रिटेल मैनेजमेंट कोर्स कैसे करें?

1 minute read
702 views
Leverage Edu Default Blog Cover

ग्राहकों के बेहतर अनुभव के बिना दुनिया की कोई भी कंपनी उन्नति नहीं कर सकती है अर्थात् ग्राहक फीडबैक/रिव्यु अनिवार्य है। बढ़ती आबादी के साथ तेजी से बढ़ती इकॉनमी ने तमाम क्षेत्रों में बढ़ोत्तरी प्रदान की है। आज छोटे से छोटे शहर से लेकर राजधानी तक कई सुपरमार्केट, मॉल, शॉपिंग सेंटर, सिनेमा हॉल, आदि तेजी से बढ़ रहे हैं जिसके कारण इस क्षेत्र में करियर विकल्प भी तेज़ी से बढ़ रहे हैं। यदि आप भी 12वीं के बाद रिटेल मैनेजमेंट का कोर्स करने में रूचि रखते है तो इस ब्लॉग को पूरा पढ़े।

रिटेल मैनेजमेंट कोर्स क्या है?

रिटेल मैनेजमेंट एक ऐसी प्रक्रिया है जो देश के विभिन्न स्टोर्स से ग्राहकों को उनके इस्तेमाल के लिए जरूरत की वस्तुएं खरीदने में मदद करती है। इस प्रक्रिया में ग्राहकों को रिटेल स्टोर में निमंत्रित करने से लेकर उनकी सारी जरुरी खरीददारी की सुविधा उपलब्ध करवाने से जुड़े अनेक कार्य शामिल होते हैं। इससे एक और फायदा यह है कि ग्राहक अपने समय की बचत अच्छे से कर लेता है क्यूंकि उसे अपने सारे ज़रूरत का सामान एक स्टोर से ही उपलब्ध हो जाता है। 

स्किल्स

रिटेल मैनेजमेंट कोर्स के लिए किन स्किल्स की जरूरत होती है, यह इस प्रकार है:

  • खुदरा क्षेत्र में गहरी दिलचस्पी
  • महत्वपूर्ण सोच
  • संचार कौशल
  • नेतृत्व की विशेषता
  • तुरंत निर्णय लेने का कौशल
  • समस्या समाधान करने की कुशलताएं
  • साधन-संपन्न
  • अनुकूलन क्षमता
  • नैतिक
  • रणनीतिक सोच

रिटेल मैनेजमेंट कोर्सेज

रिटेल मैनेजमेंट के लिए कुछ टॉप कोर्सेज उनकी अवधि के साथ नीचे दिए गए हैं-

कोर्सेज कोर्स अवधि
रिटेल मैनेजमेंट में डिप्लोमा 1 साल (2 सेमेस्टर्स)
रिटेल मैनेजमेंट में बैचलर डिग्री 3 साल (6 सेमेस्टर्स)
फैशन रिटेल मैनेजमेंट में बैचलर डिग्री 3 साल (6 सेमेस्टर्स)
रिटेल मैनेजमेंट में MBA 2 साल (4 सेमेस्टर्स)
रिटेल मैनेजमेंट में पीजी डिप्लोमा 1 साल (2 सेमेस्टर्स)
फैशन रिटेल मैनेजमेंट में पीजी डिप्लोमा 1 साल (2 सेमेस्टर्स)
रिटेल स्टोर मैनेजमेंट में सर्टिफिकेट कोर्स 6 महीने
रिटेल स्टोर मैनेजमेंट में एडवांस सर्टिफिकेट कोर्स 6 महीने

आप AI Course Finder की मदद से अपने पसंद के कोर्सेस और यूनिवर्सिटीज का चयन कर सकते हैं।

रिटेल मैनेजमेंट कोर्स के विषय

रिटेल मैनेजमेंट कोर्स के कुछ विषय नीचे दिए गए हैं:

  • प्रबंधन के सिद्धांत और व्यवहार
  • खुदरा प्रबंधन
  • बिक्री प्रबंधन
  • विपणन प्रबंधन
  • आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन में अवधारणाएं
  • प्रबंधन सूचना प्रणाली
  • ग्राहक बर्ताव

रिटेल मैनेजमेंट कोर्स की फीस

इस कोर्स के लिए किसी भी छात्र की फीस उसके द्वारा चयनित संस्थान पर निर्भर करती है क्यूंकि हरकॉलेज/यूनिवर्सिटी की फीस अलग अलग निर्धारित है। आपकी औसत सालाना ट्यूशन फीस INR -3 लाख तक हो सकती है।

यूनिवर्सिटीज औसत सालाना ट्यूशन फीस (INR)
भारथिअर विश्वविद्यालय 4,800
रयात कॉलेज ऑफ एजुकेशन 1.71 लाख
एपीएस कॉलेज ऑफ एजुकेशन एंड टेक्नोलॉजी 60,000
शांति निकेतन कॉलेज ऑफ एजुकेशन 64,000
BBSBCE 49,000
सेंट सोल्जर कॉलेज ऑफ एजुकेशन 4,000

विदेश में टॉप यूनिवर्सिटीज

विदेश में रिटेल मैनेजमेंट कोर्स के लिए टॉप यूनिवर्सिटीज इस प्रकार हैं:

  1. मिनेसोटा विश्वविद्यालय
  2. रायर्सन विश्वविद्यालय
  3. पर्ड्यू विश्वविद्यालय
  4. सेंट्रल मिशिगन
  5. पूर्वी केंटकी
  6. फ्लोरिडा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी
  7. सिनसिनाटी विश्वविद्यालय
  8. कॉलेज डबलिन विश्वविद्यालय
  9. मैनचेस्टर मेट्रोपॉलिटन यूनिवर्सिटी
  10. कला विश्वविद्यालय लंदन

आप UniConnect के जरिए विश्व के पहले और सबसे बड़े ऑनलाइन विश्वविद्यालय मेले का हिस्सा बनने का मौका पा सकते हैं, जहाँ आप अपनी पसंद के विश्वविद्यालय के प्रतिनिधि से सीधा संपर्क कर सकेंगे।

भारत में टॉप यूनिवर्सिटीज

भारत में रिटेल मैनेजमेंट कोर्स के लिए टॉप यूनिवर्सिटीज इस प्रकार हैं:

  • राष्ट्रीय कौशल विकास अभियान, नई दिल्ली
  • राष्ट्रीय खुदरा प्रबंधन संस्थान, अहमदाबाद
  • राष्ट्रीय खुदरा प्रबंधन संस्थान, मुंबई
  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ रिटेल, बैंगलोर
  • शांति निकेतन कॉलेज ऑफ एजुकेशन, श्रीनगर
  • खुदरा उत्कृष्टता अकादमी, नई दिल्ली
  • मुद्रा संचार संस्थान, अहमदाबाद
  • बिड़ला इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड हायर स्टडीज, नोएडा
  • नरसी मोंजी इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड हायर स्टडीज, मुंबई
  • पर्ल एकेडमी ऑफ फैशन, नई दिल्ली

रिटेल मैनेजमेंट कोर्स के लिए योग्यता

रिटेल मैनेजमेंट कोर्स करने के लिए छात्र को कुछ आवश्यकताओं को पूरा करना होता है जो नीचे दी गयीं हैं:

  • किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12वीं पास हो। 
  • 12वीं में कम से कम 50% अंक अनिवार्य है। 
  • कंप्यूटर और अंग्रेजी का ज्ञान होना महत्वपूर्ण है।
  • कम्युनिकेशन स्किल्स बेहतर होना चाहिए। 
  • आकर्षक CV/Resume होना आवश्यक है।
  • विदेश में पढ़ने के लिए इंग्लिश लैंग्वेज टेस्ट जैसे IELTS, TOEFL आदि के अंक अनिवार्य हैं।

क्या आप IELTS/TOEFL/SAT/GRE में अच्छे अंक प्राप्त करना चाहते हैं? आज ही इन परीक्षाओं  की बेहतरीन तैयारी के लिए Leverage Live पर रजिस्टर करें और अच्छे अंक प्राप्त करें।

भारतीय विश्वविद्यालयों में आवेदन प्रक्रिया

भारत के विश्वविद्यालयों में आवेदन प्रक्रिया, इस प्रकार है–

  • सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  • यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  • फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  • अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  • इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  • यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

विदेश में आवेदन प्रक्रिया

विदेश के विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए आवेदन प्रक्रिया इस प्रकार है–

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स और यूनिवर्सिटी का चुनाव है। 
  • कोर्स और यूनिवर्सिटी के चुनाव के बाद उस कोर्स के लिए उस यूनिवर्सिटी की पात्रता मानदंड के बारे में रिसर्च करें। 
  • आवश्यक टेस्ट स्कोर और दस्तावेज एकत्र करें।
  • यूनिवर्सिटी की साइट पर जाकर एप्लीकेशन फॉर्म भरें या फिर आप Leverage Edu एक्सपर्ट्स की भी सहायता ले सकते हैं।
  • ऑफर की प्रतीक्षा करें और सिलेक्ट होने पर इंटरव्यू की तैयारी करें। 
  • इंटरव्यू राउंड क्लियर होने के बाद आवश्यक ट्यूशन शुल्क का भुगतान करें और स्कॉलरशिप, छात्रवीजा, एजुकेशन लोन और छात्रावास के लिए आवेदन करें।

आवदेन प्रक्रिया से सम्बन्धित जानकारी और मदद के लिए Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800 572 000 पर संपर्क करें

आवश्यक दस्तावेज

कुछ जरूरी दस्तावेजों की लिस्ट नीचे दी गई हैं–

  • आधिकारिक शैक्षणिक टेप 
  • स्कैन किए हुए पासपोर्ट की कॉपी
  • IELTS या TOEFL, आवश्यक टेस्ट स्कोर 
  • प्रोफेशनल/एकेडमिक LORs
  • SOP 
  • निबंध (यदि आवश्यक हो)
  • पोर्टफोलियो (यदि आवश्यक हो)
  • अपडेट किया गया सीवी / रिज्यूमे
  • एक पासपोर्ट और छात्र वीजा 
  • बैंक विवरण 

छात्र वीजा पाने के लिए भी Leverage Edu विशेषज्ञ आपकी हर सम्भव मदद करेंगे।

प्रवेश परीक्षाएं

रिटेल मैनेजमेंट कोर्स में एडमिशन लेने के लिए प्रवेश परीक्षाओं की लिस्ट नीचे दी गई है-

  • IPU CET
  • AIMA UGAT
  • CUET
  • DU JAT
  • CSIR JRF
  • CAT
  • XAT

रिटेल मैनेजमेंट कोर्स के बाद करियर विकल्प

देश के घरेलू उत्पाद (GDP) का 10% रिटेल मार्केट क्षेत्र से मिलता है। हर साल 15% से अधिक की वृद्धि इस कारोबार में हो रही है। भारत में इस कारोबार के लगातार विकास के कारण ग्लोबलाइजेशन, वर्क फोर्स, पर कैपिटा इनकम में वृद्धि के साथ-साथ गुड्स एंड सर्विसेज की लगातार मांग बढ़ती जा रही है। रिटेल मैनेजमेंट कोर्स करने के बाद आप सरकारी और प्राइवेट दोनों सेक्टर्स में करियर का निर्माण कर सकते हैं। आपके करियर विकल्प कुछ इस प्रकार हैं –

सरकारी विभाग में

आप कई बड़ी कंपनियों में काम करने के लिए आवेदन दे सकते हैं और साथ ही साथ उस सरकारी विभाग के entrance exam को भी पास करना अनिवार्य होगा। कुछ सरकारी विभाग में नौकरी दिलाने वाले संस्थान निम्न हैं –

  • Reliance
  • TATA Groups
  • ITC Retail
  • RPG Retail

प्राइवेट विभाग में

यदि आप प्राइवेट सेक्टर में काम करना चाहते हैं तो आपके करियर विकल्प नीचे दिए गए हैं –

  • Store Manager
  • Manager Operations
  • Sales Person
  • Sales Manager
  • Retail Manager
  • Retail buyer and merchandiser

जॉब प्रोफाइल्स और सैलरी

रिटेल मैनेजमेंट कोर्स अच्छे से करने के बाद आपको ढेरों करियर विकल्प मिलेंगे जिनमें कई बेहतर जॉब प्रोफाइल्स मौजूद होंगे। आमतौर पर आपकी औसत सैलरी INR 20,000-60,000 तक हो सकती है। हम आपको यह भी बता दें की आपकी सैलरी आपके योग्यता, अनुभव, कंपनी, लोकेशन, आदि बातों पर भी निर्भर करता है। कुछ प्रोफेशनल जॉब प्रोफाइल्स की सैलरी इस प्रकार है –

जॉब प्रोफाइल्स औसत सालाना सैलरी (INR)
स्टोर मैनेजर 4-5 लाख
मैनेजर 7-8 लाख
सीनियर सेल्स मैनेजर 12-13 लाख
रिटेल बैंकिंग अफसर 5-6 लाख
रिटेल अकाउंट मैनेजर 10-11 लाख

FAQs

खुदरा प्रबंधन क्या है?रिटेलिंग के कार्य क्या है?

रिटेलिंग व्यवसाय उद्योग का एक महत्वपूर्ण अंश है जिसमें उत्पादों तथा सेवाओं को उपभोक्ताओं के अपने व्यक्तिगत या पारिवारिक उपभोग के लिए बेचना शामिल है। रिटेलिंग प्रक्रिया में ग्राहकों के साथ सीधा सम्पर्क और व्यवसाय कार्यकलापों का, उत्पादों के डिजाइन चरण से लेकर उसकी डिलीवरी तथा उसके पश्चात सेवाओं का समन्वय निहित है।

रिटेल का क्या महत्व है?

जब कोई उपभोक्ता स्वयं के उपभोग के लिए कोई वस्तु या उत्पाद खरीदना चाहता है तो उसका रुख रिटेल स्टोर की तरफ ही होता है। वैसे देखा जाय तो एक रिटेल स्टोर किसी भी उत्पाद की छोटी छोटी मात्रा का प्रबंधन करता है यानि कि वह किसी भी उत्पाद को बेहद कम मात्रा में ही खरीदता है।

खुदरा प्रबंधन क्या है?

खुदरा प्रबंधन एक साझा मंच पर लोगों को एक साथ लाने के लिए और उन्हें एक संगठन के लक्ष्यों और उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए एक इकाई के रूप में काम करने की प्रक्रिया को दर्शाता है।

उम्मीद हैं, रिटेल मैनेजमेंट से सभी जानकारी आपको मिल गयी होंगी। यदि आप विदेश में रिटेल मैनेजमेंट का कोर्स करना चाहते हैं तो आज ही 1800 572 000 पर कॉल करके मिनट का फ्री सेशन बुक करें। हमारे एक्सपर्ट्स आपको सही और चुनने में मदद करेंगे ।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert