ऑर्थोडॉन्टिस्ट कैसे बनें?

1 minute read
ऑर्थोडॉन्टिस्ट

ऑर्थोडॉन्टिस्ट दंत विशेषज्ञ होते हैं, जिन्हें दंत और चेहरे से जुड़ी समस्या के निदान और उपचार में प्रशिक्षित किया जाता है। वे टेढ़े-मेढ़े दांतों को सीधा करने और जबड़ों को सही ढंग से संरेखित (अलाइन) करने के लिए उपचार विकल्पों की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करते हैं। विस्तार से जानते हैं कि ऑर्थोडॉन्टिस्ट कौन होते हैं और कैसे इस प्रोफेशन में आगे बढ़ा जा सकता है।

कोर्स का नाम ऑर्थोडॉन्टिक्स
अवधि 4 साल
एकेडमिक कैलेंडर सेमेस्टर वाइज
प्रवेश परीक्षा NEET
एलिजिबिलिटी 50% के साथ 10+2 पास होना चाहिए और NEET
कोर्स फी INR 1-10 लाख (सालाना)
एवरेज सैलेरी INR 40 हजार-1 लाख (हर महीने)
टॉप रिक्रूटिंग कंपनी हॉस्पिटल, क्लीनिक, रिसर्च इंस्टीट्यूट्स और क्लीनिक

ऑर्थोडॉन्टिस्ट कौन होते हैं?

ऑर्थोडॉन्टिस्ट चेहरे के विकास और दंत विकास विशेषज्ञ होते हैं। वे कुटिल दांतों, और खराब संरेखित जबड़े का निदान और उपचार करते हैं। ऑर्थोडॉन्टिस्ट मुख्य रूप से दांतों को सीधा करने के लिए जाने जाते हैं, वे दर्दनाक और खाने को गलत तरीके से काटने में भी सहायता कर सकते हैं, बुरी आदतों का और स्लीप एपनिया के कुछ रूपों के कारण दांतों का हिलने-डुलने जैसी समस्याओं का इलाज करते हैं। दंत चिकित्सा में पांच साल की डिग्री पूरी करने के बाद, एक ऑर्थोडॉन्टिस्ट ऑर्थोडॉन्टिक्स के क्षेत्र में विशेषज्ञ प्रशिक्षण के 5,000 घंटे (या फुल टाइम पढ़ाई के तीन साल) से गुजरता है।

ऑर्थोडॉन्टिस्ट करियर को क्यों चुनें?

ऑर्थोडॉन्टिस्ट करियर को क्यों चुनें इसके प्रमुख कारण नीचे दिए गए हैं-

  • यह कोर्स डेंटिस्ट्री की एक ब्रांच है। इस कोर्स में, कोई भी मुंह के स्वास्थ्य की स्थिति, जैसे दांत, मसूड़े, मुंह की समस्या और निदान, उपचार, रोकथाम के बारे में जान सकता है। 
  • छात्र जो अपना बीडीएस पूरी कर चुके हैं, वे कॉलेज या निजी क्षेत्रों से दी जाने वाली इंटर्नशिप का लाभ उठा सकते हैं, जो उन्हें INR 15-35 हजार महीने के बीच कमाने में मदद करेगा।
  • ऑर्थोडॉन्टिस्ट एक दंत विशेषज्ञ हैं जिन्होंने ऑर्थोडोंटिक्स, चेहरे की वृद्धि, और विकास, जीव विज्ञान और बायोमैकेनिक्स में फुलटाइम विश्वविद्यालय प्रशिक्षण के अतिरिक्त तीन साल का प्रशिक्षण पूरा किया होता है। वे एक सामान्य दंत चिकित्सा डिग्री + विशेषज्ञ ऑर्थोडॉन्टिक डिग्री रखते हैं। 
  • 5 मान्यता प्राप्त ऑस्ट्रेलियाई विश्वविद्यालयों में हर साल केवल 3-4 ऑर्थोडॉन्टिस्ट प्रशिक्षित होते हैं और इन प्रशिक्षण कार्यक्रमों में केवल सर्वश्रेष्ठ दंत चिकित्सकों का चयन किया जाता है।

ऑर्थोडॉन्टिस्ट बनने के लिए स्किल्स

ऑर्थोडॉन्टिस्ट बनने के लिए स्किल्स नीचे दी गई हैं-

  • स्ट्रांग एनालिटिकल स्किल्स
  • इंटरपर्सनल स्किल
  • प्रॉपर डायग्नोस्टिक स्किल
  • मरीजों के साथ अच्छे से बातचीत करना
  • टीमवर्क
  • डेंटल अटैंटिव
  • हेल्पफुल
  • गुड रिसर्च स्किल
  • टेक्निकल स्किल

ऑर्थोडॉन्टिस्ट बनने के लिए सिलेबस

सिलेबस इस प्रकार है:

सेमेस्टर 1

  • ऑर्थोडोंटिक्स का परिचय
  • परिभाषाएँ
  • उद्देश्य
  • ऑर्थोडोंटिक्स का दायरा

सेमेस्टर 2

  • समावेशन अवधारणा
  • सामान्य रोड़ा का विकास
  • डेंटल एनाटॉमी, एम्ब्रियोलॉजी और ओरल हिस्ट्री
  • ओरो-चेहरे की वृद्धि और विकास

सेमेस्टर 3

  • ऑर्थोडोंटिक्स के वर्गीकरण और संशोधन
  • वयस्क ऑर्थोडोंटिक्स
  • मैलोक्लूजन
  • एटियलजि
  • दंत चिकित्सा सामग्री

सेमेस्टर 4

  • ऑर्थोडोंटिक निदान
  • नैदानिक परीक्षा
  • ऑर्थोडोंटिक्स में बायोमटेरियल
  • मॉडल विश्लेषण
  • नैदानिक सहायता

सेमेस्टर 5

  • प्रिवेंटिव ऑर्थोडोंटिक्स
  • सर्जिकल ऑर्थोडोंटिक्स
  • इंटरसेप्टिव ऑर्थोडॉन्टिक्स
  • बुनियादी अवधारणाएं और उपचार योजना

सेमेस्टर 6

  • पब्लिक हेल्थ डेंटिस्ट्री
  • ऑर्थोडोंटिक्स में निष्कर्षण
  • मैकेनिक्स ऑफ ऑर्थोडॉन्टिक्स
  • अंतरिक्ष अनुरक्षक और पुनरावर्तक

सेमेस्टर 7

  • टूथ मूवमेंट
  • एंकरेज
  • मायो – कार्यात्मक उपकरण
  • आर्थोपेडिक उपकरण

सेमेस्टर 8

  • पोस्ट ट्रीट
  • रिटेंशन और रिलैप्स
  • ऑर्थोडोंटिक्स में आनुवंशिकी
  • ऑर्थोडोंटिक्स में कंप्यूटर

आप AI Course Finder की मदद से अपने पसंद के कोर्स और उससे जुड़ी यूनिवर्सिटी का चयन कर सकते हैं।

महत्वपूर्ण किताबें

ऑर्थोडॉन्टिस्ट बनने के लिए महत्वपूर्ण किताबों की लिस्ट नीचे दी गई है-

  • फिलिप्स साइंस ऑफ डेंटल मैटेरियल 10 एडिशन, केनेथ जे अनुसाविस
  • फंक्शनल हिस्टोलॉजी, वेदर, बर्किट और डेनियल
  • कॉन्शियस मेडिकल साइकोलॉजी, चौधरी
  • ह्यूमन साइकोलॉजी फॉर बीडीएस स्टूडेंट, ए.के जैन

ऑर्थोडॉन्टिस्ट बनने के लिए विदेश की शीर्ष यूनिवर्सिटीज

विदेश की यूनिवर्सिटीज के नाम नीचे दिए गए हैं-

आप UniConnect के जरिए विश्व के पहले और सबसे बड़े ऑनलाइन विश्वविद्यालय मेले का हिस्सा बनने का मौका पा सकते हैं, जहाँ आप अपनी पसंद के विश्वविद्यालय के प्रतिनिधि से सीधा संपर्क कर सकेंगे।

ऑर्थोडॉन्टिस्ट बनने के लिए भारतीय यूनिवर्सिटीज

यूनिवर्सिटीज पहले साल का शुल्क (INR)
मौलाना अाजाद इंस्टीट्यूट आफ डेंटल साइंस, न्यू दिल्ली 25-30 हजार
मणिपाल कॉलेज आफ डेंटल साइंस, मणिपाल 27-28 लाख (टोटल फीस)
डॉ डी वाय पाटील विद्यापीठ, पुणे 4-5 लाख
सविता इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एंड टेक्निकल साइंस, चेन्नई  8.50 लाख
एपीएसएम इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस, मंगलौर 5-5.70 लाख
मणिपाल कॉलेज आफ डेंटल साइंस, मंगलौर 6-7 लाख
नायर हॉस्पिटल डेंटल कॉलेज, मुंबई  70-80 हजार
किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी, लखनऊ    3-4 लाख
इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस, बनारस  1.20-1.50 लाख

ऑर्थोडॉन्टिस्ट के लिए योग्यता

ऑर्थोडॉन्टिस्ट के लिए योग्यता कुछ इस प्रकार है:

सर्टिफिकेट कोर्स के लिए

  • ग्रेड 10th और 12th साइंस विषय से पास होना चाहिए।
  • न्यूनतम अंक 50% प्राप्त होने चाहिए।
  • विदेश में पढ़ने के लिए इंग्लिश लैंग्वेज टेस्ट जैसे IELTS,TOEFL के अंक

डिप्लोमा ओर पीजी डिप्लोमा के लिए

  • विज्ञान में बारहवीं कक्षा 45%-50% अंकों के से पास होना चहिए।
  • प्रवेश परीक्षा के अंक भी है जरूरी।
  • विदेश में पढ़ने के लिए इंग्लिश लैंग्वेज टेस्ट जैसे IELTS,TOEFL के अंक

यूजी के लिए

  • जिन छात्रों ने बारहवीं कक्षा में विज्ञान विषयों (भौतिकी, जीव विज्ञान, रसायन विज्ञान, गणित) के साथ 50% अंकों प्राप्त किया है, वे यूजी कोर्स के लिए योग्य है।
  • छात्रों को राष्ट्रीय और राज्य स्तरीय मेडिकल प्रवेश परीक्षा प्राधिकरण द्वारा आयोजित एक मेडिकल प्रवेश परीक्षा में अधिकतम अंक प्राप्त होना चाहिए।
  • विदेश में पढ़ने के लिए इंग्लिश लैंग्वेज टेस्ट जैसे IELTS,TOEFL के अंक भी अनिवार्य हैं।
  • GRE के अंक भी अनिवार्य हैं।

पीजी के लिए

  • एमडीएस ऑर्थोडोंटिक कोर्स में प्रवेश प्रक्रिया प्रवेश परीक्षा के माध्यम से की जाती है
  • प्रवेश परीक्षा में बैठने के लिए, आपको किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय या कॉलेज से 55% अंकों के साथ ऑर्थोडॉन्टिक पाठ्यक्रमों में बैचलर इन डेंटल सर्जरी पास करना होगा।
  • विदेश में पढ़ने के लिए इंग्लिश लैंग्वेज टेस्ट जैसे IELTS,TOEFL के अंक भी अनिवार्य हैं।
  • GMAT के अंक भी अनिवार्य हैं।

डॉक्टरेट के लिए

  • किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ऑर्थोडोंटिक्स में 55% अंकों के साथ पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए।
  • विदेश में पढ़ने के लिए इंग्लिश लैंग्वेज टेस्ट जैसे IELTS,TOEFL के अंक भी अनिवार्य हैं।

क्या आप IELTS/TOEFL/SAT/GRE में अच्छे अंक प्राप्त करना चाहते हैं? आज ही इन एग्जाम की बेहतरीन तैयारी के लिए Leverage Live पर रजिस्टर करें और अच्छे स्कोर प्राप्त करें।

ऑर्थोडॉन्टिक्स के लिए आवेदन प्रक्रिया

ऑर्थोडॉन्टिक्स की पढ़ाई करने के लिए आवेदन कैसे करें इसके बारे में बताया गया है-

  • मेडिकल कोर्स में दाखिला लेने के लिए NEET का होना अनिवार्य कर दिया गया है। इसके अलावा कट-ऑफ अंक कॉलेज से कॉलेज में अलग होते हैं।
  • आवेदक NEET में प्राप्त अंक के अनुसार कॉलेज का चुनाव कर सकते हैं। हर कॉलेज के अनुसार अलग-अलग कट ऑफ जारी किए जाते हैं जिसके आधार पर एडमिशन लिया जाता है।
  • आवेदक को आवेदन करने के लिए ऑनलाइन पोर्टल का सहारा लेना चाहिए।
  • कुछ निजी कॉलेज सीधा प्रवेश भी लेते हैं, बस इनमें कोर्स के शुल्क बहुत अधिक होते हैं।
  • आवेदक AI Course Finder की सहायता से आवेदन करने के लिए कोर्स का चुनाव कर सकते हैं।

यूके में आवेदन कैसे करें

छात्र यूके के यूनिवर्सिटी से ऑर्थोडॉन्टिक्स की पढ़ाई करने के लिए आवेदन कैसे करें यह नीचे बताया गया है-

  • यूके के विश्वविद्यालय में आवेदन करने के लिए NEET की परीक्षा अनिवार्य है
  • छात्र यूके की यूनिवर्सिटी में या तो UCAS की सहायता से या फिर यूनिवर्सिटी के वेबसाइट पर जाकर आवेदन कर सकते हैं। आवेदन प्रक्रिया को सरल बनाने के लिए आप Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800 572 000 पर संपर्क करें।
  • आवेदन करने के लिए छात्रों को पहले खुद को रजिस्टर कराना होता है। 
  • रजिस्टर पूरा होने के बाद छात्रों को लॉगइन आईडी और पासवर्ड प्राप्त होता है, जिसके माध्यम से वे लॉगइन करते हैं तो उनके सामने एप्लीकेशन फॉर्म खुल जाता है। 
  • एप्लीकेशन फॉर्म में उन्हें सभी आवश्यक सूचना को भरना होता है।
  • सारी सूचनाओं को भरने के बाद उनके सामने अगला पेज आता है जिसमें उन्हें आवश्यक दस्तावेज जोड़ने होते हैं और अंत में शुल्क के साथ फॉर्म को जमा करना होता है। 
  • आवेदक विदेश के विश्वविद्यालय में आवेदन करने के लिए Leverage Edu के विशेषज्ञों से संपर्क कर सकते हैं। वह आपकी आवेदन से लेकर वीजा आवेदन तक सहायता करेंगे। 

आवश्यक दस्तावेज़ 

आवश्यक दस्तावेजों की लिस्ट नीचे दी गई है-

प्रवेश परीक्षा

भारत में मेडिकल के क्षेत्र में सबसे प्रमुख प्रवेश परीक्षा NEET है।

  • राष्ट्रीय स्तर की परीक्षा NEET एकमात्र परीक्षा है जो भारत में बीडीएस कोर्सेज में प्रवेश के लिए आयोजित की जाती है।
  • NEET एक राष्ट्रीय स्तर की परीक्षा है जो एमबीबीएस, बीडीएस, बीएएमएस, एमडी, एमएस, एमडीएस, आदि जैसे बैचलर्स और मास्टर्स चिकित्सा पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए आयोजित की जाती है।
  • मान्यता प्राप्त डेंटल कॉलेजों में प्रवेश के लिए NEET क्वालिफाई करना महत्वपूर्ण है क्योंकि यह देश भर में आयोजित किया जाता है।

करियर स्कोप

दंत चिकित्सा महाविद्यालयों में सीटें बढ़ रही हैं जिससे नए क्षेत्र खुल रहे हैं और दंत चिकित्सकों के रूप में ऑर्थोडॉन्टिस्ट के रोजगार में वृद्धि हुई है। नीचे पॉइंट के जरिए आपको और भी कुछ बातें बताया जा रहा है-

  • शहरी से अर्ध-शहरी क्षेत्रों में ऑर्थोडॉन्टिस्ट की मांग बढ़ रही है, जो एक कारण साबित हो सकता है इस क्षेत्र में करियर बनाने के लिए।
  • ऑर्थोडॉन्टिस्ट देश से बाहर जा रहे हैं और वास्तव में, विदेशों में अच्छी कमाई के साथ-साथ पैकेज भी वास्तव में अच्छा है।
  • ऑर्थोडॉन्टिस्ट का अभ्यास करने के अलावा छात्र उच्च डिग्री के लिए भी जा सकते हैं और रिसर्च, शिक्षण, कॉस्मेटोलॉजी आदि जैसे अन्य क्षेत्रों में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

जॉब और सैलरी

ऑर्थोडॉन्टिस्ट की यूके में सालाना एवरेज सैलरी GBP 96,441 (INR 96.44 लाख) और अमेरिका में USD 2.20 लाख (INR 1.65 करोड़) होती है। Glassdoor के अनुसार भारत में एक ऑर्थोडॉन्टिस्ट की सालाना एवरेज सैलरी  नीचे दी गई है-

जॉब  औसत सैलेरी (INR/सालाना)
डेंटिस्ट 3-4 लाख
रिसर्च  3-4 लाख
लेक्चरर  7-7.7 लाख
डेंटिस्ट इन इंडियन रेलवे 8-9 लाख

FAQs

क्या पीजी डिप्लोमा कोर्स करियर के लिए कैसा ऑप्शन है?

हां। लेकिन पीजी डिप्लोमा कोर्स की तुलना में बैचलर डिग्री बेहतर है। लेकिन, अगर छात्र जल्द ही नौकरी पाना चाहते हैं, तो छात्र पीजी डिप्लोमा कोर्स चुन सकते हैं।

ऑर्थोडॉन्टिस्ट इम्प्लांट्स करते हैं?

जी हाँ, ऑर्थोडॉन्टिस्ट इम्प्लांट्स करते हैं।

क्या एमबीबीएस बीडीएस से बेहतर है?

बीडीएस एमबीबीएस के बाद दूसरा सबसे अधिक चुना जाने वाला स्नातक पाठ्यक्रम है। एमबीबीएस मूल रूप से बैचलर ऑफ मेडिसिन बैचलर ऑफ सर्जरी है। जिसे डेंटल में रुचि है वह बीडीएस कर सकता है और जो मेडिसिन और सर्जरी का डॉक्टर बनना चाहता है वह एमबीबीएस कर सकता है।

आशा करते हैं कि आपको ऑर्थोडॉन्टिस्ट से जुड़ी सारी जानकारी प्राप्त हो गई होगी। यदि आप विदेश में डेंटल कोर्सेज करना चाहते हैं तो आप Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800 572 000 पर कॉल कर आज ही 30 मिनट का फ्री सेशन बुक कीजिए।

प्रातिक्रिया दे

Required fields are marked *

*

*