कार्टूनिस्ट कैसे बनें?

1 minute read
153 views

कार्टून आर्टिस्ट होना न केवल अच्छा कॅरियर है बल्कि दिलचस्प क्षेत्र भी है। कार्टून बनाना एक ऐसी कला मानी जाती है जिसमें किसी भी गंभीर विषय या मुद्दे को रोचक तरीके से प्रदर्शित किया जाता है। भारत में कार्टून आर्ट की शुरुआत ब्रिटिश काल से मानी जाती है। ‘केशव शंकर पिल्लई’ को भारत की कार्टून आर्ट का जनक माना जाता है। ‘शंकर’ ने 1932 में हिंदुस्तान टाईम्स में अपने कार्टून पब्लिश किये थे। भारतीय कार्टूनिस्ट्स को बढ़ावा देने के लिए रजिस्टर्ड ऑर्गनाइजेशन कार्टूनिस्ट्स क्लब ऑफ इंडिया की स्थापना की गई है। अगर आपको कार्टून देखने के साथ कार्टून बनाने का शौक है तो आप अपने इस शौक को करियर बना सकते हैं। आइए विस्तार से जानते हैं कार्टूनिस्ट कैसे बनें के बारे में। 

कार्टूनिस्ट कौन होते हैं?

कार्टूनिस्ट वह प्रोफेशनल कलाकार है, जो डिजिटल टूल या पेपर और पेंसिल का उपयोग करके कार्टून बनाता है। उनके काम का उपयोग कॉमिक स्ट्रिप्स, समाचार पत्र पत्रिकाओं, टेलीविजन, फिल्मों, वीडियो गेम आदि में किया जा सकता है। यह किसी ऐसे व्यक्ति के लिए एक बहुत अच्छा क्षेत्र है जो बहुत कल्पनाशील है और ड्राइंग का शोक रखता है वे अपने स्केच और कॉमिक स्ट्रिप्स के माध्यम से अपने विचारों को स्वतंत्र रूप से व्यक्त कर सकते हैं कार्टून जनता के बीच जागरूकता फैलाने का एक शानदार तरीका भी है। आज कल एनिमेटेड मूवीज कार्टून से ही बनाई जाती हैं। 

कार्टूनिस्ट के कार्य

कार्टूनिस्ट के रूप में काम करने वाले कैंडिडेट की जिम्मेदारियां बहुत ही महत्वपूर्ण होती है। इस काम में उसे काफी ज्यादा सावधानी बरतनी होती है क्योंकि सारा काम उसकी एकाग्रता पर निर्भर करता है साथ ही यह बात मायने रखती है कि उसमें कितनी कलात्मकता है। एक कार्टूनिस्ट के कार्य निम्न प्रकार है:

  • पेन और पेपर की मदद से कार्टून तैयार करते हैं और फिर उसके बाद उसे स्कैन करते हैं। 
  • कंप्यूटर सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करके कार्टून तैयार करते हैं।
  • अपने कार्टून के द्वारा समाज में कुछ ना कुछ संदेश देना।
  • कार्टून बनाकर व्यंग प्रस्तुत करना। 
  • टीवी और प्रिंट मीडिया के लिए कार्टून तैयार करना।
  • किसी भी कार्टून का मेन करेक्टर सुसज्जित करते हैं।
  • किसी भी महत्वपूर्ण मैसेज को समाज तक प्रभावशाली तरीके से पहुँचाना। 
  • कार्टून बनाकर कहानियों का सृजन करते हैं।
  • वीडियो गेम तैयार करते हैं।

कार्टूनिस्ट बनने के लिए स्टेप बाय स्टेप गाइड?

कार्टूनिस्ट बनने के लिए स्टेप बाय स्टेप गाइड नीचे दी गई है:

  • कार्टूनिस्ट बनने लिए सबसे पहले फाइन आर्ट, ड्राइंग व पेंटिंग के साथ 12th की पढ़ाई पूरी करें। 
  • इसके बाद आप किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय/कॉलेज से कार्टूनिस्ट या फिर फाइन आर्टिस्ट में (4 वर्ष) की बैचलर डिग्री प्राप्त करें । 
  • बैचलर डिग्री के बाद आप मास्टर डिग्री में एडमिशन ले और अपने आप को और बेहतर बनाने के प्रयास करें। 
  • इसके अलावा कुछ कॉलेज के छात्रों को अपने पाठ्यक्रम के एक भाग के रूप में इंटर्नशिप कार्यक्रम लेने की आवश्यकता होती है, इसीलिए किसी संस्था या फिर मान्यता प्राप्त कार्टूनिस्ट या फिर एनीमेशन ग्राफिक फर्म में इंटर्नशिप पूरी करें । 

कार्टूनिस्ट बनने के लिए कोर्सेज

कार्टूनिस्ट बनने के लिए मुख्य कोर्सेज इस प्रकार है:

  • Diploma in Fine Arts
  • Bachelor in Fine Arts
  • Bachelor of Design (Honors)
  • Bachelor of Fine Arts
  • Bachelor in Arts of Theater and Performance Studies
  • Bachelor in Fine Arts (Illustration) 
  • Bachelor in Fine Arts in Graphic Designing
  • Bachelor in Fine Arts in Digital Communication Arts
  • Bachelor of Interior Design (Honors)
  • Bachelor of Design- Interior and Environmental Design (Honors)
  • Bachelor of Design in Interior Architecture (Honors)
  • Bachelor of Design Innovation (Animation and Visual Effects)
  • Bachelor in Arts of Visual Communication- Photography
  • Bachelor of Arts in Architectural Studies
  • Master in Fine Arts in Film and Television
  • Master in Fine Arts
  • Masters of Design in Interior Design
  • Masters in Arts (Architecture)
  • Master of Fine Arts in Photography

कार्टूनिस्ट की मुख्य विदेशी यूनिवर्सिटीज

नीचे दुनिया की टॉप यूनिवर्सिटीज की सूची दी गई है:

विश्वविद्यालय/कॉलेज जगह
रॉयल कॉलेज ऑफ आर्ट्स लंदन, यूनाइटेड किंगडम
पार्सन्स द न्यू स्कूल फॉर डिज़ाइन न्यूयॉर्क शहर, संयुक्त राज्य अमेरिका
रोड आइलैंड स्कूल ऑफ़ डिज़ाइन प्रोविडेंस, रोड आइलैंड
मैसाचुसेट्स इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी मैसाचुसेट्स, संयुक्त राज्य अमेरिका
पोलिटेक्निको डी मिलानो मिलान, इटली
कला विश्वविद्यालय लंदन लंदन, यूनाइटेड किंगडम
प्रैट इंस्टिट्यूट ब्रुकलिन, न्यूयॉर्क, संयुक्त राज्य अमेरिका
स्कूल ऑफ़ द आर्ट इंस्टिट्यूट ऑफ़ शिकागो शिकागो, इलिनोयस
आल्टो यूनिवर्सिटी एस्पू, फ़िनलैंड 
स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय स्टैनफोर्ड, कैलिफोर्निया

कार्टूनिस्ट की प्रमुख भारतीय यूनिवर्सिटीज

नीचे उन शीर्ष भारतीय विश्वविद्यालय की लिस्ट दी गई है जो अपने छात्रों को कार्टूनिस्ट बनने के लिए कोर्सेज प्रदान करने के लिए प्रसिद्ध हैं-

  • कला महाविद्यालय, दिल्ली विश्वविद्यालय
  • दृश्य कला संकाय, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय
  • ललित कला संकाय, महाराजा सयाजीराव विश्वविद्यालय
  • चामराजेंद्र एकेडमी ऑफ विजुअल आर्ट्स, मैसूर विश्वविद्यालय
  • कला भवन, विश्व भारती विश्वविद्यालय
  • इंदिरा कला संगीत विश्वविद्यालय, खैरागढ़
  • जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय, दिल्ली
  • कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय, कुरुक्षेत्र
  • महात्मा गांधी चित्रकूट ग्रामोदय विश्वविद्यालय, सतना
  • रवीन्द्र भारती विश्वविद्यालय, कोलकाता
  • सर जेजे स्कूल ऑफ आर्ट, मुंबई
  • हैदराबाद विश्वविद्यालय, हैदराबाद

कार्टूनिस्ट बनने के लिए योग्यता

  • कार्टूनिस्ट बनने लिए मुख्य विषयों के रूप में फाइन आर्ट, ड्राइंग व पेंटिंग के साथ कुल 60% अंकों के साथ 12th पूरा करना अनिवार्य है। 
  • आपके पास एक प्रमाणित विश्वविद्यालय/कॉलेज से कार्टूनिस्ट या फिर फाइन आर्टिस्ट में (4 वर्ष) की बैचलर डिग्री होनी चाहिए। 
  • इसके अलावा कुछ कॉलेज के छात्रों को अपने पाठ्यक्रम के एक भाग के रूप में इंटर्नशिप कार्यक्रम लेने की आवश्यकता होती है, इसीलिए किसी संस्था या फिर मान्यता प्राप्त कार्टूनिस्ट या फिर एनीमेशन ग्राफिक फर्म में इंटर्नशिप पूरा करे। 
  • यदि मास्टर डिग्री करना चाहते हैं, तो आपको कार्टूनिस्ट या एनीमेशन में अच्छे अंकों के साथ बैचलर डिग्री होना जरूरी है। 
  • 10 वीं कक्षा पूरी करने के बाद आप कार्टूनिस्ट में डिप्लोमा कोर्स भी कर सकते हैं, या फिर 11 कला में भाग लेकर आर्ट में करियर बना सकते हैं। 
  • भारत में आर्ट में करियर बनाने के लिए कुछ कॉलेज अपनी प्रवेश परीक्षाएं आयोजित करते हैं (जैसे NID,NIFT और CET आदि) जिसके आधार पर छात्रों का चयन किया जाता है। विदेश के कुछ यूनिवर्सिटीज के लिए ACT, SAT आदि के स्कोर जरूरी होते हैं।
  • विदेश में ऊपर दी गई रिक्वायरमेंट्स के साथ IELTS या TOEFL टेस्ट अंक ज़रूरी होते हैं।
  • साथ ही विदेशी यूनिवर्सिटीज में आवेदन के लिए SOP, LOR और CV/Resume तथा Portfolio की भी ज़रूरत होती है।

आवेदन प्रक्रिया

कैंडिडेट को आवदेन करने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया को पूरा करना होगा:

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप हमारे AI Course Finder की सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • Leverage Edu एक्सपर्ट्स से कॉन्टैक्ट के पश्चात वे हमारे कॉमन डैशबोर्ड प्लेटफॉर्म के माध्यम से कई विश्वविद्यालयों की आपकी आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेजों जैसे SOP, निबंध (essay), सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टेस्ट स्कोर जैसे IELTS, TOEFL, SAT, ACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTS, TOEFL, PTE, GMAT, GRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप हमारी Leverage Live कक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीजा और छात्रवृत्ति / छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लेटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। 

भारतीय यूनिवर्सिटीज द्वारा आवेदन प्रक्रिया नीचे मौजूद है-

  • सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  • यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  • फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  • अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  • इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  • यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

आवश्यक दस्तावेज़

विदेशी विश्वविद्यालय में एडमिशन लेने के लिए नीचे दिए गए डॉक्यूमेंट होने आवश्यक है:

कार्टूनिस्ट के रूप में करियर के अवसर

वर्तमान समय में एक कार्टूनिस्ट के लिए काम की कोई कमी नहीं है क्योंकि यह इंडस्ट्री तेजी के साथ ग्रो कर रही है। इसलिए इस क्षेत्र में काम करने की इच्छा करने वाले लोगों को अनेको फर्म में नौकरी के अवसर मिलते हैं जिनकी जानकारी निम्नलिखित है

  • मैगजीन
  • न्यूजपेपर
  • साप्ताहिक और मासिक मैगजीन
  • एनीमेशन स्टूडियो
  • कार्टून नेटवर्क
  • फिल्म और कार्टून वीडियो
  • प्रिंट मीडिया
  • गेम कंपनी

कार्टूनिस्ट की सैलरी

कार्टूनिस्ट कला से जुड़ा हुआ क्षेत्र है इसलिए इसमें बहुत ज्यादा कमाई का आसार है। सामान्यत: एक कार्टूनिस्ट 5 से 10 लाख सालाना कमाता है। आय उसके कार्य अनुभव और काम की बारीकी के अनुसार बढ़ती रहती है। 

FAQ

कार्टूनिस्ट कौन होते हैं?

कार्टूनिस्ट वह प्रोफेशनल कलाकार है, जो डिजिटल टूल या पेपर और पेंसिल का उपयोग करके कार्टून बनाता है।

भारत  कार्टून आर्ट की शुरुआत कब हुई?

भारत में कार्टून आर्ट की शुरुआत ब्रिटिश काल से मानी जाती है। ‘केशव शंकर पिल्लई’ को भारत की कार्टून आर्ट का जनक माना जाता है।

एक कार्टूनिस्ट का कितना कमाता है?

एक कार्टूनिस्ट 5 से 10 लाख सालाना कमाता है। 

उम्मीद है, कि इस ब्लॉग ने आपको कार्टूनिस्ट कैसे बनें के बारे में सभी जानकारी मिल गई होगी। यदि आप विदेश में सिंचाई इंजीनियरिंग की पढ़ाई करना चाहते हैं, तो हमारे Leverage Edu एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन 1800 572 000 पर कॉल कर बुक करें।

प्रातिक्रिया दे

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today. How-To guides
Talk to an expert