ऑस्ट्रेलिया में सिविल इंजीनियरिंग में मास्टर्स कैसे करें?

1 minute read

Dese.gov.au की 2022 की रिपोर्ट के अनुसार ऑस्ट्रेलिया में हर वर्ष 4,56,811 अंतरराष्ट्रीय छात्र पढ़ते हैं। सिविल इंजीनियरिंग में मुख्य कार्य संरचनात्मक कार्यों को डिज़ाइन करना और एक्जिक्यूट करने का पेशा होता है। सिविल इंजीनियर विभिन्न कार्य जैसे बांध, पुल, एक्वाडक्ट्स, नहरें, राजमार्ग, बिजली संयंत्र, सीवरेज सिस्टम और अन्य बुनियादी ढांचे तैयार करके उन्हें कार्य करने योग्य बनाते हैं। एक अच्छा सिविल इंजीनियर बनने के लिए आपका किसी अच्छे कॉलेज से सिविल इंजीनियरिंग में डिग्री प्राप्त करना बेहद ज़रूरी है। इस ब्लॉग में हम ऑस्ट्रेलिया में सिविल इंजीनियरिंग में मास्टर्स डिग्री के बारे में चर्चा करने जा रहें हैं।

कोर्स का लेवल पोस्टग्रेजुएट
कोर्स का नाम मास्टर्स ऑफ साइंस इन सिविल इंजीनियरिंग, मास्टर्स ऑफ टेक्नोलॉजी इन सिविल इंजीनियरिंग तथा सिविल इंजीनियरिंग से जुड़े सभी पोस्ट ग्रेजुएट कोर्सेज 
अवधि लगभग 2 वर्ष
योग्यता किसी भी मान्यता प्राप्त संस्थान से सिविल इंजीनियरिंग या उससे जुड़े किसी कोर्स में बैचलर डिग्री 
एडमिशन प्रक्रिया  मेरिट या फिर एंट्रेंस एग्ज़ाम के माध्यम से 
जॉब प्रोफाइल  सिविल इंजीनियर, आर्किटेक्ट, मैनेजर, साइट मैनेजर, कस्टमर एग्जीक्यूटिव ऑफिशियल, असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव इंजीनियर इत्यादि। 
टॉप विदेशी कंपनियां Larsen & Toubro, United Cement Pvt Ltd, Toshiba आदि
टॉप भारतीय कंपनियां L&T, Tata इत्यादि

ऑस्ट्रेलिया में सिविल इंजीनियरिंग में मास्टर्स कोर्स क्यों करें?

ऑस्ट्रेलिया इसकी उत्कृष्ट डिग्री के लिए ग्लोबल स्तर पर अच्छी पहचान रखता है, तथा किसी भी डिग्री के लिए यहां के एजुकेशन सिस्टम में बहुत विविधता शामिल है। ऑस्ट्रेलिया एक ऐसा देश है जो टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में अन्य देशों से कॉन्पिटिटिव स्तर पर रहता है। ऑस्ट्रेलिया अंतरराष्ट्रीय स्तर के विद्यार्थियों को अपनी और आकर्षित करने में काफी हद तक सक्षम है। सिविल इंजीनियरिंग, इंजीनियरिंग की वह ब्रांच है जिसमें बुनियादी ढांचा, योजना बनाने से लेकर डिजाइनिंग, निर्माण, संचालन और रखरखाव शामिल है। ऑस्ट्रेलिया में रहकर सिविल इंजीनियरिंग में मास्टर्स डिग्री के दौरान आप एक अच्छे सिविल इंजीनियर बनने के गुण सीखेंगे। आप ऑस्ट्रेलिया में मैटेरियल साइंस, डिजाइन और कंस्ट्रक्शन मैनेजमेंट पर मौजूद मॉड्यूल का बेहतर अध्ययन कर पाएंगे। ऑस्ट्रेलिया में रहकर सिविल इंजीनियरिंग में मास्टर डिग्री प्राप्त करने के कुछ मुख्य कारण इस प्रकार हैं:

  • इंग्लिश स्पीकिंग वर्ल्ड में सिविल इंजीनियरिंग तथा अन्य डिग्रियों के लिए विद्यार्थियों को अपनी और आकर्षित करने में ऑस्ट्रेलिया पूरे विश्व में तीसरे स्थान पर है। 
  • ऑस्ट्रेलिया की शिक्षा प्रणाली पूरे विश्व में प्रसिद्ध है यहां से सिविल इंजीनियरिंग में मास्टर डिग्री प्राप्त करना आपके करियर के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। 
  • ऑस्ट्रेलिया में अन्य देशों के मुकाबले कॉस्ट ऑफ लिविंग काफी कम है तथा यहां का जीवन स्तर भी अच्छे पायदान पर है। आप पर्याप्त मात्रा में खर्च करके तथा एक अच्छी प्लानिंग के साथ ऑस्ट्रेलिया से मास्टर्स डिग्री प्राप्त करने में सफल हो सकते हैं। 
  • टेक्नोलॉजी के मामले में भी ऑस्ट्रेलिया अन्य देशों की तुलना में काफी आगे है अतः ऑस्ट्रेलिया सिविल इंजीनियरिंग में मास्टर्स में अपनी पढ़ाई के दौरान आप यहां की प्रभावशाली टेक्नोलॉजी तथा संसाधनों का लाभ ले सकते हैं। 
  • सिविल इंजीनियरिंग में मास्टर डिग्री प्राप्त करना आपके लिए बेहद खर्चीला हो सकता है अतः अपने खर्चे के बोझ को कम करने के लिए आप ऑस्ट्रेलिया में पार्ट टाइम जॉब भी ढूंढ सकते हैं यहां की सरकार अंतराष्ट्रीय विद्यार्थियों को एक सप्ताह में 20 घंटे कार्य करने की स्वतंत्रता देती है। 

ऑस्ट्रेलिया में सिविल इंजीनियरिंग में मास्टर्स करने के लिए आवश्यक स्किल्स

किसी भी विद्यार्थी के लिए सिविल इंजीनियर बनना एक रिवार्डिंग करियर है। लेकिन इस करियर कि प्राप्ति के लिए किसी भी सिविल इंजीनियर को एक स्किल सेट की आवश्यकता होती है जिससे वह इनोवेटिव स्ट्रक्चर और बिल्डिंग्स की प्लानिंग और  डिजाइनिंग कर सके। 

इन स्किल्स को डेवलप करने के बाद आपको यह बात समझने में आसानी होती है की क्या यह करियर आपकी रुचि और योग्यता के अनुरूप है या नही। ऑस्ट्रेलिया में सिविल इंजीनियरिंग में मास्टर्स करने के लिए जिन आवश्यक स्किल्स की आपको आवश्यकता होगी उनका नीचे वर्णन किया गया है:

  • मैथमेटिक्स और फिजिक्स की समझ: सिविल इंजीनियरिंग की समस्याओं को समझने के लिए किसी भी सिविल इंजीनियर का मैथमेटिक्स और फिजिक्स प्रोफिशिएंट होना आवश्यक है। 
  • टेक्निकल स्किल्स: यह पद डिजाइन की समझ, डेवलपिंग   मॉडल में एक्सपीरियंस की मांग करता है, अधिकतर एंपलॉयर इन कैंडिडेट्स को वरीयता (प्रेफरेंस) देते हैं जिन्हें डिजाइन बिल्डिंग बनाने या फिर इंसान स्ट्रक्चर अरेंजमेंट में  computer-aided (CAD) सॉफ्टवेयर का हैंड ऑन एक्सपीरियंस होता है। क्वांटिटी सर्वे, प्रोजेक्ट बिलिंग, ऐस्टीमेशन और बार बेंडिंग शेड्यूल मैं टेक्निकल नॉलेज होने से आपको किसी भी कंपनी में जो प्राप्त करने में आसानी होगी। 
  • प्रोजेक्ट मैनेजमेंट: एक सिविल इंजीनियर की नौकरी में आपके पास शुरू से अंत तक जिम्मेदारियां होती है। जिसमें किसी भी प्रोजेक्ट के पूरा होने तक उसकी देखरेख करना शामिल होता है। यह सुनिश्चित किया जाता है कि कोई भी प्रोजेक्ट समय पर पूरा हो, इसके लिए आर्किटेक्ट ठेकेदारों इंजीनियरों और अन्य भवन निर्माण में कार्य करने वाले प्रोफेशनल्स के साथ काम किया जाता है। टीम में सदस्यों के द्वारा कार्य को आवंटित किया जाता है तथा प्रोजेक्ट के समय सीमा पर पूर्ण होने का मूल्यांकन किया जाता है। इसके लिए आपके पास उत्कृष्ट प्रोजेक्ट मैनेजमेंट की स्किल्स होनी आवश्यक है। 
  • प्रोब्लम सॉल्विंग: किसी भी प्रोजेक्ट के प्लानिंग फेस से लेकर डिजाइन और एक्जिक्यूशन तक एक सिविल इंजीनियर को कई सारी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। एक सिविल इंजीनियर को बिल्डिंग के डिजाइन ग्राहक की मांग तथा एंपलॉयर के प्रतिबंधों से संबंधित कई सारी जटिल एवं तकनीकी समस्याओं का सामना करना पड़ता है अतः इन सभी समस्याओं को सुलझाने के लिए एक सिविल इंजीनियर के पास प्रोबलम सॉल्विंग स्किल्स का होना बहुत आवश्यक है। 
  • टीमवर्क: आप किसी भी सिविल इंजीनियरिंग प्रोजेक्ट में एक इंजीनियर के रूप में टीम के साथ मिलकर कार्य करते हैं। आप किसी भी प्रोजेक्ट को पूर्ण करने के लिए अपने साथ कार्य करने वाले लोगों, बाहरी लोगों या फिर थर्ड-पार्टी वेंडर्स के साथ मिलकर कार्य करते हैं। टीम वर्किंग स्किल्स यह तय करने में सबसे ऊपर है कि क्या आप एक सहयोगी के रूप में कार्य कर सकते हैं और एक साथ काम कर सकते हैं। 

अन्य महत्वपूर्ण स्किल्स

  • वर्बल कम्युनिकेशन स्किल्स
  • ऑर्गनाइजेशन स्किल्स
  • क्रिटिकल थिंकिंग स्किल्स
  • प्रेशर में कार्य करना 
  • डिटेल्स को अटेंशन देना

सिविल इंजीनियरिंग में मास्टर्स का सिलेबस

सिविल इंजीनियरिंग के मास्टर डिग्री के सिलेबस में बहुत से महत्वपूर्ण विषय शामिल हैं। यहां, हमने सिविल इंजीनियरिंग में मास्टर डिग्री में 2 वर्ष के कार्यकाल में पढ़ाए जानने वाले विषयों का विवरण दिया है जो कि इस प्रकार है:

प्रथम वर्ष (फर्स्ट ईयर) द्वितीय वर्ष (सेकंड ईयर) 
एनवायरमेंटल रिस्क एंड रिस्पांसिबिलिटी बिल्डिंग मैटेरियल्स 
ट्रांसपोर्ट एंड इंफ्रास्ट्रक्चर क्रिटिकल स्टेट सॉइल मैकेनिक्स
फ्लड रिस्क मैनेजमेंट एडवांस्ड सिमुलेशन ऑफ सस्टेनेबल स्ट्रक्चरल सिस्टम्स
सीपीडी एंड स्ट्रैटेजिक मैनेजमेंट एनवायरमेंटल इंजीनियरिंग एंड मैनेजमेंट प्रैक्टिस
रिसर्च मेथड सस्टेनेबल ड्रेनेज सिस्टम
इंजीनियरिंग एंड सस्टेनेबल डिजाइन एडवांस्ड कंस्ट्रक्शन मैनेजमेंट
डिजाइन ऑफ स्टील एंड कंक्रीट बिल्डिंग्स सस्टेनेबल इंजीनियरिंग विद टिंबर
एडवांस्ड स्ट्रक्चरल डिजाइन
डिसर्टेशन

AI Course Finder की मदद से आप अपनी प्रोफाइल के अनुसार सही यूनिवर्सिटी और अपनी पसंद का कोर्स चुन सकते हैं।

सिविल इंजीनियरिंग में मास्टर डिग्री के लिए प्रमुख ऑस्ट्रेलियन यूनिवर्सिटीज

सिविल इंजीनियरिंग में मास्टर डिग्री के लिए प्रमुख ऑस्ट्रेलियन यूनिवर्सिटीज के नाम इस प्रकार हैं:

यूनिवर्सिटी कोर्स का नाम ट्यूशन फीस (ऑस्ट्रेलियन डॉलर –  INR) अवधि वर्षों में लोकेशन
ग्रिफिन यूनिवर्सिटी मास्टर ऑफ सिविल इंजीनियरिंग $29,500 (₹15.86) 1.5 गोल्ड कोस्ट
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी सिडनी मास्टर ऑफ सिविल इंजीनियरिंग $30,060 (₹16.13)  2 सिडनी
यूनिवर्सिटी ऑफ़ साउथ ऑस्ट्रेलिया मास्टर ऑफ सिविल एंड इन्फ्राट्रक्चर इंजीनियरिंग $32,250 (₹17.30) 2 एडिलेड
स्विनबर्न यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग साइंस (सिविल) $32,250 (₹17.30) 2 मेलबर्न
यूनिवर्सिटी आफ वोलोंगोंग मास्टर ऑफ सिविल इंजीनियरिंग $30,500 (₹16.36) 2 वोलोंगोंग
यूनिवर्सिटी ऑफ न्यू साउथ वेल्स मास्टर ऑफ सिविल इंजीनियरिंग $36,900 (₹19.80) 2 सिडनी
यूनिवर्सिटी ऑफ वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया मास्टर ऑफ प्रोफेशनल इंजीनियरिंग (सिविल) $37,000- (₹19.85) 2 पर्थ 
यूनिवर्सिटी ऑफ मेलबर्न मास्टर ऑफ सिविल इंजीनियरिंग $37,300 (₹20.01) 2 मेलबर्न
मोनाश यूनिवर्सिटी मास्टर ऑफ सिविल इंजीनियरिंग $37,900 (₹20.03) 2 मेलबर्न
यूनिवर्सिटी ऑफ सिडनी मास्टर ऑफ प्रोफेशनल इंजीनियरिंग (सिविल) $38,000 (₹20.39) 1.5 सिडनी

आप UniConnect के जरिए विश्व के पहले और सबसे बड़े ऑनलाइन विश्वविद्यालय मेले का हिस्सा बनने का मौका पा सकते हैं, जहाँ आप अपनी पसंद के विश्वविद्यालय के प्रतिनिधि से सीधा संपर्क कर सकेंगे।

योग्यता

इंडिया के शीर्ष विश्वविद्यालयों से बैचलर डिग्री प्राप्त करने के बाद उपरोक्त कोर्स करने के लिए, आपको कुछ योग्यता शर्तों को पूरा करना होगा। हालांकि योग्यता मानदंड एक विश्वविद्यालय से दूसरे विश्वविद्यालय में भिन्न हो सकते हैं, यहां कुछ सामान्य शर्तें दी हैं:

  • आवेदक का बैचलर डिग्री मे परिणाम 50% से अधिक होना अनिवार्य हैं।
  • मास्टर्स डिग्री कोर्स के लिए ज़रूरी है कि उम्मीदवार ने किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय या कॉलेज से बैचलर्स डिग्री प्राप्त की हो।
  • मास्टर्स कोर्स में एडमिशन के लिए कुछ विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा आयोजित करते हैं इसके बाद ही आप इन कोर्सेज के लिए पात्र हो सकते हैं। विदेश की कुछ यूनिवर्सिटीज में मास्टर्स के लिए GRE स्कोर की अवश्यकता होती है।
  • साथ ही विदेश के लिए आपको ऊपर दी गई आवश्यकताओं के साथ IELTS या TOEFL स्कोर की भी आवश्यकता होती है।
  • विदेश के विश्वविद्यालयों में एडमिशन के लिए SOP, LOR, CV/रिज्यूमे  और पोर्टफोलियो  भी जमा करने होंगे।

क्या आप IELTS/TOEFL/SAT/GRE में अच्छे अंक प्राप्त करना चाहते हैं? आज ही इन टेस्ट की बेहतरीन तैयारी के लिए Leverage Live पर रजिस्टर करें और अच्छे अंक प्राप्त करें।

आवेदन प्रक्रिया

कैंडिडेट को आवेदन करने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया को पूरा करना होगा:

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप हमारे AI Course Finder की सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेजों जैसे SOP, निबंध, सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टेस्ट स्कोर जैसे IELTS, TOEFL, SAT, ACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTS, TOEFL, PTE, GMAT, GRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप हमारी Leverage Live कक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज़ जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीजा और छात्रवृत्ति / छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लेटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। 

आवदेन प्रक्रिया से सम्बन्धित जानकारी और मदद के लिए Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800 572 000 पर संपर्क करें।

आवश्यक दस्तावेज़ 

विदेशी विश्वविद्यालय में एडमिशन लेने के लिए नीचे दिए गए डॉक्यूमेंट होने आवश्यक है:

  • सभी आधिकारिक शैक्षणिक ट्रांसक्रिप्टस और ग्रेड कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • पासपोर्ट फोटोकॉपी
  • वीज़ा 
  • अपडेट किया गया रिज्यूमे 
  • अंग्रेजी भाषा कुशलता परीक्षा के अंक
  • सिफारिश पत्र या LOR
  • स्टेटमेंट ऑफ़ पर्पस SOP 

छात्र वीज़ा पाने के लिए भी हमारे Leverage Edu  विशेषज्ञ आपकी हर सम्भव मदद करेंगे।

छात्रवृत्तियां

ऑस्ट्रेलियन यूनिवर्सिटीज में सिविल इंजीनियरिंग में मास्टर डिग्री के दौरान आपके लिए किसी भी यूनिवर्सिटी से स्कॉलरशिप प्राप्त करना बहुत आसान होता है। ऑस्ट्रेलिया कि लगभग सभी यूनिवर्सिटीज़ के द्वारा सभी विषयों के लिए स्कॉलर शिप दी जाती है जिससे कि आपके पढ़ाई का खर्च कम हो जाए, उनमें से कुछ स्कॉलरशिप के नाम नीचे दिए गए हैं

यूनिवर्सिटी ऑफ तस्मानिया

  • Scholarships for International Students
  • Scholarships and Fees for Research Degree
  • Domestic Scholarships
  • Tasmanian International Scholarships

टोरेंस यूनिवर्सिटी

  • International Scholarships
  • Industry Scholarships
  • Indigenous Student Scholarships
  • Education Scholarships

यूनिवर्सिटी ऑफ द सनशाइन कॉस्ट

  • USC Asylum Seeker Scholarship
  • Vice Chancellor Honor Scholarship

सिविल इंजीनियरिंग में मास्टर्स के लिए बुक्स

सिविल इंजीनियरिंग में मास्टर्स के दौरान आप नीचे दी गई पुस्तकों को पढ़ सकते हैं जो आपकी मास्टर डिग्री के अध्ययन में आपकी सहायता करेंगी:

पुस्तक लेखक का नाम यहां से खरीदें
इंजीनियरिंग हाइड्रोलॉजी के सुब्रह्मण्य यहां से खरीदें
एन इंट्रोडक्शन टू मैकेनिक्स ऑफ सॉलिड स्टीफन क्रैंडल यहां से खरीदें 
स्ट्रक्चरल एनालिसिस आर सी हिब्बलर  यहां से खरीदें 
कंक्रीट टेक्नोलॉजी (थ्योरी एंड प्रैक्टिस) एमएल गंभीर यहां से खरीदें 

प्रवेश परीक्षा

किसी ऑस्ट्रेलियन यूनिवर्सिटी में प्रवेश लेने के लिए आपको निम्न परीक्षाओं का सामना करना पड़ेगा जैसे कि-

इंग्लिश प्रोफिशिएंसी टेस्ट के लिए

अन्य प्रवेश परीक्षाएं

ऑस्ट्रेलिया कि किसी यूनिवर्सिटी कि अपने स्तर पर भी कोई प्रवेश परीक्षा हो सकती हैं। 

जॉब प्रोफाइल तथा सैलरी पैकेज

सिविल इंजीनियरिंग में मास्टर डिग्री प्राप्त करने के बाद प्राप्त होने वाली जॉब प्रोफाइल तथा सैलरी पैकेज का डिस्क्रिप्शन नीचे निम्न प्रकार से दिया गया है

जॉब प्रोफाइल  औसत सैलरी पैकेज (AUD)
सिविल इंजीनियर  1.05 लाख
आर्किटेक्ट 1 लाख
मैनेजर 1.5 लाख
साइट मैनेजर 1.5 लाख
कस्टमर एग्जीक्यूटिव ऑफिशियल 70,000
असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव इंजीनियर 92,000

FAQs

सिविल इंजीनियर्स की वर्कप्लेस स्किल्स कोन सी हैं?

सिविल इंजीनियर की वर्कप्लेस स्किल्स इस प्रकार हैं:
1. ऑन-साइट विजिट पर जाएं
2. कंस्ट्रक्शन प्लान बनाएं
3. एनवायरमेंटल फैक्टर्स को समझें
4. कंस्ट्रक्शन मैटेरियल को सेलेक्ट और अप्रूव करें
5. सरकारी अधिकारियों के साथ कार्य करना सीखें

ऑस्ट्रेलिया से सिविल इंजीनियरिंग मैं मास्टर डिग्री प्राप्त करने के लिए कैसे अप्लाई करें?

ऑस्ट्रेलिया से सिविल इंजीनियरिंग में मास्टर डिग्री के लिए अप्लाई करने के लिए आवेदन प्रक्रिया (एप्लीकेशन प्रोसेस) का ऊपर विस्तार से वर्णन किया गया है इसके अलावा एक प्रमुख तथ्य यह भी है कि अगर आप ऑस्ट्रेलिया कि किसी यूनिवर्सिटी में आवेदन करना चाहते हैं तो उसके लिए कम से कम 7 से 8 महीने पहले तैयारी शुरू कर देनी चाहिए।

सिविल इंजीनियरिंग में मास्टर डिग्री प्राप्त करने के लिए ऑस्ट्रेलिया की किस यूनिवर्सिटी के कोर्स को चुनना बेहतर होगा?

वैसे तो ऑस्ट्रेलिया की सभी यूनिवर्सिटी और उनके कोर से बेहतर हैं लेकिन फिर भी आप अगर किसी यूनिवर्सिटी को चुनना चाहते हैं तथा उनके बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप AI Course Finder की सहायता ले सकते हैं।

उम्मीद है कि ऑस्ट्रेलिया में सिविल इंजीनियरिंग में मास्टर डिग्री से संबंधित हमारा यह ब्लॉग आपको पसंद आया होगा। यदि आप भी किसी ऑस्ट्रेलियन यूनिवर्सिटी से सिविल इंजीनियरिंग में मास्टर डिग्री प्राप्त करना चाहते हैं तो आज ही 1800 572 000 पर कॉल करके हमारे Leverage Edu के एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें। वे एक उचित मार्गदर्शन के साथ आवेदन प्रक्रिया में भी आपकी मदद करेंगे।

प्रातिक्रिया दे

Required fields are marked *

*

*

1 comment