कैसे बनें मरीन बायोलॉजिस्ट?

1 minute read
673 views
समुद्री जीवविज्ञानी

समुद्री जीवन के बारे में जानने को लगभग हर कोई उत्सुक होता है। वह जानना चाहता है कि समुद्र में जीवन कैसा होता है। वहां चीज़ें कैसे पनपती हैं, कैसे जीती हैं आदि। समुद्री जीवन के बारे में कार्य करने वाले को कहते हैं मरीन बायोलॉजिस्ट। अब आप भी जानना चाहेंगे Marine Biologist Kaise Bane, मरीन बायोलॉजिस्ट क्या होता है और वह क्या कार्य करते हैं। तो आइए, विस्तार से जानिए कि Marine Biologist Kaise Bane।

यह भी पढ़ें : जानिए फंगस की पूरी जानकारी

क्या है मरीन बायोलॉजी?

Marine Biologist Kaise Bane में मरीन बायोलॉजी का सरल भाषा में अर्थ होता है समुद्री जीव विज्ञान। यह समुद्र में रहने वाले जीव-जंतुओं का अध्ययन है। इसमें समुद्र के अंदर पाए जाने वाले पेड़-पौधों से लेकर बड़े जानवरों के आवास और जीवन पर रिसर्च की जाती है। मरीन बायोलॉजी के साथ-साथ इसमें आपको दूसरी कई चीज़ों के बारे में भी पढ़ने का मौका मिलता है।

  • बायोलॉजिकल ओशनोग्राफी
  • सेल्युलर बायोलॉजी
  • केमिस्ट्री
  • इकोलॉजी
  • जियोलॉजी
  • मॉलिक्युलर बायोलॉजी
  • मिटीयॉरोलॉजी

इस फील्ड में स्पेशलाइजेशन करने वाले लोगों को मरीन बायोलॉजिस्ट कहा जाता है। अगर आपको भी मरीन लाइफ में रुचि है, तो यह आपके लिए बढ़िया करियर ऑप्शन है।

यह भी पढ़ें : जीव विज्ञान क्या है?

क्या होता है काम?

एक आदर्श मरीन बायोलॉजिस्ट को समुद्री जीव विज्ञान का अध्ययन करना होता है। वह सिर्फ समुद्र के भीतर रहने वाले जीवों के जीवन और आवास पर ही अध्ययन नहीं करते, बल्कि समुद्र के भीतर पेड़−पौधों का भी अध्ययन करते हैं। Marine Biologist Kaise Bane में समुद्री जीव−जंतुओं व पेड़−पौधों के संरक्षण में एक अहम भूमिका निभाते हैं।

जरूर पढ़ें Science GK Quiz in Hindi

मरीन बायोलॉजिस्ट कोर्स

Marine Biologist kaise bane के लिए आप किसी विशेष स्पीशीज, ऑर्गेनिज्म, बिहेवियर, टेक्निक या इकोसिस्टम में स्पेशलाइजेशन कर सकते हैं। आजकल मरीन बायोटेक्नोलॉजी रिसर्च में स्कोप ही स्कोप है। इसमें समुद्री जीवों के रोगों और दवाइयों पर रिसर्च की जाती है। बहुत से संस्थान मरीन बायोलॉजी में विभिन्न कोर्स करवाते हैं। वैसे अगर आप चाहें तो बायोलॉजी, जूलॉजी, फिशरीज, ईकोलॉजी और एनिमल साइंस में बैचलर डिग्री प्राप्त करने के बाद कदम बढ़ा सकते हैं। तो आइए, जानते हैं कैसे आप कर सकते हैं स्कूल के बाद मरीन बायोलॉजिस्ट बनने के लिए एंट्री।

स्कूल शिक्षा ग्रेजुएशन (डिग्री कोर्स 3 वर्ष) पोस्ट graduation (2 वर्ष) पीएचडी (3-5 वर्ष)
पास क्लास 12 इन साइंस बीएससी ऑनर्स एक्वाकल्चर (Aquaculture) एमएससी इन मरीन बायोलॉजी (Marine Biology) Doctor of Philosophy (PhD) in Marine Biology
बीएससी ऑनर्स बायोलॉजिकल साइंस (Biological Sciences) एमएससी इन ओशियनोग्राफी (Oceanography)
बीएससी ऑनर्स लाइफ साइंस (Life Sciences)

यह भी पढ़ें :-रिप्रोडक्टिव सिस्टम

कैसी हों स्किल्स?

Marine Biologist Kaise Bane में एक आदर्श मरीन बायोलॉजिस्ट बनने के लिए सबसे पहले तो इस फील्ड में और समुद्री जीवन में रुचि होना जरूरी है। साथ में आपकी एनालिटिकल क्षमता अच्छी होनी चाहिए और आपमें प्रॉब्लम सॉल्व करने की क्षमता भी होनी चाहिए। आपकी ऑब्जर्वेशन स्किल्स भी अच्छी होनी चाहिए ताकि आपकी रिसर्च से अच्छे इनपुट्स आ सकें।

  • तकनीकी कौशल – यदि आप एक तकनीशियन हैं, तो प्रयोगशाला कौशल जैसे अनुक्रमण, जोखिम मूल्यांकन लिखना और मजबूत संख्यात्मकता और आईटी कौशल के साथ मानक संचालन प्रक्रियाएं जरूरी हैं।
  • जुनून – जो छात्र समुद्री पर्यावरण के बारे में भावुक हैं और जलीय जीवन में रुचि रखते हैं, वे सबसे उपयुक्त हैं। ऐसे लोग ही किसी भी वातावरण में धैर्यपूर्वक काम कर सकते हैं और फील्डवर्क में उत्कृष्टता प्राप्त कर सकते हैं।
  • अन्य सॉफ्ट स्किल्स – उत्कृष्ट संख्यात्मक और सांख्यिकीय कौशल की आवश्यकता होती है। धैर्य और अच्छे अवलोकन कौशल अनिवार्य हैं। एक टीम में काम करना और व्यक्तिगत संचार कौशल आवश्यक हैं क्योंकि समुद्री जीवविज्ञानी बहुत से लोगों के साथ व्यवहार करते हैं। जोखिम मूल्यांकन और कई अन्य दस्तावेज लिखते समय अच्छे लिखित और मौखिक कौशल उपयोगी होते हैं।
  • विश्लेषणात्मक दिमाग – डेटा का विश्लेषण और व्याख्या करने के लिए एक व्यवस्थित और विश्लेषणात्मक दिमाग होना चाहिए, जिसमें टिप्पणियों को रिकॉर्ड करने और परिणामों में सटीकता के लिए विवरण पर ध्यान दिया जाना चाहिए।

यह भी पढ़ें : एंटीऑक्सीडेंट के बारे में

योग्यता

यदि आप इस क्षेत्र में डिग्री प्राप्त करने के इच्छुक हैं, तो आपको अपने चुने हुए विश्वविद्यालय द्वारा निर्धारित योग्यताओं को पूरा करना होगा। ये आवश्यकताएं कोर्सेज के स्तर के अनुसार भिन्न होती हैं, जैसे बैचलर, मास्टर या डिप्लोमा।

  • बैचलर्स डिग्री प्रोग्राम के लिए ज़रुरी है कि उम्मीदवारों ने किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से PCB (फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी ) से 10+2 प्रथम श्रेणी से पास किया हो।
  • उम्मीदवार को अपनी 10+2 परीक्षा के दौरान न्यूनतम 55% अंक प्राप्त करने चाहिए।
  • समुद्री जीव विज्ञान पाठ्यक्रम के लिए उम्मीदवारों का चयन करने के लिए विशेष कॉलेज अपनी प्रवेश परीक्षा आयोजित करते हैं। प्रवेश परीक्षा पास करने वालों को प्रवेश दिया जाता है। वहीं कुछ कॉलेजों में कट ऑफ के आधार पर सीधे प्रवेश दिए जाते हैं।
  • मरीन बायोलॉजी में मास्टर डिग्री के लिए छात्र के पास मरीन बायोलॉजी में बैचलर्स डिग्री होनी चाहिए
  • विदेश की अधिकतर यूनिवर्सिटीज बैचलर्स के लिए SAT और मास्टर्स कोर्सेज के लिए GRE स्कोर की मांग करते हैं।
  • विदेश की यूनिवर्सिटीज में एडमिशन के लिए IELTS या TOEFL टेस्ट स्कोर, अंग्रेजी प्रोफिशिएंसी के प्रमाण के रूप में ज़रूरी होते हैं। जिसमे IELTS स्कोर 7 या उससे अधिक और TOEFL स्कोर 100 या उससे अधिक होना चाहिए।
  • विदेश यूनिवर्सिटीज में पढ़ने के लिए SOP, LOR, सीवी/रिज्यूमे और पोर्टफोलियो भी जमा करने की जरूरत होती है।

यह भी पढ़ें : मस्कुलर सिस्टम

मरीन बायोलॉजिस्ट कैसे बने स्टेप बाय स्टेप गाइड

मरीन बायोलॉजिस्ट कैसे बने इसके लिए स्टेप बाय स्टेप गाइड नीचे दी गई है:

स्टेप 1- मरीन बायोलॉजिस्ट बनने के लिए सबसे पहले अपनी 12वीं तक की स्कूली शिक्षा पूरी करें।

स्टेप 2- बैचलर्स डिग्री कोर्स में एडमिशन लेने के लिए एंट्रेंस एग्जाम पास करें।

स्टेप 3- एंट्रेंस एग्जाम की रैंक के अनुसार कॉलेज में एडमिशन ले। कुछ कॉलेज कटऑफ के आधार पर सीधे भी एडमिशन देती है।

स्टेप 4- कुछ यूनिवर्सिटीज इंटरव्यू के लिए भी बुलाती है, तो इंटरव्यू में उपस्थित हो और एडमिशन होने के बाद अपनी पढ़ाई पूरी करें।

स्टेप 5- आप इसमें मास्टर डिग्री भी कर सकते हैं और एक सफल मरीन बायोलॉजिस्ट बन सकते हैं।

मरीन बायोलॉजी के लिए एंट्रेंस एग्जाम

मरीन बायोलॉजी के लिए एंट्रेंस एग्जाम निम्नलिखित है :-

  • CSIR UGC NET
  • AIIMS PG
  • JRF
  • AURCET

यह भी पढ़ें : विटामिन क्यों जरूरी है, जानिए

विदेशी संस्थान

मरीन बायोलॉजिस्ट बनने के लिए संस्थान

                                  संस्थान लोकेशन
हार्वर्ड यूनिवर्सिटी अमेरिका
यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफ़ोर्निया, लॉस एंजिल्स अमेरिका
यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन इंग्लैंड
कोलंबिया यूनिवर्सिटी अमेरिका
यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफोर्निया, सैन डिएगो अमेरिका
ड्यूक यूनिवर्सिटी अमेरिका
ऑस्ट्रेलियन नैशनल यूनिवर्सिटी ऑस्ट्रेलिया
बोस्टन यूनिवर्सिटी अमेरिका
यूनिवर्सिटी ऑफ़ ग्लासगो स्कॉटलैंड
यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफोर्निया, डेविस अमेरिका
द यूनिवर्सिटी ऑफ़ मेलबर्न ऑस्ट्रेलिया
द यूनिवर्सिटी ऑफ़ एडिमब्रह इंग्लैंड
द यूनिवर्सिटी ऑफ़ टोक्यो जापान
यूनिवर्सिटी ऑफ़ एक्सेटर इंग्लैंड

निम्नलिखित आपको भारतीय और विदेशी संस्थानों के नाम दिए हैं, जहाँ से आप Marine Biologist Kaise Bane के बारे में अधिक जान सकेंगे।

                                              संस्थान         लोकेशन
इंडियन मेरीटाइम यूनिवर्सिटी कोयम्बटूर
सेंटर फॉर एटमोस्फियरिक साइंस दिल्ली
नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ ओशियनोग्राफी गोवा
आंध्र यूनिवर्सिटी विशाखापट्नम
यूनिवर्सिटी ऑफ़ मद्रास चेन्नई
कोचीन यूनिवर्सिटी ऑफ़ साइंस एंड टेक्नोलॉजी कोची
पांडिचेरी यूनिवर्सिटी पोंडिचेरी
गोवा यूनिवर्सिटी गोवा
अन्नामलाई यूनिवर्सिटी तमिल नाडु
बरहामपुर यूनिवर्सिटी ओड़िसा
यूनिवर्सिटी ऑफ़ कालीकट केरल
कर्नाटक यूनिवर्सिटी करवर
भारतीदासन यूनिवर्सिटी तिरुचिपल्ली

आवेदन प्रक्रिया 

विदेश के विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए आवेदन प्रक्रिया इस प्रकार है–

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप AI Course Finder की सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • एक्सपर्ट्स से कॉन्टैक्ट के पश्चात वे कॉमन डैशबोर्ड प्लेटफॉर्म के माध्यम से कई विश्वविद्यालयों की आपकी आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेजों जैसे SOP, निबंध, सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टेस्ट स्कोर जैसे IELTS, TOEFL, SAT, ACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTS, TOEFL, PTE, GMAT, GRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप Leverage Live कक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीजा और छात्रवृत्ति / छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लेटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। 

भारत के विश्वविद्यालयों में आवेदन प्रक्रिया, इस प्रकार है–

  1. सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  2. यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  3. फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  4. अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  5. इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  6. यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

आवश्यक दस्तावेज़  

कुछ जरूरी दस्तावेज़ों की लिस्ट नीचे दी गई हैं–

मरीन बायोलॉजी में करियर

कोर्स करने के बाद छात्र सरकारी नौकरी कर सकते हैं या फिर आप एन्वार्यनमेंटल लैबोरेट्रीज, वॉटर इंडस्ट्रीज, कोस्टल अथॉरिटीज के साथ जुड़कर भी काम कर सकते हैं। Marine Biologist Kaise Bane में आप निम्नलिखित करियर प्रोफाइल में से एक चुनकर उसमें करियर बना सकते हैं। नज़र डालते हैं क्या-क्या बन सकते हैं आप।

  • फिशरीज़ बायोलॉजिस्ट
  • एक्वा कल्चरिस्ट
  • नैचरल रिसोर्स मैनेजर
  • एनवायर्नमेंटल कंसल्टैंट
  • रिसर्चर
  • टीचिंग

इस फील्ड में सरकारी नौकरी की भी अच्छी संभावनाएं हैं। इसके अलावा आप एन्वायर्नमेंटल लैबोरेट्रीज, वॉटर इंडस्ट्रीज, कोस्टल अथॉरिटीज के साथ में भी काम कर सकते हैं।

कितनी होगी सैलरी?

Marine Biologist Kaise Bane में इस फील्ड में आपकी सैलरी इस बात पर निर्भर करती है कि आप कहां काम करते हैं। शुरू में आप 12,000-18,000 रुपए प्रत्येक महीने तक कमा सकते हैं, जबकि पीएचडी करने के बाद सैलरी 35,000 रुपए या उससे ज्यादा होती है, इसके बाद आपका जितना अनुभव होगा उसी आधार पर यह बढ़ती रहेगी।

नौकरी प्रोफ़ाइल औसत वेतन
मरीन बायोलॉजिस्ट रु. 5-9 लाख प्रति वर्ष (लगभग)
फिश बायोलॉजिस्ट रु. 6-8 लाख प्रति वर्ष (लगभग)
बायोलॉजिकल टेक्नीशियन रु. 5-7 लाख प्रति वर्ष (लगभग)
एक्वेटिक बायोलॉजिस्ट रु. 7-9 लाख प्रति वर्ष (लगभग)
प्रोफ़ेसर  रु. 7-10 लाख प्रति वर्ष (लगभग)
रीफरेस्टोरेशन मैनेजर रु. 6-8 लाख प्रति वर्ष (लगभग)

FAQs

एमएससी मरीन बायोलॉजी में डिग्री वाले छात्र का औसत वेतन क्या है?

यह व्यक्ति के जॉब प्रोफाइल और वर्षों के अनुभव के अनुसार बदलता रहता है। भारत में एक समुद्री जीवविज्ञानी का औसत वेतनमान वर्तमान में INR 9.00 लाख तक प्रति वर्ष होता है।

मरीन बायोलॉजिस्ट क्या है?

यह समुद्र में रहने वाले जीव-जंतुओं का अध्ययन है। इसमें समुद्र के अंदर पाए जाने वाले पेड़-पौधों से लेकर बड़े जानवरों के आवास और जीवन पर रिसर्च की जाती है। मरीन बायोलॉजी के साथ-साथ इसमें आपको दूसरी कई चीज़ों के बारे में भी पढ़ने का मौका मिलता है। इस फील्ड में स्पेशलाइजेशन करने वाले लोगों को मरीन बायोलॉजिस्ट कहा जाता है।

समुद्री जीवविज्ञानी की नौकरियां आमतौर पर कहाँ स्थित होती हैं?

एक समुद्री जीवविज्ञानी को विभिन्न स्थानों पर नियोजित किया जा सकता है, जैसे कि विश्वविद्यालय अनुसंधान प्रयोगशालाएँ, सरकारी अनुसंधान प्रयोगशालाएँ, और गैर-लाभकारी पर्यावरण वकालत संगठन, आदि।

उम्मीद है, Marine Biologist Kaise Bane के इस ब्लॉग में आपने जाना मरीन बायोलॉजिस्ट से संबंधित प्रत्येक जानकारी मिल गई होगी। यदि आप विदेश में इंजीनियरिंग की पढ़ाई करना चाहते हैं, तो हमारे Leverage Edu एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन 1800 572 000 पर कॉल कर बुक करें।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert