लोकतंत्र क्या है समझे आसान भाषा में!

1 minute read
3.2K views
10 shares
loktantra kya hai

लोकतंत्र शब्द बोलने में छोटा परंतु इसका अर्थ उतना ही बड़ा और जटिल निकलता है। डेमोक्रेटिक शब्द यूनानी भाषा के डेमोस (Demos) और कृतियां (Cratia) यह 2 शब्दों से मिलकर बना है, जिसका अर्थ होता है लोग और शासन, शाब्दिक अर्थ में जनता का शासन। लोकतन्त्र की परिभाषा के अनुसार यह “जनता द्वारा, जनता के लिए, जनता का शासन है”। अर्थात प्रजातंत्र एक ऐसी शासन प्रणाली है, जिसके अन्तर्गत जनता अपनी इच्छा से निर्वाचन में आए हुए किसी भी दल को अपना वोट देकर अपना प्रतिनिधि चुन सकती है और उनकी सरकार बना सकती है। इस ब्लॉग के माध्यम से विस्तार से जानते हैं कि loktantra kya hai?

This Blog Includes:
  1. लोकतंत्र क्या है?
    1. कई विचारों के अनुसार प्रजातंत्र क्या है?
    2. प्रजातंत्र से जुड़ी शब्दावली
  2. लोकतंत्र की परिभाषा
  3. लोकतांत्रिक सरकार क्या है?
  4. लोकतंत्र की विशेषताएं
    1. स्वतंत्र, निष्पक्ष और लगातार चुनाव
    2. अल्पसंख्यकों का प्रतिनिधित्व
    3. संवैधानिक कानून के भीतर नियम
    4. भाषण, अभिव्यक्ति और पसंद की स्वतंत्रता
    5. संघीय अधिकार
    6. परिषद की जिम्मेदारी
    7. शिक्षा का अधिकार
    8. संघ और संघ बनाने का अधिकार
    9. सभी के लिए समान कानून
    10. न्यायपालिका पर कोई नियंत्रण नहीं
  5. लोकतंत्र के पक्ष में तर्क
  6. लोकतंत्र के विपक्ष में तर्क
  7. लोकतंत्र के प्रकार (संक्षिप्त में)
  8. लोकतंत्र के रूप
  9. लोकतंत्र की सीमाएं क्या है?
  10. लोकतंत्र के मुख्य सिद्धांत 
  11. लोकतंत्र के गुण
  12. लोकतंत्र के दोष
  13. एक लोकतांत्रिक सरकार के फायदे और नुकसान
  14. भारत में लोकतंत्र
  15. केंद्र सरकार में सदनों का विभाजन
  16. भारत में पार्टियों के प्रकार
  17. लोकतंत्र की सफलता के लिए आवश्यक शर्तें
  18. लोकतंत्र का महत्व
  19. लोकतंत्र और तानाशाही के बीच अंतर क्या हैं?
  20. लोकतंत्र को तानाशाही से बेहतर क्यों माना जाता है?
  21. लोकतंत्र कक्षा 10
  22. लोकतंत्र कक्षा 9
  23. FAQs

लोकतंत्र क्या है?

अरस्तू ने लोकतंत्र को एक विकृत शासन प्रणाली बताया था ,जिसमें बहू संख्या निर्धन वर्ग अपने वर्ग के हित के लिए शासन पर आता है और भीडतंत्र का रूप धारण कर लेता है और साथ ही अरस्तू के लोकतंत्र को राजनीति के नाम से जाना जाता है। लोकतंत्र “जनता द्वारा, जनता के लिए, जनता का शासन है”। लेकिन अलग-अलग देशकाल और परिस्थितियों में अलग-अलग धारणाओं के प्रयोग से इसकी अवधारणा कुछ जटिल हो गयी है। प्राचीनकाल से ही लोकतन्त्र के सन्दर्भ में कई प्रस्ताव रखे गये हैं, पर इनमें से कई कभी क्रियान्वित नहीं हुए। लोकतंत्र केवल राजनीतिक ,सामाजिक और आर्थिक व्यवस्था का प्रकार ही नहीं बल्कि जीवन के प्रति विशेष दृष्टिकोण मैं भी उसका नाम है। लोकतंत्र में सभी व्यक्तियों को एक दूसरे के प्रति वैसा ही व्यवहार करना चाहिए जैसा व्यवहार अपने प्रति पसंद लोगों से करते हैं।

कई विचारों के अनुसार प्रजातंत्र क्या है?

Loktantra kya hai इसको कुछ लोकप्रिय व्यक्तियों के विचारों से समझते हैं-

  • ऐसे सरकार जहां की जनता शक्तिशाली हो।
  • बहुत सारे लोगों का शासन।
  • जनता का जनता के द्वारा जनता के लिए इसे लोकतंत्र कहा जाता है-अब्राहम लिंकन।
  • जिसमें जनता की सहभागिता हो उसे लोकतंत्र कहा जाता है-सिले।
  • राज्य के शासन शक्ति समुदाय में एक सम लिस्ट के रूप में निहित इसे लोकतंत्र कहा जाता है -ब्राइस।

प्रजातंत्र से जुड़ी शब्दावली

  • तर्कबुद्धिवादी लोकतंत्र –> सिमोन चैम्बर्स
  • संघर्षपूर्ण लोकतंत्र –> फिलिप पेटिट
  • विमर्शी लोकतंत्र –> जॉन ड्राइजेक
  • संचरीय लोकतंत्र –> आइरिश मेरियन यंग

लोकतंत्र की परिभाषा

Loktantra kya hai जानने के साथ-साथ यह जानना भी आवश्यक है कि प्रजातंत्र के इतने रूप हैं कि इसकी एक निश्चित परिभाषा देना बहुत ही कठिन है।  समय, परिस्थितियों, विभिन्न हितों की आवश्यकता के अनुसार विभिन्न युगों के विचारकों ने लोकतंत्र की विभिन्न परिभाषाएं दी गई हैं।

निम्नलिखित परिभाषा और को ध्यान से देखें:

  • यूनानी दार्शनिक वलीआन के अनुसार ने लोकतंत्र की यह परिभाषा दी है कि, “लोकतंत्र वह होगा जो जनता का, जनता के द्वारा हो, जनता के लिए हो।”
  • लावेल के अनुसार यह परिभाषा दी है कि, “लोकतंत्र शासन के क्षेत्र में केवल एक प्रयोग है।
  • अमेरिकी राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन ने इस परिभाषा को इस प्रकार दोहराया है यह बताया है कि”लोकतंत्र जनता का, जनता के लिए तथा जनता द्वारा शासन है।”
  • लॉर्ड ब्राइस यह परिभाषा दी है कि, “प्रजातंत्र वह शासन प्रणाली है जिसमें की शासन शक्ति एक विशेष वर्ग या वर्गों में निहित ना रहकर समाज के सदस्य में निहित होती है।”
  • जॉनसन यह परिभाषा दी है कि, “प्रजातंत्र शासन का वह रूप है जिसमें प्रभुसत्ता जनता में सामूहिक रूप से निहित हो।”
  • सिले यह परिभाषा दी है कि, “प्रजातंत्र वह शासन है, जिसमें प्रत्येक व्यक्ति का भाग होता है।”
  • ऑस्टिन यह परिभाषा दी है कि, “प्रजातंत्र वह शासन व्यवस्था है जिसमें जनता का अपेक्षाकृत बड़ा भाग शासक होता है।”
  • सारटोरी यह परिभाषा दी है कि, “लोकतंत्रीय व्यवस्था वह है जो सरकार को उत्तरदायी तथा नियंत्रणकारी बनाती हो तथा जिसकी प्रभावकारिता मुख्यत: इसके नेतृत्व की योग्यता तथा कार्यक्षमता पर निर्भर है।”

लोकतांत्रिक सरकार क्या है?

लोकतंत्र क्या है
Source; Quora

प्रजातंत्र एक ऐसी शासन व्यवस्था है जिसमें जनता अपना शासक खुद चुनती है। लोकतांत्रिक सरकार का तात्पर्य है कि ऐसी सरकार जिसे जनता द्वारा, जनता के लिए और जनता के हित में चुना जाता है उसे ही लोकतांत्रिक सरकार कहते हैं।

लोकतंत्र की विशेषताएं

Loktantra kya hai जानने से पहले यह भी जानिए कि प्रजातंत्र की विशेषताएं क्या हैं, जैसे कि-

  • व्यस्क मताधिकार
  • जनता की इच्छा सवोचच है।
  • उत्तरदाई सरकार।
  • जनता के द्वारा चुने गए प्रतिनिधि सरकार
  • बहुमत द्वारा निर्णय
  • निष्पक्ष तथा समय बधद चुनाव
  • सरकार के निर्णय में सलाह दबाव तथा जनमन द्वारा जनता का हिस्सा
  • निष्पक्ष न्यायपालिका तथा विधि का शासन
  • विभिन्न राजनीतिक दलों तथा दबाव समूह की उपस्थिति
  • समिति तथा संवैधानिक सरकार
  • जनता के अधिकार तथा स्वतंत्रता की रक्षा सरकार का कर्तव्य होना

स्वतंत्र, निष्पक्ष और लगातार चुनाव

लोकतंत्र की प्राथमिक विशेषताओं के बीच, दुनिया के प्रत्येक लोकतांत्रिक देश को किसी न किसी रूप में और वह भी समय-समय पर चुनाव कराना चाहिए। ये चुनाव जनता की आवाज हैं, प्राथमिक तरीका जिसके द्वारा वे अपनी इच्छा के अनुसार सरकार को नियंत्रित और बदल सकते हैं। इन चुनावों में भी पूरी पारदर्शिता और निष्पक्षता होनी चाहिएदेश के प्रत्येक वयस्क नागरिक को मतदान का अधिकार प्रदान करने के संदर्भ में। जाति, लिंग, जाति, पंथ, राजनीतिक विचार, जनसांख्यिकीय या किसी अन्य संरचनात्मक अंतर या भेदभाव के आधार पर कोई पक्षपात या उत्पीड़न नहीं होना चाहिए। प्रत्येक वोट का मूल्य होना चाहिए, और प्रत्येक वोट का एक मूल्य होना चाहिए, अर्थात इसे निर्वाचित प्रतिनिधियों में समान महत्व रखना चाहिए। इस मानदंड को पूरा करना हर लोकतंत्र के लिए सर्वोपरि है, क्योंकि आज भी कुछ देश महिलाओं या वैकल्पिक कामुकता वाले लोगों को मतदान का अधिकार नहीं देते हैं। यह उन्हें मौलिक स्तर पर लोकतंत्र होने से अयोग्य ठहराता है और चुनाव की भावना को अर्थहीन बनाता है।

अल्पसंख्यकों का प्रतिनिधित्व

दुनिया के हर देश में किसी न किसी आधार पर अल्पसंख्यक हैं। अपने प्रत्येक देशवासियों को समान नागरिकता का अधिकार देना लोकतंत्र की प्रमुख विशेषताओं में से एक है। अल्पसंख्यकों के बहिष्कार या उत्पीड़न से घृणा की जानी चाहिए, और देश के कानूनी अधिकार को हर संभव तरीके से जीवन और आजीविका की समान स्थिति रखने में उनकी सहायता करनी चाहिए। दुनिया भर के कुछ लोकतंत्र अल्पसंख्यक समूहों के लिए उनकी जनसंख्या के आकार के अनुपात में प्रतिनिधि पदों को आरक्षित करते हैं जबकि शेष पदों को विवाद के लिए मुक्त रखते हैं।

संवैधानिक कानून के भीतर नियम

एक लोकतांत्रिक देश में सत्ताधारी सरकार सर्वोपरि नहीं होती है। इसके बजाय, यह विधायी निकाय है जो देश के संविधान द्वारा निर्धारित सर्वोच्च शक्ति रखता है। चूंकि एक नई सरकार एक निश्चित अवधि के बाद चुनी जाती है, उसके पास केवल कुछ स्थापित कानूनों में संशोधन करते हुए निर्णय लेने और उन्हें लागू करने की शक्तियां होती हैं। ऐसी सभी गतिविधियाँ देश के कानून की देखरेख में ही की जा सकती हैं, जो सत्ताधारी सरकार से स्वतंत्र होती है और देश के लोगों द्वारा उनकी योग्यता और कौशल के आधार पर पदों पर कब्जा किया जाता है।

भाषण, अभिव्यक्ति और पसंद की स्वतंत्रता

एक लोकतंत्र जो जनता की आवाज को दबाता या रोकता है, वह वैध नहीं है, लोकतंत्र की बुनियादी विशेषताओं में से एक का उल्लंघन करता है। जनता की आवाज, भले ही वह सत्ताधारी पार्टी के लिए महत्वपूर्ण हो, को स्वतंत्र रूप से बहने देना चाहिए, लोगों को उत्पीड़न के डर के बिना, अपने विचारों और अभिव्यक्तियों को तैयार करने देना चाहिए। उसी तर्ज पर, एक लोकतांत्रिक देश के नागरिक को अपने विवेक के आधार पर स्वतंत्र निर्णय लेने में सक्षम होना चाहिए, जब तक कि वे देश के कानूनों या किसी अन्य व्यक्ति के लिए खतरा पैदा न करें। कार्यों की यह स्वतंत्रता ही लोकतंत्र को फलदायी बनाती है। किसी व्यक्ति को जो गलत लगता है उसका विरोध करना एक कानूनी अधिकार होना चाहिए, क्योंकि मूल रूप से यही एकमात्र चीज है जो सत्ताधारी दलों को उनके कार्यों और नीतियों से रोके रखती है।

संघीय अधिकार

प्रजातंत्र की आवश्यक विशेषताओं में से एक राज्य सरकार को स्वतंत्र रूप से प्रदर्शन करने और जनता के लाभ के लिए नियमों और विनियमों को लागू करने का अधिकार देता है। भारतीय संविधान का अनुच्छेद 1 राज्यों को केंद्र सरकार के हस्तक्षेप के बिना कुछ निर्णय लेने की अनुमति देता है। यदि कोई कानून केंद्र सरकार द्वारा पारित किया जाता है तो हर राज्य को उसका पालन करना होता है।

परिषद की जिम्मेदारी

आम जनता के हित और हित में काम करना चुनी हुई सरकार का कर्तव्य और जिम्मेदारी है। निर्वाचित पार्टी की पूरी परिषद उनके सत्र के तहत किए गए सभी कृत्यों के लिए जिम्मेदार है, न कि केवल एक नेता। प्रजातंत्र पूरे परिषद द्वारा निर्णय लेने की अनुमति देता है, न कि किसी एक व्यक्ति को।

शिक्षा का अधिकार

प्रजातंत्र सभी नागरिकों को शिक्षा प्राप्त करने का अधिकार देता है। शिक्षा में जाति, रंग, पंथ या नस्ल के आधार पर कोई पक्षपात नहीं है और भारत के प्रत्येक व्यक्ति को शिक्षा प्राप्त करने का अधिकार है। यह अधिनियम 6 से 14 वर्ष की आयु के बच्चों को बुनियादी प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त करने की अनुमति देता है।

संघ और संघ बनाने का अधिकार

भारत एक लोकतांत्रिक राष्ट्र है जो सभी व्यक्तियों को अपने स्वयं के संघ या संघ बनाने की अनुमति देता है। भारतीय संविधान का अनुच्छेद 19(1) सभी भारतीय नागरिकों को “संगठन, या संघ या सहकारी समितियां बनाने का अधिकार प्रदान करता है” यह प्रत्येक व्यक्ति के मूल अधिकारों में से एक है और समुदाय के अन्य सदस्यों के साथ संवाद करने की आवश्यकता है या समाज।

सभी के लिए समान कानून

प्रजातंत्र समाज में समानता देता है यानि सभी के लिए समान अधिकार और कानून। किसी भी सेलिब्रिटी, राजनेता या सरकारी निकाय के साथ विशेष व्यवहार नहीं किया जाएगा। देश के आम लोगों पर लागू कानून मशहूर हस्तियों या प्रसिद्ध व्यक्तियों पर भी लागू होगा। भारत में हर परिस्थिति में कानून सभी लोगों के लिए समान है।

न्यायपालिका पर कोई नियंत्रण नहीं

भारत में न्यायपालिका प्रणाली या अदालतें एक स्वायत्त निकाय हैं और किसी भी सरकारी संगठन या पार्टी के नियंत्रण में नहीं हैं। भारत के न्यायपालिका निकाय द्वारा पारित राय, कानून या कार्य किसी भी विधायिका प्राधिकरण और उनके स्वतंत्र निर्णय से प्रभावित नहीं होते हैं।

लोकतंत्र के पक्ष में तर्क

प्रजातंत्र के पक्ष में तर्क इस प्रकार हैं:

  • एक लोकतांत्रिक सरकार को सबसे बेहतर सरकार माना जाता है, जो देश को विकास की ओर ले जा सकती है।
  • लोकतंत्र मतभेदों और संघर्षों से निपटने का तरीका प्रदान करता है।
  • लोकतांत्रिक निर्णय में हमेशा चर्चाएं और बैठकें होती हैं। अतः लोकतंत्र, निर्णय लेने की गुणवत्ता पर भी सुधार करता है।
  • लोकतंत्र राजनीतिक समानता के सिद्धांत पर आधारित है, इसलिए यह नागरिकों की गरिमा को बढ़ाता है।
  • लोकतंत्र अपनी गलतियों को सुधारने की अनुमति देता है।

लोकतंत्र के विपक्ष में तर्क

प्रजातंत्र के विपक्ष में तर्क इस प्रकार हैं:

  • लोकतंत्र में नेता बदलते रहते हैं, जिससे अस्थिरता अक्सर होने लगती है।
  • जनता के द्वारा चुने गए नेताओं को लोगों के सर्वोत्तम हितों का पता नहीं होता है, जिसके परिणाम स्वरूप गलत निर्णय लिए जा सकते हैं।
  • लोकतंत्र में राजनीतिक प्रतिस्पर्धा और सत्ता पाने की भावना बढ़ती है, जिसमें नैतिकता की कोई गुंजाइश नहीं होती है।
  • लोकतंत्र चुनावी प्रतिस्पर्धा पर आधारित है, इसलिए यह भ्रष्टाचार की ओर ले जाता है।
  • लोकतंत्र में बहुत सारे लोगों से परामर्श लेना पड़ता है, जिससे उचित निर्णय लेने में देरी होती है।

लोकतंत्र के प्रकार (संक्षिप्त में)

प्रजातंत्र के मुख्य रूप से दो प्रकार माने जाते हैं-

(1) विशुद्ध या प्रत्यक्ष लोकतंत्र
(2) प्रतिनिधि सत्तात्मक या अप्रत्यक्ष लोकतंत्र

(1) विशुद्ध या प्रत्यक्ष लोकतंत्र- वर्तमान में स्विट्जरलैंड में प्रत्यक्ष लोकतंत्र चलता है। इस प्रकार का लोकतंत्र प्राचीन यूनान के नगर राज्यों में पाया जाता था। प्रत्यक्ष लोकतंत्र से तात्पर्य है कि जिसमें देश के सभी नागरिक प्रत्यक्ष रूप से राज्य कार्य में भाग लेते हैं। इस प्रकार उनके विचार विमर्श से ही कोई फैसला लिया जाता है ‌। प्रसिद्ध दार्शनिक रूसो ने ऐस लोकतंत्र को ही आदर्श व्यवस्था माना है।
(2) प्रतिनिधि सत्तात्मक या अप्रत्यक्ष लोकतंत्र- कई देशों में आज का शासन प्रतिनिधि सत्तात्मक या अप्रत्यक्ष लोकतंत्र है जिसमें जनता द्वारा चुने गए प्रतिनिधियों द्वारा निर्णय लिया जाता है इसमें देश की जनता सिर्फ अपना प्रतिनिधि चुनने में अपना योगदान देती है वह किसी शासन व्यवस्था और कानून निर्धारण  लेने में भागीदारी नहीं निभाती है। इसे ही प्रतिनिधि सत्तात्मक या अप्रत्यक्ष लोकतंत्र कहते हैं।

अन्य लोकतंत्र के प्रकार

  • सत्तावादी लोकतंत्र
  • राष्ट्रपति लोकतंत्र
  • संसदीय लोकतंत्र (संसदीय धर्मनिरपेक्षता)
  • भागीदारी प्रजातंत्र
  • सामाजिक लोकतंत्र
  • इस्लामी लोकतंत्र

लोकतंत्र के रूप

Loktantra kya hai जानने के लिए यह जानना आवश्यक है कि लोकतंत्र के दो रूप होते हैं, जैसे- 

  • प्रत्यक्ष लोकतंत्र
  • अप्रत्यक्ष लोकतंत्र

प्रत्यक्ष लोकतंत्र में जनता खुद कानून बनाती है और उसे लागू करती है ,प्राचीन यूनान में अपनाया गया था। अप्रत्यक्ष लोकतंत्र में जनता अपने प्रतिनिधियों को चुनती है और वह प्रतिनिधि कानून बनाता है ज्यादातर देशों में अप्रत्यक्ष लोकतंत्र को अपनाया गया है। प्रत्यक्ष लोकतंत्र को आसानी से नहीं अपनाया जा सकता, वह केवल वही अपनाया जा सकता है जहां की  जनसंख्या कम होती है।प्राचीन समय में जनसंख्या 500 से 600 लोगों की हुआ करती थी, इसलिए आपस में ही मिलकर कानून बनाते थे और उसे लागू करते थे। परंतु आज के समय में कोई भी छोटे से छोटा देश या राज्य ऐसा बिल्कुल नहीं कर सकता,अभी के समय में राज्य या देश की संख्या लाखों और करोड़ों में है। इसलिए अभी के समय में अप्रत्यक्ष लोकतंत्र को ज्यादा अपनाया गया है। कोई भी जगह पर लोग एक साथ इकट्ठा होकर अपना कानून नहीं बना सकते या उस पर निर्णय नहीं ले सकता। अप्रत्यक्ष लोकतंत्र केवल उसे कहा जाता है जहां देश के राज्य की जनता अपने मनपसंद प्रतिनिधियों को चुनती है और वह प्रतिनिधि देश के लिए  कानून बनाते हैं और उसे लागू करवाते हैं।

लोकतंत्र की सीमाएं क्या है?

प्रजातंत्र में प्रतिनिधि जनता के द्वारा अपने हित के अनुसार चुना जाता है। जनता जब चाहे तख्ता पलट कर सकती है। किसी भी योजना के सफल या असफल होने पर सरकार जनता के प्रति जवाबदेही होती है। लोकतांत्रिक सरकार में कोई व्यक्ति स्वतंत्र रूप से निर्णय नहीं ले सकता है।

लोकतंत्र के मुख्य सिद्धांत 

Loktantra kya hai जानने के लिए यह जानना आवश्यक है कि लोकतंत्र के मुख्य सिद्धांत क्या-क्या हैं, जो इस प्रकार हैं:

  • लोकतंत्र का पुरातन उदारवादी सिद्धांत- लोकतंत्र की उदारवादी परम्परा में स्वतंत्रता, समानता, अधिकार, धर्मनिरपेक्षता और न्याय जैसी अवधारणाओं का प्रमुख स्थान रहा है
  • लोकतंत्र का बहुलवादी सिद्धांत – बहुलवाद सत्ता को समाज में एक छोटे से समूह तक सीमित करने के बदले उसे प्रसारित और विकेन्द्रीकृत कर देता है।
  • लोकतंत्र का सहभागिता सिद्धांत – इस सिद्धांत ने आम जनता की राजनीतिक कार्यों में भागीदारी को समर्थन किया जैसे – मतदान करना, राजनीतिक दलों की सदस्यता, चुनावों मे अभियान कार्य। 
  • लोकतंत्र का मार्क्सवादी सिद्धांत – मार्क्सवादी सिद्धांत के अनुसार भूमि, कल कारखाने इत्यादि पर जनता का स्वामित्व होता है। राज्य सारी उत्पादक पूंजीगत परिसंपत्तियों को अपने नियंत्रण में ले लेता है और उत्पादन-क्षमता में तेजी से वृद्धि होती है। इसमें प्रत्येक नागरिक के लिए आगे बढ़ने के समान अवसर होते हैं।

लोकतंत्र के गुण

Loktantra kya hai जानने के लिए यह जानना आवश्यक है कि लोकतंत्र के गुण क्या-क्या हैं-

प्रजातंत्र को जॉन स्टूअर्ट मिल का शासन बताया है। इन्होंने अपने सुप्रसिद्ध ग्रंथ रिप्रेजेंटेटिव गवर्नमेंट में लोकतंत्र के समर्थन को प्रस्तुत किया कि किसी भी सरकार में  गुण दोषों का मूल्यांकन करने के लिए दो मापदंडों की आवश्यकता होती है । उसकी पहले कसोटी यह है कि क्या सरकार का शासन उत्तम है अथवा नहीं, उसकी दूसरी कसौटी है कि उसके शासन का प्रजा के चरित्र निर्माण पर अच्छा अथवा बुरा प्रभाव पड़ता है।

  • उच्च आदर्शों पर आधारित
  • जनकल्याण पर आधारित
  • सार्वजनिक शिक्षण
  • क्रांति से सुरक्षा
  • परिवर्तनशील शासन व्यवस्था
  • देश प्रेम की भावना का विकास
  • चंदा में अपना विश्वास एवं उत्तरदायित्व की भावना का विकास

लोकतंत्र के दोष

Loktantra kya hai जानने के लिए यह जानना आवश्यक है कि लोकतंत्र के दोष क्या-क्या हैं-

  • लोकतंत्र अयोग्य लोगों का शासन है
  • बहुमत  द्वारा निर्णय युक्तिसंगत नहीं
  • प्रजातंत्र गुणों पर नहीं बल्कि संख्या पर बल देता है
  • पेशेवर राजनीतिक लोग का बहुमूल्य
  • खर्चीला शासन
  • संकट काल के लिए अनुपयुक्त
  • उग्र दलबंदी

एक लोकतांत्रिक सरकार के फायदे और नुकसान

Loktantra kya hai को और अच्छे से जानने के लिए नीचे इसके फायदे और नुकसान दिए गए हैं-

लोकतंत्र के लाभ  लोकतंत्र के नुकसान 
चूंकि देश के लोग लोकतंत्र में सरकार का चुनाव करते हैं, इस प्रकार यह अंततः लोगों को उनके कार्यों के लिए जवाबदेह होता है। चूंकि लोकतंत्र में सत्ता की कई परतें होती हैं, इसलिए निर्णय लेने की प्रक्रिया अन्य प्रकार की सरकार की तुलना में थोड़ी धीमी होती है।
एक लोकतांत्रिक सरकार अपने लोगों को सरकार से ही सवाल करने के लिए और अधिक स्वतंत्रता देगी। उदाहरण के लिए, चीन के लोग सरकार पर सवाल नहीं उठा सकते। हालांकि, भारत में लोकतंत्र लोगों को कुछ भी गलत होने पर सरकार से सवाल करने की अनुमति देगा। एक लोकतांत्रिक सरकार में भ्रष्टाचार की संभावना होती है क्योंकि लोग चुनाव जीतने के लिए राजनीतिक प्रभाव और शक्ति का उपयोग कर सकते हैं। भारत में लोकतंत्र एक उत्कृष्ट उदाहरण हो सकता है जहां लोग चुनाव के समय लोगों को पैसे देकर चुनाव परिणामों को प्रभावित करने का प्रयास करते हैं।
चूंकि एक विपक्षी दल की अवधारणा है, इसलिए समय के साथ निर्णय लेने की गुणवत्ता में सुधार होगा। भारत जैसे बड़े देश में हर पांच साल में राजनीतिक दलों के बदलाव के कारण विकास परियोजनाएं अस्थिर हो सकती हैं।

भारत में लोकतंत्र

भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है जहां राष्ट्रपति राज्य के प्रमुख के रूप में कार्य करता है। प्रधान मंत्री देश की केंद्र सरकार के प्रमुख के रूप में कार्य करता है। केंद्र सरकार के अलावा, देश के बेहतर शासन में सहायता के लिए प्रत्येक राज्य के लिए राज्य सरकारें हैं। केंद्र सरकार और राज्य सरकार दोनों संविधान के ढांचे के भीतर काम करती हैं। भारत में लोकतंत्र के मूलभूत सिद्धांतों में से एक राजनीतिक समानता पर आधारित है, और इसलिए देश में कोई भी व्यक्ति पार्टी चला सकता है और चुनाव लड़ सकता है।

केंद्र सरकार में सदनों का विभाजन

भारत में लोकतंत्र में एक द्विसदनीय विधायिका है, जो दो सदनों अर्थात् उच्च सदन या राज्य सभा और निचले सदन या लोकसभा का निर्माण करती है। लोकसभा के सदस्य केंद्र सरकार के चुनावों के माध्यम से चुने जाते हैं जिसमें पूरे देश के लोगों ने अपने निर्वाचन क्षेत्र के लिए सदस्यों का चुनाव करने के लिए अपना वोट डाला। अभी तक, लोकसभा में कुल 543 सीटें हैं जो देश के 543 निर्वाचन क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करती हैं। 543 सीटों में से बहुमत प्राप्त पार्टी की सरकार बनाती है। दूसरे बहुमत वाली पार्टी विपक्षी पार्टी बनाती है। राज्य सभा के 245 सदस्यों में से 233 सदस्य अप्रत्यक्ष रूप से राज्य विधान सभा के प्रतिनिधियों द्वारा चुने जाते हैं। भारत के राष्ट्रपति शेष 12 सदस्यों को कला, साहित्य, खेल आदि जैसे विभिन्न क्षेत्रों में उनके योगदान के लिए चुनते हैं।

भारत में पार्टियों के प्रकार

भारत में लोकतंत्र की प्रणाली में एक बहुदलीय प्रणाली है। भारत में सभी दलों को एक राष्ट्रीय पार्टी या एक राज्य पार्टी के रूप में वर्गीकृत किया जाता है यदि वे विशिष्ट योग्यताएं स्पष्ट करते हैं। साथ ही, किसी पार्टी को चुनाव लड़ने के लिए, उसे भारत के चुनाव आयोग के साथ पंजीकृत होना चाहिए। यह एक स्वतंत्र निकाय है जिसे सरकार द्वारा नियंत्रित नहीं किया जा सकता है।

लोकतंत्र की सफलता के लिए आवश्यक शर्तें

Loktantra kya hai जानने के साथ-साथ इसकी आवश्यक शर्तों के बारे में जानिए-

  • प्रजातंत्र की सफलता में सबसे महत्वपूर्ण बाधा अशिक्षा की है ,इसका यह अर्थ है कि प्रजातंत्र की सफलता के लिए आवश्यक है कि नागरिक को शिक्षित होना चाहिए  जागृत करना और राजनीतिक जीवन में रुचि रखने वाला हो।
  • प्रजातंत्र का आर्थिक रूप से यह भी कार्य होता है कि देश में शांति और सुव्यवस्था का वातावरण बनाए रखें।
  • लोकतंत्र की सफलता के लिए आर्थिक समानता और सामाजिक न्याय की स्थापना करना भी बहुत ही आवश्यक है ।जनता की न्यूनतम आवश्यकताएं पूरी करनी चाहिए ताकि वह भी बिना किसी दबाव के शासन के कार्यों में भाग ले सकें।
  • निर्वाचन समय बंद एवं निष्पक्ष होना यह लोकतंत्र की सफलता के लिए बहुत ही आवश्यक है।
  • सामाजिक स्तर पर विशेष अधिकारों की संपत्ति होना बहुत ही आवश्यक है लोकतंत्र की सफलता के लिए।
  • प्रजातंत्र की रक्षा एवं सफलता संरक्षण हेतु के निष्पक्ष न्यायपालिका होनी बहुत आवश्यक है लोकतंत्र की सफलता के लिए अहम भूमिका निभाता है।
  • जनमत निर्माण के साधन जैसे समाचार पत्र ,पत्रिकाएं सभा संगठन ऐसी कई सारे प्रकार पर किसी वर्ग विशेष का अधिकार ना हो, प्रकाश स्वतंत्र और ईमानदार प्रेम के माध्यम से जनता और शासन के बीच स्वस्थ संबंध कायम बनाए रखना लोकतंत्र की सफलता के लिए यह भी बहुत ही आवश्यक है।
  • स्थानीय स्वशासन का विकास और प्राथमिक पाठशाला होनी अभी बहुत ही आवश्यक है।
  • प्रजातंत्र के कट्टर आलोचक लेकर तथा हेंडरी मैंने बहुत के शासन को सीमा के भीतर रखने के लिए लिखित संविधान का सुझाव भी दिया था जो लोकतंत्र में अहम भूमिका निभाते हैं।
  • प्रभावशाली विरोधी कादल और शक्तिशाली अभाव में लोकतंत्र सरकार निर्गुण और लापरवाह हो जाती है साथ ही सत्ता का दुरुपयोग करने लगती है यह भी लोकतंत्र का सफलता के लिए बहुत ही आवश्यक है।

लोकतंत्र का महत्व

लोकतंत्रात्मक शासन अनेक प्रकार की आलोचना और दोषों के होते हुए लोकतंत्र का अपना एक अलग ही महत्व है।

  • लोगों की जरूरत के अनुरूप आचरण करने के मामले में लोकतांत्रिक शासन प्रणाली किसी अन्य शासन प्रणाली से बहुत ही बेहतर है।
  • लोकतांत्रिक शासन पद्धति बाकी सभी पद्धति से बेहतर है क्योंकि यह आशंका अधिक जवाबदेही वाला स्वरूप होता है।
  • बेहतर निर्णय देने की संभावना बढ़ाने के लिए लोकतंत्र अलग ही भूमिका निभाता है।
  • लोकतंत्र मतभेदों और टकराव को संभलने का तरीका अलग ही तरीके से उपलब्ध कराता है।
  • लोकतंत्र जनता एवं नागरिकों का सम्मान बढ़ाता है।
  • लोकतांत्रिक व्यवस्था दूसरों से बेहतर है क्योंकि इसमें हमें अपनी गलती ठीक करने का अवसर भी दिया जाता है।

लोकतंत्र और तानाशाही के बीच अंतर क्या हैं?

Loktantra kya hai जानने के साथ-साथ लोकतंत्र और तानाशाही के बीच अंतर क्या हैं, यह जान लेते हैं-

जैसा कि आप पहले से ही जानते होंगे, सरकारों के ये दो रूप प्रकृति में काफी विपरीत हैं। यहां हम आपकी समझ के लिए लोकतंत्र और तानाशाही के बीच के अंतर को बहुत संक्षेप में समझाएंगे।

  • लोकतंत्र और तानाशाही के बीच महत्वपूर्ण अंतर सरकार में बदलाव है। तानाशाही में बिना किसी चुनाव के एक पार्टी का शासन होता है, जबकि लोकतंत्र में नियमित और लगातार चुनाव होते हैं जिसमें सभी नागरिकों के वोट शामिल होते हैं।
  • एक लोकतंत्र में, लोगों की आवाज शासन के मामलों में प्राथमिक प्राथमिकता लेती है, जबकि एक तानाशाही में लोगों को प्रभावी ढंग से खामोश कर दिया जाता है और सरकार के लिए उनकी कोई प्रासंगिकता नहीं होती है। यह लोकतंत्र और तानाशाही के बीच एक बड़ा अंतर है।
  • लोकतंत्र और तानाशाही के बीच एक और अंतर सरकार की जवाबदेही है जो लोकतंत्र की प्राथमिक विशेषता है। एक तानाशाही में, सरकार नीतियों और विनियमों को लागू करने के लिए अनियंत्रित शक्ति रखते हुए, अपनी इच्छा और इच्छा के अनुसार व्यवहार करती है।
मानदंड लोकतंत्र तानाशाही
परिभाषा लोकतंत्रमें सबसे ज्यादा वोट और जनसमर्थन पाने वाला व्यक्ति नेता बनता है।
व्यक्तिमतदाताओं का सम्मान करने के लिए जिम्मेदार है औरइसके कल्याण की तलाश करता है।
तानाशाही में केवल एक ही शासक होता हैजिसने अवैध रूप से सत्ता हथिया ली है औरपूरे देश पर लोहे के हाथ से शासन करता है।
उनका शासन शासनको पवित्र करने के प्रचार के साथ है ।
राजनीतिक व्यवस्था का प्रकार इस राज्य में विविध समुदायों और विचारों काप्रतिनिधित्व करने वाली बहुदलीय या द्विदलीय व्यवस्था है ।
राजनीतिक शक्ति केवलएक कड़ाई से निगरानी मुक्तचुनाव प्रक्रिया के माध्यम से दी जाती है। 
सरकार के एक तानाशाही रूप में,राजनीतिक दलों को ज्यादातरकिसी भी प्रकार की गतिविधियों को करने से प्रतिबंधित किया जाता है। राजनीतिक सभाओं को अवैध बना दिया जाता है।
स्वतंत्रता और अधिकार लोकतंत्र के तहत पत्रकारिता औरमीडिया को स्वतंत्र रूप से फलने-फूलनेऔर परिणामों की चिंता किए बिना सरकार और उनकी नीतियों की आलोचना करने की अनुमति है ।  एक तानाशाही में व्यक्तिगत स्वतंत्रता और स्वतंत्र अभिव्यक्ति अभिशाप हैं।किसी को भीसरकार के खिलाफ एक शब्द भी कहने की अनुमति नहीं है और नागरिकअधिकार निलंबित हैं। 
शासन लोकतंत्र लोगों को अपनी पसंद की राजनीतिक पार्टीस्थापित करने या उसमें शामिल होने का स्वतंत्र विकल्प देता है। चूंकि एक दलीय प्रणाली है, इसलिएराजनीतिक विपक्ष को बेरहमी सेहतोत्साहित किया जाता है।
आजादी सरकार इस राज्य में लोगों के जीवन को निर्देशित नहीं कर सकती है । यहां, विषयकुछ भी करने के लिए स्वतंत्र हैं याफिर भी, वे अपने संसाधनों को खर्च करना चाहते हैं। यहां लोगों के जीवन का हर क्षेत्र,उनका सामाजिक जीवनसरकारी नियमों और आदेशों से प्रभावित होता है ।

लोकतंत्र को तानाशाही से बेहतर क्यों माना जाता है?

एक महत्वपूर्ण प्रश्न जो आप इन दोनों राजनीतिक व्यवस्थाओं के बीच के अंतरों को जानकर आश्चर्यचकित हो सकते हैं, वह यह है कि लोकतंत्र को तानाशाही से बेहतर क्यों माना जाता है। यह केवल इसलिए है क्योंकि लोकतंत्र लोगों को अधिक मौलिक और मानव अधिकार देता है और जनता पर ध्यान केंद्रित करता है, न कि तानाशाही जो पूरी तरह से वही करती है जो उसका तानाशाह करना चाहता है। आइए प्रमुख कारणों का पता लगाएं कि लोकतंत्र को तानाशाही से बेहतर क्यों माना जाता है:

  • लोकतंत्र देश और उसके नागरिकों में समानता की सुविधा प्रदान करता है। सभी को समान अधिकार प्रदान किए गए हैं, उनमें से सबसे महत्वपूर्ण अपने प्रतिनिधि चुनने का अधिकार है। हालाँकि, तानाशाही किसी देश के तानाशाह के नियमों और इच्छाओं के आदेशों का आँख बंद करके पालन करती है।
  • लोकतंत्र में संघर्षों को हल करने के लिए उचित तरीके और तरीके शामिल हैं, चाहे देश के भीतर या देश के बाहर, जबकि तानाशाही में अपने नागरिकों के बीच संघर्ष समाधान के लिए ऐसी कोई विशेषता नहीं है।
  • राजनीतिक दृष्टि से, लोकतंत्र को वैध सरकार का एक रूप माना जाता है जहां कुछ व्यक्ति लोगों के प्रतिनिधि होते हैं और नागरिकों को भी सामरी के रूप में कार्य करने के लिए अपेक्षित अधिकार और कर्तव्य मिलते हैं। दूसरी ओर, तानाशाही के पास प्रतिनिधि चुनने की कोई प्रक्रिया नहीं होती है, इस प्रकार तानाशाह के साथ पड़ने और अपने नागरिकों को बिना किसी प्रतिनिधि के छोड़ने की संभावना अधिक होती है।
  • लोकतंत्र गुणवत्तापूर्ण निर्णय लेने, नए कानूनों को लागू करने, संघर्ष के समाधान, अपने नागरिकों के बीच संकट को हल करने के साथ-साथ अपने जनता के सामने आने वाले मुद्दों और समस्याओं के समय पर समाधान के लिए नियमों और विनियमों का एक सेट स्थापित करता है। दूसरी ओर, तानाशाही केवल बिना किसी आपत्ति के शासक का आँख बंद करके पालन करने, नियमों पर सवाल उठाने की गुंजाइश या यहाँ तक कि जनता के सामने आने वाले मुद्दों को समझने में विश्वास करती है।
  • लोकतंत्र एक जवाबदेह राजनीतिक व्यवस्था भी है क्योंकि सरकार को अपने फैसलों के लिए जवाबदेह ठहराया जा सकता है और प्रदान किए गए अधिकारों के साथ नागरिक सवाल कर सकते हैं और पूछताछ कर सकते हैं कि निर्णय लेने के मामले में क्या हो रहा है। तानाशाही उन लोगों के एक निश्चित समूह तक ही सीमित रहती है जिन पर वास्तव में भरोसा नहीं किया जा सकता है और उन्हें जवाबदेह माना जाता है क्योंकि उनके अपने निजी हितों को जनता के लिए फायदेमंद माना जाता है।

लोकतंत्र कक्षा 10

पाठ- 3 लोकतंत्र और विविधता लोकतांत्रिक राजनीती

  1. सवाल: Democracy’ शब्द ग्रीक भाषा के किन शब्दों के संयोग से बना है और उसका प्रचलित व स्वीकृत अर्थ क्या है?
    उत्तर: अंग्रेजी शब्द Democracy का हिन्दी अनुवाद है-लोकतंत्र, जनतंत्र अथवा प्रजातंत्र। अंग्रेजी शब्द Democracy ग्रीक भाषा के दो शब्दों ‘डेमोस’ तथा ‘क्रेटिया’ के संयोग से बना है। यद्यपि ‘डेमोस’ का मूल अर्थ है भीड़ किंतु आधुनिक काल में इसका अर्थ जनता से लिया जाने लगा है और ‘क्रेटिया’ का अर्थ है ‘शक्ति’। इस प्रकार शब्दार्थ की दृष्टि से ‘डेमोक्रेसी’ का अर्थ है ‘जनता की शक्ति’। इस डेमोक्रेसी का अर्थ है जनता की शक्ति पर आधारित शासनतंत्र।

2. सवाल: लोकतंत्र के एक रूप ‘सामाजिक लोकतंत्र’ का क्या अर्थ है?

उत्तर: सामाजिक लोकतंत्र का अर्थ है कि समाज में नस्ल, रंग (वर्ण), जाति, धर्म, भाषा, लिंग, धन, जन्म आदि के आधार पर व्यक्तियों के बीच भेद नहीं किया जाना चाहिए और सभी व्यक्तियों को व्यक्ति के रूप में समान समझा जाना चाहिए। 

3. सवाल: किस तरह के सामाजिक अंतर गहरे सामाजिक विभाजन और तनावों की स्थिति पैदा करते हैं, किस तरह के सामाजिक अंतर सामान्य तौर पर टकराव की स्थिति तक नहीं जाते। 

उत्तर: एक ही तरह के सामाजिक अंतर गहरे सामाजिक विभाजन और तनावों की स्थिति पैदा करते हैं, विभिन्न तरह के सामाजिक अंतर सामान्य तौर पर टकराव की स्थिति तक नहीं जाते। 

4. सवाल: लोकतंत्र को शासन का एक रूप ‘सामाजिक संगठन का एक सिद्धांत तथा जीवन की एक पद्धति माना जाता हैं क्यों?

उत्तर: लोकतंत्र का समाजवादी सिद्धांत लोकतंत्र के उदारवादी सिद्धांत तथा मार्क्सवादी सिद्धांत के समन्वय से बना सिद्धांत है। यह उदारवादी लोकतंत्र में निहित व्यक्ति की राजनीतिक स्वतंत्रता के मार्क्सवादी लोकतंत्र में निहित आर्थिक समानता के आदर्शों को एक साथ प्राप्त करना चाहता है।

5. सवाल: प्रत्यक्ष लोकतंत्र किसे कहते हैं? इसके उदाहरण दें।।

उत्तर: प्रत्यक्ष लोकतंत्र में जनता सरकार के कई निर्णयों में प्रत्यक्ष रूप से भाग लेती है तथा कानून के निर्माण के समय अपना निर्णय (जनमत) देती है। प्रत्यक्ष लोकतंत्र का उदाहरण स्वीटजरलैंड है।

लोकतंत्र कक्षा 9

पाठ- 3 लोकतंत्र क्या, लोकतंत्र क्यों

1 सवाल: यहाँ चार देशों के बारे में कुछ सूचनाएँ हैं। इन सूचनाओं के आधार पर आप इन देशों का वर्गीकरण किस तरह करेंगे? इनके सामने ‘लोकतांत्रिक’, ‘अलोकतांत्रिक’ और पक्का नहीं लिखें।

(क) देश क जो लोग देश के अधिकारिक धर्म को नहीं मानते उन्हें वोट डालने का अधिकार नहीं है। 

(ख) देश खः एक ही पार्टी बीते बीस वर्षों से चुनाव जीतती आ रही है। 

(ग) देश गः पिछले तीन चुनावों में शासक दल को पराजय का मुंह देखना पड़ा। 

(घ) देश घः यहाँ स्वतंत्र चुनाव आयोग नहीं है।

उत्तर

(क) अलोकतांत्रिक

(ख) पक्का नहीं

(ग) लोकतांत्रिक

(घ) अलोकतांत्रिक

2. सवाल: यहाँ चार अन्य देशों के बारे में कुछ सूचनाएँ दी गई हैं, इन सूचनाओं के आधार पर आप इन देशों का वर्गीकरण किस तरह करेंगे? इनके आगे ‘लोकतांत्रिक’, ‘अलोकतांत्रिक’ और ‘पक्का नहीं लिखें।

(क) देश च: संसद सेना प्रमुख की मंजूरी के बिना सेना के बारे में कोई कानून नहीं बना सकती। 

(ख) देश छः संसद न्यायपालिका के अधिकारों में कटौती का कानून नहीं बना सकती। 

(ग) देश ज: देश के नेता बिना पड़ोसी देश की अनुमति के किसी और देश से संधि नहीं कर सकते। 

(घ) देश झः देश के आर्थिक फैसले केंद्रीय बैंक के अधिकारी करते हैं जिसे मंत्री नहीं बदल सकते।

उत्तर: (क) अलोकतांत्रिक (ख) लोकतांत्रिक (ग) अलोकतांत्रिक (घ) अलोकतांत्रिक

3. सवाल: लोकतंत्र में अकाल और भुखमरी की संभावना कम होती यह तर्क देने का इनमें से कौन-सा कारण सही नहीं है?

(क) विपक्षी दल भूख और भुखमरी की ओर सरकार का ध्यान दिला सकते हैं।

(ख) स्वतंत्र अखार देश के विभिन्न हिस्सों में अकाल की स्थिति के बारे में खबरें दे सकते हैं। (ग) सरकार को अगले चुनाव में अपनी पराजय का डर होता है।

(ग ) लोगों को कोई भी तर्क मानने और उस पर आचरण करने की स्वतंत्रता है।

उत्तर: विकल्प ‘ग’ तर्क के लिए वैध कारण नहीं है कि लोकतांत्रिक देश में अकाल की कम संभावना है। इसका कारण यह है कि किसी भी धर्म का आचरण करने से अकाल को रोकने के लिए कुछ नहीं करना पड़ता है।

FAQs

कौन सा देश लोकतांत्रिक देश नहीं है?

घाना, म्यांमार और वेटिकन सिटी किसी न किसी रूप में लोकतंत्र की परिधि से बाहर के देश हैं। इसके अलावा सऊदी अरब, जार्डन, मोरक्को, भूटान, ब्रूनेई, कुवैत, यूएई, बहरीन, ओमान, कतर, स्वाजीलैंड आदि देशों में राजतंत्र है।

लोकतंत्र कितने प्रकार के होते हैं?

सामान्यत: लोकतंत्र-शासन-व्यवस्था दो प्रकार की मानी जानी है :
(1) विशुद्ध या प्रत्यक्ष लोकतंत्र तथा
(2) प्रतिनिधि सत्तात्मक या अप्रत्यक्ष लोकतंत्र

लोकतंत्र के मुख्य सिद्धांत क्या है?

लोकतंत्र का अर्थ है जनता द्वारा , जनता के हित मे , जनता पर शासन। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता , मतदान का अधिकार , स्वतंत्र मीडिया, निष्पक्ष न्यायलय लोकतंत्र के प्रमुख सिद्धांत है।

लोकतांत्रिक पद्धति अपनाने वाला प्रथम राज्य देश कौन सा है?

ग्रीस, दुनिया का पहला लोकतांत्रिक देश है।

लोकतंत्र का कौन सा गुण सही नहीं है?

व्यावहारिक सामाजिक समानता का अभावः – जिन देशो में लोकतंत्र की स्थापना हुई, उनमें अधिकांश रूप से यह देखने को मिलता है कि व्यावहारिक रूप से सामाजिक समानता कायम नहीं रहती है। ऊंच – नीच, गरीबी – अमीरी, वर्ग – संघर्ष, तरीके और आर्थिक असमानताओं के कारण सामाजिक समानता कभी स्थापित नहीं होती है।

लोकतंत्र के तीन मूल कौन कौन से हैं?

लोकतंत्र में लोक का अर्थ जनता और तंत्र का अर्थ व्यवस्था होता है. अत: लोकतंत्र का अर्थ हुआ जनता का राज्य. यह एक ऐसी जीवन पद्धति है जिसमें स्वतंत्रता, समता और बंधुता समाज-जीवन के मूल सिद्धांत होते हैं. अंग्रेजी में लोकतंत्र शब्द को डेमोक्रेसी (Democracy) कहते है जिसकी उत्पत्ति ग्रीक मूल शब्द ‘डेमोस’ से हुई है

लोकतंत्र में चुने हुए प्रतिनिधि कौन होते हैं?

लोकतंत्र में चुने हुए प्रतिनिधि विधायक और सांसद होते हैं जिन्हें हम वोट देकर अपना जनप्रतिनिधि बनाते हैं।

विश्व के कितने देशों में लोकतंत्र है?

दुनिया के 56 देशों में है लोकतांत्रिक प्रणाली ञ्च भारत, अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी, ब्राजील, ऑस्ट्रेलिया समेत केवल 56 देशों में लोकतांत्रिक प्रक्रिया का पालन किया जाता है।

क्या सऊदी अरब एक लोकतांत्रिक देश है?

सउदी अरब मध्यपूर्व में स्थित एक सुन्नी मुस्लिम देश है। यह एक इस्लामी राजतंत्र है जिसकी स्थापना १७५० के आसपास सउद द्वारा की गई थी। … यह विश्व के अग्रणी तेल निर्यातक देशों में गिना जाता है।

विश्व में सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश कौन है?

दुनिया में भारत को सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश माना जाता है। 26 जनवरी, 1950 को भारत का संविधान लागू हुआ था। इसे विश्व का सबसे लंबा लिखित संविधान मानते हैं। भारत को इसलिए दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र माना जाता है, क्योंकि यहां 29 भाषाएं और करीब 1650 बोलियां बोली जाती हैं।

मुख्य रूप से लोकतंत्र कितने प्रकार के होते हैं?

लोकतंत्र के मुख्य रूप से दो प्रकार माने जाते हैं-
(1) विशुद्ध या प्रत्यक्ष लोकतंत्र
(2) प्रतिनिधि सत्तात्मक या अप्रत्यक्ष लोकतंत्र

 सरकार के दो रूप कौन-कौन से हैं?

सरकार के दो रूप हैं- (1) लोकतांत्रिक (2) गैर लोकतांत्रिक।

 सरकार का सबसे प्रचलित रूप कौन सा है?

लोकतंत्र

भारतीय प्रजातंत्र के जनक कौन है?

डॉ. भीमराव अंबेडकर

प्रत्यक्ष लोकतंत्र किसे कहते हैं?

प्रत्यक्ष लोकतंत्र से तात्पर्य है कि जिसमें देश के सभी नागरिक प्रत्यक्ष रूप से राज्य कार्य में भाग लेते हैं। इस प्रकार उनके विचार विमर्श से ही कोई फैसला लिया जाता है ‌। प्रसिद्ध दार्शनिक रूसो ने ऐस लोकतंत्र को ही आदर्श व्यवस्था माना है।

अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस कब मनाया जाता है?

15 सितंबर

अरस्तु ने लोकतंत्र को कौनसी प्रणाली बताई है?

अरस्तू ने लोकतंत्र एक विकृत शासन प्रणाली बताया था ,जिसमें बहू संख्या निर्धन वर्ग अपने वर्ग के हित के लिए शासन पर आता है और भीडतंत्र का रूप धारण कर लेता है और साथ ही अरस्तू के लोकतंत्र को पालिटी polity के नाम से जाना जाता है।

 यूनानी दार्शनिक वलीआन के अनुसार लोकतंत्र की क्या परिभाषा है?

यूनानी दार्शनिक वलीआन के अनुसार ने लोकतंत्र की यह परिभाषा दी है कि, “लोकतंत्र वह होगा जो जनता का, जनता के द्वारा हो, जनता के लिए हो।”

वर्तमान में कौन से देश तानाशाही के अधीन हैं?

आज के समय में भी कई देश ऐसे हैं जो शासन के तानाशाही रूप के दौर से गुजर रहे हैं। वे देश हैं ईरान, चीन, उत्तर कोरिया, वेनेजुएला, सीरिया, मिस्र, कंबोडिया, कजाकिस्तान।

आज कौन हैं तानाशाह?

विभिन्न देशों पर शासन करने वाले कुछ क्रूर तानाशाह हैं, अयातुल्ला खामेनेई, बशर अल असद, किम जोंग उन, नूरसुल्तान नज़रबायेव, अब्दुल फतेह अल सीसी, शी जिनपिंग और हुन सेन।

क्या लोकतंत्र तानाशाही से बेहतर है?

हर दृष्टि से लोकतंत्र जीने की आदर्श स्थिति है। यह समानता को बढ़ावा देता है, लोगों को अपनी सरकार चुनने और स्वतंत्र रूप से अपनी राय रखने का अधिकार देता है।

आप एक तानाशाह को कैसे देखते हैं?

एक तानाशाही की मुख्य विशेषताओं में नागरिक अधिकारों का निलंबन, राजनीतिक विरोध का गला घोंटना, न्यायपालिका को कमजोर करना, आपातकाल की निरंतर स्थिति और निरंतर प्रसार दुष्प्रचार और प्रचार शामिल हैं।

राजतंत्र लोकतंत्र है या तानाशाही?

आमतौर पर, एक राजशाही को राजा या रानी के शासन की विशेषता होती है, जो अपने लोगों पर पूर्ण नियंत्रण रखता है। राजशाही का वह रूप तानाशाही का चेहरा है। लेकिन यूनाइटेड किंगडम जैसा देश, जो एक संवैधानिक प्रकार की राजशाही है, एक सम्राट के नियंत्रण को काफी हद तक कम कर देता है।

भारत में किस प्रकार की शासन प्रणाली है?

भारत में लोकतांत्रिक शासन प्रणली है।

आशा करते हैं कि आपको इस ब्लॉग के माध्यम से Loktantra kya hai के बारे में सम्पूर्ण जानकारी मिल गई होगी। यदि आप विदेश में पढ़ाई करना चाहते हैं, तो हमारे Leverage Edu  विशेषज्ञ के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन 1800 57 2000 पर कॉल कर बुक करें।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert