Ambedkar Books in Hindi : भीमराव अम्बेडकर की किताबें कौन सी हैं? यहां देखें पूरी लिस्ट 

1 minute read
Ambedkar Books in Hindi

भारतीय संविधान निर्माता डॉ. भीमराव अम्बेडकर की निजी लाइब्रेरी दुनिया की बड़ी निजी लाइब्रेरी थी और इसमें 50,000 से अधिक किताबें थीं और उनका मानना था कि किताबें किसी भी व्यक्ति के जीवन में बदल सकती हैं और उन्होनें कई ऐसी किताबें लिखीं जिनसे स्टूडेंट्स को खुद को शिक्षित करने और आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलती है। इसलिए इस ब्लाॅग Ambedkar Books in Hindi में हम भीमराव अम्बेडकर की किताबें विस्तार से जानेंगे जो आपके जीवन को नई दिशा देंगी।

डॉ. भीमराव अम्बेडकर के बारे में

डॉ. भीमराव अम्बेडकर का जन्म मध्य प्रदेश के इंदौर शहर में स्थित महू में हुआ था, जिसका नाम इस समय बदलकर डॉ. अम्बेडकर नगर रख दिया गया है। डॉ. भीमराव अम्बेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 में हुआ था। बाबा साहेब ने 1907 में मैट्रिकुलेशन पास करने के बाद एली फिंस्टम कॉलेज में 1912 में ग्रेजुएशन पूरा किया था। 

बाबा साहेब ने 1915 में कोलंबिया यूनिवर्सिटी से मास्टर्स किया था। उनके पास लगभग 32 डिग्रियां थी। उन्होंने भारतीय संविधान के निर्माता के रूप में अपनी पहचान बनाई और भारत के लोगों को शक्तियां देने की कवायद रखी थी। बाबासाहेब आजाद भारत के पहले कानून मंत्री थे। बाबा साहेबर का निधन 6 दिसंबर 1956 को दिल्ली में हुआ था।

यह भी पढ़ें- BR Ambedkar Quotes in Hindi: भीमराव अंबेडकर के ऐसे विचार जिनसे आप कुछ सीख सकते हैं

भीमराव अम्बेडकर की किताबें कौन सी हैं?

भीमराव अम्बेडकर समाज सुधारक होने के साथ-साथ लेखक भी थे और उनके व्यक्तित्व के तरह उनकी किताबों ने भी लोगों के जीवन को नई दिशा दी है, इसलिए यहां हम उनकी किताबों के बारे में जानेंगे।

कांग्रेस और गांधी ने अछूतों के लिए क्या किया? 

कांग्रेस और गांधी ने अछूतों के लिए क्या किया? डॉ. अम्बेडकर की भारत की राजनीति पर लिखी गई पुस्तक है। यह पुस्तक स्कूल और कॉलेजों में नहीं पढ़ाई जाती है।

शूद्रों की खोज

भीमराव अम्बेडकर द्वारा लिखी गई किताब शूद्रों की खोज ऋग्वेद और महाभारत के आधार पर बताती है कि चौथा वर्ण शूद्र कैसे अस्तित्व में आया था।

अछूत कौन और कैसे?

अछूत कौन और कैसे? किताब से यह पता चलता है कि कैसे इतिहास में बौद्ध ही मांस खाने और न खाने के कारण अछूत (इस समय अनुसूचित जाति के लोग) बने।

रुपये की समस्या

बाबा साहेब की यह किताब उन मुद्दों की जांच करती है अपना माल बेचने के लिए भारत में डॉ. अम्बेडकर ने दावा किया कि ब्रिटिश प्रशासन ने विनिमय दर को बहुत ऊंचा (अधिक मूल्यांकित) रखा। किताब मौद्रिक नीति को बढ़ावा देती है। 

वीजा की प्रतीक्षा में

वीजा की प्रतीक्षा में किताब नाम से ही अलग दिखती है और इसे अम्बेडकर ने जीवन के जातिवाद के कुछ अनुभवों के आधार पर लिखा था।

बुद्धा और कार्ल मार्क्स

बुद्धा और कार्ल मार्क्स की कहानी पर आधारित किताब स्टूडेंट्स के लिए काफी महत्वपूर्ण है और इसे अम्बेडकर के विचार की भारत के लोगों को बुद्ध या मार्क्स में से किसे अपनाना चाहिए के बारे में बताया गया है।

हिंदू धर्म की पहेली

डॉ. अम्बेडकर के हिंदू धर्म संबधित विचार इस किताब में शामिल हैं और इसमें राम और कृष्ण की पहेली भी शामिल है।

पाकिस्तान और भारत का विभाजन

बाबा साहेब द्वारा लिखी गई किताब पाकिस्तान और भारत का विभाजन, पाकिस्तान के निर्माण और गांधी और जिन्ना की राजनीति पर है। इससे पाकिस्तान और भारत का विभाजन समझ आने के साथ उस समय की स्थिति भी समझ आ जाएगी।

संघ बनाम स्वतंत्रता

संघ बनाम स्वतंत्रता किताब अम्बेडर द्वारा भारत के संघीय ढ़ांचे (फेडरल स्ट्रक्चर) पर विचार के लिए लिखी गई थी।

जाति का विनाश

जाति का विनाश डॉ. बीआर अंबेडकर को जात-पात तोड़क मंडल के मंच पर देना था। इसमें अछूत जातियों के लोगों, साथ ही महिलाओं को धर्म के तहत प्रताड़ित करने का उल्लेख किया है। 

भीमराव अम्बेडकर की किताबें (सूची)

Ambedkar Books in Hindi) की लिस्ट इस प्रकार दी जा रही हैः

संख्याबुक्सप्रकाशन वर्षलिंक
1जाति का विनाश1936यहां से खरीदें
2वीजा के लिए इंतजारयहां से खरीदें
5काॅस्ट इन इंडियायहां से खरीदें
6रुपये की समस्या: उद्भव और समाधान1923यहां से खरीदें
7द इवोल्यूशन ऑफ प्रोवेंशियल फाइनेंस इन ब्रिटिश इंडिया1925यहां से खरीदें
8बहिष्कृत भारत (वीकली) (न्यूजपेपर)1927यहां से खरीदें
9जनता (वीकली) (न्यूजपेपर)1930यहां से खरीदें
10जाति का उच्छेद1937यहां से खरीदें
11संघ बनाम स्वतंत्रता1939
12पाकिस्तान पर विचार1940यहां से खरीदें
13श्री गांधी एवं अछूतों की विमुक्ति1942यहां से खरीदें
14रानाडे, गांधी और जिन्ना1943यहां से खरीदें
15कांग्रेस और गांधी ने अछूतों के लिए क्या किया1945यहां से खरीदें
16शूद्र कौन और कैसे1948यहां से खरीदें
17महाराष्ट्र भाषाई प्रांत1948यहां से खरीदें
18भगवान बुद्ध और उनका धर्म1957यहां से खरीदें
19भारत का संविधानयहां से खरीदें
20अम्बेडकर का भारतयहां से खरीदें

बाबा साहेब ने कितनी पुस्तकें लिखी थीं?

बाबा साहेब नौ भाषाओं के जानकार थी और उनकी लाइब्रेरी में 50 हजार से अधिक किताबें थीं। उन्होंने उस समय भारत की स्थिति देखते हुए कई किताबें लिखीं थीं। बाबा साहेब के द्वारा 40 से अधिक किताबें लिखी गई हैं। इसके अलावा उनके जीवन और चिंतन पर भी 18 किताबें लिखी गई हैं।

FAQs

अम्बेडकर द्वारा लिखित महान पुस्तक कौन सी है?

डॉ बी आर अम्बेडकर के द्वारा लिखी गई कई किताबें अच्छी हैं, लेकिन महान पुस्तक में उनकी लिखी हुई किताब एनिहिलेशन ऑफ़ कास्ट शामिल है।

अम्बेडकर के पुस्तकालय में कितनी पुस्तकें थीं?

अंबेडकर के राजगृह में अपने समय के दौरान 50,000 से अधिक किताबें थीं।

अम्बेडकर ने अपने जीवन में कितनी पुस्तकें पढ़ीं?

अम्बेडकर ने अपने जीवनकाल में लगभग 50,000 किताबें पढ़ी थीं।

अंबेडकर के गुरु कौन थे?

अंबेडकर के गुरु कृष्ण केशव अंबेडकर थे।

भारतीय संविधान के निर्माता कौन हैं?

भारतीय संविधान के निर्माता डॉ बाबा साहेब हैं।

आशा है कि इस ब्लाॅग में आपको Ambedkar Books in Hindi के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी। इसी तरह के अन्य ट्रेंडिंग आर्टिकल्स पढ़ने के लिए Leverage Edu के साथ बने रहें।

प्रातिक्रिया दे

Required fields are marked *

*

*

8 comments
  1. बाबा साहब थे इसलिए आज हम हैं, उन्हीं के कारण वर्तमान समय में हम मानवीय जीवन जीवन जी रहे हैं। परम पूज्य बाबा साहब के चरणों में शत-शत व साधुवाद।

  1. बाबा साहब थे इसलिए आज हम हैं, उन्हीं के कारण वर्तमान समय में हम मानवीय जीवन जीवन जी रहे हैं। परम पूज्य बाबा साहब के चरणों में शत-शत व साधुवाद।