कैसे बनाया मुग़लों ने भारत में अपना वर्चस्व?

1 minute read
2.0K views
10 shares
Leverage Edu Default Blog Cover

मुग़ल जब हिंदुस्तान आए थे तो यह कोई नहीं जनता था कि वह 300 वर्षों तक राज करेंगे। उससे पहले भारत पर बाहर से आए कई लुटेरों ने हमला किया था, और भारत के वीर योद्धाओं ने उन्हें हराया भी था। मुग़लों ने वीर भारतीय योद्धाओं और उनके साम्राज्यों को हराया और उनकी सत्ता और पूरे भारत पर कब्ज़ा किया। Mughal History in Hindi में विस्तार से जानिए, कैसे मुग़लों ने कायम किया भारत में अपना वर्चस्व।

ये भी पढ़ें : कलिंग युद्ध किसके बीच हुआ था, जानिए

मुग़लों का इतिहास

Mughal History in Hindi में भारत में मुग़ल राजवंश ने कई सौ वर्षों तक राज किया। मुगल शासकों ने हज़ारों-लाखों लोगों पर शासन किया। भारत उस समय एक नियम के तहत एकत्र हो गया और यहां विभिन्‍न प्रकार की सांस्‍कृतिक और राजनीतिक पहल देखी गई। Mughal History in Hindi में पूरे भारत में इससे पहले अनेक मुस्लिम और हिंदू राजवंश आपस में भिड़ते थे, उसके बाद मुगल राजवंश के संस्‍थापक यहां आए। इनमें से एक था बाबर, जो तैमूर लंग का पोता था और गंगा नदी की घाटी के उत्तरी क्षेत्र से आए विजेता चंगेज़खान, जिसने खैबर पर कब्‍जा करने का निर्णय लिया और अंतत: पूरे भारत पर कब्‍ज़ा कर लिया।

Mughal History in Hindi
Source – Birtannica

ये भी पढ़ें : जानिए आंग्ल-मैसूर युद्ध के बारे में

भारत में मुग़ल साम्राज्य की स्थापना और शासक

भारत में मुग़ल साम्राज्य की स्थापना कब और किसने की, और उनके कितने सम्राट रहे, यह सब आप जानेंगे Mughal History in Hindi में विस्तार से।

बाबर (1526-1530)

बाबर ने भारत में मुग़ल साम्राज्य की स्थापना की थी और वह पहला मुग़ल सम्राट था। बाबर ने 1526 में हुए पानीपत युद्ध में लोदी वंश को हराकर भारत में मुग़ल साम्राज्य स्थापित किया था। इसी युद्ध के बाद दिल्ली सल्तनत का भी अंत हो गया था और बाबर ने दिल्ली और आगरा पर कब्ज़ा कर लिया था। बाबर ने भारत पर 5 बार हमला किया था। उसने 1519 में यूसुफजई जाति के ख़िलाफ़ भारत में अपना पहला संघर्ष छेड़ा था, इस अभियान में बाबर ने बाजौर और भेरा को अपने कब्जे में कर लिया था।

हुमायूं (1530-1540, 1555-1556)

हुमायूं दूसरा मुगल शासक था, वह 23 साल की उम्र में मुगल सिंहासन पर बैठा था। हूमायूं और शेरशाह के बीच हुई कन्नौज और चौसा की लड़ाई में, शेरशाह ने हुमायूं को पराजित कर दिया था, जिसके बाद हुमायूं भारत छोड़कर चला गया था। उसके बाद हुमायूं ने 1555 में सिकंदर को पराजित कर दिल्ली का राजसिंहासन संभाला था। मुगल सम्राट हुमायूं ने ही हफ्ते में सातों दिन सात अलग-अलग रंग के कपड़े पहनने के नियम बनाए थे। 

अकबर (शासनकाल 1556-1605)

हुमायूं की मृत्यु के बाद उसका पुत्र अकबर ने मुगल राजगद्दी संभाली थी। 14 साल की उम्र में अकबर को मुगल बना दिया गया था, उनके पिता के मंत्री बैरम खां उनके संरक्षक रहे थे। अकबर को मुगलों में सबसे सफल सम्राट माना गया है। मुग़ल सम्राट अकबर के शासनकाल में मुगल सम्राज्य की एक नई शुरुआत हुई थी। हल्दीघाटी के युद्ध में अकबर को  महाराणा प्रताप ने कड़ी टक्कर दी थी और अकबर की हार उसमें निश्चित थी मगर अपनों की गद्दारी के चलते महाराणा प्रताप यह युद्ध हार गए थे।

Mughal History in Hindi
Source – A Fashion News Era

इस दौरान भारतीय उपमहाद्धीप के ज्यादातर हिस्से पर मुग़ल साम्राज्य ने अपना विस्तार किया था। अकबर ने पंजाब, दिल्ली, आगरा, राजपूताना, गुजरात, बंगाल, काबुल, कंधार में अपना साम्राज्य स्थापित कर लिया था।

अकबर के शासनकाल के दौरान आगरा किला, बुलंद दरवाज़ा, फतेहपुर सीकरी, हुमायूं मकबरा, इलाहाबाद किला, लाहौर किला, और सिकंदरा में उनका खुद का मकबरा समेत कई वास्तुशिल्प कृतियों का निर्माण भी किया गया। अकबर का अपना “दीन ए इलाही” धर्म था।

जहांगीर (शासनकाल 1605-1627)

अकबर की मौत के बाद उसके बेटे सलीम (जहांगीर) मुग़ल साम्राज्य के शासक बने। जहांगीर के राज में मुग़ल साम्राज्य का किश्ववर और कांगड़ा के अलावा बंगाल तक विस्तार तो किया गया, लेकिन कोई बड़ी लड़ाई और उपलब्धि हासिल नहीं है।

जहांगीर के सिंहासन पर बैठते ही उनके पुत्र खुसरो ने सत्ता पाने की चाहत में उनके खिलाफ षणयंत्र रच आक्रमण कर दिया, जिसके बाद जहांगीर और उसके पुत्र के बीच भीषण युद्ध हुआ। वहीं इस युद्द में सिक्खों के 5वें गुरु अर्जुन देव जी द्वारा खुसरों की मदद्द करने पर जहांगीर ने उनकी हत्या करवा दी थी।

शाहजहां (शासनकाल 1627-1658)

शाहजहां को दुनिया के सात अजूबों में से एक ताजमहल के निर्माण के लिए याद किया जाता है, उन्होंने अपनी प्रिय बेग़म मुमताज महल की याद में इस खूबसूरत इमारत का निर्माण करवाया था।

शाहजहां, मुग़ल साम्राज्य के सबसे बड़े लोकप्रिय बादशाह थे, जिन्हें पड़ोसी राज्यों के लोग अपनी विदेश नीति के लिए भी सर्वश्रेष्ठ मानते थे। शाहजहां ने अपने शासनकाल में मुग़ल कालीन कला और संस्कृति को जमकर बढ़ावा दिया था, इसलिए शाहजहां के युग को स्थापत्यकला का स्वर्णिम युग एवं भारतीय सभ्यता का सबसे समृद्ध काल के रुप में भी जानते हैं। वहीं शाहजहां को जीवन के अंतिम दिनों में उनके क्रूर पुत्र औरंगज़ेब द्वारा आगरा किला में बंदी बना लिया था।

औरंगज़ेब (शासनकाल 1658-1707)

Mughal History in Hindi में औरंगज़ेब अपने पिता शाहजहां को कई सालों तक बंदी बनाने के बाद मुगल सिंहासन की राजगद्दी पर बैठा था। औरंगज़ेब मुग़ल वंश का इकलौता ऐसा शासक था, इसने 49 भारत पर राज किया था।

औरंगज़ेब ने अपने शासनकाल में भारतीय उपमहाद्वीप के ज़्यादातर हिस्सों पर अपने साम्राज्य का विस्तार किया था। औरंगज़ेब ने अपने शासनकाल के दौरान कई लड़ाई जीतीं लेकिन वह मराठा साम्राज्य के संस्थापक छत्रपति शिवाजी महाराज से बुरी हार हारा था।

Mughal History in Hindi
Source – Scroll.in
  • बहादुर शाह प्रथम (शासनकाल 1707-1712)
  • फर्रुख्शियार (शासनकाल 1713-1719)
  • मुहम्मद शाह (शासनकाल 1719-1748)
  • अहमद शाह बहादुर (शासनकाल 1748-1754)
  • आलमगीर द्वितीय (शासनकाल 1754-1759)
  • शाहआलम द्वितीय (शासनकाल 1759-1806)
  • अकबर शाह द्वितीय (शासनकाल 1806-1837)
  • बहादुर शाह ज़फ़र (शासनकाल 1837-1857) आखिरी मुग़ल सम्राट

ये भी पढ़ें : मौर्य साम्राज्य का परिचय

मुग़ल इतिहास में मुग़लों के प्रमुख युद्ध और वर्चस्व

  1. 1526 – पानीपत का प्रथम युद्ध – मुगल सम्राट बाबर ने दिल्ली सल्तनत के राजा इब्राहीम लोदी को हराया और भारत में मुग़ल साम्राज्य की स्थापना कर डाली।
  2. 1527 – खानवा का युद्ध – बाबर ने वीर राणा सांगा को हराया।
  3. 1529 – घाघरा का युद्ध – बाबर ने अफगान और बंगाल के सुल्तान को हराया।
  4. 1539 – चौसा का युद्ध – सूरी राजवंश के राजा शेर शाह सूरी ने मुग़ल सम्राट हुमायूं को हराया।
  5. 1556 – पानीपत का दूसरा युद्ध – मुग़ल सम्राट अकबर ने हिंदू राजा हेमू को हराया।
  6. 1567 – थानेसर का युद्ध – अकबर ने सन्यासियों के दो समूहों को हराया।
  7. 1575 – तुकारोई का युद्ध – अकबर ने बिहार और बंगाल की सल्तनत को हराया।
  8. 1576 – हल्दीघाटी का युद्ध – अकबर ने वीर महाराणा प्रताप को हराया।
  9. 1658 – समुगढ़ का युद्ध – मुग़ल सम्राट औरंगजेब और मुराद बक्श ने दारा शिकोह को हराया।
  10. 1659 – खाजवा का युद्ध – औरंगजेब ने अपने ही भाई शाह शुजा को हराया।
  11. 1671 – सराईघाट का युद्ध – अहोम सम्राट लाचित बोड़फुकन ने मुगल सेना का प्रतिनिधित्व कर रहे राम सिंह को हराया।
  12. 1739 – करनाल का युद्ध – ईरानी नादिर शाह ने मुग़ल सम्राट मुहम्मद शाह को हराया और मुग़ल साम्राज्य से बहुमूल्य कोहिनूर हीरा और मोर सिंघासन लूट लिया।

ये भी पढ़ें : साहस और शौर्य की मिसाल छत्रपति शिवाजी महाराज

मुग़ल इतिहास में मुगलों का परिवार वृक्ष

Mughal History in Hindi में जानिए मुगलों के परिवार वृक्ष, जिससे आपको इनकी संतानों के बारे में पता चलेगा।

मुग़ल सम्राट संतान
बाबर 10
हुमायूं  6
अकबर 8
जहांगीर 7
शाहजहां 8
औरंगजेब 10
बहादुर शाह प्रथम 7
फर्रुख्शियार
मुहम्मद शाह 1
आलमगीर द्वितीय 1
शाह आलम द्वितीय 1
अकबर शाह द्वितीय 1
बहादूर शाह जफर 2
Mughal History in Hindi
Source – GS Junction

ये भी पढ़ें :महान भारतीय स्वतंत्रता सेनानी

मुगलों समय की धरोहर

Mughal History in Hindi में जानिए मुगलों द्वारा बनाई गई धरोहर, जो आज भी भारत और विदेश से आए पर्यटकों का मन मोहते हैं। आइए जानते हैं:-

  • ताजमहाल (1653)
  • लाल किला (1648)
  • जामा मस्जिद (1656)
  • बीबी का मकबरा (1660)
  • लाहोर मस्जिद (1673)
  • मोती मस्जिद (1660)
  • तक्ख्त-ए- ताउस (17वीं शताब्दी)

ये भी पढ़ें : भारत का गर्व है आर्यभट्टा

मुग़ल इतिहास के कुछ रोचक तथ्य

मुग़लों के बारे में यह रोचक तथ्य आपको शायद पहले से न पता हों। तो चलिए, बताते हैं आपको Mughal History in Hindi से जुड़े रोचक तथ्य।

Mughal History in Hindi
Source – – OpIndia
  1. मुग़ल शासक शाहजहां ने ताजमहल बनवाया और उसने शिल्पकला और भव्य स्मारक निर्मित किए थे, उस समय में अनमोल हीरे और रत्नों से बना सुंदर सिंहासन भी उसने बनवाया था। इस खास सिंहासन का नाम “तख्त-ए-ताउस” था “ताउस” एक अरबी शब्द है जिसका मतलब मोर या मयूर होता है।
  2. अकबर एक विचित्र बिमारी से पीड़ित था जिसमें उसे पढ़ने लिखने मे काफी दिक्कतें आती थी। इतिहासकारों के मुताबिक अकबर एक अनपढ़ था, जिन्हें डिस्लेक्सिया यानी पढ़ने लिखने में समस्या की बीमारी थी। अबुल फजल के आईन-ए-अकबरी में भी इस बात का ज़िक्र है।
  3. अनमोल कोहिनूर हीरा एक वक्त तक मुग़ल साम्राज्य के अधीन था जिसे मुग़ल शासक सर के ऊपर ताज में इस्तेमाल किया करते थे।
  4. कहा जाता है हुमायूं को नशे की लत थी। इसी के चलते उसे शेरशाह सूरी से पराजय मिली थी तथा कई साल उसे अज्ञातवास में गुजारने पड़े थे। सूरी की मौत के बाद हुमायूं दोबारा सत्ता पर आ गया था।
  5. औरंगज़ेब ने सत्ता को हासिल करने के लिए अपने ही तीन भाइयों की हत्या कर दी थी। औरंगज़ेब ने मुग़ल शासन की राजधानी को दिल्ली से बदलकर महाराष्ट्र के मराठवाडा मे स्थापित किया था। यहाँ औरंगज़ेब ने अपने नाम से राजधानी के लिए जिस शहर को चुना था, उसे हाल फिलहाल औरंगाबाद कहा जाता है।
  6. अकबर के समय में सबसे अधिक सैन्य रचना, राज्यों की रचना तथा चलन में काफी सारे बदलाव दिखाई पड़ते है, एक तरह से अकबर दूर दृष्टी वाला शासक था। अकबर के दरबार को नव रत्नों का दरबार कहा जाता है जिसमें बीरबल, तोडरमल, तानसेन इत्यादी शामिल थे।
  7. भारत के इतिहास में गुप्त साम्राज्य और शाहजहाँ के साम्राज्य को स्वर्णिम युग कहा जाता है, जिसमें अनेक सुंदर वस्तुओं के साथ कला के एक से एक नमुने स्थापित हुए थे।
  8. लगभग 331 साल तक भारत पर शासन करने वाले मुग़ल शासन का सबसे अधिक विस्तार अकबर, औरंगज़ेब के शासन में हुआ था, इन दोनों शासकों की विचार प्रणाली एक दुसरे से काफी अलग थी। औरंगज़ेब एक कट्टर धार्मिक शासक था, वहीँ अकबर सहिष्णुता से शासन करने वाला शासक सिद्ध हुआ।

ये भी पढ़ें : तुलसीदास की बेहतरीन कविताएं और चर्चित रचनाएं

FAQs

मुगल लोग कौन थे?

मुगल साम्राज्य 1526 में शुरू हुआ, मुगल वंश का संस्थापक बाबर था, अधिकतर मुगल शासक तुर्क और सुन्नी मुसलमान थे. मुगल शासन 17 वीं शताब्दी के आखिर में और 18 वीं शताब्दी की शुरुआत तक चला और 19 वीं शताब्दी के मध्य में समाप्त हुआ।

मुगल साम्राज्य भारत में कब से कब तक?

मध्य-16 वीं शताब्दी और 17-वीं शताब्दी के अंत के बीच मुग़ल साम्राज्य भारतीय उपमहाद्वीप में प्रमुख शक्ति थी। 1526 में स्थापित, यह नाममात्र 1857 तक बचा रहा, जब वह ब्रिटिश राज द्वारा हटाया गया। यह राजवंश कभी कभी तिमुरिड राजवंश के नाम से जाना जाता है क्योंकि बाबर तैमूर का वंशज था।

मुगल काल में कुल कितने शासक हुए?

मुगल साम्राज्य भारतीय इतिहास का सबसे बड़े साम्राज्य में से एक है, जिसकी शुरुवात 16 वी शताब्दी से होती है, तथा अंत 19वी शताब्दी के मध्य में अर्थात 1857 के स्वतंत्रता संग्राम से पहले हो जाता है। इस साम्राज्य की गद्दी कुल 19 सम्राटों ने संभाली थी। मुगल साम्राज्य का संस्थापक बाबर था जो मध्य एशिया से आया था।

मुगलों की मातृभाषा क्या है?

भारतीय उपमहाद्वीप में मुग़ल साम्राज्य के शुरुआती सम्राटों की मातृभाषा भी चग़ताई तुर्की ही थी और बाबर ने अपनी प्रसिद्ध ‘बाबरनामा’ जीवनी इसी भाषा में लिखी थी। आधुनिक काल में उज़बेक भाषा और उइग़ुर भाषा चग़ताई के सबसे क़रीब हैं।

मुगल शासकों ने अपना शासन मुख्यतः से चलाया?

मुगल राजवंश का महत्त्व: मुगल राज–वंश का भारतीय इतिहास में बहुत बड़ा महत्त्व है। इस राज–वंश ने लगभग २०० वर्षों तक भारत में शासन किया। बाबर ने १५२६ ई० में दिल्ली में मुगल–साम्राज्य की स्थापना की थी और इस वंश का अन्तिम शासक बहादुर शाह १८५८ ई० में दिल्ली के सिंहासन से हटाया गया था।

उम्मीद है कि इस ब्लॉग से अब आप जान गए होंगे कि Mughal History in Hindi। यदि आप विदेश में पढ़ाई करना चाहते हैं तो आज ही हमारे Leverage Edu एक्सपर्ट्स से 1800572000 पर कॉल करके 30 मिनट का फ्री सेशन बुक कीजिए।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert