इंजीनियरिंग में मास्टर्स कैसे करें?

1 minute read
457 views
Leverage Edu Default Blog Cover

इंजीनियरिंग कोर्स छात्रों की पहली पसंद रहती है साइंस के नॉन मेडिकल छात्रों के लिए क्योंकि इसमें काफी स्कोप है। यह ऐसा नहीं कि इसमें भेड़चाल है, बल्कि यह इसलिए क्योंकि इस कोर्स में पैशन और मेहनत लगती है। एक बार इंजीनियरिंग में बैचलर्स कर लेने के बाद आप सोच रहे होंगे कि इसमें मास्टर्स कैसे की जी जाए तो यह ब्लॉग आपके लिए ही है। Engineering में Master कैसे करें के इस ब्लॉग में हम आपको देंगे विस्तार से जानकारी।

यह भी पढ़ें: सिविल इंजीनियर कैसे बने?

कोर्स के बारे में

इंजीनियरिंग में बैचलर्स करने के बाद जब आप मास्टर्स के लिए तैयारी कर रहे हैं, तो आपको इस कोर्स के बारे में जानना चाहिए। जानिए Engineering में Master कैसे करें विस्तार से।

लेवल पोस्टग्रेजुएट
कोर्स ड्यूरेशन 1-2 साल (कंसिस्ट्स ऑफ़ 4 सेमेस्टर)
फीस स्ट्रक्चर 10,000 से 50 लाख
योग्यता बैचलर्स डिग्री इन इंजीनियरिंग (BTech, BE)
न्यूनतम आवश्यक अंक 55%
एडमिशन एंट्रेंस एग्ज़ाम/मेरिट आधारित
एंट्रेंस एग्ज़ाम DASA PG, IIITH PGEE, SRMJEEE PG, BITS ME, SRMGEET, GATE etc.
जॉब प्रोफाइल इलेक्ट्रिकल डिज़ाइन इंजीनियर, सीनियर सॉफ्टवेयर इंजीनियर, शिफ्ट मेंटेनेंस इंजीनियर, परफॉरमेंस इंजीनियर आदि।

यह भी पढ़ें: मैकेनिकल इंजीनियरिंग का क्या होता है काम

मास्टर्स ऑफ़ इंजीनियरिंग क्या है?

Engineering में Master कैसे करें में मास्टर ऑफ़ इंजीनियरिंग एक पोस्टग्रेजुएट प्रोग्राम है जिसका समय 1-2 साल तक का होता है और इसमें चार सेमेस्टर होते हैं। जिन छात्रों ने इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन पूरी कर ली है, वे इंजीनियरिंग में मास्टर डिग्री के साथ अपनी शिक्षा जारी रख सकते हैं। वे इस कोर्स के माध्यम से उन्नत इंजीनियरिंग कोर्सेज में प्रोफेशनल ट्रेनिंग और थ्योरेटिकल एक्सपर्टीज प्राप्त करेंगे।

छात्र ग्रेजुएशन लेवल पर अध्ययन किए गए कार्यक्रम के आधार पर इंजीनियरिंग स्पेशलाइजेशन में अपने अंडरग्रेजुएट का चयन कर सकते हैं। मास्टर ऑफ़ इंजीनियरिंग प्रोग्राम में प्रवेश या तो एंट्रेंस एग्ज़ाम या डायरेक्ट एडमिशन के माध्यम से होता है। Engineering में Master कैसे करें में किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन की डिग्री ME कोर्स के लिए न्यूनतम आवश्यकता है।

यह भी पढ़ें: जानें इंजीनियरिंग के सभी एंट्रेंस एग्जाम के बारे में

मास्टर ऑफ़ मैनेजमेंट कोर्सेज

मास्टर ऑफ़ मैनेजमेंट में टॉप कोर्सेज की लिस्ट नीचे दी गई है:

  • ME in Nanotechnology Engineering
  • ME in Aerospace Engineering
  • ME in Environmental Engineering
  • ME in Material Science Engineering
  • ME in Agricultural Engineering
  • ME in Print Technology and Engineering
  • ME in Industrial Engineering
  • ME in Systems Engineering
  • ME in Manufacturing Engineering
  • ME in Petroleum Engineering
  • ME in Geological Engineering

मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग के लिए सिलेबस और विषय

मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग कोर्स में स्पेशलाइजेशन की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान की जाती है। ये विशेषताएँ छात्रों को विषयों के बारे में बहुत गहराई और विस्तार से सीखने की अनुमति देती हैं। मास्टर ऑफ़ इंजीनियरिंग में पढ़ाए जाने वाले कुछ कोर्सेज के बारे में नीचे बताया गया है:

  • एडवांस्ड मशीन डिज़ाइन
  • मेज़रमेंट टेक्निक्स एंड डाटा एनालिसिस
  • इंटरनल कंबस्शन इंजन
  • एनालिसिस एंड सिंथेसिस ऑफ़ मैकेनिज्म
  • कंप्यूटर-ऐडेड मैन्युफैक्चरिंग
  • थ्योरी ऑफ़ इलास्टिसिटी एंड प्लास्टिसिटी

मास्टर ऑफ़ इंजीनियरिंग के लिए दुनिया की टॉप यूनिवर्सिटीज़

Engineering में Master कैसे करें के लिए आपको दुनिया की टॉप यूनिवर्सिटीज़ के बारे में भी जानना चाहिए क्योंकि आप इस क्षेत्र में एक बेहतर करियर बना सकते हैं। Engineering में Master कैसे करें के लिए टॉप यूनिवर्सिटीज़ की लिस्ट नीचे दी गई है:

यूनिवर्सिटीज़ औसत सालाना फीस स्वीकृत एग्ज़ाम
मेसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी INR55.2-60 लाख TOEFL: 100
IELTS: 7
GRE: स्वीकृत
स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय INR45.5-50 लाख TOEFL: 89
GRE: स्वीकृत
यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफ़ोर्निया-बर्कले कैंपस INR62.2-65 लाख TOEFL: 90
IELTS: 7
GRE: स्वीकृत
यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैम्ब्रिज़ INR49.50 लाख IELTS: 7
नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ सिंगापुर (NUS) INR24.4-30 लाख TOEFL: 85
IELTS: 6
यूनिवर्सिटी ऑफ़ ऑक्सफ़ोर्ड INR37.3-40 लाख IELTS: 7.5
मेलबर्न विश्वविद्यालय INR38.8-40 लाख TOEFL: 79
IELTS: 6.5
PTE: 58
टेक्निकल यूनिवर्सिटी ऑफ़ म्युनिक INR1.4-2 लाख TOEFL: 88
IELTS: 6.5
ब्रिटिश कोलंबिया विश्वविद्यालय INR53.7-55 लाख TOEFL: स्वीकृत
IELTS: स्वीकृत
GRE: स्वीकृत
PTE: स्वीकृत
यूनिवर्सिटी ऑफ़ मेनचेस्टर INR36-40 लाख IELTS: 6.5
PTE: 58

मास्टर ऑफ़ इंजीनियरिंग के लिए भारत के टॉप कॉलेजेस

Engineering में Master कैसे करें के लिए भारत के टॉप कॉलेजेस की लिस्ट नीचे दी गई है:

कॉलेज मान्यता प्राप्त औसत वार्षिक शुल्क
आईआईटी खड़गपुर, खड़गपुर UGC AICTE INR 2.32-3 लाख
आईआईटी दिल्ली, दिल्ली AICTE INR 25.6 – 50 हजार
आईआईटी चेन्नई, चेन्नई AICTE INR 10-50 हजार
आईआईटी कानपुर, कानपुर AICTE NBA INR 48-60 हजार
आईआईटी रुड़की, रुड़की AICTE NAAC INR 1.05-2 हजार
आईआईटी बॉम्बे, मुंबई AICTE INR 40-60 हजार
बिट्स पिलानी, पिलानी AICTE NAAC INR 2.06-3 हजार
आईआईटी ISM, धनबाद अन्य MHRD INR 43-86 हजार
एनआईटी, मैंगलोर AICTE INR 70 हजार-1 लाख
वीईएलएस विश्वविद्यालय, चेन्नई UGC NAAC INR 60-80 हजार

यह भी पढ़ें: सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग इन हिंदी

मास्टर ऑफ़ इंजीनियरिंग के लिए योग्यता

जिन छात्रों को विदेश या भारत से इंजीनियरिंग में मास्टर्स करनी है, उसके लिए आवश्यक योग्यता नीचे दी गई है:

  • इंजीनियरिंग में बैचलर्स डिग्री प्रोग्राम के लिए ज़रुरी है कि उम्मीदवारों ने किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से PCM (फिजिक्स, केमिस्ट्री, गणित) से 10+2 प्रथम श्रेणी से पास किया हो।
  • मास्टर ऑफ़ इंजीनियरिंग के लिए आपके पास इंजीनियरिंग में बैचलर्स डिग्री होनी आवश्यक है।
  • भारत में इंजीनियरिंग में मास्टर्स डिग्री के लिए कुछ कॉलेजों और यूनिवर्सिटीज में एडमिशन के लिए प्रवेश परीक्षा के स्कोर अनिवार्य हैं। साथ ही कुछ कॉलेज और यूनिवर्सिटीज अपनी स्वयं की प्रवेश परीक्षाएं आयोजित करतीं हैं। विदेश में इन कोर्सेज  के लिए यूनिवर्सिटी द्वारा निर्धारित आवश्यक ग्रेड आवश्यकताओं को पूरा करना जरुरी है, जो हर यूनिवर्सिटी और कोर्स के अनुसार अलग–अलग हो सकती है।
  • विदेश की अधिकतर यूनिवर्सिटीज मास्टर्स कोर्सेज के लिए GRE स्कोर की मांग करते हैं।
  • विदेश की यूनिवर्सिटीज में एडमिशन के लिए IELTS या TOEFL टेस्ट स्कोर, अंग्रेजी प्रोफिशिएंसी के प्रमाण के रूप में ज़रूरी होते हैं। जिसमे IELTS स्कोर 7 या उससे अधिक और TOEFL स्कोर 100 या उससे अधिक होना चाहिए।
  • विदेश यूनिवर्सिटीज में पढ़ने के लिए SOPLORसीवी/रिज्यूमे और पोर्टफोलियोभी जमा करने की जरूरत होती है।

यह भी पढ़ें: इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग कैसे करें?

मास्टर ऑफ़ इंजीनियरिंग के लिए एंट्रेंस एग्ज़ाम

कॉलेज और राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित किए जाने वाले इंजीनियरिंग कोर्सेज में प्रवेश के लिए कुछ प्रतियोगी प्रवेश परीक्षाएं नीचे दी गई हैं:

GATE Exam BITS ME DASA PG
SRMJEEE PG IIITH PGEE SRMGEET

आवेदन प्रक्रिया 

विदेश के विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए आवेदन प्रक्रिया इस प्रकार है–

  • एक मास्टर ऑफ़ इंजीनियरिंग कोर्स में प्रवेश एक विश्वविद्यालय से दूसरे विश्वविद्यालय से अलग हो सकता है। जबकि कुछ संस्थानों में छात्रों का मूल्यांकन करने के लिए अपनी प्रवेश परीक्षा होती है, कुछ कॉलेज एप्टीट्यूट टेस्ट में उनके प्रदर्शन के आधार पर छात्रों को स्वीकार कर सकते हैं।
  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप AI Course Finder की सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • एक्सपर्ट्स से कॉन्टैक्ट के पश्चात वे कॉमन डैशबोर्ड प्लेटफॉर्म के माध्यम से कई विश्वविद्यालयों की आपकी आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेजों जैसे SOP, निबंध (essay), सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टेस्ट स्कोर जैसे IELTSTOEFLSATACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTSTOEFLPTEGMATGRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप Leverage Live कक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीजा और छात्रवृत्ति/छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लेटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। 

भारत के विश्वविद्यालयों में आवेदन प्रक्रिया, इस प्रकार है–

  1. सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  2. यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  3. फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  4. अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  5. इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  6. यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

आवश्यक दस्तावेज़

कुछ जरूरी दस्तावेज़ों की लिस्ट नीचे दी गई हैं–

यह भी पढ़ें: 2021 के इंजीनियरिंग एंट्रेंस एग्जाम

करियर के अवसर

इंजीनियरिंग में मास्टर्स एक ऐसा कार्यक्रम है जो छात्रों को इंजीनियरिंग और साइंस के क्षेत्र में प्रोफेशनल ट्रेनिंग प्रदान करता है, जिससे उन्हें विभिन्न क्षेत्रों में करियर की तलाश करने की आज्ञा मिलती है। छात्रों को कम्प्रेहैन्सिव और थ्योरेटिकल नॉलेज मिलता है, जिसे कोर्स के हिस्से के रूप में वास्तविक दुनिया के तकनीकी व्यवसायों पर लागू किया जा सकता है। Engineering में Master कैसे करें में आपके कई करियर विकल्प उपलब्ध हैं।

  • सीनियर सिस्टम इंजीनियर
  • केमिकल प्रोसेस इंजीनियर
  • कंस्ट्रक्शन प्रोजेक्ट मैनेजर
  • सीनियर मैकेनिकल इंजीनियर
  • स्ट्रक्चरल इंजीनियर
  • डिज़ाइन इंजीनियर
  • प्रोडक्ट इंजीनियर
  • सॉफ्टवेयर डेवलपर
  • सीनियर इलेक्ट्रिकल इंजीनियर
  • प्रोसेसिंग इंजीनियरिंग मैनेजर
  • सीनियर केमिकल इंजीनियर

यह भी पढ़ें: JEE एडवांस्ड मार्क्स vs रैंक

FAQs

मास्टर ऑफ़ इंजीनियरिंग का कोर्स कितने साल का होता है?

मास्टर ऑफ़ इंजीनियरिंग का कोर्स 2 साल का कोर्स है।

मास्टर ऑफ़ इंजीनियरिंग के लिए दुनिया की टॉप यूनिवर्सिटीज़ कौनसी हैं?

मास्टर ऑफ़ इंजीनियरिंग के लिए दुनिया की टॉप यूनिवर्सिटीज़:
मेसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी
स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय
यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफ़ोर्निया-बर्कले कैंपस
यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैम्ब्रिज़

क्या भारत से इंजीनियरिंग में बैचलर्स डिग्री करने के बाद विदेश में मास्टर डिग्री कर सकते हैं?

जी हाँ, आप भारत से इंजीनियरिंग में बैचलर्स डिग्री करने के बाद विदेश में मास्टर डिग्री कर सकते हैं। इसके लिए आपको विदेशी यूनिवर्सिटी की आवश्यक शैक्षणिक योग्यता को पूरा करना होगा।

उम्मीद है कि हमारे आज के इस ब्लॉग से Engineering में Master कैसे करें के बारे में सभी महत्वपूर्ण जानकारी मिल गई होगी। यदि आप विदेश में इंजीनियरिंग में मास्टर्स की पढ़ाई करना चाहते हैं, तो हमारे Leverage Edu एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन 1800 572 000 पर कॉल कर बुक करें।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

2 comments
    1. जी आप कर सकती हैं। MSc physics honors के बाद आपको GATE परीक्षा देनी होगी, उसमें उत्तीर्ण होने के बाद आप ME कर सकती हैं।

    1. जी आप कर सकती हैं। MSc physics honors के बाद आपको GATE परीक्षा देनी होगी, उसमें उत्तीर्ण होने के बाद आप ME कर सकती हैं।

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert