MSC इंवायरमेंटल साइंस कैसे करें?

1 minute read
169 views

रूसी उपन्यासकार लियो टॉल्स्टॉय ने एक बार कहा था, “One of the first conditions of happiness is that the link between man and nature shall not be broken” जिसका अनुवाद यह है कि “खुशी की पहली शर्तों में से एक यह है कि मनुष्य और प्रकृति के बीच की कड़ी को नहीं तोड़ा जाना चाहिए”। यह कड़ी पर्यावरण के भौतिक, जैविक और रासायनिक घटकों के बीच परस्पर क्रिया को समझकर स्थापित की जाती है। लेकिन वायु, जल और भूमि प्रदूषण अपने चरम पर होने से यह संबंध टूट गया है। इसके अलावा, तेजी से शहरीकरण और प्राकृतिक संसाधनों के अत्यधिक दोहन से जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिंग में वृद्धि हुई है। इस प्रकार, पर्यावरण से संबंधित समस्याओं की पहचान, एनालिसिस और संभावित समाधान खोजने वाले प्रोफेशनल की आवश्यकता बढ़ गई है। इस दिशा में सबसे अच्छा तरीका है कि आप ग्रेजुएशन कोर्स और उसके बाद मास्टर्स डिग्री प्राप्त करना है। MSC इंवायरमेंटल साइंस सबसे पसंदीदा मास्टर डिग्री में से एक के रूप में गति प्राप्त कर रहा है। इस ब्लॉग में आप MSC इंवायरमेंटल साइंस के बारे में जानेंगे। 

कोर्स MSC इंवायरमेंटल साइंस
अवधि 2 वर्ष 
कोर्स शुल्क INR 20,000 से 3,00,000
एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया जिन उम्मीदवारों ने बीएससी (ऑनर्स)/बीएससी (10+2+3) को कम से कम 50% या उससे अधिक अंक के साथ उत्तीर्ण किया है, वे एलिजिबल हैं।
औसत वेतन INR 2 से 15 लाख प्रति वर्ष
टॉप जॉब प्रोफ़ाइल एनवायरमेंट फोटोग्राफर, रिसर्च फैलो, मैनेजर- वेस्ट मैनेजर, फॉरेस्ट कार्बन स्पेशलिस्ट, लेक्चरर या प्रोफेसर, वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर आदि। 

MSC इंवायरमेंटल साइंस क्या है? 

MSC इंवायरमेंटल साइंस 2 साल का मास्टर्स डिग्री कोर्स है जिसमें बायोलॉजी और फिजिक्स शामिल है। यह छात्रों को क्षेत्र-कार्य अनुभव प्राप्त करने के लिए एक मंच भी प्रदान करता है। MSC इंवायरमेंटल साइंस में कुछ सबसे लोकप्रिय स्पेशलाइजेशन कोर्सेज Environmental Hazards and Management, Environment and Society, Green Chemistry, Environmental Geography, Meteorology and Policy, Agro and Environmental Nematology आदि हैं। 

MSC इंवायरमेंटल साइंस क्यों करें? 

यह जानने के लिए कि MSC इंवायरमेंटल साइंस कोर्स क्यों करें नीचे दिए गए पॉइंट्स पढ़ें:

  • यह कोर्स न केवल इस क्षेत्र में छात्रों की एक मजबूत नींव बनाता है बल्कि उन्हें पर्यावरण से संबंधित मुद्दों जैसे प्रदूषण, पानी की कमी, अपशिष्ट प्रबंधन, मिट्टी के कटाव आदि से निपटने के लिए आवश्यक कौशल भी सिखाता है।
  • जलवायु परिवर्तन, ग्लोबल वार्मिंग और तेजी से शहरीकरण के साथ, अब अधिक डोमेन एक्सपर्ट्स की आवश्यकता है। इसके कारण, दुनिया भर के कई कॉलेजों ने इस क्षेत्र में डिग्री कोर्सेज की एक श्रृंखला पेश करना शुरू कर दिया है। 
  • MSC इंवायरमेंटल साइंस का कोर्स न केवल विभिन्न विषयों में गहन ज्ञान प्रदान करता है बल्कि छात्रों को आवश्यक तकनीकी कौशल भी सिखाता है जिससे इंडस्ट्री के लिए ग्रेजुएट्स तैयार होते हैं। 
  • इस कोर्स को करने के बाद आप एनवायरमेंट फोटोग्राफर, रिसर्च फैलो, मैनेजर- वेस्ट मैनेजर, फॉरेस्ट कार्बन स्पेशलिस्ट, लेक्चरर या प्रोफेसर, वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर आदि के तौर पर काम कर सकते हैं। 

स्किल्स

MSC इंवायरमेंटल साइंस के लिए छात्रों में कुछ स्किल्स का होना जरूरी है उनमें से कुछ यहां दी गई हैं:

  • रिसर्च स्किल्स
  • एनालिटिकल स्किल्स
  • प्रॉब्लम सॉल्विंग स्किल्स
  • प्रोजेक्ट डेवलपमेंट स्किल्स
  • कम्युनिकेशन स्किल्स
  • प्रोजेक्ट डेवलपमेंट
  • टीम वर्क

सिलेबस

MSC इंवायरमेंटल साइंस सामान्य सिलेबस नीचे दिया गया है, यह एक यूनिवर्सिटी से दूसरी यूनिवर्सिटी में भिन्न हो सकता है। 

सेमेस्टर I सेमेस्टर II
जियो इंवायरमेंट इंवायरमेंटल केमिस्ट्री 
इकोलॉजिकल प्रिंसिपल इंवायरमेंटल पॉल्यूशन 
इंट्रोडक्टरी फिजिक्स सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट
कन्वर्जन ऑफ़ द लाइफ सपोर्ट सिस्टम इंवायरमेंटल एनालिसिस
सेमेस्टर III सेमेस्टर IV
रीजनल ग्लोबल इंवायरमेंटल इल्यूज़ इंवायरमेंटल एनर्जी मैनेजमेंट
इंवायरमेंटल टेक्नोलॉजी इंडस्ट्रियल बायोमेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट
इंवायरमेंटल इम्पैक्ट असेसमेंट प्रोजेक्ट
इंवायरमेंटल बायोटेक्नोलॉजी सेमिनार

विदेश की टॉप यूनिवर्सिटीज़

MSC इंवायरमेंटल साइंस के लिए विदेश की टॉप यूनिवर्सिटीज़ इस प्रकार है:

भारत की टॉप यूनिवर्सिटीज़

MSC इंवायरमेंटल साइंस के लिए भारत की टॉप यूनिवर्सिटीज़ इस प्रकार है:

  • सावित्रीबाई फुले पुणे यूनिवर्सिटी
  • पंजाब यूनिवर्सिटी
  • बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी
  • श्री वेंकटेश्वर यूनिवर्सिटी
  • आचार्य नागार्जुन यूनिवर्सिटी
  • यूनिवर्सिटी ऑफ़ लखनऊ
  • सेक्रेड हार्ट कॉलेज
  • गुरु नानक देव यूनिवर्सिटी
  • एमिटी यूनिवर्सिटी 
  • फर्ग्यूसन कॉलेज 

योग्यता 

MSC इंवायरमेंटल साइंस के लिए योग्यता मानदंड इस प्रकार है-

  • उम्मीदवार के पास किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से बैचलर की डिग्री (बीएससी) या इसके समकक्ष होना चाहिए।
  • छात्र को अपनी ग्रेजुएशन की डिग्री में न्यूनतम 50% कुल अंक प्राप्त करने चाहिए। 
  • इंग्लिश प्रोफिशिएंसी टेस्ट- TOEFL, IELTS, या GRE आदि के स्कोर आवश्यक है।
  • यदि आवश्यक हो, तो उम्मीदवार को विशिष्ट संस्थान द्वारा आयोजित प्रवेश परीक्षा के लिए भी उपस्थित होना होगा।

नोट: मिनिमम परसेंटाइल क्राइटेरिया एक विश्वविद्यालय से दूसरे विश्वविद्यालय में भिन्न हो सकते हैं।

आवेदन प्रक्रिया 

विदेश के विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए आवेदन प्रक्रिया इस प्रकार है–

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप AI Course Finder की सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • एक्सपर्ट्स से कॉन्टैक्ट के पश्चात वे कॉमन डैशबोर्ड प्लेटफॉर्म के माध्यम से कई विश्वविद्यालयों की आपकी आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेजों जैसे SOP, निबंध (essay), सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टेस्ट स्कोर जैसे IELTS, TOEFL, SAT, ACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTS, TOEFL, PTE, GMAT, GRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप Leverage Live कक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीज़ा और छात्रवृत्ति / छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लेटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। 

भारत के विश्वविद्यालयों में आवेदन प्रक्रिया, इस प्रकार है–

  • सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  • यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  • फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  • अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  • इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  • यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

आवश्यक दस्तावेज़  

कुछ जरूरी दस्तावेजों की लिस्ट नीचे दी गई हैं–

प्रवेश परीक्षाएं 

कुछ यूनिवर्सिटीज़ प्रवेश परीक्षा का आयोजन करती हैं। इस कोर्स के लिए कुछ प्रवेश परीक्षाएं इस प्रकार है:

  • PUBDET
  • APU UG NET
  • UPSEE
  • TS EAMCET
  • IELTS/TOEFL/PTE (विदेश के लिए) 
  • GRE (विदेश के लिए) 

बुक्स

MSC इंवायरमेंटल साइंस के लिए कुछ बुक्स इस प्रकार है:

करियर स्कोप

MSC इंवायरमेंटल साइंस की डिग्री के बाद एक उम्मीदवार नौकरी के लिए या उच्च शिक्षा पीएचडी इंवायरमेंटल साइंस जैसे उच्च डिग्री के लिए कुछ प्रसिद्ध संस्थानों में जा सकता है। NGO’s और सरकारी एजेंसियों से लेकर प्राइवेट ऑर्गेनाइजेशन्स  तक, इंडस्ट्रीज की एक विस्तृत श्रृंखला है जो MSC इंवायरमेंटल साइंस ग्रेजुएट्स को रोजगार प्रदान करती है। प्रोफेशनल्स विभिन्न भूमिकाओं में विभिन्न प्रकार की जिम्मेदारियों को निभाते हैं। नीचे कुछ ऐसे उद्योग दिए गए हैं जिनमें MSC इंवायरमेंटल साइंस ग्रेजुएट्स काम कर सकते हैं:

  • जर्नलिज्म
  • फोटोग्राफी
  • एनिमल रिसर्च सेंटर्स
  • नेशनल जूलॉजिकल पार्क्स
  • फॉरेस्ट डिपार्टमेंट्स
  • कॉलेजेस और यूनिवर्सिटीज़
  • पॉल्यूशन कंट्रोल बॉर्डर्स
  • फूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्रीज़
  • वॉटर कंजर्वेशन डिपार्टमेंट

जॉब प्रोफ़ाइल और सैलरी

MSC इंवायरमेंटल साइंस ग्रेजुएट्स के लिए टॉप जॉब प्रोफ़ाइल और सैलरी नीचे दी गई है:

जॉब प्रोफ़ाइल अनुमानित सालाना सैलरी (Payscale के अनुसार) 
हाई स्कूल टीचर INR 1.33 लाख-7.80 लाख
इंवायरमेंटल हेल्थ & सेफ्टी (EHS) ऑफिसर INR 1.18 लाख-3.62 लाख
सेल्स एंड मार्केटिंग मैनेजर INR 3.39 लाख-10 लाख
सेफ्टी मैनेजर INR 9.23 लाख-30 लाख
रिसर्च एसोसिएट  INR 1.51 लाख-9.06 लाख
प्रोग्राम कोऑर्डिनेटर, नॉन प्रॉफिट ऑर्गेनाइजेशन INR 1.24 लाख-4.27 लाख

FAQs

MSC इंवायरमेंटल साइंस क्या है? 

MSC इंवायरमेंटल साइंस 2 साल का मास्टर्स डिग्री कोर्स है जिसमें बायोलॉजी और फिजिक्स शामिल है। यह छात्रों को क्षेत्र-कार्य अनुभव प्राप्त करने के लिए एक मंच भी प्रदान करता है। MSC इंवायरमेंटल साइंस में कुछ सबसे लोकप्रिय स्पेशलाइजेशन कोर्सेज Environmental Hazards and Management, Environment and Society, Green Chemistry, Environmental Geography, Meteorology and Policy, Agro and Environmental Nematology आदि हैं। 

MSC इंवायरमेंटल साइंस कहाँ काम कर सकते हैं? 

NGO’s और सरकारी एजेंसियों से लेकर प्राइवेट ऑर्गेनाइजेशन्स तक आप कहीं भी काम कर सकते हैं। 

MSC इंवायरमेंटल साइंस ग्रेजुएट्स किस प्रोफ़ाइल को अपने लिए तलाश सकते हैं? 

इस कोर्स को करने के बाद आप एनवायरमेंट फोटोग्राफर, रिसर्च फैलो, मैनेजर- वेस्ट मैनेजर, फॉरेस्ट कार्बन स्पेशलिस्ट, लेक्चरर या प्रोफेसर, वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर आदि के तौर पर काम कर सकते हैं।

MSC इंवायरमेंटल साइंस कितने साल का कोर्स होता है? 

यह 2 साल का कोर्स होता है। 

उम्मीद है, MSC इंवायरमेंटल साइंस के बारे में सभी जानकारियां आपको इस ब्लॉग में मिल गई होंगी। यदि आप विदेश में MSC इंवायरमेंटल साइंस की पढ़ाई करना चाहते हैं तो 1800 572 000 पर कॉल करके Leverage Edu एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन बुक कर सकते हैं। 

प्रातिक्रिया दे

Required fields are marked *

*

*

20,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert