आतंकवाद विरोधी दिवस

Rating:
5
(1)
आतंकवाद विरोधी दिवस

आज आतंकवाद संपूर्ण विश्व में एक चुनौतीपूर्ण समस्या बन गया है। 2016 Uri attack, 26/11 मुंबई आतंकी हमला, 13 दिसंबर 2001 में भारतीय संसद पर हमला, 12 अक्टूबर 2002 को बाली में बम विस्फोट, 26 नवंबर 2008 को मुंबई पर आतंकवादियों द्वारा हमला, 13 मई 2008 में जयपुर विस्फोट, 14 फरवरी 2019 पुलवामा अटैक ऐसे कई सारे हमले हैं जिसने हमारे पूरे देश को झकझोर कर रख दिया। यह तो सिर्फ कुछ आतंकवादी अटैक हैं ऐसे हजारों अटैक हमारे देश में हुए हैं जिसमें अभी तक कई हजारों लोगों ने अपनी जान गंवाई है। इसके साथ ही इन अटैक के कारण देश को जन-धन की भी काफी हानि हुई हैं। चूंकि आतंकवाद एक वैश्विक समस्या है इसलिए 21 मई को हर वर्ष आतंकवाद विरोधी दिवस के रूप में मनाया जाता है। आतंकवाद विरोधी दिवस की शुरुआत कब हुई? क्यों मनाया गया आतंकवाद विरोधी दिवस? आतंकवाद विरोधी दिवस में हम कैसे सहयोग कर सकते हैं? इन सभी की जानकारी विस्तार से इस ब्लॉग में दी गई है। 21 मई 2021 में भी मनाया जाने वाला है आतंकवाद विरोधी दिवस-

Check it: इंडियन आर्मी भर्ती (Indian Army Bharti)

आतंकवाद विरोधी दिवस क्यों मनाया जाता है?

राजीव गांधी जब वर्ष 21 मई 1991 में अपने चुनाव दौर पर गए थे तमिलनाडु के अंदर आयोजित एक स्टेज शो के दौरान उनके ऊपर जानलेवा हमला हुआ था। इसी बम विस्फोट के दौरान राजीव गांधी सशक्त राजनेता की जान ली गई थी। इस हमले के दौरान कई सारे लोगों की जान भी गई थी और बहुत सारे लोग घायल भी हुए थे। वर्ष 1991 मई में जब आखिरी बार राजीव गांधी चेन्नई के निकट एक गांव श्रीपेरंबदूर में थे, उस जगह वह लोकसभा कांग्रेस के लिए उम्मीदवार का प्रचार करने गए थे। 

इसी प्रचार के दौरान राजीव गांधी की हत्या हुई थी। Thenmozhi Rajaratnam नाम की महिला प्रचार के दौरान भीड़ से निकलकर राजीव गांधी को मिलने के लिए आई थी। LLTE (लिबरेशन टाइगर्स ऑफ़ तमिल ईलम) या LLT  संगठन की एक महिला ने एक बेल्ट बांधा था जिसके अंदर करीब 700 ग्राम आर डी एक्स था जैसे ही वह महिला राजीव गांधी को अभिवादन करने के लिए  झुकी तभी अचानक से ब्लास्ट हुआ जिसके अंदर राजीव गांधी की मृत्यु हुई थी। तब से ही 21 मई को आतंकवाद विरोधी दिवस के रूप में मनाया जाता है।

Source: Oneindia Hindi

LTT (लिबरेशन टाइगर्स ऑफ़ तमिल ईलम) संगठन क्या है?

आतंकवाद विरोधी दिवस
Source: शब्द

यह उत्तरी श्रीलंका का एक अलगाववादी संगठन है। 5 मई 1976 को वेलुपिल्लई प्रभाकरन द्वारा लिट्टे (लिबरेशन टाइगर्स ऑफ़ तमिल ईलम) की स्थापना हुई। इन्होंने सर्वप्रथम 23 जुलाई 1983 में जाफना के बाहर श्रीलंका के कुछ लोगों के परिवहन पर हमला किया। 8 अक्टूबर को एक भारतीय सेना के राशन ट्रक पर पहली बार हमला किया। इन्होनें उच्च पद पर बैठे ‘श्रीलंका’ के लोगों और भारतीय राजनेता राजीव गांधी की तरह अनेक लोगों को मार डाला। इन्होनें आत्मघाती बेल्ट और आत्मघाती बम विस्फोट का भी आविष्कार एक रणनीति के रूप में किया। 

Check it: Indian Freedom Fighters (महान भारतीय स्वतंत्रता सेनानी)

आतंकवाद विरोधी दिवस शपथ

हम यह शपथ लेते हैं कि हम अपने देश को एकमत होकर सशक्त तथा विशेष सक्रिय बनाएंगे तथा आतंकवाद को समाप्त करने का निश्चय करेंगे। व्यक्तिगत स्वार्थों को छोड़कर इस समस्या से निपटने का प्रयास करेंगे। हम सभी भारतवासी शांति, सामाजिक सद्भाव और सूझबूझ से अहिंसा और आतंकवाद का डटकर सामना करेंगे। 

आतंकवाद को खत्म करने के लिए चलाए गए अधिनियम

  • आतंकवादी और विघटनकारी कार्यकलाप (निवारण) अधिनियम, 1987 (वर्ष 1995 में व्यपगत)
  • आतंकवाद निवारण अधिनियम, 2002 (वर्ष 2004 में निरसित)
  • गैर-कानूनी कार्यकलाप (निवारण) अधिनियम, 1967 (2004 में संशोधित)
  • राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम, 1980।

Check it: पुलिस कैसे बने? (Police Kaise Bane)?

उम्मीद है, आपको आतंकवाद विरोधी दिवस पर यह ब्लॉग पसंद आया होगा। यदि आप आर्मी में जाने का सपना देखते हैं तो आज ही Leverage Edu एक्सपर्ट्स से संपर्क करें वह आपकी करियर काउंसलिंग में मदद करेंगे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.

+91
Talk to an expert for FREE

You May Also Like