लैक्सिकोग्राफर कैसे बनें?

1 minute read
338 views
Leverage-Edu-Default-Blog

जीवन एक अनंत गगन की तरह है जहाँ इस खुले आसमान में स्वतंत्र रूप से उड़ना चाहता है मनुष्य। हर व्यक्ति अपने सपनों को जीना चाहता है और संभवतः उसे पूरा करना चाहता है। ऐसे ही स्वतंत्र जीने की एक संभावना है लैक्सिकोग्राफी। लैक्सिकोग्राफर वह होता है जो शब्दकोष को लिखता है, पढ़ता है और उसे सही तरक्की परखता है ताकि अन्य लोगों तक गलत जानकारी ना पहुंचे। जिस तरह मानव जीवन नए नए शब्दों से अपनी बढ़ोत्तरी करता है उसी प्रकार इस क्षेत्र की भी सदैव बढ़ोत्तरी होती है। यदि आप भी इस क्षेत्र में रूचि रखते है और जानना चाहते है कि Lexicographer Kaise bane ,तो चलिए हम आपको इसके बारे में विस्तार से बताते हैं।  

लैक्सिकोग्राफी क्या है? 

लैक्सिकोग्राफर एक प्रोफेशनल लिंग्विस्ट होते हैं अर्थात अपनी भाषा के धुरंधर जो डिक्शनरी, एनसाइक्लोपीडिया व अन्य रिफरेन्स टेक्स्ट जैसे लॉ और मेडिकल डिक्शनरी बनाने के लिए रिसर्च, लेखन, संपादन, आदि का काम करते हैं। लैक्सिकोग्राफी को दो ब्रांचेज़ में विभाजित किया गया है –

  • प्रैक्टिकल लैक्सिकोग्राफर–  इस क्षेत्र में शब्दकोशों का संकलन, लेखन और संपादन की प्रक्रिया को शामिल किया जाता है।
  • थ्योरेटिकल लैक्सिकोग्राफर– इस क्षेत्र में भाषा की पढ़ाई और इसकी शब्दावली के अध्ययन पर ध्यान केंद्रित किया जाता है।

लैक्सिकोग्राफर का काम क्या होता है? 

लैक्सिकोग्राफर कैसे बनें जानने के साथ-साथ यह जानना भी आवश्यक है कि इनके काम क्या होते हैं, जो इस प्रकार हैं:

  • नए शब्दकोष की खोज करना।
  • शब्दों का सही और संरचित अर्थ बनाना।
  • इटिमोलॉजी का अध्ययन करना और इतिहास की भाषा का मतलब ढूँढना।
  • अपनी खोज या किसी अन्य खोज को एडिट करना।
  • शब्दों की प्रूफरीडिंग ढंग से करना।
  • डिक्शनरी के लिए सही फॉर्मेट और स्टाइल का चयन करना।
  • बिलिंगुअल डिक्शनरी के लिए शब्दों का अनुवाद करना।

लैक्सिकोग्राफर के काम का वातावरण

जिस तरह के वातावरण में लैक्सिकोग्राफर काम करते हैं, वह उनके काम के प्रकार के आधार पर अलग होते हैं। यदि वे एक फ्रीलांसर के रूप में काम करते हैं, तो वे आमतौर पर घर से या कहीं से भी काम करते हैं। यदि वे सीधे किसी पब्लिकेशन या एम्प्लायर के लिए काम करते हैं, तो उनके पास आमतौर पर एक ऑफिस होता है जहां वे बाहरी दुनिया से विचलित हुए बिना ध्यान केंद्रित कर सकते हैं। लैक्सिकोग्राफर को अक्सर अपने ग्राहकों से मिलना चाहिए या अपने परिणामों को बताने या महत्वपूर्ण प्रश्न पूछने के लिए उन्हें फोन पर कॉल करना चाहिए। एक लैक्सिकोग्राफर को विस्तार पर उच्च स्तर का ध्यान रखना चाहिए क्योंकि यह कार्य के लिए आवश्यक है।

लैक्सिकोग्राफर की रोल्स और रेस्पॉन्सिबिलिटीज़

लैक्सिकोग्राफर कैसे बनें जानने के साथ-साथ यह जानना भी आवश्यक है कि लैक्सिकोग्राफर की रोल्स और रेस्पॉन्सिबिलिटीज़ क्या-क्या होती हैं, जो इस प्रकार हैं:

  • शब्दकोश (डिक्शनरी) का आकार निर्धारित करें, जो चुने गए शब्दों की संख्या और टारगेट ऑडियंस द्वारा निर्धारित किया जाता है।
  • यूजर्स के लिए मुद्रित और इलेक्ट्रॉनिक डिक्शनरी में निहित जानकारी प्राप्त करने के लिए सबसे प्रभावी तरीका तैयार करें।
  • डिक्शनरी के कंपोनेंट्स को चुनें और अरेंज करें। लोकप्रिय प्रतीकों और संक्षिप्त रूपों सहित शब्दकोश-शैली और यांत्रिकी को समझें।
  • पाठकों के स्तर का निर्धारण करें जिनके लिए यह प्राथमिक रूप से इंटेंडेड है, चाहे वह प्राथमिक पाठकों के लिए हो या एडवांस पाठकों के लिए।
  • विभिन्न सेटिंग्स में एक ही शब्द के कई अर्थों से परिचित हों।
  • सिस्टम में प्रविष्टियों के रूप में उपयोग के लिए शब्दों और प्रत्ययों का चयन करें।
  • अपनी और दूसरों की सामग्री को प्रूफरीड और दोबारा जांचें, साथ ही संपादकीय जिम्मेदारियों का संचालन करें।
  • वर्तमान एंट्रीज पर पुनर्विचार करें और कुछ नाम रखने के लिए तथ्यों और निर्णय के आधार पर संभावित नए परिवर्धन को खोजें और जांचें।

लैक्सिकोग्राफर बनने के लिए जरूरी स्किल्स

लैक्सिकोग्राफर कैसे बनें जानने के साथ-साथ यह जानना भी आवश्यक है कि इसके लिए क्या स्किल्स होनी चाहिए, जो नीचे दी गई हैं-

  • एक लैक्सिकोग्राफर को संबंधित भाषा का गहरा ज्ञान होना चाहिए और साथ ही अंग्रेजी पर पकड़ काफी अच्छी होनी चाहिए।
  • विभिन्न भाषाओं को जानने की जिज्ञासा, पढ़ने की आदत, अनुसंधान, टीम वर्क और लिखित संचार का सम्पूर्ण ज्ञान आवश्यक है।
  • इसके अलावा आपको व्याकरण का पूर्ण ज्ञान होना चाहिए।
  • एक बेहतरीन क्रिटिकल थिंकिंग,ओपन-माइंडेड व हर छोटी बातों पर ध्यान देना अनिवार्य है।

आप हमारे AI Course Finder की सहायता से विदेश में पढ़ाई करने के लिए विभिन्न कोर्स और यूनिवर्सिटीज का चयन कर सकते हैं।

लैक्सिकोग्राफर कैसे बनें?

लैक्सिकोग्राफर कैसे बनें जानने के लिए नीचे स्टेप बाय स्टेप गाइड दी गई है-

  • बैचलर्स डिग्री करें: आप किसी भी विषय में डिग्री हासिल करके लैक्सिकोग्राफर बन सकते हैं, लेकिन सबसे उपयोगी अंग्रेजी या लिंग्विस्टिक्स में स्नातक है। अंग्रेजी कोर्सेज आपको भाषा के पहलुओं के बारे में जानने और आपके समझने के कौशल में सुधार करने में मदद कर सकते हैं। यदि आप कौशल विकसित करते हैं और रिलेवेंट अनुभव प्राप्त करते हैं, तो अन्य क्षेत्रों में डिग्री अर्जित करना एक लैक्सिकोग्राफर के रूप में करियर पर लागू हो सकता है। उदाहरण के लिए, कम्युनिकेशन की डिग्री प्राप्त करने वाले छात्र एडिटिंग और कॉपी राइटिंग में कौशल सीख सकते हैं। कुछ नियोक्ता (एम्प्लॉयर्स) अपनी रिसर्च क्षमता की पुष्टि के लिए मास्टर्स डिग्री वाले उम्मीदवार को भी पसंद कर सकते हैं।
  • प्रासंगिक कार्य अनुभव प्राप्त करें: संबंधित क्षेत्र में व्यावहारिक अनुभव प्राप्त करना महत्वपूर्ण है। स्वयंसेवी (वॉलिंटियरिंग) अवसरों, इंटर्नशिप या छात्र कार्य प्रोग्राम्स पर विचार करें जो आपको प्रासंगिक अनुभव प्रदान कर सकें। उदाहरण के लिए, आप एक शिक्षक के असिस्टेंट के रूप में स्वेच्छा से काम कर सकते हैं और अपने एडिटिंग स्किल्स को विकसित करने के लिए छात्र के काम को प्रूफरीड कर सकते हैं। आप किसी अखबार या पत्रिका के प्रकाशक के साथ इंटर्नशिप भी कर सकते हैं जो आपके कॉपी राइटिंग स्किल्स को बेहतर बनाने में आपकी मदद कर सकता है।
  • एक कौशल सेट विकसित करें: लैक्सिकोग्राफर के रूप में कार्य करने के लिए एक निश्चित कौशल की आवश्यकता होती है, जैसे कि एडवांस्ड समझ, पढ़ने की क्षमता, लेखन और संचार कौशल। इस करियर के लिए आपको आवश्यक कौशल की पहचान करना और उन्हें जल्दी विकसित करना सहायक होता है। उदाहरण के लिए, आप विभिन्न विषयों पर सामग्री पढ़कर अपने समझ कौशल में सुधार कर सकते हैं। अपनी क्षमताओं को विकसित करने और सुधारने के अन्य तरीकों में एक लेखन कार्यशाला में भाग लेना, व्याकरण का अध्ययन करना और अपनी समझ और महत्वपूर्ण सोच कौशल को बढ़ाने के लिए अभ्यास करना शामिल है।
  • एक कवर लेटर और रिज्यूमे बनाएं: आवेदन सामग्री तैयार करें, जैसे कि एक कवर लेटर और फिर से शुरू, और स्थिति के लिए अपने प्रासंगिक कौशल और अनुभव जोड़ें। चूंकि यह लेखन और संपादन कौशल से जुड़ा करियर है, इसलिए विवरण पर अपना ध्यान दिखाने के लिए बिना किसी गलती के आवेदन जमा करना भी महत्वपूर्ण है। साथ ही, यह जानने के लिए नौकरी के विवरण की समीक्षा करें कि एक उम्मीदवार में कंपनी की कौन सी योग्यता, शिक्षा और कौशल निर्धारित करता है। यह आपको एक प्रभावशाली और विचारशील कवर लेटर लिखने में मदद कर सकता है जो आपको अधिक ध्यान देने योग्य बना सकता है।
  • नौकरी के लिए आवेदन करें: एक बार जब आप अपनी डिग्री पूरी कर लेते हैं, कार्य अनुभव प्राप्त कर लेते हैं और आवेदन दस्तावेज तैयार कर लेते हैं, तो आप नौकरियों की तलाश और आवेदन करना शुरू कर सकते हैं। जॉब बोर्ड, कंपनी की वेबसाइटों की समीक्षा करें और अवसरों के बारे में जानने के लिए अपने प्रोफेशनल नेटवर्क से संपर्क करें। अगर कोई ऐसी कंपनी है जिसमें आप काम करना चाहते हैं, तो उनसे व्यक्तिगत रूप से संपर्क करने और अपना बायोडाटा साझा करने का प्रयास करें। रोजगार पाने की संभावना बढ़ाने के लिए, अपने उत्तरों का अभ्यास करने के लिए दोस्तों या परिवार के साथ मॉक इंटरव्यू आयोजित करने पर विचार करें। जिन कंपनियों के लिए आप आवेदन करते हैं उनके साथ अनुवर्ती कार्रवाई करना और अपने आवेदन की स्थिति की जांच करना भी अच्छा है। दृढ़ता स्थिति और कंपनी के प्रति आपका समर्पण दिखा सकती है।

दुनिया की टॉप यूनिवर्सिटीज

लैक्सिकोग्राफर बनने के लिए देश के टॉप यूनिवर्सिटीज विश्व के प्रमुख संस्थान निम्न हैं –

UniConnect, भारत का पहला और सबसे बड़ा यूनिवर्सिटी फेयर जहाँ आपको घर बैठे ही मिल सकता है आपकी पसंद की यूनिवर्सिटी के रिप्रेजेंटेटिव से बात करने का मौका। 

भारत की टॉप यूनिवर्सिटीज

लैक्सिकोग्राफर बनने के लिए देश के टॉप यूनिवर्सिटीज निम्न हैं-

  • पुणे का डेक्कन कॉलेज
  • बनारस हिंदू विश्वविद्यालय
  • पंजाब विश्वविद्यालय
  • मद्रास विश्वविद्यालय
  • केरल विश्वविद्यालय
  • भारथिअर विश्वविद्यालय

लैक्सिकोग्राफर बनने के लिए योग्यता

लैक्सिकोग्राफर बनने के लिए योग्यता कुछ इस प्रकार है –

  • 12वीं में अंग्रेजी या अन्य सम्बंधित भाषा में कम से कम 50% अंक अनिवार्य है।
  • अंग्रेजी या किसी सम्बंधित भाषा से बैचलर्स की डिग्री होना आवश्यक है।
  • अंग्रेजी या किसी अन्य संबंधित भाषा में मास्टर या डॉक्टरेट की डिग्री होना आवश्यक है।
  • विदेश में पढ़ने के लिए इंग्लिश लैंग्वेज टेस्ट जैसे IELTS, TOEFL, PTE के अंक अनिवार्य हैं।

क्या आप IELTS/TOEFL/SAT/GRE में अच्छे अंक प्राप्त करना चाहते हैं? आज ही इन परीक्षाओं की बेहतरीन तैयारी के लिए Leverage Live पर रजिस्टर करें और अच्छे स्कोर प्राप्त करें।

आवेदन प्रक्रिया

लैक्सिकोग्राफर कैसे बनें जानने के लिए नीचे आवेदन प्रक्रिया के बारे में जानना भी आवश्यक है, जो इस प्रकार है:

  • कैंडिडेट को 12 साल की बेसिक एजुकेशन पूरी करनी होगी। 12th (किसी भी स्ट्रीम) उत्तीर्ण करना आवश्यक है।
  • इस कोर्स करने के लिए सबसे पहले प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन करना होगा। छात्र, राष्ट्रीय लेवल की परीक्षा जैसे IPU CET, DUET, SET, MET आदि के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • छात्रों को परीक्षा ऑनलाइन या ऑफलाइन मोड के माध्यम से देनी होगी।
  • प्रवेश परीक्षा में प्राप्त अंकों के आधार पर छात्रों का विश्लेषण किया जाएगा। शॉर्टलिस्ट किए गए छात्रों की एक मेरिट लिस्ट जारी की जाएगी।
  • कुछ कॉलेज ग्रुप डिस्कशन (GD) और पर्सनल इंटरव्यू के जरिए भी एडमिशन प्रदान करते हैं।

यूके के लिए आवेदन प्रक्रिया

बैचलर्स डिग्री में एडमिशन लेने के लिए आपको UCAS पोर्टल पर जाकर रजिस्ट्रेशन करना होगा। यहाँ से आपको यूजर आईडी और पासवर्ड प्राप्त होंगे। वहीं मास्टर्स में एडमिशन लेने के लिए आपको यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करना होगा। फिर वहीं से ही छात्रों को यूजर आईडी और पासवर्ड मिलेंगे।

  • यूजर आईडी से अकाउंट साइन इन करें और डिटेल्स भरें।
  • कोर्स करिकुलम और जरूरी योग्यता को चेक कर लें।
  • अपनी यूनिवर्सिटी के एप्लीकेशन फॉर्म पर क्लिक करें।
  • सबसे पहले आपको ईमेल या फ़ोन नंबर के द्वारा न्यू रजिस्ट्रेशन करना होगा।
  • अकाउंट वेरिफिकेशन के बाद अकाउंट लॉग-इन करके पर्सनल डिटेल्स (नाम, जेंडर, पिता का नाम, माता का नाम, जन्म की तिथि) भरें।
  • अकादमिक डिटेल्स भरें और आवश्यक दस्तावेजों को अपलोड करें।
  • अंत में एप्लीकेशन फीस का भुगतान करें।
  • फिर अपना एप्लीकेशन फॉर्म जमा करें।
  • कुछ यूनिवर्सिटीज, सिलेक्शन के बाद वर्चुअल इंटरव्यू के लिए आमंत्रित करती हैं।

आवदेन प्रक्रिया से सम्बन्धित जानकारी और मदद के लिए Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800572000 पर संपर्क करें

आवश्यक दस्तावेज

नीचे दिए गए आवश्यक दस्तावेज इस प्रकार हैं:

छात्र वीजा पाने के लिए भी Leverage Edu विशेषज्ञ आपकी हर सम्भव मदद करेंगे।

टॉप रिक्रूटर्स

लैक्सिकोग्राफर कई पब्लिशिंग हाउस के लिए काम करते हैं जहाँ वह अपना करियर असिस्टेंट एडिटर या जूनियर एडिटोरियल असिस्टेंट के तौर पर शुरू कर सकते हैं। कुछ वर्षों का अनुभव प्राप्त करने के बाद आप बतौर लैक्सिकोग्राफर काम कर सकते हैं। आप नीचे दिए गए कुछ उत्तीर्ण पब्लिशिंग हाउस में अपने बेहतरीन करियर का निर्माण कर सकते हैं-

  • Oxford University Press
  • Cambridge University Press
  • Macmillan
  • Harper Collins
  • Macquarie
  • Merriam-Webster
  • Equinox Publishing
  • Dictionary.com

सैलरी

एक लैक्सिकोग्राफर की औसत सालाना सैलरी INR 15,000-20,000 प्रतिमाह हो सकती है। वैसे कई लैक्सिकोग्राफर एक फ्रीलांसर के तौर पर काम करते हैं और इस तरह वह हर प्रोजेक्ट के लिए चार्ज करते हैं। इस क्षेत्र में लोहा मनवाने के लिए सब्र की सख्त ज़रूरत है क्यूंकि ऊंचाई हासिल करने में आपको कई साल लग सकते हैं।

FAQs

एक लैक्सिकोग्राफर कितना कमाता है?

भारत में एक लैक्सिकोग्राफर की औसत सालाना सैलरी INR 20,000-30,000 होती है बल्कि अमेरिका में एक लैक्सिकोग्राफर की औसत सालाना तन्खाह USD 42,000 (INR 30 लाख) से USD 1.13 लाख (INR 80 लाख) की लगभग होती है।

लैक्सिकोग्राफर बनने के लिए क्या क्वालिफिकेशन चाहिए होती है?

एक लैक्सिकोग्राफर बनने की लिए किसी खास डिग्री की आवश्यकता नहीं पड़ती है। अंग्रेजी या अन्य सम्बंधित भाषा की अच्छी पकड़ रखने वाले इस क्षेत्र में बेहतर करियर का निर्माण कर सकते है।

अमेरिका में फ़िलहाल कितने लैक्सिकोग्राफर हैं?

एक हालिया गणना के मुताबिक अमेरिका में लैक्सिकोग्राफर की संख्या अभी फ़िलहाल सिर्फ 200 ही है। जिसका अर्थ यह है कि कम कम्पटीशन के कारण आप इस क्षेत्र में बेहतर करियर का निर्माण कर सकते हैं।

आशा करते हैं कि इस ब्लॉग से आपको लैक्सिकोग्राफर कैसे बनें के बारे में जानकारी मिली होगी। यदि आप विदेश में लैक्सिकोग्राफी कोर्स करना चाहते हैं तो हमारे Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800 572 000 पर कॉल कर आज ही 30 मिनट्स का फ्री बुक करें।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today. Writing
Talk to an expert