व्यवहार मनोविज्ञान क्या है?

1 minute read
16 views
10 shares
Leverage Edu Default Blog Cover

मानव व्यवहार को हम उस तरीके से आसानी से समझ सकते हैं जिस तरह से मनुष्य कार्य करता है और बातचीत करता है। मानव व्यवहार आनुवंशिक कारणों, संस्कृति और व्यक्तिगत मूल्यों और दृष्टिकोण जैसे कई कारकों से प्रभावित होता है। आज इस ब्लॉग में हम व्यवहार मनोविज्ञान (बिहेवियर साइकोलॉजी) पर चर्चा करेंगे तथा यह भी जानेंगे कि यह आपके जीवन में किस प्रकार से ज़रूरी है। तो चलिए विस्तार से जानते हैं व्यवहार मनोविज्ञान के बारे में।

डिग्री का नाम व्यवहार मनोविज्ञान (बिहेवियरल साइकोलॉजी)
बैचलर डिग्री के लिएअवधि 3 वर्ष
मास्टर डिग्री के लिए अवधि 2 वर्ष
टॉप विदेशी यूनिवर्सिटीज ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी, कैंब्रिज यूनिवर्सिटी
टॉप भारतीय यूनिवर्सिटीज जय हिंद कॉलेज, फर्गुसन कॉलेज मुंबई
जॉब प्रोफाइल बिहेवियरल स्पेशलिस्ट, बिहेवियर साइकोलॉजिस्ट, स्कूल काउंसलर

व्यवहार मनोविज्ञान क्या होता है?

व्यवहार मनोविज्ञान या फिर यह कहें कि बिहेवियर साइकोलॉजी, एक प्रकार की सिस्टमैटिक अप्रोच है जिसके माध्यम से मानव तथा अन्य जानवरों में उनके व्यवहार का आकलन किया जाता है। यह माना जाता है कि व्यवहार एक प्रकार का परिवर्तन है जो पर्यावरण के कुछ पूर्व निर्धारित उत्तेजना के युग्म या जुड़ने के द्वारा उत्पन्न होता है। 

व्यवहार मनोविज्ञान को क्यों चुने?

करियर विकल्प से लेकर आपकी व्यक्तिगत रुचि तक व्यवहार मनोविज्ञान को चुनने के कई कारण हो सकते हैं। व्यवहार मनोविज्ञान अध्ययन का एक आकर्षक क्षेत्र है। यह आपको मानव व्यवहार और मानसिक प्रक्रियाओं को समझने में मदद करेगा और आपको यह समझने में मदद करेगा कि कितना बड़ा आपको सोचना है, कार्य करना है और क्या महसूस करना होता है। अगर आप एक छात्र हैं और व्यवहार मनोविज्ञान का अध्ययन करने पर विचार कर रहे हैं तो शायद आपको यह पहले से ही पता होगा कि यह पढ़ने के लिए कितना अधिक दिलचस्प विषय है। 

व्यवहार मनोविज्ञान को चुनने के लिए महत्वपूर्ण बिंदु:

  • करियर प्रोस्पेक्ट्स : एक व्यवहार मनोविज्ञान की डिग्री 1 डिग्री है जो 1 एंपियर के द्वारा सबसे अधिक मूल्यवान है जो आपकी रीजनिंग स्किल्स और एनालिटिकल स्किल्स को बढ़ाती है। मनोविज्ञान कोर्स अविश्वसनीय रूप से लोकप्रिय साबित हुआ है क्योंकि यह ग्रेजुएट्स के लिए खुलने वाले विकल्पों की विस्तृत श्रृंखला प्रदान करते हैं। यह आपको एक बेहतर भविष्य देने के लिए भी अधिक सक्षम है। 
  • आगे की पढ़ाई : यदि आपने व्यवहार मनोविज्ञान से बीए ऑनर्स की डिग्री प्राप्त की है तथा अपनी अंडरग्रेजुएट डिग्री के पूरा होने के बाद आप अपने ग्रेजुएट ट्रेनिंग एरिया में कुछ अन्य ऑप्शंस को भी चुन सकते हैं जैसे कि ऑर्गेनाइजेशनल साइकोलॉजी, एजुकेशनल साइकोलॉजी, फॉरेंसिक साइकोलॉजी, क्लिनिकल साइकोलॉजी, काउंसलिंग साइकोलॉजी आदि। 
  • व्यवहार मनोविज्ञान आपके आसपास के व्यक्तियों को समझने में आपकी मदद करता है : भले ही एक व्यवहार मनोविज्ञान की डिग्री आपको लोगों के साथ होने वाली हर बात की पूरी समझ नहीं देती है क्योंकि यह एक जटिल कार्य है। हालांकि लोगों के मोटिवेशन, परसेप्शन और बिहेवियर के आधार पर आपको उनके बारे में अधिक जानकारी प्राप्त होगी। उससे शायद आपको यह दृष्टिकोण प्राप्त होगा कि लोग अपने तरीके से प्रतिक्रिया क्यों करते हैं और आपको थोड़ा बेहतर समझने में मदद मिलेगी। 
  • व्यवहार मनोविज्ञान स्वयं अपने आप को भी समझने में मदद करता है : जिन लोगों के समूह के साथ भी आप अधिकतर बातचीत करते हैं उनके प्रभाव और मानव व्यवहार के कई अन्य पहलुओं पर विचार करने की अंतर्दृष्टि (insight)अपने बारे में बेहतर समझने में मदद करेंगे। विद्यार्थियों को यह लगता है कि भाषा, भावना और अन्य विषयों का अध्ययन व्यवहार  (स्टडी बिहेवियर) तथा उसके के परिणाम स्वरूप उन्हें एक बेहतर कम्युनिकेटर बनने में मदद करता है। 

व्यवहार मनोविज्ञान के लिए आवश्यक स्किल्स

व्यवहार मनोविज्ञान को पढ़ने के बाद आप एक व्यवहार मनोवैज्ञानिक कहलाएंगे तथा व्यवहार में वैज्ञानिक बनने के लिए आपको कुछ आवश्यक स्किल्स की आवश्यकता हो सकती है जिनके बारे में जानकारी नीचे दी गई है:

  • कम्युनिकेशन: किसी भी क्षेत्र में कम्युनिकेशन  महत्वपूर्ण है लेकिन मनोविज्ञान के क्षेत्र में यह सर्वोपरि है एक मनोवैज्ञानिक जो कार्य करता है कम्युनिकेशन उसकी पहचान है। मनोविज्ञान मानव व्यवहार को समझने के बारे में है आपके पास विभिन्न प्रकार के ग्राहक उपलब्ध होते हैं जिनकी विभिन्न प्रकार की परिस्थितियां व समस्याएं होती है जानकारी एकत्रित करने के लिए उनके साथ संवाद (कम्युनिकेशन) स्थापित करने के तरीके को जानना बहुत ही महत्वपूर्ण है। 
  • धैर्य: आप भले ही कोई भी डिग्री प्राप्त कर लें लेकिन धैर्य एक निश्चित चीज है जिसे किसी भी डिग्री के द्वारा सिखाया नहीं जा सकता वह है धैर्य (Patience)। कई बार आपको आपके मरीजों के साथ संबंध स्थापित करना बहुत कठिन हो जाता है। इस समय धैर्य ही सबसे उपयुक्त कड़ी है। 
  • नैतिकता: यदि आप किसी ऐसे पेशे में हैं जो बताता है कि किसी भी क्षमता में लोगों की देखभाल करना है यहां नैतिकता एक आवश्यक भूमिका निभाती है। यह स्किल आपके पास होना आवश्यक है। 
  • प्रोब्लम सॉल्विंग:  स्किल्स होना भी आवश्यक है जिससे की आप किसी कार्य में उत्पन्न होने वाली समस्या का समाधान कर पाएं। 
  • रिसर्च: जब वास्तविक अभ्यास की बात आती है, तो ऐसा कुछ भी नहीं किया जाता है जिसे एविडेंस आधारित प्रैक्टिस और रिसर्च के द्वारा समझाया नहीं जा सकता।
  • आपके कार्य के प्रति सीखने कि चाह: यह एक ऐसी स्किल्स है जो आपको सदैव सीखने को प्रोत्साहित करेगी।

व्यवहार मनोवैज्ञानिक कैसे बनें?

एक व्यवहार मनोवैज्ञानिक बनने के लिए अब नीचे गए निम्न चरणों को स्टेप बाय स्टेप फॉलो कर सकते हैं। 

  • स्टेप 1 : एक व्यवहार मनोवैज्ञानिक बनने के लिए आपको सबसे पहले यह आवश्यक है कि आप अपनी 12वीं कक्षा में या तो ह्यूमैनिटीज एंड सोशल साइंस जैसे सब्जेक्ट को चुनकर अपनी डिग्री प्राप्त करें। 
  • स्टेप 2 : अपनी 12वीं कक्षा पूर्ण होने के बाद आप व्यवहार मनोविज्ञान में बैचलर डिग्री प्राप्त करने के लिए किसी यूनिवर्सिटी को चुनकर उसके लिए आवेदन कर सकते हैं। 
  • स्टेप 3 : अपनी बैचलर डिग्री प्राप्त होने के बाद आप किसी संस्था के लिए कार्य कर सकते हैं। 
  • स्टेप 4 : अपने कार्य का अनुभव प्राप्त करें, जिससे कि आपको व्यवहार मनोविज्ञान के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त हो, तथा कुछ वर्षों तक कार्य करके आप इस क्षेत्र में अपना नाम बना सकते हैं। 
  • स्टेप 5 : अपनी आगे की पढ़ाई पूर्ण करे जैसे कि मास्टर डिग्री तथा PhD आदि जिससे कि आप एक व्यवहार मनोवैज्ञानिक विशेषज्ञ बन पाएंगे। 

व्यवहार मनोविज्ञान के लिए बेस्ट विदेशी यूनिवर्सिटीज

कई सारी विदेशी यूनिवर्सिटीज है जो कि एक व्यवहार मनोवैज्ञानिक बनने के लिए विभिन्न प्रकार के कोर्सेज ऑफर करती हैं यह कोर्सेज बैचलर तथा मास्टर डिग्री दोनों में ही ऑफर किए जाते हैं, उन यूनिवर्सिटीज के नाम नीचे दिए गए हैं

व्यवहार मनोविज्ञान के लिए बेस्ट भारतीय यूनिवर्सिटीज

व्यवहार मनोविज्ञान के अध्ययन के लिए कुछ प्रमुख भारतीय कॉलेजों के नाम नीचे दिए गए हैं:

  • दिल्ली यूनिवर्सिटी
  • बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी
  • जामिया मिलिया इस्लामिया
  • जीसस एंड मैरी कॉलेज
  • लेडी श्री राम कॉलेज फॉर वुमेन
  • जय हिंद कॉलेज मुंबई
  • इंद्रप्रस्थ कॉलेज फॉर वुमेन
  • फर्ग्युसन कॉलेज पुणे
  • मीठीबाई कॉलेज मुंबई
  • क्रिस्ट यूनिवर्सिटी

योग्यता

विदेश के शीर्ष विश्वविद्यालयों से व्यवहार मनोविज्ञान कोर्स करने के लिए, आपको कुछ पात्रता शर्तों को पूरा करना होगा। हालांकि योग्यता मानदंड एक विश्वविद्यालय से दूसरे विश्वविद्यालय में भिन्न हो सकते हैं, यहां कुछ सामान्य शर्तें दी हैं:

  • आवेदक का बाहरवीं में परिणाम कम से कम 50% से अधिक होना अनिवार्य हैं।
  • मास्टर्स डिग्री कोर्स के लिए जरूरी है कि उम्मीदवार ने किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय या कॉलेज से बीए इंग्लिश बैचलर्स डिग्री प्राप्त की हो।
  • मास्टर्स कोर्स में एडमिशन के लिए कुछ विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा आयोजित करते हैं इसके बाद ही आप इन कोर्सेस के लिए पात्र हो सकते हैं। विदेश की कुछ यूनिवर्सिटीज में मास्टर्स के लिए GRE स्कोर की अवश्यकता होती है।
  • साथ ही विदेश के लिए आपको ऊपर दी गई आवश्यकताओं के साथ IELTS या TOEFL स्कोर की भी आवश्यकता होती है।
  • विदेश के विश्वविद्यालयों में एडमिशन के लिए SOP, LOR, CV/रिज्यूमे  और पोर्टफोलियो  भी जमा करने होंगे।

क्या आप IELTS/TOEFL/SAT/GRE में अच्छे अंक प्राप्त करना चाहते हैं? आज ही इन टेस्ट की बेहतरीन तैयारी के लिए Leverage Live पर रजिस्टर करें और अच्छे अंक प्राप्त करें।

आवेदन प्रक्रिया

कैंडिडेट को आवदेन करने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया को पूरा करना होगा:

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप हमारे AI Course Finder की सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेजों जैसे SOP, निबंध (essay), सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टेस्ट स्कोर जैसे IELTS, TOEFL, SAT, ACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTS, TOEFL, PTE, GMAT, GRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप हमारी Leverage Live कक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्रवीज़ा और छात्रवृत्ति / छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लेटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। 

आवदेन प्रक्रिया से सम्बन्धित जानकारी और मदद के लिए Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800 572 000 पर संपर्क करें।

आवश्यक दस्तावेज

विदेशी विश्वविद्यालय में एडमिशन लेने के लिए नीचे दिए गए डॉक्यूमेंट होने आवश्यक है:

  • सभी आधिकारिक शैक्षणिक ट्रांसक्रिप्टस और ग्रेड कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • पासपोर्ट फोटोकॉपी
  • वीज़ा 
  • अपडेट किया गया रिज्यूमे (प्रोफेशनल रिज्यूमे)
  • अंग्रेजी भाषा कुशलता परीक्षा के अंक
  • LOR
  • SOP 

छात्र वीजा पाने के लिए भी हमारे Leverage Edu  विशेषज्ञ आपकी हर सम्भव मदद करेंगे।

एंट्रेंस एग्जाम्स

विदेशी यूनिवर्सिटीज में प्रवेश लेने के लिए आपको उन यूनिवर्सिटीज की प्रवेश परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन करना होगा, कुछ ऐसी परीक्षाएं भी होती हैं जो अधिकतर सभी यूनिवर्सिटियों में मान्य होती हैं जैसे कि;

  • SAT – स्कोलास्टीक एप्टीट्यूड टेस्ट
  • ACT –  अमेरिकन कॉलेज टेस्टिंग 
  • GRE –  ग्रेजुएट रिकॉर्ड एग्जामिनेशन

आवश्यक पुस्तकें

व्यवहार मनोविज्ञान से जुड़ी कुछ प्रमुख पुस्तकों के नाम नीचे दिए गए हैं जो आपके लिए उपयोगी हो सकती है। 

करियर विकल्प तथा जॉब प्रोफाइल

व्यवहार मनोवैज्ञानिक के करियर विकल्प तथा जॉब प्रोफाइल की अगर बात करें तो आपके पास इस कोर्स को करने के बाद करियर के कई सारे विकल्प उपलब्ध होते हैं। एक व्यवहार मनोवैज्ञानिक के लिए बेस्ट सैलरी वाली जॉब प्रोफाइल निम्न प्रकार हैं:

  • करेक्शनल ऑफिसर
  • बिहेवियर थैरेपिस्ट 
  • स्कूल काउंसलर 
  • मार्केट रिसर्चर 
  • मेंटल हेल्थ काउंसिलर  
  • सोशल वर्कर 
  • फैमिली थैरेपिस्ट 
  • साइकाइट्रिक नर्स 
  • बिहेवियरल साइकोलॉजिस्ट 
  • बिहेवियरल स्पेशलिस्ट

एवरेज सैलरी

Payscale.in के अनुसार इंडिया में एक व्यवहार मनोवैज्ञानिक की एवरेज सैलरी 4 से 6 लाख रूपए तक होती है। अलग-अलग जॉब प्रोफाइल के अनुसार यह सैलरी भी अलग-अलग होती है। 

FAQs

व्यवहार मनोविज्ञान में बैचलर डिग्री कोर्स करने में कितने वर्षों का समय लगता है?

व्यवहार मनोविज्ञान में अधिकतर यूनिवर्सिटीज के द्वारा 3 वर्षों कि अवधि में बैचलर डिग्री कोर्स पूरा हो जाता है।  

व्यवहार मनोविज्ञान के लिए आवश्यक स्किल्स क्या हैं?

व्यवहार मनोविज्ञान के लिए आवश्यक स्किल्स इस प्रकार हैं;
-प्रोब्लम सॉल्विंग
-एथिक्स
-रिसर्च 
-लर्निंग एबिलिटी
-धैर्य

व्यवहार मनोविज्ञान के लिए किस यूनिवर्सिटी तथा कोर्स को चुनना चाहिए?

व्यवहार मनोविज्ञान के लिए कोर्स चुनने के लिए आप हमारे AI Course Finder का उपयोग कर सकते हैं इसकी सहायता से आप बेस्ट यूनिवर्सिटी तथा उनके कोर्सेज के बारे में आसानी से पता लगा सकते हैं। 

हमें उम्मीद है कि व्यवहार मनोविज्ञान के संदर्भ में हमारा यह लोग आपको पसंद आया होगा। यदि आप भी किसी विदेशी यूनिवर्सिटी से  व्यवहार मनोविज्ञान का अध्ययन करना चाहते हैं तो आज ही 1800 572 000 पर कॉल करके हमारे Leverage Edu  के एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें। वे एक उचित मार्गदर्शन के साथ आवेदन प्रक्रिया में भी आपकी मदद करेंगे।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert