कैसे करें परिवहन इंजीनियरिंग?

2 minute read
443 views
परिवहन इंजीनियरिंग

परिवहन इंजीनियरिंग एक व्यापक क्षेत्र है जो रोडवेज, जलमार्ग, रेलवे आदि के निर्माण में एक प्रमुख रोल अदा करता है। ये इंजीनियर परिवहन के तेज, सुरक्षित और अधिक कुशल साधन विकसित करते हैं। कुशल परिवहन प्रणालियों की बढ़ती मांग के साथ, निर्माण और परिवहन उद्योग हमेशा इंजीनियरों और वास्तुकारों की तलाश में रहता है। क्या आप भी परिवहन इंजीनियरिंग क्या है से लेकर करियर स्कोप तक की सारी डिटेल चाहते हैं तो आइए इस ब्लॉग में जानते हैं, परिवहन इंजीनियरिंग के बारे में।

परिवहन इंजीनियरिंग क्या है?

हवाई परिवहन, पाइपलाइन, राजमार्गों के निर्माण और विकास, जलमार्ग, बंदरगाह, एयरोस्पेस, तटीय से लेकर समुद्र और शहरी परिवहन तक, परिवहन इंजीनियरिंग महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। परिवहन इंजीनियरिंग कुशल परिवहन संरचनाओं और प्रणालियों की योजना, डिजाइन, विकास, निर्माण और रखरखाव का अध्ययन है। इसके अंतर्गत हवाई अड्डे के फुटपाथ, टोल प्लाजा, ट्रैफिक सिग्नल, राजमार्ग तत्वों, इंटरचेंज, पार्किंग सुविधाओं आदि की डिजाइनिंग शामिल है। इसका उद्देश्य ऐसी प्रणालियों को डिजाइन करना है जो लोगों की सुरक्षित और आरामदायक आवाजाही सुनिश्चित कर सकें। 

परिवहन इंजीनियरिंग क्यों करें?

Transportation engineering in Hindi क्यों करें यह नीचे बताया गया है-

  • यह पर्यावरण में एक अनोखा परिवर्तन लाता है जो रेल, वायु, समुद्री आदि सहित सड़क और परिवहन के अन्य विकल्पों से संबंधित है।
  • परिवहन इंजीनियर परिवहन बहाली सुविधाओं से संबंधित किसी भी प्रकार के कार्गो और लॉजिस्टिक संबंधी अध्ययन में हो सकते हैं
  • परिवहन इंजीनियरिंग का अध्ययन अध्ययन के विकल्पों के आधार पर बहुत अधिक कॉम्प्लेक्स और विभेदित (डिफरेंशिएट) है।

परिवहन इंजीनियर क्या करते हैं?

परिवहन प्रणाली की योजना, डिजाइन, निर्माण, संचालन और रखरखाव के अलावा, यहाँ एक परिवहन इंजीनियर के कुछ बुनियादी कार्य हैं।

  • परिवहन इंजीनियर किसी भी निर्माण स्थल पर सुपरविजन के लिए जिम्मेदार होते हैं।
  • जब कोई नई विकास योजना शुरू की जाती है, तो परिवहन इंजीनियर मुख्य रूप से इस प्रोजेक्ट से ट्रैफिक इंपैक्ट का निर्धारण करने का प्रभारी होता है।
  • एक ट्रांसपोर्ट इंजीनियर नई परियोजनाओं(प्रोजेक्ट)  के लिए वास्तविक लक्ष्य और क्राइटेरिया निर्धारित करते है।
  • उन्हें उस विभाग के लिए कार्य योजना तैयार करने की आवश्यकता होती है जिसके साथ वे काम कर रहे हैं।
  • विश्लेषणात्मक(एनालिटिकल) कौशल के मामले में, उन्हें अपने कर्मचारियों और सहकर्मियों के लिए कार्य प्रवाह बनाने या योजना बनाने का काम दिया जाता है।
  • परिवहन इंजीनियर सुरक्षा माप पर नज़र रखने के लिए ट्रैफिक वॉल्यूम, दक्षता, दुर्घटनाओं के रिसर्च और मूल्यांकन का कार्य करते हैं।
  • एक प्रमाणित प्रोजेक्ट के बाद, परिवहन अभियंता यातायात और परिवहन संबंधी मामलों पर रिपोर्ट बनाने के लिए जिम्मेदार है।
  • अन्य परियोजनाओं के मामले में, वे सटीक बजट बनाने के लिए जिम्मेदार हैं।

आवश्यक स्किल्स

एक परिवहन इंजीनियर बनने के लिए, आपके पास एक निश्चित कौशल होना चाहिए जो आपको विभिन्न स्थितियों से निपटने, निर्माण परियोजनाओं के साथ-साथ अन्य संबंधित कार्यों को संभालने में मदद करेगा। Transportation engineering in Hindi में एक सफल करियर बनाने के लिए आवश्यक प्रमुख कौशल नीचे दिए गए हैं–

  • मैनेजमेंट स्किल्स
  • मैथमेटिकल स्किल्स
  • टेक्निकल स्किल्स
  • क्रिटिकल थिंकिंग
  • ऑब्ज़र्वेशन स्किल्स
  • एक्सीलेंट कम्युनिकेशन स्किल्स
  • लीडरशिप क्वालिटीज़
  • टाइम मैनेजमेंट
  • प्रॉब्लम सॉल्विंग स्किल्स

परिवहन इंजीनियरिंग कोर्सेज

Transportation engineering in Hindi में करियर बनाने के लिए आपको इस क्षेत्र में उचित डिग्री हासिल करना बेहद जरूरी है। यहां कुछ प्रमुख परिवहन इंजीनियरिंग कोर्सेज दिए गए हैं–

बैचलर्स डिग्री कोर्सेज

  • BEng (Hons) Civil and Transportation Engineering with Foundation Year
  • Bachelor of Science in Civil Engineering – Transportation Engineering
  • BEng Hons. Future Transport and Engineering

मास्टर्स डिग्री कोर्सेज

  • Master of Engineering in Civil Engineering – Transport Engineering
  • MSc Sustainable Transport Engineering
  • Master of Philosophy – Transport Engineering
  • Master of Engineering Studies-Transportation Engineering
  • MSc/PgDip/PgCert Transport Engineering and Planning
  • Master of Science in Highways and Transport Engineering
  • Master of Applied Science in Civil Engineering – Transportation Engineering
  • Master of Science in Civil Engineering – Transportation Engineering
  • Postgraduate Certificate in Engineering in Transport Engineering

डॉक्टरेट डिग्री कोर्सेज

  • Doctor of Philosophy– Transport Engineering
  • Doctor of Philosophy in Civil Engineering – Transport Engineering
  • Doctor of Philosophy in Civil and Environmental Engineering – Transport Engineering

आप हमारे AI course finder की मदद से अपने पसंद के कोर्सेस और यूनिवर्सिटी का चयन कर सकते हैं।

विदेश में परिवहन इंजीनियरिंग के लिए लोकप्रिय विश्वविद्यालय 

दुनिया भर में कई विश्वविद्यालय और कॉलेज हैं जो इंजीनियरिंग की इस विशेष शाखा में कार्यक्रमों की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करते हैं। Transportation engineering in Hindi में कोर्स प्रदान करने वाले लोकप्रिय विश्वविद्यालयों की लिस्ट नीचे दी गई है–

विश्वविद्यालय वार्षिक ट्यूशन फीस
अल्बर्टा विश्वविद्यालय CAD 25-33,333 (INR 15-20 लाख)
क्वींसलैंड विश्वविद्यालय AUD 22,222-37,037 (INR 12-20 लाख)
केंटरबरी विश्वविद्यालय GBP 10-13,000 (INR 10-13 लाख)
वेन स्टेट यूनिवर्सिटी USD 18,666-26,666 (INR 14-20 लाख)
ब्रिटिश कोलंबिया विश्वविद्यालय CAD 25-41,666 (INR 15-25 लाख)
विस्कॉन्सिन विश्वविद्यालय USD 9,333-13,333 (INR 7-10 लाख)
एरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी USD 26,666-33,333 (INR 20-25 लाख)
ओक्लाहोमा स्टेट यूनिवर्सिटी USD 13,333-16,000 (INR 10-12 लाख)
न्यू साउथ वेल्स विश्वविद्यालय AUD 25,333-33,333 (INR 19-25 लाख)
साउथ कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय USD 33,333-37,333 (INR 25-28 लाख)

आप UniConnect के जरिए विश्व के पहले और सबसे बड़े ऑनलाइन विश्वविद्यालय मेले का हिस्सा बनने का मौका पा सकते हैं, जहाँ आप अपनी पसंद के विश्वविद्यालय के प्रतिनिधि से सीधा संपर्क कर सकेंगे।

भारत में परिवहन इंजीनियरिंग के लिए लोकप्रिय विश्वविद्यालय 

Transportation engineering in Hindi कोर्स भारत के इन प्रमुख विश्वविद्यालय में ऑफर किया जाता है–

  • IIT, मुंबई
  • IIT, मद्रास
  • इंजीनियरिंग स्कूल, पेट्रोलियम और ऊर्जा अध्ययन विश्वविद्यालय
  • प्रेसीडेंसी विश्वविद्यालय, बैंगलोर
  • ग्राफिक एरा यूनिवर्सिटी, देहरादून
  • IIT, गुवाहाटी
  • IIT धनबाद
  • NMIMS विश्वविद्यालय, जयपुर
  • ITM विश्वविद्यालय
  • एमिटी स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, नोएडा

योग्यता

परिवहन इंजीनियरिंग में बैचलर्स और मास्टर्स कोर्सेस के लिए शैक्षणिक योग्यताओं के बारे में नीचे बताया गया है–

बैचलर्स के लिए

  • उम्मीदवार को किसी मान्यता प्राप्त स्कूल या बोर्ड से 12वीं पास होना चाहिए।
  • विश्वविद्यालयों के लिए आवश्यक है कि छात्र ने विज्ञान, गणित, भौतिकी, रसायन विज्ञान या अन्य किसी भी सब्जेक्ट से पढ़ाई की हो।
  • कुछ मामलों में प्रवेश परीक्षा भी आयोजित की जाती है।
  • विदेश की यूनिवर्सिटी में पढ़ने के लिए, उम्मीदवार से SAT या ACT स्कोर की मांग की जाती है। अंग्रेजी प्रोफिशिएंसी के प्रमाण के रूप में IELTS या TOEFL या PTE आदि के टेस्ट स्कोर जरूरी होते हैं।
  • विदेश में इन आवश्यकताओं के अलावा भी LOR, SOP, CV/Resume, पोर्टफोलियो आदि की भी आवश्यकता होती है।

मास्टर्स के लिए

  • उम्मीदवार को किसी मान्यता प्राप्त संस्थान या बोर्ड से अच्छे अंकों के साथ 10+2 उत्तीर्ण होना चाहिए।
  • उम्मीदवार के पास किसी मान्यता प्राप्त संस्थान, यूनिवर्सिटी या फिर कॉलेज से इंजीनियरिंग या किसी अन्य समकक्ष कोर्स में बैचलर्स की डिग्री होनी चाहिए।
  • मानदंडों को पूरा करने के लिए GATE परीक्षा के लिए उपस्थित होना चाहिए।
  • विदेश में कुछ विश्वविद्यालयों में GATE के अंक स्वीकार्य हैं, तो कहीं GRE स्कोर की मांग की जाती है।
  • विदेशी विश्वविद्यालयों के मामले में, अंग्रेजी प्रोफिशिएंसी के प्रमाण के रूप में IELTS या TOEFL या PTE आदि के टेस्ट स्कोर जरूरी होते हैं।
  • विदेश में इन आवश्यकताओं के अलावा LOR, SOP, CV/Resume, पोर्टफोलियो आदि की भी आवश्यकता होती है।

क्या आपको IELTS या TOEFL की तैयारी में दिक्कत आ रही है? तो आज ही Leverage Live पर register करें और अच्छे score प्राप्त करें।

आवेदन प्रक्रिया

भारतीय यूनिवर्सिटीज द्वारा आवेदन प्रक्रिया नीचे मौजूद है-

  • सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  • यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजरनेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  • फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  • अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  • इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  • यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

विदेशी विश्वविद्यालय के लिए आवेदन प्रक्रिया

कैंडिडेट को आवदेन करने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया को पूरा करना होगा:

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप हमारे AI Course Finder की सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • हमारे एक्सपर्ट्स से कॉन्टैक्ट के पश्चात वे हमारे कॉमन डैशबोर्ड प्लेटफॉर्म के माध्यम से कई विश्वविद्यालयों की आपकी आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेजों जैसे SOP, निबंध (essay), सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टेस्ट स्कोर जैसे IELTS, TOEFL, SAT, ACT आदि को इकट्ठा और व्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTS, TOEFL, PTE, GMAT, GRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप हमारी Leverage Live कक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीजा और छात्रवृत्ति / छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लेटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है।

आवदेन प्रक्रिया से सम्बन्धित जानकारी और मदद के लिए Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800572000 पर संपर्क करें

आवश्यक दस्तावेज़

विदेशी विश्वविद्यालय में एडमिशन लेने के लिए नीचे दिए गए डॉक्यूमेंट होने आवश्यक है:

छात्र वीजा पाने के लिए भी Leverage Edu विशेषज्ञ आपकी हर सम्भव मदद करेंगे।

परिवहन इंजीनियरिंग में करियर स्कोप

सार्वजनिक, निजी और गैर-लाभकारी क्षेत्रों में नौकरियों सहित परिवहन इंजीनियरिंग के क्षेत्र में आप कई करियर पथ अपना सकते हैं। परिवहन इंजीनियरों के सबसे आम नियोक्ता परिवहन निगम, निर्माण कंपनियां, राज्य और स्थानीय सरकारें और इंजीनियरिंग फर्म हैं।

शिक्षा और अनुभव के आधार पर, परिवहन इंजीनियर राजमार्ग इंजीनियरों, यातायात इंजीनियरों या सुरक्षा इंजीनियरों के रूप में आगे विशेषज्ञता का चयन कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, राजमार्ग इंजीनियर सड़कों, पुलों और सुरंगों के शोध, योजना और निर्माण के लिए जिम्मेदार हैं।

संभावित विशेषज्ञताओं के बावजूद परिवहन इंजीनियर, जो स्वतंत्र निर्णय लेने और परियोजना निरीक्षण जैसे उच्च-स्तरीय जिम्मेदारियों को लेना चाहते हैं, उन्हें बैचलर्स स्तर की शिक्षा और लाइसेंस पर विचार करना चाहिए। बर्निंग ग्लास के अनुसार, परिवहन क्षेत्र में सभी वरिष्ठ इंजीनियर नौकरी पोस्टिंग में उन्नत डिग्री की आवश्यकता होती है। कुछ प्रमुख जॉब प्रोफाइल नीचे दी गई हैं–

  • इंजीनियरिंग मैनेजर
  • सिविल इंजीनियर
  • आर्किटेक्ट
  • इंजीनियरिंग इंस्पेक्टर 
  • रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफिसर
  • सिविल इंजीनियरिंग ड्राफ्टर
  • सिविल इंजीनियरिंग टेक्नोलॉजिस्ट
  • सिविल इंजीनियरिंग तकनीशियन
  • हाईवे इंजीनियर
  • एयरपोर्ट इंजीनियर
  • पोर्ट इंजीनियर
  • रेलरोड इंजीनियर

परिवहन इंजीनियरिंग के क्षेत्र में औसत वेतन

Payscale के अनुसार इस क्षेत्र के ग्रेजुएट्स का औसत वार्षिक वेतन आमतौर पर भारत में INR 4.5-9.5 लाख के बीच होता है। वहीं UK में GBP 25,000-30,000 (INR 25-30 लाख) और USA में USD 37,333-46,333 (INR 28-35 लाख) के बीच होता है। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि उपर्युक्त आंकड़ा सांकेतिक उद्देश्यों के लिए है।आपका औसत वेतन मुख्य रूप से आपके द्वारा चुने गए आर्गेनाइजेशन और कंपनी  के साथ-साथ आपके द्वारा प्राप्त की गई विशिष्ट डिग्री पर भी निर्भर करता है।

FAQs

भारत में परिवहन इंजीनियरिंग में प्रमुख भर्ती कंपनियां कौन सी है?

भारत में परिवहन इंजीनियरिंग में प्रमुख भर्ती कंपनियां–
1. Frischmann Prabhu India Private Limited
2. design atelier
3. Shahnawaz (Pvt) Ltd.
4. ADCC INFOCAD LIMITED
5. RSN Engineering & Construction Pvt. Ltd.
6. KD Group Of Industries
7. Dream Jobs Staffing Solution Pvt Ltd
8. Sensis Tech Ltd
9. MT Project Limited
10. QPS Holdings, LLC
11. Bhatia Consultancy Services

भारत में परिवहन इंजीनियर का औसत वेतन क्या है?

भारत में परिवहन इंजीनियर का औसत वेतन आमतौर पर INR 4.5 लाख से 9.5 लाख  के बीच होता है।

परिवहन इंजीनियरिंग क्या है?

परिवहन इंजीनियरिंग कुशल परिवहन संरचनाओं और प्रणालियों की योजना, डिजाइन, विकास, निर्माण और रखरखाव का अध्ययन है। इसके अंतर्गत हवाई अड्डे के फुटपाथ, टोल प्लाजा, ट्रैफिक सिग्नल, राजमार्ग तत्वों, इंटरचेंज, पार्किंग सुविधाओं आदि की डिजाइनिंग शामिल है।

परिवहन इंजीनियरिंग में करियर के क्या स्कोप हैं?

सार्वजनिक, निजी और गैर-लाभकारी क्षेत्रों में नौकरियों सहित परिवहन इंजीनियरिंग के क्षेत्र में आप कई करियर पथ अपना सकते हैं। परिवहन इंजीनियरों के सबसे आम नियोक्ता परिवहन निगम, निर्माण कंपनियां, राज्य और स्थानीय सरकारें और इंजीनियरिंग फर्म हैं।

परिवहन इंजीनियरिंग के अंतर्गत नौकरी के क्या अवसर हैं?

परिवहन इंजीनियरिंग में अच्छे वेतन के साथ ढेरों रोजगार के अवसर उपलब्ध हैं। कुछ जॉब ऑप्शंस इस प्रकार है–
1. इंजीनियरिंग मैनेजर
2. सिविल इंजीनियर
3. आर्किटेक्ट
4. इंजीनियरिंग इंस्पेक्टर 
5. रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफिसर
6. सिविल इंजीनियरिंग ड्राफ्टर
7. सिविल इंजीनियरिंग टेक्नोलॉजिस्ट

हम आशा करते हैं कि आपको परिवहन इंजीनियरिंग संबंधित सारी जानकारी इस ब्लॉग में मिली होगी। यदि आप परिवहन इंजीनियरिंग की पढ़ाई विदेश से करना चाहते हैं तो आप आज ही हमारे Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से सलाह ले सकते हैं, वे आपको एक उचित मार्गदर्शन प्रदान करेंगे। 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करने के लिए हमें 1800 572 000 पर कॉल करें।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today. Engineering
Talk to an expert