आयुर्वेदिक डॉक्टर कैसे बने

Rating:
2.3
(3)
आयुर्वेदिक डॉक्टर कैसे बने

अगर आप BAMS Kya Hai है के बारे में नहीं जानते तो BAMS ‘बैचलर ऑफ आयुर्वेद मेडिसिन एंड सर्जरी’ की डिग्री होती है यह साढ़े पांच वर्ष की डिग्री होती है जिसमें 1 वर्ष की इंटर्नशिप भी शामिल होती है। जिसे 12वीं कक्षा के बाद किया जाता है। भारत में आयुर्वेद को सर्वाधिक महत्त्व दिया जाता है। आज हम आपको Ayurvedic Doctor कैसे बने इसकी पूरी जानकारी देंगे। यहाँ पर हम आपको बीएएमएस कोर्स से जुड़ी हर जानकारी देंगे। जिससे कि आप इस फील्ड में आसानी से करियर बना सकेंगे। इस ब्लॉग के जरिए जानते हैं कि Ayurvedic Doctor कैसे बने।

Check Out: डॉक्टर कैसे बने?

कोर्स BAMS
फुल फॉर्म Bachelor Of Ayurvedic Medicine & Surgery
अवधि 5 साल 6 महीने
जॉब प्रोफाइल Therapist
Product Manager
Medical Representative
Work in Nursing Home
सैलरी 50,000/-

आयुर्वेद क्या है ?

आयुर्वेद भारत की एक प्राचीन चिकित्सा पद्धति है जिसके जरिए बड़े से बड़ा रोग भी कुछ ही दिनों में जड़ी – बूंटियों के द्वारा सही किया जाता है। Ayurvedic Doctor कैसे बने के इस ब्लॉग में आयुर्वेद शब्द आयु: + वेद  से मिलकर बना है जिसका शाब्दिक अर्थ है “जीवन से संबन्धित ज्ञान” यह भारतीय आयुर्विज्ञान है। आयुर्विज्ञान, विज्ञान की वह शाखा है जिसका सम्बन्ध मानव शरीर को निरोग रखने, रोग हो जाने पर रोग से मुक्त करने अथवा उसका शमन करने तथा आयु बढ़ाने से है।

Ayurvedic Doctor कैसे बने में आयुर्वेद में वात, पित्त, कफ के असंतुलन को रोग का कारण मानते हैं। इसी प्रकार सम्पूर्ण आयुर्वैदिक चिकित्सा के आठ अंग माने गए हैं (अष्टांग वैद्यक), ये आठ अंग ये हैं- कायचिकित्सा, शल्यतन्त्र, शालक्यतन्त्र, कौमारभृत्य, अगदतन्त्र, भूतविद्या, रसायनतन्त्र और वाजीकरण। “धन्वन्तरि आयुर्वेद के देवता हैं। वे विष्णु के अवतार माने जाते हैं”

BAMS करने के फायदे क्या है?

  • यदि आप BAMS Course करते है तो इससे आपको मुख्य तरह के फ़ायदे होंगे जो आपको आगे जानने को मिलेंगे। 
  • BAMS करके आयुर्वेदिक डॉक्टर बनने के बाद आपको बहुत ही शानदार Salary Provide की जाती है।
  • आप चाहे तो अपना खुद का भी Ayurvedic Medical खोल सकते है।
  • किसी आयुर्वेदिक Clinic में Junior Doctor के रूप में काम कर सकते है।
  • यह क्षेत्र ऐसा होता है जिसमें Research का भी बहुत काम होता है इसलिए यह Course करके Research से भी जुड़ सकते है।
  • अगर आप आयुर्वेदिक डॉक्टर बन जाते है तो इससे आपकी Life Style ही पूरी तरह से Change हो जाएगी और Society में भी एक अलग ही पहचान बन जाती है।
  • ऐसे और भी फायदे है जो BAMS करने के बाद आयुर्वेदिक डॉक्टर बनने पर होते है।
  • यह तो थे BAMS करने के फायदे जो आपको BAMS Course करने के बाद मिलते है।

BAMS Course क्या है?

बीएमएस आयुर्वेदिक चिकित्सा में स्नातक डिग्री पाठ्यक्रम है।आयुर्वेदिक डॉक्टर कैसे बने इसके लिए इस कोर्स के बाद आप आयुर्वेदिक डॉक्टर या आयुष डॉक्टर बन सकते हैं। Bams course  आयुर्वेद में एक प्रमाणित पाठ्यक्रम है, जो आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज के लिए दी जाने वाली एक Bachelor’s degree है। देश में इस कोर्स को सेंट्रल काउंसिल ऑफ इंडियन मेडिसिन से मान्यता प्राप्त है।

BAMS 12वीं के बाद साढ़े 5 साल तक चलता है, जिसमें एक साल की इंटर्नशिप भी शामिल है. यह कोर्स फिजियोलॉजी, एनाटॉमी, टॉक्सिकोलॉजी, फार्माकोलॉजी, डायग्नोसिस और बीमारियों की रोकथाम, नाक, आंख, गले की दवा, दवा के सिद्धांत, फोरेंसिक मेडिसिन आदि सिखाता है। भारत में शुरू से ही दुनिया भर के छात्रों का झुकाव इस पाठ्यक्रम की ओर रहा है, जो बहुत पहले से भारत में सबसे लोकप्रिय और व्यापक आयुर्वेद था।

आयुर्वेदिक डॉक्टर कैसे बने?

आयुर्वेदिक डॉक्टर के बारे में वैसे तो काफी कम लोगों को ही पता होता हैं। लेकिन प्राचीन काल में आयुर्वेदिक डॉक्टर की काफी ज्यादा भूमिका थी। प्राचीन काल के दौरान आयुर्वेदिक डॉक्टर पेड़-पौधों की जड़ी – बूटियों से बनी दवाओं का प्रयोग करके लोगों का इलाज करते थे। अब जमाना बदल गया है। अब बहुत कम ही लोग इस आयुर्वेदिक डॉक्टर बनते हैं। लेकिन आज भी भारत में ऐसे कई लोग है जिनका आयुवेद पर पूरा भरोसा है और वे अपनी बीमारी का इलाज आज भी आयुर्वेदिक दावाओं के प्रयोग से करते हैं। इसके अलावा कई लोगों का ये भी मानना है कि एलोपैथिक दवाओं के बढ़ते दुष्प्रभाव से बचने के लिए आयुर्वेदिक डॉक्टर से इलाज कराते हैं। आयुर्वेदिक डॉक्टर आयुर्वेदिक दवाइयों का प्रयोग करते है जिनका कोई भी साइड इफेक्ट नहीं होता है। इससे लोगों के शरीर पर कोई भी दुष्प्रभाव नही पड़ता है।

आयुर्वेदिक डॉक्टर बनने के लिए योग्यता

आयुर्वेदिक डॉक्टर बनने के लिए आपको बीएएमएस की डिग्री प्राप्त करनी होगी। तब जाकर आपको इसकी उपाधि मिलेगी। BAMS full form होता है Bachelor Of Ayurvedic Medicine & Surgery। यह कोर्स कुल 5 साल 6 महीने का होता है। बीएएमएस की कुल अवधि 1 साल की इंटर्नशिप के साथ-साथ साढ़े 5 साल की होती है। जो छात्र इस कोर्स में एडमिशन लेना चाहते हैं, उनके लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता Physics, Chemistry and Biology के साथ 12वीं पास होना चाहिए। कई प्रवेश परीक्षाओं के माध्यम से इस कोर्स में दाखिले की योग्यता बनती है। एमबीबीएस कर चुके छात्र भी आयुर्वेद में Postgraduate course में रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं।

RMP डॉक्टर कैसे बनते हैं

भारत में RMP डॉक्टर यानी “Registered Medical Practitioner Doctor”बनने के लिए डॉक्टरी में आपकी कुछ वर्षों का काम का अनुभव होना चाहिए। वहीं अगर बात की जाएं की आऱएमपी डॉक्टर बनने की शुरूआत कैसे हुई तो इंडियन मेडिकल काउंसिल (संशोधन) अधिनियम 1956 के अनुसार, बैचलर ऑफ मेडिसिन एंड बैचलर ऑफ सर्जरी (एमबीबीएस) एक पंजीकृत मेडिकल प्रैक्टिशनर (आरएमपी) बनने के लिए बुनियादी योग्यता मानी जाती है। RMP Doctor के रूप में रजिस्ट्रेशन करने के लिए, आपके पास एलोपैथिक, यूनानी, होम्योपैथी या आयुर्वेदिक संबंधित चिकित्सा पद्धति में आवश्यक योग्यता होनी चाहिए। यदि किसी व्यक्ति के पास यह आवश्यक योग्यता है तो वह इसके लिए मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया में RMP डॉक्टर बनने के लिए आवेदन कर सकता है।

योग्यता

अब बात करते हैं बीएमएस कोर्स को करने की योग्यता क्या होती है यदि आप ने 12th का एग्जाम पीसीबी ग्रुप यानि फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी से 50% अंको के साथ पास किया है तो आप इस कोर्स के लिए एलिजिबल है |  इस कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं | बीएमएस साढ़े पाच साल का कोर्स होता है | जिसमें 1 साल इंटर्नशिप भी शामिल रहता है | इस कोर्स को करने की मिनिमम एज 17 वर्ष होती है | तब इसमें आपको प्रवेश मिलता है | BAMS में एडमिशन के लिए आपको एंट्रेंस एग्जाम देने पड़ते हैं जो कि ऑल इंडिया लेवल पर होते हैं इन्हें पास करने के बाद आपको रैंक के हिसाब से प्रवेश मिल जाता है |

Check Out: पशु चिकित्सक कैसे बने

BAMS Course में एडमिशन कैसे होता है

बीएएमएस में एडमिशन लेने के लिए आप इंडिया लेवल का NEET (नीट) एग्जाम दे सकते हैं। इसके अलावा आप राज्य स्तर की CGET, IPU, OJEE, CET, KEAM जैसी अन्य परीक्षाएं भी दे सकते हैं। इनमें पास होने के बाद मेरिट के आधार पर बीएएमएस कोर्स में दाखिला मिलता है।

Check Out: NEET के बिना मेडिकल कोर्स (Courses Without NEET)

BAMS की प्रवेश परीक्षा का सिलेबस 12वीं पर आधारित

  • National Institute Of Ayurved Entrance Exam
  • Uttarakhand PG Medical Entrance Exam
  • Kerala State Entrance Exam
  • Common Entrance Test (CET), Karnataka
  • Ayush Entrance Exam

तो आपको यह परीक्षा पास करनी होगी जिसके बाद आप BAMS कोर्स कर सकते हैं।

BAMS Course में Admission पाने के लिए 

BAMS में प्रवेश पाने के लिए आपको इसकी तैयारी पर ध्यान देना होगा कि आप इसका अध्ययन कैसे करते हैं, तो आइए जानते हैं इसके बारे में।

  • अगर आप बिना कोचिंग के पढ़ाई करना चाहते हैं तो BAMS Ki Books लाकर सेल्फ स्टडी भी कर सकते हैं.
  • जब आप परीक्षा पास कर लेते हैं तो पूरा सिलेबस पढ़ने के लिए पर्याप्त समय नहीं होता है इसलिए आप नोट्स बनाकर पढ़ते हैं और परीक्षा में अधिक समय भी हो तो नोट्स बनाकर पढ़ना बेहतर होता है।
  • आप जो पढ़ रहे हैं उसका रिवीजन करते रहें ताकि जो आपने याद किया है उसे आप भूल न जाएं।
  • आप चाहें तो कोचिंग क्लासेज भी ज्वाइन कर सकते हैं। अगर आपके मन में कोई संशय है तो आप कोचिंग क्लासेस में जा सकते हैं और उससे छुटकारा पा सकते हैं।
  • आप डॉक्टरों के लेख ऑनलाइन भी पढ़ सकते हैं। जिससे आपको अच्छे टिप्स मिलेंगे।
  • आप इंटरनेट के माध्यम से ऑनलाइन अध्ययन कर सकते हैं। परीक्षा की तैयारी के लिए यह एक बेहतरीन तरीका है।
  • सभी विषयों के लिए एक उचित योजना बनाएं और उनका अध्ययन करें। आप चाहें तो यह भी तय कर सकते हैं कि किस विषय को कब पढ़ना है।
  • तो इस तरह आप BAMS परीक्षा की तैयारी कर सकते हैं। ये टिप्स आपको BAMS की परीक्षा देने में काफी मदद करेंगे।

Check Out:नीट (NEET) 2021

Syllabus

BHMS सिलेबस सेमेस्टर के अनुसार नीचे दिए गए है:

1st Year 2nd Year 3rd Year 4th Year
Anumanapariksha
Ayurveda Nirupana
Pratyaksha Pariksha
Dravya Vigyaniyam
Samavaya Vigyaniyam
Pariksha
Mishraka Gana
Dravya
Basic Pathology
Prabhava
Vyadhi Vigyan
Hematology
Diseases of Rasavaha Srotas
Ritucharya
Dinacharya
Janapadodhwamsa
Panchakosha Theory
Preventive Geriatrics
Garbha Vigyana
Epidemiology
Virechana Karma
Snehana
Nirjantukarana
Bāhya Snehana
Kshara and Kshara Karma
Physiotherapy
Marma

Check Out :बीडीएस टू एमबीबीएस ब्रिज कोर्स (BDS to MBBS Bridge Course)

आयुर्वेदिक कोर्स लिस्ट

पोस्टग्रेजुएशन लेवल के कोर्सेज डॉक्टोरल डिग्री लेवल के कोर्सेज
MBA – आयुर्वेद फार्मेसी
डॉक्टर ऑफ़ मेडिसिन इन आयुर्वेद (MD)
मास्टर ऑफ़ सर्जरी इन आयुर्वेद (MS)
मास्टर ऑफ़ फिलोसोफी इन आयुर्वेद सिद्धांत (MPhil)
डॉक्टर ऑफ़ फिलोसोफी इन आयुर्वेद (PhD)
आयुर्वेद की प्रमुख स्पेशलाइजेशन फ़ील्ड्स
कायाचिकित्सा – इंटरनल मेडिसिन
शल्य चिकित्सा – सर्जरी
बाल चिकित्सा – पेडियाट्रिक्स
ग्रह चिकित्सा – भूत विद्या – साइकाइट्री
उर्ध्वांग चिकित्सा – आंख, कान, नाक, गले और सिर का इलाज
अगद चिकित्सा – टॉक्सिकोलॉजी
जर चिकित्सा – रसायण – गेरेंटोरोलॉजी
वृष्य चिकित्सा – वाजीकरण – एफ्रोडीसीएक्स

BAMS के बाद क्या करें 

इस Field में बहुत Scope है, तो क्या कर सकते हैं BAMS Course के बाद जानते हैं आगे। 

  • Therapist
  • Product Manager
  • Medical Representative
  • Work in Nursing Home
  • Dispensaries
  • Research Institutes
  • On Duty Doctor
  • Work In Healthcare Community
  • Area Sales Manager
  • Sales Representative
  • Category Manager
  • Pharmacist
  • Lecturer

विश्व के शीर्ष आयुर्वेदिक संस्थान

आयुर्वेद का अध्ययन छात्रों को यह समझने में मदद करता है कि मन, शरीर और चेतना के बीच संतुलन कैसे बनाया जाए और यह आपकी जीवन शैली को कैसे प्रभावित करता है। आयुर्वेदिक उपचार एक व्यक्ति को मजबूत बनाता है और संक्रमण से परेशान होने की संभावना कम होती है। दूसरे शब्दों में, यह दवा उपचार की सर्जरी के बाद शरीर के पुनर्निर्माण में मदद करता है। आयुर्वेदिक शिक्षा न केवल भारत में बल्कि संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्रिटेन, न्यूजीलैंड जैसे कुछ देशों में प्रचलित है। दुनिया भर के विभिन्न संस्थान उन छात्रों के लिए विज्ञान आधारित आयुर्वेदिक कोर्स प्रदान करते हैं जो पारंपरिक औषधीय और चिकित्सीय विधियों में अपने ज्ञान का विस्तार करना चाहते हैं। ऐसे कोर्सेज की पेशकश करने वाले कुछ लोकप्रिय संस्थानों को नीचे सूचीबद्ध किया गया है:

  1. Ayurveda Institute of America, USA
  2. Australasian Institution of Ayurvedic Studies, New Zealand
  3. Alaska Kanyakumari Ayurveda School, USA
  4. Leicester School of Ayurveda, UK
  5. American Institute of Vedic Studies, USA
  6. Maharishi Ayurveda, Australia
  7. Sewa Academy, Germany
  8. Dr Vasant Lad’s The Ayurvedic Institute, New Mexico
  9. The Ayurvedic College of Great Britain, UK
  10. California College of Ayurveda, USA

फीस  

INR 25,000 – 3.2 lakh per annum BAMS Course की औसत फीस होती है। BAMS कोर्स की फीस का स्ट्रक्चर गवर्नमेंट और प्राइवेट कॉलेज में अलग-अलग होता है | गवर्नमेंट कॉलेज में बहुत ही कम फीस में आपका कोर्स पूरा हो जाएगा | जबकि प्राइवेट कॉलेज में एक लाख तक फीस हो सकती है यह कॉलेज के ऊपर डिपेंड करता है |

सैलरी

BAMS कोर्स करने के बाद 50000 तक आप आसानी से पा सकते हैं|  इस कोर्स को करने के बाद आप एक आयुर्वेदिक डॉक्टर बन जाते हैं | तब आपको बेहतर सैलरी मिलती है | और यदि मेडिकल ऑफिसर बन जाते हैं तब आपकी सैलरी एक लाख से अधिक कुछ दिन के अनुभव के बाद हो सकती है |

BAMS Course के लिए कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकें

नीचे हमने कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकें दी हैं जो इस पाठ्यक्रम का अध्ययन करने में आपके काम आ सकती हैं।

  1. Clinical Methods in Ayurveda – K. R. S. Murthy
  2. History of Medicine in Indian Acharya
  3. Sanskrit Ayurveda Sudha – Dr. B. L. Gaur
  4. Text Book of Pathology – William Boyds
  5. Clinical Pathology and Bacteriology – S.P. Gupta
  6. History of Indian Medicine (Part 1-3) – Dr. Girindranath Mukhopadhyay
  7. Psycho Pathology in Indian Medicine – Dr. S. P. Gupta
  8. Indian Medicine in the Classical Age Acharya
  9. Ayurvedic Human Anatomy
  10. Best Colleges And Universities In India 
  11. IMS BHU – Institute of Medical Sciences Banaras Hindu University
  12. Shree Guru Gobind Singh Tricentenary University, Gurgaon
  13. Tilak Ayurved Mahavidyalaya, Pune
  14. Patanjali Ayurved College, Haridwar
  15. State Ayurvedic college and Hospital, Lucknow
  16. K G Mittal Ayurvedic College, Mumbai.
  17. Babe Ke Ayurvedic Medical College and Hospital, Moga
  18. Shree Lakshmi Narayan Ayurvedic College, Amritsar
  19. Desh Bhagat University School of Ayurveda and Research, Gobindgarh

FAQ

BAMS डॉक्टर बनने के लिए क्या करना पड़ता है?

Ayurvedic Doctor कैसे बने – बीएएमएस कोर्स आयुर्वेद में डॉक्टर बनने के लिए आप नीट-यूजी परीक्षा के जरिए बीएएमएस कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं। यह कोर्स कई सरकारी, अर्ध-सरकारी और निजी कॉलेजों में पेश किया जाता है। इसकी कुल अवधि साढ़े पांच साल है जिसमें एक साल की इंटर्नशिप भी शामिल है।

बीएएमएस के लिए योग्यता क्या है?

अनिवार्य विषयों के रूप में भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान के साथ बीएएमएस में प्रवेश पाने के लिए न्यूनतम शैक्षणिक आवश्यकता 10 + 2 है। BAMS 2021 के पाठ्यक्रमों में प्रवेश NEET परीक्षा में उम्मीदवारों द्वारा प्राप्त अंकों के आधार पर होता है

क्या बीएएमएस एमबीबीएस के बराबर है?

एमबीबीएस बीएएमएस के बराबर नहीं है। वे अलग-अलग पाठ्यक्रम हैं। एमबीबीएस डिग्री कोर्स को आधुनिक चिकित्सा के अभ्यास के लिए स्नातक को प्रशिक्षित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। BAMS डिग्री कोर्स आयुर्वेद के अभ्यास के लिए एक स्नातक को प्रशिक्षित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

क्या BAMS के डॉक्टर असली डॉक्टर हैं?

बीएएमएस स्नातकों को महाराष्ट्र राज्य में चिकित्सा का अभ्यास करने की अनुमति दी गई है। कर्नाटक राज्य में, ग्रामीण क्षेत्रों में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में नियुक्त बीएएमएस डॉक्टर “आपात स्थिति” के मामले में आधुनिक चिकित्सा का अभ्यास कर सकते हैं।

क्या मैं NEET में 100 अंकों के साथ BAMS कर सकता हूं?

आपके अंकों के अनुसार यदि आप अखिल भारतीय कोटा के माध्यम से आवेदन करते हैं तो बीएएमएस पाठ्यक्रम के लिए सरकारी कॉलेज प्राप्त करना मुश्किल है। यदि आप अपने राज्य के कोटे से आवेदन कर रहे हैं तो सरकारी कॉलेज मिलने की संभावना है।

आशा करते हैं कि आपको Ayurvedic Doctor कैसे बने का ब्लॉग अच्छा लगा होगा। जितना हो सके अपने दोस्तों और बाकी सब को शेयर करें ताकि वह भी Ayurvedic Doctor कैसे बने इसका लाभ उठा सकें और उसकी जानकारी प्राप्त कर सके । हमारे Leverage Edu में आपको ऐसे कई प्रकार के ब्लॉग मिलेंगे जहां आप अलग-अलग विषय की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं ।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.

+91
Talk to an expert for FREE

You May Also Like

नीट के बिना Medical Courses
Read More

नीट के बिना Medical Courses

ऐसे भी कई मेडिकल और पैरामेडिकल कोर्स उपलब्ध हैं, जिनमें प्रवेश के लिए NEET की आवश्यकता नहीं होती।…
Bajar Darshan
Read More

Bajar Darshan Class 12 NCERT Solutions

बाजार दर्शन’ (Bajar Darshan) श्री जैनेंद्र कुमार द्वारा रचित एक महत्त्वपूर्ण निबंध है जिसमें गहन वैचारिकता और साहित्य…
Ras Hindi Grammar
Read More

मियाँ नसीरुद्दीन Class 11 : पाठ का सारांश, प्रश्न उत्तर, MCQ

मियाँ नसीरुद्दीन शब्दचित्र हम-हशमत नामक संग्रह से लिया गया है। इसमें खानदानी नानबाई मियाँ नसीरुद्दीन के व्यक्तित्व, रुचियों…
आर्ट्स सब्जेक्ट
Read More

आर्ट्स सब्जेक्ट

दसवीं के बाद आप कुछ रचनात्मक करना चाहते हैं तो आर्ट्स स्ट्रीम आप के लिए ही है। 11वीं…