राजनीतिक विज्ञान में करियर कैसे बनाये?

1 minute read
983 views
Career in Political Science

अरस्तु ने राजनीतिक विज्ञान को प्रैक्टिकल साइंस बताया था, जो हमेशा लोगों की ख़ुशी के लिए काम करता रहता है। ये सामाजिक विज्ञान का एक अंग है, जो राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सरकारी संस्थाओं की जरूरत, कार्यों और जिम्मेदारियों के बारे में बताता है। इतिहास, पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन, पब्लिक पॉलिसी, सोशियोलॉजी, भूगोल, अर्थशास्त्र, और अंतरराष्ट्रीय संबंध इस क्षेत्र के जरूरी हिस्से हैं। इसलिए राजनीतिक विज्ञान में करियर की सूची बहुत लंबी है। तो चलिए, इस ब्लॉग में हम राजनीति विज्ञान का महत्व मेंं बनाने के बारे में बात करें।

राजनीतिक विज्ञान क्या है?

राजनीति विज्ञान वह विज्ञान है, जो मानव के एक राजनीतिक और सामाजिक प्राणी होने के नाते उससे संबंधित राज्य और सरकार दोनों के कार्यों का अध्ययन करता है। राजनीति विज्ञान, अध्ययन का एक विस्तृत विषय या क्षेत्र है। राजनीति विज्ञान में ये तमाम बातें शामिल हैं: राजनीतिक चिन्तन, राजनीतिक सिद्धान्त, राजनीतिक दर्शन, राजनीतिक विचारधारा, संस्थागत या संरचनागत ढाँचा, तुलनात्मक राजनीति, लोक प्रशासन, अन्तरराष्ट्रीय कानून और संगठन आदि। आसान भाषा में कहें तो, राजनीतिक विज्ञान में राजनीतिक संस्थानों, सिद्धांतों, संगठनों और सरकार के काम करने के तौरतरीकों की पढ़ाई होती है।

“राजनीति भौतिक विज्ञान से ज्यादा मुश्किल है” – अल्बर्ट आइंस्टीन

राजनीति विज्ञान की प्रकृति

राजनीति विज्ञान की प्रकृति के सम्बन्ध में कहा गया है कि यह विषय एक समाज विज्ञान का विषय है, इसमें भौतिक विज्ञान की तरह भविष्यवाणी नहीं की जा सकती है किन्तु इसमें वैज्ञानिकता की कई कसौटियां, जैसे सिस्टेमेटिक स्टडी, लिमिटेड भविष्यवाणी आदि की जा सकती है। अतः राजनीति विज्ञान भी एक विज्ञान है।

राजनीतिक विज्ञान में करियर क्यों बनाए?

राजनीति विज्ञान में उच्च शिक्षा हासिल करने वाला छात्र राष्ट्र से संबंधित मुद्दों पर गहरी समझ रखता है। राजनीति शब्द और आपके राष्ट्र की राजनीति आपके अंदर उत्साह पैदा करता है। राजनीति विज्ञान में करियर क्यों बनायें इसे जुड़े कुछ पॉइंट नीचे दिए गए हैं:

  • ये आपको बदलाव लाने में मदद करेगा-  राजनीतिक विज्ञान में करियर आपको समाज में व्यापक बदलाव लाने में मदद करेगा। आपके पास एक ऐसे करियर का मौका होगा जिसमें सरकारी मुद्दों, समाज और सार्वजनिक नीतियों पर काम किया जाता है।
  • राष्ट्र का नेतृत्व- राजनीतिक विज्ञान में करियर केवल लोगों के जीवन में बदलाव लाने तक ही सीमित नहीं है। ऐसे कई अवसर आएंगे जब नेतृत्व करने और प्रभार लेने का मौका मिलेगा और ये प्रभार कितना भी ऊँचा हो सकता है। आप एक जिला, शहर, राज्य या पूरे राष्ट्र के नेता बन सकते हैं।
  • अपूर्व अनुभव- राजनीतिक विज्ञान में करियर किसी नियमित 9 से 5 के जॉब वाले कार्यभार और रोजाना की जिम्मेदारियों जैसे नहीं होंगे, आप रोज एक अनोखी चुनौती का सामना करेंगे। साथ ही आपको विभिन्न मामलों का सामना करने के लिए तैयार रहना पड़ेगा जो आपको उसमें मौजूद सभी क्षेत्रों के बारे में शिक्षित करेगा।
  • प्रतिष्ठा और ताकत- राजनीतिक विज्ञान में करियर अपने साथ प्रतिष्ठा, ताकत और सम्मान लेकर आता है। एक लोकसेवक होने के नाते ये आपको लोगों की नजर में ले आता है और आपके प्रति समाज का दृष्टिकोण आपकी स्थिति की वजह से आपको प्रतिष्ठा दिला सकता है।

सफल लोगों की 30 अनमोल आदतें

राजनीति विज्ञान के लिए आवश्यक स्किल

राजनीति विज्ञान के क्षेत्र में करियर बनाने के लिए आपके पास कुछ आवश्यक स्किल होनी ज़रूरी है, जिनके बारे में नीचे बताया गया है:

  • कम्युनिकेशन स्किल
  • रिसर्च स्किल
  • राइटिंग स्किल
  • क्रिएटिविटी
  • प्लानिंग एंड डेवलपमेंट स्किल्स
  • लॉजिकल रिसर्च
  • लोगों या विचारों को संगठित करना
  • रिसर्च डिजाइन और मॉडल विकसित करना
  • प्रोग्रामिंग और सिस्टम एनालिसिस
  • सर्वेक्षण अनुसंधान विधियों का उपयोग करना
  • डेवलपिंग डाटा
  • एनालिटिकल स्किल
  • डाटा की व्याख्या करना
  • विचारों और आंकड़ों को स्पष्ट रूप से प्रस्तुत करना
  • लोगों या समूहों को प्रभावित करना और उन्हें राजी करना
  • विवादों को सुलझाना
  • पब्लिक स्पीकिंग 
  • क्रिटिकल लिसनिंग

राजनीति विज्ञान में लोकप्रिय कोर्स

अगर आप राजनीति विज्ञान का महत्व के बारे में जानना चाहते हैं, तो प्रसिद्ध कोर्स की सूची निम्नलिखित है, जो भविष्य में आपको राजनीति विज्ञान में करियर बनाने में आपकी मदद करेगा।

लेवल लोकप्रिय प्रोग्राम्स कोर्स अवधि    एवरेज फीस
अंडरग्रेजुएट -BA political Science
-BA (Hons) Political Science
-BA public administration
-BA Economics, Public Administration and Political Science
-BA LLB in Political Science
3-5 साल   ₹5000- ₹80000
पोस्टग्रेजुएट   -M.A. political Science
-M.A. (Hons) Political Science
-M.A. Rural Development and Governance
-M.A. Urban Policy and Governance
-M.A. public administration
-M. a. Politics (International Studies)
2 साल ₹10000- ₹80000
पीएचडी/डॉक्टोरल -Ph.D./M.Phil. in Political Science.
-PhD in International Relations and Politics
-PhD in Public Policy
-Ph.D./M.Phil. in Public Administration
1.5 साल  ₹10000- ₹150000

राजनीति विज्ञान के लिए टॉप विदेशी विश्वविद्यालय

अगर आप राजनीति विज्ञान का महत्व के बारे में जानना चाहते है, तो अंडरग्रेजुएशन तथा पोस्टग्रेजुएशन करना एक अच्छा विकल्प है। राजनीति विज्ञान की पढ़ाई करने के लिए दुनिया की टॉप यूनिवर्सिटीज़ की सूची नीचे दी गई है:

जानिए विश्व के सबसे पुराने ‘जैन धर्म’ के बारे में

भारत के टॉप विश्वविद्यालय

अगर आप राजनीति विज्ञान से अंडरग्रेजुएट या पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स की पढ़ाई भारत से करना चाहते हैं, तो नीचे दिए गए विश्वविद्यालय आपकी इसमें करियर बनाने में मदद करेंगे:

विश्वविद्यालय शहर
जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय (जेएनयू) दिल्ली
बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय बनारस
मणिपाल अकैडमी ऑफ़ हायर एजुकेशन मणिपाल
जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय दिल्ली
दिल्ली विश्वविद्यालय दिल्ली
बिरला इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी एंड साइंस पिलानी
टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ़ सोशल साइंस मुंबई
एमिटी विश्वविद्यालय नॉएडा
गुरुनानक देव विश्वविद्यालय अमृतसर
जम्मू विश्वविद्यालय जम्मू

योग्यता

राजनीती विज्ञान कोर्सेज के लिए कुछ सामान्य योग्यताएं इस प्रकार हैं–

  • बैचलर्स डिग्री प्रोग्राम के लिए ज़रुरी है कि उम्मीदवारों ने किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 10+2 प्रथम श्रेणी से पास किया हो।
  • छात्र के 12वीं में राजनीती विज्ञान विषय होना आवश्यक है।
  • मास्टर डिग्री प्रोग्राम के लिए राजनीती विज्ञान में प्रथम श्रेणी के साथ बैचलर्स डिग्री होना आवाश्यक है। साथ ही कुछ यूनिवर्सिटीज प्रवेश परीक्षा के आधार पर भी एडमिशन स्वीकार करतीं हैं।
  • विदेश की अधिकतर यूनिवर्सिटीज बैचलर्स के लिए SAT और मास्टर्स कोर्सेज के लिए GRE स्कोर की मांग करते हैं।
  • विदेश की यूनिवर्सिटीज में एडमिशन के लिए IELTS या TOEFL टेस्ट स्कोर, अंग्रेजी प्रोफिशिएंसी के प्रमाण के रूप में ज़रूरी होते हैं।
  • विदेशी यूनिवर्सिटीज में पढ़ने के लिए SOP, LOR, सीवी/रिज्यूमे और पोर्टफोलियो भी जमा करने की ज़रूरत  होती है।

आवेदन प्रक्रिया 

विदेश के विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए आवेदन प्रक्रिया इस प्रकार है–

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप AI Course Finder की सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • एक्सपर्ट्स से कॉन्टैक्ट के पश्चात वे कॉमन डैशबोर्ड प्लेटफॉर्म के माध्यम से कई विश्वविद्यालयों की आपकी आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेज़ों जैसे SOP, निबंध, सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टैस्ट स्कोर जैसे IELTS, TOEFL, SAT, ACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTS, TOEFL, PTE, GMAT, GRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप Leverage Live कक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज़ जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीज़ा और छात्रवृत्ति / छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लैटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। 

भारत के विश्वविद्यालयों में आवेदन प्रक्रिया, इस प्रकार है–

  • सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  • यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूज़र नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  • फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  • अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  • इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  • यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

आवश्यक दस्तावेज़  

कुछ ज़रूरी दस्तावेज़ों की लिस्ट नीचे दी गई हैं–

राजनीति विज्ञान में करियर 

राजनीति विज्ञान के क्षेत्र में किस करियर का चुनाव करें, इसके लिए विभिन्न विकल्पों की एक सूची नीचे दी हुई है, जिसमें से आप कोई एक चुनकर राजनीति विज्ञान में अपना करियर बना सकते हैं:

1. अधिवक्ता/संयोजक
2. बजट एक्जामिनर या एनालिस्ट
3. बैंकिंग एनालिस्ट या एग्जीक्यूटिव
4. करियर काउन्सलर
5. कांग्रेशनल ऑफिसर/कमिटी स्टाफर
6. लोक सेवा (आईएएस, आईएफएस)
7. पत्रकारिता
8. राजनीतिक वैज्ञानिक
9. एनजीओ (NGO)
10. लेजिस्लेटिव असिस्टेंट
11. सरकारी विभागों में सचिव
12.  मानवाधिकार कार्यकर्ता
13. राजनीतिक पार्टियों के कानूनी सलाहकार
14. इलेक्शन एंड कैंपेन मेनेजर
15. शिक्षक/प्रोफेसर
16. राजनेता
17. पॉलिसी एनालिस्ट 
18. पब्लिक रिलेशन्स स्पेशलिस्ट
19. पब्लिक अफेयर्स रिसर्च एनालिस्ट
20. मीडिएटर
21. फॉरेन सर्विस ऑफिसर
22. कॉर्पोरेट मेनेजर
23. इमीग्रेशन ऑफिसर

लोकप्रिय जॉब प्रोफाइल और सैलरी

जॉब प्रोफाइल जॉब डिस्क्रिप्शन एवरेज शुरुआती सैलरी
पॉलिसी एनालिस्ट एक पॉलिसी एनालिस्ट एक विषय के बारे में गहराई से जानकारी प्राप्त करता है और किस तरह से कोई नीति लोगों पर असर डालती है, उसकी अच्छाई की जाँच करने के लिए जिम्मेदार होता है। राजनीति विज्ञान के इस करियर की बहुत लोकप्रियता है, जिसमें गहन रिसर्च और विश्लेषण की जरूरत होती है। 5-6 लाख
लेजिस्लेटिव असिस्टेंट  लेजिस्लेटिव असिस्टेंट की जिम्मेदारी, राजनीतिक गतिविधियों जैसे पॉलिसी इशू करना, क़ानून, अभियानों के लिए संक्षिप्त स्क्रिप्ट बनाना इत्यादि के साथ तालमेल बिठाने के लिए लिखित और मौखिक सहायता मुहैया करवाना होता है। 3-5 लाख
पब्लिक रिलेशन स्पेशलिस्ट मीडिया का इस्तेमाल करके प्रेरक कहानियों के माध्यम से जनता की राय को प्रभावित करना एक पब्लिक रिलेशन स्पेशलिस्ट का काम होता है। वे कर्रेंट अफेयर्स को ध्यान में रखते हुए आकर्षक लाइन लिखते हैं, समय आने पर प्रेस कांफ्रेंस और अन्य आयोजनों के द्वारा वे मीडिया को अपने आईडिया की तरफ आकर्षित करते हैं। 4-6 लाख 
मार्केट रिसर्च एनालिस्ट जैसा कि नाम से स्पष्ट है, एक मार्केट रिसर्च एनालिस्ट का काम ये देखना होता है कि कैसे कोई उपभोक्ता किसी पार्टी के प्रति क्या प्रतिक्रिया व्यक्त करते हैं। वे यह जानने के लिए पोल और रिसर्च कैंपेन चलाते हैं, कि लोग क्या सोचते हैं और किसी उम्मीदवार या पार्टियों के प्रति उनका क्या नजरिया है। 3-5 लाख
राजनीतिक सलाहकार एक राजनीतिक सलाहकार राजनीतिक दलों को ये सलाह देता है कि वे नागरिकों का ध्यान कैसे आकर्षित कर सकते हैं, उनका समर्थन और वोट कैसे पा सकते हैं। वे पार्टी की धूमिल छवि को फिर से बनाने के तरीके बताते हैं। 4-6 लाख
अटॉर्नी  कई वकील लॉबिंग फर्म्स, राजनीतिक हस्तियों और रुचि समूह के लिए नीति और विधायी मामलों पर शोध का काम करते हैं। वे अपने ग्राहक की तरफ से उनके विचारों को रखते हैं और प्रमुख निर्णय लेने वाले के साथ किसी विशेष रुख पर समझौता करते हैं। 3-5 लाख
इंटेलिजेंस एनालिस्ट इंटेलिजेंस एनालिस्ट सरकार के गुप्त एजेंसीज के साथ काम करते हैं। सबसे प्रसिद्ध एजेंसीज में राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी और सीआईए (CIA) शामिल हैं। एक इंटेलिजेंस एनालिस्ट के रूप में, आप अपने निष्कर्षों के आधार पर रिपोर्ट लिखेंगे और उन्हें अपनी एजेंसी के सामने पेश करेंगे। 3-5 लाख
पत्रकारिता राजनीतिक ग्रेजुएट जिनका झुकाव रेडियो, फिल्म, टेलीविजन या किसी अन्य मीडिया के प्रति होता है, वे अक्सर इस क्षेत्र का चयन करते हैं। जिन पत्रकारों ने राजनीति विज्ञान में पढ़ाई की है, वे मौजूदा अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय नीतियों पर रिपोर्ट बनाने में सक्षम होते हैं। वे इसलिए रिपोर्ट बनाते हैं ताकि लोग यह निर्णय ले सके कि उनके लिए वो नीतियाँ सही हैं या नहीं। 1-3 लाख
विश्वविद्यालय प्रोफ़ेसर/शिक्षक राजनीति ग्रेजुएट जिनका झुकाव राजनीति में पहुंचने की दिशा में होता है या राजनीति विज्ञान या इसकी किसी भी शाखा जैसे अंतर्राष्ट्रीय कानून, विश्व राजनीति, लोक प्रशासन को एक विषय के रूप में लेना चाहते हैं वे इस क्षेत्र का चुनाव करते हैं। एक विश्वविद्यालय या कॉलेज में राजनीति विज्ञान के प्रोफेसर हो सकते हैं। उसके लिए आपके पास किसी भी विश्वविद्यालय/कॉलेज/स्कूल में पढ़ाने के लिए B.Ed/M.Ed की डिग्री होनी चाहिए। 1-2 लाख 
लोक सेवा भारत में UPSC के अंतर्गत तीन तरह के लोक सेवा पोस्ट होते हैं, जिनके नाम हैं: ऑल इंडिया सिविल सर्विसेज, ग्रुप ए सिविल सर्विसेज और ग्रुप बी सिविल सर्विसेज। राजनीति विज्ञान में ग्रेजुएट कोई भी UPSC की परीक्षा पास करके लोक सेवा ऑफिसर बन सकता है। भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS), भारतीय पुलिस सेवा (IPS), और भारतीय विदेश सेवा (IFS) सबसे लोकप्रिय सिविल सेवा हैं। 6-8 लाख 

FAQ

राजनीति विज्ञान का महत्व क्या है?

राजनीति विज्ञान मानव को उसके अधिकार और कर्तव्यों का ज्ञान कराता है जिससे मनुष्य समाज की श्रेष्ठतम इकाई के रूप में जीवन व्यतीत कर सके। इसके साथ ही राजनीति विज्ञान व्यक्तियों में परस्पर उचित सम्बन्ध स्थापित करके संघर्ष के स्थान पर सहयोग के सिद्धान्तों को प्रतिष्ठित करने का प्रयत्न करता है।

राजनीति विज्ञान का उद्देश्य क्या है?

राजनीति विज्ञान एक सामाजिक विज्ञान विषय है जो राज्य, राष्ट्र, सरकार और राजनीति और सरकार की नीतियों के अध्ययन से संबंधित है। अरस्तू ने इसे राज्य के अध्ययन के रूप में परिभाषित किया। यह राजनीति के सिद्धांत और व्यवहार, और राजनीतिक प्रणालियों, राजनीतिक व्यवहार और राजनीतिक संस्कृति के विश्लेषण से व्यापक रूप से संबंधित है।

राजनीति विज्ञान का मतलब क्या है?

राजनीति वह विज्ञान है जो मानव के एक राजनीतिक और सामाजिक प्राणी होने के नाते उससे संबंधित राज्य और सरकार दोनों संस्थाओं का अध्ययन करता है।। राजनीति विज्ञान अध्ययन का एक विस्तृत विषय या क्षेत्र है।

उम्मीद है कि हमारे आज के ब्लॉग से आपको राजनीति विज्ञान का महत्व के बारे में सभी महत्वपूर्ण जानकारी मिल गई होगी। यदि आप भी विदेश में फाइन आर्ट्स की पढ़ाई करना चाहते हैं, तो आज ही 1800 572 000 पर कॉल करके हमारेLeverage Edu के विशेषज्ञों के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें। वे आपको उचित मार्गदर्शन के साथ ऊपर दी गई सभी सुविधाएं प्रदान करने में मदद करेंगे।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert