होटल मैनेजमेंट कोर्स सब्जेक्ट्स

2 minute read
330 views
Leverage-Edu-Default-Blog

एक गतिशील और तेज़ी से बढ़ता क्षेत्र होटल मैनेजमेंट आपको दुनिया भर में करियर के बेहतरीन अवसर प्रदान करता है। यह हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री, ट्रेवल और टूरिज्म इंडस्ट्री से काफी हद तक इंटरकनेक्टेड होती है। इस क्षेत्र की वाइड रेंज ही इसे आकर्षक और दिलचस्प बनाती है जिसे देश-विदेश सभी जगह सराहा जाता है। इसमें आने वाले कार्य, कोर्स के दौरान छात्रों को दिया जाने वाला ज्ञान और विभिन्न स्तरों पर मिलने वाले विकल्प होटल मैनेजमेंट को बाकी फील्ड्स से अलग बनाता है और विद्यार्थियों को खुद को एक्स्प्लोर करने का मौका देता है। होटल मैनेजमेंट, उसमें आने वाले कोर्स और होटल मैनेजमेंट कोर्स सब्जेक्ट्स से जुड़ी जानकारी के लिए इस ब्लॉग को आखिर तक पढ़ें।

कोर्स का नाम  होटल मैनेजमेंट 
अवधि   -सर्टिफिकेट : कुछ घंटों से 1 साल
-डिप्लोमा : 6 महीने से 2 साल
-बैचलर्स : 3-4 साल 
-मास्टर्स : 2 साल 
योग्यता  -सर्टिफिकेट, ग्रेजुएशन: 10+2, डिप्लोमा: 10वीं,
-मास्टर्स: बैचलर डिग्री (HM)
प्रोग्राम के टाइप   सर्टिफिकेट कोर्स, डिप्लोमा कोर्स, ग्रेजुएशन, मास्टर्स 
फीस (प्रति वर्ष) -सर्टिफिकेट लेवल : 8k-10k INR 
-डिप्लोमा : 10K-2 लाख INR 
-ग्रेजुएशन : 3-10 लाख INR 
-मास्टर्स : 30K- 6 लाख INR 
एवरेज सैलरी (प्रति वर्ष) -सर्टिफिकेट : 2-3 लाख INR 
-डिप्लोमा : 5-10 लाख INR 
-ग्रेजुएट : 2-5 लाख INR 
-मास्टर्स : 3-8 लाख INR 

होटल मैनेजमेंट क्या है?

होटल मैनेजमेंट का कोर्स विद्यार्थियों को होटल से जुड़ी सभी गतिविधियों और कार्यों से अवगत कराता है जिसमें हॉउसकीपिंग, केटरिंग से लेकर फ्रंट डेस्क ऑपरेशन्स तक सब कुछ शामिल है। सेवा उन्मुख क्षेत्र होने के कारण, होटल मैनेजमेंट में विद्यार्थियों को अतिथि शिष्टाचार, विनम्रता, कम्युनिकेशन स्किल्स और कस्टमर को ध्यान में रखकर कैसे फैसले लिए जाएं सिखाया जाता है। इसी के साथ इन प्रोग्रामों को और इफेक्टिव बनाने के लिए विद्यार्थियों को न सिर्फ थ्योरी का ज्ञान दिया जाता है बल्कि उसी ज्ञान को प्रैक्टिकल अप्रोच के साथ ट्रेनिंग के द्वारा सिखाया जाता है, जिससे विद्यार्थी असल ज़िन्दगी में आई परिस्थिति को प्रैक्टिकल तरीके से संभाल सके। यह ट्रेनिंग होटल मैनेजमेंट के कोर्स का हिस्सा होता है जिसे हर विद्यार्थी को करना आवश्यक है।

यह भी पढ़ें : दुनिया के बेस्ट होटल मैनेजमेंट कोर्सेज 

होटल मैनेजमेंट क्यों करें?

किसी भी फील्ड में करियर बनाने का सोचने से पहले हमें ये ज़रूर ज्ञात होना चाहिए कि उसके फायदे क्या हैं और क्या हम उन फायदों का लाभ उठाने हेतु सक्षम है? आइये जानते हैं कि होटल मैनेजमेंट में भविष्य चुनने के लाभ क्या-क्या हैं:

  • होटल मैनेजमेंट में विभिन्न श्रेणियों और वर्क प्रोफाइल्स के लिए तैयार कराने के साथ-साथ होटल इंडस्ट्री के सम्पूर्ण प्रक्रिया से रूबरू कराया जाता है।
  • होटल इंडस्ट्री आपको करियर के बेहतर विकल्प देती है जिसे आप विश्व भर में पा सकते हैं।
  • यह कोर्स एक फ्रेशर के लिए एक अच्छा ऑप्शन हो सकता है क्योंकि होटल मैनेजमेंट के दौरान कैंडिडेट को विभिन्न परिस्थितियों को संभालना और डायवर्स रेंज में फैली ज़िम्मेदारियों को समझना सिखाया जाता है जिससे कैंडिडेट को अनुभव की प्राप्ति होती है।
  • यह कोर्स आपको क्रिएटिव और एंटरटेनिंग फील्ड की तरफ आकर्षित करता है, जिसमें ज़िम्मेदारियों के साथ-साथ हर दिन कुछ नया करने का अवसर मिलता है। 
  • होटल में आई हस्तियों से मिलने और लिंक्स बनाने के अवसर भी होते हैं।
  • होटल इंडस्ट्री आपको प्रोफेशनल और पर्सनल दोनों श्रेणियों में उभारती है और बेहतर बनाती है। 

होटल मैनेजमेंट कोर्स सब्जेक्ट्स और सिलेबस

विषय  विवरण 
फ़ूड एंड बेवरेजिज़ प्रोडक्शन  खाना बनाने, सामग्री को पकाने की विधि और कैसे उसे एक आहार में बदला जाए। 
फ़ूड एंड बेवरेजिज़ सर्विस  खाना तैयार करने, प्रेसेंट करने और परोसने की प्रक्रिया को सिखाया जाता है। 
होटल फाईनेंशियल एकाउंटिंग  होटल की फाइनेंशियल पोज़िशन को समराइज़िंग करना, रिपोर्टिंग करना और अनलाईज़िंग करना शामिल है। 
हाईजीन एंड फ़ूड सेफ्टी  भोजन को बैक्टीरिया , वायरस और परजीवियों से बचाना। 
मैनेजमेंट प्रिंसिपल एंड प्रैक्टिसेज  अनुशासन की प्रक्रिया जिसमें प्लानिंग, ओर्गनाइज़िंग, स्टाफिंग, लीडिंग और कंट्रोलिंग सिखाई जाती है। 
होटल इकोनॉमिक्स एंड स्टैटिस्टिक्स  आर्थिक सिद्धांतों का इस्तमाल कर हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री को एनालाइज़ करना। 
हॉस्पिटैलिटी लॉ  ये एक लीगल और सोशल प्रैक्टिस है जिसमें एक व्यक्ति के गेस्ट के साथ सही बर्ताव की शिक्षा दी जाती है। 
ट्रेवल एंड टूरिज़्म मैनेजमेंट  टूर डेस्टिनेशंस का अध्ययन,टूर प्लानिंग, ट्रेवल से जुड़ी सभी अरेंजमेंट्स और आवास प्रदान करने तक को मैनेज करना शामिल है। 
ऑर्गनाइज़ेशनल बिहेवियर  संगठनों में मानव व्यवहार को समझना और उस बारे में पढ़ना। 
एंटरप्रेन्योरशिप डेवलपमेंट  टूरिस्ट एरिया में आर्थिक विकास का लेखा जोखा रखना 
असोमोडेशन्स मैनेजमेंट  मानव संसाधन, बजट,और इन्वेंट्री का लेखा जोखा रखना। 
मार्केटिंग ऑफ़ हॉस्पिटैलिटी सर्विसेज़  प्रोडक्ट और सर्विस को प्रमोट करने के लिए मार्केटिंग स्ट्रैटेजीज़ बनाना जिससे रिवेन्यू बढ़ाया जा सकता है। 

यह भी पढ़ें : होटल मैनेजमेंट सब्जेक्ट्स 

प्रसिद्ध होटल मैनेजमेंट कोर्सेज़ 

होटल मैनेजमेंट में डिप्लोमा, बैचलर और मास्टर लेवल पर होने वाले कोर्सेज़ की लिस्ट निम्नलिखित है-

यह भी पढ़ें : 12 वीं के बाद होटल मैनेजमेंट कोर्सेज 

टॉप फॉरेन यूनिवर्सिटीज़

होटल मैनेजमेंट के लिए टॉप विदेशी कॉलेजों और यूनिवर्सिटीज़ की लिस्ट नीचे दी गई है:

विश्वविद्यालय  देश 
EHL  स्विट्ज़रलैंड 
यूनिवर्सिटी ऑफ़ नेवादा  USA 
गलियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ हायर एडुकेशन  स्विट्ज़रलैंड
द होन्ग कोंग पॉलिटेक्निक यूनिवर्सिटी  होन्ग कोंग 
होटल स्कूल, द हेग  नीदरलैंड्स 
होटल मैनेजमेंट स्कूल  स्विट्ज़रलैंड 
यूनिवर्सिटी ऑफ़ सरे  UK 
ऑक्सफ़ोर्ड ब्रुक्स यूनिवर्सिटी  UK 
बोर्नमथ यूनिवर्सिटी  UK 
कोर्नेल यूनिवर्सिटी  USA 
टेलर्स यूनिवर्सिटी  मलेशिया 

यह भी पढ़ें : कनाडा में होटल मैनेजमेंट कोर्स 

टॉप इंडियन कॉलेज

भारत के कुछ प्रसिद्ध होटल मैनेजमेंट कराने वाले कॉलेजों की लिस्ट इस प्रकार है-

  • इंस्टीट्यूट ऑफ़ होटल मैनेजमेंट, केटरिंग एंड न्यूट्रिशन, नई दिल्ली 
  • इंस्टीट्यूट ऑफ़ होटल मैनेजमेंट, बैंगलोर 
  • इंस्टीट्यूट ऑफ़ होटल मैनेजमेंट, केटरिंग टेक्नोलॉजी एंड नुट्रिशन, मुंबई 
  • बनारसीदास चंडीवाला इंस्टीट्यूट ऑफ़ होटल मैनेजमेंट एंड केटरिंग टेक्नोलॉजी, नई दिल्ली 
  • डॉ अंबेडकर इंस्टीट्यूट ऑफ़ होटल मैनेजमेंट एंड न्यूट्रिशन, चंडीगढ़ 
  • आर्मी इंस्टीट्यूट ऑफ़ होटल मैनेजमेंट एंड केटरिंग टेक्नोलॉजी, बैंगलोर 
  • क्राइस्ट यूनिवर्सिटी, बैंगलोर 
  • DV पाटिल यूनिवर्सिटी, नवी मुंबई 

योग्यता 

हालांकि होटल मैनेजमेंट के लिए योग्यता होटल मैनेजमेंट के प्रोग्राम और यूनिवर्सिटी के आधार पर ही बताई जा सकती है। सामान्य तौर पर जिन योग्यताओं के मापदंड पर आंकलन किया जाता है वे नीचे मेंशन की गयी है। किसी भी प्रोग्राम के लिए अप्लाई करने से पहले इन्हे ज़रूर रखें ध्यान में-

  • अंडरग्रेजुएट कोर्स के लिए : कैंडिडेट की 10+2 किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड द्वारा किसी भी स्ट्रीम से पास होना अनिवार्य है। 
  • पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स के लिए : किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से बैचलर डिग्री, जिसमें प्रोग्राम के लिए आवश्यक मिनिमम मार्क्स होना अनिवार्य है। 
  • अगर आप विदेश में जाकर होटल मैनेजमेंट में पढ़ाई का सोच रहे हैं तो आपके लैंग्वेज प्रोफिशिएन्सी टेस्ट के स्कोर भी मायने रखते हैं। जिसमें IELTS, TOEFL आदि शामिल हैं। 
  • स्टेटमेंट ऑफ़ पर्पस (SOP) सबमिट करना होगा। 
  • कुछ इंस्टीट्यूट लेटर ऑफ़ रिकमेंडेशन (LORs) की भी मांग कर सकते है।

आवेदन प्रक्रिया 

होटल मैनेजमेंट में एडमिशन के लिए निम्नलिखित स्टेप्स को फॉलो करना आवश्यक है। यह एप्लीकेशन प्रोसेस आपको आपके मनचाहे कॉलेज में एडमिशन दिलाने के लिए महत्वपूर्ण है-

  • पहले होटल मैनेजमेंट से जुड़े सभी कोर्सेज को जानें और अपने लिए एक बेहतर विकल्प चुनें। 
  • उसके बाद कौनसे कॉलेज आपका चुना कोर्स उपलब्ध कराती हैं पता लगाएं। 
  • ध्यान से कोर्स और कॉलेज के लिए दी गई योग्यता को पढ़ें।
  • होटल मैनेजमेंट के लिए देने वाले एंट्रेंस एग्ज़ाम्स का पता लगाएं और आपके कॉलेज द्वारा स्वीकार किया जाने योग्य एग्ज़ाम चुनें। ध्यान रखें कुछ कॉलेजों द्वारा एंट्रेंस एग्जाम के बिना भी आपकी एप्लीकेशन स्वीकार कर लेती है।
  • एंट्रेंस एग्ज़ाम के लिए योग्यता और तारीख का ध्यान रखें। अगर आप योग्य हों तो एग्जाम के लिए रजिस्टर कर दें। 
  • एग्जाम दें और रिजल्ट आने का इंतज़ार करें। 
  • रिजल्ट आने के बाद, काउंसिलिंग के लिए रजिस्टर करें और प्रोसेस फॉलो करें। 
  • अपने चुनें गए कॉलेज और कोर्स को काउंसिलिंग में सेलेक्ट करें। 
  • रजिस्टर करें और दस्तावेज़ जमा कराएं। 

विदेश की आवेदन प्रक्रिया

विदेश के विश्वविद्यालयों में आवेदन करने वाले अंतरराष्ट्रीय छात्रों को अपनी आवेदन प्रक्रिया का ख़ास ध्यान रखना होगा, नीचे दिए गए चरणों को ध्यान से पढ़ें-

  • कोर्सेज और विश्वविद्यालय को शॉर्टलिस्ट करें: आवेदन प्रक्रिया में पहला स्टेप शैक्षणिक प्रोफ़ाइल के अनुसार पाठ्यक्रमों और विश्वविद्यालयों को शॉर्टलिस्ट करना है। छात्र AI Course Finder के माध्यम से पाठ्यक्रमों और विश्वविद्यालयों को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं और उन यूनिवर्सिटीज़  की एक लिस्ट तैयार कर सकते हैं, जहां उन्हें अप्लाई करना सही लगता है।
  • अपनी समय सीमा जानें: अगला कदम विदेश में उन विश्वविद्यालयों और कॉलेजों की समय सीमा जानना है, जिनमें आप आवेदन करने की योजना बना रहे हैं। अंतरराष्ट्रीय छात्रों को आवेदन प्रक्रिया के लिए काफी पहले (वास्तविक समय सीमा से एक वर्ष से 6 महीने पहले) ध्यान देना होता है। यह सुनिश्चित करता है कि छात्र कॉलेज की सभी आवश्यकताओं जैसे SOP, सिफारिश के पत्र, फंडिंग / छात्रवृत्ति विकल्प और आवास को पूरा कर सकते हैं।
  • प्रवेश परीक्षा लें: विदेशी यूनिवर्सिटीज़ के लिए आवेदन प्रक्रिया के तीसरे स्टेप मे छात्रों को IELTS, TOEFL, PTE और यूनिवर्सिटी क्लिनिकल एप्टीट्यूड टेस्ट (यूसीएटी) जैसे टेस्ट देने होते हैं। इंग्लिश प्रोफिशिएंसी टेस्ट में एक नया Duolingo टेस्ट है जो छात्रों को अपने घरों से परीक्षा में बैठने की अनुमति देता है और दुनिया भर में स्वीकार किया जाता है।
  • अपने दस्तावेज़ कंप्लीट करें: अगला कदम आवेदन प्रक्रिया के लिए सभी आवश्यक दस्तावेजों और स्कोर को पूरा करके एक जगह पर एकत्र करें। इसका मतलब है कि छात्रों को अपना एसओपी लिखना शुरू कर देना चाहिए, शिक्षकों और पर्यवेक्षकों से सिफारिश के पत्र प्राप्त करना चाहिए और अपने वित्तीय विवरणों को अन्य दस्तावेजों जैसे टेस्ट स्कोरकार्ड के साथ व्यवस्थित करना चाहिए। COVID-19 महामारी के साथ, छात्रों को अपना वैक्सीन प्रमाणपत्र डाउनलोड करना होगा। 
  • अपने आवेदन करने की प्रक्रिया प्रारंभ करें: एक बार जब आपके पास सभी दस्तावेज मौजूद हों, तो छात्र सीधे या UCAS के माध्यम से आवेदन प्रक्रिया शुरू कर सकते हैं। विदेश के विश्वविद्यालयों में आवेदन करने वाले छात्र जो सीधे आवेदन स्वीकार करते हैं, वे विश्वविद्यालय की वेबसाइट के माध्यम से आवेदन करके शुरू कर सकते हैं। उन्हें कोर्सेस का चयन करना होगा, आवेदन शुल्क का भुगतान करना होगा और ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया शुरू करनी होगी।

ज़रूरी दस्तावेज़ 

होटल मैनेजमेंट के लिए अप्लाई करने के लिए छात्र को नीचे दिए गए दस्तावेज़ों की आवश्यकता होगी-

  • 10वीं और 12वीं उत्तीर्ण की मार्कशीट। 
  • स्कूल / कॉलेज छोड़ने का सर्टिफिकेट। 
  • भारतीय नागरिकता का प्रमाण जिसमें जन्म पत्री या पासपोर्ट हो सकता है। 
  • किसी मान्यता प्राप्त डॉक्टर द्वारा दिया गया ‘फिजिकल फिटनेस सर्टिफिकेट’
  • कैंडिडेट की 5 पासपोर्ट साइज़ फोटो। 
  • लैंग्वेज टेस्ट स्कोर शीट IELTS, TOEFL आदि। 
  • Statement of Purpose (SOP) जमा कराएं। 
  •  Letters of Recommendation (LORs) जमा कराएं।

एंट्रेंस एग्ज़ाम

होटल मैनेजमेंट के लिए आपको 12वीं पास करने के बाद एक एंट्रेंस एग्ज़ाम देने की आवश्यकता होती है जिससे आपकी काबिलियत का अंदाज़ा लगाया जाता है। दुनिया भर में होटल मैनेजमेंट के लिए कौनसे टेस्ट उपलब्ध है, आइए जानते हैं-

भारतीय एंट्रेंस टेस्ट्स

भारत में होने वाले एंट्रेंस एग्ज़ाम्स की लिस्ट नीचे दी गई है- 

  • AIHMCT
  • IPU CET
  • CUET
  • PUTHAT
  • BVP HM
  • GNIHM JET

करियर स्कोप 

होटल मैनेजमेंट आपको विश्व भर में नौकरियों की वाइड रेंज उपलब्ध कराता है। कोर्स के दौरान मिलने वाली इन्फॉर्मेशन और ट्रेनिंग आपको प्रोफेशनल बनाती है और भविष्य में मिलने वाली उपलब्धिओं के रास्ते खोलती है। हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री में करियर के दौरान मिलने वाली संभावनाओं की लिस्ट नीचे दी गयी है-

  • फ्रंट ऑफिस एग्जीक्यूटिव
  • होटल मैनेजर 
  • इवेंट मैनेजर 
  • शेफ
  • केबिन क्रू
  • हाउसकीपिंग मैनेजर 
  • मिक्सोलॉजिस्ट 
  • रेस्टॉरेंट मैनेजर 
  • फ्लाइट अटेंडेंट 
  • मार्केटिंग एंड सेल्स अफसर 

टॉप रिक्रूटर्स 

होटल मैनेजमेंट किए कैंडिडेट्स को नौकरी देने वाली टॉप कंपनीज़ की लिस्ट निम्नलिखित है-

  • हयात होटल्स कॉर्पोरेशन 
  • ITC होटल्स 
  • महिंद्रा होटल्स एंड रिसॉर्ट्स 
  • HLV Ltd (होटल लीला वेंचर)
  • इंटरकांटिनेंटल होटल्स ग्रुप 
  • मरिओट इंटरनेशनल इंडिया Pvt Ltd
  • रैडिसन ब्लू होटल्स 
  • शंग्री ला होटल्स एंड रिसॉर्ट्स 
  • ताज होटल्स ,रिसॉर्ट्स एंड पैलेसेज 
  • द ललित होटल्स 
  • द ओबेरॉय ग्रुप 
  • द पार्क होटल्स 
  • ओयो रूम्स 
  • ज़ोस्टल्स इंडिया 

होटल मैनेजमेंट में स्कोप 

होटल मैनेजमेंट का कोर्स आपको एक वर्सटाइल व्यक्ति बनानें में मदद करता है, जो हर कठिन परिस्थितियों में अपनी ड्यूटी जानता है और उसे संभालने की क्षमता रखता है। होटल मैनेजमेंट को चुनना एक सीढ़ी चढ़ने के बराबर ही है जो आपको ग्रोथ और सक्सेस दोनों की और ले जाती है। होटल मैनेजमेंट में करियर चुनने के बाद आप भविष्य में अपने सामने अनगिनत विकल्प देख पाएंगे। भारत की बात करें तो होटल इंडस्ट्री सरकारी और प्राइवेट दोनों सेक्टर में नौकरी उपलब्ध कराती है। होटल मैनेजमेंट सेक्टर छोटे स्केल की इंडस्ट्री से लेकर बड़ी स्केल की इंडस्ट्री तक फैली हुई है। जैसा कि आप जानते हैं कि हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री कई डिपार्टमेंट्स में बंटी हुई है जिसके कारण एक कैंडिडेट अपनी ग्रेजुएशन के बाद अपनी रुचि अनुसार एक डिपार्टमेंट को चुनकर उसमें अपना करियर बना सकता है। होटल मैनेजमेंट इंडस्ट्री में कई सेक्टर्स शामिल हैं जिनमें एक ग्रेजुएट काम कर सकता है। जिनमें से कुछ निम्नलिखित है: 

  • होटल्स 
  • रेलवेज़ 
  • रिज़ोर्ट्स 
  • हॉस्पिटल्स 
  • फारेस्ट लोजिज़ 
  • गेस्ट हाउसेस 
  • फूड एंड बेवरेज इंडस्ट्री 
  • एयरलाइन केटरिंग 
  • क्रूज़ शिप होटल मैनेजमेंट 
  • होटल एंड टूरिज़्म एस्सोसिएशन्स  
  • हॉस्पिटैलिटी सर्विसिज़ इन थे इंडियन नेवी 
  • हॉस्पिटैलिटी सर्विसेज़ इन वेरियस MNCs 

होटल मैनेजमेंट में विभिन्न प्रोफाइल्स 

एक उम्मीदवार चाहे तो अपने इंटरेस्ट अनुसार कोई भी डिपार्टमेंट में जा सकता है और काम कर सकता है। टूरिज़्म इंडस्ट्री हर साल काफी तरक्की कर रही है और अगर भारत की बात की जाए लाखों की संख्या में विदेशी भारत आकर टूरिस्ट के तौर पर भारत एक्स्प्लोर करने आते है जिससे टूरिस्म में काफी बढ़ोतरी होती है। होटल मैनेजमेंट की फील्ड में सबसे ज़्यादा प्रॉफिट कमाने जॉब रोल्स निम्लिखित हैं:

  • शेफ 
  • होटल मैनेजर 
  • इवेंट मैनेजर 
  • फ्रंट ऑफिस मैनेजर 
  • केटरिंग मैनेजर 
  • पब्लिक हाउस मैनेजर 
  • रेस्टोरेंट मैनेजर 
  • अकोमोडेशन मैनेजर 
  • हाउसकीपिंग मैनेजर 
  • कांफ्रेंस सेंटर मैनेजर 
  • फ़ास्ट फ़ूड रेस्टॉरेंट मैनेजर 

बेहतर प्रैक्टिकल नॉलेज और इंटरस्ट से छात्र होटल मैनेजमेंट के बाद अपना रास्ता खुद चुनकर बेहतर विकल्प भी चुन सकता है। इसके अलावा विदेशों में भी आपको काफी मौके मिलने के चांसेज़ हैं। जिसके लिए मेहनत और रुचि का मिश्रण आवश्यक है। 

जॉब प्रोफाइल और सैलरी पैकेज

सैलरी पैकेज या इनकम इस बात पर निर्भर करती है कि आपने एक फुल ग्रेजुएशन कोर्स किया है या किसी तरह का डिप्लोमा इसके साथ-साथ इस बात से भी आपकी सैलरी का आंकलन होता है कि आपको फील्ड में कितने वर्ष का अनुभव है या आपकी स्पेशलाइजेशन किन चीज़ो में अधिक है। एक शुरुआती सैलरी की अगर बात की जाए तो एक होटल मैनेजमेंट किए कैंडिडेट की सैलरी लगभग 15K-20K INR महीना मानी गई है। यह सैलरी कम्पनी और कैंडिडेट की क्वालिफिकेशन, स्किल्स और बाकी फैक्टर्स पर भी निर्भर करती है। एक होटल मैनेजर की सैलरी payscale के अनुसार लगभग 4 लाख मानी गई है। होटल मैनेजमेंट की कुछ मेजर जॉब्स की लिस्ट नीचे दी गई है:

होटल मैनेजमेंट में जॉब्स  सैलरी पैकेजेस (सालाना/INR)
जनरल मैनेजर  7-14 लाख 
इवेंट मैनेजर  3-6 लाख
फ्रंट ऑफिस मैनेजर  2-5 लाख 
शेफ  2-6 लाख 
बारटेंडर  1.5-4 लाख 
फ़ूड एंड बेवरेज मैनेजर 3-6 लाख
एग्जीक्यूटिव हाउसकीपर  4-9 लाख 

यह भी पढ़ें : होटल मैनेजमेंट में जॉब्स 

FAQs

होटल मैनेजमेंट के लिए क्या करना पड़ता है?

होटल मैनेजमेंट इंडस्ट्री में आप कई तरह के कोर्स करने के बाद एंट्री ले सकते हैं। जिनमें आप डिप्लोमा, ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स भी कर सकते हैं। अलग-अलग कॉलेज का एडमिशन का अपना क्राइटेरिया है लेकिन 10वीं और 12वीं में आपके कम से कम 50 प्रतिशत मार्क्स जरूर होने चाहिए। 

होटल मैनेजमेंट कोर्स कितने दिन का होता है?

होटल मैनेजमेंट का कोर्स 3-4 साल का होता है। 12वीं के बाद यह आपको कितने साल का पड़ेगा, यह निर्भर करता है की आप कौनसा फॉर्मेट चुनते हैं।

12वीं के बाद होटल मैनेजमेंट कैसे करें?

ग्रेजुएशन के बाद MSc इन होटल मैनेजमेंट, MBA इन होटल मैनेजमेंट, PG डिप्लोमा इन होटल मैनेजमेंट कोर्स होते हैं। किसी भी स्ट्रीम का स्टूडेंट यह कोर्स कर सकता है। होटल मैनेजमेंट में ग्रेजुएशन या डिप्लोमा जैसे कोर्स करने के लिए 12वीं में किसी भी स्ट्रीम में 45 से 50 फीसदी तक मार्क्स होने चाहिए।

होटल मैनेजमेंट का फॉर्म कब निकलेगा?

उम्मीदवारों को बता दें कि आवेदन प्रक्रिया 04 फरवरी 2022 से शुरू कर दी गयी है एवं आवेदन की अंतिम तिथि 03 मई 2022 निर्धारित की गयी है। उम्मीदवार तय तिथियों में ऑनलाइन आवेदन पत्र भर सकते हैं। उम्मीदवारों को आवेदन शुल्क भी 03 मई 2022 तक अनिवार्य रूप से भरना होगा।

होटल मैनेजमेंट कोर्स की फीस कितनी है?

डिप्लोमा और बैचलर लेवल के लिए होटल मैनेजमेंट की फीस INR 30,000-1 लाख तक, फिर होटल मैनेजमेंट में मास्टर्स डिग्री के कोर्स के लिए औसतन फीस INR 45,000-1.20 लाख तक और उसके बाद डॉक्टरेट लेवल के कोर्स के लिए फीस INR 50,000-2 लाख तक भी जा सकती है।

उम्मीद है आपको हमारा होटल मैनेजमेंट कोर्स सब्जेक्ट्स पर ब्लॉग पसंद आया होगा। यदि आप विदेश में पढ़ना चाहते है तो हमारे Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800 572 000 पर कांटेक्ट कर आज ही 30 मिनट्स का फ्री सेशन बुक करें। 

प्रातिक्रिया दे

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today. Hotel Management
Talk to an expert