BNYS कोर्स क्या है?

1 minute read
BNYS course kya hai

असंतुलित जीवन शैली, अनहेल्थी आहार और अत्यधिक कार्यभार ने सभी ऐज ग्रुप्स में मानसिक और शारीरिक तनाव में वृद्धि की है। स्वस्थ स्वास्थ्य की तलाश में, लोग अब प्राकृतिक चिकित्सा, एक्यूपंक्चर और योग जैसी वैकल्पिक औषधीय प्रणालियों की ओर रुख कर रहे हैं। ऐसे में BNYS कोर्स की मांग निरंतर बढ़ रही है। यह एक ऐसा कोर्स है जो हानिकारक दवाओं के उपयोग के बिना लोगों का इलाज करता है। आइए BNYS course kya hai के बारे में विस्तार से जानते हैं।

कोर्स BNYS फिज़िक्स
फुल फॉर्म Bachelor in Naturopathy and Yoga Science
अवधि 4.5–5.5 साल + 1 साल की इंटर्नशिप
कोर्स स्तर अंडरग्रेजुएट
योग्यता PCM/PCB के साथ 10+2
प्रवेश प्रक्रिया मेरिट/ प्रवेश परीक्षा द्वारा आधारित
प्रवेश परीक्षा NEET, CG BNYS
स्पेशलाइजेशन 1. न्यूट्रीशन थैरेपी
2. हर्बल/बोटेनिकल मेडिसिन
3. होमियोपैथेटिक मेडिसिन
4. एक्यूपंक्चर
5. नेचुरल चाइल्ड बर्थ
कोर्स के बाद रोजगार के अवसर 1.पैरा-क्लिनिकल एक्सपर्ट
2.  योग ट्रेनर
3. आयुर्वेद सलाहकार
4. प्राकृतिक चिकित्सक (naturopath)
5. आयुष प्रैक्टिशनर 

BNYS कोर्स क्या है ?

बैचलर ऑफ़ नैचरोपैथी एंड योगिक साइंस कोर्स, जिसे BNYS के नाम से जाना जाता है, एक 4.5 साल का कोर्स है। इस कोर्स में प्राकृतिक चिकित्सा के साथ-साथ उपचार की आधुनिक पद्धति का इंटीग्रेटेड अध्ययन शामिल है। आयुर्वेदिक या होम्योपैथिक चिकित्सा में करियर बनाने की इच्छा रखने वाले उम्मीदवार इस कोर्स को चुन सकते हैं। चिकित्सा इतिहास और सिद्धांत के अलावा, कोर्स में प्राकृतिक चिकित्सा और योग के क्षेत्र में सर्वांगीण शिक्षा प्रदान करने के लिए प्रैक्टिकल सेशन भी शामिल हैं। इस कोर्स की लोकप्रियता के कारण लोगों में योग और प्राकृतिक चिकित्सा के लाभों के बारे में जागरूक होने की संभावना काफी बढ़ गई है।

BNYS कोर्स की पढ़ाई क्यों करें?

योग और प्राकृतिक चिकित्सा वर्तमान दुनिया में वैकल्पिक चिकित्सा के तहत सबसे लोकप्रिय विशेषज्ञताओं में से एक के रूप में उभर रहे हैं। BNYS का अध्ययन करके, आप विशेषज्ञता प्राप्त कर सकते हैं और निजी और सार्वजनिक क्षेत्र में आकर्षक नौकरियां पा सकते हैं। अल्टरनेटिव चिकित्सा का अध्ययन करने के इच्छुक लोगों के लिए BNYS कोर्स सबसे अच्छा विकल्प क्यों है, इसके प्रमुख कारण यहां दिए गए हैं।

  • वर्तमान समय में समग्र चिकित्सा और योग प्रथाओं का दायरा बढ़ता जा रहा है और भारत उन लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र बनता जा रहा है जो योग विज्ञान और प्राकृतिक चिकित्सा के बारे में सीखना चाहते हैं।
  • प्राकृतिक चिकित्सा, अपने आप में अध्ययन का एक व्यापक क्षेत्र है और इसमें विभिन्न वैकल्पिक चिकित्सा पद्धतियां और विशेषज्ञताएं शामिल हैं, इस प्रकार BNYS कोर्स का अध्ययन करने के बाद करियर के कई सुनहरे अवसर उपलब्ध हैं।
  • BNYS कोर्स पूरा करने के बाद, आप उद्यमिता, योगिक थेरेपी, प्राकृतिक चिकित्सा केंद्र, आयुष, समग्र चिकित्सा, आयुर्वेदिक चिकित्सा आदि में नौकरी के अवसरों को चुन सकते हैं।

BNYS में लोकप्रिय विशेषज्ञता

BNYS की विभिन्न विशेषज्ञताएँ हैं। ग्रेजुएट होने के बाद, छात्र उच्च अध्ययन का विकल्प चुन सकते हैं या अपनी विशेषज्ञता के आधार पर अपना करियर शुरू कर सकते हैं। BNYS के दौरान छात्रों द्वारा निम्नलिखित विशेषज्ञताएँ प्राप्त की जा सकती हैं:

  • न्यूट्रीशन थैरेपी
  • हर्बल/बोटेनिकल मेडिसिन
  • होमियोपैथेटिक मेडिसिन
  • एक्यूपंक्चर
  • नेचुरल चाइल्ड बर्थ
  • न्यूट्रीशन थैरेपी – छात्र व्यक्तिगत पोषण प्रक्रियाओं के माध्यम से कुछ चिकित्सीय स्थितियों के उपचार के बारे में जान सकते हैं। इस विशेषज्ञता के माध्यम से आहार, पोषण और स्वास्थ्य परिणामों के बीच संबंधों के बारे में अध्ययन किया जाता है।
  • नेचुरल चाइल्ड बर्थ – यह विशेषज्ञता महिलाओं को प्राकृतिक प्रसव में सहायता करने के बारे में ज्ञान प्रदान करती है। इस विशेषज्ञता के माध्यम से जन्म योजना बनाना, पोषण, माँ और बच्चे दोनों के स्वास्थ्य की निगरानी करना सीखा जा सकता है।
  • हर्बल/बोटेनिकल मेडिसिन – यह प्राकृतिक चिकित्सा की एक शाखा है जिसमें रोगों के उपचार में विभिन्न प्रकार के पौधों का औषधीय एजेंट के रूप में उपयोग किया जाता है। इस विशेषज्ञता को पूरा करके छात्र एक प्राकृतिक चिकित्सक के रूप में अपना करियर बना सकता है।
  • होम्योपैथिक चिकित्सा – होम्योपैथी को प्राकृतिक चिकित्सा से थोड़ा अलग माना जा सकता है, इसे विशेषज्ञता के रूप में भी शामिल किया गया है। होम्योपैथिक दवा रोगी के लक्षणों को जानकर और बिना किसी साइड इफेक्ट के असरदार दवा बनाई जाती है।
  • एक्यूपंक्चर – प्राकृतिक चिकित्सा के एक भाग के रूप में शामिल, एक्यूपंक्चर शरीर के उन विशेष बिंदुओं का अध्ययन करता है जिन्हें “एक्यूपॉइंट” कहा जाता है, जिन्हें विभिन्न रोगों के उपचार के लिए धातु की सुइयों की मदद से उत्तेजित किया जाता है।

BNYS विषय और सिलेबस

BNYS course kya hai जानने के बाद आइए BNYS के अंतर्गत पढ़ाए जाने वाले विषयों और सिलेबस पर एक नज़र डालते हैं–

I साल II साल
ह्यूमन एनाटॉमी बेसिक फार्माकोलॉजी
फिलोसॉफी ऑफ नेचुरल क्योर माइक्रोबायोलॉजी
बायोकेमिस्ट्री कलर एंड मैग्नेटो थैरेपी I
प्रिंसिपल ऑफ योगा पैथोलॉजी
ह्यूमन फिजियोलॉजी कलर एंड मैग्नेटो थैरेपी II
हॉस्पिटल मैनेजमेंट कम्युनिटी मेडिसिन
फोरेंसिक मेडिसिन टॉक्सिकोलॉजी
III साल IV साल
मैनिपुलेटिव थैरेपी क्लिनिकल नेचुरोपैथी
नेचुरोपैथिक एंड मॉडर्न डायग्नोसिस योग थैरेपी
न्यूट्रीशन एंड हर्बोलॉजी फास्टिंग एंड डाइट थैरेपी
साइकोलॉजी एंड बेसिक साइकेट्री फिजिकल मेडिसिन एंड रिहैबिलिटेशन
रिसर्च मेथोडोलॉजी एंड रीसेंट एडवांसेज हाइड्रोथेरेपी एंड मड थैरेपी
एक्यूपंक्चर, एक्यूप्रेशर, रिफ्लेक्सोलॉजी और प्रानिक
हीलिंग 
इमरजेंसी मेडिसिन, माइनर सर्जरी एंड फर्स्ट एड
योगा एंड फिजिकल कल्चर ऑब्सटेट्रिक्स एंड गाइनेकोलॉजी

विदेश में BNYS कोर्स के लिए टॉप विश्वविद्यालय

विदेशों में BNYS कोर्स की पेशकश करने वाले कुछ बेहतरीन विश्वविद्यालयों और संस्थानों की सूची यहां दी गई है:

यूनिवर्सिटी वार्षिक फीस
यूनिवर्सिटी ऑफ वेस्ट केप 1.73-2 लाख
ब्रिजपोर्ट यूनिवर्सिटी 12.8 लाख
टॉरेंस यूनिवर्सिटी 12.3 लाख
जैकब्स यूनिवर्सिटी ब्रेमेन
सिडनी यूनिवर्सिटी 30–35 लाख
लंदन मेट्रोपॉलिटन यूनिवर्सिटी 13–15 लाख 
वेस्टमिंस्टर यूनिवर्सिटी 10–15 लाख
नेशनल कॉलेज ऑफ नेचुरल मेडिसिन 20–22 लाख
नेचुरोपैथिक मेडिसिन के साउथवेस्ट कॉलेज 20–25 लाख

भारत में BNYS कोर्स के लिए टॉप कॉलेज

नीचे भारत में BNYS कोर्स की पेशकश करने वाले टॉप कॉलेजों की लिस्ट दी गई है–

कॉलेज फीस (INR में)
CMJ विश्वविद्यालय, शिलांग 10,000 
SDM कॉलेज ऑफ नेचुरोपैथी एंड योगिक साइंसेज, कर्नाटक  28,600
डॉ. NTR हेल्थ साइंस विश्वविद्यालय, विजयवाड़ा  60,000
जेएसएस इंस्टीट्यूट ऑफ नेचुरोपैथी एंड योगिक साइंसेज, नीलगिरी 79,300
डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन राजस्थान आयुर्वेद विश्वविद्यालय, जोधपुर 40,900
एडीएन मेडिकल कॉलेज और पैरामेडिकल साइंसेज,     नागपुर 7,000
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान AIIMS, दिल्ली 30,000
क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज 35,000
कस्तूरबा मेडिकल कॉलेज 15,000
मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज 20,000

योग्यता

BNYS कोर्स के लिए, उम्मीदवार को निम्नलिखित योग्यता को पूरा करना होगा–

  • उम्मीदवार को किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान (BiPC विषय) के साथ 12वीं की पढ़ाई पूरी करनी होगी।
  • भारत में कई कॉलेजों को BNYS कोर्स के लिए NEET स्कोर की भी आवश्यकता होती है ।
  • उम्मीदवार को 12वीं कक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने चाहिए, खासकर जीव विज्ञान में।
  • यदि आप विदेश में BNYS डिग्री हासिल करने की योजना बना रहे हैं, तो आपको SOP, LOR के साथ IELTS / TOEFL आदि के स्कोर प्रदान करना होगा। 
  • वहीं कुछ विश्वविद्यालय NEET और MCAT के स्कोर के आधार पर भी प्रवेश प्रदान करते है। 

प्रमुख प्रवेश परीक्षाएं

प्रवेश परीक्षा द्वारा आयोजित 
National Eligibility Entrance Test (NEET) नेशनल टेस्टिंग एजेंसी
Common Entrance Exam for Ayurveda and Homeopathy (CEEAH) गुवाहाटी विश्वविद्यालय
CG BNSY Entrance Exam छत्तीसगढ़ प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड
DSRRAU PAT डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन राजस्थान आयुर्वेद विश्वविद्यालय-जोधपुर
Punjab Ayush Entrance Test गुरु रविदास आयुर्वेद विश्वविद्यालय
Combined Pre Ayush Test UP CPAT महात्मा गांधी कृषि विद्यापीठ

प्रवेश प्रक्रिया 

BNYS course kya hai जानने के साथ ही आपको प्रवेश प्रक्रिया से परिचित होना भी जरूरी है। वैसे तो BNYS प्रवेश दो तरीको से किए जाते हैं। प्रवेश परीक्षा आधारित और मेरिट आधारित। आइए प्रवेश प्रक्रिया के बारे में विस्तार से जानते हैं–

  • प्रवेश परीक्षा आधारित प्रवेश– BNYS प्रवेश के लिए, प्रवेश अधिकारी प्रवेश परीक्षा में उनके प्रदर्शन के आधार पर छात्रों का चयन करते हैं। जहां अधिकांश संस्थान में NEET में छात्र के मार्क्स के आधार प्रवेश दिया जाता है, वहीं कुछ ऐसे भी विश्वविद्यालय हैं जो अपनी प्रवेश परीक्षा भी आयोजित करते हैं। प्रवेश परीक्षा के साथ, संस्थान व्यक्तिगत साक्षात्कार भी आयोजित कर सकते हैं। प्रवेश के दौरान दोनों कारकों को ध्यान में रखा जाएगा। व्यक्तिगत साक्षात्कार के दौरान, छात्रों से उनकी सामान्य योग्यता को समझने के लिए प्रश्न पूछे जा सकते हैं। चयनित छात्रों को उनके प्रवेश के बारे में संस्थानों द्वारा सूचित किया जाएगा।
  • मेरिट आधारित प्रवेश– हालांकि, कुछ संस्थान 10+2 (या समकक्ष) परीक्षा प्रदर्शन के आधार पर सीधे प्रवेश भी देते हैं। ये संस्थान प्रवेश परीक्षा आयोजित नहीं करते हैं और प्रवेश के लिए छात्र की योग्यता पर विचार करते हैं। ऐसे कॉलेजों में एडमिशन के लिए छात्रों को चाहिए कि वे अत्यंत उच्च अंकों के साथ अपनी 12वीं की परीक्षा उत्तीर्ण करें।

आवेदन प्रक्रिया

BNYS के लिए भारत और विदेश में आवेदन प्रक्रिया के बारे में नीचे बताया गया है–

भारतीय विश्वविद्यालयों में आवेदन प्रक्रिया

भारत के विश्वविद्यालयों में BNYS कोर्स के लिए आवेदन प्रक्रिया, इस प्रकार है–

  1. सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  2. यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  3. फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  4. अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  5. इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  6. यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

विदेश में आवेदन प्रक्रिया

विदेश के विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए आवेदन प्रक्रिया इस प्रकार है–

  1. सबसे पहले विश्वविद्यालय के आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर पंजीकरण करें। UK के लिए UCAS में आवेदन करना होगा।
  2. यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में पंजीकरण करने के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  3. फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  4. अब शैक्षिक योग्यता, IELTS, TOEFL, प्रवेश परीक्षा स्कोर, SOP, LOR, CV/Resume के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  5. इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 

आवश्यक दस्तावेज़

कुछ जरूरी दस्तावेजों की लिस्ट नीचे दी गई हैं–

  • एकेडमिक ट्रांसक्रिप्ट
  • स्कैन किया हुआ पासपोर्ट
  • प्रोफेशनल अनुभव के साथ एक CV 
  • GMAT,GRE,IELTS, TOEFL या आवश्यक टेस्ट स्कोर रिपोर्ट
  • LORs
  • SOP 

BNYS के बाद क्या करें?

BNYS कोर्स के बाद  उच्च शिक्षा प्राप्त करके आप अपने ज्ञान को एक कदम आगे बढ़ा सकते हैं। यहां कुछ मास्टर्स-स्तरीय कार्यक्रमों की सूची दी गई है, जिन्हें BNYS ग्रेजुएट कर सकता है:

  • Post Graduate Diploma in Yoga Therapy
  • MBA in Hospital Management 
  • MBA in Healthcare Management
  • M.D. in Naturopathy Medicine
  • MD in Yoga and Rehabilitation
  • MA in Yoga, Journalism and Mass Communication

BNYS कोर्स के बाद करियर विकल्प और रोजगार के अवसर

योग, भारत में लोगों द्वारा अपनाई जाने वाली स्वास्थ्य गतिविधियों का एक अनिवार्य हिस्सा बन गया है। लोगों के बीच प्राकृतिक चिकित्सा के लोकप्रिय होने के साथ, BNYS कोर्स, छात्रों को ग्रेजुएशन के बाद करियर के व्यापक अवसर प्रदान करता है। रोजगार और सफलता की संभावना इस बात पर निर्भर करती है कि छात्र किस प्रकार के करियर को चुनता है। आमतौर पर स्वरोजगार करने वाले प्राकृतिक चिकित्सक अपने क्लीनिक और उद्यम खोलकर अधिक कमाते हैं। सरकारी अस्पतालों में कार्यरत BNYS ग्रेजुएट्स की भी अच्छी कमाई होती है। खाड़ी क्षेत्र और मध्य पूर्व जैसे अंतरराष्ट्रीय परिदृश्य में नैचरोपैथी चिकित्सकों की भी मांग है। स्पा, होटल और रिसॉर्ट भी BNYS ग्रेजुएट्स के लिए रोजगार के अवसर है।

  •  पैरा-क्लिनिकल एक्सपर्ट
  •  योगा ट्रेनर
  •  आयुर्वेद सलाहकार
  •  प्राकृतिक चिकित्सक (naturopath)
  •  आयुष प्रैक्टिशनर 
  •  रिसर्चर
  •  आयुष प्रोफेसर 
  •  पोषण और आहार विशेषज्ञ

BNYS के बाद सैलरी

BNYS कोर्स के बाद, छात्र औसतन 3 लाख से 5 लाख प्रति वर्ष कमा सकते हैं। इसके अलावा वे एक (एंटरप्रेन्यूर) बनकर अपना निजी फिटनेस और योग केंद्र खोल सकते हैं और प्रति वर्ष 7 लाख से अधिक कमा सकते हैं। प्रमुख जॉब प्रोफाइल के साथ Payscale के अनुसार उनका वार्षिक वेतन नीचे दिया गया है –

जॉब प्रोफाइल भारत में वेतन  UK में वेतन USA में वेतन
पैरा-क्लिनिकल एक्सपर्ट 5-15 लाख 20-30 लाख 30-40 लाख
योगा ट्रेनर 5-10 लाख 25-30 लाख 25-44 लाख
आयुर्वेद सलाहकार 6-10 लाख 20-35 लाख 50-67 लाख
प्राकृतिक चिकित्सक (naturopath) 8-15 लाख 20-30 लाख 20-60 लाख
रिसर्चर 5-10 लाख 20-25 लाख 20-30 लाख

FAQs

BNYS के लिए प्रवेश मानदंड क्या है?

BNYS डिग्री में प्रवेश के लिए, छात्रों को संबंधित संस्थान के अधिकारियों द्वारा निर्दिष्ट पात्रता मानदंडों को पूरा करना होगा। प्रवेश आमतौर पर NEET के आधार पर किया जाता है, हालांकि कुछ संस्थान अपने स्वयं के प्रवेश परीक्षा आयोजित करते हैं और छात्रों को 10 + 2 अंकों के आधार पर प्रवेश भी दिया जाता है।

BNYS के तहत मैं किन विशेषज्ञताओं का विकल्प चुन सकता हूं?

BNYS के तहत एक छात्र जिन विभिन्न विशेषज्ञताओं का चयन कर सकता है, वे हैं – पोषण चिकित्सा, प्राकृतिक प्रसव, हर्बल/वानस्पतिक चिकित्सा, होम्योपैथिक चिकित्सा, एक्यूपंक्चर।

BNYS की अवधि क्या है?

BNYS साढ़े चार साल की डिग्री है। हालांकि, नौकरी योग्यता के लिए छात्रों को इंटर्नशिप का एक साल भी पूरा करना पड़ सकता है।

BNYS ग्रेजुएट के लिए कुछ जॉब प्रोफाइल क्या हैं?

जॉब प्रोफाइल्स, छात्र की विशेषज्ञता पर निर्भर करते हैं। छात्र अपने स्वयं के क्लीनिक खोल सकते हैं और स्वरोजगार कर सकते हैं। BNYS ग्रेजुएट्स के लिए सरकारी नौकरियां भी खुली हैं और निजी प्रतिष्ठान जैसे होटल और रिसॉर्ट में भी काम कर सकते हैं।

क्या BNYS एक अच्छा कोर्स है?

BNYS भारत में सबसे लोकप्रिय कोर्सेस में से एक है और छात्रों को समग्र योग प्रैक्टिस और वैकल्पिक चिकित्सा से परिचित कराता है। BNYS में सार्वजनिक और निजी दोनों क्षेत्रों में करियर की अपार संभावनाएं हैं और आप एक प्राकृतिक चिकित्सक के रूप में अपना करियर शुरू कर सकते हैं।

BNYS Course kya hai?

Bachelor of Naturopathy and Yogic Science कोर्स, जिसे BNYS के नाम से जाना जाता है, एक 4.5 साल का कोर्स है। इस कोर्स में प्राकृतिक चिकित्सा के साथ-साथ उपचार की आधुनिक पद्धति का इंटीग्रेटेड अध्ययन शामिल है।

हम आशा करते हैं कि आप जान गए होंगे कि BNYS course kya hai। यदि आप BNYS की पढ़ाई विदेश से करना चाहते हैं तो आप आज ही हमारे Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से सलाह ले सकते हैं, वे आपको एक उचित मार्गदर्शन प्रदान करेंगे। 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करने के लिए हमें 1800572000 पर कॉल करें।

प्रातिक्रिया दे

Required fields are marked *

*

*

6 comments