पैरामेडिकल कोर्स

3 minute read
1.1K views
10 shares
Leverage Edu Default Blog Cover

हेल्थकेयर सेक्टर उन महत्वपूर्ण इंडस्ट्रीज में से एक है, जो कंट्री की इकॉनमी को ऊंचाई पर ले जाता है। अगर हम पैरामेडिक्स की बात करें तो पैरामेडिकल, मेडिकल इंडस्ट्री के लिए एक बैकबोन की तरह काम करता है। आज के हमारे इस ब्लॉग में हम आपको पैरामेडिकल कोर्स के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे।  

पैरामेडिकल कोर्स क्या है?

पैरामेडिकल कोर्स वह कोर्स होते हैं जिनको करने के बाद आप हेल्थ केयर के क्षेत्र में चले जाते हैं। अब अगर हम इसे साधारण शब्दों में समझे तो पैरामेडिक उन्हें बोलते हैं जो एक्स-रे करते हैं, सोनोग्राफी करते हैं, फिजियोथैरेपी करते हैं। पैरामेडिकल कोर्स करने वाले छात्रों को पैरामेडिक कहा जाता है। एक पैरामेडिक हेल्थ केयर की सर्विस करने के अलावा इमरजेंसी कंडीशन में मरीज को पहली ट्रीटमेंट भी देता है जिसे ‘ फर्स्ट ऐड ‘ कहते हैं। हॉस्पिटल में इमरजेंसी कंडीशन में ज्यादातर पैरामेडिकल स्टाफ ही मौजूद होता है।

पैरामेडिकल कोर्सेज के प्रकार

पैरामेडिकल कोर्स तीन प्रकार के होते हैं जिनके नाम नीचे दिए हुए हैं।

  • डिग्री पैरामेडिकल कोर्स – डिग्री पैरामेडिकल कोर्स को पूरा करने में आपको 1.5 वर्ष से लेकर 4 वर्ष का वक्त लग सकता है।
  • डिप्लोमा पैरामेडिकल कोर्स – डिप्लोमा पैरामेडिकल कोर्स को पूरा करने में आपको 1 से 2 वर्ष तक का वक्त लग सकता है।
  • सर्टिफिकेट पैरामेडिकल कोर्स – सर्टिफिकेट पैरामेडिकल कोर्स को आप 1 से 2 वर्ष के अंदर पूरी कर सकते हैं।

पैरामेडिकल स्टाफ का प्रमुख कार्य

पैरामेडिकल स्टाफ के कुछ महत्वपूर्ण कार्य नीचे बताये गए हैं:

  • मरीज़ के उपचार के लिए डॉक्टरों और चिकित्सा की टीम के अन्य सदस्यों के साथ मिलकर काम करना होता है।
  • रोगियों को विशेषज्ञ देखभाल देना, विशेष क्षेत्रों में विशेष तकनीकी कर्तव्यों को निष्पादित करना शामिल है, जैसे ऑपरेशन थिएटर आदि।
  • सेंपल प्राप्त करना, लेबल करना और विश्लेषण करना शामिल है।
  • मानक प्रक्रियाओं के अनुसार प्रयोगशाला परीक्षण को डिजाइन करना और निष्पादित करना भी शामिल है।

10वीं के बाद पैरामेडिकल कोर्स

10 वीं के बाद आप पैरामेडिकल के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो नीचे कुछ पैरामेडिकल कोर्स लिस्ट दी गई है 

  • General Nursing and Midwifery (GNM)
  • Auxiliary Nurse Midwifery (ANM)
  • Diploma in Radiology
  • Diploma in Genecology and Obstetrics
  • Diploma in Child Health
  • Diploma in Rural Health Care
  • Diploma in Community Health Care
  • Diploma in Orthopedics
  • Diploma in Ophthalmology
  • Diploma in Optometry
  • Diploma in Dermatology 
  • Diploma in Clinical Research
  • Diploma in Dermatology, Venereology and Leprosy
  • Diploma in Medical Record Technology
  • Diploma in Medical Imaging Technology
  • Diploma in Medical Lab Technology 
  • Diploma in Hearing Language and Speech
  • Diploma in Operation Theatre Technology
  • Diploma in OT Technician
  • Certificate in Research Methodology
  • Certificate in Lab Assistant/Technician
  • Certificate in Nursing Care Assistant
  • Certificate in Operation Theatre Assistant
  • Certificate in Dental Assistant
  • Certificate in ECG and CT Scan Technician
  • Certificate in HIV and Family Education
  • Certificate in Nutrition and Childcare
  • Certificate in Rural Health Care
  • Certificate in Home-Based Health Care

नीचे 10वीं के बाद टॉप पैरामेडिकल कोर्स लिस्ट उनकी फीस के साथ दी गई है

पैरामेडिकल कोर्स अवधि फीस
Diploma in Ayurvedic Nursing 1 साल INR 50,000 से 1 लाख
Diploma in Medical Record Technology 2 साल INR 2-3 लाख
Diploma in Nursing Care Assistant  1-2 साल INR 1.5-2 लाख
Diploma in X-Ray Technology 2 साल INR 2-3 लाख
MRI Technician (Certificate) 3 महीने से 1 साल INR 60,000-70,000
Certificate in Home Based Health Care 6 महीने से 2 साल INR 20,000-30,000
Diploma in Dialysis Techniques 2 साल INR 55,000-60,000
Diploma in Rural Health Care 1 साल INR 2-3 लाख
Home Health Aide (HHA) 4 महीने INR 2,000 से 5,000

12वीं विज्ञान के बाद पैरामेडिकल कोर्स

नीचे पैरामेडिकल के कुछ ऐसे कोर्सेज की लिस्ट हैं जो कि आप 12के बाद चुन कर सकते हैं:

  • BSc (Hons) Nursing
  • BSc (Hons) Paramedical Science
  • BSc in Operation Theatre Technology
  • BSc in Cardiac Technology
  • BSc in Physician Assistant
  • BSc in Medical Imaging Technology
  • BSc in Medical Lab Technology
  • BSc in Anesthesia
  • BSc in Medical Record Technology
  • BSc in Cardiovascular Technology
  • BSc in Nuclear Medicine Technology
  • BSc in Neurophysiology Technology
  • BSc in Dialysis Technology
  • BSc in Ophthalmic Technology
  • BSc in Audiology and Speech Therapy
  • BSc in Occupational Therapy
  • BSc in Radiology
  • BSc in Radiography
  • BSC Optometry
  • Bachelor of Paramedicine
  • Bachelor of Paramedical Technology
  • Bachelor of Physiotherapy
  • Bachelor of Health in Paramedicine (Hons)

बहुत से ऐसे मेडिकल और नॉन मेडिकल कोर्स हैं जिन्हें आप 12वीं पास करने के बाद चुन कर सकते हैं। नीचे 12वीं के बाद टॉप पैरामेडिकल कोर्स लिस्ट उनकी फीस के साथ दी गई है

पैरामेडिकल कोर्स अवधि फीस
BSc Radiology 3 साल INR 2 लाख से 10 लाख
BSc in Audiology and Speech Therapy 3 साल INR 4-5 लाख
Bachelor of Physiotherapy 3-5 साल INR 4-5 लाख
BSc Ophthalmic Technology 3 साल INR 2 लाख से 6 लाख
Bachelor/BSc in OTT(Operation Theater Technology) 3-5 साल INR 4-5 लाख
B.Sc (Respiratory Therapy Technology) 3-5 साल INR 2 लाख से 4 लाख
B.Sc in Dialysis Therapy 3 साल INR 1 लाख 2 लाख
BSc Nursing 4 साल INR 1 लाख से 2 लाख
BNYS Course(Bachelor of Naturopathyand Yogic Sciences) 5 साल INR 1 लाख से 2 लाख
Diploma in Physiotherapy 2 साल INR 1 लाख से 3 लाख

ग्रेजुएशन के बाद पैरामेडिकल कोर्सेज

पैरामेडिकल के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते है तो आप ग्रेजुएशन के बाद पैरामेडिकल के निम्न कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं 

  • PG Diploma in Cardiac Pulmonary Perfusion
  • PG Diploma in Anesthesiology
  • PG Diploma in Child Health
  • PG Diploma in Medical Radio-Diagnosis
  • Master of Paramedic Science
  • Master of Paramedic Practitioner
  • Master in Physiotherapy
  • MS/MSc in Community Health Nursing
  • MS/MSc in Medical Lab Technology
  • MS/MSc in Obstetrics and Gynecology Nursing
  • MS/MSc in Pediatric Nursing
  • MS/MSc in Child Health Nursing
  • MS/MSc in Psychiatric Nursing
  • MD in Pathology
  • MD in Anesthesia
  • MD in Radiodiagnosis
  • PhD in Paramedical Science
  • PhD (Integrated) in Paramedical Science

मास्टर्स लेवल के पैरामेडिकल कोर्सेज

मेडिकल साइंस या इससे संबंधित स्पेशलाइजेशन जैसे फिजियोथेरेपी, होम्योपैथी, नर्सिंग आदि में बैचलर्स कोर्स पूरा करने के बाद, आप किसी स्पेसिफिक स्पेशलाइजेशन में एक्सपर्टाइज हासिल करने के लिए मास्टर्स लेवल पैरामेडिकल कोर्स कर सकते हैं। 

पैरामेडिकल कोर्स अवधि फीस
Master in Physiotherapy (MPT) 2 साल INR 2 लाख से 7 लाख
MD in Anesthesia 3 साल INR 5 लाख से 25 लाख
Master in Physiotherapy – Sports Physiotherapy 2 साल INR 2-3 लाख
M.Sc. in Community Health Nursing 3 साल INR 4.3-5 लाख
MD in Pathology 3 साल INR 5 लाख से 25 लाख
Post Graduate Diploma in Child Health 2 साल INR 2 लाख से 6 लाख

डिप्लोमा के लिए पैरामेडिकल कोर्स

यहां टॉप डिप्लोमा पैरामेडिकल कोर्स की लिस्ट दी गई है जिनमें आप एडमिशन ले सकते हैं:

  • Diploma in Gynaecology and Obstetrics
  • Diploma in Child Health
  • Diploma in Rural Health Care
  • Diploma in Community Health Care
  • Diploma in Orthopaedics
  • Diploma in Ophthalmology
  • Diploma in Optometry
  • Diploma in Dermatology 
  • Diploma in Clinical Research
  • Diploma in Dermatology, Venereology and Leprosy
  • Diploma in Medical Record Technology
  • Diploma in Medical Imaging Technology
  • Diploma in Medical Lab Technology 
  • Diploma in Hearing Language and Speech
  • Diploma in Operation Theatre Technology
  • Diploma in OT Technician

पैरामेडिकल के टॉप कोर्सेज

B.Sc. in OTT (Operation Theater Technology)- जैसा कि नाम से पता चलता है, यह कोर्स ऑपरेशन थिएटर टेक्नोलॉजी में स्पेशलाइजेशन पर फोकस करता है। यदि आप इस कोर्स में डिग्री प्राप्त करने की प्लानिंग बना रहे हैं तो यह आपको एक डीप अंडरस्टैंडिंग डेवेलप करने में मदद करेगा कि कैसे हॉस्पिटल्स के ऑपरेशन में काम होता है जैसे ऑपरेटिंग मशीन पे काम करने से लेकर सर्जिकल परफॉरमेंस में डॉक्टर की हेल्प करने तक।

BSc Radiology- यह कोर्स हॉस्पिटल में मशीनरी कैसे काम करता है, इसके टेक्निकल आस्पेक्ट को देखता है। इस कोर्स के पूरा होने पर, आप M.R.I और C.T. जैसी ऑपरेटिंग मशीन को उपयोग में लेने में माहिर होंगे। 

B.Sc. in Audiology and Speech Therapy- यह कोर्स कम्युनिकेशन डिसऑर्डर में स्पेशलाइज बनाता है। ऑडिओलॉजिस्ट, हियरिंग डिसऑर्डर को पहचानना, मेजर और एग्जामिन करने में स्पेसलाइज़ बनाता है। स्पीच थेरेपिस्ट्स और स्पीच-लैंग्वेज पैथोलोजिस्ट एक साथ काम करते हैं।

Diploma in Rural Health Care- यह कोर्स सैनिटेशन, फर्स्ट ऐड और अदर मेडिकल फैसिलिटीज को देखता है, जो रूरल एरिया मे होनी चाहिए। इस कोर्स का उद्देश्य छात्रों को बेसिक हेल्थ फैसिलिटीज और इमरजेंसी सिचुएशन को पूवर्ली डेवेलप एरिया में कैसे हैंडल करें उसके बारे में एजुकेशन प्रोवाइड करना है।

Diploma in Community Health Care- यह कोर्स डील करता है हेल्थकेयर और अदर मेडिकल फैसिलिटीज को सर्टेन कम्युनिटीज और पॉपुलेशन को उपलब्ध करने के लिए। यह कोर्स काफ़ी हद तक डिप्लोमा इन रूरल हेल्थ केयर से सिमिलर होता है।

विदेश की टॉप यूनिवर्सिटीज़

बहुत से ऐसे कॉलेज और यूनिवर्सिटीज़ हैं जहां पैरामेडिकल कोर्सेज की पढ़ाई होती है, लेकिन सही यूनिवर्सिटी का चयन करना बहुत ही महत्वपूर्ण होता है, नीचे कुछ विदेश की अच्छी यूनिवर्सिटीज़ के नाम दिए गए हैं:
यूनिवर्सिटी पैरामेडिकल कोर्सेज
ऑकलैंड यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी Diploma in Paramedic Science
टाफे क्वींसलैंड Diploma of Anesthetic Technology
यूनिवर्सिटी ऑफ़ सॉउथम्पटन BSc Cardiac Physiology
यूनिवर्सिटी ऑफ़ पेनसिलवेनिया BSc Nursing
मोनाश यूनिवर्सिटी Bachelor of Occupational Therapy
फ्लिंडर्स यूनिवर्सिटी Bachelor of Paramedics Science
यूनिवर्सिटी ऑफ़ हेर्टफोर्डशिरे BSc (Hons) Paramedic Science
यूनिवर्सिटी कॉलेज डबलिन MSc Emergency Medical Science
कार्डिफ यूनिवर्सिटी MSc Radiography
एडिथ कवन यूनिवर्सिटी Graduate Certificate – Critical Care Paramedicine
यूनिवर्सिटी ऑफ़ लीसेस्टर MSc/PG Cert Cancer Molecular Pathology and Therapeutics 
यूनिवर्सिटी ऑफ़ डेलावेर MS in Clinical Exercise Physiology
यूनिवर्सिटी ऑफ़ नाटिंघम PGD in Nutritional Sciences

भारत के टॉप कॉलेज

नीचे कुछ कॉलेजों के नाम दिए गए हैं जहां पैरामेडिकल कोर्सेज की पढ़ाई होती है।

  • यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ मेडिकल साइंसेज, दिल्ली विश्वविद्यालय
  • छत्रपति शिवाजी महाराज विश्वविद्यालय (सीएसएमयू), नवी मुंबई
  • अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स)
  • सशस्त्र बल मेडिकल कॉलेज, पुणे
  • स्वामी विवेकानंद इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, चंडीगढ़
  • कस्तूरबा मेडिकल कॉलेज मणिपाल विश्वविद्यालय, मणिपाली
  • क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज, लुधियाना

योग्यता

पैरामेडिकल कोर्सेज को आगे बढ़ाने के लिए आवश्यक योग्यता आपके द्वारा चुने गए प्रोग्राम और यूनिवर्सिटीज़ के अनुसार अलग-अलग होंगी। हालाँकि, कुछ सामान्य योग्यता को नीचे दिया गया है

  • किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से छात्र 10+2 पास होने चाहिए और 10+2 में उनके कम-से-कम 50% अंक होने चाहिए।  
  • 10वीं के बाद साइंस होनी जरुरी है, जैसे फिजिक्स, केमिस्ट्री, केमिस्ट्री और जूलॉजी या बॉटनी, बायोलॉजी साथ ही मुख्य विषय के रूप में अंग्रेजी का होना भी जरुरी है। 
  • एडमिशन के लिए छात्र का NEET एंट्रेंस एग्जाम पास होना आवश्यक है। 
  • आरक्षित वर्ग के विद्यार्थियों के लिए 10+2 में 40% अंक आवश्यक है। .
  • पैरामेडिकल में मास्टर करने के लिए आपके पास ग्रेजुएशन की डिग्री होनी आवश्यक है। 
  • पैरामेडिकल में PhD करने के लिए आपके पास सम्बंधित विषय में मास्टर डिग्री होनी आवश्यक है। 
  • विदेश के कुछ यूनिवर्सिटी बैचलर डेरी के लिए ACT, SAT आदि के स्कोर जरूरी होते हैं। विदेश की कुछ यूनिवर्सिटीज में मास्टर्स के लिए GRE स्कोर की अवश्यकता होती है।
  • साथ ही विदेश के लिए आपको ऊपर दी गई आवश्यकताओं के साथ IELTS या TOEFL स्कोर की भी आवश्यकता होती है।
  • विदेश के विश्वविद्यालयों में एडमिशन के लिए SOP, LOR, CV/रिज्यूमे  और पोर्टफोलियो भी जमा करने होंगे।

आवेदन प्रक्रिया 

विदेश के विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए आवेदन प्रक्रिया इस प्रकार है–

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप AI Course Finder की सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • एक्सपर्ट्स से कॉन्टैक्ट के पश्चात वे कॉमन डैशबोर्ड प्लेटफॉर्म के माध्यम से कई विश्वविद्यालयों की आपकी आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेज़ों जैसे SOP, निबंध, सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टैस्ट स्कोर जैसे IELTS, TOEFL, SAT, ACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTS, TOEFL, PTE, GMAT, GRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप Leverage Live कक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज़ जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीज़ा और छात्रवृत्ति / छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लैटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। 

भारत के विश्वविद्यालयों में आवेदन प्रक्रिया, इस प्रकार है–

  • सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  • यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूज़र नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  • फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  • अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  • इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  • यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

आवश्यक दस्तावेज़  

कुछ ज़रूरी दस्तावेज़ों की लिस्ट नीचे दी गई हैं–

पैरामेडिकल कोर्स के लिए एंट्रेंस एग्ज़ाम

भारत में कई कॉलेजों में पैरामेडिकल कोर्सेज के लिए उनके खुद के मेडिकल एंट्रेंस एग्ज़ाम होते हैं, जिनके बारे में नीचे बताया गया है:

  • NEET UG & PG

मेडिकल प्रोग्राम के लिए एक एंट्रेंस एग्ज़ाम के रूप में NEET को भारतीय और साथ ही इंटरनेशनल मेडिकल स्कूल द्वारा आसानी से स्वीकार किया जाता है। NEET UG हर साल मई में जनवरी में शुरू होने वाली रजिस्ट्रेशन प्रोसेस के साथ आयोजित किया जाता है। जबकि दूसरी ओर NEET-PG जनवरी में आयोजित किया जाता है। रजिस्ट्रेशन पहले वर्ष के अगस्त के महीने में होता है।

  • AIIMS

यदि आप ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज में पैरामेडिकल कोर्स के लिए आवेदन करना चाहते हैं, तो AIIMS एग्ज़ाम के लिए क्वालीफाई करना महत्वपूर्ण है, जो मई के महीने में आयोजित किया जाता है जिसका रजिस्ट्रेशन विंडो फरवरी में ओपन हो जाता है।

  • Occupational English Test

जो लोग इंग्लिश बोलने वाले देशों के हेल्थकेयर सेक्टर में अपना करियर शुरू करना चाहते हैं, उनके लिए OET परीक्षा पास करना आवश्यक है। यह एक इंग्लिश लैंग्वेज अस्सेस्मेंट टेस्ट है, जो आवेदक के सुनने, पढ़ने, लिखने और बोलने के स्किल का मूल्यांकन करती है।

पैरामेडिकल कोर्स के बाद करियर

नीचे कुछ लोकप्रिय पैरामेडिकल करियर क्षेत्र के नाम दिए गए हैं जिनमें आप अपना करियर बना सकते हैं

  • मेडिकल लेबोरेटरी टेक्निशियन/टेक्नोलॉजिस्ट
  • फ़िज़ियोथेरेपिस्ट
  • ऑक्यूपेशनल थेरेपिस्ट
  • रिहैबिलिटेशन वर्कर
  • ऑडिओलॉजिस्ट एंड स्पीच थेरेपिस्ट
  • नर्सरी
  • डायग्नोसिस
  • रेडियोग्राफी
  • लेबोरेटरी टेक्निशियन
  • MRI टेक्निशियन
  • नर्सिंग केयर असिस्टेंट
  • रेडियोलोजी असिस्टेंट
  • नर्सिंग असिस्टेंट
  • एम्बुलेंस अटेंडेंट
  • डेंटल असिस्टेंट
  • ऑपरेशन थिएटर असिस्टेंट

टॉप जॉब प्रोफाइल और सैलरी

ऐसे बहुत से पैरामेडिकल कोर्सेज हैं, जो हाई सैलरी प्रोवाइड करते हैं

जॉब सैलरी ( INR )
रेडियोलाजिस्ट INR 78-80 लाख
ऑक्यूपेशनल थेरेपिस्ट INR 60-65 लाख
फ़िज़ियोथेरेपिस्ट INR 50-55 लाख
नर्स INR 55-60 लाख

FAQs

पैरामेडिकल कोर्सेज के लिए क्या NEET जरूरी होता है?

नहीं, पैरामेडिकल कोर्सेज के लिए NEET जरूरी नहीं होता है। पर कई ऐसे कॉलेज और यूनिवर्सिटीज़ हैं, जो अपने स्तर पर एंट्रेंस एग्ज़ाम कराते हैं।

पैरामेडिकल कोर्सेज के लिए कितने साल लगते हैं?

सर्टिफिकेशन कोर्सेज की अवधि 1-2 साल होती है और डिग्री कोर्स की अवधि 1-4 साल होती है।

क्या पैरामेडिकल कोर्सेज के लिए कोई एंट्रेंस एग्ज़ाम होते हैं?

कुछ पैरामेडिकल कोर्सेज के एडमिशन एंट्रेंस एग्ज़ाम पर आधारित होते हैं, जिनमें JIPMER, NEET-UG, MHT CET, आदि आते हैं।

पैरामेडिकल के बाद किन क्षेत्र में करियर बना सकते हैं?

पैरामेडिकल के बाद आप निम्न क्षेत्र में अपना करियर बना सकते हैं 
-मेडिकल लेबोरेटरी टेक्निशियन/टेक्नोलॉजिस्ट
-फ़िज़ियोथेरेपिस्ट
-ऑक्यूपेशनल थेरेपिस्ट
-रिहैबिलिटेशन वर्कर
-ऑडिओलॉजिस्ट एंड स्पीच थेरेपिस्ट
-नर्सरी
-डायग्नोसिस
-रेडियोग्राफी

आशा है कि इस ब्लॉग ने आपको पैरामेडिकल कोर्स के बारे में सभी आवश्यक जानकारी दी होगी। यदि आप विदेश में पैरामेडिकल कोर्स की पढ़ाई करना चाहते हैं, तो आज ही 1800 572 000 पर कॉल करके हमारे Leverage Edu के एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें। वे एक उचित मार्गदर्शन के साथ विदेशी विश्वविद्यालय की आवदेन प्रकिया में भी आपकी मदद करेंगे।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

3 comments
15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert