Sanskrit में MA कैसे करें?

Rating:
4.3
(7)
MA Sanskrit

संस्कृत भाषा को विश्व की सबसे प्राचीनतम भाषा में से एक माना जाता है। अधिकांश हिंदू धर्म ग्रंथ संस्कृत भाषा में ही लिखे गए हैं। संस्कृत भाषा से कई भाषाएं उत्पन्न हुई है जैसे- हिंदी,बांग्ला,मराठी,पंजाबी आदि। संस्कृत भाषा को देव भाषा माना जाता है। जब हम यह सुनते हैं तो हमारे मन में कई प्रश्न चिन्ह खड़े हो जाते हैं कि एक भाषा से इतनी सारी भाषाएं कैसे उत्पन्न हुई और हम संस्कृत भाषा में रुचि भी लेने लगते हैं। इसके अलावा कई छात्र इसे करियर के लिए भी चुनते हैं और अपनी graduation संस्कृत भाषा में करते हैं जिसके बाद ही Sanskrit में MA स्टूड़ेट्स करते हैंं। Sanskrit में MA कैसे करें जानने के लिए ब्लॉग पूरा पढ़े।

MA Sanskrit

MA Sanskrit 2 वर्ष का पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स होता है। जिसका पूरा नाम मास्टर ऑफ आर्ट्स इन संस्कृत है। यदि आप MA Sanskrit की तैयारी कर रहे हैं, तो आप बिल्कुल सही ब्लॉक पढ़ रहे हैं।MA Sanskrit से जुड़ी संपूर्ण जानकारी इस ब्लॉग में दी गई है तो आइए देखें MA Sanskrit-

कोर्स एमए संस्कृत
फुल फॉर्म संस्कृत में कला में परास्नातक(Masters of Arts in Sanskrit)
समयांतराल 2 वर्ष
पात्रता किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से कला में स्नातक की डिग्री या समकक्ष (Bachelor’s degree or equivalent in Arts from a recognized university)
प्रवेश प्रक्रिया मेरिट / प्रवेश-आधारित
औसत वार्षिक शुल्क INR 10,000 से 1,00,000 तक
औसत वार्षिक वेतन INR 3,00,000 से 9,00,000
नौकरी संस्कृत शिक्षक, ऑनलाइन ट्रांसक्रिप्ट, व्याख्याता, राजभाषा अधिकारी आदि।
टॉप कॉलेज मिरांडा हाउस, नई दिल्लीहिंदू कॉलेज, नई दिल्लीलेडी श्रीराम कॉलेज फॉर विमेन, नई दिल्लीएबीवीएचवी, भोपाल आदि।
पाठ्यक्रम बीएड,एम.फिल। (संस्कृत),पीएच.डी. (संस्कृत)

MA Sanskrit Top Colleges

यदि आप M.A संस्कृत की डिग्री लेना चाह रहे हैं और आप M.A संस्कृत के लिए टॉप कॉलेज का चयन करने में असमंजस की स्थिति में है तो आपको घबराने की जरूरत नहीं है। MA Sanskrit के टॉप कॉलेज इन इंडिया की सूची नीचे दी गई है MA Sanskrit कॉलेज सुनने में यह आपकी मदद करेगी-

NIRF रैंकिंग 2020 कॉलेज का नाम औसत वार्षिक शुल्क
1 मिरांडा हाउस, नई दिल्ली INR 14,530
3 हिंदू कॉलेज, नई दिल्ली INR 18,010
4 लेडी श्रीराम कॉलेज फॉर विमेन, नई दिल्ली INR 17,976
9 हंस राज कॉलेज, नई दिल्ली INR 13,309
10 रामजस कॉलेज, नई दिल्ली INR 14,284
43 इंद्रप्रस्थ कॉलेज फॉर विमेन, नई दिल्ली INR 13,000
64 चंडीगढ़ विश्वविद्यालय, चंडीगढ़ INR 50,000
76 एबीवीएचवी, भोपाल INR 10,250
79 बनस्थली विद्यापीठ, जयपुर INR 74,500
95 रांची विश्वविद्यालय, रांची INR 2,850

MA Sanskrit में प्रवेश के Eligibility

  • किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से कला में स्नातक की डिग्री होनी चाहिए।
  • बैचलर डिग्री की परीक्षा में कम से कम 50% अंकों के साथ उत्तरण किया हो। 
  • स्नातक में संस्कृत भाषा का अच्छा ज्ञान होना चाहिए तथा स्नातक में संस्कृत विषय होना चाहिए ताकि पोस्ट ग्रेजुएशन संस्कृत विषय में करने पर हम अच्छा स्कोर कर सके।
  • MA Sanskrit के लिए छात्रों के पास अच्छा बोलने, पढ़ने और लिखने का कौशल होना चाहिए।

Check it: हरिवंश राय बच्चन: जीवन शैली, साहित्यिक योगदान, प्रमुख रचनाएँ

MA Sanskrit Syllabus

Ma Sanskrit का पूरा सिलेबस नीचे दिया गया है-

सेमेस्टर MA Sanskrit Subjects
सेमेस्टर 1 -वैदिक भजन (ऋगवेद-संहिता के निम्नलिखित भजन सयाना की टिप्पणी के साथ): आरके संहिता: 1.1, 1.35, 1.154, II। 33, X.90
-आचार्य शंकरन का आत्मबोध प्रवचनम
-संस्कृत दर्शनशास्त्र
-शास्त्रीय संस्कृत साहित्य का इतिहास
-मेघदूतम
-अशोकन एडिट्स: रॉक एडिट्स -III, IV, V, VI, XII, XIII निरुक्त (1.1-1.14)
-संस्कृत व्याकरण का इतिहास
-कौटिल्य का अर्थशास्त्र अधिरचना II – अध्याय 1, 2, 5, 6, 7, 8, 35,36
सेमेस्टर 2 -आरके संहिता (स्याना टिप्पणी के साथ आरजी वेद संहिता के निम्नलिखित भजन): आरके संहिता – 1.2, 1.3,1.4,6.64,7.86,10.129
-सांख्य अरिका
-वैदिक साहित्य का इतिहास
-व्याकरण सिद्धान्तकौमुदी (पूर्ववर्धा) समाज, परिभासा, एसी सांधी [प्राकृतभावा तक]-मृच्छकटिकम (I-IV)
-साहित्यपद (अध्याय -1, 2) साहित्यदर्पण (अध्याय -3 से रसानुपरुपन तक)
-भासप्रिकेडा (केवल खंडा खंडा)
-सयाना की ऋग्वेदश्याभोपरामनिका अशोकन की शिक्षाएँ: स्तंभ शिक्षा – IV, VII
सेमेस्टर 3 -व्याकरण सिद्धान्तकुमारी (उत्तरार्ध) भिवाड़ी
-पतंजलि की महाभाष्य (केवल पपसा)
-केनोपनिषद
-याज्ञवल्क्य – स्मृति (व्यवाहरध्याय)
-अनुसंधान पद्धति और पांडुलिपि
-भासापरिचेडा (अनूमन, उपमन और सबदा-खंडा विद मुक्तावली और मननरूप)
-मृच्छकटिका (V – X), प्राकृतप्रकाश (I, II)
शिलालेख (केवल चयनित शिलालेख):
1. रुद्रमा का जुनागढ़ शिलालेख (एपिग्राफिया इंडिका, खंड। V, P.42)
2. चंद्रा का महरौली लौह स्तंभ शिलालेख (JF बेड़े, Corp.Ins.Ind।, Vol.III, नंबर 32 Cal।, 1888)
3. दामोदरपुर कॉपर प्लेट गुप्त के समय का शिलालेख (543 ईस्वी) (एपिग्राफिया इंडिका, XV। P.142)।
4. मिहिरकुला के समय का ग्वालियर शिलालेख, प्रति वर्ष 15 (फ्लीट, सी 11, III नंबर 37)

शिलालेख (केवल चयनित शिलालेख)
 1. फरीदपुर कॉपर प्लेट का शिलालेख धर्मादित्य, प्रति वर्ष 3 (भारतीय पुरातन, XXXIX)
2. सासांका के क्षेत्र मिदनापुर प्लेट्स (JRASB, पृष्ठ 19,1945)
3. धर्मपाल की खालिमपुर ताम्रपत्र शिलालेख, वर्ष 32 (एके मैत्रेयन, गौड़ाखमाला, राज शाही, 1919 बीएस)

सेमेस्टर 4 -धवनालोक (केवल उद्योग)
-नैसधकारितम (केवल नौवां कैंटो)
-मुदरकस (संपूर्ण)
-दशरूपक (I से III)
-काव्यप्रकाश (I -V अध्याय)
-रस गंगाधारा- (मैं अमन, कविता के वर्गीकरण तक)
-परियोजना
सेमेस्टर 5 -गौतम सूत्र नयभास्यम 1.1 के साथ। 1-6, 1.1.7-22 (केवल सूत्र)
-व्यास संयोग (समाधि पद) के साथ योग सूत्र, सूत्र संख्या 39 तक
-वेदांतदर्शन, शारिकभास्य (अध्यासभास्य और अध्याय 1.1.1 –6, 12-19) के साथ
-बौधदर्शन (सर्वदर्शनसंग्रह से)
-वेराडदर्शन, शारिकभास्य के साथ (अध्याय- II.I.1-17, II.II.1-3, 11-16)
-वेदांतपरिभासा (केवल प्रतीकात्मक) प्रत्यभिज्ञहनम् (सूत्र – 1-10)
सेमेस्टर 6 -वैदिक भजन: – वाजसनेयी संहिता – XVI। (1-16), 34 (1-6)। अथर्ववेद संहिता – बारहवीं। 1-12, XIX.53 (17)।
-ब्राहादेवता (अध्याय- I)
-शतपथ ब्राह्मण (कांडा –I, प्रपत्का -1, ब्राह्मण -1, अधयन -1-2), निरुक्त – II (1-4), VII (1-13)
-आरके- प्रितिसख्या (I-III)
-अथरे ब्राह्मण (पंचिका -I अध्याय I -II, पंचिका- VI अध्याय XXXIII सुनहसपा कथा)
-वैदिक व्याख्याओं (पारंपरिक और आधुनिक) का असवालयण श्रौतसूत्र (अध्याय – I): वेंकट माधव, स्कंदवास्विन, सयाना, अरबिंदो, दयानंद, मैक्स मुल्ला रोथ।
सेमेस्टर 7 1.बेसनगर गरुड़ -पिलार शिलालेख (जेबीआरएएस खंड। XXIII)
2.सारनाथ बौद्ध चित्र कनिष्क का शिलालेख I वर्ष 3 (EI। Vol VII)
3.मथुरा स्टोन हुविस्का का शिलालेख, वर्ष 28, (ईआई-एक्सएक्सआई)
4.हाथीगुम्फा शिलालेख खारवेल (BMBarua, उदयगिरि और खंडगिरी गुफाओं में पुराने
ब्राह्मी शिलालेख, काल 1929)
5.नासिक गुफा शिलालेख वासिष्ठिपुत्र पुलामायि, वर्ष 19 (ईआई- VII)।
6.आदित्यसेना का पत्थर का शिलालेख। (फ्लीट, कॉर्प इंस। Ind। III। कल 1888)।
7.हर्षवर्धन (ईआई- IV) के जी बांसखेड़ा कॉपर प्लेट शिलालेख
8.ग्वालियर स्टोन मिहिर भोज का शिलालेख (ईआई-XVIII)
9.ईश्वरवर्मन का ईशान शिलालेख (EI – XIV)।

प्राचीन शिलालेखों का अध्ययन
(लिखित -45 अंक + विवा- Voce- 05 अंक)
1.इलाहाबाद स्टोन स्तंभ समुद्रगुप्त (जेएफ फ्लीट, कॉर्पोरेशन इं। Ind। खंड III III 1888) का शिलालेख।
2.दामोदरपुर कॉपर प्लेट शिलालेख, वर्ष 124 (ईआई XV)।
3.कुमारसुप्ता और बंध वर्मन का मंडसोर स्टोन शिलालेख (फ्लीट, CII; वॉल्यूम III)।
4.जूनागढ़ रॉक स्कैंडगुट (इबिड) का शिलालेख।
5.भितरे स्तंभ स्कंदगुप्त (इबिड) का शिलालेख।
6.मंडसोर स्टोन शिलालेख यसोधरमैन, अनडेटेड (इबिड)।
7.मल्लासारुल कॉपर प्लेट शिलालेख गोपाकंद्रा, वर्ष 3 (ईआईएक्सएक्सवी)।
पालियोग्राफी (गुप्त लिपियों)
(लिखित -45 अंक + विवा- Voce- 05 अंक)
चयनित शिलालेख:
1. महास्थान सुगंधित पाषाण पट्टिका शिलालेख (Ep- Ind। Vol। XXI)
2. भास्कर वर्मन का निधनपुर कॉपरप्लेट शिलालेख। (ईआई। XII, XIX)
3. देवा पाला (EI-XVII) का नालंदा कॉपरप्लेट शिलालेख
4. नारायण अपाला (एके मैत्रेयन, गौड़ा-लेखमाला) का बादलालुगुड़ा स्तंभ शिलालेख।
5. भजवर्मन का बेलवा कॉपरप्लेट शिलालेख (एनजी मजुमदार, बंगाल वॉल्यूम का शिलालेख। III, राज शाला 1929)
6. विजयसेन (इबिद) के दियोपारा प्रसस्ती
7. भट्टबाहवदेव (इबिड) का भुवनेश्वरप्रस्ति।
8. पुलकेशिन II का आयोल शिलालेख। कागज़
परियोजना

पीएम नरेंद्र मोदी की कहानी

Source: ChinmayaChannel

MA Sanskrit में जॉब और करियर 

नौकरी औसत वेतन सालाना
संस्कृत टाइपिस्ट INR 2,20,000
ऑनलाइन ट्रांसक्रिप्ट INR 4,16,000
प्रशिक्षण अधिकारी हिंदी   INR 4,28,000
सामग्री डेवलपर INR 2,80,000
व्याख्याता INR 6,80,000
संस्कृत शिक्षक INR 50,000

Sanskrit Courses

  • बीए (ऑनर्स।) संस्कृत
  • बीए (संस्कृत साहित्य)
  • बीए (संस्कृत)
  • बीए (वेदांत)
  • एमए (ऑनर्स।) (संस्कृत)
  • एमए (संस्कृत और लेक्सोग्राफी)
  • एमए (संस्कृत साहित्य)
  • एम.फिल। (संस्कृत)
  • पीएच.डी. (संस्कृत)
  • संस्कृत में डिप्लोमा
  • संस्कृत में स्नातकोत्तर डिप्लोमा (जूनियर)
  • संस्कृत में स्नातकोत्तर डिप्लोमा (वरिष्ठ)
  • बीएड
  • जूनियर रिसर्च फेलोशिप

Distance Education MA Sanskrit

एमए संस्कृत एक स्नातकोत्तर संस्कृत पाठ्यक्रम है। यह एक प्रामाणिक इंडो-आर्यन भाषा है और हिंदू धर्म, जैन धर्म और बौद्ध धर्म की आवश्यक कर्मकांडीय भाषा है। यह उत्तराखंड प्रांत की आधिकारिक भाषा है। एमए (संस्कृत) की लंबाई दो शैक्षिक वर्षों के अधिकांश भाग के लिए है, फिर भी यह संगठन से स्थापित करने के लिए बदल सकती है। शेड्यूल को चार सेमेस्टर में विभाजित किया गया है जो रूट से लेकर अब तक की प्रगति तक चल रहा है। एमए (संस्कृत) पाठ्यक्रम एक व्यवसाय है और राष्ट्र के माध्यम से छात्रों के लिए कई क्षेत्र खोलता है।

योग्यता

अप-एंड-कॉमर्स को अपना बीए पूरा करना चाहिए। कला स्ट्रीम में किसी भी कथित विश्वविद्यालय या कॉलेज के तहत डिग्री। इस पाठ्यक्रम के लिए पुष्टि के संकेत संगठन से स्थापित करने के लिए उतार-चढ़ाव कर सकते हैं।

Check it: Hindi ASL Topics

MA Sanskrit Books

S.No. बुक्स लेखक
1. History of Sanskrit Poetics  पांडुरंग वामन काणे
2. कादम्बरी बाणभट्ट
3. अभिज्ञानशाकुन्तलम् कालिदास
4. A history of Indian literature मारिज विण्टरनित्ज 
5. Dictionary of Sanskrit Grammar काशीनाथ वासुदेव अभ्यंकर
6. मृच्छकटिकम् (नाटक) शूद्रक
7. मेघदूतम् कालिदास

MA Sanskrit Previous Year Question Paper Pdf Free Download

Credits : North India Campus

आशा है, MA Sanskrit की जानकारी आपको मिल गई होगी । यदि आप विदेश में पढ़ाई करना चाहते हैं तो हमारेLeverage Edu के experts से दिए गए number 1800 572 000 पर contact कर आज ही free session बुक कीजिए।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.

+91
Talk to an expert for FREE

You May Also Like

नीट के बिना Medical Courses
Read More

नीट के बिना Medical Courses

ऐसे भी कई मेडिकल और पैरामेडिकल कोर्स उपलब्ध हैं, जिनमें प्रवेश के लिए NEET की आवश्यकता नहीं होती।…