IT इंजीनियर कैसे बनें?

2 minute read
51 views
IT इंजीनियर कैसे बनें

इनफार्मेशन एंड टेक्नोलॉजी आज के दौर में हर जगह अपनी जगह बना चुकी है। हर दिन बेहतर टेक्नीक्स और आइडियाज की और बढ़ती दुनिया नई और इनोवेटिव चीज़ों को पसंद करता है। तो अगर आप टेक्नोलॉजी की तरफ रुझान रखते हैं और मुख्य रूप से कोडिंग, डेवलपिंग और डिजाइनिंग में इंटरेस्ट रखते है तो ये ब्लॉग आपके लिए है। इंजीनियरिंग की ब्रांच होने के कारण इस क्षेत्र में आपको फिजिक्स, मैथमेटिक्स और केमिस्ट्री जैसे सब्जेक्ट्स में माहिर होना होगा। इंटरफोर्मशन एंड टेक्नोलॉजी में नॉलेज और इस क्षेत्र में कैसे भविष्य बनाएं ये जानने के लिए इस ब्लॉग को आखिर तक पढ़ें।  

फील्ड का पूरा नाम  इनफार्मेशन एंड टेक्नोलॉजी इंजीनियरिंग 
टॉप यूनिवर्सिटीज  मैसाचुसेट्स इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, ETH ज़ुरिक, द यूनिवर्सिटी ऑफ़ मेलबॉर्न, यूनिवर्सिटी ऑफ़ टोरंटो, यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफोर्निया (लॉस एंजल्स)
टॉप बैचलर कोर्सेज  Bachelors of Technology, Bachelor of Information Technology, Bachelor of Science in IT, Bachelor of Software Engineering (BSE)
टॉप मास्टर्स कोर्सेज  Masters of Technology, MSc Technology, Masters of IT, Masters of Information Management and Systems, Masters of Science in IT
टॉप डिप्लोमा कोर्सेज  Certificate course in digital signal processing, Post graduate diploma in wireless and mobile computing, Short course on developing industrial internet of things, Certificate in responsive website basics – code with HTML, CSS, and JavaScript, Certificate in java programming – solving problems with software
एंट्रेंस एग्जाम  WBJEE JECA, BVP B-CAT, MAH MCA CET, JEE Main, NIMCET आदि। 
टॉप रिक्रूटिंग एरियाज  एरोनॉटिकल मिलिट्री फील्ड, कॉर्पोरेट बिज़नेस, मोबाइल कम्युनिकेशन्स, IT इंडस्ट्री, टेलीकम्यूनिकेशन 

IT इंजीनियरिंग क्या है?

इन्फॉर्मेशन एंड टेक्नोलॉजी में इंजीनियरिंग काफी फैला हुआ आस्पेक्ट है जिसमें आपके कंप्यूटर सिस्टम के हार्डवेयर से लेकर सॉफ्टवेयर तक की जानकारी का समावेश शामिल है। एक IT प्रोफेशनल कंप्यूटर सिस्टम को डिज़ाइन करने, उसकी प्रोसेसिंग के कार्य की अपडेट लेने से लेकर सॉफ्टवेयर डिज़ाइन और उसकी प्रॉब्लम्स से डील करने तक का काम करते हैं जिसमें काफी बेहतरीन स्किल्स की आवश्यकता पड़ती है। इनमें शामिल कोर्सेज में मुख्य रूप से आपको सॉफ्टवेयर डिज़ाइन और डेवलपमेंट के बारे में सिखाया जाता है जिसके अंदर हार्डवेयर की बेसिक नॉलेज को भी इम्पोर्टेंस दी जाती है। एक IT प्रोफेशनल बनना आसान टास्क नहीं होता। तो अगर इसमें रूचि रखते हैं तो ही इस फील्ड को अपना करियर चुनें। 

IT इंजीनियर कौन होते हैं?

IT इंजीनियर हाई लेवल IT प्रोफेशनल्स होते हैं जो किसी भी कंपनी के कंप्यूटर सिस्टम को डिज़ाइन, इनस्टॉल और मेन्टेन करने की ज़िम्मेदारी लेते हैं। एक IT इंजीनियर ही कंपनी सिस्टम्स, सॉफ्टवेयरस, और नेटवर्क सिस्टम्स की टेस्टिंग, कॉन्फ़िगरिंग और दिक्कतों को समझने और उन्हें सॉल्व करने के लिए ज़िम्मेदार माना जाता है। इसके साथ साथ बाकी स्टाफ को ट्रेन करने और मेन प्रोजेक्ट्स को मैनेज करने का कार्य भी एक IT प्रोफेशनल यानि IT इंजीनियर को ही दिया जाता है। एक कंपनी को बेहतर तरीके से चलाने के लिए हर कंपनी को एक ज़िम्मेदार IT टीम की आवश्यकता होती है। 

IT इंजीनियर बनने के लिए स्किल्स 

हर प्रोफेशनल कोर्स की तरह या कहिए की हर प्रोफेशन के लिए कुछ अनिवार्य स्किल्स की आवश्यकता होती है IT इंजीनियर बनने के लिए जिन आवश्यक स्किल्स की आपको ज़रूरत होगी वह निम्नलिखित हैं :-

  • एक IT इंजीनियर बनने के लिए आपको कंप्यूटर सिस्टम की नॉलेज होनी चाहिए। यह एक ऐसी फील्ड है जिसमें आपको सिस्टम से जुड़े कई टास्कस और टेक्नोलॉजी के बारे में सीखना अनिवार्य होगा जिसके बिना आपकी एक्टिविटीज़ अधूरी साबित हो सकती है। 
  • कंप्यूटर सिस्टम की जानकारी होना एक बेसिक स्किल में भी गिना जा सकता है लेकिन इसके साथ अगर आप प्रोग्रामिंग का भी ज्ञान रखते हैं तो यह कोर्स आपके लिए काफी फायदेमंद साबित होगा। 
  • इंजीनियरिंग की फील्ड में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का ज़िक्र आज के दौर में काफी प्रसिद्ध है। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का बोल बाला आज के युवाओं पर अपनी छाप छोड़ चुका है। जिसके चलते काफी युवा अपना करियर उसमें बनाने का निर्णय लेते हैं। IT इंजीनियर बनने के लिए अगर आप इस फील्ड में दिलचस्पी रखते है तो भविष्य में मिलने वाले कई बेहतरीन द्वार आपके लिए खुल जाते हैं। इसके साथ अगर आप इसकी बेसिक नॉलेज रखते हैं तो IT इंजीनियर बनना आपके लिए काफी आसान हो सकता है। 
  • इंजीनियरिंग के क्षेत्र में मशीन का ज़िक्र न हो ऐसा भला हो सकता है? मशीनों में आपका इंटरेस्ट आपको IT इंजीनियर बनने के रास्ते में काफी काम आएगा। लेकिन अगर आप अपना करियर IT में बनान चाहते हैं मशीन लर्निंग और उसमें बेहतर परफॉर्म करने की स्किल आप में होनी चाहिए। 
  • इसके अलावा एक IT इंजीनियर को IT से जुड़ी और भी कई परेशानिओं का सामना करना पड़ सकता है। तो आप में उन सभी परेशानिओं की नॉलेज और टैकल करने की कला का होना आवश्यक होगा।  

IT इंजीनियर कैसे बनें? स्टेप बाय स्टेप गाइड 

इनफार्मेशन एंड टेक्नोलॉजी में इंजीनियरिंग करने के लिए इस प्रोसेस को फॉलो करें और IT में अपना करियर बनाएं:-

  • स्टेप 1 : बैचलर डिग्री इन कंप्यूटर – सबसे पहले अपको कंप्यूटर विषय में बैचलर डिग्री प्राप्त करनी होती है जैसे बी.टेक इन कंप्यूटर साइंस, बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन, बी.टेक इन इनफॉरमेशन टेक्नोलॉजी
  • स्टेप 2: प्रोग्रामिंग लैंग्वेज – एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का आना जरूरी है। प्रोग्रामिंग लैंग्वेज जैसे  C language, C++, Java, Java script, SQL, Python, Ruby
  • स्टेप 3: अपने प्रोग्रामिंग लॉजिक को और अच्छा बनाएं – एक अच्छा सॉफ्टवेयर बनने के लिए प्रोग्रामिंग लॉजिक अच्छा और अनोखा होना चाहिए। जब भी सॉफ्टवेयर इंजीनियर कोई एप्लीकेशन या वेबसाइट बनाते हैं तो उन्हें अपने अनोखे लॉजिक का इस्तेमाल करना होता है।
  • स्टेप 4: सॉफ्टवेयर बनाने का प्रयत्न करें – जब आपको प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का ज्ञान हो जाता है। आपको कुछ अनोखे और अच्छे सॉफ्टवेयर, ऐप या वेबसाइट बनाना शुरू कर देना चाहिए। अगर आप ऐसा करते हैं तो आपकी कोडिंग स्किल्स भी बेहतर होंगी।
  • स्टेप 5: इंटर्नशिप के लिए आवेदन करें – यदि आपके पास कंप्यूटर साइंस में बैचलर्स की डिग्री है। आप मुख्य प्रोग्रामिंग भाषाएं जानते हैं और सॉफ्टवेयर बनाना जानते हैं। तो आपको इंटर्नशिप के लिए आवेदन करना चाहिए।
  • स्टेप 6: मास्टर्स डिग्री – सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में अगर आप हाईएस्ट सैलरी प्राप्त करना चाहते हैं तो मास्टर्स डिग्री प्राप्त करके किसी कंपनी में जॉब कर सकते हैं।

IT इंजीनियर बनने के लिए टॉप कोर्सेज 

इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में अपना करियर बनाने के लिए आप इन कोर्सेज में से एक चुन सकते हैं। नीचे लिस्ट में कुछ पॉपुलर डिग्री प्रोग्राम्स को लिस्ट किया गया है :-

बैचलर लेवल 

  • Bachelors of Technology
  • Bachelor of Information Technology
  • Bachelor of Science in IT
  • Bachelor of Software Engineering (BSE)
  • Bachelor in Software Development
  • Bachelor in Software and Data Engineering
  • Software Development and Entrepreneurship (Professional Higher Education)
  • BSc in Computer Science and Engineering
  • B.Tech. Software Engineering

मास्टर्स लेवल 

  • Masters of Technology
  • MSc Technology
  • Masters of IT
  • Masters of Information Management and Systems
  • Masters of Science in IT
  • Masters of Business Administration in Information Technology
  • MTech in Information Technology
  • MBA in Information Technology
  • MBA in Quality Management
  • MBA in Marketing
  • MBA in Finance
  • MBA in Operations
  • ME in Software Engineering
  • M.Sc. in Software Systems
  • MTech. Software Engineering

डिप्लोमा कोर्सेज 

  • Certificate course in digital signal processing
  • Post graduate diploma in wireless and mobile computing
  • Short course on developing industrial internet of things
  • Certificate in responsive website basics – code with HTML, CSS, and JavaScript
  • Certificate in java programming – solving problems with software
  • Java, Python, C, C++, SQL, HTML and other language embedded course
  • Software Testing
  • Data Visualization Course
  • Mobile app development Course
  • DBA
  • MySQL

IT इंजीनियर बनने के लिए विदेश की टॉप यूनिवर्सिटीज

इनफार्मेशन एंड टेक्नोलॉजी में इंजीनियरिंग करने के लिए विदेश की टॉप यूनिवर्सिटीज के नाम नीचे दिए गए हैं:-

IT इंजीनियर बनने के लिए भारत की टॉप यूनिवर्सिटीज 

इनफार्मेशन एंड टेक्नोलॉजी में इंजीनियरिंग करने के लिए भारत की टॉप यूनिवर्सिटीज के नाम नीचे दिए गए हैं-

  • MIT मणिपाल- मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी 
  • VIT वेल्लोर-वेल्लोर इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी 
  • COEP पुणे-कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग 
  • SRM यूनिवर्सिटी चेन्नई-SRM इंस्टिट्यूट ऑफ़ साइंस एंड टेक्नोलॉजी 
  • DSCE बैंगलोर- दयानंद सागर कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग 
  • RVCE बैंगलोर-RV कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग 
  • MSU बड़ोदा- महाराजा सयाजीराव यूनिवर्सिटी ऑफ़ बड़ोदा 
  • PSG टेक कोइम्बटोर-PSG कॉलेज ऑफ़ टेक्नोलॉजी 
  • MSRIT बैंगलोर-रमईया इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी 
  • DTU दिल्ली-दिल्ली टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी 
  • LDCE अहमदाबाद-LD कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग 
  • LPU जलंधर-लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी 
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, मद्रास
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ साइंस
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, बॉम्बे
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, दिल्ली
  • जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी
  • बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी
  • कोलकाता यूनिवर्सिटी
  • मणिपाल एकेडमी ऑफ़ हाईयर एजूकेशन
  • बिरला इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी एंड साइंस
  • दिल्ली यूनिवर्सिटी
  • होमी भाभा नेशनल यूनिवर्सिटी
  • केरला यूनिवर्सिटी
  • महात्मा गांधी यूनिवर्सिटी
  • गुजरात यूनिवर्सिटी
  • अमिता विश्वविद्यापीठ

योग्यताएं 

यदि आप IT इंजीनियर बनने के क्षेत्र में डिग्री प्राप्त करने के इच्छुक हैं, तो आपको अपने चुने हुए विश्वविद्यालय द्वारा निर्धारित योग्यताओं को पूरा करना होगा। ये आवश्यकताएं कोर्सेज के स्तर के अनुसार भिन्न होती हैं, जैसे बैचलर, मास्टर या डिप्लोमा। IT इंजीनियरिंग कोर्स के लिए कुछ सामान्य योग्यताएं इस प्रकार हैं:

  • बैचलर्स डिग्री प्रोग्राम के लिए ज़रुरी है कि उम्मीदवारों ने किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 10+2(PCM/PCMB) में कम से कम 50 % मार्क्स अर्जित किए हों।
  • कुछ यूनिवर्सिटीज प्रवेश परीक्षा के आधार पर भी एडमिशन स्वीकार करतीं हैं।
  • विदेश की अधिकतर यूनिवर्सिटीज मास्टर्स कोर्सेज के लिए GRE स्कोर की मांग करते हैं।
  • साथ ही मास्टर्स में एडमिशन के लिए आपकी अंडरग्रेजुएट डिग्री में कम से कम 50 % मार्क्स का होना आवश्यक है। इसके साथ आपको यह भी सुनिश्चित करना होगा की आपकी ग्रेजुएशन भी इंजीनियरिंग (BE/BTech) में ही किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से पास की हो। 
  • विदेश की यूनिवर्सिटीज में एडमिशन के लिए IELTS या TOEFL टेस्ट स्कोर, अंग्रेजी प्रोफिशिएंसी के प्रमाण के रूप में ज़रूरी होते हैं।
  • विदेश यूनिवर्सिटीज में पढ़ने के लिए SOP, LOR, सीवी/रिज्यूमे और पोर्टफोलियो भी जमा करने की ज़रूरत होती है।

आवेदन प्रक्रिया 

विदेश के विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए आवेदन प्रक्रिया इस प्रकार है:

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप AI Course Finder की सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • एक्सपर्ट्स से कॉन्टैक्ट के पश्चात वे कॉमन डैशबोर्ड प्लेटफॉर्म के माध्यम से कई विश्वविद्यालयों की आपकी आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेज़ों जैसे SOP, निबंध, सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टैस्ट स्कोर जैसे IELTS, TOEFL, SAT, ACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTS, TOEFL, PTE, GMAT, GRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप Leverage Live कक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज़ जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीज़ा और छात्रवृत्ति/छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लैटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। 

भारत के विश्वविद्यालयों में आवेदन प्रक्रिया, इस प्रकार है:

  • सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  • यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूज़र नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  • फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  • अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  • इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  • यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

आवश्यक दस्तावेज़ 

कुछ जरूरी दस्तावेजों की लिस्ट नीचे दी गई हैं–

एंट्रेंस एग्ज़ाम 

IT इंजीनियरिंग के कोर्सेज में एडमिशन के लिए नीचे दिए गए एंट्रेंस एग्जाम महत्वपूर्ण माने गए हैं-

  • WBJEE JECA 
  • BVP B-CAT 
  • MAH MCA CET 
  • JEE Main 
  • NIMCET 
  • JEE Advanced 
  • GATE 
  • ACT 
  • GMAT 
  • GRE 
  • MHT CET 
  • COMEDK 

करियर स्कोप 

किसी भी इंजीनियरिंग टर्म में आप अपने करियर की शुरुआत बारहवीं में अपने पसंद के सब्जेक्ट को चुनकर करते हैं। लेकिन उसके बाद के फैसलों में आपके पास कई सारे ऑप्शंस मौजूद होते हैं जिनमें से एक को चुनकर आप अपने करियर में आगे बढ़ते हैं। अगर आप एक IT इंजीनियर बनना चाहते हैं तो आपको अपनी बैचलर्स भी उसी हिसाब से चुनकर आगे की पढ़ाई को जारी रखना होगा। अगर आप सर्टिफिकेट या डिप्लोमा कोर्सेज की तरफ जाते हैं तो आपकी पढ़ाई का रास्ता उसी हिसाब से आगे बढ़ेगा। 

IT सेक्टर बेहतरीन विकल्पों का भंडार है जिसमें आप अपनी पढ़ाई के बाद कई सारे ऑप्शंस एक्सप्लोर कर सकते हो। फिर चाहे वो पब्लिक सेक्टर हो या प्राइवेट सेक्टर नौकरी के बेहतरीन ऑप्शंस आपके लिए उपलब्ध हैं। कुछ मोस्ट पॉपुलर जॉब रोल्स का नाम नीचे मेंशन किया गया है :-

टॉप रिक्रूटिंग एरियाज 

एक IT इंजीनियर के लिए दुनिया भर में काफी ऑप्शंस अवेलेबल हैं लेकिन बेस्ट रिक्रूटमेंट एरियाज की बात की जाए जो एक IT इंजीनियर को सबसे ज़्यादा फायदा दे सकती हैं वो निम्नलिखित हैं :-

  • एरोनॉटिकल मिलिट्री फील्ड 
  • कॉर्पोरेट बिज़नेस 
  • मोबाइल कम्युनिकेशन्स 
  • IT इंडस्ट्री 
  • टेलीकम्यूनिकेशन 
  • इंटरनेट टेक्नोलॉजी कंपनीज़ 
  • पॉवर इलेक्ट्रॉनिक्स इंडस्ट्री 
  • MNCs 
  • रिसर्च एंड डेवलपमेंट लेबोरेटरीज़ 
  • डिफेंस आर्गेनाईजेशन 
  • टेक्सास इंडस्ट्रीज 

IT इंजीनियर की एवरेज सैलरी 

IT इंजीनियर कैसे बनें यह जानने के साथ एक IT इंजीनियर की सैलरी कितनी होती है, यह जानना ज़रूरी है। नीचे IT इंजीनियर की सैलरी दी गई हैं-

  • एक IT इंजीनियर की सैलरी अलग-अलग कंपनियों के अनुसार अलग-अलग होती है।
  • ज़्यादातर IT इंजीनियर की सैलरी उनकी काबिलियत और नॉलेज पर सेट की जाती है। इसके साथ साथ आपका एक्सपीरियंस भी काफी माईने रखता है। 
  • एक IT इंजीनियर की शुरुआती सैलरी कम से कम INR 20-40 हजार प्रति माह होती है।
  • दिल्ली और बेंगलुरु जैसे शहरों में एक IT इंजीनियर को सैलरी INR 45-50 हजार प्रति माह तक मिलने के आसार होते हैं। यह इसलिए भी है क्योंकि ज़्यातर IT कंपनीज़ इन्ही शहरों में स्थित है। 
  • अगर कोई गूगल जैसे मल्टीनेशनल कंपनी में काम करता है तो उसकी सैलरी INR 1 करोड़ प्रति वर्ष तक भी हो सकती है। लेकिन फिर यहाँ बात आपके टैलेंट और नॉलेज पर आती है। 
  • Glassdoor के मुताबिक अमेरिका में सालाना एवरेज सैलरी USD 76K (INR 62.65 लाख) और यूके में GBP 33,358 (INR 30.41 लाख) होती है।

FAQs 

IT का कोर्स कितने साल का होता है?

आईटी कोर्स आमतौर पर तीन प्रकार के होते है, जिमसे डिप्लोमा, सर्टिफिकेट, और डिग्री कोर्स शामिल है। इन अगर आप डिप्लोमा कोर्स चुनते है, तो यह 6 महीने से 1 साल तक होते है, और सर्टिफिकेट कोर्स 3 महीने से लेकर एक साल तक होते है। लेकिन डिग्री कोर्स कम से कम 3 साल का होता है।

IT इंजीनियर का क्या काम होता है?

IT कोर्स के अंतर्गत इनफार्मेशन सिस्टम का अध्यनन किया जाता है, जिसमें सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन और कंप्यूटर  हार्डवेयर का उपयोग करके इनफार्मेशन को स्टोर, प्रोटेक्ट, प्रोसेस, ट्रांसमिट और सिक्योर करना सिखाया जाता है. हम सब जानते है, आज पूरी दुनिया कंप्यूटर पर निर्भर है और IT इस प्रकार की कंप्यूटर टेक्नोलॉजी को बढ़ावा देता है।

IT इंजीनियर बनने के लिए क्या करना चाहिए?

इंजीनियर बनने के लिए सबसे ज्यादा जरुरी है की आपने कक्षा 12 वीं की पढ़ाई साइंस स्ट्रीम में की हो, क्योंकि साइंस स्ट्रीम के छात्र ही इंजीनियरिंग कॉलेज में दाखिला ले सकते हैं। भारत में इंजीनियरिंग के आईआईटी, बीआईटी, एनआईटी जैसे कई बड़े मान्यताप्राप्त संस्थान है जो इंजीनियरिंग के लिए दाखिला प्रदान करते हैं।

उम्मीद है, IT इंजीनियर कैसे बनें आपको पता चल गया होगा। यदि आप विदेश में IT इंजीनियरिंग का कोर्स करना चाहते हैं तो 1800572000 पर कॉल करके Leverage Edu एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें और बेहतर गाइडेंस पाएं। 

प्रातिक्रिया दे

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today. IT
Talk to an expert