सिक्योरिटी ऑडिटर कैसे बनें?

1 minute read

सिक्योरिटी ऑडिटिंग आजकल प्रमुख करियर में से एक है, यह सिक्योरिटी ऑडिटरों की कमी के कारण सबसे अधिक बढ़ते क्षेत्रों में से एक है। सिक्योरिटी ऑडिटर बनने का विकल्प चुनने के कई प्रमुख कारण हैं। लेकिन सबसे मुख्य कारण यह है की कोर्स पूरा होने के बाद नौकरी के अवसरों की एक श्रृंखला मौजूद है। सिक्योरिटी ऑडिटर ऑर्गनाइजेशनल पॉलिसीज और सरकारी नियमों के आधार पर ऑडिट बनाने और एक्जिक्यूट करने के लिए जिम्मेदार हैं। यदि आप एक सिक्योरिटी ऑडिटर कैसे बने के तरीके, योग्यता आवश्यकताओं, विदेश में सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालयों और बहुत कुछ के बारे में अधिक जानना चाहते हैं यह ब्लॉग आपको इस बारे में सम्पूर्ण जानकारी प्रदान करेगा। 

सिक्योरिटी ऑडिटर कौन होते हैं?

एक सुरक्षा लेखा परीक्षक वह व्यक्ति होता है जो हार्डवेयर, लाइववेयर, नीतियों, सॉफ्टवेयर, मिडलवेयर और सुरक्षा नीति प्रणालियों के ऑडिट की प्रक्रिया सुनिश्चित करता है। इसके साथ सिक्योरिटी ऑडिटर ऑर्गनाइजेशनल पॉलिसीज और सरकारी नियमों के आधार पर ऑडिट बनाते और एक्जिक्यूट करते हैं। सुरक्षा नियंत्रणों और प्रथाओं का निरीक्षण और इवैल्यूएशन करने के लिए, सिक्योरिटी ऑडिटर आईटी पेशेवरों, प्रबंधकों और अधिकारियों के साथ में मिलकर कार्य करते हैं। इसके साथ ही सिक्योरिटी ऑडिटर फायरवॉल, एन्क्रिप्शन प्रोटोकॉल और संबंधित सुरक्षा उपायों का मूल्यांकन करते हैं। इसके लिए आपके पास कंप्यूटर सिक्योरिटी टेक्नीक्स और विधियों में विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है।

स्किल्स

सिक्योरिटी ऑडिटर कैसे बने? इसके लिए आपके पास नीचे दी गई स्किल्स होनी आवश्यक है:

  • इंटरनल ऑडिटिंग
  • ऑडिट प्लानिंग
  • इनफॉर्मेशन सिस्टम
  • रिस्क एसेसमेंट
  • इनफॉर्मेशन सिक्योरिटी
  • बिजनेस प्रोसेसेस
  • अकाउंटिंग
  • प्रॉब्लम सॉल्विंग 
  • क्रिटिकल थिंकिंग 
  • सेल्फ मोटिवेशन
  • पेमेंट्रेशन टेस्टिंग
  • पॉलिसी डेवलपमेंट
  • कम्युनिकेशन स्किल्स

सिक्योरिटी ऑडिटर का रोल और जिम्मेदारियां

सिक्योरिटी ऑडिटर का कार्य करने के लिए रोल तथा जिम्मेदारियां निम्न है:

  • सिक्योरिटी कंट्रोल और सूचना सिस्टम की स्वतंत्र या आंतरिक समीक्षा प्रदान करना 
  • साइबर सुरक्षा सुरक्षा के व्यक्तिगत घटकों की सुरक्षा और इफेक्टिवनेस का परीक्षण
  • ऑडिट प्रक्रिया का ओवरव्यू प्रदान करना
  • सिक्योरिटी ऑडिट एक्जिक्यूट करना
  • किसी भी हाल के उल्लंघनों या सिक्योरिटी चिंताओं की जांच करना
  • आंतरिक सिक्योरिटी प्रणालियों, नियंत्रणों और नीतियों का इवैल्यूएशन
  • एप्लीकेशन कानूनों और विनियमों का अनुपालन सुनिश्चित करना
  • ऑडिट परिणामों की व्याख्या करने वाली तकनीकी रिपोर्ट लिखना
  • स्टेकहोल्डर रिपोर्ट लिखना जो प्रक्रिया और सिफारिशों को समझाने के लिए सुलभ भाषा का उपयोग करते हैं

सिक्योरिटी ऑडिटर कैसे बने? (स्टेप बाय स्टेप गाइड)

सिक्योरिटी ऑडिटर कैसे बने इसके लिए आपको यहां दिए गए स्टेप्स का पालन करने की आवश्यकता है:

  • स्टेप 1: पहले स्टेप में सबसे पहले आपको अनुभव, शिक्षा, स्किल्स जैसी विभिन्न आवश्यकताओं को पूरा करना होगा। रिएलिटी में नौकरी पाने से पहले ये आवश्यकताएं आपको जॉब मार्केट में अच्छी जॉब पाने के लिए तैयार करती हैं।
  • स्टेप 2: आपको कक्षा 10+2 में फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स, सब्जेक्ट्स को मुख्य विषयों के रूप में चुनना चाहिए। अतः ये विषय चुनकर अपने अपनी बाहरावीं की पढ़ाई पूरी करें। 
  • स्टेप 3: 12वीं कक्षा पूरी करने के बाद, आपको कंप्यूटर साइंस, इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, या इन जैसे टेक्निकल विषयों से टेक्नोलॉजी में चार वर्ष का बैचलर डिग्री कोर्स करना चाहिए। प्रवेश लेने के लिए आपको विभिन्न रिप्यूटेड यूनिवर्सिटीज के द्वारा आयोजित एंट्रेंस एग्जाम्स को क्लियर करने की आवश्यकता होती है। 
  • स्टेप 4: उपरोक्त स्टेप्स को पूरा करने के बाद, अब आप इंडस्ट्री में उपलब्ध नौकरी के अवसरों के लिए तैयार हैं। हालाँकि, आप यदि चाहें तो अधिक नौकरी के अवसरों और उच्च पैकेज के लिए कंप्यूटर साइंस या इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में मास्टर कोर्स कर सकते हैं।

टॉप कोर्सेज

 सिक्योरिटी ऑडिटर कैसे बने के लिए टॉप कोर्सेज नीचे दिए गए हैं:

टॉप विदेशी यूनिवर्सिटीज

कई सारी विदेशी यूनिवर्सिटीज हैं जो कंप्यूटर साइंस, इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी या इससे जुड़े हुए कोर्स ऑफर करती है उनमें से कुछ पॉपुलर यूनिवर्सिटीज के नाम नीचे दिए गए हैं:

यूनिवर्सिटी का नाम लोकेशन
यूनिवर्सिटी ऑफ मैनचेस्टर यूके 
द यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिटिश कोलंबिया  कनाडा
यूनिवर्सिटी ऑफ अल्बर्टा कनाडा
हार्वर्ड यूनिवर्सिटी  अमेरिका
नॉर्थस्टर्न यूनिवर्सिटी अमेरिका
मेमोरियल यूनिवर्सिटी ऑफ न्यूफाउंडलैंड  यूके 
एरीजोना स्टेट यूनिवर्सिटी  अमेरिका
लुडविग मैक्सिमिलियंस यूनिवर्सिटी म्युनिक जर्मनी
यूनिवर्सिटी ऑफ ग्रीनविक  यूके 
यूनिवर्सिटी ऑफ वाटरलू कनाडा

टॉप भारतीय यूनिवर्सिटीज

सिक्योरिटी ऑडिटर कैसे बने के लिए टॉप भारतीय यूनिवर्सिटीज निम्न प्रकार से है:

  • महाराष्ट्र इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी 
  • ग्राफिक एरा यूनिवर्सिटी
  • डिब्रूगढ़ यूनिवर्सिटी
  • राजीव गांधी इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी
  • यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग, जवाहरलाल नेहरू टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी यूनिवर्सिटी काकीनाडा
  • डिपार्टमेंट ऑफ अप्लाइड जियोलॉजी- इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी
  • इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (इंडियन स्कूल ऑफ माइन्स)
  • यूनिवर्सिटी ऑफ पेट्रोलियम एंड एनर्जी स्टडीज
  • कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग अन्ना यूनिवर्सिटी 
  • जाकिर हुसैन कॉलेज ऑफ इंजिनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी 

योग्यता

विदेश के शीर्ष विश्वविद्यालयों सिक्योरिटी ऑडिटर के कोर्स को करने के लिए, आपको कुछ पात्रता शर्तों को पूरा करना होगा। हालांकि योग्यता मानदंड एक विश्वविद्यालय से दूसरे विश्वविद्यालय में भिन्न हो सकते हैं, यहां कुछ सामान्य शर्तें दी हैं:

  • आवेदक के बारहवीं में अंक कम से कम 50% से अधिक होने अनिवार्य हैं।
  • मास्टर्स डिग्री कोर्स के लिए जरूरी है कि उम्मीदवार ने किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय या कॉलेज से बैचलर्स डिग्री प्राप्त की हो।
  • मास्टर्स कोर्स में एडमिशन के लिए कुछ विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा आयोजित करते हैं इसके बाद ही आप इन कोर्सेजके लिए एलिजिबल हो सकते हैं। विदेश की कुछ यूनिवर्सिटीज़ में मास्टर्स के लिए GRE तथा GMAT स्कोर की अवश्यकता होती है।
  • साथ ही विदेश के लिए आपको ऊपर दी गई आवश्यकताओं के साथ IELTS या TOEFL स्कोर की भी आवश्यकता होती है।

क्या आप IELTS/TOEFL/SAT/GRE में अच्छे अंक प्राप्त करना चाहते हैं? आज ही इन टेस्ट की बेहतरीन तैयारी के लिए Leverage Live पर रजिस्टर करें और अच्छे अंक प्राप्त करें।

आवेदन प्रक्रिया विदेशी यूनिवर्सिटी के लिए

कैंडिडेट को आवदेन करने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया को पूरा करना होगा:

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप हमारे AI Course Finder की सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेजों जैसे SOP, निबंध (essay), सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टेस्ट स्कोर जैसे IELTS, TOEFL, SAT, ACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTS, TOEFL, PTE, GMAT, GRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप हमारी Leverage Live कक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीज़ा और छात्रवृत्ति/छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लेटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। 

आवदेन प्रक्रिया से सम्बन्धित जानकारी और मदद के लिए Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800 572 000 पर संपर्क करें।

भारतीय यूनिवर्सिटी के लिए आवेदन प्रक्रिया 

भारतीय यूनिवर्सिटीज़ द्वारा आवेदन प्रक्रिया नीचे मौजूद है-

  • सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  • यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  • फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  • अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  • इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  • यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

आवश्यक दस्तावेज़

आपको निम्न आवश्यक दस्तावेज़ों की आवश्यकता होगी:

छात्र वीज़ा पाने के लिए भी हमारे Leverage Edu  विशेषज्ञ आपकी हर सम्भव मदद करेंगे।

प्रवेश परीक्षा 

अलग-अलग कॉलेजों में एडमिशन प्राप्त करने के लिए प्रवेश परीक्षाएं अलग प्रकार की होती है लेकिन कुछ ऐसी सामान्य परीक्षाएं है जो अधिकतर सभी कॉलेज या यूनिवर्सिटीज़ के द्वारा मान्य होती हैं उनमें से कुछ इस प्रकार हैं: 

विदेशी प्रवेश परीक्षाएं

भारतीय प्रवेश परीक्षाएं 

  • MCAER CET
  • OUAT ET
  • ICAR AIEEA (PG)
  • CUCET
  • IPU CET 
  • KIITEE BCA
  • LUCSAT BCA
  • BU MAT
  • RUET
  • NMU UG CET
  • GSAT
  • LUCSAT
  • AIMA UGAT

लैंग्वेज रिक्वायरमेंट

करियर स्कोप

सिक्योरिटी ऑडिटर कोर्स में डिग्री हांसिल करने के बाद कई टॉप इंडस्ट्रीज में काम कर सकते हैं। कुछ टॉप इंडस्ट्रीज और टॉप रिक्रूटर्स की लिस्ट नीचे दी गई है:

टॉप इंडस्ट्रीज

  • टेलीकॉम कंपनीज
  • आईटी कंपनीज
  • मैन्युफैक्चर इंडस्ट्रीज
  • सिक्योरिटी कंपनीज
  • बैंक्स

टॉप रिक्रूटर्स

  • Fiserv 
  • AQM Technologies
  • HH Global
  • Reliance Jio
  • Wipro
  • NTT Security
  • Seaport AI

जॉब प्रोफाइल और सैलरी पैकेज 

सिक्योरिटी ऑडिटर का कोर्स करने के बाद में Glassdoor.in के अनुसार आपका अनुमानित सालाना वेतन INR 12-15 लाख प्रति वर्ष हो सकता है। हालांकि कुछ वर्षों का अनुभव प्राप्त करने के बाद आप इससे भी अच्छे सैलरी पैकेज पर कार्य कर सकते हैं।  

FAQs 

सिक्योरिटी ऑडिटर बनने के लिए आवश्यक स्किल्स कौनसी है?

सिक्योरिटी ऑडिटर बनने के लिए आवश्यक प्रमुख स्किल्स निम्न है
-प्रॉब्लम सॉल्विंग 
-क्रिटिकल थिंकिंग 
-सेल्फ मोटिवेशन
-पेमेंट्रेशन टेस्टिंग
-पॉलिसी डेवलपमेंट

सिक्योरिटी ऑडिटर बनने के लिए किस फील्ड के कोर्स करने चाहिए?

सिक्योरिटी ऑडिटर बनने के लिए आपको टेक्निकल फील्ड से जुड़े कोर्स करने चाहिए जैसे की कंप्यूटर साइंस, इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी तथा इसी तरह के अन्य टेक्निकल कोर्स। 

सिक्योरिटी ऑडिटर की जॉब प्राप्त के लिए कितने वर्षों की बैचलर डिग्री मांगते हैं?

सिक्योरिटी ऑडिटर की जॉब प्राप्त के लिए आपके पास कम से कम 4 वर्ष की बैचलर डिग्री होना आवश्यक है। 

उम्मीद है आपको सिक्योरिटी ऑडिटर कैसे बने इसके संबंध में हमारा यह ब्लॉग पसंद आया होगा। यदि आप भी किसी विदेशी यूनिवर्सिटी से सिक्योरिटी ऑडिटर से संबंधित किसी कोर्स को करना चाहते हैं तो आज ही 1800 572 000 पर कॉल करके हमारे Leverage Edu  के एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें। वे एक उचित मार्गदर्शन के साथ आवेदन प्रक्रिया में भी आपकी मदद करेंगे।

प्रातिक्रिया दे

Required fields are marked *

*

*