बिजनेस लॉ में एमबीए कैसे करें?

1 minute read
44 views
Leverage-Edu-Default-Blog

बिजनेस लॉ में एमबीए, मैनेजमेंट में 2 वर्ष का पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री है। यह कोर्स विभिन्न शिक्षा पर भी प्रकाश डालता है। यह अन्य महत्वपूर्ण विषयों जैसे बिज़नेस कम्यूनिकेशन, ऑर्गनाइजेशन बिहेवियर, ऑपरेशंस रिसर्च, मैनेजर्स के लिए लेखांकन और मात्रात्मक विधियों के रिलेटिव है। एमबीए लॉ के बारे में और अधिक जानकारियां पाने के लिए इस ब्लॉग को पूरा पढ़ें।

कोर्स का नाम बिजनेस लॉ में मास्टर ऑफ़ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन
कोर्स स्तर पोस्ट ग्रेजुएट/प्रोफेशनल डिग्री
अवधि 2 साल
पात्रता 50% के न्यूनतम कुल स्कोर के साथ किसी भी स्ट्रीम से ग्रेजुएट
औसत कोर्सेज शुल्क INR 3 लाख से 8 लाख तक
औसत प्रारंभिक वेतन INR 4 लाख से 10 लाख
परीक्षा प्रकार सेमेस्टर सिस्टम

बिजनेस लॉ में एमबीए क्या है?

बिजनेस लॉ में एमबीए दो साल का पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री है जो उम्मीदवारों के लिए उपलब्ध है जिन्होंने किसी भी विषय में ग्रेजुएट की डिग्री पूरी की है दो वर्ष के पोस्ट ग्रेजुएट प्रोग्राम में विभिन्न लॉजिट्स से संबंधित शिक्षा भी शामिल है जो कॉर्पोरेट जगत की कानूनी मशीनरी हिस्सा है। एमबीए इन बिजनेस लॉ को नागरिक कानून  की एक शाखा के रूप में माना जाता है जो सार्वजनिक निजी कानून दोनो के इश्यूज से संबंधित है। 

बिजनेस लॉ में एमबीए क्यों करें?

बिजनेस लॉ में एमबीए क्यों करें इनके कुछ कारण है जो नीचे दी गई है:

  • एमबीए बिजनेस लॉ एक 2 साल का पोस्ट ग्रेजुएट कोर्सेज है जिसमें किसी संगठन, फर्म या उद्योग से जुड़े कमर्शियल कानूनों की अवधारणाएं शामिल हैं।
  • यह कोर्सेज एक मैनेजमेंट कोर्सेज के बुनियादी नियमों, कानून के कमर्शियल तत्वों के बारे में ज्ञान और 4 सेमेस्टर में फैले आवश्यक कमर्शियल कौशल का पालन करता है।
  • एमबीए बिजनेस लॉ का उद्देश्य छात्रों को नागरिक कानून के विभिन्न पहलुओं से परिचित कराना है।
  • यह एकाउंटेंट, वकीलों, व्यावसायिक प्रोफेशनल और एंटरप्रेन्योर्स के लिए फायदेमंद है जो कानून के क्षेत्र में अपने कौशल को बढ़ाना चाहते हैं। 
  • एमबीए बिजनेस लॉ में शामिल कुछ महत्वपूर्ण विषय बिजनेस कम्युनिकेशन, ऑर्गनाइजेशनल बिहेवियर, ऑपरेशंस रिसर्च, अकाउंटिंग फॉर मैनेजर्स और क्वांटिटेटिव मेथड्स हैं। 

स्किल्स

बिजनेस लॉ में एमबीए के लिए कुछ स्किल्स का होना जरूरी है, जो इस प्रकार हैं:

  • कम्युनिकेशन में क्लेरिटी
  • एक्सीलेंट कम्युनिकेशन स्किल्स
  • रिसर्च के प्रति झुकाव
  • एनालिटिकल स्किल्स
  • लॉजिकल रीजनिंग स्किल्स
  • प्रेजेंटेशन स्किल्स
  • राइटिंग स्किल्स

सिलेबस

बिजनेस लॉ में एमबीए के सिलेबस में सभी महत्वपूर्ण विषय शामिल हैं जिन्हें दो साल में कवर किया जाना है। बिजनेस लॉ में एमबीए का सिलेबस नीचे सूचीबद्ध है:

पहला साल  दूसरा साल 
इंट्रोडक्शन बिजनेस लॉ लॉ ऑफ पार्टनरशिप 
लॉ ऑफ कॉन्ट्रैक्ट लॉ ऑफ़ सेल्स गुड्स 
कॉन्ट्रैक्ट ऑफ़ गारंटी एंड इंडेम्निटी  लॉ ऑफ़ नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट 
इकोनॉमिक्स मैनेजमेंट डिसीजंस  बैंकिग & इंश्योरेंस लॉ 
मार्केटिंग मैनेजमेंट द कंपनीज एक्ट 
कंज्यूमर प्रोटेक्शन एक्ट द फॉरेन एक्सचेंज 
इंटरनेशनल अकाउंटिंग एंड फाइनेंस इंटरनेशनल हुमन रिसोर्सेस मैनेजमेंट
द कंपटीशन एक्ट इनफार्मेशन सिस्टम/ऑपरेशन मैनेजमेंट 
इंटरनेशनल स्ट्रेटजी  रेगुलेशन इंफॉर्मेशन

विदेश की यूनिवर्सिटी 

विभिन्न शैक्षणिक संस्थान हैं जो बिजनेस लॉ में बैचलर्स और मास्टर्स कोर्सेज प्रदान करते हैं। नीचे टॉप लॉ कॉलेजों की सूची नीचे दी गई है :

भारत के टॉप कॉलेजेस 

भारत की टॉप कॉलेजेस है जो इस प्रकार है:

योग्यता 

बिजनेस लॉ में एमबीए के लिए कुछ योग्यता दी गई है:

  • आवेदकों ने अपना उच्च माध्यमिक पूरा कर लिया होगा और किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से ग्रेजुएट की डिग्री प्राप्त की होगी।
  • आवेदकों को ग्रेजुएट कोर्सेज के अपने अंतिम वर्ष में अपनी प्रवेश परीक्षा के लिए उपस्थित होना चाहिए
  • ग्रेजुएट होने के ठीक बाद एमबीए बिजनेस लॉ कॉलेजों में आवेदन कर सकें।
  • आवेदकों के पास ग्रेजुएट की डिग्री में कुल 50-60% होना चाहिए।
  • कॉलेज / विश्वविद्यालय कट-ऑफ को संतुष्ट करने के लिए आवेदकों को अपनी प्रवेश परीक्षा में वैध अंक प्राप्त करने होंगे।
  • साथ ही विदेश के लिए आपको ऊपर दी गई आवश्यकताओं के साथ IELTS या TOEFL स्कोर की भी आवश्यकता होती है।
  • विदेश के विश्वविद्यालयों में एडमिशन के लिए SOP, LOR, CV/रिज्यूमे  और पोर्टफोलियो  भी जमा करने होंगे।

आवेदन प्रक्रिया 

विदेश के विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए आवेदन प्रक्रिया इस प्रकार है–

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप AI Course Finder की सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • एक्सपर्ट्स से कॉन्टैक्ट के पश्चात वे कॉमन डैशबोर्ड प्लेटफॉर्म के माध्यम से कई विश्वविद्यालयों की आपकी आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेजों जैसे SOP, निबंध (essay), सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टेस्ट स्कोर जैसे IELTS, TOEFL, SAT, ACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTS, TOEFL, PTE, GMAT, GRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप Leverage Live कक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीज़ा और छात्रवृत्ति/छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लेटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है।

दस्तावेज़

कुछ जरूरी दस्तावेजों की लिस्ट नीचे दी गई हैं–

प्रवेश परीक्षाएं

कुछ बिजनेस लॉ प्रवेश परीक्षाओं की लिस्ट नीचे दी गई है:

  • CAT
  • XAT
  • SNAP
  • CMAT

बेस्ट बुक्स

बिजनेस लॉ के लिए कुछ बुक्स नीचे दी गई हैं:

करियर स्कोप

बिजनेस लॉ में एमबीए ग्रेजुएट पूरा करने के बाद करियर के कई अवसर उपलब्ध है। वे अपने स्किल्स और नौकरी भी तलाश सकते हैं नीचे सूची में कुछ रोजगार क्षेत्रों की जांच कर सकते हैं जहां वे आवेदन कर सकते हैं।

  • बैंकिंग
  • कॉलेज & यूनिवर्सिटी 
  • बिज़नेस हाउसेस
  • एजुकेशनल इंस्टीट्यूट
  • इंटरनेशनल ऑर्गनाइजेशन
  • मल्टीनैशनल कंपनीज
  • सेल्स टैक्स& एक्साइज डिपार्टमेंट
  • न्यूज़पेपर
  • न्यूज चैनल
  • रेगुलेटरी बॉडीज

जॉब प्रोफ़ाइल सैलरी

बिजनेस लॉ में एमबीए के लिए कुछ जॉब प्रोफ़ाइल नीचे दी गई है:

जॉब प्रोफ़ाइल  अनुमानित सालाना सैलरी 
बिज़नेस डेवलपमेंट एक्जीक्यूटिव  INR 2 लाख
बिज़नेस प्रोसेस एनालिस्ट  INR 6 लाख
लीगल मैनेजर  INR 5 लाख
बिज़नेस मैनेजर्स  INR 8 लाख
लीगल एडवाइजर  INR 7 लाख
प्रोफेसर  INR 4 लाख
बिज़नेस एनालिस्ट INR 6 लाख

FAQs

बिजनेस लॉ में एमबीए क्या है?

बिजनेस लॉ में एमबीए दो साल का पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री है जो उम्मीदवारों के लिए उपलब्ध है जिन्होंने किसी भी विषय में ग्रेजुएट की डिग्री पूरी की है दो वर्ष के पोस्ट ग्रेजुएट प्रोग्राम में विभिन्न लॉजिट्स से संबंधित शिक्षा भी शामिल है जो कॉर्पोरेट जगत की कानूनी मशीनरी हिस्सा है। एमबीए इन बिजनेस लॉ को नागरिक कानून  की एक शाखा के रूप में माना जाता है जो सार्वजनिक निजी कानून दोनो के इश्यूज से संबंधित है।

एमबीए कितने साल का होता है?

एमबीए 2 साल का कोर्स है।

बिजनेस लॉ में एमबीए क्यों करें?

बिजनेस लॉ में एमबीए क्यों करें इनके कुछ कारण है जो नीचे दी गई है:
-एमबीए बिजनेस लॉ एक 2 साल का पोस्ट ग्रेजुएट कोर्सेज है जिसमें किसी संगठन, फर्म या उद्योग से जुड़े कमर्शियल कानूनों की अवधारणाएं शामिल हैं।
-यह कोर्सेज एक मैनेजमेंट कोर्सेज के बुनियादी नियमों, कानून के कमर्शियल तत्वों के बारे में ज्ञान और 4 सेमेस्टर में फैले आवश्यक कमर्शियल कौशल का पालन करता है।
-एमबीए बिजनेस लॉ का उद्देश्य छात्रों को नागरिक कानून के विभिन्न पहलुओं से परिचित कराना है।
-यह एकाउंटेंट, वकीलों, व्यावसायिक प्रोफेशनल और एंटरप्रेन्योर्स के लिए फायदेमंद है जो कानून के क्षेत्र में अपने कौशल को बढ़ाना चाहते हैं। 

बिजनेस लॉ में एमबीए के लिए कुछ स्किल्स इस प्रकार है।

बिजनेस लॉ में एमबीए के लिए कुछ स्किल्स का होना जरूरी है, जो इस प्रकार हैं:
-कम्युनिकेशन में क्लेरिटी
-एक्सीलेंट कम्युनिकेशन स्किल्स
-रिसर्च के प्रति झुकाव
-एनालिटिकल स्किल्स
-लॉजिकल रीजनिंग स्किल्स
-प्रेजेंटेशन स्किल्स
-राइटिंग स्किल्स

उम्मीद है, बिजनेस लॉ में एमबीए के बारे में आपको इस ब्लॉग में पता चल गया होगा। यदि आप बिजनेस लॉ कोर्स विदेश में करना चाहते हैं तो 1800 572 000 पर कॉल करके Leverage Edu एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का सेशन बुक करें और बेहतर गाइडेंस पाएं।

प्रातिक्रिया दे

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today. Study Abroad
Talk to an expert