पैंडेमिक में एजुकेशनल इनोवेशन

1 minute read
312 views
10 shares
Innovations in Pandemic

जैसे ही लॉकडाउन हटेगा, छात्र अपने स्कूल और यूनिवर्सिटी की ओर रुख करने लगेंगे। ऐसे में सुरक्षा का ध्यान रखना बेहद जरूरी है जिससे बीमारी फैलने की संभावना पहले से ही कम रहे। कोरोना वायरस महामारी के दौरान सरकारी और संगठनों के टीचर्स और छात्रों को तमाम समस्याओं का सामना करना पड़ा था। ऐसे में एजुकेशन को सपोर्ट करने और इन समस्याओं से उबरने के लिए pandemic me khoj हुईं। यहां हम आपको ऐसी ही 6 pandemic me khoj के बारे में बताने जा रहे हैं। इन खोजों में फिलीपींस की स्कूल-इन-अ-बॉक्स किट्स से लेकर इथियोपिया की कैमल लाइब्रेरी तक शामिल है। तो आइए जानें इन क्रांतिकारी पैंडेमिक में एजुकेशनल खोज के बारे में।

Check out: कोरोना के खिलाफ ऐसे रखेंगे ख्याल तो जरूर जीतेंगे यह वॉर

फिलीपींस स्कूलों की स्कूल-इन-अ-बॉक्स किट

मेट्रो मनीला में 24 स्कूलों के सीमित डिविजन, द नवोत्स स्कूल डिविजन ने मंडल के हर छात्र के लिए नवो स्कूल-इन-अ-बॉक्स किट तैयार की है। इसे शिक्षा विभाग और शहर की सरकार वितृत कर रही है। प्राथमिक स्कूल लेवेल वाले हर बच्चे को एक डिब्बा मिलेगा। इसमें शिक्षण सामग्री, किताबें, दान में मिली क्लसरूम सप्लाइ, हाइजीन किट और फिलीपींस टॉए लाइब्रेरी के डोनेट किए हुए खिलौने और अन्य सामग्रियां मौजूद हैं। ये किट शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए महत्वपूर्ण pandemic me khoj है। इस पैकेज में अभिभावकों के लिए हैंडबुक भी दी गई है जिससे उन्हें घर पर बच्चों को पढ़ाने और पढ़ाई का वातावरण बनाने में मदद मिलेगी।

Check out: Stress को कैसे कम करें, जानिए

ओडिशा के कोरापुट में छात्रों के लिए ट्री क्लासरूम

कमजोर सेलुलर नेटवर्क के चलते, ओडिशा के कोरापुट के दुधारी गांव के बच्चों ने नया और सुरक्षित तरीका अपनाया है। उनकी pandemic me khoj शिक्षा को बढ़ावा देती है। बच्चों के हाथों में सेलफोन देखना आज आम बात हो चुकी है। यहां ये बच्चे पेड़ों की शाखा पर बैठकर खुद को और सेलफोन को संभालते हुए टीचर के लेक्चर सुनते और नोट्स बनाते नजर आते हैं। वो हर हाल में अपनी पढ़ाई पूरी करना चाहते हैं। सरकार की शिक्षा संजोग पहल भी pandemic me khoj है। बड़े स्तर पर वॉट्सएप ग्रुप बनाए गए हैं जहां अध्यापक छात्रों से जुड़े रहते हैं और उन्हें रिसर्च मटीरियल भी पहुंचाते हैं। हालांकि कमजोर सेलुलर नेटवर्क के चलते सरकार की इस सुविधा का लाभ बच्चे कम उठा पाते हैं।

Check out : Stress ko manage krne ke liye padhe yog kya hai

वियतनाम में पेरेंट्स को मेसेजिंग से मिल रही मदद

शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए pandemic me khoj में शामिल है ऑनलाइन चैट एप जालो। वियतनाम में इस एप के जरिए बच्चों और पेरेंट्स के लिए प्रोग्राम शेयर किए जाते हैं। वियतनाम में इस जाने माने एप को पांच में से एक व्यक्ति इस्तेमाल करता है, जिसके चलते जालो प्रचिलित एप वॉट्सएप और मेसेंजर की लोकप्रियता को प्रभावित करता है। इसमें सभी तरह के बच्चों जिनमें विकलांग बच्चे भी शामिल हैं, के लिए स्पीच और टेक्स्ट मेसेजिंग का इस्तेमाल कर पाठ शेयर किए जाते हैं। ये मेसेज सुनिश्चित करते हैं कि अभिभावकों और पेरेंटस को टूल्स प्राप्त हो जिससे वो बच्चों के लिए शेड्यूल तैयार कर सकें।

Check out: lockdown me stress ko km kare

शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए इथियोपिया में कैमल लाइब्रेरी

कोविड-19 के चलते मिलने जुलने पर पाबंदियों के कारण इथियोपिया के करीब 26 मिलियन छात्र आज स्कूल नहीं जा पा रहे। इस समस्या को सुलझाने के लिए द सेव द चिल्ड्रेन पहल कैमल लाइब्रेरी लेकर आया है। हमारी pandemic me khoj की लिस्ट में ये अगली महत्वपूर्ण खोज है जो शिक्षा को बढ़ावा दे रही है। इसकी शुरूआत 2010 में हुई थी और आज इसमें 21 ऊंट हैं। ये पहल 33 गांवों में करीब 22,000 छात्रों की मदद कर रही है। इसमें एक ऊंट अपनी पीठ पर लकड़ी की पेटियों में करीब 200 पाठ्य सामग्री लेकर चलता है। इस सामग्री को बच्चों में बांट दिया जाता है।

Check out: stress ko kam krane ke liye dekhe best motivational movies

इंडोनेशिया में बच्चों की मदद के लिए रेडियो

बच्चों की स्कूली पढ़ाई पर रेडियो के लाभ को देखते हुए, सेव द चिल्ड्रेन ने रेडियो ब्रॉडकास्टिंग शो केलास लिंटास उडारा की शुरुआत की। इस शो में क्षेत्रीय शिक्षाविद शामिल हैं जो स्कूलों के बंद होने के बाद छात्रों के विकास और शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए सामाजिक अभियान चलाते हैं। इंडोनेशिय के बच्चों को शिक्षा में मदद करने और शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए ये pandemic me khoj है। ये सेवा पेरेंट्स को उनके अनुभव साझा करने, बच्चों की होम स्कूलिंग से जुड़ी बातों और कंस्ट्रक्टिव पेरेंटिंग के लिए फोरम प्रदान करती है। संबंधित प्रोजेक्ट फिलहाल रवांडा और इथ्योपिया में चल रहा है।

Check Out: भारत के त्योहारों की सूची

केन्या में इंटरैक्टिव ई-लर्निंग

कोविड-19 महामारी के चलते, दुनिया भर में शिक्षण व्यवस्था को छात्रों और कर्मचारियों की सलामती के लिए रोक दिया गया है। केन्या में करीब 15 मिलियन से ज्यादा बच्चे घर में पढ़ रहे हैं। इस कारण वैश्विक टेक्नोलॉजी फर्म, हवाई टेक्नोलॉजी ने ई लर्निंग प्रोजेक्ट की शुरुआत की। ये लर्न ऑन प्रोग्राम ओपेन फोरम में हाई क्वालिटी टूल मुहइया कराता है। साथ ही अतिरिक्त वित्तीय सहायता भी देता है जिससे शिक्षण जारी रहे।

Check Out: विश्व बालश्रम निषेध दिवस: कैसे खत्म होगी बाल मजदूरी, जानें

हमने 6 Pandemic Me Khoj बताई हैं जो दुनिया भर में शिक्षा को बढ़ावा दे रही हैं। क्या आप अपनी उच्च शिक्षा विदेश में पूरी करना चाहते हैं?  Leverage Edu  पर हमारे विशेषज्ञों से बात करें। वो आपको सबसे उत्तम पाठ्यक्रम और यूनिवर्सिटी चुनने में मदद करेंगे साथ ही एडमिशन प्रक्रिया में भी आपकी सहायता करेंगे। फ्री सेशन के लिए अभी साइनअप करें।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert