बीए के बाद मेडिकल कोर्स

1 minute read
34 views
ba के बाद मेडिकल कोर्स

किसी भी विद्यार्थी के लिए ग्रेजुएशन की डिग्री उसके जीवन की सबसे महत्वपूर्ण सफलताओं में से एक होती है। लेकिन आज के इस प्रतिस्पर्धी वातारण में जॉब पाने तथा अपने करियर को सफलता की और ले जाने के लिए सिर्फ ग्रेजुएशन ही आवश्यक नहीं है। एक भीड़ से अलग दिखने के लिए आपके पास किसी क्षेत्र में कोई विशिष्ट ज्ञान होना आवश्यक है। आज के इस ब्लॉग में हम ba के बाद मेडिकल कोर्स पर चर्चा करने जा रहें हैं।  

BA के बाद मेडिकल कोर्स 

BA के बाद मेडिकल कोर्स उन्हें एक अच्छे जीवन की ओर ले जा सकता है। मेडिकल कोर्स का नाम सुनकर आपके दिमाग में सामान्यतः यही बात आती होगी की विद्यार्थी साइंस या बायोलॉजी की स्ट्रीम से जुड़ा हुआ है। हालांकि ज्यादातर सभी लोग इस क्षेत्र से जुड़े हुए रहते हैं। लेकिन मेडिकल के क्षेत्र में भी कुछ ऐसे कोर्स हैं, जिन्हें आप BA के बाद चुन सकते हैं। मेडिकल का क्षेत्र बहुत ही बड़ा तथा संपन्न है। हालांकि BA करने के बाद आपको किसी डॉक्टर का दर्जा तो प्राप्त नहीं होगा लेकिन फिर भी आप इस क्षेत्र में अपनी पहचान बना सकते हैं। इस आर्टिकल में आप यह भी जान पाएंगे कि मेडिकल में ऐसे कोन से फील्ड हैं, जिनमें आप अपने करियर की शुरुआत कर सकते हैं। 

BA के बाद किन मेडिकल कोर्स को चुनना चाहिए?

यदि आप एक डॉक्टर, नर्स/कंपाउंडर या अन्य मेडिकल स्टाफ के सदस्य बनना चाहते हैं, तो हम आपको सीधी सी सलाह यह देंगे कि 10वीं कक्षा के बाद आप साइंस बायोलॉजी के क्षेत्र को चुनकर आगे बढ़ें। लेकिन यदि आपने अपनी 10वीं कक्षा के बाद ऐसा नहीं किया है तथा ba के बाद मेडिकल कोर्स में प्रवेश करना चाहते हैं तो आप नीचे दिए हुए कुछ कोर्सेज के आधार पर इसकी शुरुआत कर सकते हैं। 

BA के बाद किए जाने वाले कुछ मुख्य मेडिकल कोर्स

BA के बाद किए जाने वाले कुछ मुख्य मेडिकल कोर्स का विवरण नीचे दिया गया है:

पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा इन योगा

योग की उत्पत्ति भारत में ही हुई है। योग की सहायता से आपका मन, शरीर तथा आत्मा संतुलित रहती है। यह विश्व की सबसे पुरानी परंपराओं में से एक है। यह किसी भी व्यक्ति को स्वस्थ रखने के लिए सबसे आसान प्रक्रियाओं में से एक है वो भी बिना किसी उपकरण की सहायता के। आप BA के बाद इस कोर्स को चुन सकते हैं। इस कोर्स की सहायता से आप व्यक्तिगत विकास प्रणाली को मजबूत करना सीखेंगे तथा स्वास्थ्य का प्रचार कर सकेंगे। योग एक असरदार प्रक्रिया है इसके साइंटिफिक प्रमाण भी उपलब्ध है। इस कोर्स की अवधि 1–2 वर्षों की होती है। 

योग्यता 

  • विद्यार्थी को इस पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा प्रोग्राम में प्रवेश लेने के लिए किसी भी मान्यता प्राप्त संस्थान से अपनी बैचलर डिग्री प्राप्त करना आवश्यक है। 
  • विद्यार्थी के 50–60% एवरेज ग्रेड पॉइंट होने आवश्यक हैं। 
  • जिन विद्यार्थियों के पास में पहले से ही योग में कोई डिग्री हो वे इस कोर्स के लिए अधिक मान्य होते हैं।
  • विदेश में पढ़ने के लिए इंग्लिश लैंग्वेज टेस्ट जैसे IELTS, TOEFL के अंक अनिवार्य हैं।

जॉब प्रोफाइल्स

  • योग टीचर 
  • योग असिस्टेंट 
  • आयुर्वेदिक डॉक्टर
  • क्लिनिकल साइकोलॉजिस्ट 
  • थेरेपिस्ट 
  • योगा इंस्ट्रक्टर

एवरेज सैलरी

Glassdoor.in के अनुसार इंडिया में एक सामान्य योग टीचर कि अनुमानित एवरेज सैलरी 3 से 5 लाख रुपए तक होती है। 

पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा इन योगा थेरेपी 

योग में डिप्लोमा के अलावा आप योग थेरेपी में भी डिप्लोमा की डिग्री प्राप्त कर सकते हैं। इस डिग्री से आप पुरानी योग थेरेपी तथा योग से जुड़े हुए साइंस के बारे में पढ़ते हैं। इस थेरेपी कोर्स की सहायता से आप योग से जुड़े अन्य क्षेत्रों जैसे शारीरिक विकास, उत्पादकता के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त कर सकेंगे। इस कोर्स की सहायता से आप योग के क्षेत्र में अधिक रिसर्च कर सकते हैं तथा नए योग आसन एवं तरीकों का पता लगा सकते हैं। इस डिप्लोमा कोर्स की अवधि 1 वर्ष की होती है।

योग्यता

  • किसी मान्यता प्राप्त कॉलेज से या यूजीसी के द्वारा मान्यता प्राप्त डिप्लोमा किया हो। 
  • योग में डिप्लोमा, एथलेटिक्स में डिप्लोमा या किसी भी अन्य क्षेत्र से 50% अंको के साथ बैचलर डिग्री। 
  • मेरिट तथा एंट्रेंस एग्जाम भी योग्यता मानदंडों में आते हैं।
  • विदेश में पढ़ने के लिए इंग्लिश लैंग्वेज टेस्ट जैसे IELTS, TOEFL के अंक अनिवार्य हैं।

जॉब प्रोफाइल

  • नेचुरोपैथी टीचर
  • योग इंस्ट्रक्टर 
  • योग टीचर
  • रिसर्चर 

एवरेज सैलरी

आप किसी भी योग से जुड़ी कंपनी जैसे की पतंजलि तथा अन्य किसी संस्थान के लिए कार्य कर सकते हैं। इस कोर्स के बाद आपको एक रिसर्चर के तौर पर सालाना औसत तौर पर INR 2–3 लाख का सैलरी पैकेज प्राप्त हो सकता है। 

पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा इन पब्लिक हेल्थ  

यह एक पब्लिक हेल्थ मैनेजमेंट पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री प्रोग्राम है। इस कोर्स की सहायता से आप अपने आस पास के समाज में उनके स्वास्थ्य से जुड़े मामलों में मदद कर सकते हैं। पब्लिक हेल्थ में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा आपकी ग्रेजुएशन को और भी अधिक वैल्युएबल बना सकता है। यह प्रोग्राम भारतीय स्वास्थ्य मंत्रालय के द्वारा फंडेड है। इस डिप्लोमा कोर्स की अवधि 2 वर्ष की होती है। 

योग्यता 

  • विद्यार्थी को इस डिप्लोमा कोर्स में प्रवेश लेने के लिए बीए, बीएससी, नर्सिंग, फार्मेसी, हेल्थ साइंसेज, फिजियो थेरेपी, नेचुरल लाइफ साइंसेज या फिर सोशल साइंस में 50% अंकों के साथ बैचलर डिग्री का प्रमाण देना आवश्यक है। 
  • वे लोग जिनका, मेडिकल के क्षेत्र में मेडिसिन, नर्सिंग या उससे जुड़े हुए अनुभव प्राप्त हैं उन्हें अधिक आसानी से एडमिशन मिल जाता है। 
  • कुछ निश्चित कॉलेजों में एडमिशन लेने के लिए एंट्रेंस एग्जाम और इंटरव्यू की लिए जाते हैं। 

जॉब प्रोफाइल 

  • रिसर्च डाटा सपोर्ट मैनेजर 
  • हेल्थ केयर मैनेजर 
  • इमरजेंसी रिस्पांस ऑफिसर 
  • पोलियो इरेडिकेशन ऑफिसर

एवरेज सैलरी 

Glassdoor.in के अनुसार ग्रेजुएट विद्यार्थी 2 वर्ष के डिप्लोमा कोर्स को पूर्ण करने के बाद 2 लाख से 5 लाख तक की एवरेज सैलरी पैकेज प्राप्त कर सकते हैं। 

अतिरिक्त कोर्सेज

अतिरिक्त कोर्सेज निम्न प्रकार से हैं:

  • Advance Diploma in Clinical Data Management
  • Advance Diploma in Medical Imaging Technology
  • Advance Diploma in Clinical Research and Pharma Regulatory Affairs
  • Executive MBA in Healthcare Management
  • Diploma in Medical Laboratory Technology
  • Diploma in Physiotherapy
  • Diploma in Dialysis Techniques

12वीं के बाद मेडिकल कोर्स

अपनी 12वीं कक्षा के बाद भी आप कई प्रकार मेडिकल या नर्सिंग कोर्स कर सकते हैं जो की इस प्रकार हैं –

GNM

GNM के लिए आवश्यक जानकारी निम्न प्रकार से है:

  • GNM का पूरा नाम जनरल नर्सिंग एंड मिडवाइफरी है। यह सबसे ज्यादा चुने जाने वाले नर्सिंग कोर्सेज में से एक कोर्स है। 
  • इस कोर्स में आप नर्सिंग ऑपरेशन एक्सपर्ट के तौर पर कार्य सीखते हैं। 
  • इस कोर्स के लिए विद्यार्थी के पास 12वीं कक्षा का साइंस स्ट्रीम अर्थात बायोलॉजी से पूर्ण होना आवश्यक है। 
  • BA के वे विद्यार्थी जिनका 12वीं का स्ट्रीम साइंस बायोलॉजी से रहा हो वे इस कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं। 

ANM

ANM को आप निम्न प्रकार से समझ सकते हैं:

  • ANM का पूरा नाम ऑग्ज़ीलियरी नर्सिंग मिडवाइफरी है। 
  • इस कोर्स में आप एक नर्स के कार्य को सीखते हैं। बीए की डिग्री पूर्ण करने के बाद मेडिकल लाइन में जाने वाले विद्यार्थी इस कोर्स को चुन सकते हैं लेकिन उन्हें अपना एडमिशन अपनी 12 वीं कक्षा के आधार पर लेना होगा। 

BSC Nursing

BSC Nursing ke बारे में जानकारी नीचे दी गई है:

  • Bsc नर्सिंग का कोर्स बारहवीं कक्षा के बाद मेडिकल लाइन में प्रवेश करने वाले विद्यार्थियों के लिए सबसे अधिक लोकप्रिय कोर्स में से एक है। 
  • सभी चिकित्सा संस्थानों में डॉक्टरों के साथ कार्य करने के लिए हाईली क्वालिफाइड नर्सों की आवश्यकता होती है। 
  • बीएससी नर्सिंग के बाद विद्यार्थियों को नौकरी प्राप्त करने में अधिक जटिलता का सामना नहीं करना पड़ता है। 
  • इस कोर्स में प्रवेश लेने के लिए आपके पास 12वीं कक्षा में साइंस बायोलॉजी का होना अत्यधिक आवश्यक है। 

विदेश की टॉप यूनिवर्सिटीज़

बहुत से ऐसे कॉलेज और यूनिवर्सिटीज़ हैं जहां ba के बाद मेडिकल कोर्सेज की पढ़ाई होती है, लेकिन सही यूनिवर्सिटी का चयन करना बहुत ही महत्वपूर्ण होता है, नीचे कुछ विदेश की अच्छी यूनिवर्सिटीज़ के नाम दिए गए हैं:
यूनिवर्सिटी
ऑकलैंड यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी
टाफे क्वींसलैंड
यूनिवर्सिटी ऑफ़ सॉउथम्पटन
यूनिवर्सिटी ऑफ़ पेनसिलवेनिया
मोनाश यूनिवर्सिटी
फ्लिंडर्स यूनिवर्सिटी
यूनिवर्सिटी ऑफ़ हेर्टफोर्डशिरे
यूनिवर्सिटी कॉलेज डबलिन
कार्डिफ यूनिवर्सिटी
एडिथ कवन यूनिवर्सिटी
यूनिवर्सिटी ऑफ़ लीसेस्टर
यूनिवर्सिटी ऑफ़ डेलावेर
यूनिवर्सिटी ऑफ़ नाटिंघम

भारत के टॉप कॉलेज

नीचे कुछ कॉलेजों के नाम दिए गए हैं जहां ba के बाद मेडिकल कोर्सेज की पढ़ाई होती है:-

  • यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ मेडिकल साइंसेज, दिल्ली विश्वविद्यालय
  • छत्रपति शिवाजी महाराज विश्वविद्यालय (सीएसएमयू), नवी मुंबई
  • अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स)
  • सशस्त्र बल मेडिकल कॉलेज, पुणे
  • स्वामी विवेकानंद इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, चंडीगढ़
  • कस्तूरबा मेडिकल कॉलेज मणिपाल विश्वविद्यालय, मणिपाली
  • क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज, लुधियाना

योग्यता 

ba के बाद मेडिकल कोर्स के लिए सामान्य योग्यता नीचे दी गई है:

  • किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से छात्र 10+2 पास होने चाहिए और 10+2 में उनके कम-से-कम 50% अंक होने चाहिए।  
  • 10वीं  के बाद साइंस होनी जरुरी है, जैसे फिजिक्स, केमिस्ट्री और जूलॉजी या बॉटनी, बायोलॉजी साथ ही मुख्य विषय के रूप में अंग्रेजी का होना भी जरुरी है। 
  • विद्यार्थी के पास अच्छे अंको के साथ बीए की डिग्री होनी आवश्यक है।
  • आरक्षित वर्ग के विद्यार्थियों के लिए 10+2 में 40% अंक आवश्यक है। 
  • विदेश की अधिकतर यूनिवर्सिटीज बैचलर्स के लिए SAT और मास्टर्स कोर्सेज के लिए GRE स्कोर की मांग करते हैं।
  • विदेश की यूनिवर्सिटीज में एडमिशन के लिए IELTS या TOEFL टेस्ट स्कोर, अंग्रेजी प्रोफिशिएंसी के प्रमाण के रूप में ज़रूरी होते हैं। जिसमे IELTS स्कोर 7 या उससे अधिक और TOEFL स्कोर 100 या उससे अधिक होना चाहिए।
  • विदेश यूनिवर्सिटीज में पढ़ने के लिए SOPLORसीवी/रिज्यूमे और पोर्टफोलियोभी जमा करने की जरूरत होती है।

आवेदन प्रक्रिया 

विदेश के विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए आवेदन प्रक्रिया इस प्रकार है–

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप AI Course Finderकी सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • एक्सपर्ट्स से कॉन्टैक्ट के पश्चात वे कॉमन डैशबोर्ड प्लेटफॉर्म के माध्यम से कई विश्वविद्यालयों की आपकी आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेजों जैसेSOP, निबंध (essay), सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टेस्ट स्कोर जैसेIELTSTOEFLSATACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTSTOEFLPTEGMATGRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप Leverage Liveकक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीजाऔर छात्रवृत्ति / छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लेटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। 

भारत के विश्वविद्यालयों में आवेदन प्रक्रिया, इस प्रकार है–

  1. सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  2. यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  3. फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  4. अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  5. इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  6. यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

आवश्यक दस्तावेज 

कुछ जरूरी दस्तावेजों की लिस्ट नीचे दी गई हैं–

टॉप बुक्स 

 कुछ इंपोर्टेंट मेडिकल बुक्स के नाम नीचे दिए गए हैं:

पुस्तक का नाम लेखक का नाम यहां से खरीदें 
क्रैश कोर्स मेडिकल एथिक्स एंड सोशियोलॉजी एंड्रयू, डेनियल हॉर्टन यहां से खरीदें
क्रैश कोर्स मेडिकल रिसर्च, ऑडिट एंड टीचिंग: द एसेंशियल्स फॉर करियर सक्सेस अमित कौर, श्रीलता टी दत्ता यहां से खरीदें
कंप्लीट फार्मा  दासगुप्ता यहां से खरीदें
मेक मेडिकल इज़ी  शुव्रो भट्टाचार्य यहां से खरीदें
रैपिड रिव्यू ऑफ क्लीनिकल मेडिसिन फॉर MRCP पार्ट 1 रश्मि कौशल, रिकिन त्रिवेदी यहां से खरीदें
एसेंशियल्स ऑफ मेडिकल फार्माकोलॉजी के डी त्रिपाठी यहां से खरीदें
बेसिक्स ऑफ मेडिकल फिजियोलॉजी वेंकटेश यहां से खरीदें

FAQs 

क्या बीए की डिग्री प्राप्त करने के बाद मेडिकल लाइन में प्रवेश करना सही निर्णय है?

हां, ऐसा करना सही निर्णय हो सकता है आप बीए की डिग्री प्राप्त करने के बाद भी मेडिकल लाइन में अच्छा करियर शुरू कर सकते हैं। 

बीए की डिग्री प्राप्त करने के बाद आप मेडिकल के क्षेत्र में और कौन-कौन से कार्य कर सकते हैं?

बीए की डिग्री प्राप्त करने के बाद आप मेडिकल के क्षेत्र में एक एमआर यानी मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव के आधार पर भी कार्य कर सकते हैं जो की दवाई कंपनियों के लिए कार्य करते हैं। 

नर्सिंग कोर्सेज में प्रवेश लेने के लिए किस डिग्री का होना आवश्यक है?

नर्सिंग कोर्स में प्रवेश लेने के लिए आपके पास 12वीं कक्षा में साइंस बायोलॉजी स्ट्रीम से पास होने का प्रमाण होना आवश्यक है। 

उम्मीद है आपको ba के बाद मेडिकल कोर्स के संदर्भ में हमारा यह ब्लॉग पसंद आया होगा। यदि आप भी किसी विदेशी यूनिवर्सिटी से बीए के बाद कोई मेडिकल कोर्स करना चाहते हैं तो  आज ही 1800 572 000 पर कॉल करके हमारे  Leverage Edu के एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें। वे एक उचित मार्गदर्शन के साथ आवेदन प्रक्रिया में भी आपकी मदद करेंगे।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today. Study Abroad
Talk to an expert