कैसे करें डुओलिंगो इंग्लिश परीक्षा की तैयारी?

1 minute read
1.8K views
Duolingo English Test ki Taiyari

जब से महामारी शुरू हुई है दुनिया भर के बच्चों को विदेश में पढ़ने वाले अपने सपनों और आकांक्षाओं को पाने के लिए थोड़ा संघर्ष करना पड़ रहा था। इसके कारण कई छात्र प्रवेश परीक्षाएं नहीं दे पा रहे थे। वहीं डुओलिंगो ने कम ही समय में इस समस्या का जवाब दे दिया है। वैसे डुओलिंगो वर्ष 2012 में ही आ गया था, परंतु महामारी और क्वारंटाइन के नियमों ने इसे लोकप्रिय कर दिया और छात्रों के सपनों के लिए नए द्वार के रूप मे खुल ग़या। क्या आप जनना चाहते हैं Duolingo English Test ki Taiyari कैसे करें? हम आपको Duolingo English Test ki Taiyari से जुड़ी हर एक जानकारी इस ब्लॉग में दे रहे हैं। 

डुओलिंगो इंग्लिश टेस्ट क्या है? 

डुओलिंगो इंग्लिश टेस्ट एक ऑनलाइन परीक्षा है जिसे आप अपने पर्सनल कंप्यूटर पर दे सकते हैं। डुओलिंगो इंग्लिश टेस्ट उनके लिए है जो अपनी अंग्रेजी भाषा में सक्षमता को प्रमाणित करना चाहते हैं। जिसका परीक्षण कभी भी कहीं से भी ऑनलाइन लिया जा सकती है। य़ह टेस्ट TOEFL, IELTS और PTE की परीक्षा के समान माना जाता है। डुओलिंगो इंग्लिश टेस्ट आपकी अंग्रेजी भाषा में पढ़ने, लिखने, सुनने और बोलने के कौशल का परीक्षण करता है। 

डुओलिंगो इंग्लिश टेस्ट की स्वीकृति कितनी है? 

छात्र विदेश में पढ़ाई तो करना चाहते हैं, पर जब से कोरोना शुरू हुआ है TOEFL, IELTS और PTE की परीक्षा नहीं हो पा रही है। जिससे कई छात्रों को विदेश में पढ़ाई करने के सपनों को उड़ान भरने में मुश्किल हो रही है। इसी दुविधा को दूर करने के लिए डुओलिंगो इंग्लिश टेस्ट को एक विकल्प के रूप में चुना गया। डुओलिंगो इंग्लिश टेस्ट की प्रामाणिक अंकों को कई देशों के विश्वविद्यालयों में स्वीकार किया जाता है। यहाँ Duolingo English Test ki Taiyari के लिए University की सूची दी गयी है:

देश यूनिवर्सिटीज
यूनाइटेड किंगडम एंग्लिया रस्किन विश्वविद्यालय
-बांगोर विश्वविद्यालय
-ब्रिस्टल विश्वविद्यालय
-ब्रुनेल विश्वविद्यालय
-ग्लासगो विश्वविद्यालय
-बर्मिंघम विश्वविद्यालय
क्वीन्स यूनिवर्सिटी बेलफ़ास्ट
-ब्रुनेल विश्वविद्यालय
-मिडलसेक्स विश्वविद्यालय
-स्टर्लिंग विश्वविद्यालय
-प्लायमाउथ विश्वविद्यालय
-हर्टफोर्डशायर विश्वविद्यालय
-लीड्स बेकेट विश्वविद्यालय
अमेरिका नार्थ अलबामा विश्वविद्यालय
एरिजोना राज्य विश्वविद्यालय
-अर्कांसासी विश्वविद्यालय
-कैलिफोर्निया प्रौद्योगिकी संस्थान
-कैलिफोर्निया स्टेट यूनिवर्सिटी नॉर्थ्रिज
-हम्बोल्ट स्टेट यूनिवर्सिटी
-येल विश्वविद्यालय
ब्रिजपोर्ट विश्वविद्यालय
-फ्लोरिडा अटलांटिक विश्वविद्यालय
-जॉर्जिया स्टेट यूनिवर्सिटी
-इडाहो विश्वविद्यालय
-लिलिनॉइस इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी
-करनेगी मेलों विश्वविद्याल
कनाडा अल्गोमा विश्वविद्यालय
-केप ब्रेटन विश्वविद्यालय
-कॉनकॉर्डिया विश्वविद्यालय
-कैलगरी विश्वविद्यालय
-अल्बर्टा विश्वविद्यालय
-थॉम्पसन रिवर्स विश्वविद्यालय
-न्यू ब्रंसविक विश्वविद्यालय – सेंट जॉन
-विंडसोर विश्वविद्यालय
-यॉर्कविले विश्वविद्यालय टोरंटो
-रेजिना विश्वविद्यालय
जर्मनी -बार्ड कॉलेज बर्लिन
-एप्लाइड साइंसेज के बर्लिन अंतर्राष्ट्रीय विश्वविद्यालय
-एप्लाइड साइंसेज के ब्रांड विश्वविद्यालय
-आईयू इंटरनेशनेल होच्स्चुले
-जैकब्स विश्वविद्यालय ब्रेमेन
-शिलर इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी, हीडलबर्ग कैंपस
-एप्लाइड साइंसेज विश्वविद्यालय यूरोप जर्मनी
-विक्टोरिया इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ एप्लाइड साइंसेज
-Accadis Hochschule Bad Homburg
-फ्रेडरिक-अलेक्जेंडर-यूनिवर्सिटीएट एर्लांगेन-नूर्नबर्ग
-हर्टी स्कूल जर्मनी होचस्चुले फर्टवांगेन विश्वविद्यालय
-IUBH फ़र्नस्टूडियम
-जैकब्स विश्वविद्यालय ब्रेमेन
-टेक्नीश यूनिवर्सिटी बर्लिन
ऑस्ट्रेलिया ऑस्ट्रेलियाई राष्ट्रीय विश्वविद्यालय
-करनेगी मेलों विश्वविद्याल
-ग्रिफ़िथ विश्वविद्यालय
-एड एस्ट्रा संस्थान
-जेएमसी अकादमी
-कपलान बिजनेस स्कूल
-मेलबर्न इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी
मोनाश कॉलेज
न्यूज़ीलैंड मैसी विश्वविद्यालय
ओटागो विश्वविद्यालय
वाइकाटो विश्वविद्यालय
विक्टोरिया यूनिवर्सिटी ऑफ वेलिंगटन
न्यूजीलैंड इंस्टीट्यूट ऑफ स्टडीज
यूरोप -यूरोपीय नेतृत्व विश्वविद्यालय साइप्रस
-मध्य यूरोपीय विश्वविद्यालय – स्नातक प्रवेश, हंगरी
-एप्लाइड साइंस विश्वविद्यालय, यूरोप
-यूरोपीय नेतृत्व विश्वविद्यालय, नीदरलैंड
जापान -दोशीशा विश्वविद्यालय
-लिबरल आर्ट्स इंस्टिट्यूट
-इंटरनेशनल कॉलेज ऑफ लिबरल आर्ट्स (iCLA)
-यामानाशी गाकुइन विश्वविद्यालय
-कंसाई गदाई विश्वविद्यालय
-उन्नत विज्ञान के क्योटो विश्वविद्यालय
-नागोया विश्वविद्यालय
-जापान रित्सुमीकन एशिया पैसिफिक यूनिवर्सिटी (एपीयू)
-जापान रित्सुमीकन यूनिवर्सिटी
-जापान मंदिर विश्वविद्यालय
-टोक्यो क्रिश्चियन यूनिवर्सिटी
-टोक्यो इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी
-टोक्यो मेट्रोपॉलिटन यूनिवर्सिटी
-आइज़ू विश्वविद्यालय
-त्सुकुबास विश्वविद्यालय
-वासेदा यूनिवर्सिटी – स्कूल ऑफ इंटरनेशनल लिबरल स्टडीज

फॉर्मेट और पैटर्न क्या है?

Duolingo English Test ki Taiyari करने से पहले इस परीक्षा के बारे में थोड़ी जानकारी जो आपको आपकी तैयारी में मददगार साबित होगी। Duolingo द्वारा प्रस्तुत परीक्षण एक अडेप्टिव टेस्टिंग है, जिसका अर्थ है कि परीक्षा में जितने अधिक सही उत्तर आप देंगे वह परीक्षा और अधिक कठिन होती जाती है। इस परीक्षा मे अंग्रेजी भाषा के विभिन्न पहलुओं को मापते हैं, जैसे-

  1. वाक्यों में से अधूरे अक्षरों को पूरा करना
  2. गलत शब्दों से सही अंग्रेजी शब्दों का पता लगाना
  3. उम्मीदवार जो वीडियो सुनते हैं उसे टाइप करना
  4. एक तस्वीर का वर्णन

इसके बाद, उम्मीदवारों Duolingo English Test ki Taiyari के वक़्त एक वीडियो साक्षात्कार लेने की आवश्यकता होती है। जिसमें उन्हें दो टॉपिक दिए जाते हैं। उन दो विषयों में से किसी एक पर आप बोल सकते हैं और यही प्रक्रिया लेखन के साथ भी होती है। परीक्षा पूरी होने के 2 दिनों के भीतर आपका प्रमाण 10-160 अंकों के बीच के आधार पर आता है ।

डुओलिंगो का सिलेबस

डुओलिंगो का सिलेबस नीचे दिया गया है-

  • लिटरेसी: पढ़ने और लिखने की क्षमता
  • कॉम्प्रिहेंशन: सुनने और पढ़ने की क्षमता
  • कन्वर्सेशन: बोलने और सुनने की क्षमता
  • प्रोडक्शन: लिखने और बोलने की क्षमता

यह परीक्षा केवल 60 मिनट के लिए होती है। इसमें दो टेस्ट होते हैं जैसे अडैप्टिव टेस्ट (45 मिनट) और एक वीडियो इंटरव्यू (10 मिनट)। परीक्षा की तैयारी में आपकी सहायता के लिए यहां कुछ सैंपल प्रश्न और एक संभावित सिलेबस दिया गया है:

  • बोले गए शब्दों को सुनें फिर ओरिजिनल शब्दों का चयन करने के लिए आगे बढ़ें।
  • लिखित शब्दों का एनालिसिस करना और ओरिजिनल शब्दों का चयन करना।
  • वह टेक्स्ट भरें जिसमें अक्षर छूट गए हों।
  • लिखकर या जोर से पढ़कर एक छवि का चित्रण (इलस्ट्रेट) करें।
  • लिखित वाक्य कहते हुए रिकॉर्ड करें।
  • वर्बल रूप से एक प्रश्न का उत्तर देना।
  • सुनते हुए एक वाक्य टाइप करना।
  • लगभग 50 शब्दों का उत्तर लिखना।
  • दिए गए विषय पर एक लेखन परीक्षा।
  • इंटरव्यू टेस्ट के लिए एक स्पीकिंग असाइनमेंट।

सवाल किस प्रकार के होते हैं? 

जैसे कि डुओलिंगो इंग्लिश टेस्ट उन बच्चों के लिए तैयार किया ग़या है। जिन्हें विदेश में पढ़ाई करने के लिए अंग्रेजी में अपनी योग्यता का प्रमाण देना होता है। आइए जानते हैं कि इस परीक्षा में किस प्रकार के सवाल शामिल होते हैं और आपको किन-किन प्रश्नों के लिए तैयार होना पड़ेगा-

  • गुम अक्षर:– इस प्रकार के प्रश्नो मे आपकी पढ़ने की क्षमता को परखा जाता है और आपको बिखेरे हुए प्रश्न दिए जाते हैं जिसमें कुछ शब्द नहीं होते हैं या कुछ वाक्य गलत होते हैं जिन्हें आपको पूरा या सही करने के लिए पूछा जाता है 
  • हाँ/नहीं शब्दावली:– इस प्रकार के प्रश्नो मे आपसे सिर्फ हाँ या ना मे उतर मांगा जाता है और यह प्रश्न किसी भी रूप में हो सकते हैं। 
  • डिक्टेशन:– इस प्रश्न में आपको आपके कंप्युटर में कुछ वाक्यों को दोहराया जाता है, जिन्हें सुनकर आपको अपने कंप्युटर में टाइप करना होता है इस लेवल में आपकी सुनने की क्षमता को परखा जाता है 
  • साफ़-साफ़ बोलना:– इसका मतलब है आपको दिए गए विषय पर अंग्रेजी के जोर-जोर और लगतार साफ़-साफ़ बोलना होता है जितने जोर से बोलेंगे उतना ही आपका उतर सही माना जाएगा। 
  • विस्तारित बोलना:– यह प्रश्न आपकी स्पीकिंग स्किल्स को मापदण्ड करके आपके बोलने की क्षमता में कितने उत्तीर्ण हो, उसके अंक आपको दिए जाते हैं 
  • विस्तारित लेखन:– आपको इस लेवल में 4-5 तस्वीरें दी जाती है और उन चित्रों पर लिखने के लिए कहा जाता है इसके लिए परीक्षार्थियों को भाषा ज्ञान के अलावा लेखन का अधिक विवेकपूर्ण ज्ञान का प्रदर्शन करने की आवश्यकता होती है।

डुओलिंगो इंग्लिश टेस्ट की प्रक्रिया 

किसी भी परीक्षा में भाग लेने के लिए उनके कुछ मापदंड और नियम निर्धारित किए जाते हैं। डुओलिंगो इंग्लिश टेस्ट एक ऑनलाइन परीक्षा है तो इसके लिए किसी भी छात्र को परीक्षा में भाग लेने के उनके पास एक अच्छा इंटरनेट और कंप्यूटर होना आवश्यक हैं। छात्र को डुओलिंगो द्वारा बनाए गए ऐप या उनकी आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर परीक्षा के लिए रजिस्टर करना होता है और INR 3610 परीक्षा फीस के रूप में भरना होता है। एक बार फीस और रजिस्ट्रेशन होने के बाद आप अपनी सुविधा अनुसार परीक्षा दे सकते हैं। 

डुओलिंगो इंग्लिश टेस्ट कितने अंकों का होता है? 

डुओलिंगो इंग्लिश टेस्ट के अंक को 10-160 अंकों के बीच में दिया जाता है और इन अंकों को भी उनकी गुणवत्ता के रूप अलग-अलग लेवल पर विभाजित किया ग़या है, जो इस प्रकार दिए गए हैं-

  • 120-160 के बीच अगर आपको इस परीक्षा में आपको अंक मिलते हैं। तो इसका मतलब आप अंग्रेजी भाषा को अच्छे से समझ, लिख, बोल और आपकी अंग्रेजी भाषा अच्छी पकड़ है। 
  • 90-115 इस अंक का मतलब है आप अंग्रेजी भाषा बोल, समझ और बिखरी हुई भाषा को आसानी से समझ सकते हैं।
  • 60-85 आप अंग्रेजी में लिख और बोल सकते हैं पर आपके अंदर एक झिझक होती है। जिसके कारण आप फ्लो बरक़रार नहीं कर पाते हैं। 
  • 10-50 अंकों का मतलब है अंग्रेजी को समझ सकते हैं, पर ठीक से लिख और बोल नहीं पाते आपको सुधारने की आवश्यकता है। 

FAQs

क्या डुओलिंगो इंग्लिश टेस्ट पर भरोसा कर सकते हैं?

डुओलिंगो इंग्लिश टेस्ट पर आप भरोसा कर सकते हैं। पूरे विश्व भर 3,000 से अधिक विश्वविद्यालयों में इसको कोरोना काल के शुरू होने बाद से स्वीकार किया जाने लगा है। 

डुओलिंगो स्कोर को कैसे टेस्ट करते हैं? 

जैसे ही एक बार आपके द्वारा सारे उत्तर दे दिए जाते हैं। आपके उत्तर डुओलिंगो के शिक्षकों के पास भेज दिए जाते हैं, जो उन्हें इवेलुएट कर आपको आपके स्कोर ईमेल द्वारा भेज दिया जाता है। 

डुओलिंगो इंग्लिश टेस्ट के अंक कितने वर्षों तक वैध है? 

आपके डुओलिंगो इंग्लिश टेस्ट के अंकों को 2 साल की वैधता मिलती है जिसे आप 2 साल के भीतर किसी भी देश के विश्वविद्यालय मे प्रवेश लेने के लिए उनके समक्ष प्रस्तुत कर सकते हैं।

आशा करते हैं आपको Duolingo English Test ki Taiyari का ब्लॉग पसंद आया होगा। अगर आप विदेश में पढ़ाई करना चाहते है तो आज ही हमारे Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800 572 000 पर कॉल करके 30 मिनट का फ्री सेशन बुक कीजिए।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert