जानिए क्या है Modern History in Hindi

Rating:
3.7
(11)
Modern History in Hindi

इतिहास हमारी ज़िन्दगी में बहुत मायने रखता है क्योंकि इतिहास की बदौलत ही हमारा आज मुमकिन हो सका है। आज जो है वह कल इतिहास ही कह लाएगा।। लेकिन history का अपना महत्व है। History की वजह से ही हमारा वजूद भी है। Modern history को लेकर सभी इतिहासकारों और बुद्धिजीवियों में अलग अलग राय हैं। Modern history in Hindi का यह ब्लॉग आपको देगा भारत की modern history से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां। तो आइए, देते हैं आपको इसके बारे में विस्तार से जानकारी।

क्या है Modern History?

भारत का इतिहास करीब 5,500 साल पहले तक का माना जा सकता है। आधुनिक भारतीय इतिहास (Modern Indian History) को 1850 के बाद का इतिहास कहा जा सकता है। आधुनिक भारतीय इतिहास के एक बड़े हिस्से पर भारत में ब्रिटिश शासन का कब्जा था। Modern History in Hindi को मुगलों के भारत में आने से पहले से लेकर पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी जी के शासन काल तक को माना जा सकता है। सभी इतिहासकारों (Historians) और बुद्धिजीवियों (Intellectuals) के अपने अलग तथ्य हैं कि आधुनिक भारतीय इतिहास भारत की आजादी पर खत्म हो जाता है। 

प्राचीन (Ancient) भारत

मानव (Human) के उदय से लेकर दसवीं सदी तक के भारत का इतिहास को प्राचीन भारत कहा जाता है। Modern History in Hindi में आप आगे जानेंगे प्राचीन भारत के बारे मेंI प्राचीन भारत के इतिहास की जानकारी के साधनों को दो भागों में बाँटा जा सकता है- 

  1. साहित्यिक साधन
  2. पुरातात्विक साधन (जो देशी और विदेशी दोनों हैं।)

साहित्यिक साधन दो प्रकार के हैं –

  1. धार्मिक साहित्य (Religious Literature)
  2. लौकिक साहित्य (Cosmic Literature)

धार्मिक साहित्य भी दो प्रकार के हैं 

  1. ब्राह्मण ग्रन्थ
  2. अब्राह्मण ग्रन्थ 

ब्राह्मण ग्रन्थ दो प्रकार के हैं – 

  1. श्रुति: जिसमें वेद, ब्राह्मण, उपनिषद इत्यादि आते हैं 
  2. स्मृति: जिसके अन्तर्गत रामायण, महाभारत, पुराण, स्मृतियाँ आदि आती हैं। 

लौकिक साहित्य भी चार प्रकार के हैं – 

  1. ऐतिहासिक साहित्य (Historical Literature)
  2. विदेशी विवरण (Foreign Details)
  3. जीवनी कल्पना प्रधान (Biographical Fantasy)
  4. गल्प साहित्य (Fiction Literature)

पुरातात्विक सामग्रियों को तीन भागों में बाँटा जा सकता है – 

  1. अभिलेख (Record)
  2. मुद्राएं (Currencies)
  3. भग्नावशेष स्मार (Ruined Monument)

पाषाण युग (Stone Age)

पाषाण युग, एक ऐसा काल था जब लोग पत्थरों पर निर्भर थे। पत्थर के औज़ार, पत्थर की गुफा ही उनके जीवन के प्रमुख आधार थे। यह मानव सभ्यता (Human Civilization) के आरंभिक काल में से है जब मानव आज की तरह विकसित नहीं था। इस काल में मानव प्राकृतिक आपदाओं (Natural Disasters) से जूझता रहता था और शिकार तथा कन्द-मूल (Tuber Root) फल खाकर अपना गुजारता था। पाषाण युग के 2 भाग थे। पुरापाषाण युग और नवपाषाण युग ((6000 BC से 1000 BC))। पुरापाषाण युग को 3 भाग में बांटा जाता है – 

  • आरंभिक या निम्न पुरापाषाण युग (25,00,000 BC – 100,000 BC)
  • मध्य पुरापाषाण युग (1,00,000 BC – 40,000 BC)
  • उच्च पुरापाषाण युग (40,000 BC – 10,000 BC)

वैदिक साहित्य

वैदिक साहित्य भारत के इतिहास के साथ-साथ पूरे विश्व के लिए भी महत्वपूर्ण था। इसने मानव सभ्यता को सबसे ज़रूरी चीज़ वेदों के बारे में बताया था। आइए Modern History in Hindi में जानिए वेदों के नाम।

  1. ऋग्वेद
  2. यजुर्वेद
  3. सामवेद
  4. अथर्व वेद

Bronze Age और Indus Valley Civilization

सिंधु घाटी सभ्यता (Indus Valley Civilization) 2500 BC से 1750 BC तक थी। इसमें मोहनजोदड़ो और हड़प्पा संस्कृति जैसी कई और अन्य अनगिनत सभ्यताएं भी थी। 

महापद्मनंद नंदमौर्य साम्राज्य (Empire)

मौर्य राजवंश (322-185 BC) प्राचीन भारत का एक शक्तिशाली और गौरवपूर्ण राजवंश था। मौर्य राजवंश ने 137 वर्ष भारत में राज्य किया। इसकी स्थापना का श्रेय चन्द्रगुप्त मौर्य और उसके मन्त्री चाणक्य (कौटिल्य) को दिया जाता है।

मध्यकालीन भारत

Modern History in Hindi में मध्यकालीन को मध्ययुगीन भारत भी कहा जाता है, यह “प्राचीन भारत” और “आधुनिक भारत” के बीच का दौर था जो भारतीय उपमहाद्वीप (Indian Subcontinent) के इतिहास की लंबी अवधि को दर्शाता है। यह काल छठी शताब्दी से लेकर सोलहवीं शताब्दी तक था। इसमें 2 भाग थे।

  • प्रारंभिक मध्ययुगीन काल (6-13वीं शताब्दी)
  • गत मध्यकालीन काल (13-16वीं शताब्दी)

प्रारंभिक मध्ययुगीन काल

इस दौर में कई राजवंश, वंश आदि हुए जिन्होंने पूरे भारत के अलग-अलग हिस्सों पर राज किया था। यह वह दौर था जब भारत को सोने की चिड़िया भी कहा जाता था। इस दौरान कई बड़े युद्ध भी हुए थे। यह काल 1526 में मुगल साम्राज्य की स्थापना के साथ समाप्त हो गया था।

गत मध्यकालीन काल

यह वह दौर था जब इस्लाम धर्म भारत में आया था और यहाँ इनके बीच और भारत के राजवंशों में अपने वर्चस्व को लेकर कई बड़े युद्ध भी हुए थे। दिल्ली सल्तनत और कई मुस्लिम वंशों की भरमार थी। इस बीच विदेशों से भी कई लोग आये थे, जिसमें से एक थे जिन्होंने भारत के लिए समुद्री रास्ते की खोज की थी, उनका नाम था Vasco da Gama.

Check out: Samrat Ashoka History in Hindi

मुगल साम्राज्य की स्थापना और राजपूत संघर्ष

भारत में मुगल साम्राज्य की स्थापना के साथ ही मध्यकालीन युग समाप्त हो गया था। मुगल साम्राज्य को भारत में बाबर ने स्थापित किया था। 1526 में हुए पानीपत के पहले युद्ध में बाबर ने इब्राहिम लोदी को हराकर भारत में मुगल साम्राज्य को जड़ों तक मजबूत कर दिया था। 1527 में खानवा के युद्ध में बाबर ने वीर राणा सांगा को हरा दिया था जिससे उसने आधे भारत पर जीत हासिल कर ली थी। उसके बाद मुगल सम्राट अकबर का युद्ध वीर महाराणा प्रताप सिंह से हुआ था जिसमें अकबर ने वो युद्ध जीता था, इस युद्ध को सब हल्दीघाटी के युद्ध के नाम से जानते हैं। इसी तरह मुगलों मुगलों ने देश के कोने-कोने में लड़ाई की और जीते थे।

मुगलों के लालच में आकर उनके सामने वाले राजा उनसे सामने घुटने तक रहे थे वहीँ राजपूत अपने ही लोगों की गद्दारी से परेशानी में थे। जो खानवा और हल्दीघाटी का युद्ध आसानी से जीता जा सकता था वह अपनी सेना या अपने सहयोगियों की गद्दारी से वह हार गए थे, जिससे बाबर को भारत में मुगल साम्राज्य फ़ैलाने का मौका भी मिला था।

East India Company का भारत आना

East India Company की स्थापना भारत में 31 दिसंबर 1600 को हुई थी। इसके आने इसे भारतीय आधुनिक इतिहास का प्रथम चरण कहा जा सकता है। पहले इसे John Company के नाम से जाना जाता था लेकिन बाद में यह East India Company कहलाई थी। John Watts इस कम्पनी के Founder थे और उन्होने हीइस कंपनी के लिए व्यापार करने की इजाजत, ब्रिटेन की महारानी से ली थी। 

East India Company की स्थापना द्वारा ही आधुनिक भारतीय इतिहास की नींव रखी गई। आधुनिक भारतीय इतिहास में घटने वाले अन्य सभी घटनाक्रम East India Company की स्थापन पर ही आधारित हैं। East India Company जब भारत में आई थी उस समय मुगलों का राज था। उसके कई सालों बाद मुगलों और East India Company के बीच 1757 में प्लासी का युद्ध (Battle of Plassey) हुआ था जिसे अंग्रेज़ों ने आसानी जीता था। उसके बाद 1764 में Buxar का yudh हुआ था जो अंग्रेज़ों और शुजाउद्दौला के बीच हुआ था जिसे अंग्रेज़ आसानी से जीते थे। Modern History in Hindi में ऐसे करके East India Company ने मुगलों को हाशिये पर धकेल कर पूरे भारत पर अपना राज़ कायम कर लिया था।

1857- भारत की आज़ादी का पहला विद्रोह

जब अंग्रेज़ों के जुल्म और नीतियां भारत के लोगों से सहन नहीं हुईं तो ब्रिटिश सेना के अंदर भारतीय सिपाहियों ने 1857 में नए कारतूस को लेकर अपना विद्रोह किया जो बाद में धीरे-धीरे भारत के लिए पहली आज़ादी की लड़ाई बनी, जिसकी डोर थी भारत के निडर स्वतंत्रता सेनानी मंगल पांडेय के हाथों में। उन्हें बाद में कई राजाओं का भी साथ मिला था। जिसमे तात्या टोपे का साथ भी मिला था। यह संग्राम आखिर में सफल न हो सका और अंग्रेज़ों ने इस विद्रोह को कुचल दिया था।

मुगल साम्राज्य का अंत

1857 की आज़ादी के विद्रोह के असफल होने से मुगल सम्राट बहादुर शाह ज़फर को अंग्रेज़ो ने सजा के रूप के Rangoon (Myanmar) भेज दिया था। यह इसलिए हुआ था क्योंकि बहादुर शाह ज़फर ने 1857 की आज़ादी के विद्रोह में अंग्रेज़ों का साथ नहीं दिया था। 1862 में उनकी किसी बीमारी की वजह से मौत हो गई थी। इसी के साथ ही भारत से मुगल साम्राज्य का अंत भी हो गया।

Indian National Conference की स्थापना

Indian National Congress की स्थापना 28 दिसम्बर 1885 को हुई थी। इसकी स्थापना की थी Allan Octavian Hume ने जो एक ब्रिटिश अधिकारी थे। कांग्रेस देश की सबसे पहली राजनीतिक पार्टी भी है। कांग्रेस ने देश के स्वतंत्रता आंदोलन में भी बहुत योगदान दिया था।

1947 – आज़ाद भारत

Modern History in Hindi
Source – The Indian Express

15 अगस्त 1947 को भारत ने एक अलग सुबह देखी थी। यह सुबह थी आज़ादी वाली सुबह। इस आज़ादी से भारत ब्रिटिश राज से पूरी तरह आज़ाद हो गया था। पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने भारत की आज़ादी की घोषणा की थी और उसके बाद वह देश के पहले प्रधानमंत्री भी बने थे।

Check out: यूपीएससी व एसएससी के लिए History Questions in Hindi

1962,1965 और 1971 के युद्ध

  • 1962 का युद्ध: भारत का युद्ध चीन से हुआ था, जिसे चीन ने जीता था। इस युद्ध में भारत की सेना ने बहुत ही बहादुरी से युद्ध किया था। भारत के युद्ध हरने की वजह सड़कों का निर्माण और आधुनिक हथियारों का न होना था।
  • 1965 का युद्ध: भारत और पाकिस्तान के बीच August – 23 September 1965 तक हुआ था। इसे भारत ने जीता था। इस युद्ध में दोनों देशों के कई हज़ार सैनिकों की मौत हुई थी, जो उस समय बहुत ज्यादा थी। इस युद्ध का मुख्य कारण था पाकिस्तान का Operation Gibraltar को अंजाम देना, जो भारत के हितों के खिलाफ था।
  • 1971 का युद्ध: East Pakistan (now Bangladesh) में लोगों में पाकिस्तान के अत्याचारों को लेकर नाराज़गी थी जिससे वहां तनाव हो गया था। इस अत्याचार से निपटने के लिए पूर्वी पाकिस्तान में मुक्ति वाहिनी सेना बनी जिसे भारतीय सेना ने सहयोग दिया। ऐसे में यह युद्ध सीधे-सीधे पाकिस्तान बनाम भारत बन गया था। यह युद्ध भारत ने जीता था जिससे Bangladesh का जन्म हुआ था। इस युद्ध से भारतीय सेना को एक नया आयाम मिला था। 

1974 का Nuclear Test

Modern History in Hindi
Source – Pinterest

Operation Smiling Buddha नाम से राजस्थान के पोखरण आर्मी बेस से भारत का पहला परमाणु बम परिक्षण (Nuclear Bomb Test) हुआ था। यह परिक्षण पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी के PM रहते हुए हुआ था। इसकी क्षमता 12 Kilo Ton थी। सफल परिक्षण के बाद भारत एक Nuclear Power देश बन गया था। 

Check out: एक महान साम्राज्य का इतिहास: विजयनगर साम्राज्य

Modern History के लिए Best Books

Modern History in Hindi में यहाँ आपको दुनिया की सबसे Best Books की लिस्ट दी जा रही है जो आपके लिए आगे पढ़ाई या Knowledge बढ़ाने में मदद करेंगी। Best Books की लिस्ट इस प्रकार है।

Book Name Buy Here
The Guns of August Buy Here
The Discovery of India Buy Here
The Diary Of a Young Girl Buy Here
A Brief History of Modern India (2018-2019) Session by Spectrum Book Rajiv Ahir Buy Here
The Cold War: A New History Buy Here

Check out: किसी खजाने से कम नहीं है मोहनजोदड़ो का इतिहास

भारत में लोकप्रिय Modern History Courses

निम्नलिखित आपको भारत में लोकप्रिय Modern History Courses की लिस्ट दी जा रही है जिनके बारे में आपको जानना ज़रूरी है। Modern History in Hindi में जानिए इन Courses के बारे में।

Course Name Duration
BA in History 3 वर्ष
MA in History 2 वर्ष
MPhil in History 2 वर्ष
PhD in History 2-4 वर्ष

भारत में Modern History Courses के लिए Universities

निम्नलिखित आपको भारत में लोकप्रिय Modern History Courses के लिए Universities की लिस्ट दी जा रही है जिनके बारे में आपको जानना ज़रूरी है। Modern History in Hindi में जानिए इन Universities के बारे में।

  • Jesus and Mary College
  • LSR
  • Jamia Millia Islamia
  • IGNOU
  • JNU
  • Delhi University
  • LPU
  • Delhi College of Arts and Commerce
  • Faculty of Social Sciences, Kurukshetra University
  • University of Allahabad

Check out: जानिए भारत का इतिहास Indian History

World की Top Universities

Modern History in Hindi में आपको यहाँ दुनिया की Top Universities की लिस्ट दी जा रही है जहाँ से आप Modern History की शिक्षा ले सकते हैं।

Universities Country
Harvard University United States
University of Oxford United Kingdom
University of Cambridge United Kingdom
Yale University United States
The London School of Economics and Political Science (LSE) United Kingdom
Stanford University United States
University of California, Berkeley (UCB) United States
Columbia University United States
Princeton University United States
University of California, Los Angeles (UCLA) United States

Modern History in Hindi के इस ब्लॉग ने यकीनन आपको Modern History से रूबरू करवा दिया होगा। ब्लॉग अच्छा लगा हो तो इसे अपने जाननेवालों को भी शेयर कीजिए जिससे वह भी Modern History in Hindi के बारे में Knowledge ले सकें। यदि आप History में आगे पढ़ना चाहते हैं तो आप हमारी Leverage Edu वेबसाइट पर जाकर हमारे Experts से आज ही संपर्क करें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

2 comments

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.

+91
Talk to an expert for FREE

You May Also Like

Bajar Darshan
Read More

Bajar Darshan Class 12 NCERT Solutions

बाजार दर्शन’ (Bajar Darshan) श्री जैनेंद्र कुमार द्वारा रचित एक महत्त्वपूर्ण निबंध है जिसमें गहन वैचारिकता और साहित्य…
Ras Hindi Grammar
Read More

मियाँ नसीरुद्दीन Class 11 : पाठ का सारांश, प्रश्न उत्तर, MCQ

मियाँ नसीरुद्दीन शब्दचित्र हम-हशमत नामक संग्रह से लिया गया है। इसमें खानदानी नानबाई मियाँ नसीरुद्दीन के व्यक्तित्व, रुचियों…
आर्ट्स सब्जेक्ट
Read More

आर्ट्स सब्जेक्ट

दसवीं के बाद आप कुछ रचनात्मक करना चाहते हैं तो आर्ट्स स्ट्रीम आप के लिए ही है। 11वीं…