कैसे बनें रिस्क मैनेजर?

Rating:
0
(0)
FRM Syllabus

कॉमर्स में स्नातक की डिग्री पूरी कर चुके? क्या आप एक फ्रेशर हैं जो ये तय नहीं कर पा रहे कि अब आगे क्या करना है? कॉमर्स से स्नातक की डिग्री पूरी कर लेने के बाद विशेषज्ञता प्राप्त करने के लिए ढेरों विकल्प मौजूद हैं। ह्यूमन रिसोर्सेज, मार्केटिंग, उकाउंटेंसी, बैंकिंग और फाइनांस कुछ प्रमुख क्षेत्र हैं। इनके अलावा रिस्क मैनेजर तेजी से उभरते करियर के तौर पर इन दिनों खासा प्रचलन में है। अब आप सोच रहे होंगे कि रिस्क मैनेजर कैसे बनें ? रिस्क मैनेजर की नेम प्लेट हासिल करने के लिए आपको अपने करियर लक्ष्य को तरीके और सुनियोजित ढंग से प्लान करना होगा। आपकी मुश्किल आसान करने के लिए इस ब्लॉग में आपको रिस्क मैनेजर बनने की विस्तृत जानकारी दी जाएगी।

रिस्क मैनेजमेंट का क्या मतलब है?

कैसे बनें रिस्क मैनेजर?साधारण शब्दों में, रिस्क मैनेजमेंट वो प्रक्रिया है जिसमें कोई भी संगठन अपने लेन-देन  के बराबर या बहुत कम नुक्सान और अधिकतम लाभ का प्रबंधन करती है। व्यापार के उतार चढ़ावों में हर संगठन जोखिम को न्यूनतम रखने का प्रयास करता है। इसलिए, रिस्क मैनेजर वो व्यक्ति होता है जो संगठन के लिए ईवेंट रिस्क के प्रबंधन का कार्य करता है। अब इस क्षेत्र में ऑपरेशनल रिस्क भी शामिल हो चुका है।

Check Out: Fashion Designer Kaise Bane

रिस्क मैनेजर के कार्य

  • जोखिम को पहचानना
  • जोखिम का अवलोकन करना
  • पहचाने हुए जोखिम से निपटने के लिए बेहतरीन तरीकों का चयन
  • रिस्क मैनेजमेंट तरीकों को लागू करना
  • प्रोग्राम का लगातार अवलोकन और संचालन करना 

कैसे बनें रिस्क मैनेजर?रिस्क मैनेजर्स को व्यापार में होने वाले कई प्रकार के जोखिमों से निपटने के लिए योजना बनाने, उसे आयोजित करने, नेतृत्व करने और नियंत्रित करने जैसे कार्यों का ज़िम्मा भी सौंपा जाता है।

शैक्षणिक योग्यता

जितना संजीदा ये क्षेत्र है उतनी ही इस क्षेत्र में आने के लिए शैक्षणिक योग्यता और प्रशिक्षण भी मायने रखता है। इस क्षेत्र के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता स्नातक होती है लेकिन जॉब प्रो फाइल के मद्देनज़र कुछ जिम्मेदारियों के लिए आपको परास्नातक होना जरूरी है। अलग अलग स्तर के अनुसार रिस्क मैनेजमेंट के तमाम पाठ्यक्रम मौजूद हैं। हालांकि स्नातक कर चुके लोग रिस्क मैनेजर के पद के लिए अप्लाई कर सकते हैं लेकिन बेहतर रहेगा कि आप इस क्षेत्र में डिग्री प्राप्त करें।

बिल गेट्स की सफलता की कहानी

रिस्क मैनेजर कोर्स

स्तर कोर्स
अंडरग्रेजुएट बीबीए इन रिस्क मैनेजमेंट, बीकॉम इन रिस्क मैनेजमेंट, पीजी डी इन रिस्क मैनेजमेंट, एमबीए इन रिस्क मैनेजमेंट
पोस्टग्रेजुएट पीजी डी इन इंश्योरेंस रिस्क मैनेजमेंट, इंटरनैशनल पीजी डी इन रिस्क मैनेजमेंट
डिप्लोमा कोर्स सर्टिफाइड रिस्क एंड इंटरनल कंट्रोल प्रोफेशनल-एआईसीपी,ऑपरेशनल रिस्क मैनेजमेंट, इंस्टीट्यूट ऑफ रिस्क मैनेजमेंट द्वारा सर्टिफाइड कोर्स

कैसे बनें रिस्क मैनेजर : योग्यता के मानदंड

अगर आप 12वीं पास हैं तो आप किसी अच्छे संस्थान से रिस्क मैनेजमेंट में डिप्लोमा कोर्स कर सकते हैं और अगर आपने कॉमर्स में स्नातक डिग्री प्राप्त कर ली है, जैसे बी कॉम, तो आप रिस्क मैनेजमेंट में एमबीए कर सकते हैं।  इसके लिए निम्नलिखित आवश्यक्ताएं हैं :

  • संबन्धित क्षेत्र में स्नातक डिग्री या      समकक्ष
  • जीमैट या जीआरई में मान्य अंक
  • लैंगवेज प्रोफीशियेंसी टेस्ट जैसे टॉफ़ल, आईएल्ट्स या पीटीआई में मान्य अंक
  • 2-5 वर्षों का न्यूनतम अनुभव

सफल लोगों की 30 अनमोल आदतें

कामयाब रिस्क मैनेजर बनने के लिए आपको कौन सी पढ़ाई करनी है?

रिस्क मैनेजर बनने के लिए आपको निम्नलिखित विषयों से युक्त कोर्स करने की जरूरत है:

  • कॉर्पोरेट फाइनांस–  ये वित्त का वो भाग है जो पूँजी की सोर्सिंग , निवेश संबंधी निर्णयों और धन स्रोतों से निपटने वाले निगमों से संबंध रखता है।
  • मार्केटिंग एंड बिज़नेस इंवायर्मेंट-  ये उन कारकों और ताक़तों से संबंधित है जो फर्म की ग्राहक से संबंध बनाए रखने की प्रक्रिया का निर्धारण करता है।
  • कॉर्पोरेट रिस्क मैनेजमेंट- इसमें वो प्रक्रिया शामिल है जिससे कंपनी अपने नुक्सान को न्यूनतम कर सर्वाधिकार लाभ का प्रबंधन करती है।
  • फ़ाइनेंशियल एनालिसिज एंड इंवेस्टमेंट- इसमें व्यापार, प्रोजेक्ट, बजट और अन्य वित्तीय लेन-देन के अवलोकन की प्रक्रिया शामिल है।
  • स्ट्रैटेजिक मैनेजमेंट एंड लीडर शिप- ये प्रबंधक के उस पद से संबंधित है जो संगठन की वित्तीय स्थिति के लिए रणनीति तैयार करता है।
  • बिज़नेस एथिक्स- इसमें व्यापार की उचित नीतियों और नैतिकताओं के बारे में पढ़ा जाता है जिन्हें किसी संगठन के साथ काम करने के  लिए समझने की जरूरत है।

एयर होस्टेस कैसे बनें?

बिज़नेस स्कूल जिनमें रिस्क मैनेजमेंट कोर्स उपलब्ध है

नीचे कुछ सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालयों की सूची दी गई है जहां रिस्क मैनेजमेंट पाठ्यक्रम मौजूद है :

Check Out: Singer Kaise Bane (सिंगर कैसे बने)

भारत के सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालय में  कैसे बनें रिस्क मैनेजर?

  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट
  • इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस
  • फैकल्टी ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज
  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ सिक्योरिटीज मार्केट

कैसे बनें रिस्क मैनेजर? में करियर स्कोप 

वित्त क्षेत्र छलांग के साथ बढ़ रहा है इसलिए जोखिम प्रबंधन की आवश्यकता भी बढ़ चुकी है। इस करियर विकल्प में कई भूमिकाएँ और पद मौजूद हैं जिनमें से कोई भी अपने लिए उपयुक्त पद का चुनाव कर आगे बढ़ सकता है। कुछ भूमिकाएँ नीचे दी गई हैं :

  • रिस्क मैनेजर
  • रिस्क सर्वेयर
  • रिस्क मैनेजमेंट एडवाइजर
  • रिस्क ऐनालिस्ट
  • परफॉर्मेंस एंड रिस्क मैनेजर
  • फ़ाइनेंशियल रिस्क मैनेजर
  • डिजिटल रिस्क मैनेजर
  • सप्लाई चेन रिस्क मैनेजर

रिस्क मैनेजर के लिए रोज़गार क्षेत्र

  • वित्त संस्थान
  • निर्माण कंपनियां
  • साइबर सिक्योरिटी फर्म
  • जोखिम प्रबंधन परामर्श फर्म

रेलवे परीक्षा 2021- पात्रता, परीक्षा पैटर्न, अनुसूचीऔर चयन प्रक्रिया

Risk Management in Bank

बैंकों में वित्तीय उत्पादों और नई तकनीकों के कारण बैंकिंग व्यवसाय काफी विकसित हुआ है लेकिन इसी के साथ इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी के विश्व स्तर पर विकास भी हो रहा है जिससे रिस्क मैनेजमेंट भी प्रभावित हुआ है। इसे सुरक्षित रखने के लिए रिस्क मैनेजमेंट बहुत अच्छी तरीके से करने की आवश्यकता है। Risk in Bank के प्रकार को समझाने के लिए नीचे डायग्राम दिया गया है: 

कैसे बनें रिस्क मैनेजर
Source : educba.com

एक सफल रिस्क मैनेजर रिचर्ड हेरिंग कहते हैं

“स्थिति की बढ़ती मांगों से निपटने के लिए विश्लेषणात्मक कौशल के साथ-साथ प्रबंधकीय और संचार विशेषज्ञता के व्यापक सेट की आवश्यकता होती है। नियामक आवश्यकताओं ने रिस्क मैनेजरों को बड़ी मात्रा में डेटा एकत्र करने, व्यवस्थित करने और मॉडल करने के लिए बाध्य किया है ताकि जोखिम के लिए एक संस्थान के जोखिम और गंभीर रूप से प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना करने की क्षमता का मूल्यांकन किया जा सके। लागत कम करने के निरंतर दबाव ने कई संस्थानों को विभिन्न प्रक्रियाओं को आउटसोर्स करने के लिए प्रेरित किया है, जिनका रिस्क मैनेजरों को मूल्यांकन और निगरानी करनी चाहिए जैसे कि वे अभी भी संस्थान के भीतर आयोजित किए गए थे। इसके अलावा, उन्हें इस बात पर विचार करना चाहिए कि कैसे एआई और मशीन लर्निंग जैसी तकनीकी प्रगति उन्हें कम लागत पर जोखिम का प्रबंधन करने में सक्षम बना सकती है। मोटे तौर पर, नियामकों ने पीटर ड्रकर के अवलोकन को ध्यान में रखा है कि ‘संस्कृति नाश्ते के लिए रणनीति खाती है, ‘ और इसलिए रिस्क मैनेजरों को एक मजबूत जोखिम संस्कृति को विकसित करने और बनाए रखने का काम सौंपा जाता है जो यह सुनिश्चित करता है कि बोर्ड द्वारा चुनी गई जोखिम की भूख संस्था में व्याप्त हो। उन्नत रिस्क मैनेजमेंट कार्यक्रम इन सभी परिवर्तनों के साथ तालमेल बिठाने का प्रयास करता है।”

रिस्क मैनेजर रिचर्ड हेरिंग

रिस्क मैनेजर्स की मांग अधिक है, खास तौर पर पैंडेमिक के बाद और अब सबको कुशल जोखिम प्रबंधन की आवश्यकता का अंदाजा हो चुका है। इसलिए अगर आपको लगता है कि आप में वो सभी जरूरी क्षमता हैं, तो ये सही समय है इस क्षेत्र में आने का। Leverage Edu में हमारे विशेषज्ञों से संपर्क करें और इस क्षेत्र में आने के लिए मार्गदर्शन प्राप्त करें जिससे आप अपने सपनों के विश्वविद्यालय में इस पाठ्यक्रम में दाख़िला पा सकें। नि : शुल्क सेशन के लिए अभी साइन अप करें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.

+91
Talk to an expert for FREE

You May Also Like