इंटीरियर डिज़ाइनर कैसे बनें?

1 minute read
1.6K views
10 shares
Interior Designer Kaise Bane

आज के समय में घर की परिभाषा ईट , सीमेंट और लकड़ी से बने ढांचे से काफी बदल गई। अब सिर्फ निर्माण पूरा करा कर आप मकान को घर नहीं बोल सकते हैं। आज के समय में लोग घर को अनोखा बनाने व उसे खूबियों से सजाने के लिए पेशेवर इंटीरियर डिज़ाइनर को काम पर लगाते है। समय के साथ लोगों के बीच यह ट्रेंड काफी तेजी से बढ़ रहा है। अगर आप अपने घर में कुछ बदलाव कराने या फिर से सजा ने पर विचार कर रहे हैं, तो नए डिज़ाइन या रचनात्मक विचार के लिए  खुद माथा पच्ची करने की जरूरत नहीं है। आप आसानी से एक इंटीरियर डिज़ाइनर को काम दे सकते हैं। लेकिन अगर आप इस पेशे में घुस कर खुद की रचनात्मक क्षमता को जाँचने पर विचार कर रहे हैं, तो आपका इस क्षेत्र के बारे में रिसर्च करना बेहद जरूरी है। यह लेख एक इंटीरियर डिज़ाइनर कैसे बने (Interior Designer Kaise Bane) इस विषय पर आपको पूरी जानकारी प्रदान करता हैI

This Blog Includes:
  1. इंटीरियर डिज़ाइनर किसे कहते है?
  2. क्या करता है एक इंटीरियर डिज़ाइनर?
  3. इंटीरियर डिज़ाइनर क्षेत्र के लिए जरूरी कौशल
  4. इंटीरियर डिज़ाइनर की जिम्मेदारियां
  5. इंटीरियर डिज़ाइनिंग के विषय
  6. इंटीरियर डिज़ाइनर कैसे बनें?
  7. इंटीरियर डिज़ाइनिंग कोर्सेज
    1. अंडर ग्रैजुएट प्रोग्राम
    2. पोस्ट ग्रैजुएट प्रोग्राम
    3. डॉक्टरेट प्रोग्राम्स
  8. इंटीरियर डिज़ाइनर के लिए योग्यता
  9. इंटीरियर डिज़ाइनर शीर्ष विश्वविद्यालय
  10. भारत में शीर्ष कॉलेज
  11. इंटीरियर डिज़ाइनर कोर्स फीस
  12. भारत में इंटीरियर डिज़ाइनर प्रवेश परीक्षा
    1. AIEED
    2. SEED
    3. NID प्रवेश परीक्षा
  13. इंटीरियर डिज़ाइनिंग के लिए आवेदन प्रक्रिया
  14. आवश्यक दस्तावेज़
  15. इंटीरियर डिज़ाइनिंग बुक्स
  16. इंटीरियर डिज़ाइनिंग क्षेत्र में शीर्ष नौकरी
  17. करियर के अवसर
  18. जॉब प्रोफाइल
  19. शीर्ष इंटीरियर डिज़ाइनर की सूची
  20. टॉप कम्पनींज़
  21. FAQs

इंटीरियर डिज़ाइनर किसे कहते है?

इंटीरियर डिज़ाइनर डेकोरेशन से जुड़ी सेवाएँ प्रदान करते हैं जैसे मकान, इमारत, भवन आदि को एक खुबसूरत लुक देना, इंटीरियर डिज़ाइनर का प्रमुख काम होता है। इसके अलावा इंटीरियर डिज़ाइनर की डिमांड अब केवल बड़े शहरो तक सिमित नही रह गया है बल्कि छोटे शहरो, गावं आदि में भी इंटीरियर डिज़ाइनर का डिमांड बहुत अधिक हो गया है। आजकल हर छोटे-बड़े फंक्शन में इंटीरियर डिज़ाइनर से डेकोरेशन कराया जा रहा है।

क्या करता है एक इंटीरियर डिज़ाइनर?

इंटीरियर डिज़ाइनर के प्राथमिक काम में योजना बनाना, नई डिज़ाइन की रूपरेखा तैयार करना और रिहायशी मकानों, व्यावसायिक व अन्य इमारतों की सजावट करना शामिल हैं। इंटीरियर डिज़ाइनर को कॉन्ट्रैक्टर, आर्किटेक्ट व इंजीनियर समेत अनेक अन्य पेशे के लोगों के साथ मिलकर काम करना होता है, ताकि वह यह सुनिश्चित कर सके कि डिज़ाइन बनाने का कार्य अच्छे तरीके से हो रहा है। इंटीरियर डिज़ाइनर अपने ग्राहकों को स्पेसिंग, ले आउट, फर्नीचर व कलर कॉम्बिनेशन समेत विभिन्न तरह के डिज़ाइन से जुड़ी सलाह देते हैं। इसके साथ ही डिज़ाइन को और बेहतर करने के संबंध में ग्राहक से निरंतर बातचीत करना व विचारों का आदान प्रदान करना भी इंटीरियर डिज़ाइनर के काम का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।  

इंटीरियर डिज़ाइनर क्षेत्र के लिए जरूरी कौशल

इंटीयर डिज़ाइनर में तकनीकी बारिकियों का प्रबंधन करने के साथ-साथ अपने साथ काम करने वाली टीम से तालमेल बनाए रखने का कौशल होना अत्यंत आवश्यक है। टीम के साथ बेहतर तालमेल बनाकर काम करने से परिणाम हमेशा बेहतर होता है। एक इंटीरियर डिज़ाइनर में विजुअल समझ के साथ एक विश्लेषणात्मक सोच का होना बेहद जरूरी है। इसके साथ ही इंटीरियर डिज़ाइनर को एक निर्धारित बजट में काम करना आना चाहिए व ग्राहक से बातचीत करने में निपुणता हासिल होनी चाहिए। कलर , टेक्सचर व मटेरियल की सटीक जानकारी के साथ इंटीरियर डिज़ाइनर काम को बेहतर परिणाम दे सकते हैं।

2021 में कैसे करें आईएएस की तैयारी? सीखें खुद IAS टॉपर्स से

इंटीरियर डिज़ाइनर की जिम्मेदारियां

इंटीरियर डिज़ाइनर किसी कंपनी से जुड़ कर या स्वतंत्र रूप से काम सकते हैं। कई बार ग्राहक की जरूरत के अनुसार किसी स्वतंत्र डिज़ाइनर को किसी कंपनी या किसी कंपनी को एक स्वतंत्र डिज़ाइनर के साथ भी काम करना पड़ सकता है। आज के समय में कई डिज़ाइनर लंबे समय तक चलने वाली डिज़ाइन को पसंद करते हैं, जो आधुनिक व इको -फ्रेंडली भी है। डिज़ाइनर को किसी भी डिज़ाइन को अंजाम तक पहुंचाने के लिए कॉन्ट्रैक्टर व मालिक दोनों के साथ तालमेल बनाना पड़ता है। इंटीरियर डिज़ाइनर को बिल्डिंग कोड, यूनिवर्सल एक्सेसबिलटी स्टैंडर्ड  व इन्पेक्शन रेगुलेशन के बारे में जानकारी होनी चाहिए। क्षेत्र से संबंधित कौशल के साथ-साथ डिज़ाइनर को CAD (कंप्यूटर-एडेड डिज़ाइन), फ़ोटोशॉप व रैविट जैसे सॉफ्टवेयर की जानकारी भी होनी चाहिए। इंटीरियर डिज़ाइनर मकान व रेस्त्रां, कैफ़े, ऑफ़िस या हॉस्पिटल जैसी व्यावसायिक जगह को डिज़ाइन करते हैं।

इंटीरियर डिज़ाइनिंग के विषय

  • कला और मूल डिज़ाइन सेवाएं पेशेवर प्रबंधन – अनुमान लगाना और बजट बनाना
  • फ़र्निचर डिज़ाइन
  • इंटीरियर डिज़ाइन का इतिहास
  • निर्माण और सामग्री
  • डिस्प्ले, कंप्यूटर एडेड डिज़ाइनिंग
  • अभिलेख सामग्री और पेंट प्रौद्योगिकी के गुण
  • फर्निशिंग और फिटिंग

इंटीरियर डिज़ाइनर कैसे बनें?

  • 12वीं कक्षा साइंस स्ट्रीम से पास करें।
  • इंटीरियर डिज़ाइनिंग कोर्स करें।
  • कोर्स के बाद एंटीरियर डिज़ाइन कंपनी में इंटर्नशिप करें
  • इंटीरियर डिज़ाइनर के असिस्टेंट के रूप में काम करें
  • टॉप इंटीरियर डिज़ाइनर को फॉलो करें और उनकी डिजाइन से कुछ नया सीखे 
  • हमेशा क्रिएटिव करने का सोचें
  • अपनी स्किल्स को लगातार डेवलप करते रहे 
  • मिलनसार बने रहे 
  • किये गए प्रोजेक्ट का ब्लू प्रिंट अपने पास रखे

इंटीरियर डिज़ाइनिंग कोर्सेज

इंटीरियर डिज़ाइनर कैसे बने ? इस पहेली की अगली कड़ी है इंटीरियर डिज़ाइनिंग कोर्सेज। इसलिए हमने आपके लिए कुछ ऐसे कोर्सेज की सूची तैयार की है, जो इस क्षेत्र में भारी महत्व रखते हैं :

अंडर ग्रैजुएट प्रोग्राम

  • बैचलर ऑफ फ़ाइन आर्ट्स इन इंटीरियर डिज़ाइन
  • बैचलर ऑफ अप्लाइड साइंस (इंटीरियर आर्किटेक्चर)
  • बैचलर ऑफ इन्वायरमेंटल डिज़ाइन स्टडीज
  • बैचलर ऑफ इंटीरियर डिज़ाइन (ऑनर्स)
  • बीए (ऑनर्स) इंटीरियर एंड स्पेशल डिज़ाइन
  • बी एससी (ऑनर्स) इंटीरियर आर्किटेक्चर एंड प्रॉपर्टी डवलपमेंट
  • बैचलर ऑफ डिज़ाइन इन इंटीरियर आर्किटेक्चर (ऑनर्स)
  • बैचलर ऑफ डिज़ाइन-इंटीरियर डिज़ाइन एंड इन्वायरमेंट्स
  • बैचलर ऑफ साइंस इन होम फर्निशिंग मर्चन्डाइज़िंग
  • बैचलर ऑफ बिल्ट इन्वायरमेंट (इंटीरियर आर्किटेक्चर)
  • बी एससी (ऑनर्स) आर्किटेक्चरल टेक्नोलॉजी एंड डिज़ाइन
  • ऑनर्स बैचलर ऑफ क्राफ्ट एंड डिज़ाइन (फर्नीचर)

ये भी पढ़ें : फैशन डिज़ाईनर कैसे बनें ?

पोस्ट ग्रैजुएट प्रोग्राम

  • इंटीरियर डिज़ाइन एमए
  • इन्वायरमेंटल डिज़ाइन ऑफ बिल्डिंग (एम एससी)
  • मास्टर ऑफ डिज़ाइन इन इंटीरियर स्टडीज- अडैप्टिव रीयूज
  • एमए इंटीरियर एंड स्पेशल डिज़ाइन
  • क्लाइमेट रिसिलिएन्स एंड इन्वायरमेंटल सस्टेनिबिलिटी इन आर्किटेक्चर (CRESTA) एमएससी
  • मास्टर ऑफ आर्ट्स इन फैमिली एंड कंज्यूमर साइंस – इंटीरियर डिज़ाइन
  • एम एससी इंफ्रास्ट्रक्चर डिज़ाइन एंड मैनेजमेंट
  • कॉमर्सियल इंटीरियर मैनेजमेंट एंड प्रैक्टिस एम एससी
  • मास्टर ऑफ आर्ट्स इन अप्लाइड डिज़ाइन- फर्नीचर एंड वुडवर्किंग

डॉक्टरेट प्रोग्राम्स

  • डॉक्टर ऑफ फिलोस्फी इन इंटीरियर आर्किटेक्चर
  • डॉक्टर ऑफ फिलोस्फी इन इंटीरियर एंड इन्वायरमेंटल डिज़ाइन
  • डॉक्टर ऑफ फिलोसफी इन बिल्ट इन्वायरमेंट

इंटीरियर डिज़ाइनर के लिए योग्यता

इंटीरियर डिज़ाइनर में एडमिशन लेने के लिए 12वीं पास होना आवश्यक होता है, इस कोर्स में यह महत्त्व नही रखता है कि आप किस स्ट्रीम से अपना 12th पास किया है। इंटीरियर डिज़ाइनिंग कोर्स को किसी भी स्ट्रीम से 12वी पास किए हुए स्टूडेंट आसानी से कर सकते हैं। 12वी में कम से कम 40%-50% मार्क्स होने चाहिए तब स्टूडेंट्स इस कोर्स के लिए योग्य होते हैं। इसके अलावा स्टूडेंट्स ग्रेजुएशन के बाद भी इंटीरियर डिजाइनर के लिए आवेदन कर सकते हैं, इस कोर्स में डिप्लोमा और डिग्री दोनों तरह के कोर्स का विकल्प होता है, कैंडिडेट्स अपने इंटरेस्ट के अनुशार अपना कोर्स केटेगरी चुन सकता है। डिप्लोमा कोर्सेज एक वर्ष के तथा डिग्री डिज़ाइन कोर्स 3 वर्ष के होते है।

इंटीरियर डिज़ाइनर शीर्ष विश्वविद्यालय

अपने लिए एक अच्छा कोर्स चुनने के बाद अब आपको एक अच्छा विश्वविद्यालय खोजने की जरूरत है, जहां की सुविधाओं का लाभ उठाकर आप ज्ञान के साथ-साथ अपनी क्षमताओं को और बेहतर कर सकें। हमने आपके लिए दुनिया के शीर्ष विश्वविद्यालयों की सूची तैयार की है, जिसकी जानकारी नीचे दी गई है:

क्रिकेटर कैसे बने?

भारत में शीर्ष कॉलेज

भारत में इंटीरियर डिज़ाइनिंग का कोर्स ऑफर करने वाले प्रसिद्ध संस्थानों की सूची :

  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिज़ाइन, अहमदाबाद
  • पर्ल एकेडमी
  • इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी, चंडीगढ़
  •  चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी, चंडीगढ़
  • आर्च कॉलेज ऑफ डिज़ाइन एंड बिज़नेस, जयपुर
  • JD इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी, मुंबई
  • हैम्सटेक इंस्टीट्यूट ऑफ क्रिएटिव एजुकेशन, हैदराबाद
  • लव ली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी, जालंधर
  • MIT इंस्टीट्यूट ऑफ डिज़ाइन, पुणे
  • इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन डिज़ाइन (INIFD), मुंबई

इंटीरियर डिज़ाइनर कोर्स फीस

इंटीरियर डिज़ाइन कोर्स में बहुत सारे वर्टीकल होते हैं और इंस्टिट्यूट कोर्स वर्टीकल के तौर पर फीस की मांग करती है, अलग –अलग कॉलेज से इंटीरियर डिज़ाइनर से जुड़े कोर्स कराये जाते है। कुछ आर्गेनाइजेशन डिस्टेंस लर्निंग के भी सुविधा प्रदान करती है। जैसे फाइन आर्ट्स, स्पेशल डिज़ाइनिंग इंटीरियर आर्किटेक्चर, आदि। वही अगर फीस की बात करें तो डिप्लोमा/सर्टिफिकेशन लेवल के कोर्स के लिए एक साल की फीस 20,000 से 2,00,000 रुपया तक हो सकती है।

भारत में इंटीरियर डिज़ाइनर प्रवेश परीक्षा

इंटीरियर डिज़ाइनिंग क्षेत्र को कैरियर के रूप में चुनने के लिए विद्यार्थियों को निम्नलिखित प्रवेश परीक्षाएं देनी होंगी :

AIEED

आर्च कॉलेज ऑफ डिज़ाइन एंड बिज़नेस द्वारा ऑल इंडिया एंट्रेंस एग्ज़ाम फॉर डिज़ाइन (AIEED) का आयोजन कराया जाता है। इस परीक्षा में क्रिएटिव एप्टीट्यूड टेस्ट (CAT) व जेनलर एप्टीट्यूड टेस्ट (GAT) शामिल हैं। विद्यार्थी अपनी AIEEE की रैंक या NATA के स्कोर के आधार पर आवेदन कर सकते हैं। इसके अलावा विद्यार्थियों को अपनी पढ़ाई के पहले साल में PTE परीक्षा पास करनी होती है, ताकि उन्हें UK यूनिवर्सिटी भेजा जा सके।

SEED

सिम्बाइओसिस इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी द्वारा इंटीरियर डिज़ाइनिंग कोर्स में दाख़िला देने के लिए  सिम्बाइओसिस एंट्रेंस एग्ज़ाम फॉर डिज़ाइन (SEED) का आयोजन कराया जाता है। हालांकि, कोविड-19 की वजह से इस वर्ष SEED का आयोजन नहीं कराया जाएगा।

NID प्रवेश परीक्षा

NID डिज़ाइन एप्टीट्यूड टेस्ट का आयोजन नेशनल इंस्टीट्यूट डिज़ाइन (NID) के कॉलेजेस में इंटीरियर डिज़ाइनिंग के UG व PG प्रोग्राम में दाख़िला देने के लिए कराया जाता है। इस परीक्षा में अच्छे अंक लाने पर विद्यार्थी NID के 7 डिज़ाइन कॉलेजेस में से किसी एक में (प्राप्त अंक के अनुसार) दाख़िला ले सकता है।

इंटीरियर डिज़ाइनिंग के लिए आवेदन प्रक्रिया

किसी भी कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आपको उसकी प्रक्रिया पता होनी चाहिए। भारत और विदेश में इंटीरियर डिज़ाइनर बनने के लिए आपको नीचे बतायी गई प्रक्रिया को चरण दर चरण फॉलो करना होगा।

विदेश में इंटीरियर डिज़ाइनिंग के लिए आवेदन प्रक्रिया 

  • विश्वविद्यालय की ऑफिशियल वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करें। यूके में एडमिशन के लिए आप यूसीएएस वेबसाइट (UCAS) पर जाकर रजिस्ट्रेशन करें। यहाँ से आपको यूजर आईडी और पासवर्ड प्राप्त होंगे।
  • यूजर आईडी से साइन इन करें और कोर्स चुनें जिसे आप चुनना चाहते हैं। 
  • अगली स्टेप में अपनी शैक्षणिक जानकारी भरें।  
  • शैक्षणिक योग्यता के साथ  IELTS, TOEFL, प्रवेश परीक्षा स्कोर, SOP, LOR की जानकारी भरें। 
  • पिछले सालों की नौकरी की जानकारी भरें। 
  • रजिस्ट्रेशन फीस का भुगतान करें।
  • अंत में आवेदन पत्र जमा करें।
  • कुछ यूनिवर्सिटी, सिलेक्शन के बाद वर्चुअल इंटरव्यू के लिए इनवाइट करती हैं।

आवश्यक दस्तावेज़

इंटीरियर डिज़ाइनिंग कोर्स में एडमिशन लेने के लिए नीचे दिए गए डॉक्यूमेंट होने आवश्यक है:

इंटीरियर डिज़ाइनिंग बुक्स

टॉप 5 बुक्स नीचे दी गयी है जो इंटीरियर डिज़ाइनर की तैयारी में आपकी मदद करेंगी । आप इन लिंक पर क्लिक करके अमेज़न से खरीद भी सकते है। 

इंटीरियर डिज़ाइनिंग क्षेत्र में शीर्ष नौकरी

इस क्षेत्र में बेहतर अवसर पाने के लिए हर विद्यार्थी को अपना पोर्टफोलियो तैयार करना पड़ेगा। पोर्टफोलियो एक विद्यार्थी द्वारा अपनी पढ़ाई के दौरान किए गए कार्यों का संग्रह होता है। विद्यार्थी को फोटो, चित्र व डिज़ाइन लगाकर अपने पोर्टफोलियो को बेहद आकर्षक बनाना चाहिए। भारत में इंटीरियर डिज़ाइनिंग के क्षेत्र में शीर्ष नौकरी प्रदाताओं का जिक्र नीचे किया गया है :

  1. ला सोरोगीका
  2. आमिर एंड हमीदा
  3. डिजाइन क्यूब
  4. राजा ऐडेरी
  5. मॉर्फ डिज़ाइन
  6. सेविओ एंड रूपा इंटीरियर कॉन्सेप्ट्स
  7. मैप्स ऑफ इंडिया
  8. द कारिघर्स
  9. द ग्रिड
  10. ZZ आर्किटेक्ट

इस क्षेत्र में बैचलर डिग्री पूरी करने के बाद नौकरी शुरू करने वाले विद्यार्थियों को 93,000 INR से 6,00,000 INR प्रति वर्ष का शुरुआती पैकेज मिलता है। अनुभव के साथ एक इंटीरियर डिज़ाइनर 10-15 लाख प्रति वर्ष तक की कमाई कर सकता है।

ये भी पढ़ें : कैसे बनें रिस्क मैनेजर?

Source: TheBrandBoy-small Business Blog

करियर के अवसर

इस क्षेत्र में अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद आप इंटीरियर डिज़ाइनिंग के क्षेत्र में अपने लिए कैरियर के अवसर तलाश ना चाहेंगे। हमने ऐसे पदों की सूची तैयार की है जिन पर आपको पढ़ाई के बाद नौकरी मिल सकती है :

  • एक्स बिशन डिज़ाइनर
  • ला इटिंग डिज़ाइनर 
  • किचन डिज़ाइनर
  • आर्किटेक्ट
  • आर्किटेक्चरल टेक्नोलॉजिस्ट
  • प्रोडक्ट डिजाइनर
  • टेक्सटाइल डिजाइनर
  • प्रोडक्शन डिजाइनर

जॉब प्रोफाइल

जॉब प्रोफाइल  सैलरी 
लैंडस्केप आर्किटेक्ट 3 – 5 लाख 
फ्लोरल डिज़ाइनर  3 – 5 लाख
इंडस्ट्रियल डिज़ाइनर 6 – 7 लाख 
इंटीरियर डिजाईन शॉप्सवेडिंग डेकोरेटर 7 – 8 लाख 
असिस्टेंट डिज़ाइनर 3 – 5 लाख 
क्राफ्ट एंड फाइन आर्टिस्ट्स 7 – 8 लाख

शीर्ष इंटीरियर डिज़ाइनर की सूची

इंटीरियर डिज़ाइनिंग में शीर्ष विद्यार्थिओं की सूची निम्नलिखित है :-

  • मनित रस्तोगी
  • तान्या ज्ञानी
  • गौरी खान
  • अंबरीश अरोड़ा
  • ट्विंकल खन्ना
  • मोनिका खन्ना
  • सुजैन खान
  • आमिर शर्मा
  • अंजुम जंगो
  • शबनम गुप्ता

टॉप कम्पनींज़

  • द कारीगर
  • सेवियो और रूपा इंटीरियर कॉन्सेप्ट्स
  • एच एंड एच स्टूडियो
  • TOA आर्किटेक्ट्स
  • स्टूडियो एम इंटीरियर डिजाइन
  • प्रेस्टीज कंस्ट्रक्शन द्वारा मॉर्फ डिजाइन कंपनी
  • डिजाइन क्यूब
  • काराफिना
  • डी पनाचे
  • फ़्लिपस्पेस
  • यूनीप्लाई

FAQs

इंटीरियर डिजाइनर बनने के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए?

इंटीरियर डिजाइनिंग में करियर बनाने के लिए, उम्मीदवारों को इंटीरियर डिजाइन कोर्स जैसे बीएफए, बीडीएस, इंटीरियर एनवायरनमेंटल डिजाइन में बीए, इंटीरियर में बीवीए, इंटीरियर डिजाइन में सुश्री आदि की आवश्यकता होती है।

इंटीरियर डिजाइनिंग के लिए कौन सा कोर्स सबसे अच्छा है?

किसी के प्रवेश स्तर के आधार पर, उम्मीदवार इंटीरियर डिजाइनिंग के तहत पाठ्यक्रमों की एक विस्तृत श्रृंखला का विकल्प चुन सकते हैं। इंटीरियर आर्किटेक्चर में सबसे अच्छा कोर्स बीडीएस है।

मैं इंटीरियर डिजाइन के लिए कैसे अध्ययन करूं?

उम्मीदवार भारत में, दुनिया भर के विभिन्न संस्थानों में नामांकन कर सकते हैं या ऑनलाइन सीखने के माध्यम से अपने घरों में आराम से अध्ययन कर सकते हैं।

इंटीरियर डिजाइन कोर्स कितने साल का होता है?

इंटीरियर डिजाइन में स्नातक संस्थान के आधार पर 3-4 साल के लिए होता है।

हम आशा करते हैं कि इस लेख से आपको इंटीरियर डिज़ाइनर कैसे बने ? इसकी विस्तृत जानकारी मिली हो। यदि आप विदेश में इंटीरियर डिज़ाइनिंग कोर्स करना चाहते हैं, तो Leverage Edu पर हमारे विशेषज्ञों से संपर्क करें। वह आपके सपनों के आधार पर आपको सही कॉलेज व सही कोर्स चुनने में मदद करेंगे। हमारे साथ अपना 30 मिनट का फ्री ई-सेशन दिए गए नंबर 1800 572 000 पर कॉल करके आज ही बुक करें।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert