ऑटोमेशन इंजीनियर कैसे बनें?

1 minute read
41 views
Leverage-Edu-Default-Blog

क्या आप को भी मशीनों और रोबोटों से लगाव है? क्या आपको इस बात से आश्चर्य होता है कि ये मशीनें कैसे काम करती हैं और इन्हें कैसे डिजाइन किया जाता है? क्या आप भी अपने नवीन विचारों के साथ नए जमाने की अभूतपूर्व मशीनें डेवलप करने की इच्छा रखते हैं?  यदि आपने उपरोक्त में से किसी भी प्रश्न का उत्तर सकारात्मक रूप से सोचा है, तो ऑटोमेशन इंजीनियर बनना आपके लिए एक आदर्श करियर है। ऑटोमेशन इंजीनियरिंग सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर टेक्नोलॉजीज को डिजाइन करने के दो प्रमुख डोमेन में फैला हुआ है। डिजिटल युग में ऑटोमेशन इंजीनियर का यह क्षेत्र अध्ययन का एक अनिवार्य क्षेत्र है क्योंकि हर बिज़नेस नवीन उपकरण और मशीनरी की मांग करता है जो एफिशिएंट प्रोडक्शन प्रोसेसेज को सुविधाजनक बना सके। इस ब्लॉग में हम आपको ऑटोमेशन इंजीनियर कैसे बनें? इस बारे में बताने जा रहें हैं। 

विषय का नाम ऑटोमेशन इंजिनियरिंग 
उपलब्ध कोर्सेज BE, BTech, ME, MTech आदि। 
टॉप विदेशी यूनिवर्सिटीज़  यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन, यूनिवर्सिटी ऑफ शेफील्ड, यूनिवर्सिटी ऑफ मेलबर्न, कार्नेगी मेल्लोन यूनिवर्सिटी आदि। 
टॉप भारतीय यूनिवर्सिटीज़  मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, कर्नाटकलवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी, जालंधरभारती विद्यापीठ डीम्ड यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग, पुणे महाराष्ट्र आदि। 
जॉब प्रोफाइल  ऑटोमेशन डिजाइन इंजीनियर, सॉफ्टवेयर क्यूए ऑटोमेशन इंजीनियर, सेलेनियम ऑटोमेशन इंजीनियर, क्लाउड ऑटोमेशन इंजीनियर आदि। 
टॉप रिक्रूटर्स  Yokogawa Electric, FANUC, Omron, Mitsubishi Electric आदि। 

ऑटोमेशन इंजीनियर कौन होते हैं?

एक ऑटोमेशन इंजीनियर एक स्किल्ड प्रोफेशनल होता है जो ऑटोमेटेड प्रक्रियाओं को बढ़ाने, सुव्यवस्थित करने और टेक्नोलॉजी का उपयोग करता है। वे विभिन्न टेक्निक्स को डेवलप करने, एक्जिक्यूट करने और मॉनिटरिंग करने के लिए जिम्मेदार हैं।  ये इंजीनियर विभिन्न उद्योगों में कार्यरत हैं। मैकेनिकल और कंप्यूटर के क्षेत्र ऑटोमेशन में सबसे प्रचलित वेराइटीज हैं। ऑटोमेशन दशकों से मैन्युफैक्चरिंग इंडस्ट्री की आधारशिला रहा है, लेकिन यह बिज़नेस, मेडिकल सर्विस और फाइनेंस इंडस्ट्री के लिए नया है। एक ऑटोमेशन इंजीनियर का लक्ष्य उत्पाद या सॉफ़्टवेयर डेवलप और बिज़नेस या ग्राहक सेवा प्रोसेसेज में कमियों और समस्याओं को समाप्त करना है।

ऑटोमेशन इंजीनियरिंग को क्यों चुने?

ऑटोमेशन इंजीनियरिंग को चुनने के मुख्य कारणों के बारे में नीचे बताया गया है:

  • ऑटोमेशन इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त करना भविष्य में आवश्यक साबित होगी क्योंकि भारत और विदेशों में प्रमुख कॉर्पोरेशन्स, प्रोडक्शन में मानवीय गलतियां को कम करने की कोशिश कर रहे हैं।
  • यूरोप में इंडस्ट्रियल रिवॉल्यूशन 4.0 के परिणामस्वरूप ऑटोमेशन प्रक्रिया के लिए ड्राइव में वृद्धि हुई है और इस प्रकार यह कहा जा सकता है कि ऑटोमेशन इंजीनियर के लिए जॉब मार्केट का निर्माण हुआ है।
  • डिग्री पूरी करने के बाद आप उम्मीदवार के तौर पर मास्टर डिग्री हासिल कर सकते हैं जिससे आपकी नौकरी की संभावनाओं में सुधार हो सकता है।
  • चूंकि ऑटोमेशन प्रक्रिया अभी भी इसके सबसे शुरुआती चरण में है, यह भविष्य में उम्मीदवारों के लिए रिसर्च की एक बड़ी गुंजाइश छोड़ती है।
  • सरकारी क्षेत्रों और निजी क्षेत्रों में मैकेनिकल इंजीनियरों की बढ़ती मांग ने नए ग्रेजुएट्स के लिए प्लेसमेंट की गुंजाइश बढ़ा दी है।

स्किल्स

ऑटोमेशन इंजिनियर के लिए आवश्यक स्किल्स निम्न प्रकार से हैं:

  • ऑटोमेशन और रोबोटिक्स की समझ
  • आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग की समझ
  • प्रोग्रामिंग और कोडिंग एक्सपीरियंस
  • प्रोजेक्ट मैनेजमेंट
  • Cloud और DevOps का ज्ञान
  • एनालिटिकल और प्रॉब्लम सॉल्विंग स्किल्स
  • कम्युनिकेशन और लर्निंग स्किल्स
  • कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग में एक्सपीरियंस 

ऑटोमेशन इंजीनियर कैसे बनें जानिए स्टेप बाय स्टेप गाइड

ऑटोमेशन इंजीनियर कैसे बनें यह बताने के लिए स्टेप बाय स्टेप गाइड नीचे दी गई है जिसकी सहायता से आप एक ऑटोमेशन इंजीनियर बन सकते हैं:

  • स्टेप 1: आप ऑटोमेशन इंजीनियर बनने के लिए अपने बारहवीं कक्षा में साइंस मैथमेटिक्स की डिग्री प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिए आपको अच्छे अंको से उत्तीर्ण होना होगा। 
  • स्टेप 2: अंडर ग्रेजुएट डिग्री के लिए आप किसी भी भारतीय या विदेशी यूनिवर्सिटी को चुन सकते हैं। बहुत सारी ऐसी यूनिवर्सिटीज़ है जो इस क्षेत्र में स्पेशलाइज डिग्री ऑफर करती हैं। 
  • स्टेप 3: ऑटोमेशन इंजीनियरिंग के क्षेत्र में बैचलर डिग्री प्राप्त करने के बाद में आप इंडस्ट्री में जॉब प्राप्त कर सकते हैं। या फिर इस क्षेत्र में आप किसी स्पेशल जॉब प्रोफाइल के लिए सर्टिफिकेट कोर्स कर सकते हैं। 
  • स्टेप 3: कुछ वर्षों तक अनुभव प्राप्त करने के बाद आप ऑटोमेशन मास्टर डिग्री भी प्राप्त कर सकते हैं। मास्टर डिग्री होने की वजह से आप आसानी से अपनी जॉब प्रोफाइल तथा सैलरी में सुधार कर सकते हैं।  

ऑटोमेशन इंजीनियरिंग के सब्जेक्ट्स

ऑटोमेशन इंजीनियरिंग के कोर्स के लिए आपको इस क्षेत्र के महत्वपूर्ण सब्जेक्ट्स पढ़ने होंगे जोकि नीचे दिए गए हैं:

  • प्रोग्रामिंग
  • इंजीनियरिंग सिस्टम्स
  • इंजीनियरिंग मैथमेटिक्स
  • इलेक्ट्रिकल नेटवर्क्स
  • सिस्टम्स मॉडलिंग एंड एनालिसिस
  • रोबोट ऑटोनोमी
  • कंप्यूटर विजन
  • मेक्ट्रोनिक डिजाइन
  • डिसीजन मेकिंग इन रोबोट्स
  • इंटीग्रेटेड इंटेलिजेंस
  • डाटा साइंस
  • मशीन लर्निंग
  • मैनिपुलेशन एल्गोरिथम
  • मोबाइल रोबोटिक्स
  • बायोमाकेनिक्स
  • ह्यूमनॉइड्स
  • ह्यूमन रोबोट इंटरेक्शन
  • सेंसिंग

विदेशी यूनिवर्सिटीज़

ऑटोमेशन इंजीनियरिंग के लिए कुछ महत्वपूर्ण विदेशी यूनिवर्सिटीज़ के नाम नीचे दिए गए हैं जहां से आप इस क्षेत्र में स्पेशलाइज कोर्स को पढ़ सकते हैं:

भारतीय यूनिवर्सिटीज

ऑटोमेशन इंजीनियरिंग के लिए टॉप भारतीय यूनिवर्सिटीज़ के नाम नीचे दिए गए हैं:

  • मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, कर्नाटक
  • लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी, जालंधर
  • भारती विद्यापीठ डीम्ड यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग, पुणे महाराष्ट्र
  • कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग, त्रिवेंद्रम
  • स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग यूनिवर्सिटी ऑफ पेट्रोलियम एंड एनर्जी स्टडीज, देहरादून
  • आईआईटी कानपुर
  • ओसमानिया यूनिवर्सिटी, हैदराबाद
  • डिफेंस इंस्टीट्यूट आफ एडवांस्ड टेक्नोलॉजी, पुणे
  • राजालक्ष्मी इंजीनियरिंग कॉलेज, चेन्नई
  • एनआईएमएस यूनिवर्सिटी जयपुर

योग्यता

ऑटोमेशन इंजीनियर कैसे बनें इसके जवाब में पहला कदम  योग्यता जानना है। इसके लिए विदेश के शीर्ष विश्वविद्यालयों से ऑटोमेशन इंजीनियरिंग में बैचलर डिग्री का कोर्स करने के लिए, आपको कुछ पात्रता शर्तों को पूरा करना होगा। हालांकि योग्यता मानदंड एक विश्वविद्यालय से दूसरे विश्वविद्यालय में भिन्न हो सकते हैं, यहां कुछ सामान्य शर्तें दी हैं:

  • आवेदक के बारहवीं में अच्छे अंक होने अनिवार्य हैं।
  • मास्टर्स डिग्री कोर्स के लिए ज़रूरी है कि उम्मीदवार ने किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय या कॉलेज से ऑटोमेशन इंजीनियरिंग में  बैचलर्स डिग्री प्राप्त की हो।
  • मास्टर्स कोर्स में एडमिशन के लिए कुछ विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा आयोजित करते हैं इसके बाद ही आप इन कोर्सेजके लिए एलिजिबल हो सकते हैं। विदेश की कुछ यूनिवर्सिटीज़ में मास्टर्स के लिए GRE और GMAT स्कोर की अवश्यकता होती है।
  • साथ ही विदेश के लिए आपको ऊपर दी गई आवश्यकताओं के साथ IELTS या TOEFL स्कोर की भी आवश्यकता होती है।
  • SAT, ACT जैसे डॉक्यूमेंट्स को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है।

क्या आप IELTS/TOEFL/SAT/GRE में अच्छे अंक प्राप्त करना चाहते हैं? आज ही इन टेस्ट की बेहतरीन तैयारी के लिए Leverage Live पर रजिस्टर करें और अच्छे अंक प्राप्त करें।

आवेदन प्रक्रिया विदेशी यूनिवर्सिटी के लिए

कैंडिडेट को आवदेन करने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया को पूरा करना होगा:

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप हमारे AI Course Finder की सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेजों जैसे SOP, निबंध (essay), सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टेस्ट स्कोर जैसे IELTS, TOEFL, SAT, ACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTS, TOEFL, PTE, GMAT, GRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप हमारी Leverage Live कक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीज़ा और छात्रवृत्ति / छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लेटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। 

आवदेन प्रक्रिया से सम्बन्धित जानकारी और मदद के लिए Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800 572 000 पर संपर्क करें।

भारतीय यूनिवर्सिटी के लिए आवेदन प्रक्रिया 

भारतीय यूनिवर्सिटीज़ द्वारा आवेदन प्रक्रिया नीचे मौजूद है-

  • सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  • यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  • फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  • अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  • इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  • यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

आवश्यक दस्तावेज़

आपको निम्न आवश्यक दस्तावेज़ों की आवश्यकता होगी:

छात्र वीज़ा पाने के लिए भी हमारे Leverage Edu  विशेषज्ञ आपकी हर सम्भव मदद करेंगे।

प्रवेश परीक्षा 

अलग-अलग कॉलेजों में एडमिशन प्राप्त करने के लिए प्रवेश परीक्षाएं अलग प्रकार की होती है लेकिन कुछ ऐसी सामान्य परीक्षाएं है जो अधिकतर सभी कॉलेज या यूनिवर्सिटीज़ के द्वारा मान्य होती हैं उनमें से कुछ इस प्रकार हैं: 

विदेशी प्रवेश परीक्षाएं

भारतीय प्रवेश परीक्षाएं 

  • MCAER CET
  • OUAT ET
  • ICAR AIEEA (PG)
  • CUCET
  • IPU CET 
  • KIITEE BCA
  • LUCSAT BCA
  • BU MAT
  • RUET
  • NMU UG CET
  • GSAT
  • LUCSAT
  • AIMA UGAT

लैंग्वेज रिक्वायरमेंट

आवश्यक पुस्तकें 

ऑटोमेशन इंजीनियरिंग के कोर्स को पढ़ने के लिए आवश्यक पुस्तकें नीचे दी गई है जो आपकी सहायता कर सकती है:

आवश्यक पुस्तकें  लेखक का नाम यहां से खरीदें
इंटेलिजेंट कंट्रोल सिस्टम्स विद लैब व्यू  पेड्रो प्रॉन क्रूज, फर्नांडो डी रामिरेज यहां से खरीदें
इंडस्ट्रियल ऑटोमेशन यूजिंग PLC SCADA और DCS  आरजी जमकर यहां से खरीदें
स्लाइडिंग मोड कंट्रोल इन इंजीनियरिंग विल्फ्रेड पैरुक्वेट्ट, जीन पैरी बरबोट यहां से खरीदें
असेंबली प्रोसेसेज: फिनिशिंग, पैकेजिंग एंड ऑटोमेशन रिचर्ड क्रोसन  यहां से खरीदें
ऑटोमेशन पास्ट, प्रेजेंट एंड फ्यूचर प्रसाद पटोले यहां से खरीदें

करियर स्कोप

ऑटोमेशन इंजीनियरिंग में डिग्री हासिल करने के बाद कई टॉप इंडस्ट्रीज में काम कर सकते हैं। कुछ टॉप इंडस्ट्रीज और टॉप रिक्रूटर्स की लिस्ट नीचे दी गई है:

टॉप इंडस्ट्रीज

  • लॉ एंफोर्समेंट
  • एग्रीकल्चर और फूड सर्विस
  • ट्रांसपोर्टेशन
  • मैन्युफैक्चरिंग
  • हेल्थ और मेडिसिन

टॉप रिक्रूटर्स

  • Yokogawa Electric
  • FANUC
  • Omron
  • Mitsubishi Electric
  • Honeywell Process Solutions
  • Schneider Electric
  • Rockwell Automation
  • Emerson
  • ABB
  • Siemens 

जॉब प्रोफाइल और सैलरी पैकेज

ऑटोमेशन इंजीनियरिंग कोर्स को करने के बाद में आप शुरुआत से ही अच्छी सैलरी प्राप्त कर सकते हैं। Glassdoor.in के अनुसार इस ऑटोमेशन इंजीनियर की सालाना एवरेज सैलरी पैकेज INR 6 से 12 लाख तक होता है। एक ऑटोमेशन इंजिनियर के लिए विभिन्न जॉब प्रोफाइल निम्न है:

जॉब प्रोफाइल  एवरेज सैलरी पैकेज 
ऑटोमेशन सिस्टम इंजीनियर INR 5.5 से 7 लाख
ऑटोमेशन स्पेशलिस्ट INR 8 से 10 लाख
ऑटोमेशन डिजाइन इंजीनियर INR 13 से 18 लाख
सॉफ्टवेयर क्यूए ऑटोमेशन इंजीनियर INR 8 से 10 लाख
सेलेनियम ऑटोमेशन इंजीनियर INR 6 से 8 लाख
क्लाउड ऑटोमेशन इंजीनियर INR 8 से 12 लाख
टेस्ट ऑटोमेशन इंजीनियर INR 8 से 10 लाख
एंड टू एंड ऑटोमेशन इंजीनियर INR 5 से 7 लाख

FAQs

क्या ऑटोमेशन इंजीनियरिंग का क्षेत्र इंडिया में अच्छा करियर विकल्प है?

हां, इस क्षेत्र में आपके पास इंडिया में भी कई सारे विकल्प उपलब्ध हैं। इंडिया एक बढ़ती हुई इकोनॉमी है तथा यहां आने वाले समय में मैन्युफैक्चरिंग तथा इंडस्ट्री की वजह से आपके पास कमी की कोई संभावना ही नहीं है। 

ऑटोमेशन इंजीनियरिंग बनने के लिए किस क्षेत्र में डिग्री प्राप्त करनी चाहिए?

ऑटोमेशन इंजीनियरिंग बनने के लिए लिए दो सबसे महत्वपूर्ण फील्ड है कंप्यूटर साइंस तथा मैकेनिकल इंजीनियरिंग। 

एक सफल ऑटोमेशन इंजीनियर बनने के लिए सबसे आवश्यक क्या है?

यदि आप एक सफल ऑटोमेशन इंजीनियर बनना चाहते हैं तो आपको किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से बैचलर डिग्री प्राप्त करनी ही चाहिए। इसके लिए आप किसी भी अच्छी भारतीय या विदेशी यूनिवर्सिटी में आवेदन कर सकते हैं।   

ऑटोमेशन इंजीनियर कैसे बनें?

स्टेप 1: आप ऑटोमेशन इंजीनियर बनने के लिए अपने बारहवीं कक्षा में साइंस मैथमेटिक्स की डिग्री प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिए आपको अच्छे अंको से उत्तीर्ण होना होगा। 
स्टेप 2: अंडर ग्रेजुएट डिग्री के लिए आप किसी भी भारतीय या विदेशी यूनिवर्सिटी को चुन सकते हैं। बहुत सारी ऐसी यूनिवर्सिटीज़ है जो इस क्षेत्र में स्पेशलाइज डिग्री ऑफर करती हैं। 
स्टेप 3: ऑटोमेशन इंजीनियरिंग के क्षेत्र में बैचलर डिग्री प्राप्त करने के बाद में आप इंडस्ट्री में जॉब प्राप्त कर सकते हैं। या फिर इस क्षेत्र में आप किसी स्पेशल जॉब प्रोफाइल के लिए सर्टिफिकेट कोर्स कर सकते हैं। 
स्टेप 3: कुछ वर्षों तक अनुभव प्राप्त करने के बाद आप ऑटोमेशन मास्टर डिग्री भी प्राप्त कर सकते हैं। मास्टर डिग्री होने की वजह से आप आसानी से अपनी जॉब प्रोफाइल तथा सैलरी में सुधार कर सकते हैं।  

उम्मीद है आपको ऑटोमेशन इंजीनियर कैसे बनें इस संदर्भ में हमारा यह ब्लॉग पसंद आया होगा। यदि आप भी किसी विदेशी यूनिवर्सिटी के इस क्षेत्र में पढ़ाई करना चाहते हैं तो आज ही 1800 572 000 पर कॉल करके हमारे Leverage Edu  के एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें। वे एक उचित मार्गदर्शन के साथ आवेदन प्रक्रिया में भी आपकी मदद करेंगे।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today. How-To guides
Talk to an expert