कैसे बनाएं जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग में करियर?

1 minute read
312 views
Geotechnical Engineering in Hindi

यदि आप जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग में करियर बनाने का सपना देख रहे हैं, तो आपको जानना चाहिए कि कैसे जियोटेक्निकल इंजीनियर्स समाजों को आकार, निर्माण, रखरखाव और उनका विस्तार करते हैं। हमारे समाज पर उनके काम का प्रभाव वास्तव में गहरा है और हमारी आधुनिक दुनिया के लगभग हर पहलू में इसे देखा जा सकता है; महानगरीय क्षेत्रों के भव्य शहरों से लेकर उन राजमार्गों तक, जिन पर हम नियमित रूप से सफर तय करते हैं। यदि आप 12वीं साइंस के बाद डिग्री कोर्स की तलाश कर रहे हैं, तो आप जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग को एक बेहतरीन विकल्प के रूप में चुन सकते हैं। आइए इस ब्लॉग में geotechnical engineering in Hindi के बारे में विस्तार से जानते हैं।

कोर्स का नाम जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग
डिग्री बैचलर
कोर्स का स्तर अंडरग्रेजुएट
कोर्स की अवधि 4 वर्ष ( 8 सेमस्टर)
पात्रता मापदंड गणित, भौतिकी विज्ञान और रसायन विज्ञान के साथ 12 वीं कक्षा में न्यूनतम 50%
प्रवेश का मानदंड प्रवेश परीक्षा
प्रासंगिक फ़ील्ड  इंजीनियरिंग 
सेक्टर/उद्योग -इंस्ट्रुमेंटेशन विशेषज्ञ
-डिजाइन इंजीनियर
मेक्ट्रोनिक्स इंजीनियर
-कंसलटेंट
-साइट सिविल इंजीनियर
औसत वार्षिक वेतन (INR) 6-10 लाख
This Blog Includes:
  1. जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग क्या है?
  2. जियोटेक्निकल इंजीनियर के कार्य
  3. जियोटेक्निकल इंजीनियर का कार्य स्थान
  4. जियोटेक्निकल इंजीनियर की स्किल्स
  5. जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग का डिग्री के रूप में महत्व
  6. जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग विषय
  7. जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग के टॉप कोर्सेज
  8. जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग के लिए विदेशी विश्वविद्यालय
  9. जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग के लिए भारतीय विश्वविद्यालय
  10. जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग के लिए योग्यता
  11. आवेदन प्रक्रिया
    1. विदेशी विश्वविद्यालय के लिए आवेदन प्रक्रिया
  12. आवश्यक दस्तावेज
  13. जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग के लिए एंट्रेंस एग्जाम
  14. करियर स्कोप 
  15. जॉब प्रोफाइल्स व सैलरी
  16. FAQs

जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग क्या है?

Geotechnical engineering in Hindi सिविल इंजीनियरिंग की एक शाखा है और यह पृथ्वी के प्रदार्थों के इंजीनियरिंग व्यवहार से संबंधित है। सिविल इंजीनियरिंग में जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग बहुत महत्वपूर्ण है, लेकिन इसका उपयोग भूमि या भूमि पर सैन्य, खनन, पेट्रोलियम या किसी अन्य इंजीनियरिंग से संबंधित है। जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग भूमिगत स्थितियों और सामग्रियों का अध्ययन करने के लिए मिट्टी यांत्रिकी और रॉक यांत्रिकी के सिद्धांतों का उपयोग करती है।

‘जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग’ शब्द का प्रयोग विषयों के सैद्धांतिक और व्यावहारिक अनुप्रयोग दोनों का वर्णन करने के लिए किया जाता है। जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग एक ऑन-विज़न परियोजना को पूरा करने के लिए भूवैज्ञानिकों और वास्तुकारों के साथ मिलकर काम करते हैं, चाहे वह निर्माण स्थल की डिजाइनिंग और योजना बनाना हो, उसकी स्थितियों का मूल्यांकन करना हो, किसी योजना का मानचित्रण करना हो या उसके कार्यान्वयन (इम्प्लीमेंटेशन) पर काम करना हो।

जियोटेक्निकल इंजीनियर के कार्य

जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग की नौकरी बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि बहुत से लोगों का जीवन उन परियोजनाओं और निर्माणों पर निर्भर करता है जिनमें वे लगे हुए हैं। जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग के कुछ प्रमुख कार्य नीचे दिए गए हैं-

  • एक जियोटेक्निकल इंजीनियर भूमिगत स्थितियों और सामग्रियों की जांच करता है तथा साथ ही वह उनके डिजाइन, बांधों, तटबंधों और अन्य संरचनाओं को बनाए रखने का कार्य करता है
  • जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग  के कार्य में साइट की स्थिति की निगरानी, ​​​और प्राकृतिक ढलानों का मूल्यांकन भी शामिल है। 
  • स्थिरता और भूस्खलन और भूकंप जैसी प्राकृतिक आपदाओं का जोखिम मूल्यांकन करना व उसकी रोकथाम करना।
  • ऑन-साइट जांच के अलावा, उनके काम में अन्य प्रक्रियाओं में आगे, उपयोग के लिए डेटा का विश्लेषण करने के लिए नमूनाकरण और परीक्षण भी शामिल है।
  • वे तय करते हैं कि कोई स्थान किसी विशेष प्रकार की इमारत के लिए सुरक्षित है या नहीं। 
  • वे भूकंप, बाढ़ और अन्य प्राकृतिक आपदाओं का सामना करने के लिए स्थानों को सक्षम करने में भी मदद करते हैं, संभावित रूप से जीवन और संसाधनों को वह बचाते हैं।

जियोटेक्निकल इंजीनियर का कार्य स्थान

जियोटेक्निकल इंजीनियर ज्यादातर कार्यालयों में समय बिताते हैं लेकिन उन्हें कभी-कभी साइट पर निरीक्षण और दौरे करना पड़ता है जिसमें बहुत समय नहीं लगता है लेकिन जगह-जगह भिन्न हो सकते हैं। कुछ स्थान जियोटेक्निकल इंजीनियर के कार्यक्षेत्र में आते हैं और जहाँ वे आमतौर पर काम करते हैं, वह नीचे दिए गए हैं-

  • महाविद्यालय और विश्वविद्यालय
  • निर्माण स्थल
  • विद्युत उपयोगिता कंपनियां
  • इंजीनियरिंग परामर्श फर्म
  • माइनिंग कंपनियाँ
  • नगरपालिका, क्षेत्रीय और संघीय सरकारें
  • रियल एस्टेट विकास कंपनियां
  • पेट्रोलियम सेवा कंपनियां
  • सार्वजनिक और निजी अनुसंधान संगठन
  • तेल और गैस की खोज, उत्पादन और परिवहन कंपनियां।

जियोटेक्निकल इंजीनियर की स्किल्स

जियोटेक्निकल इंजीनियर की मुलभुत स्किल नीचे दी गई हैं-

  • इंटेंस थिंकिंग
  • कम्युनिकेशन स्किल्स
  • समस्या का समाधान करने का गुण
  • व्यवहारिक और तकनिकी ज्ञान होना चाहिए
  • उचित निर्णय लेने की क्षमता
  • इंजीनियरिंग सिद्धांतों का ज्ञान

जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग का डिग्री के रूप में महत्व

Geotechnical engineering in Hindi में शिक्षा ग्रेजुएशन और पोस्टग्रेजुएट दोनों स्तरों पर दी जाती है, जैसे-

  • रिसर्च के दौरान, छात्र कई भूवैज्ञानिक प्रक्रियाओं के बारे में सीखते हैं और निर्माण प्रथाओं को समझने के लिए पृथ्वी सामग्री के इंजीनियरिंग व्यवहार की जांच करते हैं ।
  • जिसमें रासायनिक गुणों को मापना, क्षेत्र की स्थिरता का मूल्यांकन करना और निर्माण की नींव रखना शामिल है।
  • इस कोर्स में मृदा (मिट्टी) और चट्टान यांत्रिकी, जलविज्ञान, भूभौतिकी और इंजीनियरिंग भूविज्ञान (जो सिविल इंजीनियरिंग का एक विषय है) जैसे विशिष्ट डोमेन शामिल हैं।
  • निर्माण, पर्यावरण उद्योगों के भीतर इंजीनियरिंग करियर में जो लोग प्रवेश करने और काम करने की योजना बना रहे हैं, उनके लिए जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग एक अच्छा विकल्प है।
  • यह कोर्स छात्रों को विश्व स्तरीय शैक्षिक बुनियादी ढांचा प्रदान करने और उन्हें उद्योग के लिए तैयार करने के लिए मजबूत और अत्याधुनिक तकनीकों का मिश्रण है। 

जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग विषय

भू-तकनीकी इंजीनियरिंग में एक विशिष्ट एम.टेक कोर्स में क्षेत्र में अतिरिक्त क्षेत्रों की खोज करने वाले विषयों के साथ-साथ ग्रेजुएट स्तर के विषयों के अध्ययन के उन्नत संस्करण शामिल हैं। पूरे कोर्स में पढ़ाए जाने वाले कुछ मुख्य विषय इस प्रकार हैं: 

  • एडवांस्ड सॉइल मैकेनिक्स
  • एडवांस्ड इंजीनियरिंग मैथ्स
  • एडवांस्ड फाउंडेशन इंजीनियरिंग
  • जियोटेक्निकल लैब
  • थ्योरेटिकल सॉइल मैकेनिक्स
  • सॉइल एंड फाउंडेशन डायनामिक्स
  • इंजीनियरिंग में कंप्यूटर एप्लीकेशन
  • जियोटेक्निकल टेस्ट एक्सरसाइज
  • प्रोजेक्ट प्लानिंग मैनेजमेंट

नोट: एम.टेक. कोर्स में एक अनिवार्य शोध प्रबंध शामिल है।

जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग के टॉप कोर्सेज

कुछ लोकप्रिय कोर्सेज के नाम नीचे दिए गए हैं-

  • Engineering Geology और Geotechnics में BSc (Hons)
  • Civil और Geotechnical Engineering (Dual major) में BE (Hons)/Mathematics
  • Mining और Geotechnical Engineering (Dual major) में BE (Hons)/Mathematics
  • Geotechnics में MS
  • Applied Geotechnics में MSc
  • Engineering Geology और Geotechnics में MGeol
  • Geotechnical Engineering में MS
  • Civil Engineering – Geotechnical Engineering में MS
  • Geotechnical Engineering में MSc/Diploma/Certificate
  • Geotechnical Engineering and Management में MSc/Diploma/Certificate
  • Geotechnical Engineering and Engineering Geology में Master of Engineering Science

आप AI Course Finder की मदद से अपने पसंद के कोर्सेस का चयन कर सकते हैं।

जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग के लिए विदेशी विश्वविद्यालय

यदि आप geotechnical engineering in Hindi में एक शानदार करियर बनाना चाहते हैं जो आपकी आकांक्षाओं के अनुकूल हो और आपको एक अच्छा मंच प्रदान करे, तो दुनिया के सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालयों में से एक में दाखिला लेना एक अच्छा विचार है। कुछ शीर्ष विश्वविद्यालयों की लिस्ट नीचे दी गई है-

रहने का खर्च अपने रहन-सहन के अनुसार जानने के लिए आप Cost of Living Calculator का उपयोग कर सकते हैं।

जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग के लिए भारतीय विश्वविद्यालय

भारत के शीर्ष कॉलेज जो geotechnical engineering in Hindi कोर्सेज प्रदान करते हैं, उनके नाम नीचे दिए गए हैं-

  • भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान बॉम्बे
  • एस. आर. एम. विज्ञान और प्रौद्योगिकी संस्थान
  • भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास
  • लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी
  • भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान दिल्ली
  • दिल्ली तकनीकी विश्वविद्यालय
  • आंध्र यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग
  • चंडीगढ़ विश्वविद्यालय
  • गवर्नमेंट कॉलेज ऑफ टेक्नोलॉजी, कोयंबटूर
  • भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, खड़गपुर
  • भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, रुड़की
  • भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, चेन्नई
  • राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, मैंगलोर
  • इंजीनियरिंग कॉलेज, पुणे
  • भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान हैदराबाद

आप UniConnect के जरिए विश्व के पहले और सबसे बड़े ऑनलाइन विश्वविद्यालय मेले का हिस्सा बनने का मौका पा सकते हैं, जहाँ आप अपनी पसंद के विश्वविद्यालय के प्रतिनिधि से सीधा संपर्क कर सकेंगे।

जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग के लिए योग्यता

यदि आप जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग में अपने करियर को आगे बढ़ाने की योजना बना रहे हैं, तो आपको अपने चुने हुए विश्वविद्यालयों द्वारा निर्धारित सभी पात्रता आवश्यकताओं के लिए क्वालिफिकेशन प्राप्त करने की आवश्यकता है। नीचे योग्यता दी गई हैं-

  • जियोटेक्निकल इंजीनियर बनने कें लिए आपको कक्षा 12th को (फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथ्स) के साथ अच्छे अंको से पास होना है। तभी आप इस फील्ड के चयन प्रक्रिया में सहभाग ले सकते हैं।
  • आवेदक का इंटरमीडिट मे परिणाम 50% से अधिक होना अनिवार्य हैं।
  • बैचलर डिग्री कार्यक्रम के कोर्स में साइंस, मैथ्स, मैकेनिक्स और अन्य इंजीनियरिंग पहलुओं का कवरेज शामिल है और यह पाठ्यक्रम 3 से 5 वर्षों तक चलता है। 
  • मास्टर डिग्री प्रोग्राम 1 से 3 साल की अवधि के लिए विशेष रूप से एडवांस्ड तैयारी प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।
  • यदि आप विदेशी विश्वविद्यालय में जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने की योजना बना रहे हैं, तो विश्वविद्यालय को आपको SAT स्कोर के साथ-साथ IELTS/TOEFL इत्यादि जैसे अंग्रेजी भाषा प्रवीणता स्कोर जमा करने की भी आवश्यकता होगी। इसके साथ, आपको एक SOP और वैकल्पिक LOR प्रदान करना होगा।

क्या आप IELTS/TOEFL/SAT/GRE में अच्छे अंक प्राप्त करना चाहते हैं? आज ही इन परीक्षाओं  की बेहतरीन तैयारी के लिए Leverage Live पर रजिस्टर करें और अच्छे अंक प्राप्त करें।

आवेदन प्रक्रिया

भारतीय यूनिवर्सिटीज द्वारा आवेदन प्रक्रिया नीचे मौजूद है-

  • सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  • यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  • फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  • अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  • इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  • यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

विदेशी विश्वविद्यालय के लिए आवेदन प्रक्रिया

कैंडिडेट को आवदेन करने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया को पूरा करना होगा:

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप हमारे AI Course Finder की सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • हमारे एक्सपर्ट्स से कॉन्टैक्ट के पश्चात वे हमारे कॉमन डैशबोर्ड प्लेटफॉर्म के माध्यम से कई विश्वविद्यालयों की आपकी आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेजों जैसे SOP, निबंध (essay), सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टेस्ट स्कोर जैसे IELTS, TOEFL, SAT, ACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTS, TOEFL, PTE, GMAT, GRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप हमारी Leverage Live कक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीजा और छात्रवृत्ति / छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लेटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। 

आवदेन प्रक्रिया से सम्बन्धित जानकारी और मदद के लिए Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800 572 000 पर संपर्क करें

आवश्यक दस्तावेज

यूनिवर्सिटीज में एडमिशन लेने के लिए नीचे दिए गए दस्तावेज होने आवश्यक हैं-

छात्र वीजा पाने के लिए भी हमारे Leverage Edu विशेषज्ञ आपकी हर सम्भव मदद करेंगे।

जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग के लिए एंट्रेंस एग्जाम

Geotechnical engineering in Hindi में प्रवेश के लिए आयोजित लोकप्रिय प्रवेश परीक्षाओं की लिस्ट नीचे दी गई है-

  • JEE: JEE मेन्स और एडवांस परीक्षाएं पूरे देश में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान द्वारा विभिन्न इंजीनियरिंग कोर्सेज के लिए छात्रों का चयन करने के लिए उनकी योग्यता के आधार पर आयोजित की जाती हैं।
  • UPSEE: UPSEE परीक्षा Geotechnical Engineering सहित विभिन्न इंजीनियरिंग पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए आयोजित की जाती है, जो अब्दुल कलाम प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, लखनऊ के तहत विभिन्न कॉलेजों और संस्थानों द्वारा प्रदान किए जाते हैं।
  • WBJEE: पश्चिम बंगाल संयुक्त प्रवेश परीक्षा के रूप में भी जाना जाता है, यह बंगाल के विभिन्न निजी और सरकारी कॉलेजों द्वारा प्रदान किए जाने वाले विभिन्न बैचलर कोर्सेज में विभिन्न छात्रों को प्रवेश की अनुमति देने के लिए एक राज्य स्तरीय प्रवेश परीक्षा है।
  • MHTCET: इसे आमतौर पर महाराष्ट्र कॉमन एंट्रेंस टेस्ट के रूप में जाना जाता है, जो महाराष्ट्र राज्य में कई विश्वविद्यालयों द्वारा प्रदान किए जाने वाले विभिन्न बैचलर कोर्सेज में प्रवेश के लिए राज्य स्तरीय प्रवेश परीक्षा के रूप में आयोजित किया जाता है।

ध्यान दें: विदेश में जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग पढ़ने के लिए एंट्रेंस टेस्ट की आवश्यकता नहीं होती है।

करियर स्कोप 

एक जियोटेक्निकल इंजीनियर होने के नाते, आपको कुछ जिम्मेदारियों से संपन्न किया जाएगा जिनके लिए आपको ग्राहकों और पेशेवरों के साथ एक नेटवर्क बनाने और उनका पोषण करने की आवश्यकता होगी। आप साइट का प्रभार लेंगे और कार्यों को विनियमित करेंगे। सार्वजनिक या निजी क्षेत्र, छोटी फर्मों या बड़ी कंपनियों में काम करने से लेकर उद्यमी बनने तक, यह भारत और विदेश दोनों में विकास और अवसरों का क्षेत्र है।

जॉब प्रोफाइल्स व सैलरी

अमेरिका में एक जियोटेक्निकल इंजीनियर की सालाना औसत सैलरी USD 68,461 (INR 51.34 लाख) और यूके में GBP 50,419 (INR 50.41 लाख) होती है। भारत में जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग में अपनी डिग्री पूरी करने के बाद आप नीचे दी गई नौकरी कर सकते हैं, जिनकी सैलरी Payscale के अनुसार नीचे दी गई है :

जॉब प्रोफाइल सैलरी/सालाना (INR)
जियोटेक्निकल इंजीनियर ₹6-10 लाख
परिवहन इंजीनियर ₹4-5 लाख
पर्यावरण इंजीनियर ₹4-5 लाख
बिल्डिंग मैनेजर ₹10-11 लाख
बिज़नेस ऑपरेशन मैनेजर ₹9-10 लाख
सिविल इंजीनियर ₹3-4 लाख
साइट सिविल इंजीनियर ₹4-5 लाख
बिज़नेस एनालिस्ट ₹9-10 लाख

आप Leverage Finance की मदद से विदेश में पढ़ाई करने के लिए अपने कोर्स और विश्वविद्यालय के अनुसार एजुकेशन लोन भी पा सकते हैं।

FAQs

क्या जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग एक अच्छा करियर है?

जियोटेक्निकल इंजीनियरों के लिए नौकरी उद्योग में 2024 तक लगभग 11% की वृद्धि देखने की उम्मीद है, जो आश्वस्त करता है कि जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग एक अच्छा करियर है और सिविल इंजीनियरिंग ग्रेजुएट्स के लिए महान करियर के अवसरों को जन्म देगा।

जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग के विदेशी विश्वविद्यालय कौन कौन से है?

मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी, हार्वर्ड यूनिवर्सिटी, येल यूनिवर्सिटी आदि जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग के कुछ प्रमुख विश्वविद्यालय हैं।

जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग में क्या सिखाया जाता है?

जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग में मिट्टी व पत्थर के व्यवहार को समझना सिखाया जाता हैं। मिट्टी से संबंधित संरचना जैसे की भूमिगत संरचना, बांध, नहरें, आदि संरचना पर मृदा व्यवहार के बारे में समझाया जाता हैं।

विदेशी विश्वविद्यालय की आवदेन प्रक्रिया क्या है ?

आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप हमारे AI Course Finder की सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं।

हमें उम्मीद है कि इस ब्लॉग ने आपको Geotechnical engineering in Hindi के बारे में सभी जानकारी दी है। यदि आप विदेश में जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग करना चाहते हैं तो आज ही 1800 572 000 पर कॉल करके हमारे Leverage Edu के एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें। हम एक उचित मार्गदर्शन के साथ आवेदन प्रक्रिया में भी आपकी मदद करेंगे।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert