाइनिंग में नए प्रोपोसड वेंचर्स की कमर्शियल प्रक्टिकलिटी को रिव्यु करते हैं। माइनिंग इंजीनियर, संभावित खनन स्थलों की डिज़ाइन और कंस्ट्रक्शन प्रोजेक्ट्स के सुपरविजन करते हैं।
  2. लेक्चरर: लेक्चरर अपने विषय के विशेषज्ञ हैं, जो तरीके और मंच की सहायता से पाठ्यक्रम को डिजाइन, विकसित और सामग्री वितरित करने में मदद करते हैं। व्याख्याता, शोध और क्षेत्र कार्य भी करते हैं। 
  3. माइनिंग सेफ्टी इंजीनियर: माइनिंग सेफ्टी इंजीनियर, कर्मचारियों की सुरक्षा का ध्यान रखने के साथ-साथ राज्य और फ़ेडरल सेफ्टी रेगुलेशन को फॉलो करता है।  
  4. ऑपरेशन मैनेजमेंट: एक ऑपरेशन मैनेजमेंट विभाग में सभी विकास गतिविधियों की जानकारी और कंपनी के उद्देश्यों और लक्ष्यों को पूरा करने के लिए रणनीतियाँ बनाता है। 
  5. डिजाइन इंजीनियर: एक डिजाइन इंजीनियर, गणना और संरचनात्मक डिजाइन का पर्यवेक्षण और संचालन करता है।

माइनिंग इंजीनियरिंग के क्षेत्र में लोकप्रिय जॉब प्रोफाइल और सैलरी glassdoor.co.in के अनुसार नीचे दी गई है:

जॉब प्रोफाइल सालाना सैलरी (INR)
माइनिंग इंजीनियर 6-7 लाख
लेक्चरर 3-4 लाख
माइनिंग सेफ्टी इंजीनियर 6-7 लाख 
ऑपरेशन मैनेजमेंट 8-10 लाख
डिजाइन इंजीनियर 8-10 लाख 

FAQs

माइनिंग इंजीनियरिंग के कुछ प्रमुख विषय कौन से हैं?

खनन भूविज्ञान, रॉक यांत्रिकी, खान विकास, भूमिगत खान पर्यावरण, खनिज प्रसंस्करण, खनन मशीनरी आदि विषयों को माइनिंग इंजीनियरिंग में शामिल किया गया है। 

माइनिंग इंजीनियरिंग की पढ़ाई के बाद आप किन कंपनी में काम कर सकते है?

माइनिंग इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के बाद आप कोयला कंपनियां, उर्वरक कंपनियां, यूरेनियम, तेल और गैस की खोज करने वाली कंपनियों में काम कर सकते हैं।

भारत और विदेश में BTech माइनिंग इंजीनियरिंग की पढ़ाई कराने वाली टॉप यूनिवर्सिटी कौनसी हैं? 

भारत में टॉप यूनिवर्सिटी की लिस्ट इस प्रकार है:
1. भारतीय इंजीनियरिंग विज्ञान और प्रौद्योगिकी संस्थान शिबपुर
2. विश्वेश्वरैया राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान
3. जवाहरलाल नेहरू प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय
4. लखनऊ प्रौद्योगिकी संस्थान, लखनऊ
5. इंडस इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी, ऊना
विदेश में टॉप यूनिवर्सिटी की लिस्ट इस प्रकार है:
1.द यूनिवर्सिटी ऑफ़ क्वींसलैंड 
2. द यूनिवर्सिटी ऑफ़ न्यू साउथ वेल्स 
3. वर्जिनिया टेक 
4. कर्टिन यूनिवर्सिटी   
5. यूनिवर्सिटी ऑफ़ वोलांगोंग

उम्मीद है, कि इस ब्लॉग ने आपको Mining Engineer kaise bane के लिए उचित मार्गदर्शन मिली होगी। यदि आप भी विदेश में माइनिंग इंजीनियरिंग की पढ़ाई करना चाहते हैं, तो हमारे Leverage Edu विशेषज्ञ के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन 1800 572 000 पर कॉल कर बुक करें।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today. How-To guides
Talk to an expert