फ़ूड इंजीनियरिंग कैसे करें?

2 minute read
69 views
फ़ूड इंजीनियरिंग

21वीं सदी में लोग पैकेज्ड सामानों के विभिन्न सोर्सेस पर बहुत अधिक निर्भर हैं। जमी हुई सब्जियां, डिब्बाबंद फल, माइक्रोवेव खाने के डिब्बे, बोतलबंद दूध, ये सब हमारे लिए नुकसानदायक हैं। यदि आप फ़ूड और इंजीनियरिंग के नए सामान और विभिन्न फ़ूड उत्पादों के साथ प्रयोग करने की संभावना के बारे में उत्साहित महसूस करते हैं, तो फ़ूड इंजीनियरिंग में करियर आपके लिए उपयुक्त हो सकता है। लेकिन इससे पहले संभावित फ़ूड इंजीनियरों को यह निर्धारित करना चाहिए कि वे किस प्रकार के वातावरण में काम करना चाहते हैं और उसी के अनुसार अपनी शिक्षा की योजना बनाएं। फ़ूड इंजीनियरिंग के बारे में विस्तार से जानें इस ब्लॉग में। 

कोर्स लेवल ग्रेजुएट, पोस्ट ग्रेजुएट, डिप्लोमा, सर्टिफिकेट
भारत में एंट्रेंस एग्जाम नीटजेईई एडवांस, जेईई मेन, COMEDK
टॉप रिक्रूटर्स Nestle, Britannia, PepsiCo, Hershey’s, Cadbury आदि। 
जॉब प्रोफ़ाइल Food Engineer, Production Manager, Nutritionist, Food Storage Manager आदि। 
प्रवेश प्रक्रिया मेरिट-बेस, प्रवेश परीक्षा

फ़ूड इंजीनियरिंग क्या है?

फ़ूड इंजीनियरिंग या फ़ूड टेक्नोलॉजी उन इंजीनियरिंग शाखाओं में से हैं, जो भोजन की संरचना, मैन्युफैक्चरिंग, प्रोसेसिंग, पैकेजिंग, टेस्टिंग और मार्केटिंग से संबंधित हैं। भविष्य के लिए यह सर्वश्रेष्ठ इंजीनियरिंग कोर्सेज में से एक है। फ़ूड इंजीनियरिंग कोर्स में प्रोसेसिंग विधियों, प्रिजर्वेशन, फ़ूड प्रिजर्वेशन ऑपरेशन, मशीनरी की किनेमेटिक्स, फ़ूड पैकेजिंग टेक्नोलॉजी, फ़ूडमाइक्रोबायोलॉजी, कटाई और भोजन की कटाई के बाद की हैंडलिंग आदि जैसे विषयों के बारे में पढ़ाया जाता हैं। इनके अलावा, इसमें फ़ूड एनालिसिस (मसाले, चाय, कॉफी, कोको, नट और फसल) के लिए उपकरण शामिल हैं।

फ़ूड इंजीनियरिंग क्यों करें? 

फ़ूड इंजीनियरिंग को चुनें जानें के पीछे कुछ कारण हैं जो इस प्रकार हैं:

  • फ़ूड टेक्नोलॉजी उन लोगों के लिए एक उभरता हुआ करियर विकल्प है, जो भोजन की तकनीकी में रुचि रखते हैं। 
  • इस क्षेत्र में सीधे बीटेक कर सकते हैं। डिग्री पूरी करने के बाद उम्मीदवारों को आसानी से नौकरी मिल सकती है। 
  • बीएससी फ़ूड टेक्नोलॉजी से लेकर डायटेटिक्स और न्यूट्रिशन कोर्स तक, यूजी से पीजी स्तर तक चुनने के लिए ढेर सारे अवसर हैं। यह न केवल डिग्री कोर्स तक सीमित है बल्कि विभिन्न डिप्लोमा और सर्टिफिकेट फ़ूड टेक्नोलॉजी कोर्स भी उपलब्ध हैं। 

आवश्यक स्किल्स

फ़ूड इंजीनियरिंग कोर्स को सफलतापूर्वक करने के लिए कुछ स्किल्स का होना ज़रुरी है:

  • एनालिटिकल स्किल्स- फ़ूड इंजीनियरों को इकाई या भूमि की वर्तमान स्थिति का एसेसमेंट करना चाहिए और अपने निष्कर्षों के आधार पर निर्णय लेना चाहिए। उम्मीदवारों को गंभीर रूप से सोचने में सक्षम होना चाहिए।
  • समस्या-समाधान क्षमताएं – इच्छित परिणाम प्राप्त करने के लिए, क्षेत्र में या फ़ूड इकाई में इंजीनियरों को एक्सीलेंट समस्या-समाधान तकनीक और रणनीति देनी आनी चाहिए।
  • कम्युनिकेशन स्किल और डेवलपमेंट – एक कृषि और फ़ूड इंजीनियर के लिए फ्लुएंट कम्युनिकेशन क्षमताओं की आवश्यकता होती है, साथ ही विभिन्न प्रोफाइल के लोगों के बीच सरल संचार बनाने की क्षमता भी होती है।
  • फ़ूड टेक्निक्स: फ़ूड टेक्निक्स की समझ होनी चाहिए, ताकि आप अपने काम को बेहतरी से कर सकें। 

फ़ूड इंजीनियरिंग कोर्सेज

फ़ूड इंजीनियरिंग कोर्सेज आपके करियर लक्ष्यों और आकांक्षाओं के आधार पर ग्रेजुएट, पोस्ट ग्रेजुएट और डॉक्टरेट स्तर पर किए जा सकते हैं। फ़ूड इंजीनियरिंग के क्षेत्र में सबसे अधिक चुने गए कुछ कोर्सेज हैं: 

ग्रेजुएट सर्टिफिकेट बैचलर्स डिग्री
Graduate Diploma in Food Science 
Graduate Certificate in Food Safety
Graduate Certificate in Food Science and Technology 
BTech Food Technology
BSc in Food Science 
BA in Food Systems, Nutrition, and Health 
BSc in Global Public Health 
BSc Food Production and Environment 
BSc in Nutrition and Food Studies
BSc in Biological Systems Engineering – Food and Bioprocessing
मास्टर्स डिग्री डॉक्टरेट डिग्री
MSc Food Technology
Master of Public Health-Nutrition
MS in Food Science & Technology 
MS in Food Security 
Master of Food Science
Food Processing and Waste Technology 
MS in Food Science and Technology-Food Chemistry
MS in Food Science and Technology-Food Engineering
MS in Food Science and Technology-Dairy Science
Ph.D. in Population Health Sciences
Ph.D. in Food Science Technology and Engineering 
Ph.D. in Food Science and Agricultural Chemistry

फ़ूड इंजीनियरिंग विषय

फ़ूड इंजीनियरिंग में पढ़ाए जाने वाले विषयों की जानकारी नीचे दी गई है:

फिजिक्स बायोलॉजी मैथेमेटिक्स फ़ूड प्रोसेसिंग इंजीनियरिंग
केमिस्ट्री एप्लाइड मैकेनिक्स एंड स्ट्रेंथ ऑफ़ मैटेरियल्स कंप्यूटर स्किल्स हीट एंड मास ट्रांसफर
हज़ार्ड एनालिसिस फ़ूड बायोकेमिस्ट्री फ़ूड माइक्रोबायोलॉजी कीनेमेटीक्स ऑफ़ मशीनरी
इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग फ़ूड साइंस स्टोइकोमेट्री और इंजीनियरिंग थर्मोडायनामिक्स क्रॉप प्रोसेसिंग इंजीनियरिंग
इंजीनियर ग्राफ़िक्स बेसिक इंजीनियरिंग यूनिट ऑपरेशन्स इन फ़ूड प्रोसेसिंग फ्रूट एंड वेजिटेबल प्रोसेसिंग
डेयरी प्लांट इंजीनियरिंग ओपन इलेक्टिव I ओपन इलेक्टिव II ओपन इलेक्टिव IV
रेफ्रिजरेशन एंड एयर कंडीशनिंग इंस्ट्रूमेंटेशन एंड प्रोसेस कण्ट्रोल ओपन इलेक्टिव III ओपन इलेक्टिव V
बायोकेमिस्ट्री: प्रोसेसिंग एंड प्रिजर्वेशन फ़ूड फेरमेंटशन फ़ूड प्रोसेसिंग एंड मैनेजमेंट प्रैक्टिकल
पोस्ट-हार्वेस्ट फिजियोलॉजी फ़ूड एंड वेस्ट मैनेजमेंट फ़ूड पैकेजिंग इंजीनियरिंग प्रोजेक्ट
फैट एंड ऑइल प्रोसेसिंग फ़ूड प्लांट सेफ्टी बेकरी एंड कन्फेक्शनरी इंटर्नशिप

विदेश में टॉप यूनिवर्सिटीज़

एक अच्छा विषय होने के नाते, फ़ूड विज्ञान या फ़ूड इंजीनियरिंग को ज्यादातर ऐसे छात्रों द्वारा चुना जाता है जो फ़ूड जैव प्रौद्योगिकी और फ़ूड टेक्नोलॉजी से जुड़े हुए होते हैं। दुनिया भर के सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालयों में अध्ययन, कॉलेजों से अर्जित डिग्री न केवल एक छात्र को विश्व स्तरीय सुविधाएं प्रदान करती है बल्कि उन्हें उद्योग में आगे के व्यावहारिक पहलुओं के लिए भी तैयार करती है। दुनिया के सबसे अच्छे और सबसे समृद्ध क्षेत्रों में स्थित होने के कारण, छात्रों को शीर्ष उद्योगों के करीब होने से भी फायदा होता है और उनके आगे के करियर की संभावनाओं में सुधार होता है। 

भारत में टॉप यूनिवर्सिटीज़

यहाँ भारत में शीर्ष फ़ूड टेक्नोलॉजी कॉलेज हैं:

  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फ़ूड टेक्नोलॉजी एंटरप्रेन्योरशिप एंड मैनेजमेंट (NIFTEM), दिल्ली
  • MIT ADT यूनिवर्सिटी
  • हरकोर्ट बटलर टेक्निकल यूनिवर्सिटी, कानपुर
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ फ़ूड टेक्नोलॉजी
  • लक्ष्मीनारायण इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, नागपुर
  • जामिया हमदर्द यूनिवर्सिटी, दिल्ली
  • गौतम बुद्ध यूनिवर्सिटी, दिल्ली
  • गलगोटियास यूनिवर्सिटी, नोएडा 
  • लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी, चंडीगढ़

फ़ूड इंजीनियरिंग के लिए योग्यता

फ़ूड इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन, पोस्ट ग्रेजुएशन और डिप्लोमा कोर्स को करने के लिए कुछ आवश्यक योग्यताओं का होना जरूरी है:

  • आपने साइंस स्ट्रीम में 10+2 या समकक्ष पूरा किया होगा ।
  • भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, गणित या गृह विज्ञान आपके द्वारा चुने गए विषय होने चाहिए।
  • मान्यता प्राप्त संस्थानों से न्यूनतम योग्यता अंक आमतौर पर 50%-60% होते हैं।
  • मास्टर्स डिग्री हासिल करने के लिए आपके पास न्यूनतम योग्यता अंकों के साथ फ़ूड टेक्नोलॉजी में बीएससी (भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, या गणित) या बीटेक/बीई होना चाहिए।
  • अंग्रेजी भाषा प्रवीणता: IELTS, TOEFL, PTE, कैम्ब्रिज अंग्रेजी।

नोट: ये कुछ बुनियादी पात्रता शर्तें हैं और विशिष्ट विश्वविद्यालय द्वारा किसी अन्य योग्यता की मांग की जा सकती है इसलिए यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर आप एक बार चेक कर सकते हैं। 

आवेदन प्रक्रिया

विदेश के विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए आवेदन प्रक्रिया इस प्रकार है–

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप AI Course Finder की सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • एक्सपर्ट्स से कॉन्टैक्ट के पश्चात वे कॉमन डैशबोर्ड प्लेटफॉर्म के माध्यम से कई विश्वविद्यालयों की आपकी आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेजों जैसे SOP, निबंध (essay), सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टेस्ट स्कोर जैसे IELTS, TOEFL, SAT, ACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTS, TOEFL, PTE, GMAT, GRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप Leverage Live कक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीज़ा और छात्रवृत्ति/छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लेटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। 

भारत के विश्वविद्यालयों में आवेदन प्रक्रिया, इस प्रकार है–

  1. सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  2. यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  3. फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  4. अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  5. इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  6. यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

आवश्यक दस्तावेज 

कुछ जरूरी दस्तावेजों की लिस्ट नीचे दी गई हैं–

प्रवेश परीक्षा

भारत में कुछ प्रवेश परीक्षा इस प्रकार हैं लेकिन प्रवेश परीक्षाएं यूनिवर्सिटी के अनुसार भिन्न-भिन्न हो सकती हैं। 

परीक्षा का नाम कंडक्टिंग बॉडी
NEET केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय
JEE Advance राष्ट्रीय/आईआईटी
JEE Main मेटा
COMEDK कर्नाटक के मेडिकल, इंजीनियरिंग
और डेंटल कॉलेजों का एक संघ
SAT (विदेश में बैचलर्स के लिए)
GRE (विदेश में मास्टर्स के लिए)

किताबें

फ़ूड इंजीनियरिंग की लोकप्रिय किताबें यहाँ दी गई है साथ ही आप इनके लिंक पर क्लिक करके इन किताबों को ऐमज़ॉन से खरीद भी सकते हैं:

  1. Introduction to Food Engineering
  2. Concepts of Food Process Engineering
  3. Solved Numerical Problems in Food Process Engineering & Technology
  4. Food Engineering : Process and Technology
  5. A Laboratory Manual of Food Analysis

टॉप रिक्रूटर्स

कुछ जानें मानें रिक्रूटर्स हैं जिनके नाम अक्सर हमने सुने हैं या उनके नाम के टैग खाने-पीने की चीजों पर देखे हैं आप उन्हीं कंपनियों में काम करने का मौका भी पा सकते हैं। ये कंपनियां हैं:

  • Nestle 
  • Britannia
  • PepsiCo 
  • Hershey’s 
  • Quacker 
  • Cadbury 
  • Parle 
  • Amul 
  • Heinz 
  • Kelloggs 
  • Hindustan Unilever 

जॉब प्रोफाइल्स और सैलरी

फ़ूड इंजीनियरिंग में डिग्री के साथ आप खुद को फ़ूड टेक्नोलॉजी नौकरियों जैसे फ़ूड पैकेजिंग और प्रोसेसिंग उद्योगों में कई अन्य संभावनाओं के लिए योग्य पा सकते हैं। आप फ़ूड उद्योग के मौजूदा मानकों को सुधारने के लिए पशु फार्मों और कृषि विज्ञानी के साथ काम करना भी चुन सकते हैं।

जॉब प्रोफाइल जो इस क्षेत्र में दिलचस्प लग सकती है: 

नौकरी प्रोफ़ाइल औसत आय
फ़ूड टेक्नोलॉजिस्ट 1.5 लाख-20 लाख
फ़ूड साइंटिस्ट 8 लाख-10 लाख
फ़ूड इंजीनियर 5 लाख-7 लाख
प्रोडक्शन मैनेजर 4 लाख-6 लाख
न्यूट्रिशन स्पेशलिस्ट 6 लाख-8 लाख
फ़ूड स्टोरेज मैनेजर 3 लाख-6 लाख

FAQs

भारत में फ़ूड इंजीनियरिंग के लिए प्रवेश परीक्षाएं कौन सी हैं? 

नीट, जेईई एडवांस, जेईई मेन, COMEDK आदि भारत में फ़ूड इंजीनियरिंग के लिए मुख्य प्रवेश परीक्षाएं हैं। 

क्या फ़ूड टेक्नोलॉजी एक अच्छा करियर है?

फ़ूड टेक्नोलॉजी उन लोगों के लिए एक उभरता हुआ करियर विकल्प है, जो भोजन की तकनीकी में रुचि रखते हैं। इस क्षेत्र में सीधे बीटेक कर सकते हैं। डिग्री पूरी करने के बाद उम्मीदवारों को आसानी से नौकरी मिल सकती है। 

फ़ूड टेक्नोलॉजी क्या हैं और इसका दायरा क्या है?

इस तकनीक में प्रमुख रूप से फ़ूड उत्पादों के उत्पादन, प्रसंस्करण, रोकथाम, पैकेज, लेबल और गुणवत्ता बनाए रखने के विभिन्न तरीके शामिल हैं। कच्चे माल से उत्पाद प्राप्त करने के लिए उपयोग की जाने वाली प्रौद्योगिकियां भी क्षेत्र का एक हिस्सा हैं। 

क्या फ़ूड टेक्नोलॉजी के लिए गणित अनिवार्य है?

फ़ूड टेक्नोलॉजी के लिए गणित अनिवार्य है या नहीं यह उस विश्वविद्यालय पर निर्भर करता है जिसमें आप शामिल होने की योजना बना रहे हैं। जबकि अधिकांश भारतीयों को अपनी कक्षा 12 वीं में उम्मीदवारों के लिए गणित की आवश्यकता होती है।

उम्मीद है, फ़ूड इंजीनियरिंग के बारे ये सभी जानकारी आपको मिल गई होगी। यदि आप फ़ूड इंजीनियरिंग की पढ़ाई विदेश में करना चाहते हैं तो Leverage Edu एक्सपर्ट्स को 1800 572 000 पर कॉल करके 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें और बेहतर गाइडेन्स पाएं। 

प्रातिक्रिया दे

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today. Food Technology
Talk to an expert