एमटेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग क्या है और कैसे करें?

1 minute read

आज के समय में इंजीनियरिंग के बिना दुनिया के विकास की कल्पना करनी मुश्किल है। इसी के चलते भारत और विदेश में इंजीनियरिंग की पढ़ाई ट्रेंडिंग कोर्सेज की लिस्ट में शामिल है। इंजीनियरिंग के फील्ड में अपना करियर बनाना चाहने वाले छात्रों के पास कई बेहतरीन विकल्प हैं। अनेकों विकल्पों में से एक विकल्प स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग भी है, जिसके अंतर्गत छात्रों के लिए करियर ऑप्शन अच्छे हैं। एमटेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग एक पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स है जो 2 साल का होता है। इस कोर्स को करने के बाद स्ट्रक्चरल इंजीनियर, सिविल इंजीनियर, साइट इंजीनियर, कंस्ट्रक्शन इंजीनियर, डिजाइन इंजीनियर, प्लानिंग इंजीनियर, प्रोजेक्ट मैनेजर, प्रोजेक्ट एस्टीमेटर आदि के रूप में काम कर सकते हैं। इस ब्लॉग में एमटेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग के बारे में सभी जानकारियां दी गई हैं। 

कोर्स का पूरा नाम  मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी इन स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग
कोर्स का स्तर  पोस्ट ग्रेजुएशन
अवधि 2 साल
परीक्षा का प्रकार सेमेस्टर वाइज
योग्यता सिविल इंजीनियरिंग या संबंधित क्षेत्र में यूजी डिग्री
औसत वेतन (भारत में) INR 3.50-8 लाख/प्रति वर्ष

एमटेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग क्या है? 

एमटेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग एक पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स है जो 2 साल का होता है। यह इंजीनियरिंग कोर्स आपको कंसीडरेशन और डिज़ाइन का एनालिसिस, स्ट्रक्चरल स्टेबिलिटी, जनरल सेफ्टी, कंस्ट्रक्शन रिलायबिलिटी, विद स्टैंडिंग सिस्मिक फोर्सेस और बिल्डिंग फेलियर को समझने और विश्लेषण करने में मदद करता है। यह पाइपलाइन इंजीनियरिंग से लेकर ब्रिज इंजीनियरिंग और बिल्डिंग इंजीनियरिंग से लेकर विमान और जहाजों जैसी विशाल वायु और जल संरचनाओं तक के बारे में हो सकता है। 

इंजीनियरिंग की यह शाखा एक लोड को सुरक्षित रूप से समर्थन करने पर केंद्रित है, और इन समर्थनों को डिजाइन करने के लिए भौतिकी और गणित के सिद्धांतों पर निर्भर करती है। भारत में, स्ट्रक्चरल इंजीनियरों की मांग अधिक है क्योंकि प्रत्येक निर्माण के लिए कुशल इंजीनियरों की आवश्यकता होती है ताकि इसकी स्थायित्व और गुणवत्ता बनाए रखी जा सके। बड़ी संख्या में बिल्डर, ठेकेदार या आर्किटेक्ट स्ट्रक्चरल इंजीनियरों को अपने सलाहकार के रूप में नियुक्त करते हैं।

एमटेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग क्यों करें? 

एमटेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग क्यों करें जानने के लिए नीचे दिये गए पॉइंट्स को पढ़ें-

  • स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग अध्ययन के सबसे लोकप्रिय क्षेत्रों में से एक है। स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग क्षेत्र के उद्योग में मांग लगातार पिछले 10 वर्षों की तुलना में ज्यादा बढ़ रही है।
  • स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग के कोर्स के पूरा होने पर छात्रों को आसानी से विभिन्न IT फर्मों और मल्टी नेशनल कंपनियों में प्लानिंग इंजीनियर, असिस्टेंट इंजीनियर, प्रोजेक्ट इंजीनियर, साइट इंजीनियर के रूप में नौकरी मिल जाती है।
  • सिविल टेक्नोलॉजी के सभी पहलुओं को समझने में रुचि रखने वाले उम्मीदवारों को निश्चित रूप से इस कोर्स को आगे बढ़ाने के लिए तत्पर रहना चाहिए।
  • स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग में बी.टेक के छात्र के लिए औसत पैकेज निजी और सार्वजनिक दोनों संगठनों के लिए उच्च लेवल पर हैं। 
  • स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग के क्षेत्र में वेतन अत्यधिक आकर्षक है और करियर के विकास के लिए बहुत सारे अवसर हैं। 

स्किल्स

एमटेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग के लिए कुछ स्किल्स नीचे दी गई हैं-

  • एक्सीलेंट मैथमेटिकल स्किल्स
  • कंस्ट्रक्शन मैथर्ड और रेगुलेशन नॉलेज 
  • कम्युनिकेशन स्किल
  • टीम वर्क 
  • लीडरशिप स्किल्स आदि।  

एमटेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग कैसे करें?

एमटेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग के लिए स्टेप बाय स्टेप गाइड नीचे दी गई है-

  1. स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग में बैचलर्स डिग्री प्राप्त करें। 
  2. प्रवेश परीक्षाएं जैसे GATE और विदेश के लिए GRE आदि के लिए तैयारी करें और बेहतर अंक प्राप्त करें। 
  3. कोर्स और उसके सिलेबस का विस्तृत अध्ययन करें। 
  4. पढ़ाई के बाद अपने लिए सबसे उपयुक्त करियर विकल्प चुनें।
  5. अपने स्किल्स में सुधार करें। 
  6. रियल टाइम एक्सपीरियंस प्राप्त करने के लिए इंटर्नशिप करें। 
  7. आप टॉप रिक्रूटिंग कंपनीज में जॉब के लिए आवेदन करें।

सिलेबस

हालांकि सिलेबस एक यूनिवर्सिटी से दूसरी यूनिवर्सिटी में भिन्न-भिन्न हो सकता है लेकिन कुछ विषय है जो सभी में लगभग समान होते हैं तथा जो सब्जेक्ट नीचे दिए गए हैं एमटेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग में पढ़ाए जाते हैं-

  • अप्लाइड मैथमेटिक्स
  • स्टेबिलिटी ऑफ स्ट्रक्चर
  • थ्योरी ऑफ इलास्टिसिटी एंड प्लास्टिसिटी
  • फाइनाइट एलिमेंट मेथड 
  • मैट्रिक्स मेथड ऑफ स्ट्रक्चरल एनालिसिस
  • थ्योरी ऑफ प्लेट्स और शेल्स
  • स्ट्रक्चरल डायनॉमिक्स
  • CAD इन स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग
  • एडवांस कॉंक्रीट टेक्नोलॉजी
  • मेंटेनेंस एंड रिहैबिलिटेशन ऑफ स्ट्रक्चर
  • एनालिसिस ऑफ द फाउंडेशन
  • डिजाइन ऑफ स्टील एंड कंपोजिट्स स्ट्रक्चर
  • सेफ्टी इन कंस्ट्रक्शन
  • सिस्मिक डिजाइन ऑफ स्ट्रक्चर 
  • प्रोजेक्ट वर्क

टॉप विदेशी यूनिवर्सिटीज़

एमटेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग कोर्स प्रदान करने वाली टॉप यूनिवर्सिटीज़ की लिस्ट नीचे दी गई है-

यूनिवर्सिटी का नाम  कोर्स
स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी, यूएसए MS in Structural Engineering
इंपिरियल कॉलेज लंदन, यूके MSc General Structural Engineering
इकोले पॉलीटेक्निक फ़ेडेरेल डी लॉज़ेन (ईपीएफएल), स्विट्ज़रलैंड Master GC in Structural Engineering
यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया बर्कले (यूसीबी), यूएसए MS in Structural Engineering, Mechanics and Material
डेल्फ़्ट यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी, नीदरलैंड्स MSc in Structural Engineering
यूनिवर्सिटी ऑफ इलिनोइस, यूएसए MS Degree in Civil Engineering (Structural Engineering)
RWTH आकिन यूनिवर्सिटी, जर्मनी Management and Engineering in Structural Engineering and Risk Management of Industrial Facilities M.Sc.

टॉप भारतीय यूनिवर्सिटीज़

एमटेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग की डिग्री प्रदान करने वाले कई कॉलेज हैं। ये भारत के कुछ सबसे प्रतिष्ठित और प्रतिस्पर्धी कॉलेज हैं। इनमें से किसी एक कॉलेज में प्रवेश गेट परीक्षा के आधार पर होता है। प्रवेश परीक्षा के अलावा कॉलेज बैचलर्स कोर्स में उनके प्रदर्शन के आधार पर भी छात्र की क्षमता का आकलन करते हैं। एमटेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग के लिए शीर्ष विश्वविद्यालय हैं-

कॉलेज का नाम  फीस  एवरेज प्लेसमेंट पैकेज/सालाना
नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (NIT) INR 1.63 लाख INR 7 लाख
इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इनफॉरमेशन टेक्नोलॉजी INR 2.80 लाख INR 8 लाख
दिल्ली टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी INR 1.66 लाख INR 5.50 लाख
यूनिवर्सिटी ऑफ पैट्रोलियम एंड एनर्जी स्टडीज (UPES) INR 2.75 लाख INR 4 लाख
हिंदुस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड साइंस INR 1.20 लाख INR 4.50 लाख
इंस्टिट्यूट ऑफ एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग (IARE) INR 70,000 INR 3.50 लाख
वीरमाता जीजाबाई  टेक्नोलॉजिकल इंस्टीट्यूट INR 81,750 INR 3.75 लाख
सेंटर फॉर एनवायरमेंटल प्लैनिंग एंड टेक्नोलॉजी (CEPT) INR 99,000 INR 4 लाख
विश्वेश्वरैया टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी INR 9,470 INR 4 लाख
जवाहरलाल नेहरू टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी (JNTU) INR 15,000 INR 3.50 लाख

योग्यता 

एमटेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग के लिए सामान्य योग्यता इस प्रकार है:

  • आपने भारत में किसी मान्यता प्राप्त कॉलेज या विश्वविद्यालय से सिविल इंजीनियरिंग में BE/ B.Tech डिग्री की हो।
  • यदि आपने संबंधित क्षेत्रों जैसे कंस्ट्रक्शन टेक्नोलॉजी, आर्किटेक्चरल इंजीनियरिंग आदि में बी.टेक पूरा कर लिया है, तो भी आप पात्र हैं।
  • आपको अपनी बैचलर डिग्री में न्यूनतम 60% अंक प्राप्त करने चाहिए।
  • प्रवेश के लिए कट-ऑफ कॉलेजों और विश्वविद्यालयों पर निर्भर करता है। कुछ विश्वविद्यालयों में पात्रता के लिए कटऑफ भी कम हो सकती है।
  • इसके अलावा, यदि आपने सिविल इंजीनियरिंग में AMIE किया है तो आप भी आवेदन करने के पात्र हैं।
  • विदेश में पढ़ने के लिए अंग्रेजी दक्षता परीक्षा IELTS,TOEFL, PTE के अंक अनिवार्य हैं।
  • वहीं GRE अंक भी अनिवार्य हैं।

आवेदन प्रक्रिया

कैंडिडेट को आवदेन करने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया को पूरा करना होगा:

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप हमारे AI Course Finder की सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेजों जैसे SOP, निबंध (essay), सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टेस्ट स्कोर जैसे IELTS, TOEFL, SAT, ACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTS, TOEFL, PTE, GMAT, GRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप हमारी Leverage Live कक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीज़ा और छात्रवृत्ति / छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लेटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। 

आवदेन प्रक्रिया से सम्बन्धित जानकारी और मदद के लिए Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800 572 000 पर संपर्क करें।

भारतीय यूनिवर्सिटी के लिए आवेदन प्रक्रिया 

भारतीय यूनिवर्सिटीज़ द्वारा आवेदन प्रक्रिया नीचे मौजूद है-

  • सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  • यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  • फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  • अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  • इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  • यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

आवश्यक दस्तावेज़

आपको निम्न आवश्यक दस्तावेज़ों की आवश्यकता होगी-

प्रवेश परीक्षाएं 

एमटेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग के लिए कुछ प्रवेश परीक्षाएं इस प्रकार हैं:

  • GATE
  • PGEE
  • IITB
  • IIITH

बुक्स

एमटेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग के लिए कुछ बुक्स हैं:

करियर स्कोप

एमटेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग करने के बाद आप एमफिल या पीएचडी कर सकते हैं या आप कंस्ट्रक्शन इंडस्ट्री, रियल एस्टेट प्रोजेक्ट्स, बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन, हाईवे कंस्ट्रक्शन, ब्रिज कंस्ट्रक्शन आदि क्षेत्रों में काम कर सकते हैं।  

टॉप रिक्रूटर्स

यहां उन कंपनियों की सूची दी गई है जो आईटी ग्रेजुएट्स को काम पर रखती हैं-

  • Larsen & Toubro Ltd
  • Gammon India Ltd
  • Mayur Construction
  • DLF
  • Reliance Infrastructure Ltd (RInfra)
  • Shapoorji Pallonji & Co.
  • Tata Projects Ltd.
  • GMR Group
  • Hindustan Construction Company
  • Afcons Infrastructure Ltd.
  • JMC Projects
  • IRCON International आदि। 

जॉब प्रोफ़ाइल और सैलरी

Payscale के अनुसार एमटेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग ग्रेजुएट्स के लिए जॉब प्रोफ़ाइल और सैलरी नीचे दी गई है-

जॉब प्रोफाइल्स अनुमानित सालाना सैलरी (INR)
स्ट्रक्चरल इंजीनियर 2.74-10 लाख 
स्ट्रक्चरल डिजाइन इंजीनियर 2.11-9.44 लाख 
डिजाइन इंजीनियर 3.37-20 लाख 
सिविल इंजीनियर 2.08-9.95 लाख 
सीनियर स्ट्रक्चरल इंजीनियर 4.01-10 लाख 
असिस्टेंट प्रोजेक्ट मैनेजर कंस्ट्रक्शन 5.31-10 लाख  
डिजाइन इंजीनियरिंग मैनेजर 9.38-40 लाख 

FAQs

क्या स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग के क्षेत्र में कोई डॉक्टरेट कोर्स हैं?

हां, पोस्ट ग्रेजुएट प्रोग्राम के बाद कोई भी व्यक्ति सिविल इंजीनियरिंग से संबंधित विषय में एम.फिल या पीएचडी कर सकता है।

क्या एम.टेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग शिक्षा के डिस्टेंस लर्निंग मोड के माध्यम से किया जा सकता है?

हां, इस कोर्स के लिए डिस्टेंस लर्निंग शिक्षा कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं।

क्या बीटेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग के बाद एमटेक या एमबीए करना चाहिए?

यदि आवेदक इलेक्ट्रॉनिक्स क्षेत्र में रिसर्च आधारित करियर बनाना चाहते हैं, तो उनको एमटेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग करना चाहिए, अन्यथा, वे बेहतर करियर विकल्पों के लिए MBA कोर्सेज में जा सकते हैं।

उम्मीद है आपको एमटेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग के संदर्भ में हमारा यह ब्लॉग पसंद आया होगा। यदि आप भी किसी विदेशी यूनिवर्सिटी से एमटेक स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग कोर्स की पढ़ाई करना चाहते हैं तो आज ही 1800 572 000 पर कॉल करके हमारे Leverage Edu के एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें। वे एक उचित मार्गदर्शन के साथ आवेदन प्रक्रिया में भी आपकी मदद करेंगे।

प्रातिक्रिया दे

Required fields are marked *

*

*