लाइब्रेरी साइंस कॉलेज

1 minute read
1.1K views
Leverage Edu Default Blog Cover

पिछले कुछ वर्षों में लाइब्रेरी साइंस के अध्ययन ने काफी प्रसिद्धि पाई है। यह क्षेत्र लाइब्रेरी प्रणाली की बेहतरी के प्रति समर्पित है और यही वजह है इन दिनों इससे जुड़े विभिन्न पाठ्यक्रम प्रदान किए जा रहे है। इसलिए अगर आप एक पुस्तक प्रेमी हैं और कॉलेज की लाइब्रेरी आपको आकर्षित करती है और आप लाइब्रेरी साइंस के विभिन्न पहलुओं से जुड़ कर काम करना चाहते हैं, तो फिर आपके लिए लाइब्रेरी साइंस कोर्स में डिग्री प्राप्त करना ही सही रास्ता है। यहाँ इस ब्लॉग में हम भारत में लाइब्रेरी साइंस कॉलेज के बारे में बात करेंगे जो आपके लिए मददगार होंगे।

लाइब्रेरी साइंस क्या है?

लाइब्रेरी साइंस एक अंतःविषय या बहु-विषयक क्षेत्र है, इस कोर्स के तहत छात्रों को लाइब्रेरी और इंफॉर्मेशन सिस्टम मैनेजमेंट, डॉक्यूमेंटेशन, मैनुस्क्रिप्ट, कैटलॉग, बिबलियोग्राफी आदि के बारे में पढ़ाया जाता है। इस कोर्स में छात्रों को लाइब्रेरी को संभालने के प्रबंधकीय और प्रशासनिक पहलुओं का गहन ज्ञान प्रदान करता है। अतःलाइब्रेरी साइंस का दायरा काफी बड़ा हो गया है, आज के समय में यह एक हाईटेक कार्य के रूप में जाना जाता है। इसलिए इसमें करियर के अवसर भी काफी ज्यादा नजर आ रहे हैं। 

लाइब्रेरी साइंस का उद्देश्य  

लाइब्रेरी साइंस के अंतर्गत तीन प्रमुख उद्देश्य नीचे दिए गए हैं:

  • पाठकों को सामान्य सेवाएं देना जैसे कि पुस्तकों का आदान-प्रदान करना।
  • तकनीकी कार्य किताबों की एंट्री, लिस्ट बनाना या इंडेक्सिंग करना। 
  • प्रशासनिक काम जैसे – लाइब्रेरी की सुविधाएं बढ़ाना और लाइब्रेरी से संबंधित काम को सही रूप से संचालित करने के लिए वरिष्ठ अधिकारियों से संपर्क बनाये रखना होता है। इसके साथ ही पुस्तकों की खरीदारी से सम्बंधित कार्य भी देखने पड़ सकते हैं।

आवश्यक स्किल

यहाँ लाइब्रेरी साइंस में एक सफल कैरियर बनाने के लिए आवश्यक प्रमुख कौशल दिए गए हैं

  • क्रिएटिविटी स्किल चाहिए।
  • रिसर्च स्किल होनी चाहिए।
  • अनुकूलन क्षमता होनी चाहिए
  • कम्युनिकेशन स्किल होनी चाहिए।
  • मैनेजमेंट स्किल होनी चाहिए।
  • समस्या समाधान करने की कुशलताएं होनी चाहिए।
  • इंटरनेट से परिचित होना चाहिए।
  • लाइब्रेरी मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर प्रवीणता होनी चाहिए।
  • बारीकियों पर ध्यान देना आना चाहिए।

दुनिया भर में उपलब्ध विभिन्न लाइब्रेरियन कोर्स 

लाइब्रेरी साइंस के उभरते हुए क्षेत्र की खोज के लिए, आप इस क्षेत्र में अल्पकालिक के साथ-साथ दीर्घकालिक पाठ्यक्रमों का विकल्प चुन सकते हैं। पुस्तकालय पाठ्यक्रम को आगे बढ़ाने के लिए आप निम्नलिखित श्रेणियों में से चुनें:

  • डिप्लोमा पाठ्यक्रम
  • प्रमाणपत्र पाठ्यक्रम
  • बैचलर डिग्री पाठ्यक्रम
  • मास्टर डिग्री पाठ्यक्रम

डिप्लोमा और सर्टिफिकेट लाइब्रेरियन पाठ्यक्रम

  • Diploma in Library and Information Science
  • Certificate in Library and Information Science
  • Certificate in Library Science
  • Post Graduate Diploma in Library Automation and Networking

स्नातक डिग्री लाइब्रेरियन पाठ्यक्रम

  • Bachelor of Library and Information Science (BLI. Sc)
  • Bachelor of Library Science (B.Lib.)

मास्टर डिग्री लाइब्रेरियन पाठ्यक्रम

  • Master in Library and Information Science
  • Master in Library Science

डॉक्टरेट डिग्री लाइब्रेरियन पाठ्यक्रम

  • M.Phil in Library and Information Science
  • PhD in Library and Information Science

लाइब्रेरियन कोर्स प्रदान करने वाले शीर्ष अंतर्राष्ट्रीय कॉलेज

दुनिया भर में ऐसे कई कॉलेज हैं जो डिग्री प्रोग्राम और शॉर्ट-टर्म कोर्स में भिन्न लाइब्रेरियन पाठ्यक्रमों की एक सारणी प्रदान करते हैं। यहां दुनिया भर में लाइब्रेरियन पाठ्यक्रम प्रदान करने वाले प्रमुख कॉलेजों की सूची दी गई है:

  • ह्यूस्टन विश्वविद्यालय- क्लियर लेक, यूएसए
  • लुइसियाना के नॉर्थवेस्टर्न स्टेट यूनिवर्सिटी, यूएसए
  • फ्लोरिडा स्टेट यूनिवर्सिटी, फ्लोरिडा
  • कोलोराडो विश्वविद्यालय डेनवर- डाउनटाउन डेनवर कैंपस, यूएसए
  • एरिज़ोना विश्वविद्यालय, यूएसए
  • लिवरपूल विश्वविद्यालय, यूके
  • ग्लासगो विश्वविद्यालय, यूके
  • शेफील्ड विश्वविद्यालय, यूके
  • रॉबर्ट गॉर्डन विश्वविद्यालय, यूके
  • डंडी विश्वविद्यालय, यूके
  • नॉर्थम्ब्रिया विश्वविद्यालय, न्यूकैसल, यूके
  • विक्टोरिया यूनिवर्सिटी ऑफ वेलिंगटन, न्यूजीलैंड

भारत में लाइब्रेरी साइंस कॉलेज

आइए हम भारत के विभिन्न पुस्तकालय विज्ञान महाविद्यालयों पर एक नज़र डालें। भारत में शीर्ष पुस्तकालय विज्ञान महाविद्यालयों की सूची नीचे दी गई है। 

विश्वविद्यालय का नाम स्थान
दिल्ली विश्वविद्यालय दिल्ली
बाबासाहेब भीमरो अंबेडकर विश्वविद्यालय लखनऊ
पांडिचेरी विश्वविद्यालय पांडिचेरी
कलकत्ता विश्वविद्यालय कलकत्ता
गुवाहाटी विश्वविद्यालय गुवाहाटी
आंध्र विश्वविद्यालय आंध्र प्रदेश
श्री वेंकटेश्वर विश्वविद्यालय आंध्र प्रदेश
पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय छत्तीसगढ़
महाराजा सयाजीराव विश्वविद्यालय बड़ौदा गुजरात
गुजरात विद्यापीठ अहमदाबाद
नॉर्थ ईस्ट फ्रंटियर टेक्निकल यूनिवर्सिटी अरुणाचल प्रदेश
हिमालयन विश्वविद्यालय अरुणाचल प्रदेश
अरुणाचल यूनिवर्सिटी ऑफ स्टडीज अरुणाचल प्रदेश
पटना विश्वविद्यालय पटना
कश्मीर विश्वविद्यालय श्रीनगर
बैंगलोर विश्वविद्यालय बैंगलोर
कर्नाटक विश्वविद्यालय कर्नाटक
मैंगलोर विश्वविद्यालय कर्नाटक
चौधरी चरण सिंह पोस्ट ग्रेजुएट कॉलेज उत्तर प्रदेश

यूनिवर्सिटी ऑफ कलकत्ता

यूनिवर्सिटी ऑफ कलकत्ता भारत में लाइब्रेरी साइंस कॉलेज में उत्कृष्ट कॉलेज में से एक है। यूनिवर्सिटी का लाइब्रेरी और इन्फॉर्मेशन साइंस विभाग लाइब्रेरी साइंस के पाठ्यक्रम प्रदान करता है। लाइब्रेरियन कोर्स के लिए यह सर्वश्रेष्ठ कॉलेजों में से एक है। यूनिवर्सिटी में लाइब्रेरी साइंस से संबंधित विषयों में डिप्लोमा, ग्रैजुएट और पोस्ट ग्रैजुएट कार्यक्रम भिन्न प्रकार के विषयों जिसमें लाइब्रेरी और इनफार्मेशन साइंस एजुकेशन, इंडस्ट्रीयल लाइब्रेरी और इन्फॉर्मेशन सिस्टम, कृषि लाइब्रेरी और इन्फॉर्मेशन सिस्टम और सेवाएँ, डिजिटल लाइब्रेरी मैनेजमेंट, लाइब्रेरी वेबसाइट डिज़ाइन आदि शामिल हैं। इसलिए ये सभी पाठ्यक्रम लाइब्रेरी साइंस के हर पक्ष को पूर्ण करते हैं । मुख्य पाठ्यक्रम निम्न प्रस्तुत हैं: 

  • बी लिब.आई.एससी  
  • एम.लिब.आई.एससी  
  • 5 साल का इंटीग्रेटेड एमएलआईएस
  • 3 वर्ष बीए.  / बी.एससी (ऑनर्स) इन लाइब्रेरी एंड इंफॉर्मेशन स्टडीज  
  • 2 वर्ष इंटीग्रेटेड बी.लिब.आई.एससी- एम.लिब.आई.एससी
  • एम. फिल
  • पीएचडी

पंडित रविशंकर शुक्ला यूनिवर्सिटी

भारत में लाइब्रेरी साइंस कॉलेज की हमारी सूची में अगला नाम है पंडित रविशंकर शुक्ला यूनिवर्सिटी का। पंडित रविशंकर शुक्ला यूनिवर्सिटी का स्कूल ऑफ स्टडीज इन लाइब्रेरी एंड इंफॉर्मेशन साइंस भारत का एक और शीर्ष लाइब्रेरी साइंस कॉलेज है। यूनिवर्सिटी के पाठ्यक्रम लाइब्रेरी साइंस के संबंध में समग्र ज्ञान प्रदान करते हैं और छात्रों को इस बदलती दुनिया में लाइब्रेरी के महत्व को समझने में मदद करते हैं। इसके अलग अलग पाठ्यक्रम जैसे लाइब्रेरी आर्गेनाइजेशन और मैनेजमेंट, रिसर्च मेथडोलॉजी, क्लासिफिकेशन, कैटालॉगिंग, आईसीटी और कंप्यूटर लिटरेसी, बिबलियोग्राफी और रेफरेंस सर्विस और कई अन्य पाठ्यक्रम लाइब्रेरी साइंस के हर पहलू को कवर करते हैं। पेश किए गए मुख्य पाठ्यक्रम हैं: 

  • एम.लिब.और आई.एससी  
  • बी लिब और आई.एससी 
  • लाइब्रेरी और इन्फॉर्मेशन साइंस में पीएच.डी.
  • एम.फिल
  • लाइब्रेरी और इन्फॉर्मेशन साइंस (सीबीसीएस)

इसे भी पढ़ें:: बीडीएस टू एमबीबीएस ब्रिज कोर्स (BDS to MBBS Bridge Course)

दिल्ली यूनिवर्सिटी

दिल्ली यूनिवर्सिटी निश्चित रूप से भारत की सबसे सम्मानित यूनिवर्सिटी में से एक है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह भारत में लाइब्रेरी साइंस कॉलेज के शीर्ष कॉलेज में आता है। लाइब्रेरी और इन्फॉर्मेशन साइंस विभाग दिल्ली यूनिवर्सिटी के अंतर्गत आता है जो लाइब्रेरी साइंस में पाठ्यक्रम प्रदान करता है। पाठ्यक्रमों को इस तरह से तैयार किया गया है कि यह सुनिश्चित किया जा सके कि छात्र उन सभी तकनीकों और विधियों को सीखें जिनका उपयोग लाइब्रेरी साइंस से संबंधित विभिन्न समस्याओं को हल करने में हो सके। रिसर्च मेथडोलॉजी इन लाइब्रेरी और इन्फॉर्मेशन साइंस, इनफार्मेशन प्रोसेसिंग और आर्गेनाईजेशन, लाइब्रेरी, इन्फॉर्मेशन और सोसाइटी, मैनेजमेंट ऑफ लाइब्रेरी और इन्फॉर्मेशन  सेंटर्स आदि मुख्य विषय में शामिल हैं. प्रस्तावित मुख्य पाठ्यक्रम निम्नलिखित हैं:   

  • बैचलर ऑफ़ लाइब्रेरी एंड इंफॉर्मेशन साइंस (बीएल.आई.एससी) 
  • मास्टर ऑफ़ लाइब्रेरी और इन्फॉर्मेशन साइंस  (एमएल.आई.एससी)
  • एम.फिल
  • पीएचडी 

मैंगलोर यूनिवर्सिटी

भारत में लाइब्रेरी साइंस कॉलेज में एक और नाम मैंगलोर यूनिवर्सिटी का भी है। इस हेरिटेज   यूनिवर्सिटी का साइंस और टेक्नोलॉजी फैकल्टी लाइब्रेरी साइंस में माहिर है और इस क्षेत्र में कई पाठ्यक्रम प्रदान करता है। फॉउण्डेशन्स ऑफ लाइब्रेरी और इन्फॉर्मेशन साइंस, मैनेजमेंट ऑफ़ लाइब्रेरीज और इनफार्मेशन सेंटर्स, मैनेजमेंट इन्फॉर्मेशन सिस्टम (एमआईएस), कंज़र्वेशन और प्रिजर्वेशन ऑफ इन्फॉर्मेशन रिसोर्सेज आदि प्रमुख विषय हैं जिन्हें यहाँ की फैकल्टी प्रदान करती है। इन पाठ्यक्रमों के अंत तक आप लाइब्रेरी साइंस के हर प्रमुख पहलू को सीखकर उसका अभ्यास कर महारथ हासिल कर चुके होंगे। प्रस्तुत महत्वपूर्ण पाठ्यक्रम निम्न हैं:

  • एमएल.आई.एससी. (मास्टर ऑफ़ लाइब्रेरी और इन्फॉर्मेशन साइंस)
  • पीएच.डी. लाइब्रेरी और इन्फॉर्मेशन साइंस

श्री वेंकटेश्वर यूनिवर्सिटी

श्री वेंकटेश्वर यूनिवर्सिटी का लाइब्रेरी और इन्फॉर्मेशन साइंस विभाग भारत में लाइब्रेरी साइंस कॉलेज में से एक है। यूनिवर्सिटी के पाठ्यक्रमों का उद्देश्य छात्रों को लाइब्रेरी साइंस में विशेषज्ञता प्रदान करना और उन्हें इस क्षेत्र के बदलावों के साथ तालमेल में रखना है। यूनिवर्सिटी की फैकल्टी के पास विभिन्न कार्यशालाओं और प्रशिक्षण कार्यक्रमों का व्यावहारिक ज्ञान है। इसे यूनिवर्सिटी के गहन पाठ्यक्रम के साथ जोड़ने पर आपको बहुत अच्छे शिक्षण अनुभव प्राप्त होगा।  मुख्य पाठ्यक्रम यहां दिए गए हैं:

  • एमएल.आई.एससी.
  • एम.फिल.
  • पीएच.डी.

अरुणाचल यूनिवर्सिटी ऑफ़ स्टडीज

अरुणाचल यूनिवर्सिटी ऑफ़ स्टडीज भारत में लाइब्रेरी साइंस कॉलेज में से एक है। लाइब्रेरी साइंस की सारी फैकल्टी छात्रों को लाइब्रेरी साइंस फंडामेंटल और इस क्षेत्र में अनुसंधान के विस्तार से मिलाने के लिए समर्पित है। लाइब्रेरी रिसर्च, शिक्षा, आर्काइव्ज, और यहां तक ​​कि लाइब्रेरी के कम्प्यूटरीकरण जैसे लाइब्रेरी साइंस में शामिल प्रमुख प्रसंस्करण को समझने के लिए इनके पाठ्यक्रम समर्पित हैं। छात्रों को मूल रूप से इन पाठ्यक्रमों के माध्यम से लाइब्रेरी साइंस की मूल बातें बताई और सिखाई जाती हैं ताकि वह समझ सकें कि इनका उपयोग क्षेत्र की बेहतरी के लिए कैसे किया जाए। इनके पाठ्यक्रमों में शामिल  हैं:

  •  बैचलर ऑफ़ लाइब्रेरी एंड इंफॉर्मेशन साइंस (बीएल. आई.एस )  
  • मास्टर ऑफ़ लाइब्रेरी एंड इंफॉर्मेशन साइंस (एमएल. आई.एस ) 
  • पीएच.डी. 
  • एम.फिल

इसे भी पढ़ें: यूपी स्कॉलरशिप 2021- पात्रता, आवेदन। राशि और अधिक

गुजरात विद्यापीठ

गुजरात विद्यापीठ एक और संस्था है जो देश में मानक लाइब्रेरी साइंस शिक्षा बनाने की दिशा में काम कर रही है। यह भारत में लाइब्रेरी साइंस कॉलेज में से एक है। संस्थान का उद्देश्य लाइब्रेरी प्रणाली को संरक्षित करना और निरंतर अनुसंधान के माध्यम से क्षेत्र का दायरा बढ़ाना है। इसी उद्देश्य के लिए संस्थान एम.फिल और पीएचडी स्तर के प्रोग्राम प्रदान कर रहा है। गुजरात विद्यापीठ की लाइब्रेरी को गुजरात के सबसे अमीर लाइब्रेरी में से एक माना जाता है और यहाँ की फैकल्टी इस लाइब्रेरी को आगे बढ़ाने और इसकी बेहतरी के लिए संपूर्ण तरह से समर्पित है। तो आप मान के चलें कि आपको उन पेशेवरों के बीच प्रशिक्षित किया जाएगा जिन्होंने लाइब्रेरी साइंस में काम किया है। इससे आपको इस क्षेत्र की प्रैक्टिकल समझ प्राप्त होगी। मुख्य पाठ्यक्रम निम्न हैं:

  • लाइब्रेरी साइंस में एम.फिल
  • लाइब्रेरी साइंस में पीएचडी

लाइब्रेरी साइंस कॉलेज आसाम

आसाम के लाइब्रेरी साइंस कॉलेज की सूची नीचे दी गई है:

  • गुवाहाटी विश्वविद्यालय – गुजरात
  • असम विश्वविद्यालय, सिलचरी
  • डिब्रूगढ़ विश्वविद्यालय
  • असम प्रोफेशनल एकेडमी – APA
  • डिब्रूगढ़ विश्वविद्यालय
  • रॉयल ग्लोबल यूनिवर्सिटी – RGU

योग्यता

यदि आप इस क्षेत्र में डिग्री प्राप्त करने के इच्छुक हैं, तो आपको अपने चुने हुए विश्वविद्यालय द्वारा निर्धारित पात्रता मानदंडों को पूरा करना होगा। ये आवश्यकताएं कोर्सेज के स्तर के अनुसार भिन्न होती हैं, जैसे बैचलर, मास्टर या डिप्लोमा। कुछ सामान्य पात्रता इस प्रकार हैं–

  • बैचलर्स डिग्री प्रोग्राम के लिए ज़रुरी है कि उम्मीदवारों ने किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से किसी स्ट्रीम से 10+2 प्रथम श्रेणी से पास किया हो। किसी विषय में ग्रेजुएशन करने के बाद लाइब्रेरी साइंस के बैचलर कोर्स में प्रवेश लिया जा सकता है। यह कोर्स एक साल का होता है।
  • मास्टर डिग्री प्रोग्राम के लिए संबंधित क्षेत्र में प्रथम श्रेणी के साथ बैचलर्स डिग्री होना आवाश्यक है। साथ ही कुछ यूनिवर्सिटीज प्रवेश परीक्षा के आधार पर भी एडमिशन स्वीकार करतीं हैं।
  • एडमिशन मेरिट लिस्ट के आधार पर होता है, हालांकि कुछ यूनिवर्सिटीज एडमिशन के लिए एंट्रेंस एग्जाम की आयोजित करवाती है।
  • विदेश की अधिकतर यूनिवर्सिटीज बैचलर्स के लिए SAT और मास्टर्स कोर्सेज के लिए GRE स्कोर की मांग करते हैं।
  • विदेश की यूनिवर्सिटीज में एडमिशन के लिए IELTS या TOEFL टेस्ट स्कोर, अंग्रेजी प्रोफिशिएंसी के प्रमाण के रूप में ज़रूरी होते हैं। जिसमें IELTS स्कोर 7 या उससे अधिक और TOEFL स्कोर 100 या उससे अधिक होना चाहिए।
  • विदेश यूनिवर्सिटीज में पढ़ने के लिए SOP, LOR, सीवी/रिज्यूमे और पोर्टफोलियोभी जमा करने की जरूरत होती है।

आवेदन प्रक्रिया 

विदेश के विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए आवेदन प्रक्रिया इस प्रकार है–

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप AI Course Finderकी सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • एक्सपर्ट्स से कॉन्टैक्ट के पश्चात वे कॉमन डैशबोर्ड प्लेटफॉर्म के माध्यम से कई विश्वविद्यालयों की आपकी आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेजों जैसेSOP, निबंध (essay), सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टेस्ट स्कोर जैसेIELTS, TOEFL, SAT, ACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTS, TOEFL, PTE, GMAT, GRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप Leverage Liveकक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीजाऔर छात्रवृत्ति / छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लेटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। 

भारत के विश्वविद्यालयों में आवेदन प्रक्रिया, इस प्रकार है–

  1. सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  2. यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  3. फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  4. अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  5. इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  6. यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

आवश्यक दस्तावेज़  

कुछ जरूरी दस्तावेज़ों की लिस्ट नीचे दी गई हैं–

FAQ

लाइब्रेरी का कोर्स कितने साल का होता है?

किसी विषय में ग्रेजुएशन करने के बाद लाइब्रेरी साइंस के बैचलर कोर्स में प्रवेश लिया जा सकता है। यह कोर्स एक साल का होता है।

लाइब्रेरी कोर्स में कितने सब्जेक्ट होते हैं?

लाइब्रेरी साइंस के कोर्स के अंतर्गत छात्रों को लाइब्रेरी और इंफॉर्मेशन सिस्टम मैनेजमेंट, कैटलॉग, बिबलियोग्राफी, डॉक्यूमेंटेशन, मैनुस्क्रिप्ट संरक्षण आदि के बारे में पढ़ाया जाता है। लाइब्रेरी साइंस के क्षेत्र में कॅरिअर बनाने के लिए आवेदक को कंप्यूटर की बेसिक जानकारी होना जरूरी है।

लाइब्रेरी साइंस कोर्स क्या है?

लाइब्रेरी साइंस एक अंतःविषय या बहु-विषयक क्षेत्र है, इस कोर्स के तहत छात्रों को लाइब्रेरी और इंफॉर्मेशन सिस्टम मैनेजमेंट, डॉक्यूमेंटेशन, मैनुस्क्रिप्ट, कैटलॉग, बिबलियोग्राफी आदि के बारे में पढ़ाया जाता है। इस कोर्स में छात्रों को लाइब्रेरी को संभालने के प्रबंधकीय और प्रशासनिक पहलुओं का गहन ज्ञान प्रदान करता है।

उम्मीद है, भारत में लाइब्रेरी साइंस कॉलेज के बारे में जानने में इस ब्लॉग में आपकी मदद की होगी। यदि आप विदेश में पढ़ाई करना चाहते हैं, तो तो हमारे Leverage Edu एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन 1800 572 000 पर कॉल कर बुक करें।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert